Day
Night

पद परिचय

वाक्य में आए प्रत्येक पद अथवा किसी एक पद को पूर्ण व्याकरणिक परिचय देना पद परिचय  कहलाता है।
पद परिचय देते समय कुछ मुख्य बातों पर ध्यान देना ज़रूरी है; जैसे

पद

परिचय

1. संज्ञा
2. सर्वनाम
3. विशेषण
4. क्रिया
5. क्रियाविशेषण
6. समुच्चयबोधक
7. विस्मयादिबोधक

भेद, लिंग, वचन कारक क्रिया से उसका संबंध
भेद, लिंग, वचन कारक क्रिया से उसका संबंध
भेद, अवस्था, लिंग, वचन, विशेष्य
भेद, लिंग, वचन काल, कर्ता, कर्म
भेद, क्रिया, विशेष्य
भेद, योजित शब्द
भेद एवं भाव का उल्लेख

अब हम कुछ उदाहरणों के द्वारा समझते हैं

संज्ञा पद का परिचय

रानी लक्ष्मीबाई झाँसी की रानी थी
रानी लक्ष्मीबाई – व्यक्तिवाचक संज्ञा, स्त्रीलिंग, एकवचन
झाँसी – व्यक्तिवाचक संज्ञा, स्त्रीलिंग, एकवचन
रानी – जातिवाचक संज्ञा, स्त्रीलिंग, एकवचन

सर्वनाम पद परिचय

  1. सर्वनाम के भेद
    (पुरुषवाचक, प्रश्नवाचक, निजवाचक, संबंधवाचक, निश्चयवाचक, अनिश्चयवाचक) पुरुष, लिंग, वचन, कारक, क्रिया के साथ संबंध बताना।
  2. विशेषण पद का परिचय
    (गुणवाचक, संख्यावाचक, परिमाणवाचक व सार्वनामिक विशेषण) विशेषण की अवस्थाएँ विशेष्य एवं प्रविशेषण दर्शाना।
  3. क्रिया पद का परिचय
    क्रिया के भेद (अकर्मक, सकर्मक) – लिंग, वचन, पुरुष, धातु, काल की अवस्थाएँ। वाच्य एवं कर्ता और कर्म के बारे में बताना।

अव्यय के भेद-

क्रियाविशेषण – जिस क्रिया की विशेषता बताई गई हो उसके बारे में बताना।
समुच्चयबोधक – संयुक्त शब्दों, वाक्यांशों तथा वाक्यों का उल्लेख।
संबंधबोधक – पदों, पदबंधों एवं वाक्यांशों से संबंध बताना।
विस्मयादिबोधक – भावों का परिचय।

उदाहरण-
1. नेहा किताब पढ़ती है।
नेहा – व्यक्तिवाचक संज्ञा, स्त्रीलिंग, स्त्रीलिंग, एकवचन, पढ़ती है, क्रिया का कर्ता
किताब – जातिवाचक संज्ञा, स्त्रीलिंग, एकवचन, कर्मकारक
पढ़ती है – सकर्मक क्रिया, स्त्रीलिंग शब्द, वर्तमान काल

2. वह छात्र बुद्धिमान है।
वह – सार्वनामिक विशेषण, पुल्लिंग, एकवचन।
छात्र – जातिवाचक संज्ञा, एकवचन पुल्लिंग कर्ताकारक है ‘क्रिया’ का ‘कर्ता’ ।
बुद्धिमान – गुणवाचक विशेषण, पुल्लिंग शब्द, एकवचन, छात्र का विशेषण।

3. आह! मेरे पेट में दर्द है।
आह! – विस्मयादिबोधक अव्यय, पीड़ासूचक
पेट में – जातिवाचक संज्ञा, पुल्लिंग एकवचन, अधिकरण कारक।
दर्द है – सकर्मक क्रिया, बहुवचन शब्द पुल्लिंग कर्तवाच्य।

4. अगर तुम कुत्ते को नहीं छोड़ते तो तुम्हें नहीं काटता
अगर तुम – संकेतसूचक, समुच्चयबोधक, इनके द्वारा कुत्ते को छोड़ने और उसके काटने की क्रिया में संबंध स्थापित किया जाता है।

5. मेरे घर के उत्तर में एक पार्क है।
उत्तर – दिशासूचक संबंधबोधक अव्यय घर और पार्क के बीच संबंध बता रहा है।

6. कछुआ धीरे – धीरे चलता है।
धीरे – धीरे रीतिवाचक क्रियाविशेषण, चलता है क्रिया का क्रियाविशेषण, अकर्मक क्रिया।

7. बच्चे फ़िल्म देखते हैं।
देखते हैं – सकर्मक क्रिया, बहुवचन, वर्तमान काल, बच्चे, कर्ता, पुल्लिंग।

8. आयुष दूसरी मंजिल पर रहता है।
दूसरी – संख्यावाचक (निश्चित) (विशेषण) मंजिल विशेषण का विशेष्य, बहुवचन

बहुविकल्पी प्रश्न

1. हम आगरा घूमने गए।
(i) व्यक्तिवाचक संज्ञा
(ii) पुरुषवाचक संज्ञा
(iii) गुणवाचक सर्वनाम

2. ईमानदारी बड़ी दुर्लभ वस्तु है।
(i) भाववाचक संज्ञा
(ii) सकर्मक क्रिया
(iii) गुणवाचक सर्वनाम

3. बच्चे मैदान में खेल रहे हैं
(i) कर्ता कारक
(ii) अधिकरण कारक
(iii) संबंध कारक

4. मैं अस्वस्थ था इसलिए विद्यालय नहीं आया.
(i) जातिवाचक संज्ञा
(ii) समुच्चयबोधक
(iii) क्रिया विशेषण
(iv) व्यक्तिवाचक संज्ञा

5. विद्यालय के सामने पार्क है।
(i) क्रियाविशेषण
(ii) संबंधबोधक
(iii) समुच्चयबोधक

उत्तर-
1. (ii)
2. (i)
3. (ii)
4. (ii)
5. (ii)

पद परिचय 8