कवितावली (उत्तर कांड से), लक्ष्मण-मूच्छ और राम का विलाप

Textbook Questions and Answers
पाठ के साथ –

प्रश्न 1.
कवितावली में उद्धृत छंदों के आधार पर स्पष्ट करें कि तुलसीदास को अपने युग की आर्थिक विषमता की अच्छी समझ है।
उत्तर :
गोस्वामी तुलसीदास उच्च कोटि के सन्त एवं भक्त कवि थे, साथ ही लोकनायक एवं लोकमंगल की भावना से मण्डित थे। उन्होंने अपने युग की अनेक विषम परिस्थितियों को देखा; भुगता तथा अपनी रचनाओं में स्वर दिया। समाज में व्याप्त भयंकर बेकारी-बेरोजगारी और भखमरी को लेकर ‘कवितावली’ आदि में आक्रोश-आवेश के साथ अपना मन्तव्य स्पष्ट किया था। उस समय किसान, श्रमिक, भिखारी, व्यापारी, नौकर, कलाकार आदि सब आर्थिक समस्या से विवश थे। कवितावली के द्वारा स्पष्ट हो जाता है कि तुलसी को अपने युग की आर्थिक विषमता की अच्छी समझ थी।

प्रश्न 2.
पेट की आग का शमन ईश्वर (राम) भक्ति का मेघ ही कर सकता है-तुलसी का यह काव्य-सत्य क्या इस समय का भी युग-सत्य है? तर्कसंगत उत्तर दीजिए।
उत्तर :
तुलसीदास ने स्पष्ट कहा है कि ईश्वर-भक्ति रूपी मेघ या बादल ही पेट की आग को बुझा सकते हैं। तुलसी का यह काव्य-सत्य उस युग में भी था तो आज भी यह सत्य है। प्रभु की भक्ति करने से सत्कर्म की प्रवृत्ति बढ़ती है। प्रभु की प्रार्थना से पुरुषार्थ और कर्मनिष्ठा का समन्वय बढ़ता है। इससे वह व्यक्ति ईमानदारी से पेट की आग को शांत करने अर्थात् आर्थिक स्थिति सुधारने और आजीविका की समुचित व्यवस्था करने में लग जाता है। इस तरह कर्मनिष्ठ भक्ति से तुलसी का वह काव्य-सत्य वर्तमान का सत्य दिखाई देता है। कोरी अन्ध-आस्था एवं कर्महीनता से की गई भक्ति का दिखावा करने से व्यक्ति पेट की आग नहीं बुझा पाता है।

प्रश्न 3.
तुलसी ने यह कहने की जरूरत क्यों समझी?
‘धूत कहौ, अवधूत कहौ, रजपूतु कहौ, जोलहा कहौ कोऊ/काहू की बेटीसों बेटा न ब्याहब, काहू की जाति बिगार न सोऊ।’ इस सवैया में काहू के बेटासों बेटी न ब्याहब कहते तो सामाजिक अर्थ में क्या परिवर्तन आता?
उत्तर :
तुलसी को यह कहने की जरूरत इसलिए पड़ी कि उस समय कुछ धूर्त लोग उनके कुल-गोत्र और वंश जाति को लेकर झूठा प्रचार कर रहे थे। वे लोग काशी में तुलसी के बढ़ते प्रभाव को देखकर उन्हें बदनाम करना चाहते थे। जाति-प्रथा से ग्रस्त ऐसे लोगों को कड़ा उत्तर देने के लिए तुलसी ने ऐसा कहना उचित समझा। वैसे भी तुलसी ने गृह-त्याग दिया था, सांसारिक संबंधों के प्रति उनका कोई. मोह नहीं था। अतएव उनके सामने बेटा या बेटी के विवाह करने का प्रश्न ही नहीं था। उस दशा में भी उनकी जाति बिगड़ने की बात में या उसके सामाजिक अर्थ में कोई फर्क नहीं पड़ता।

प्रश्न 4.
धूत कही- वाले छंद में ऊपर से सरल व निरीह दिखलाई पड़ने वाले तुलसी की भीतरी असलियत एक स्वाभिमानी भक्त हृदय की है। इससे आप कहाँ तक सहमत हैं?
उत्तर :
धूत कहौ’ इत्यादि सवैया में तुलसी की सच्ची भक्ति-भावना एवं स्वाभिमानी स्वभाव का परिचय मिलता है। उन्होंने कहा है ‘लैबो को एक न दैबों को दोऊ’। इससे उनके स्वाभिमान की स्पष्ट झलक दिखलाई पड़ती है। तुलसीदास को न किसी से लेना है न ही देना अर्थात् बेकार के प्रपंचों में नहीं पड़ना है, न ही स्वार्थवश किसी की जी हजूरी करनी है। स्वयं को ‘सरनाम गुलाम है राम को’ कहा है, अर्थात् स्वयं को श्रीराम प्रभु का एक सच्चा समर्पित भक्त बताया है। वे स्वयं को तन-मन-वचन से अपने स्वामी श्रीराम का सेवक मानते हैं। अपने आराध्य के प्रति निष्ठा को स्वाभिमान के साथ व्यक्त करने में उनकी वास्तविकता का परिचय मिल जाता है।

प्रश्न 5.
व्याख्या करें –
(अ) मम हित लागि तजेहु पितु माता। सहेहु बिपिन हिम आतप बाता।
जौं जनतेउँ बन बंधु बिछोहू। पितु बचन मनतेउँ नहिं ओहू॥
(ब) जथा पंख बिनु खग अति दीना। मनि बिनु फनि करिबर कर हीना।
अस मम जिवन बंधु.बिनु तोही। जौं जड़ दैव जिआवै मोही॥
(स) माँगि के खैबो, मसीत को सोइबो, लैबो को एकु न दैबो को दोऊ।
(द) ऊँचे नीचे करम, धरम-अधरम करि,
पेट को ही पचत, बेचत बेटा-बेटकी॥
उत्तर :
(अ) शक्ति-बाण लगने से लक्ष्मण के मूर्च्छित हो जाने तथा संजीवनी बूटी को लेकर हनुमान के आने में विलम्ब होने से श्रीराम अतीव भावुक हो गये। तब वे भ्रातृत्व प्रेम के आवेश में कहने लगे कि हे भाई ! तुमने मेरे लिए अपने माता-पिता का त्याग किया और मेरे साथ वन में आये। मेरे सुख के लिए तुमने वन में सर्दी-गर्मी, आँधी आदि कष्टों को सहा। यदि मुझे पता होता कि वन में आकर तुम्हारा वियोग सहना होगा तो मैं पिता का वचन मानने से मना कर देता तथा वनवास के आदेश को अस्वीकार कर देता।

(ब) मूछित लक्ष्मण को देख कर श्रीराम अपना मोह और भ्रातृ-प्रेम प्रकट करते हुए कहने लगे कि हे भाई ! तुम ही मेरी शक्ति थे। तम्हारे बिना मेरी स्थिति उसी प्रकार दयनीय हो गई है. जिस प्रकार पंखों के बिना प सूंड के बिना हाथी की दशा अत्यन्त दीन-हीन हो जाती है। यदि निर्दयी भाग्य ने मुझे तुम्हारे बिना जीवित रखा, तो मेरी दशा भी ऐसी ही दीन-हीन हो जायेगी।

(स) तुलसीदास अपने युग की बेरोजगारी एवं भुखमरी आदि स्थितियों को लक्ष्य कर कहते हैं कि मुझे किसी के घर-परिवार तथा धन-दौलत का आश्रय नहीं चाहिए। मैं तो लोगों से भिक्षा माँगकर और मस्जिद में सोकर सन्तुष्ट हूँ। मुझे किसी से कुछ लेना-देना नहीं है।

(द) तुलसी बताते हैं कि संसार में पेट की आग शान्त करने के लिए ही लोग ऊँचे-नीचे और धर्म-अधर्म आदि के कार्य करने को विवश हो जाते हैं। पेट-पूर्ति के लिए ही लोग बेटा-बेटी तक को बेचने को तैयार हो जाते हैं। संसार के सारे काम-धन्धे पेट की भूख के कारण ही किये जाते हैं।

प्रश्न 6.
भ्रातृ-शोक में हुई राम की दशा को कवि ने प्रभु की नर-लीला की अपेक्षा सच्ची मानवीय अनुभूति – के रूप में रचा है। क्या आप इससे सहमत हैं? तर्कपूर्ण उत्तर दीजिए।
उत्तर :
महाकवि तुलसीदास ने भक्ति-भावना के कारण भले ही यह कह दिया कि प्रभु श्रीराम विलाप करते समय मा. कर रहे थे। परन्त प्रिय भ्राता लक्ष्मण के मर्छित होने पर अनिष्ट की आशंका से श्रीराम ने जो विलाप किया, उसका चित्रण तुलसी ने सच्ची मानवीय अनुभूति के रूप में किया। क्योंकि सच्ची अनुभूति द्वारा ही मार्मिक एवं करुणाजनक चित्र प्रस्तुत हो सकता है। अतः हम इस बात से सहमत हैं।

प्रश्न 7.
शोकग्रस्त माहौल में हनुमान के अवतरण को करुण रस के बीच वीर रस का आविर्भाव क्यों कहा गया है?
उत्तर :
सुषेण वैद्य ने कहा था कि भोर होने से पहले संजीवनी बूटी आने पर ही लक्ष्मण का सही उपचार हो सकेगा, अन्यथा प्राण संकट में आ जायेंगे। भोर होने के करीब थी, परन्तु हनुमान तब तक नहीं आये थे। अतएव श्रीराम लक्ष्मण के अनिष्ट की आशंका से करुण विलाप करने लगे। उन्हें विलाप करते देखकर सारे भालू और वानर यूथ भी शोकग्रस्त हो गये। उसी समय हनुमान संजीवनी बूटी लेकर आ गये। विशाल पहाड़ को उखाड़कर लाने तथा साहसी कार्य करने से हनुमान को देखते ही सभी में आशा-उत्साह का संचार हो गया। अतः अचानक इस परिवर्तन से करुण रस के बीच वीर-रस का आविर्भाव कहा गया है।

प्रश्न 8.
जैहउँ अवध कवन मुहुँ लाई। नारि हेतु प्रिय भाई गँवाई॥
बरु अपजस सहतेऊँ जग माहीं। नारि हानि बिसेष छति नाहीं॥
भाई के शोक में डूबे राम के इस प्रलाप-वचन में स्त्री के प्रति कैसा सामाजिक दृष्टिकोण संभावित है?
उत्तर :
भाई के शोक में डूबे श्रीराम के इस प्रलाप को सुनकर यद्यपि स्त्री को बुरा लगेगा। वह सोचेगी कि भाई की तुलना में पत्नी को हीन समझा जाता है; परन्तु प्रलाप-विलाप में व्यक्ति बहुत कुछ कह जाता है। जिसके कारण प्रलाप किया जा रहा हो, उसे औरों की उपेक्षा अधिक प्रिय बताया जाता है। यह सामान्य लोक-व्यवहार की बात है। कवि के अनुसार राम उस समय नर-लीला कर रहे थे। अतः उनका उक्त प्रलाप-वचन शोकावेग का ही परिचायक है।

सांसारिक व्यवहार में पत्नी का विकल्प हो सकता है, दूसरी पत्नी भी हो सकती है। लेकिन वही भाई चाहकर भी दूसरा नहीं हो सकता। लक्ष्मण तो ऐसा भाई था जिसने भाभी की खातिर प्राणों की परवाह नहीं की थी। अतः ऐसे भाई को लेकर सामाजिक दृष्टिकोण तात्कालिक शोक को ही कारण मानता है। आखिर प्रलाप-वचन तो प्रलाप ही है। उस समय अधिक दुःखी अवस्था में ध्यान नहीं रहता कि वह क्या कह रहा है।

पाठ के आसपास –

प्रश्न 1.
कालिदास के रघुवंश महाकाव्य में पत्नी (इंदुमती) के मृत्यु-शोक पर अज तथा निराला की सरोज-स्मृति में पुत्री (सरोज) के मृत्यु-शोक पर पिता के करुण उद्गार निकले हैं। उनसे भ्रातृ-शोक में डूबे राम के इस विलाप की तुलना करें।
उत्तर :
‘रघुवंश’ महाकाव्य में इन्दुमती की मृत्यु पर राजा अज का विलाप अतीव मार्मिक एवं भावपूर्ण है। निराला द्वारा ‘सरोज-स्मृति’ में पुत्री के निधन पर जो शोक व्यक्त किया गया है, उसमें हार्दिक वेदना-विवशता है। भ्रातृ-शोक में श्रीराम ने जो विलाप किया, वह संक्षिप्त है तथा इसमें लक्ष्मण के उपचार द्वारा जीवित होने की आशा भी निहित है।

प्रश्न 2.
‘पेट ही को पचत, बेचत बेटा-बेटकी’ तुलसी के युग का ही नहीं आज के युग का भी सत्य है। भुखमरी में किसानों की आत्महत्या और संतानों (खासकर बेटियों) को भी बेच डालने की हृदय-विदारक घटनाएँ हमारे देश में घटती रही हैं। वर्तमान परिस्थितियों और तुलसी के युग की तुलना करें।
उत्तर :
तुलसीदास के युग में धन-वैभव-सम्पन्न लोग गरीबों की सन्तानों को दास रूप में खरीदते थे। उस समय आर्थिक विषमता पिछड़ेपन एवं कट्टर वर्ण-व्यवस्था जातिवाद के कारण भी थी। वर्तमान में पेट की खातिर तथा बेकारी के कारण अतीव निर्धन लोग अपनी सन्तान को बेचते थे। बन्धुआ मजदूर इसी का एक रूप है। आज की परिस्थिति भले ही पहले से भिन्न है, परन्तु कर्जदारी और भुखमरी के कारण किसानों के द्वारा आत्महत्या करने की घटनाएँ आज भी अतीव चिन्तनीय हैं

प्रश्न 3.
तुलसी के युग की बेकारी के क्या कारण हो सकते हैं? आज की बेकारी की समस्या के कारणों के साथ उसे मिलाकर कक्षा में परिचर्चा करें।
उत्तर : तुलसी के समय शिक्षा का अभाव, जमींदारी प्रथा एवं ऊँच-नीच, जाति-वर्ण कुप्रथा का प्रसार था। सिंचाई एवं यातायात के साधनों का अभाव था। मुगल साम्राज्य के कारण अनेक तरह के कर देने पड़ते थे, शासन का उत्पीड़न झेलना पड़ता था। इन सभी कारणों से बेकारी की समस्या व्याप्त थी।
शिक्षक की सहायता से इन बिन्दुओं पर कक्षा में परिचर्चा करें।

प्रश्न 4.
राम कौशल्या के पुत्र थे और लक्ष्मण सुमित्रा के। इस प्रकार वे परस्पर सहोदर (एक ही माँ के पेट से जन्मे) नहीं थे। फिर, राम ने उन्हें लक्ष्य कर ऐसा क्यों कहा-“मिलइ न जगत सहोदर भ्राता?” इस पर विचार करें।
उत्तर :
श्रीराम लक्ष्मण से अतिशय स्नेह रखते थे और उन्हें अपना सगा भाई मानते थे। यद्यपि लक्ष्मण की माता सुमित्रा थीं, परन्तु श्रीराम अपनी माता कौशल्या और सुमित्रा में अन्तर नहीं मानते थे। वैसे भी श्रीराम-लक्ष्मण एक ही पिता के पुत्र थे और वे आपस में माता-विमाता का भेद-भाव जरा भी नहीं रखते थे। श्रीराम तो आदर्श मातृ-भक्त और भ्रातृ प्रेमी थे। राम का अपने सभी भाइयों से समान प्रेम था।

प्रश्न 5.
यहाँ कवि तुलसी के दोहा, चौपाई, सोरठा, कवित्त, सवैया-ये पाँच छंद प्रयुक्त हैं। इसी प्रकार तुलसी साहित्य में और छंद तथा काव्य-रूप आए हैं। ऐसे छंदों व काव्य-रूपों की सूची बनाएँ।
उत्तर :
तुलसी – साहित्य में ये छन्द प्रयुक्त हैं –
दोहा, सोरठा, चौपाई, कवित्त, सवैया, पद, छप्पय, बरवै, गीत तथा संस्कृत के कतिपय छन्द।
तुलसी-रचित काव्य-रूप ये हैं –
रामचरितमानस – प्रबन्धकाव्य, विनयपत्रिका-मुक्तककाव्य, कवितावली, गीतावली, श्रीकृष्णगीतावली-मुक्तक गीतकाव्य, पार्वतीमंगल, जानकीमंगल-मंगलगीतकाव्य, बरवै रामायण तथा वैराग्य-संदीपनी-खण्डकाव्य।

RBSE Class 12 कवितावली (उत्तर कांड से), लक्ष्मण-मूच्छ और राम का विलाप Important Questions and Answers
लघूत्तरात्मक प्रश्न –

प्रश्न 1.
“किसबी, किसान कुल, बनिक… ” इस कवित्त के प्रतिपाद्य को स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
इस कवित्त से आशय है कि आर्थिक स्थिति खराब दशा में होने के कारण तथा अपनी भूख मिटाने के लिए लोग पाप-कर्म करने लग गये थे। तब आम लोग श्रीराम की भक्ति को ही अपना अन्तिम सहारा मान रहे थे।

प्रश्न 2.
“आगि बड़वागि तें बड़ी है आगि पेट की”-तुलसी ने पेट की आग को बड़ी क्यों बताया है?
उत्तर :
शरीर को चलाने हेतु पेट का भरा होना आवश्यक है और पेट भरने के लिए अनेक कर्म करने पड़ते हैं। भिखारी से लेकर बड़े-बड़े लोग भी पेट की आग शान्त करने में लगे रहते हैं। इसलिए पेट की आग को बाङवाग्नि से बड़ी कहा गया है क्योंकि बाङवाग्नि प्रयत्न द्वारा शान्त हो जाती है।

प्रश्न 3.
“खेती न किसान को. हहा करी” कवित्त में किस स्थिति का चित्रण हुआ है? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
इस कवित्त में तत्कालीन बेकारी-बेरोजगारी की स्थिति का चित्रण हुआ है; क्योंकि उस समय किसान खेती से, व्यापारी व्यवसाय से, भिखारी भीख और चाकर नौकरी न मिलने से परेशान थे। गरीबी रूपी रावण से सारा समाज व्यथित, दुःखी और पीड़ित था।

प्रश्न 4.
“काहू की जाति बिगार न सोऊ”-इससे कवि ने क्या व्यंजना की है?
उत्तर :
तुलसी के युग में जाति-प्रथा का बोलबाला था। ऊँची जातियों के लोग नीची जातियों से शादी सम्बन्ध या खान-पान का व्यवहार नहीं रखते थे। तुलसीदास को निम्न जाति का माना जाता था, इसलिए उन्होंने कहा कि मुझे किसी से कोई लेना-देना नहीं और मैं किसी की जाति नहीं बिगाड़ना चाहता हूँ जबकि लोग अपनी जाति की श्रेष्ठता का ध्यान रखते थे, अपनी जाति बिगड़ने नहीं देते थे।

प्रश्न 5.
“माँगि कै खैबो, मसीत को सोइबो”-इससे तुलसी के विषय में क्या पता चलता है?
उत्तर :
इससे तुलसी के विषय में यह पता चलता है कि वे धार्मिक कट्टरता से ग्रस्त नहीं थे और सर्वधर्म सद्भाव रखते थे। वे लोभ-लालच से रहित, स्वाभिमानी और सच्चे सन्त स्वभाव के थे। इसलिए उन्हें माँग के खाने और मस्जिद में सोने से कोई परहेज नहीं था।

प्रश्न 6.
‘लक्ष्मण-मूर्छा और राम-विलाप’ काव्यांश के आधार पर भ्रातृ-शोक में विह्वल श्रीराम की दशा
को स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
लक्ष्मण को मूर्च्छित देखकर श्रीराम अत्यधिक विह्वल हो उठे। उस समय वे माता सुमित्रा का ध्यान कर लक्ष्मण को अपने साथ लाने पर पछताने लगे। लक्ष्मण जैसे सेवा-भावी अनुज के अनिष्ट की आशंका से वे प्रलाप करने लगे तथा अविनाशी प्रभु होने के पश्चात् भी मनुष्यों की भाँति द्रवित हो गये।

प्रश्न 7.
“तव प्रताप उर राखि प्रभु जैहउँ नाथ तुरन्त”-यह किसने, कब और किस आशय से कहा? बताइये।
उत्तर :
यह हनुमान ने भरत से कहा। संजीवनी बूंटी ले जाते समय भरत ने अपने बाण से घायल हनुमान को जब अभिमन्त्रित बाण पर बिठाया, तब हनुमान ने कहा कि आप बड़े प्रतापी हैं, मैं आपके प्रताप का स्मरण कर तुरन्त ही लंका पहुँच जाऊँगा।

प्रश्न 8.
“बोले वचन अनुज अनुसारी”-इसका आशय स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
श्रीराम परमब्रह्म के अवतार थे, वे अन्तर्यामी थे और भूत-भविष्य को जानते थे। परन्तु लक्ष्मण के मूर्च्छित होने पर उसके अनिष्ट की शंका से वे सामान्य मनुष्य की तरह विचलित होकर विलाप करने लगे थे।

प्रश्न 9.
“बरु अपजस सहतेउँ जग माहीं”-श्रीराम किस अपयश को सहना ठीक समझते थे?
उत्तर :
श्रीराम पत्नी सीता के अपहरण को अपना अपयश मानते थे। पत्नी की रक्षा न कर सकना अपयश का कारण माना जाता है। स्त्री के कारण भाई को गँवाना भी अपयश माना जाता है। श्रीराम पत्नी हरण का अपयश सह सकते थे लेकिन भाई के वियोग का अपयश नहीं चाहते थे।

प्रश्न 10.
“उतरु काह दैहउँ तेहि जाई”-ऐसा किस आशय से कहा गया है?
उत्तर :
श्रीराम ने लक्ष्मण के मूर्च्छित हो जाने पर कहा कि मैं माता सुमित्रा को क्या उत्तर दूंगा? लक्ष्मण की मृत्यु का समाचार उन्हें कैसे सुनाऊँगा और उनके हृदय पर तब क्या बीतेगी? मैं अपना अपराध कैसे व्यक्त कर सकूँगा?

प्रश्न 11.
श्रीराम के विलाप और उसी क्षण हनुमान के आगमन से वानर सेना पर क्या प्रतिक्रिया हुई?
उत्तर :
श्रीराम के विलाप को सुनकर सारी वानर-सेना अत्यधिक व्याकुल हो गयी, परन्तु तभी संजीवनी बूटी सहित हनुमान के आगमन से सभी वानर अत्यधिक प्रसन्न और उत्साहित हो गये तथा उनमें उत्साह और वीर रस का संचार हो गया।

प्रश्न 12.
रावण के अभिमानी वचन सुनकर कुम्भकर्ण ने क्या कहा?
उत्तर :
रावण के अभिमानी वचन सुनकर कुम्भकर्ण ने कहा कि तुमने पाप-कर्म किया है, तुम जगत्-जननी सीता . का अपहरण कर लाये हो और अब अपना भला चाहते हो। अब तुम्हें अपनी इस दुष्टता का फल भोगना ही पड़ेगा।

निबन्धात्मक प्रश्न –

प्रश्न 1.
‘पेट ही को पचत, बेचत बेटा-बेटकी।’ में भक्त कवि तुलसीदास ने किस विकट स्थिति की ओर संकेत किया है? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
कवि ने बताया है कि संसार में सभी अच्छे-बुरे, ऊँचे-नीचे कार्यों का आधार ‘पेट की आग’ की गंभीर स्थिति ही सबसे बड़ा सत्य है। तुलसीदास के समय तत्कालीन परिस्थिति रोजगार को लेकर अत्यन्त विकट थी। पेट भरने हेतु जो व्यक्ति जैसा भी कार्य करता था, उन्हें वैसा भी कोई काम नहीं मिल रहा था। जिसके कारण भूखे मरने जैसी हालत हो गई थी। अच्छे-अच्छे घरों के लोग पेट पालन हेतु छोटा-बड़ा, नीच कर्म सभी करने लगे थे।

ऐसे में परिवार पालन के लिए या अपने पेट को भरने हेतु लोग अपनी संतानों को भी बेचने को विवश हो रहे थे। समय की दारुण स्थिति एवं मनुष्यों का कठिन जीवन-यापन देख तुलसीदास ने निम्न पंक्ति कही कि पेट की आग बुझाने हेतु अपनी जान से प्यारी संतान (बेटा-बेटी) को भी लोग बेचने में हिचकिचा नहीं रहे थे, जो कि बहुत ही बुरी परिस्थिति पर प्रकाश डालती है।

प्रश्न 2.
‘धूत कहौ, अवधूत कहौ, राजपुतू कहौ’ निम्न पंक्ति द्वारा कवि तुलसीदास वर्तमान की किस भयंकर समस्या को इंगित कर रहे हैं? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
तुलसीदास कहते हैं कि कोई चाहे उन्हें धूत (घर से निष्कासित) कहे, चाहे साधु-संन्यासी कहे, या फिर किसी भी जाति-विशेष के नाम से पुकारे। तुलसीदास की तत्कालीन स्थिति और अभी की वर्तमान परिस्थिति दोनों में ही जाति समस्या बहुत ही जटिल व बड़ी समस्या है। उस समय तुलसीदास की प्रसिद्धि एवं भक्ति देख कर कुछेक जाति विशेषज्ञ विद्वान तुलसीदास को नीचा व निम्न जाति का दिखाने हेतु दुष्प्रचार करते थे। उन्हीं लोगों को सटीक जवाब देने हेतु तुलसीदास ने कहा कि मुझे न किसी से कोई लेना-देना है। न किसी की बेटी के साथ, बेटा ब्याह कर जाति बिगाड़नी है। न मैं धर्म को लेकर कट्टरपंथी हूँ। मैं माँग कर, मस्जिद में सोकर तथा भगवान राम की भक्ति-आराधना कर अपना जीवन गुजार सकता हूँ।

प्रश्न 3.
तुलसी द्वारा रचित संकलित पदों के आधार पर बताइये कि तुलसी युग की समस्याएँ वर्तमान में आज भी समाज में विद्यमान हैं?
उत्तर :
तुलसीदास रामभक्त कवि, युग सचेतक एवं समन्वयवादी कवि थे। उनका लिखित साहित्य सर्वकालिक है। उन्होंने भक्ति के साथ-साथ वर्तमान परिस्थितियों, समस्याओं एवं विद्रूपताओं को हर सम्भव अपने साहित्य में उतारा है। तुलसी ने वर्षों पहले जो कुछ भी कहा वह आज भी उतना ही प्रासंगिक है जितना उस समय था। उन्होंने अपने समय की मूल्यहीनता, नारी की स्थिति और आर्थिक समस्याओं का विकट चित्रण किया है।

इनमें से सभी समस्याएँ आज भी ज्यों की त्यों हैं। आज भी लोग अपने जीवन-यापन हेतु, उच्च स्तरीय जीवन हेतु गलत-सही सभी कार्य करते हैं। देखा-देखी व होड़-प्रतिस्पर्धा ने मनुष्य के सात्विक जीवन को बहुत नीचे गिरा दिया है। नारी के प्रति नकारात्मक सोच व दुर्भावनाएँ आज भी विद्यमान हैं। जाति और धर्म के नाम पर घृणित खेल खेले जाते हैं। भेदभाव व छुआछूत की संकीर्ण सोच आज भी विकास का मार्ग अवरुद्ध करती है। मनुष्यों में ‘पर’ की अपेक्षा ‘स्व’ की प्रवृत्ति अधिक जोर पकड़ती जा रही है। कल्याण की भावना से आज का व्यक्ति कोसों दूर है। इस प्रकार युगीन समस्याएँ आज भी वैसी ही हैं जैसी कल थीं।

रचनाकार का परिचय सम्बन्धी प्रश्न –

प्रश्न 1.
भक्त कवि तुलसीदास के जीवन-वृत्त एवं कृतित्व पर प्रकाश डालिए।
उत्तर :
गोस्वामी तलसीदास का जन्म बांदा जिले के राजापर गाँव में सन 1532 में हआ। बचपन में ही माता-पिता के वियोग के कारण असह्य दुःख सहन करना पड़ा। गुरु नरहरिदास की कृपा एवं शिक्षा से राम-भक्ति का मार्ग प्रदीप्त हुआ। पत्नी रत्नावली की फटकार से संसार त्याग कर विरक्त भाव से रामभक्ति में लीन हो गए। विरक्तता जीवन जीते हुए काशी, चित्रकूट, अयोध्या आदि तीर्थों का भ्रमण किया। सन् 1623 में काशी में इनका निधन हुआ।

‘रामचरित मानस’, ‘कवितावली’, ‘रामललानहछू’, ‘गीतावली’, ‘दोहावली’, ‘विनय-पत्रिका’, ‘रामाज्ञा-प्रश्न’, ‘कृष्ण-गीतावली’, ‘पार्वती मंगल,’, ‘जानकी मंगल’, ‘हनुमान बाहक और वैराग्य संदीपनी’ इनकी काव्य-कृतियाँ हैं। ‘रामचरित मानस’ कालजयी कृति तथा भारतीय संस्कृति का आधार-स्तम्भ ग्रंथ है।

कवितावली (उत्तर कांड से), लक्ष्मण-मूच्छ और राम का विलाप Class 12 Aroh Question Answer