8 Silk Road [रेशम मार्ग] —Nick Middleton

| कठिन शब्दार्थ एवं हिन्दी अनुवाद |

A flawless half moon…………………..get there. (Page 74)

कठिन शब्दार्थ : flawless (फ्लॉलस्) = स्वच्छ, बादलरहित, floated (फ्लोट्ड) = तैर रहा था, loaves (लोवज) = डबल रोटी के टुकड़े, glowed (ग्लोड) = चमक रहे थे, splash (स्प्लै श्) =

सराबोर करना, tinted (टिन्ड) = रंगे हुए, heading towards (हैडिङ् टवॉड्ज) = की तरफ जा रहा, Kora (कोरा) = कैलाश की यात्रा, ducking back (डकिङ् बैक्) = वापस घुसकर, emerged (इमज्ड) = बाहर निकली, long sleeved (लॉङ् स्लीव्ड) = लम्बी आस्तीन का, passes (पैसिज) = पर्वतीय दरे, assured (अशॉ(र)ड) = आश्वस्त किया, likelihood (लाइक्लिहुड्) = सम्भावना।

हिन्दी अनुवाद : जिस सुबह हम वहाँ से विदा हुए बादलों के आगे की तरफ बढ़े हुए किनारे नीले आसमान में स्वच्छ अर्धचन्द्र चमक रहा था। जो फ्रांसीसी लम्बी डबलरोटी के टुकड़ों जैसे गुलाबी रंगे हुए दिखाई दे रहे थे, जब सूरज प्रकट होने लगा था और सुदूर पर्वत शिखरों के गुलाबी रंग से सराबोर कर रहा था। जब हम रावू (गाँव) को छोड़कर जा रहे थे तब लामो (वह महिला जिसकी सराय में लेखक ठहरा था) ने कहा कि वह मुझे एक भेंट देना चाहती है। एक दिन मैंने डेनियल के माध्यम से उसे कहा था कि मैं कोरा नाम की धार्मिक यात्रा को पूरा करने के लिए कैलाश पर्वत जा रहा हूँ तब उसने कहा था कि इसके लिए मुझे कुछ गर्म कपड़े लेने पड़ेंगे। अपने तम्बू में वापस घुसकर वह एक लम्बी आस्तीन का भेड़ की खाल से बना कोट ले आई जिसे वहाँ सभी लोग पहनते थे। जेतन ने मुझे ठीक से देखा जब हम उसकी कार में कठिनाई से चढ़े। “आह, हाँ”, उसने घोषणा की, “एक पशुपालक खानाबदोश (ड्रोकबा), श्रीमान्।”

हमने शांगतांग को छोड़ने के लिए एक छोटा रास्ता लिया। जेतन एक ऐसे रास्ते को जानता था जो दक्षिण-पश्चिम की तरफ सीधा कैलाश पर्वत पर ले जाता था। यह रास्ता कई ऊँचे पर्वतीय दरों को पार करता हुआ बढ़ता था। उसने कहा “लेकिन कोई समस्या पैदा नहीं होगी, श्रीमान्,” उसने हमें विश्वास दिलाया,

“अगर बर्फ न हुई तो।” मैंने पूछा कि क्या बर्फ की सम्भावना है।।

“पता नहीं श्रीमान्, जब तक हम वहाँ पहुँच नहीं जायें।”

” From the gently…………………………………speeding vehicle. (Pages 74-75)

कठिन शब्दार्थ : plains (प्लेन्स) = मैदान, gazelles (गजेल्स) = एक हिरन प्रजाति—बारहसिंघे, nibbling (निब्लिङ्) = कुतरते हुए, arid (ऐरिड्) = सूखे हुए, frown (फ्राउन्) = नाराजगी प्रकट करना, bounding (बाउन्डिङ्) = दौड़ते हुए, void (वॉइड्) = खाली स्थान, herd (हड्) = झुण्ड, approaching (अप्रोचिङ्) = उन तक पहुंच रहे, pall of dust (पॉल ऑव् डस्ट्) = धूल galloping (गैलपिंङ्) = तेजी से उछलते हुए दौड़ना, en masse (ऑन् मैस्) = झुण्ड में एक-साथ, manoeuvres (मनूव(र)ज) = करतब दिखाना, predetermined (प्रीडिटमिन्) = पूर्व निश्चित मार्ग पर, plumes (प्लूम्ज) = गुबार, billowed (बिलोड्) = ऊपर उठे, push up (पुश् अप्) = ऊपर उठना, rocky wilderness (रॉकि विल्डनस्) = चट्टानों का जंगल, tending (टेन्डिङ्) = रखवाली करते हुए, flocks (फ्लॉक्) = जानवरों के झुण्ड, well-wrapped (वेल्-रैप्ट) = अच्छी तरह लिपटे हुए, waving (वेविंग) = स्वागत में हाथ हिलाना, track (ट्रैक्) = पगडंडी, evasive (इवेसिव्) = दूर हटना, veering (विअरिङ) = दूसरी तरफ मुड जाना।

हिन्दी अनुवाद : राव की सौम्य घुमावदार पहाड़ियों से हम एक बड़े मैदानी इलाके में पहुँचे जिनमें कुछ हिरनों के झुण्ड के अलावा कुछ न था। ये हिरन हमें देख कर घास चरते हुए भी नाराजी प्रकट करते थे और उस सूखे चरागाह में दूर कहीं भाग जाते थे। इसके बाद मैदान घास के नहीं रहे बल्कि चट्टानों के मैदान आये

और हमारी निगाह में जंगली गधों का एक बड़ा झुण्ड आया। जेतन ने बताया कि हम उनकी तरफ ही अनजाने में बढ़ रहे थे। “क्यांग”, उसने कहा, दूर एक धूल के गुबार की तरफ इशारा करते हुए। जब हम नजदीक पहुँचे तो मैं उस झुण्ड को एक-साथ उछलते, कूदते, मुड़ते देख सकता था। वे मोर्चाबंदी करते से दिखाई दे रहे थे जैसे वे बने-बनाये रास्ते पर दौड़ कर कुशलता दिखा रहे हों। धूल के गुबार उस साफ-सुथरी हवा में ऊँचे उठ रहे थे।

उस पथरीले मैदान से फिर पहाड़ियाँ सिर उठाती दिखाई देने लगीं। गुजरते हुए हमने एकाकी खानाबदोशों को अपने जानवर चराते हुए देखा। ये मर्द और औरतें अच्छी तरह लबादों में लिपटे हुए थे और हमारी कार को टकटकी लगा कर देख रहे थे। कभी-कभी वे हाथ हिलाकर हमारा स्वागत भी कर रहे थे। नजदीक जाने पर भेड़ें हमारी तेज रफ्तार कार से बचकर अपना रास्ता बदल लेती थीं।

Do We passed nomads’…………………………………………..closed in. (Pages 75-76)

कठिन शब्दार्थ : nomads (नोमैड्) = घुमक्कड़, खानाबदोश, pitched (पिच्ट) = लगे हुए, isolation (आइसलेशन्) = एकाकी, अलग, mastiff (मेस्टिफ्) = बड़ा, ताकतवर कुत्ता, cock (कोक) = ऊपर उठाना, explode (इक्स्प्लोड्) = फट पड़ना, झपटना, shaggy (शेगि) = रफ, ऊबड़-खाबड़, monsters (मॉन्स्ट(र)स) = राक्षस, दैत्य, massive (मैसिव) = विशाल, shooting (शूटिङ्) = झपटते हुए, swerve (स्वव्) = इधर-उधर मोड़ना, chase (चेस्) = पीछा करना, ferocious (फरोशस्) = भयंकर, imperial (इपिअरिअल) = शाही, बादशाही, by now (बाइ नाउ) = अब तक, horizon (हराइज्न्) = क्षितिज, clogged (क्लॉग्ड) = जमी हुई, ठहरी हुई, tribute (ट्रिब्यूट) = भेंट, glinting (ग्लिन्टिङ्) = चमकते हुए, hugged (हग्ड) = लिपटी हुई, meanders (मिऐन्ड(र)) = घुमावदार रास्ते।

हिन्दी अनुवाद : रास्ते में हम खानबदोशों के अलग-थलग तने हुए तम्बुओं के पास से गुजरे । प्रायः इनमें विशाल तिब्बती कुत्ते रखवाली किया करते थे। जब कभी ये जानवर हमें देखते तो अपना बड़ा-सा सिर उठाकर हम पर अपनी निगाहें जमा लेते। जैसे ही हम नजदीक पहुँचते वे झपट पड़ते और बन्दूक की गोली की तरह सीधे और तेज रफ्तार से हमारी तरफ लपक जाते थे।

आप ये भयानक राक्षस जो काली रात से भी ज्यादा काले थे अक्सर लाल चमकीली कॉलर गर्दन में पहने होते और अपने विशाल जबड़ों से बुरी तरह से भौंकते थे। उन्हें हमारी कार का कोई डर नहीं लगता था, वे सीधे हमारी तरफ झपटते और जेतन को ब्रेक लगा कर गाड़ी मोड़नी पड़ जाती। फिर ये कुत्ते सौ मीटर तक कार का पीछा करते और अपने इलाके से बाहर निकल जाने पर वापस चले जाते। यह समझना कठिन नहीं था कि चीन के बादशाही दरबारों में इन तिब्बती कुत्तों को शिकार पर ले जाने का क्या कारण था। इन्हें तिब्बत से भेंट के रूप में प्राचीन समय में रेशम मार्गों से लाया जाता था। ____

अब हमें क्षितिज के पास बर्फ की चोटियों वाले पहाड़ इकट्ठे होते दिखाई देने लगे। हम एक ऐसी घाटी में घुसे जिसमें नदी चौड़ी थी और बर्फ के कारण ठहरी हुई थी, अत्यधिक सफेद, सूरज की धूप में चमक रही थी। हमारा रास्ता इसके किनारों के पास-पास चल रहा था। नदी के घुमावों से रास्ता भी घुमावदार हो गया था। धीरे-धीरे हम ऊपर बढ़ते रहे और घाटी की सीमाएँ पास-पास आ गईं।

The turns…. ………………………….difficulty. (Page 76)

कठिन शब्दार्थ : bumpier (बम्पिअर) = ऊबड़-खाबड़, धक्कों वाली, steeper (स्टीप(र)) = सीधी चढ़ाई वाले, slopes (स्लोप्स) = पर्वतीय ढाल, sported (स्पॉट्ड) = दिखाई दे रहे थे, daubed (डॉब्ड) = रंगे हुए, lichen (लिचन्) = चट्टानों में उगने वाली वनस्पति, hunks (हङ्क्स) = टुकड़े, clung (क्लङ्) = चिपके हुए, snorted (स्नॉट्ड) = नाक से घर-घर की आवाज निकालना, bend (बेन्ड्) = घुमाव, swathe (स्वेद्) = पट्टी, stretching (स्ट्रेचिङ्) = फैली हुई, petered out (पीट(र)ड आउट्) = कम होकर समाप्त हो जाना, smoothing (स्मूदिङ्) = सपाट बनाना, encrusted (इनक्रस्ट्ड ) = पपड़ी जमी हुई, slither (स्लिद(र)) = फिसलना, slide (स्लाइड्) = बर्फ पर फिसलना, ascertain (एसटेन) = निश्चित करना, sturdy (स्टड्)ि = मजबूत, fling (फ्लिग) = फेंकना, lighten (लाइट्न्) = हल्का करना।

हिन्दी अनुवाद : रास्ते के घुमाव ज्यादा तीखे होने लगे और जमीन ज्यादा ऊबड़-खाबड़ आने लगी। जेतन तीसरे गियर पर गाड़ी को ऊपर चढ़ा रहा था। रास्ता बर्फीली नदी से दूर होता जा रहा था और ज्यादा सीधी चढ़ाई सामने आ रही थी। ढलानों पर चट्टानें दिख रही थीं जो लिचन नामक वनस्पति के रंग से नारंगी की हुई दिखाई दे रही थीं। चट्टानों के नीचे छायादार जगहों से बर्फ के टुकडे लटक रहे थे। मेरे कानों में दबाव बढ़ता जा रहा था, मैंने अपनी नाक बन्द करके जोर से सांस बाहर निकाली और उनको साफ कर लिया। हम एक तीखे घुमाव को पार कर रहे थे कि जेतन ने गाड़ी रोक दी। मुझे कुछ भी पता चलता इसके पहले ही वह दरवाजा खोल कर बाहर कूद पड़ा। डेनियल ने कहा “बर्फ” जैसे ही वह भी गाडी से बाहर निकला, बाहर निकल कर उसने ठण्डी हवा में सांस खींची। हमारे सामने ही रास्ते पर बर्फ की एक चादर जमी पड़ी थी, यह कोई 15 मीटर दूर तक फैली हुई थी जिसके बाद फिर से मटियाला रास्ता दीख रहा था। यह बर्फ हमारे दोनों तरफ (की चट्टानों पर) भी जमा हुई थी और ऊपर जाने वाले ऊबड़-खाबड़ किनारे को सीधा-सपाट बना रहा था। चट्टान का सिरा बहुत ऊँचा था जहाँ हमारी गाड़ी नहीं चढ़ सकती थी। इस तरह बर्फ के सिवा और कोई रास्ता नहीं था। मैं डेनियल के साथ था और जेतन पपड़ी-सी जमी उस बर्फ पर पैर पटकते हुए आगे फिसलता जा रहा था। पैर पटक कर वह बर्फ की मजबूती को आंक रहा था। मैंने अपनी कलाई घड़ी देखी तो पाया कि हम समुद्रतल से 5210 मीटर ऊपर

थे।

मुझे वह बर्फ ज्यादा गहरी नहीं लग रही थी किन्तु डेनियल ने बताया कि इसकी गहराई से खतरा नहीं है। खतरा है इसकी फिसलन-भरी परत से। “अगर कार फिसल जाती है तो यह उलट सकती है” उसने कहा। हमने देखा कि जेतन मुट्ठियाँ भर-भर कर मिट्टी बर्फ की सतह पर फेंक रहा है। हम दोनों वहीं चिपके रहे और जब पूरे बर्फ पर मिट्टी फैल गई तब हम कार से बाहर ही रहे ताकि जेतन का बोझ हल्का रहे । वह गाड़ी को मिट्टी डली हुई बर्फ की तरफ ले गया, इसकी बर्फीली सतह पर धीरे-धीरे कार बढ़ाने लगा। धीरे धीरे बिना किसी प्रकट कठिनाई के उसने वह बर्फ पार कर ली।

Ten minutes later………… ………..but no smoking. (Pages 76-77)

कठिन शब्दार्थ : blockage (ब्लॉकिज्) = रुकावट, studded (स्टडिड्) = भरा हुआ, जड़ा हुआ, negotiated (निगोशिएट्ड) = पार कर लिया, lurching (लचिङ्) = एक तरफ भार बढ़ने से झुक जाना, obstacle (ऑब्स्टक्ल) = बाधा-रुकावट, drifted (ड्रिफ्ट्ड) = पहुँच पाया, throb (थ्रॉब्) = दर्द करना, gulps (गल्प्स ) = बड़ी-बड़ी बूंट, ascent (असेन्ट) = चढ़ाई, cairn of rocks (के(र)न आव् रॉक्स) = चट्टानों का समूह, festooned (फेस्टून्ड) = सजाये गये थे, scarves (स्काव्स) = दुपट्टे,

चुन्नियाँ, ragged (रैग्ड) = फटे-पुराने, unscrewed (अन्स्क्रू ड) = पेंच खोलना।

हिन्दी अनुवाद : दस मिनट बाद ही दूसरी रुकावट आ गई। “यह तो अच्छी बात नहीं है।” जेतन कार से बाहर कूद कर सारे दृश्य को देखता हुआ बोला। इस बार उसने बर्फ के चारों तरफ घूम कर निकलने का इरादा किया। ढलान सीधा था और बड़ी-बड़ी चट्टानों से जड़ा हुआ था। किसी तरह जेतन ने उन सबको पार कर लिया। उसकी चार पहियों वाली गाड़ी एक बाधा से दूसरी बाधा तक तिरछी होकर पहुँचती रही। एक बार तो बड़ा तीखा मोड़ भी पार किया। फिर गाड़ी उस जगह पहुँच गई जहाँ बर्फ नहीं थी। hd चमकीली धूप में चलते हुए मैंने फिर घड़ी देखी। अब हम 5400 मीटर ऊपर आ गये थे और मेरा सिर भयानक दर्द करने लगा। मैंने अपनी बोतल से मुँह में पानी उंडेला। कहते हैं इससे ऊपर चढ़ाई करने में मदद मिलती है।

अन्त में हम दर के शिखर पर पहुँच गये जो 5515 मीटर ऊँचा था। यहाँ पर चट्टानों का ढेर था जिन्हें सफेद रेशम के स्कार्फ से सजाया गया था। फटी-पुरानी प्रार्थना की पताकाएँ भी वहाँ थीं। हमने उस स्थान की प्रदक्षिणा (परिक्रमा जो मन्दिरों में घड़ी की दिशा में की जाती है) परम्परा के अनुसार की, और जेतन ने अपनी गाड़ी के टायरों की हवा भी देखी । वह पेट्रोल की टंकी के पास रुका और पेट्रोल की टंकी का ढक्कन थोड़ा सा खोला तो एक तेज सीटी की-सी आवाज आई। वायु का दबाव कम होने के कारण पेट्रोल के आकार का विस्तार हो रहा था। मुझे यह खतरनाक लगा। जेतन ने कहा “हो सकता है, लेकिन हाँ, धूम्रपान नहीं।”

My headache……… ……………..forge ahead. (Pages 77-78)

कठिन शब्दार्थ : careered down (करिअ(र)ड डाउन्) = तेजी से पहाड़ के नीचे आये, canvas (कैनवस्) = मोटे कपड़े का, plateau (प्लैटो) = पठार, pockmarked (पॉकमाक्ट) = जगह-जगह निशान पड़ जाना, brakish (ब्रेक्शि ) = झाड़ियों से भरी हुई, salt flats (सॉल्ट फ्लैट्स) = नमक युक्त सपाट जमीन, vestiges (वेस्टिज्) = अवशेष, continental (कॉनटिनेन्ट्ल ) = महाद्वीपीय, collision (कलिशुन्) = टकराहट, shovels (शव्ल्ज ) = फावड़ियाँ, trudging (ट्रजिङ्) = थके हुए चल रहे थे, encrusted (एनक्रस्टेड) = पपड़ी जमे हुए, blindingly (ब्लाइन्डिड्लि ) = आँखों में चका वाली, succession (सक्सेशन्) = एक के बाद एक, spares (स्पेअ(र)स) = बचा हुआ, grim (निम्) = नीरस, गम्भीर, accumulated (अक्यूम्यलेट्ड) = एकत्रित, refuse (रेफ्यूस) = गंदगी, venerated (वेनेरेट्ड) = पूजनीय, cosmology (कॉमॉलजि) = विश्व चित्र, भूगोल, flanks (फ्लै क्स ) = किनारे, forge ahead (फॉज अहेड्) = आगे बढ़ना।

हिन्दी अनुवाद : दर की दूसरी तरफ से नीचे उतरते ही मेरा सिर-दर्द खत्म हो गया। जब हम दोपह भोजन के लिए ठहरे तब दो बज रहे थे। एक लम्बे केनवास के तंबू के नीचे हमने खाना खाया। यह तंबू एक सूखी नमक की झील के किनारे काम करने के लिए बनाये गये थे। पठार नमक की क्यारियों और झाड़ियों से भरे मैदानों से चिह्नित था। ये नमक की झीलें उस टेथिस समुद्र की अवशेष थीं जो महान् महाद्वीपीय टकराहट के पहले यहाँ मौजूद था और जो टकराहट के फलस्वरूप ऊपर की तरफ उठता चला गया। इस झील पर काफी सरगर्मी थी, बहुत से लोग फावड़े और कुल्हाड़े लेकर नमक की पपड़ी जमे जूते पहने इधर-उधर आ-जा रहे थे, भेड की खाल के कोट पहने हुए थे। धूप की चमक से बचने के लिए सभी ने धूप-चश्मे पहन रखे थे, जैसे ही आँखों को चकाचौंध कर देने वाली सफेद नमक की झील से नीले ट्रकों की लाइन निकल रही थी और उन सब में नमक के ढेर लगे थे। 1 तीसरे पहर के बाद हम होर नामक एक छोटे से कस्बे तक पहुँचे, यह मुख्य पूर्व-पश्चिम राजमार्ग के किनारे पर स्थित था जो ल्हासा से कश्मीर का प्राचीन व्यापारिक मार्ग था। डेनियल वापस ल्हासा जा रहा था

और उसे एक ट्रक में जगह मिल गई थी। जेतन और मैंने उसे टायर सुधारने की एक दुकान के सामने से विदा किया। नमक की झील से नीचे उतरते हुए हमारी कार के पहियों में दो बार पंक्चर हो गये थे। जेतन उन्हें जल्दी से ठीक करा लेने के लिए आतुर था क्योंकि अब कोई अतिरिक्त पहिया नहीं था। इसके अलावा जो दूसरा टायर उसने बदला था वह भी घिस कर मेरे गंजे सिर की तरह चिकना हो गया था।

होर एक नीरस दु:खी-सा स्थान था। यहाँ कोई वनस्पति नहीं थी, सिर्फ धूल और चट्टानें काफी मात्रा में फैली हुई थीं और वर्षों से इकट्ठी हुई गंदगी थी। यह दुर्भाग्यपूर्ण बात थी क्योंकि यह कस्बा मानसरोवर के किनारे पर था जो तिब्बत की सबसे पवित्र और सम्मानित झील थी। प्राचीन हिन्दू और बौद्ध भूगोल के अनुसार मानसरोवर झील से चार नदियाँ निकलती हैं—सिन्धु, गंगा, सतलुज और ब्रह्मपुत्र । वस्तुतः सिर्फ सतलुज ही मानसरोवर से निकलती है। हाँ, अन्य सभी नदियों के स्रोत भी कैलाश पर्वत के आसपास ही हैं। हम उस महान् पर्वत के काफी नजदीक आ पहुँचे थे और मैं आगे बढ़ने के लिए आतुर था।

But I had to wait……………………….still scared me. (Page 78)

कठिन शब्दार्थ : cafe (कैफे) = चाय-काफी की दुकान, compensate (कॉम्पेन्सेट्) = क्षतिपूर्ति करना, draught (ड्राफ्ट) = तेज हवा का झोंका, grease (ग्रीस्) = चिकनाई, rag (रैग्) = कपड़े का टुकड़ा, solitary confinement (सॉलष्ट्रि कन्फाइन्मन्ट) = एकान्तवास की सजा, stark contrast (स्टाक् कॉन्ट्रास्ट) = बिल्कुल विपरीत, accounts (एकाउन्ट्स) = वर्णन, encounter (इन्काउन्ट(र)) = मिलन, monk (मॉङ्क्) = संन्यासी, sanctity (सैङ्क्टटि) = पवित्रता, hallowed (हैलोड्) = पवित्र, Swede (स्वैड्) = स्वीडन का नागरिक, prone (प्रोन्) = आदत होना, sentimental (सेन्टिमन्ट्ल) = भावुकतापूर्ण, outburst (आउटबस्ट्) = तीव्र अभिव्यक्ति, turned out to be (टन्ड आउट टु बि) = साबित हुई, set off (सैट् आफ) = फिर शुरू हो गई, herbal (हब्ल) = जड़ी-बूटी से बनी, nostrils (नॉस्ट्रल्स) = नाक के छेद, नथुने, convinced (कन्विन्स्ट्) = निश्चित था, gasping (गास्पिङ्) = दम घुटने लगना, accustomed (अकस्टम्ड्) = आदी हो जाना, nocturnal (नॉक्टन्ल) = रात के समय होने वाले, scared (स्केअ(र)ड) = डराते थे।

हिन्दी अनुवाद : लेकिन मुझे इन्तजार करना पड़ा। जेतन ने मुझे होर कस्बे के एकमात्र केफे में चाय पीने के लिए कहा जो होर के अन्य सभी भवनों की तरह भद्दे रंग की कंक्रीट से बना था और उसमें तीन टूटी खिड़कियाँ थीं। एक खिड़की से मैंने झील को अच्छी तरह देखा जिसने सारी ठण्डी हवा के कष्ट की क्षतिपूर्ति कर दी।

मेरी सेवा के लिए एक फौजी वर्दी वाले चीनी युवक को भेजा गया जिसने मेरे लिए एक गिलास तथा चाय का थर्मस लाने से पहले एक मैले चिथड़े से मेरी मेज पर चिकनाई फैला दी। __ आधा घण्टे बाद जेतन ने मुझे इस एकान्तवास की जेल से निकाला और हम और अधिक चट्टानों और गंदगी से गुजरते हुए कस्बे से बाहर पश्चिम की ओर कैलाश पर्वत की तरफ बढ़ने लगे।

होर कस्बे के मेरे अनुभव उन पहले वाले यात्रियों के वर्णन से ठीक विपरीत थे जो मैंने मानसरोवर के बारे में पढ रखे थे। एकाई कावागची जो एक जापानी संन्यासी थे और यहाँ 1900 में आये थे. इस झील की पवित्रता से इतने अभिभूत हो गये थे कि वे अपने आँसू नहीं रोक पाये। कुछ वर्ष बाद इस पवित्र झील के पानी ने स्वेन हेडिन पर ठीक वैसा ही असर किया जो एक स्वीडन नागरिक थे और भावुकता प्रकट करने से दूर ही रहते थे।

जब हमने यह स्थान छोड़ा तो अँधेरा हो चुका था और रात्रि के 10.30 बजे के बाद हम डारशेन के एक अतिथि-गृह के बाहर एक और कष्टदायक रात बिताने के लिए आकर ठहरे। होर कस्बे की गंदगी के ढेरों में इधर-उधर विचरण करने के बाद खुली ठण्डी हवा के कारण मेरे जुकाम में तीव्रता आ गई थी और सच बात तो यह है कि उस जड़ी-बूटी वाली चाय से जुकाम मिटी ही नहीं थी। मेरी नाक का एक नथुना पूरी तरह बन्द हो गया और लेटते ही मुझे लगा कि दूसरे नथुने से पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल सकेगी। अपनी घड़ी से मुझे पता चला कि हम 4760 मीटर ऊँचाई पर थे। यह रावू की ऊँचाई से ज्यादा तो नहीं थी और वहाँ भी मैं रात भर ऑक्सीजन के लिए कई बार बेचैन हो गया था। इन रात को होने वाली परेशानियों का अब तक मैं आदी हो चुका था फिर भी मुझे इनका डर था।

Tired and hungry……………………..awake all night. (Pages 78-79)

कठिन शब्दार्थ : drifting off (ड्रिफ्टिङ् ऑफ्) = नींद आने वाली थी, abruptly (अब्रट्लि ) = अचानक, nasal (नेज्ल) = नाक के, सांस लेने के, instantly (इन्स्टन्टलि) = तुरन्त, curious (क्युअरिअस्) = अजीब बात, nod (नाड्) = नाद को झपका, emergency (इमजन्स) = सकटकालान, Sinuses (साइनस्ज) = नाक के दोनों तरफ के वायुमार्ग, propping (प्रोपिङ्) = सहारा लेना, relax (रिलैक्स्) = शिथिल होना, put my finger (पुट माइ फिङ्ग(र)) = पहचानना, समझ पाना।

हिन्दी अनुवाद : थका हुआ और भूखा, मैं अब मुँह से सांस लेने की कोशिश करने लगा। थोड़ी देर बाद में एक ही नथुने से सांस खींचने लगा जो ठीक-ठाक ऑक्सीजन दे रही थी लेकिन, जैसे ही मुझे नींद आने लगी मैं अचानक जाग गया। कुछ गड़बड़ थी। मेरी छाती भारी महसूस हो रही थी और मैं झट से बैठ गया। बैठ जाने से मेरे सांस लेने के बन्द रास्ते अचानक खुल गये और मेरे सीने में भी हल्कापन आ गया। मैंने सोचा, यह अजीब-सी बात है।

मैं फिर लेट गया और सांस लेने की कोशिश करने लगा। वही नतीजा। मैं नींद की गोद में पहुँचने ही वाला था कि अन्दर से आवाज आई कि सोना ठीक नहीं। हो सकता है कि फिर यह मस्तिष्क की कोई विद्युत धारा है, लेकिन यह पहले के अनुभवों से अलग थी। इस बार मैं सांस लेने के लिए व्याकुलता महसूस नहीं कर रहा था। बस मुझे नींद लेने की आशा नहीं थी।

तुरन्त ही मैं उठ बैठा और अच्छा महसूस करने लगा। अब मैं ठीक तरह से सांस ले सकता था और मेरा सीना भी हल्का था। लेकिन जैसे ही मैं लेटता मेरे साइनस भर जाते और छाती जकड़ जाती। मैंने दीवार के सहारे से सिर ऊँचा किया और बैठ गया लेकिन अब इस मुद्रा में मैं सो नहीं सकता था। मुझे कारण पता नहीं चला। फिर भी मुझे नींद लेने से डर लगने लगा। मेरे अन्दर से एक आवाज कह रही थी कि अगर मैं सो गया तो फिर कभी नहीं जाग पाऊँगा इसलिए मैं रातभर जागता रहा।

Tsetan took me to……….. ………………..not a dead man. (Page 79)

कठिन शब्दार्थ : monastery (मॉनस्ट्रि ) = मठ, जिसमें संन्यासी रहते हैं, courtyard (कॉट्याङ्) = भवन के अन्दर का चौक या अहाता, consulting room (कन्सल्टिङ् रूम्) = चिकित्सक का रोगियों को देखने का कमरा, paraphernalia (पैरफनेलिआ) = विभिन्न औजार और वस्तुएँ, shot me a few questions (शॉट मी अ फ् यू क्वेस्चन्) = कुछ प्रश्न पूछे, veins (वेन्स) = नसें, clutching (क्लचिङ्) = पकड़े हुए, stuffed (स्टफ्ड) = भरे हुए, screws (स्क्रूज) = पुड़िया, altitude (ऐल्टिट्यूड्) = ऊँचाई, contained (कन्टेन्ड) = इसमें रखा था, cinnamon (सिनमन्) = दालचीनी, contents (कन्टेन्ड) = सामान, identifiable (आइडेन्टिफाइअब्ल) = पहचानने के काबिल, spherical (स्फेरिक्ल) = गोल, pellets (पेलिट्स) = गोलियाँ, suspiciously (सस्पिशस्लि ) = सन्देह पैदा करते हुए, like a log (लाइक अ लाग्) = लकड़ी के लट्टे की तरह। ____

हिन्दी अनुवाद : अगली सुबह जेतन मुझे डार्सन मेडिकल कॉलेज में ले गया। डार्सन का मेडिकल कॉलेज नया था और बाहर से एक मठ की तरह दिखाई दे रहा था। एक मजबूत दरवाजा था जो एक विशाल अहाते तक पहुँचाता था। हम रोगी निरीक्षण कक्ष में पहुँचे जो ठण्डा और अँधेरा था और उसमें एक तिब्बती चिकित्सक बैठा था जो कोई भी ऐसे यन्त्र या औजार धारण किये हुए नहीं था जिनकी मुझे उम्मीद हो। कोई सफेद कोट नहीं था, वह सामान्य तिब्बती की तरह एक मोटा लबादा और ऊनी टोपी पहने हुए था। जब मैंने उसको अपनी निद्राहीनता के लक्षण तथा लेटने से अरुचि पैदा होने की बात बताई तो उसने मेरी कलाई की नब्ज देखते हुए मुझसे कुछ प्रश्न पूछे।

“यह सिर्फ सर्दी लगने का असर है” उसने जेतन से अन्त में कहा। “सर्दी और ऊँचाई का असर है। मैं इसके लिए, तुम्हें कुछ (दवाइयाँ) देता हूँ।”

मैंने उसको पूछा कि “क्या वह सोचता है कि मैं कम-से-कम इतना तो ठीक हो जाऊँगा कि यह कैलाश की यात्रा पूरी कर सकूँ।” उसने कहा “हाँ, तुम बिल्कुल ठीक हो जाओगे।” ___ एक भूरे से लिफाफे को हाथ में लिये मेडिकल कॉलेज से बाहर आया। इसमें पन्द्रह कागज की पुड़िया थीं। मेरे पास तिब्बती औषधियों का पाँच दिन का कोर्स था जो मैंने जल्दी से शुरू कर दिया। मैंने भोजन के बाद लेने की पुड़िया खोल कर देखी। इसमें भूरे रंग का पाउडर था जो मुझे गर्म पानी से लेना था। यह दालचीनी के स्वाद का था। दोपहर और रात को सोते समय लेने वाली दवाइयाँ इतनी आसानी से पहचान में

आने वाली नहीं थीं। उन दोनों में छोटी-छोटी गोल छर्रे जैसी गोलियाँ थीं। उन्हें देखते ही भेड़ की मेंगन सन्देह होता था। लेकिन मैंने उन्हें भी लिया। उस रात को दिनभर की पूरी दवाइयाँ लेने के बाद मैं गहरी नींद सोया। लकड़ी के लट्टे की तरह, मृत व्यक्ति की तरह नहीं।

Once he saw….. …………………pilgrims. (Page 80)

कठिन शब्दार्थ : matter (मैट(र)) = महत्त्व है, passed away (पास्ट अवे) = मृत्यु हो जाना, derelict (डेरलिक्ट) = उजड़ा हुआ, punctuated (पंक्चुएटेड) = जगह-जगह निशान होना, rubble (रब्ल) = कूड़ा-करकट, wisp (विस्प) = छोटा-सा टुकड़ा, suspended (सस्पेन्ड्ड) = लटका हुआ था, summit (समिट) = पर्वत शिखर, rudimentary (रूडिमेस्ट्रि ) = प्रारंभिक या साधारण, provisions (प्रोविजन्स) = उपयोगी सामान, strings (स्ट्रिङ्स) = झंड़ियों की मालाएँ, battered (बैटड्) = टूटी फूटी, incongruous (इन्कॉग्रुअस) = मेल न खाती हुई, brook (ब्रुक्) = झरना, babbled (ब्ल्ड) = बह रहा था, unhurried (अन्हरिड्) = शान्त, जल्दबाजी नहीं, drawback (ड्रॉबैक) = कमी।

हिन्दी अनुवाद : जेतन ने जब यह देखा कि मैं जीवित रहूँगा तो वह ल्हासा वापस चला गया। एक बौद्ध होने के कारण जेतन ने मुझसे कहा कि मेरा मर जाना महत्त्वपूर्ण घटना नहीं है। हाँ, लेकिन मेरी मृत्यु उसके व्यवसाय के लिए ठीक सिद्ध नहीं होती।

रात-भर अच्छी नींद लेने के बाद डार्सन नामक यह गाँव उतना बुरा नहीं लगा। वैसे तो यह अब भी धूल-भरा, उजड़ा हुआ-सा और गदगी के ढेरों से भरा हुआ था लेकिन साफ नीले आसमान में सूरज चमक था और मैदानों के उस पार दक्षिण की तरफ का दृश्य मुझे हिमालय की सुन्दरता से भर रहा था। वहाँ एक विशाल पर्वत गुरला-मान्धाता जिसके शिखरों पर बर्फ थी और चोटी पर एक छोटा-सा बादल लटका था मुझे दिखाई देने लगा।

कस्बे में कुछ छोटे-छोटे जनरल स्टोर्स थे जो चीनी, सिगरेट, साबुन और अन्य जरूरी सामान तथा साथ में छोटे-छोटे प्रार्थना के झण्डों की मालाएँ भी बेच रहे थे। एक दुकान के सामने अपराह्न में लोग पूल का खेल (बिलियर्ड जैसा खेल) खेलने के लिए इकट्ठे हो रहे थे, वह टूटी-फूटी टेबल उस खुली हवा में अटपटी सी लग रही थी जबकि मेरे अतिथि-गृह के पास बह रहे एक नाले के बर्फीले पानी में कुछ औरतें अपने लम्बे बाल धो रही थीं। डार्सन का यह कस्बा शान्त था, कोई जल्दबाजी यहाँ नहीं थी लेकिन मेरे हिसाब से इसमें एक बडी भारी कमी थी—यहाँ कोई तीर्थयात्री नहीं था।

I’d been told………………………………………..Silk Road today. (Pages 80-81)

कठिन शब्दार्थ : height (हाइट) = पूरी तेजी पर, bustling (बसलिङ्) = हलचलपूर्ण, accommodation (अकॉमडेश्न्) = रहने की जगह, settlement (सेट्ल्म न्ट) = बस्ती, edges (एजेज) = किनारे, spilled (स्पिल्ट) = तक फैला हुआ, pondering (पॉन्ड(रि)ङ्) = विचार कर रहा था, severely (सिविअ(र)लि) = पूरी तरह, सख्ती से, trail was well trodden (ट्रेल् वज् वेल् ट्रोड्न्) = योजना पर ठीक अमल किया गया, fancy (फैन्सि) = कल्पना, seasonal (सीजन्ल) = हमेशा नहीं, किसी मौसम में, chunks (चङ्क्स) = टुकड़े, clung (क्लङ्) = चिपके हुए थे, come across (कम एक्रोस) = मिला, cavernous (केव(र)न्स) = गुफा जैसा, wreathed (रीड) = लिपटे हुए थे, striped (स्ट्रिाइपट) = अलग-अलग रंगों की पट्टियाँ, stout (स्टाउट्) = मजबूत, voluminous (वलूमिनस्) = बड़े।

हिन्दी अनुवाद : मैंने सुना था कि यात्रा की तेजी के मौसम में पूरा कस्बा यात्रियों से भर जाता है। बहुत से लोग अपनी रहने की व्यवस्था साथ में ही लाते हैं। वे यात्रियों की बस्ती के किनारे अपने तम्बू तान कर बस्ती को इतना बड़ा कर देते हैं कि वह मैदानों तक फैल जाती है। मैंने यात्रा के मौसम की शुरुआत में ही यहाँ पहँचने की योजना बनाई थी लेकिन अब लगा कि मैं जरा जल्दी ही आ गया।

_एक दिन अपराह्न मैं डार्सन के उस एकमात्र कैफे में बैठा चाय पीता हुआ अपने सामने की सम्भावनाओं पर विचार कर रहा था। मैं इस निष्कर्ष पर आया कि मेरे विकल्प बहुत कम थे। साफ था कि सकारात्मक विचार करने की दिशा में मैं ज्यादा प्रगति नहीं कर पाया था।

अपने बचाव में, मैं यही कह सकता हूँ कि मेरी अनिद्रा की शिकायत पूरी तरह खत्म नहीं हुई थी लेकिन कोई उपाय नहीं था और मैं सिर्फ इन्तजार ही कर सकता था। यात्रा की मेरी योजना ठीक चली लेकिन मैंने यह नहीं सोचा था कि यात्रा अकेले ही करनी पड़ेगी। कोरा नामक यह यात्रा मौसमी थी क्योंकि रास्ते बर्फ से रुक जाया करते थे। मुझे मालूम नहीं था कि बर्फ पिघल चुकी है या नहीं लेकिन डार्सन के उस झरने के किनारों पर चिपकी बर्फ को देख कर मेरी हिम्मत कम हो गई। जेतन के चले जाने के बाद डार्सन में मझे कोई ऐसा आदमी नहीं मिला जो इतनी भी अंग्रेजी जानता हो कि मेरे छोटे-छोटे सवालों का भी जवाब दे सके।

तब तक, जब मैं नोरबू से मिला। कैफे छोटा-सा अँधेरा और गुफा जैसा था। बीच में खाना पकाने का स्टोव (चूल्हा) था। दीवारें और छत बहुरंगी (विविध रंगों जैसे नीला, लाल, सफेद) पट्टियों के प्लास्टिक से लिपटी हुई थीं। इसी प्लास्टिक से मजबूत और बड़े-बड़े थैले बनाये जाते हैं जो पूरे चीन में बिकते हैं और एशिया तथा यरोप के देशों में भी खरीदे जाते हैं। यह सब देखते हुए तो रेशम मार्गों से चीन द्वारा आजकल निर्यात होने वाली मुख्य चीज है-प्लास्टिक।

The Cafe had a………. …………….it himself. (Page 81)

कठिन शब्दार्थ : enquired (इन्क्वाइ(र)ड) = पूछा, conversation (कान्वसेशन्) = बातचीत, windcheater (विन्ड्चीट्(र)) = पतले प्लास्टिक का कोट, Ethnic (एनिक्) = नृजातीय, assumed (अस्यूम्ड) = अनुमान लगाया, academic (ऐकडेमिक्) = शैक्षणिक, rickety (रिकटि) = कमजोर, पुरानी।

हिन्दी अनुवाद : केफे में एक ही खिड़की थी जिसके पास मैं बैठ गया ताकि मैं अपनी डायरी के पृष्ठ पढ सक। मैं साथ में एक उपन्यास भी समय बिताने के लिए ले आया था।

नोरबू ने अन्दर आते समय मेरी पुस्तक देख ली थी और इशारे से पूछा था कि क्या वह मेरी उस जीर्ण शीर्ण टेबल पर मेरे सामने बैठ सकता है। “क्या आप अंग्रेज हैं?” उसने चाय का आर्डर देने के बाद पूछा। मैंने उससे ‘हाँ’ कहा और इस तरह हमारी बातचीत शुरू हो गई।

_मैं समझ रहा था कि वह इस इलाके का रहने वाला नहीं है क्योंकि वह पतले प्लास्टिक की जैकिट और पश्चिमी ढंग का धातु के फ्रेम वाला चश्मा पहने हुए था। उसने कहा कि वह तिब्बती ही है लेकिन वह बीजिंग (पेकिंग) में नृजातीय साहित्य संस्था की समाज विज्ञान चीनी अकादमी में काम करता है। मेरा अनुमान था कि वह अकादमी के किसी कार्यक्रम में आया होगा।

“हाँ, और नहीं” उसने कहा, “मैं कैलाश की धार्मिक यात्रा (कोरा) करने आया हूँ । मेरा दिल खुशी से उछलने लगा। उसने मुझसे कहा कि वह (नोरबू) कैलाश यात्रा के बारे में और बौद्ध साहित्य में इसके महत्त्व पर बहुत से वर्षों से कुछ शोधपत्र लिखता रहा है लेकिन उसने खुद ने कभी कैलाश यात्रा नहीं की

थी।”

When the time… ………………………….was too big. (Page 81)

कठिन शब्दार्थ : lit up (लिट् अप्) = चमक उठी, academics (ऐकमिक्स) = विद्वान, initial (इनिशुल) = प्रारम्भिक, tempered (टेम्प(र)ड) = कम होना, शान्त होना, ill-equipped (इल इक्विप्ड) = तैयार नहीं था, practising (प्रैक्टिसिङ्) = धर्म का पालन करने वाला, transpired (ट्रेन्स्पाइअ(र)ड) = पता चला, enthusiasm (इन्थ्यूजिऐजम्) = उत्साह, envisaged (इन्विजिज्ड) = कल्पना की थी, making the trek (मेकिङ् द, ट्रेक्) = यात्रा करना, devout (डिवाउट) = श्रद्धालु, believers (बिलीव(र)स) = भक्त, अनुयायी, ideal (आइडीअल्) = आदर्श, yaks (यैक्) = तिब्बत का बैल जैसा पशु, prostrating (प्रास्ट्रेटिङ्) = साष्टांग दण्डवत् करना, जमीन पर लेटना, collapsing (कलैप्सिङ्) = गिरते हुए, hysterical (हिस्टेरिक्ल) = अनियन्त्रित, tummy (टमि) = तोंद।।

हिन्दी अनुवाद : समय आने पर जब मैंने उससे कहा कि मैं डार्सन में क्यों आया हूँ तो वह खुश हो गया। “हम मिलकर यात्रा करेंगे” उसने उत्तेजित होकर कहा। “हम पुस्तकालय से भागे हुए दो विद्वान हैं।” अब शायद मेरा सकारात्मक चिन्तन सफल हो रहा था।

जी नोरबू, जो उसी अतिथि-गृह में ठहरा हुआ था, से मिलकर मुझे जो राहत मिली थी वह यह जानकर कम हो गई कि वह भी मेरी तरह इस यात्रा को विधिवत् पूरा करने के योग्य नहीं था। वह मुझे कहता रहा कि वह बहुत मोटा है और यह यात्रा कठिन होगी। “इतनी ऊँचाई पर चढ़ना बहुत ही थकान-भरा होगा” वह मुझे

बार-बार कहता रहा। वह असल में धर्म-पालन करने वाला बौद्ध नहीं था, यह भी पता चला। हाँ, लेकिन वह उत्साही था और तिब्बती तो था ही। जो

यद्यपि मैंने शुरू से ही यह कल्पना की थी कि मेरी यात्रा श्रद्धालु भक्तों के साथ ही होगी लेकिन कुछ सोचने के बाद मैंने फैसला किया कि शायद नोरबू ही मेरे लिए आदर्श सहयात्री रहेगा। नोरबू ने सुझाव दिया कि हमारा सामान ढोने के लिए हमें याक (एक जानवर जो पहाड़ों पर बोझा ढोता है) किराये पर ले लेना चाहिए। मैंने इस बात को एक अच्छा लक्षण समझा। यात्रा के दौरान पूरे पहाड़ की चढ़ाई तक अन्य लोगों की तरह लेट-लेट कर (दण्डवत् करते हुए) चढ़ने का भी उसका कोई इरादा नहीं था। तेज हँसी के साथ लोटपोट होते हुए उसने कहा “यह सम्भव नहीं है।” ऐसा करना उसके लिए स्वाभाविक नहीं था और वैसे भी उसकी तोंद इस काम के लिए ज्यादा ही बड़ी थी।