Day
Night

बादल राग

Textbook Questions and Answers
कविता के साथ –

प्रश्न 1.
‘अस्थिर सुख पर दुःख की छाया’ पंक्ति में ‘दुःख की छाया’ किसे कहा गया है और क्यों?
उत्तर :
पूँजीपतियों के द्वारा सामान्य लोगों एवं किसानों का शोषण किया जाता है। इस कारण पूँजीपतियों के पास पर्याप्त सुख के साधन होते हैं। सामाजिक क्रान्ति से वे सदैव डरते हैं, क्रान्ति आने से सब कुछ परिवर्तित हो जाएगा। अतएव क्रान्ति या विनाश की आशंका को उनके सुख पर दुःख की छाया बताया गया है।

प्रश्न 2.
‘अशनि-पात से शापित उन्नत शत-शत वीर’ पंक्ति में किसकी ओर संकेत किया गया है?
उत्तर :
इस पंक्ति में क्रान्ति के विरोधी एवं स्वार्थी पूँजीपतियों-शोषकों की ओर संकेत किया गया है। जिस प्रकार बरसात में बिजली गिरने से बड़े-बड़े वृक्ष धराशायी हो जाते हैं, पर्वतों की चोटियाँ खण्डित हो जाती हैं, उसी प्रकार – क्रान्ति होने से बड़े-बड़े पूँजीपतियों का गर्व चूर-चूर हो जाता है और धन-सम्पन्न लोग भी धराशायी हो जाते हैं। इस – प्रकार इसमें क्रान्ति के प्रभाव की ओर संकेत हुआ है।

प्रश्न 3.
‘विप्लव-रव से छोटे ही हैं शोभा पाते’ पंक्ति में ‘विप्लव-रव’ से क्या तात्पर्य है? ‘छोटे ही हैं शोभा पाते’ ऐसा क्यों कहा गया है?
उत्तर :
‘विप्लव-रव’ का आशय क्रान्ति का स्वर है। जब क्रान्ति होती है, तो उसका सबसे अधिक लाभ छोटे लोगों अर्थात् शोषित गरीबों को मिलता है। क्रान्ति की उथल-पुथल से सम्पन्न लोगों का सब कुछ छिन जाता है और छोटे लोग लाभान्वित रहते हैं। इसी आशय से कवि ने ‘छोटे ही शोभा पाते’ कहा है।

प्रश्न 4.
बादलों के आगमन से प्रकृति में होने वाले किन-किन परिवर्तनों को कविता रेखांकित करती है?
उत्तर :
बादलों के आगमन से प्रकति में अनेक परिवर्तन आ जाते हैं। बादलों की गर्जना से, बिजली कडकने और मूसलाधार बरसने से भय का वातावरण बन जाता है। बिजली गिरने से बड़े-बड़े लता-वृक्ष धराशायी हो जाते हैं, बाढ़ आ जाती है, विनाश का दृश्य भी दिखाई देता है, लेकिन एक लाभ होता है छोटे-छोटे पौधे एवं खेतों की हरियाली लहराने लगती है। कमल खिल जाते हैं तथा धरती अंकुरित हो जाती है। सारी प्रकृति में परिवर्तन आ जाता है।

व्याख्या कीजिए –

  1. तिरती है समीर-सागर पर
    अस्थिर सुख पर दुःख की छाया –
    जग के दग्ध हृदय पर
    निर्दय विप्लव की प्लावित माया –
  2. अट्टालिका नहीं है रे
    आतंक-भवन
    सदा पंक, पर ही होता
    जल-विप्लव-प्लावन
    उत्तर :
    कविता का भावार्थ भाग देखिए।

कला की बात –

प्रश्न 1.
पूरी कविता में प्रकृति का मानवीकरण किया गया है। आपको प्रकृति का कौन-सा मानवीय रूप पसंद आया और क्यों?
उत्तर :
प्रस्तुत कविता में प्रकृति पर मानव-व्यापारों का आरोप कर मानवीकरण किया गया है। वैसे इसमें प्रकृति के अनेक मानवीय रूप चित्रित हैं, परन्तु हमें उसका यह रूप पसन्द में आया-
हँसते हैं छोटे पौधे लघुभार
शस्य अपार . हिल-हिल
खिल-खिल . .
हाथ हिलाते
तुझे बुलाते. . इस अंश में छोटे पौधों को शोषित वर्ग का प्रतीक बताया गया है। वे बादल रूपी क्रान्ति के आने की सम्भावना से हँसते हैं और खुश होकर उसे हाथ हिला-हिलाकर बुलाते हैं। कवि की मानवीकरण की यह कल्पना मनोरम है।

प्रश्न 2.
कविता में रूपक अलंकार का प्रयोग कहाँ-कहाँ हुआ है? सम्बन्धित वाक्यांश को छाँटकर लिखिए।
उत्तर :
रूपक अलंकार का प्रयोग

तिरती है समीर-सागर पर
अट्टालिका नहीं है रे आतंक-भवन
यह तेरी रण-तरी
भेरी-गर्जन से सजग सुप्त अंकुर
ऐ जीवन के पारावार!

प्रश्न 3.
इस कविता में बादल के लिए ‘ऐ विप्लव के वीर!, ऐ जीवन के पारावार!’ जैसे संबोधनों का इस्तेमाल किया गया है। बादल राग’ कविता के शेष पाँच खण्डों में भी कई सम्बोधनों का इस्तेमाल किया गया है। जैसे – अरे वर्ष के हर्ष!, मेरे पागल बादल!, ऐ निर्बन्ध!, ऐ स्वच्छंद!, ऐ उद्दाम!, ऐ सम्राट!, ऐ विप्लव के प्लावन!, ऐ अनंत के चंचल शिशु सुकुमार! उपर्युक्त संबोधनों की व्याख्या करें तथा बताएँ कि बादल के लिए इन संबोधनों का क्या औचित्य है?
उत्तर :
अरे वर्ष के हर्ष – बादल वर्ष-भर में वर्षा-ऋतु में मूसलाधार बरस कर धरती को हरा-भरा बनाते हैं। इसलिए यह सम्बोधन उचित है।
मेरे पागल बादल – बादल आकाश में अपनी स्वच्छन्द गति से मण्डराते रहते हैं, स्वेच्छा से गरजते एवं मस्त बने रहते हैं। यह कथन बादलों की मस्त चाल के लिए उचित है।
ऐ निर्बन्ध – बादल सर्वथा स्वच्छन्द होते हैं। वे किसी के बन्धन या नियन्त्रण में नहीं रहते हैं। इसलिए इन्हें निर्बन्ध अर्थात् बंधनमुक्त कहा है।
ऐ उद्दाम – बादल पूर्णतया निरंकुश और असीमित आकाश में उमड़ते-घुमड़ते हुए घनघोर गर्जना करते रहते हैं। इन पर किसी का अधिकार नहीं होता है।
ऐ विप्लव के प्लावन – बादलों के मूसलाधार बरसने से विनाशकारी बाढ़ भी आ जाती है। यह सम्बोधन ‘उचित है।
ऐ अनन्त के चंचल शिशु सुकुमार – बादल चंचल शिशु की तरह सुकुमार भी होते हैं, नटखट बच्चों की तरह मचलते हैं। प्रकृति के चंचल शिशु-समान है। अतः यह सम्बोधन उचित है।

प्रश्न 4.
कवि बादलों को किस रूप में देखता है? कालिदास ने मेघदूत काव्य में मेघों को दूत के रूप में देखा। आप अपना कोई काल्पनिक बिम्ब दीजिए।
उत्तर :
कवि बादलों को सामाजिक परिवर्तन लाने वाले क्रान्ति प्रवर्तक के रूप में देखता है। क्रान्ति के आगमन से शोषित वर्ग का हित होता है। महाकवि कालिदास ने अपने खण्ड-काव्य ‘मेघदूत’ में बादलों को यक्ष के दूत रूप में चित्रित किया है।
नोट – काल्पनिक बिम्ब स्वयं बनाइए।

प्रश्न 5.
कविता को प्रभावी बनाने के लिए कवि विशेषणों का सायास प्रयोग करता है जैसे – अस्थिर सुख। सुख के साथ अस्थिर विशेषण के प्रयोग ने सुख के अर्थ में विशेष प्रभाव पैदा कर दिया है। ऐसे अन्य विशेषणों को कविता से छाँटकर लिखें तथा बताएँ कि ऐसे शब्द-पदों के प्रयोग से कविता के अर्थ में क्या विशेष प्रभाव पैदा हुआ है।
उत्तर :
दग्ध-हृदय – ‘दग्ध’ विशेषण लगने से दु:ख सन्ताप की अधिकता व्यक्त हो रही है।
निर्दय विप्लव – ‘निर्दय’ विशेषण लगने से विप्लव को अधिक क्रूर और हृदयहीन व्यंजित किया गया है।
सुप्त अंकुर – ‘सुप्त’ विशेषण से अंकुरों को मिट्टी के अन्दर दबा हुआ बताया गया है।
घोर वज्र-हुँकार – ‘वज्र’ के साथ ‘घोर’ व ‘हुँकार’ के प्रयोग से उसकी भयानकता का प्रभाव व्यक्त हुआ है।
अचल-शरीर – ‘अचल’ विशेषण से शरीर की घायल दशा को व्यक्त किया गया है। जो हिल-डुल नहीं सकता है।
रुद्ध कोष – ‘रुद्ध’ विशेषण से खजानों की सुरक्षा व्यक्त हुई है। अर्थात् रुका हुआ, संरक्षित कोष।
आतंक-भवन – भवन को उसकी ऊँचाइयों के कारण आतंक-भय का स्थान बताने के लिए ‘आतंक’ विशेषण प्रयुक्त हुआ है।
बुलाता कृषक अधीर – इसमें अधीर’ विशेषण से कृषक की आकुलता एवं व्यथा की व्यंजना हुई है। जो वर्षों से बदलाव की वर्षा के लिए हषित (प्यासा) है।

लघूत्तरात्मक प्रश्न –

प्रश्न 1.
“अट्टालिका नहीं है रे आतंक-भवन।”‘बादल राग’ की इस पंक्ति में भाव क्या है?”
उत्तर :
कवि कहता है कि धनिक-वर्ग की यह अट्टालिका सुख-सुविधा देने वाली न होकर गरीबों का शोषण करके उन पर आतंक फैलाने वाली या आतंक की प्रतीक है। इनकी ऊँचाइयाँ ही गरीबों में भय उत्पन्न करती हैं।

प्रश्न 2.
‘अशनि-पात से शापित, उन्नत शत-शत वीर’,-‘बादल-राग’ कविता में बादलों को ‘अशनि-पात से शापित, उन्नत शत-शत वीर’ कहने का क्या तात्पर्य है?
उत्तर :
बरसात में बिजली गिरने से जैसे बड़े-बड़े वृक्ष धराशायी हो जाते हैं, उसी प्रकार क्रान्ति से सैकड़ों पूँजीपतियों एवं शोषक वर्ग के बड़े लोगों का सर्वनाश होता है। इसका तात्पर्य सामाजिक परिवर्तन की व्यंजना करना है।

प्रश्न 3.
“तुझे बुलाता कृषक अधीर, ऐ विप्लव के वीर” कवि निराला ने ‘विप्लव का वीर’ किसे कहा है? और क्यों? .
उत्तर :
कवि निराला ने बादलों को विप्लव का वीर कहा है। क्योंकि वे लगातार उमड़-घुमड़कर बिजली गिराते हैं तथा बड़े-बड़े वृक्षों एवं पर्वत-शिखरों को अपनी शक्ति से धराशायी करते हैं। उनसे छोटे-छोटे पौधों को उगने और बढ़ने का अवसर मिलता है।

प्रश्न 4.
निराला की ‘बादल राग’ कविता का प्रतिपाद्य स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
निराला की ‘बादल राग’ कविता का प्रतिपाद्य शोषित-पीड़ित कृषकों-श्रमिकों के जीवन में परिवर्तन लाने तथा सामाजिक क्रान्ति के द्वारा पूँजीपतियों के शोषित आचरण का विरोध करना है। इसमें सामाजिक क्रान्ति एवं बदलाव का सन्देश दिया गया है।

प्रश्न 5.
‘हँसते हैं छोटे पौधे लघुभार’-इसका आशय स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
बादलों के बरसने से छोटे-छोटे पौधों का विकास होता है। इसी प्रकार सामाजिक क्रान्ति से दलित शोषित वर्ग के लोग प्रसन्न होते हैं और पूँजीपतियों का दमन होने से गरीबों एवं निम्न वर्ग को सामाजिक परिवर्तन का लाभ मिलने लगता है।

प्रश्न 6.
‘सुप्त अंकुर उर में पृथ्वी के, ताक रहे’-इससे कवि ने क्या व्यंजना की है?
उत्तर :
बादलों के बरसने से अंकुर धरती से बाहर आकर पल्लवित-पुष्पित होकर जीवन का लाभ प्राप्त कर सकेगा। इस कथन से कवि ने व्यंजना की है कि क्रान्ति आने से समाज में दबे शोषित-पीड़ित लोग उन्नति की आशा लगाये हुए बैठे हैं।

प्रश्न 7.
विप्लव के बादल का आह्वान समाज का कौनसा वर्ग करता है और क्यों?
उत्तर :
विप्लव के बादल का आह्वान समाज का शोषित-पीड़ित वर्ग तथा श्रमिक-कृषक वर्ग करता है, क्योंकि वह पूँजीपतियों एवं सम्पन्न लोगों के अत्याचारों एवं शोषण से पीड़ित रहता है। इसलिए वह शोषण-उत्पीड़न से छुटकारा पाना चाहता है।

प्रश्न 8.
विप्लवी बादल की युद्ध-नौका की क्या विशेषता बतायी गयी है?
उत्तर :
विप्लवी बादल की युद्ध-नौका पवन रूपी सागर में तैरती है और शोषित वर्ग की आशाओं एवं आकांक्षाओं रूपी सामग्री से भरी रहती है। वह सामाजिक परिवर्तन के लिए शान्ति के मार्ग पर सुख-दुःख की छाया बनकर मंडराती रहती है।

प्रश्न 9.
‘ऐ जीवन के पारावार’-बादल के लिए ऐसा क्यों कहा गया है?
उत्तर :
बादल समय-समय पर जल-वर्षण करके संसार को नव-जीवन प्रदान करता है, सभी प्राणियों के जीवन ण-संवर्धन करता है। इसी विशेषता के कारण बादल को जीवन का पारावार कहा गया है। अर्थात जीवन दान देने वाला समुद्र कहा गया है।

प्रश्न 10.
‘रुद्ध कोष है क्षुब्ध तोष’-इससे कवि का क्या आशय है?
उत्तर :
इससे कवि का आशय है कि धनवानों के पास अपार धन है, परन्तु उसका सामाजिक उपयोग नहीं हो रहा है, वह तालों में बन्द है। सामाजिक विषमता से अशान्ति फैल रही है जिससे जनता में क्षुब्धता (असन्तोषता) फैल रही है।

प्रश्न 11.
‘चूस लिया है उसका सार’-इस पंक्ति से क्या तात्पर्य है?
उत्तर :
इसका तात्पर्य है कि धनवानों ने दलित-कृषकों एवं शोषितों का भरपूर शोषण कर लिया है। उन्होंने गरीबों के सुख-चैन, शारीरिक शक्ति, आशा-आकांक्षा आदि सभी का सार चूस लिया है। शोषण होने से गरीबों के पास कुछ नहीं बचा है।

प्रश्न 12.
बादल के वज्र-गर्जन से धनी-वर्ग पर क्या प्रभाव पड़ता है? ‘बादल राग’ कविता के आधार पर बताइये।
उत्तर :
बादल के वज्र-गर्जन से धनी-वर्ग काँपने लगता है । क्रान्ति के उद्घोष से धनी वर्ग अपने विनाश और पतन आदि के भय से ग्रस्त रहते हैं तथा अपनी सुन्दर स्त्री के अंगों से लिपट जाते हैं, मुख-नेत्र ढाँप लेते हैं।

प्रश्न 13.
‘जीर्ण बाहु है शीर्ण शरीर’-इससे क्या व्यंजना की गई है? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
इससे व्यंजना की गई है कि समय पर वर्षा न होने से तथा धनिकों के शोषण-उत्पीड़न से कृषक-श्रमिक हाड़ मात्र रह जाते हैं। उनकी बाँहें कमजोर तथा शरीर दुर्बल हो गए हैं। जिससे उनकी शारीरिक एवं मानसिक स्थिति चिन्तनीय बनी रहती है और वे बादल रूपी क्रान्ति की आशा में रहते हैं।

प्रश्न 14.
‘गगन-स्पर्शी स्पर्द्धा-धीर’-इसका आशय ‘बादल राग’ कविता के आधार पर बताइए।
उत्तर :
कवि बादल को सामाजिक क्रान्ति का प्रतीक बताते हुए कहता है कि बादल आकाश में बार-बार गिरकर ऊँचाइयों का स्पर्श करते हैं। उनमें गर्जन-तर्जन तथा ऊपर उठकर वर्षा करने की होड़ लगी रहती है। वे क्रान्ति लाने के लिए तैयार रहते हैं।

प्रश्न 15.
‘विप्लव-रव से छोटे ही हैं शोभा पाते।’ इससे कवि ने क्या व्यंजना की है?
उत्तर :
तेज वर्षा से भी छोटे पौधों व घास का कुछ नहीं बिगड़ता है। इसी प्रकार सामाजिक क्रान्ति से दलित शोषित लोगों का ही हित होता है। इससे उन्हें उन्नति एवं प्रगति का नया क्षेत्र मिलता है। उनका कुछ भी नष्ट न होकर कल्याण ही होता है।

प्रश्न 16.
‘हृदय थाम लेता संसार’-संसार किस कारण हृदय थाम लेता है?
उत्तर :
जब बादल-राग के रूप में सामाजिक क्रान्ति का स्वर सुनाई देता है तथा क्रान्ति के कारण बड़े धनवानों का पतन होने लगता है, तब संसार भय के कारण हृदय थाम लेता है और वह भविष्य के प्रति चिन्तित हो जाता है।

निबन्धात्मक प्रश्न –

प्रश्न 1.
‘बादल राग’ कविता के प्रतिपाद्य अथवा उद्देश्य पर प्रकाश डालिए।
अथवा
‘बादल-राग’ कविता में निराला ने किस वर्ग के प्रति व्यंजनापूर्ण भावाभिव्यक्ति का चित्रण किया है? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
‘बादल राग’ कविता सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की क्रांतिकारी भावों से पूरित कविता है। इसमें कवि ने बादलों को क्रांति का प्रतीक माना है। जिस प्रकार सूखी-उजाड़ प्यासी धरती को बादल वर्षा द्वारा संचित कर तृप्त करते हैं। भूखे गरीब किसान व मजदूरों की आशाओं का संबल बनते हैं। गरज-बरस कर नव जीवन की शुरुआत करते हैं। ठीक उसी तरह कवि ने शोषित वर्ग के हित में बादलों का आह्वान किया है।

क्रांति के प्रतीक बादलों की गर्जना सुनकर पूँजी वर्ग भयभीत हो जाता है। जबकि कृषक-वर्ग आशा भरे नेत्रों से देखते हैं। बड़े-बड़े धनिक अपने ऊँचे भवनों से आतंक फैलाने का प्रयास करते हैं पर क्रांति के स्वर उन्हें ही कंपित कर देते हैं। इस क्रांति की बाढ़ में शोषित वर्ग ही लाभान्वित होता है। अतः समाज में शोषितों को उनका अधिकार दिलाने हेतु क्रांति की आवश्यकता है। इस मूल स्वर को प्रकट करते हए कवि ने सामाजिक एवं आर्थिक वैषम्य का यथार्थ चित्रण किया है। शोषकों के प्रति व्यंजनापूर्ण भावों की अभिव्यक्ति कर आर्थिक विषमता मिटाने पर जोर दिया है।

प्रश्न 2.
निराला द्वारा रचित कविता ‘बादल-राग’ शीर्षक की सार्थकता या औचित्य सिद्ध कीजिए।
उत्तर :
कवि निराला को वर्षा-ऋतु अधिक आकर्षित करती है। क्योंकि बादलों के भीतर सृजन की ताकत और ध्वंस का सामर्थ्य रहता है। ये बादलों को क्रांति-दूत मानते हैं। बादल शोषित वर्ग के हितैषी होते हैं। बादलों की क्रांति का लाभ दबे-कुचले लोगों को मिलता है। बादलों के आने से नए पौधे हर्षित होते हैं। बादलों द्वारा की गई घनघोर वर्षा से बुराई रूपी कीचड़ साफ हो जाता है तथा आम-व्यक्ति को जीने योग्य स्थिति मिलती है।

इस कविता ने लघु-मानव की खुशहाली का राग गाया है। किसानों व मजदूरों की आकांक्षाएँ बादल को नवनिर्माण के राग के रूप में पुकार रही हैं। और क्रांति सदैव वंचितों का प्रतिनिधित्व करती है। इसलिए कवि बादलों को गर्जना के साथ बारिश करने या क्रांति करने को कहता है। अतः कथ्यानुसार यह शीर्षक उपयुक्त तथा उचित, है।

रचनाकार का परिचय सम्बन्धी प्रश्न –

प्रश्न 1.
कवि.सूर्यकांत त्रिपाठी निराला का व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर पूर्ण प्रकाश डालिए।
उत्तर :
महाप्राण कवि सूर्यकांत त्रिपाठी निराला का जन्म सन् 1899 में बंगाल राज्य के मेदिनीपुर ग्राम में हुआ था। जब ये तीन वर्ष के थे इनकी माता का देहान्त हो चुका था। इन्होंने स्कूली शिक्षा अधिक प्राप्त नहीं की लेकिन स्वाध्याय से अनेक भाषाओं का ज्ञान प्राप्त किया। कविता को नया स्वर देने वाले निराला छायावाद के ऐसे कवि हैं जो एक ओर कबीर परम्परा से जुड़ते हैं तथा दूसरी ओर समकालीन कवियों के प्रेरणा-स्रोत भी हैं।

इनके द्वारा लिखे गए अनामिका, परिमल, गीतिका, बेला, नए पत्ते, अणिमा तुलसीदास, कुकुरमुत्ता (काव्य-संग्रह); चतुरी चमार, प्रभावती बिल्लेसुर बकरिहा, काले कारनामे (गद्य) आदि। समन्वय, मतवाला पत्रिका का सम्पादन भी इन्होंने किया। विषयों और भावों की तरह भाषा की दृष्टि से भी निराला की कविता के कई रंग हैं। मुक्त छंद की रचना करने वाले कवि काव्य विषय और युग की सीमाओं का भी अतिक्रमण करते हैं। साहित्य सेवा करते हुए सन् 1961 में इलाहाबाद में इनका देहान्त हुआ।

0:00
0:00