4 The Tale of the Bishnois [बिश्नोइयों की कहानी]

-Madhav Dhananjay Gadgil

लेखक परिचय : – माधव धनंजय गाडगिल (जन्म 1942) एक भारतीय पारिस्थितिकी विज्ञानी, शिक्षाविद्, लेखक, स्तम्भकार तथा पारिस्थितिकी विज्ञान केन्द्र के संस्थापक हैं। आपने वोल्वो पर्यावरण पुरस्कार प्राप्त किया है। भारत. सरकार ने चौथा उच्चतम नागरिक अलंकरण पद्मश्री 1981 में तथा 2006 में इनको पद्मभूषण भी दिया था।

पाठ-परिचय: यह कहानी बिश्नोई समुदाय के बारे में है जो राजस्थान के मारवाड़ क्षेत्र की पारिस्थितिकी में अभूतपूर्व परिवर्तन लाये थे। यह क्षेत्र शताब्दियों से अत्यधिक शुष्क रहा था, यहाँ वृक्ष व पशु पर्याप्त संख्या में नहीं थे। | बिश्नोइयों ने खेजड़ी वृक्षों की रक्षा के लिए अपने प्राणों का बलिदान किया तथा इस क्षेत्र में अत्यधिक पौधारोपण किया। पक्षियों व जानवरों की रक्षा के लिए उन्होंने अत्यधिक योगदान दिया।

कठिन शब्दार्थ एवं हिन्दी अनुवाद

Today Marwar……………..tribal Bhils. (Page 44)

कठिन शब्दार्थ-treeless (ट्रीलॅस) = वन-विहीन। rock (रॉक) = चट्टान। thorny (थॉनि) = कांटेदार। shrub (श्ब) = झाड़ी । tuft (टफ्ट) = गुच्छा । stunted (स्टंटिड) = अर्द्धविकसित, आधे उगे हए। incredibly (इन्क्रेड्अब्लि ) = अविश्वसनीय रूप से। grove (ग्रोव) = कुंज, बड़ी संख्या में वृक्ष।

in of the babul (कज्न ऑव दा बबूल) = बबूल की जाति का। Kalpavriksha = कल्पवृक्ष। ciesta (सिएस्टा) = नींद लेना, दोपहर का आराम करना । shade (शेड) = छाया। foliage (फउलिज) = पत्तियाँ व शाखाएँ। pod (पॉड) = फली। delicious (डिलिशस) = स्वादिष्ट । guard (गाड) = रक्षा करते हैं। marauding (मरोडिंग) = आवारा, उजाड़ने वाले।

Territory (टेरिटरी) = क्षेत्र । thousands over thousands (थाउजन्ड्ज अउवर थाउजन्ड्ज) .. = हजारों। plenty (प्लेन्टि) = बहुतायत। plain (प्लेन) = मैदान। antelope (एन्टिलोप) = बारहसिंगा।

blackbuck (ब्लैक-बक) = काला हिरण। chinkara (चिंकारा) = चिंकारा। nilgai = नीलगाय । bounty (बाउन्टि) = विपुलता, बड़ी मात्रा में। tribal (ट्राइबल) = आदिवासी। Bhil = भील। –

हिन्दी अनुवाद : आज मारवाड़ रेत और चटटानों की वृक्षविहीन बंजर भूमि है। यहाँ उगने वाली चीजों में काँटेदार झाड़ियाँ, छोटी-मोटी घास के गुच्छे और संयोगवश अर्द्धविकसित बेर अथवा बबूल के वृक्ष हैं । किन्तु तुम्हें अविश्वसनीय रूप से इस रेगिस्तान में भी पूर्ण रूप से बढ़े हुए खेजड़ी के वृक्षों के कुंजों वाला एकमात्र गाँव मिल सकता है । बबूल की जाति का यह वृक्ष (खेजड़ी का वृक्ष) ‘कल्पवृक्ष’ सभी प्रकार की इच्छाओं को पूरा करने वाला है। एक पूर्ण वयस्क ऊँट इसकी छाया में दोपहर में आराम कर सकता है, इसकी पत्तियाँ और टहनियाँ, बकरी, भेड़, गाय-बैलों और ऊँट को पोषण प्रदान करती हैं, इसकी (खेजड़ी की) फली से स्वादिष्ट कढ़ी बनाई जा सकती है और इसके काँटे किसानों के खेतों की, उन्हें उजाड़ने वाले पशुओं से, रक्षा करते हैं।

किसी समय मारवाड़ का रेगिस्तान, इतने विशाल क्षेत्र में फैला हुआ नहीं था जितना कि आज उसके प्रभाव में है। यद्यपि उस समय की जलवायु भी वैसी ही थी, जैसी कि आज है, भूमि हजारों-हजारों खेजड़ी के वृक्षों से ढकी हुई थी और बेर, कैर और सांगरी के वृक्ष प्रचुर मात्रा में थे। ये मैदान हजारों बारहसिंगों, काले हिरणों, चिंकारा और नीलगायों के रहने के स्थान थे और इस विपुलता के क्षेत्र में आदिवासी भील रहते थे।

About three thousand……………….the whole of Marwar. – (Page 44)

कठिन शब्दार्थ-hordes (हॉड्ज) = बड़ी संख्या में। cattle keepers (कैटल कीपॅज) = पशुपालक । began to pour (बिगैन टु पो(र)) = आने लगे। spread (स्प्रेड) = फैल गये। resisted (रिजिस्टिड) = प्रतिरोध किया। encroachment (इनक्रोचमॅन्ट) = अतिक्रमण । invaders (इनवेइडेंज) = आक्रमणकारी। superior (सपिअरिअ) = अधिक अच्छे। weapon (वेपॅन) = हथियार। pretty soon (प्रिटि सून) = शीघ्र ही। boundless (बाउन्डलॅस) = असीमित। retreat (रिट्रीट) = पीछे हट गये।

Centuries (सेनचॅरिज) = शताब्दियाँ। affect (अफेक्ट) = प्रभाव डालना। vegetation (वेजटेशन) = वनस्पति । seedling (सीडलिंग) = अंकुरित पौधा । sapling (सैप्लिंग) = छोटा पौधा। grazed (ग्रेज्ड) = चर लिए गये । sustain (सस्टेन) = अस्तित्व बनाए रखना। conquest (कॉन्क्वे स्ट) = विजय। ruled (रूल्ड) = शासन करते थे।

हिन्दी अनुवाद : लगभग तीन हजार वर्ष पहले, पश्चिम एशिया तथा मध्य एशिया से बड़ी संख्या में पशुपालक भारत में आने लगे। उनमें से कुछ मारवाड़ में फैल गये। भीलों ने उनके अतिक्रमण का प्रतिरोध ।।

था किन्तु आक्रमणकारियों के पास घोड़े एवं श्रेष्ठ हथियार थे, और शीघ्र ही उन्होंने भीलों पर काब पा . लिया। फिर भी, भूमि असीमित प्रतीत होती थी और भील लोग अरावली पर्वत की ओर कुछ पीछे हट गये। मारवाड़ की जनसंख्या में वृद्धि हो रही थी।

किन्तु ज्यों-ज्यों शताब्दियाँ व्यतीत होती गईं, पशुओं के बड़े समूह, वनस्पति को प्रभावित करने लोग अंकुरित पौधे और छोटे पौधे (पशुओं द्वारा) चर लिये गये और उनके उगने की नगण्य सम्भावना आक्रमणकारियों तथा जनजातीय भीलों को अपना अस्तित्व बनाए रखना कठिन प्रतीत होने लगा। अन्त में तेरहवीं शताब्दी (ईसा के पश्चात्) ने कन्नौज के राठौड़ों द्वारा भीलों पर अन्तिम विजय देखी। अब साप मारवाड़ पर राजपूतों का शासन हो गया।

In the year 1451 A.D……………………eight consecutive years. (Pages 44-45)

कठिन शब्दार्थ-reign (रेन) = शासन। headman (हेडमैन) = मुखिया। task (टास्क) = काम। fun (फन) = आनन्द। lie (लाइ) = लेटना। fascinate (फैसिनेट) = ललचाना, मोहित होना। lithe (लाइद) = शान से चलना। enthralling (इनथ्रॉलिंग) = सुन्दर। stag (स्टैग) = नर हिरण।

Disaster (डिजास्टॅ(र)) = कष्ट, आपदा । ceased (सीज्ड) = रुक गई। sufferer (सफॅर(र)) = पीड़ित। drought (ड्राउट) = सूखा । stored (स्टोड) = एकत्रित की गई। blade of grass = घास का तिनका। hacked (हैक्ट) = काटा। fed (फेड) = खिलाते थे। browse (ब्राउज) = चारा। consecutive (कॅनसेक्युटिव) = क्रमागत, लगातार।।

हिन्दी अनुवाद : सन् 1451 में, राव जोधाजी—जो सबसे वीर राठौड़ राजाओं में से एक थे—के शासनकाल में, पीपासर गाँव में एक असाधारण बच्चे का जन्म हुआ। उसके पिता सरदार ठाकुर लोहट और उसकी माता हंसादेवी थी। लड़के को जाम्बाजी पुकारा जाता। जब वह छोटा था तो उसे अपने पिता के मवेशी तथा भेड़ों के बड़े झुण्ड को चराने का काम दिया गया। पशुओं को चराने के लिए ले जाना, खेजड़ी के वृक्ष की छाया में लेटना और काले हिरणों के झुण्डों को देखना बहुत आनन्ददायक था। इस तेज चलने वाले पशु (हिरण) की शानदार चाल जाम्बाजी को अत्यन्त रुचिकर लगती थी और सोचता था कि दो वयस्क बारहसिंगों की लड़ाई के दृश्य से अधिक सुन्दर कोई दूसरा दृश्य नहीं था।

जब जाम्बाजी पच्चीस वर्ष के हो गये तो पूरे क्षेत्र में एक बड़ी आपदा आई। अल्प मात्रा में वर्षा जो नियमित रूप से आया करती थी, वह बिल्कुल ही बंद हो गई (अर्थात् वर्षा बिल्कुल ही नहीं हुई)। सबसे अधिक कष्ट पशुओं को हुआ। सूखे के प्रथम वर्ष में, वे-घर में रखे हुए बाजरे के भूसे को खाते थे। दूसरा वर्ष बहुत खराब था। कहीं पर भी घास का एक तिनका भी नहीं दिखाई देता था। कोई भी वृक्ष, जो लोगों को मिलता था, काट देते थे और उसकी पत्तियाँ पशुओं को खिलाते थे किन्तु फिर भी समस्त भूखे पशुओं के लिये पर्याप्त चारा नहीं मिलता था। और यह सूखा लगातार आठ वर्षों तक रहा।

The people had……………………………….the difficult times. . (Page 45)

कठिन शब्दार्थ-grain (ग्रेन) = अनाज। exhausted (इग्जॉस्टिड) = समाप्त हो गया। pod (पॉड) = फली। flour (फ्लाउअः) = आटा। bark (बाक) = पेड़ की छाल। hunted (हन्टिड) = शिकार किया। abandon (अबैन्डन) = छोड़ देना। migrate (माइग्रेट) = पलायन करना। in masses (इन मासिज) = बड़ी मात्रा में। perished (पेरिश्ट) = नष्ट हो गये, मर गये। barren (बैरॅन) = बंजर।

d on = रुके रहे। landlord (लैंडलॉड) = जमींदार। huge (ह्यूज) = विशाल।

हिन्दी अनुवाद : लोग समस्त पेड़ों की पत्तियों एवं शाखाओं के अन्तिम टुकड़ों तक को काटते रहे, जो कि अन्त में सूखने लगे। जब एकत्रित किया हुआ अनाज समाप्त हो गया तो लोग खेजडी की फलियों तथा सूखे हुए बेर के बीज (गुठली) के आटे को खाने लगे। जब यह भी समाप्त हो गया तो लोगों ने सांगरी के वक्षों की छाल उतारी, इसको पीसकर आटा बनाया और इसे पकाया। उन्होंने प्रत्येक भखे मरते काले हिरन का शिकार किया और अन्त में उन्होंने सभी आशायें छोड़ दी और बड़ी मात्रा में पलायन किया। मार्ग में हजारों पशओं की मत्य हो गई। इस समय तक पूरा प्रदेश बंजर हो चुका था। अनेक मीलों तक एक भी वक्ष, एक भी गाय और एक भी काला हिरण दिखाई नहीं देता था। केवल ऐसे ही बड़े व्यक्ति वहाँ रुके रहे जो बडे जमींदार थे, जैसे जाम्बाजी के पिता, जिनके पास बाजर के बड़े भण्डार थे जो कि कठिन समय में जैसे-तैसे चल पाया।

Jambaji was much……………its green cover. (Pages 45-40)

कठिन शब्दार्थ-affected (अफेक्टिड) = प्रभावित हुआ। drought (ड्राउट) = सूखा । wakefulness (वेकफलनस) = जागते हुए। suffering (सफरिंग) = कष्ट। haunted (हॉन्टिड) = दिमाक. में आते थे। vision (विजन) = दिव्य-दृष्टि। intoxicated (इन-टॉक्सिकेटिड) = नशे में। के (फ्लरिश) = फलना-फूलना। desolate (डेसॅलिट) = सूनी। tenet (टेनिट) = सिद्धान्त । बिलीफ) = यहाँ अर्थ है-धर्म। abundance (अबन्डॅन्स) = बहुतायत। frolic (फ्रॉलिक) = से खेलना। broadcast (बाडकास्ट) = प्रसारित करना । message (मेसिज) = सन्देश | include दिनक्लड) = सम्मिलित होना । basic (बीसक) = मूलभूत। commandment (कमान्डमॅन्ट) = धार्मिक देश। prohibition (प्राहाबशन) = निषध । humanity (ह्यूमैनंटि)= मानवता । living being (लिविंग बीइंग) – जीव। eagerly (ईगरलि) = उत्सुकता से, जोश से। teachings (टीचिंग्ज) = शिक्षाएँ। inted (प्रॉम्पटिड) = उत्साहित किया। inhabitant (इनहैबिटन्ट) = निवासी। reclothe (रिक्लोद) – पनः वस्त्र पहनाना, यहा अर्थ है, पुनः वृक्ष लगाकर हरा-भरा करना।

हिन्दी अनुवाद : इस सूखे से जाम्बाजी बहुत प्रभावित हुए। उन्होंने अनेक रातें जागकर बिताईं (अर्थात् उन्हें नींद नहीं आई) क्योंकि उन्होंने अपने चारों ओर (लोगों के) कष्ट देखे। मरते हुए पशु, भूख से तड़पते बच्चे उनके दिमाग में दिन-रात आते थे। और अन्त में चौंतीस वर्ष की आयु में उन्हें दिव्य-दृष्टि दिखाई दी। उन्होंने मनष्य को अपनी शक्ति के मद में, अपने चारों ओर के संसार को नष्ट करते हुए देखा। और उन्होंने इन .. सबको बदलने का निश्चय किया। यदि जीवन को इस सूनी भूमि पर पुनः फलना-फूलना है, तो जाम्बाजी ने देखा कि मनुष्य को भिन्न तरीके से और विभिन्न सिद्धान्तों और विश्वास (धर्म) के अनुसार रहना पड़ेगा। जाम्बाजी चाहते थे कि पृथ्वी एक बार फिर बहुत सारे खेजड़ी, बेर, कैर और सांगरी के वृक्षों से ढक जाये, वह चाहते थे कि काले हिरणों के समूह पुनः खुशी से इधर-उधर खेलें, और वह चाहते थे कि मनुष्य इसके लिये कार्य करें। जाम्बाजी को यह प्राप्त करने का मार्ग ज्ञात था, और उन्होंने सन् 1485 में अपने सन्देश को प्रसारित करना आरम्भ कर दिया।

उनके सन्देश में उनतीस आधारभूत सिद्धान्त (शिक्षाएँ) सम्मिलित थे। इसके दो महान् धार्मिक आदेश—किसी भी हरे वृक्ष को काटने का निषेध, और किसी भी पशु की हत्या करने का निषेध-थे। मानवता . तथा सभी जीवों का सम्मान करने का, जाम्बाजी का सन्देश, (लोगों द्वारा) बहुत उत्साह से स्वीकार किया गया। पृथ्वी को हरे वस्त्रों के आवरण से ढकने (अर्थात् बड़ी संख्या में हरे वृक्ष लगाने) की उनकी शिक्षा ने सैकड़ों गाँवों के निवासियों को उत्साहित किया।

Jambaji’s followers………….need a lot of fuel. (Page 46)

कठिन शब्दार्थ-followers (फॉलोअर्ज) = अनुयायी । adhered to (अड्हिअ(र)टु) = पालन करना। precept (प्रासेप्ट) = उपदेश । preserve (प्रिजेंव) = बनाए रखा। protect (प्रंटेक्ट) = रक्षा करना, बचाना। pralowl (पा-फाउल) = मोर। gradually (ग्रैजुअलि) = धीरे-धीरे। territory (टेरिटरि) = क्षेत्र। browse (ब्राउज)= चारा | fertility (फॅटिलटि) = उपजाऊपन। prosperous (प्रॉस्परस) = समृद्ध। descendant (डिसेन्डेन्ट) = अधिकार कर लिया। construct (कंसट्रक्ट) = निर्माण करना । lime (लाइम) = चूना। contemporary (कॅन्टेमपररि) = समकालीन। cured (क्युअड) = पकाना। kilns (किल्ल्ज) = भट्टे। fuel (फ्युअल) = ईंधन।

हिन्दी अनुवाद : जाम्बाजी के अनुयायी बिश्नोई अथवा ‘उन्तीसे’ (bis = बीस, noi = नौ) कहलाए

क्योकि उन्होंने जाम्बाजी के उन्तीस उपदेशों का पालन किया। उन्होंने अपने गाँवों के चारों ओर के वृक्षों को सुरक्षित रखा तथा काले हिरणों, चिंकारों, मोर तथा अन्य पक्षियों और पशुओं की सुरक्षा की। धीरे-धीरे उनके क्षेत्र, वृक्षों, से ढक गये, उनके पशुओं के लिये बहुत चारा था और उनकी भूमि ने पुनः उपजाऊपन प्राप्त कर लिया और बिश्नोई समृद्ध लोग हो गये। .

किन्तु उनके के क्षेत्र बाहर, सब कुछ पहले की तरह चलता रहा। भूमि पर से हरी पट्टी हट गई (अर्थात्

पेड़ काट डाले ) और रेगिस्तान फैल रहा था। जाम्बाजी के समकालीन राव जोधाजी का नवां वंशज अब ‘जोधपुर की राजगद्दी पर बैठा (अर्थात् राजा हुआ)।

अपने शासन के छठे वर्ष सन् 1730 में इस महाराजा अभयसिंह ने स्वयं के लिए एक महल का निर्माण करवाने का निश्चय.किया-जोधपुर के प्रसिद्ध लाल पत्थरों का एक सुन्दर महल । इसके लिए बहुत बड़ी मात्रा में चुने की आवश्यकता होगी। इस क्षेत्र में, निःसन्देह, चूने का पत्थर प्रचुरता से है, किन्तु इसे पकाना था और लय बहुत अधिक मात्रा में ईंधन की आवश्यकता थी।

It was not an……………………that the trees be cut. (Page 46)

कठिन शब्दार्थ-settlement (सेटलमन्ट) = बस्ती। nursed (नॅस्ट) = पोषण करते थे excellent (एक्सॅलॅन्ट) = सर्वश्रेष्ठ। construction ( कनस्ट्रक्शन) = निर्माण। violation (वाइअलेशन) |= उल्लंघन। enraged (इनरेज्ड)= क्रोधित हो गया। insolence (इनसलन्स) = धृष्टता। personally, (पॅसनलि) = व्यक्तिगत रूप से। accompanied (अकम्पनिड) = साथ गया।

हिन्दी अनवाद : रेगिस्तान में इतना अधिक ईंधन प्राप्त करना सरल कार्य नहीं था। किन्तु जैसा कि भाग्य में था, जोधपुर से केवल सोलह मील की दूरी पर, बिश्नोइयों की एक बड़ी बस्ती थी। इन लोगों ने जाम्बाजी के उपदेशों को ढाई सौ वर्ष पहले स्वीकार कर लिया था और अपने गाँवों के निकट खेजड़ी के सैकड़ों वक्षों का पोषण किया था। और उनके गांवों के एक गाँव खेजड़ली के निकट श्रेष्ठ किस्म का चूने का पत्थर भी था। अभयसिंह के दीवान ने आदेश दिया कि राजमहल का निर्माण आरम्भ करने के लिये खेजड़ली गाँव के निकट | चूने के भट्टे आरम्भ कर दिये जायें।

किन्तु जब श्रमिक ईंधन के लिये वृक्ष काटने को तैयार हुए तो उन्हें ज्ञात हुआ कि बिश्नोई पेड़ों को छूने भी नहीं देंगे। उनके खेजड़ी के वृक्षों को वैसा ही छोड़ दिया जाये क्योंकि इन हरे वृक्षों को काटना, उनके धर्म का उल्लंघन होगा। श्रमिक जोधपुर लौट गये। दीवान बहुत क्रोधित हुआ। यह क्या धृष्टता है! वह (दीवान) घोड़े पर बैठकर स्वयं श्रमिकों के साथ खेजड़ली गाँव गया और आदेश दिया कि वृक्ष काट दिये जायें। ।

The axes were……………their sacred heritage. (Pages 46-47)

कठिन शब्दार्थ-axe (एक्स) = कुल्हाड़ी। desecrate (डेसिक्रेट) = दूषित करना। pleaded (प्लीडिड) = प्रार्थना की। ancestors (एनसेस्टॅज) = पूर्वज। nurture (नॅचें(र)) = पालन-पोषण करना । veritable (वेरिटॅबल) = वास्तविक। incarnation (इनकानेशन) = रूप अवतार । clasp (क्लास्प) = चिपट जाना। fume (फ्यूम) = क्रोध करना । cow (काउ) = डरना । hug (हग) = चिपटना । massacre (मैसॅकर) = नरसंहार । rapidly (रैपिडलि) = तेज़ी से । surrounding (सराउन्डिंग) = आस-पास के। sacrificed (सैक्रिफाइस्ट) = बलिदान किया। sacred (सेक्रिड) = पवित्र । heritage (हेरिटिज) =परिपाटी।

हिन्दी अनुवाद : कुल्हाड़ियाँ (वृक्ष काटने के लिए) उठाई गईं और सम्पूर्ण गाँव एकत्रित हो गया। उन्होंने प्रार्थना की कि उनके धर्म को दूषित मत करो। उन्होंने वृक्षों को, जिन्हें उनके पूर्वजों ने कई पीढ़ियों से पोषण किया है, वचाए रखने की प्रार्थना की। किन्तु दीवान ने दृढ़ निश्चय कर लिया था : चूने के भट्टों के ईंधन के लिए वृक्षों को काटा जायेगा। उसने श्रमिकों को कार्य चालू करने के लिए आदेश दिया। किन्तु बिश्नोइयों ने भी दृढ़ निश्चय कर लिया था, और उनमें सबसे अधिक पक्का निश्चय करने वाली दुर्गा (देवी माता) का वास्तविक रूप-अमृतादेवी थी, जो रामखोड बिश्नोई की पत्नी थी। वृक्ष कभी भी नहीं काटे जायेंगे जब तक कि तुम सर्वप्रथम हम सबको नहीं काट डालो, उसने कहा, और उसने अपनी तीनों पुत्रियों को साथ देने के लिए बुलाया, व चार वृक्षों से चिपट गईं। दीवान को क्रोध आया और आदेश दिया कि इन चारों को वृक्षों के साथ काट दिया जाये। कुल्हाड़ियाँ उन पर चलीं और वीर स्त्रियों के टुकड़े-टुकड़े कर दिये गये। किन्तु बिश्नोई भा डरन वाले नहीं थे। उनमें से और अधिक लोग वृक्षों से चिपटने और उनके साथ काटे जाने के लिए आगे आये। इस नरसंहार का समाचार तेजी से फैल गया और आस-पास के चौरासी गाँवों से हजारों बिश्नोई अपने बहादुर भाइयों और बहिनों की सहायता के लिये तेजी से आये। अपनी पवित्र विरासत की रक्षा करने के लिये कुल 363 विश्नोइयों ने अपना जीवन बलिदान किया।

The Maharajah’s men……………….in their vicinity (Page 47)

कठिन शब्दार्थ-such a pass = ऐसी स्थिति में। happenings (हैपनिंग्ज) = घटनाओं। might (माइट) = शक्ति । challenged (चलिन्ज्ड ) = चुनौती दी। moral courage (मॉरल करिज) = नैतिक साहस। in the face of = के सामने । mend (मेन्ड) = सुधारना। assured (अशॉ(र)ड) = विश्वास दिलाया। agonised (ऐगॅनाइज्ड) = पीड़ित। copper plate (कॉपॅ(र) प्लेट) = ताम्र पत्र । inscribed (इस्क्राइब्ड) = खुदवा दिया। henceforth (हेन्स्फाथ्) = आगे से। vicinity (विसिनॅटि) = पास-पड़ोस क्षेत्र, निकट।

हिन्दी अनुवाद : महाराजा के आदमी, जिन्होंने यह कल्पना कभी भी नहीं की थी कि स्थिति ऐसी हो

तविक रूप से डर गये। वे अभयसिंह के पास, घटनाओं की रिपोर्ट देने के लिए, तेजी से जोधपुर । सिंह ने यह स्पष्ट रूप से देखा कि वह शक्ति, जिसने औरंगजेब (बादशाह) की शक्ति को पर्वक चुनौती दी थी, ऐसे नैतिक साहस के सामने कुछ नहीं कर सकी थी। वह घोड़े पर सवार होकर, को सुधारने के लिए, स्वयं खेजड़ली गाँव गया। उसने रोते हुए और पीड़ित हजारों बिश्नोइयों को विश्वास दिलाया कि अब से वह उनके धार्मिक सिद्धान्तों का पूर्ण रूप से सम्मान करेगा। उसने एक ताम्र पत्र इस वचन को खुदवा कर बिश्नोइयों को भेंट किया। (ताँबे की पट्टी पर) यह खुदा हुआ था कि भविष्य में विशनोइयों के गाँव के निकट न तो कभी भी कोई हरा वृक्ष काटा जायेगा और न ही कभी पशुओं का शिकार किया जायेगा।

Two and a half…………….the corrupt present. (Page 47)

कठिन शब्दार्थ-episode (एपिसोड) = घटना। succour (सक (र)) = सहायता। ravage(रेविज) = नष्ट कर दिया। subcontinent (सॅब-कॉन्टिनॅन्ट) = उपमहाद्वीप। accelerating pace. क्सिलरेटिंग पेस) = तेज गति से। roam (रोम) = इधर-उधर घूमना । vanished (वैनिश्ट) = लुप्त हो गये। trace (ट्रेस) = निशान, चिह्न। greenery (ग्रीनरि) = हरियाली। persist (पॅसिस्ट) = विद्यमान । है। amazed (अमेज्ड) = आश्चर्य हुआ। recorded (रिकॉडिड) = लिखा। witnessing (विटनॅसिंग)। = साक्षी बनना। satyayuga = सतयुग। kaliyuga = कलयुग। corrupt (करप्ट) = भ्रष्ट।

हिन्दी अनुवाद : इस घटना के बाद ढाई शताब्दियाँ बीत गई हैं। लगभग पाँच शताब्दियों से बिश्नोई वृक्षों की रक्षा कर रहे हैं, राजस्थान, हरियाणा और मध्यप्रदेश के जंगली पशुओं की सहायता कर रहे हैं। प्रत्येक स्थान पर, भारतीय उपमहाद्वीप के हरे आवरण (हरे वृक्षों) को नष्ट कर दिया गया, और पहले की अपेक्षा और तीव्र गति से लगातार नष्ट किया जा रहा है। हजारों काले हिरण, जो कभी भारतीय मैदानों में घूमते थे, वे सब । लुप्त हो गये हैं और उनका अब कोई चिह्न भी नहीं है। किन्तु बिश्नोइयों के कुछ गाँवों के निकट, न केवल हरियाली विद्यमान है वरन् वृद्धि पर है, और उनके गाँवों के निकट काले हिरण उतनी ही स्वतन्त्रता से घूमते हैं जैसे कि कालिदास के समय में ऋषि कण्व के आश्रम के निकट घूमते थे। बिश्नोइयों के मन्दिरों के निकट निभाक काले हिरणों के झुण्डों को देखकर अकबर (बादशाह) इतना अचम्भित हुआ कि उसने इस भ्रष्ट कालयुग में सतयुग के दृश्य का साक्षी बनने के अपने आश्चर्य को व्यक्तिगत रूप से अभिलिखित किया।

The sight is………………once in his lifetime… (Pages 47-48).

कठिन शब्दार्थ-astonishing (अस्टॉनिशिंग) = आश्चर्यजनक। magnificent (मैगनिफिसन्ट) शानदार। obsession (अबसेशन) = जोश, सम्मोह, धुन । supreme test of fire = बहुत ही कठिन परीक्षा| fair (फअ(र)) = मेला। martyr (माट(र)) = शहीद। spot (स्पाट) = स्थान। full moon (फुल मून) = पूर्णमासी।

हिन्दी अनुवाद : चार शताब्दियों पहले अकबर के लिए जो दृश्य आश्चर्यजनक था, वह दश्य हमारे लिए आज और भी अधिक आश्चर्यजनक है, क्योंकि आज भी बिश्नोई अपने शानदार सम्मोह अथवा धुन को मरते रहे हैं । खेजड़ली गाँव में जहाँ वे बहत ही कठिन अपनी परीक्षा में सफल हुए थे–एक प्राचीन खेजड़ी का वृक्ष है|

। जो सहार से बच गया था (जो काटा नहीं गया)। दो वर्ष पहले बिश्नोइयों ने अपने 363 शहीदों की स्मृति में. इस वक्ष के चारो और 363 और वृक्ष लगाये |और इन वृक्षोंका पोषण प्रेम से किया गया अतः वे बहुत तेजी से बढ़है |भाद्रपद महीने में पूर्णमासी से पाँच दिवस पूर्व, इस स्थान पर प्रतिवर्ष एक धार्मिक मेला लगता है। यह एक ऐसा अवसर है जब भारत के प्रत्येक वृक्ष प्रेमी को अपने जीवन में कम-से-कम

यह एक बार इसे देखना चाहिए।