5 Mother’s Day [मातृ दिवस]- J.B. Priestley

कहानी के बारे में-निम्नलिखित नाटक परिवार में एक माँ की स्थिति का हास्यास्पद वर्णन है। हमें यह देखने को पढ़ना है कि श्रीमती पीअर्सन का परिवार कैसी प्रतिक्रिया व्यक्त करता है जब वह अपने अधिकारों के लिए खड़ी होने की कोशिश करती है।

कठिन शब्दार्थ एवं हिन्दी अनुवाद

Scene : The living….. ………….centre. (Page 32)

कठिन शब्दार्थ : play (प्ले) = नाटक, humorous (ह्यूमरस्) = हास्य, portrayal (पॉट्रेअल) = वर्णन, status (स्टेटस्) = स्थिति, दशा, reacts (रिऐक्ट्स) = प्रतिक्रिया व्यक्त करना, suburb (सबब्) = उपनगर, बाहरी बस्ती, scene (सीन्) = दृश्य, furnished (फनिश्ट) = सुसज्जित, suburban (सबबन्) = उपनगरीय, बाहरी बस्ती के, semi-detached (सेमिडिटैच्ट) = उपविभाजन, आधा-जुड़ा हुआ, stairs (स्टेअ(र)स) = सीढ़ियाँ, muslin (मज्लिन्) = मलमल, assumed (अस्यूम्ड) = माना, settee (सेटी) = एक प्रकार का लम्बा मुलायम सोफा।

लन्दन के बाहरी इलाके में पीअर्सन्स के घर पर उसकी बैठक में नाटक का मंचन होता है।

समय : वर्तमान

दृश्य- पीअर्सन परिवार की बैठक। दोपहर बाद का समय। यह एक उपनगरीय सुसज्जित आरामदायक एक भवन से अर्द्ध-रूप से जुड़ा हुआ बैठक का कक्ष है। यदि आवश्यक हो तो एक द्वार का प्रयोग आवश्यक है लेकिन अच्छा है उसमें दो दरवाजे हों जो सामने के दरवाजे की ओर जाने के लिए तथा सीढ़ियों की ओर

और दूसरा दायीं दीवार की ओर जो रसोई और पिछले दरवाजे की ओर जाता हो। एक मलमल के पर्दे की खिड़की बाईं दीवार में हो सकती है और सम्भवतया एक दायीं दीवार में भी है। आग का स्थान चौथी दीवार में माना गया है। एक लम्बा मुलायम सोफा ऊपर दायीं ओर है, एक हत्थेदार कुर्सी बायीं ओर नीचे तथा एक नीचे दायीं ओर है। एक छोटी-सी टेबल जिसके दोनों तरफ दो कुर्सियाँ हैं, मध्य में रखी हैं।

When……………………perhaps. (Page 33)

कठिन शब्दार्थ : curtain (कट्न्) = पर्दा, autumn (ऑटम्) = पतझड़, stage (स्टेज) = रंगमंच, saucer (सॉस(र)) = तश्तरियाँ, fortune (फाँचून्) = भाग्य, pleasant (प्लेज्न्ट) = सुहावना, forties (फॉटिज) = चालीस, personality (पसनैलटि) = व्यक्तित्व, contrasting (कॉन्ट्रस्टिङ्) = तुलना या अन्तर करना, flurried (फ्लरिड्) = घबरायी, cockney (कोकनी)= पूर्वी लन्दन का बोलने का लहजा।

हिन्दी अनुवाद : जब पर्दा उठता है तो पतझड़ ऋतु के प्रारम्भ के दोपहर बाद का समय है, और मंच पर अच्छा प्रकाश है। एक छोटी-सी टेबल के आमने-सामने श्रीमती पीअर्सन दायीं ओर तथा श्रीमती फिट्जजैरेल्ड बायीं ओर बैठी हुई है, उस टेबल पर दो चाय के प्याले और तश्तरियाँ रखी हैं तथा वे कार्ड (ताश के पत्ते) रखे हैं जिनके द्वारा श्रीमती फिट्जजैरेल्ड, श्रीमती पीअर्सन का भाग्य बता रही है। श्रीमती पीअर्सन एक प्रसन्न लेकिन चिन्तित दिखाई देने वाली लगभग चालीस वर्षीय महिला है। श्रीमती फिट्जजैरेल्ड उससे उम्र में बड़ी, भारी बदन और मजबूत व डरावने व्यक्तित्व वाली महिला है। वह धूम्रपान कर रही है। यह बहुत प्रमुख बात है कि दोनों की आवाजों में बहुत भिन्नता है। श्रीमती पीअर्सन धीमी, घबरायी हुई आवाज बोलती है और उसके बोलने का ढंग पूर्वी लन्दनवासियों जैसा है जबकि श्रीमती फिट्जजैरेल्ड गहरी आवाज में शायद आयरिश तरीके से बोलती है।

Mrs. Fitzgerald: [Collecting up……………..East too. (Page 33)

कठिन शब्दार्थ : depends (डिपेन्ड्स) = निर्भर करता है, make up your mind (मेक् अप् यॉ(र) माइन्ड्) = अपने दिमाग में तय कर लो, obliged (अब्लाइज्ड) = कृतज्ञ, fortune-teller (फॉचून्टेल(र)) = भाग्य बतलाने वाला।

हिन्दी अनुवाद : श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(पत्ते समेटते हुए) और बस यही, श्रीमती पीअर्सन मैं आपसे कह सकती हूँ। तुम्हारा भाग्य अच्छा भी हो सकता है, बुरा भी हो सकता है। यह सब तुम पर निर्भर करता है। आप अपना मानस पक्का कर लो और यह स्पष्ट है। ता कि

श्रीमती पीअर्सन-हाँ, धन्यवाद श्रीमती फिट्जजैरेल्ड। मुझे निश्चय है कि मैं आपकी अत्यन्त कृतज्ञ हूँ। एक अच्छे ज्योतिषी का पड़ोस में रहना आश्चर्यजनक बात है। क्या यह भी आपने तब सीखा था जब आप पूर्व के देशों में गयी थीं।

Mrs. Fitzgerald : I did………………you’ve told me. (Page 34)

कठिन शब्दार्थ : Lieutenant (लेफ्टेनन्ट्) = लेफ्टिनेंट, apologetically (अपॉलजेटिक्लि ) = क्षमा याचना के अंदाज में, fond of (फॉन्ड ऑव्) = शौकीन, चाहना, thoughtless (थॉट्लस्) = विचारशून्य, selfish (सेल्फिश्) = स्वार्थी, cutting in (कटिङ् इन्) = बीच में बात काटते हुए, treat (ट्रीट) = व्यवहार करना, properly (प्रॉपलि) = उचित रूप से, spoilt (स्पॉइलट) = बिगड़ना, ruin (रुइन्) = नाश।

हिन्दी अनुवाद : श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-हाँ, वहीं सीखा था। जब मेरे पिता की पदोन्नति लेफ्टिनेंट

के पद पर हई तब तक मैं बारह साल वहीं सीखती रही। उसने बहत सीखा और मैंने उससे भी ज्यादा सीखा। क्या तुमने अपना मानस बना लिया है, श्रीमती प्रिय पीअर्सन? आप अपने पैर हमेशा के लिए जमा लो और अपने घर की मालकिन बन जाओ तथा अपने परिवार की बॉस (सर्वेसर्वा) बन जाओ।

श्रीमती पीअर्सन-(खिसियानी हँसी हँसते हुए) यह कहना आसान है करना बहुत कठिन। इसके अतिरिक्त मैं उनको इतना चाहती हूँ कि चाहे वे विचारहीन ही हों और स्वार्थी हों। इसका मतलब यह नहीं कि वे………….

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(बीच में बात काटती हुई) शायद न हो। लेकिन उनका भला इसी में है यदि वे आपसे उचित व्यवहार करना सीख लें…… ।

श्रीमती पीअर्सन-हाँ, मैं मानती हूँ एक प्रकार से ऐसा ही हो।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-इसके बारे में बिल्कुल कोई शंका नहीं है। बिगाड़ने में किसका भला हो रहा है, बड़े आदमी का, लड़के का या लड़की का? किसी का नहीं। आप सोचती हैं जब आप उनके पीछे भागते हैं तो उनका भला होता है, उनके आदेशों की पालना करो मानो कि घर में तुम उनकी नौकर हो, जब वे प्रत्येक रात स्वयं के मनोरंजन के लिए जाते हैं तुम घर पर रहा करो। आप पूरे जीवन-भर उनका भला नहीं कर सकोगी। तुम उनका नाश उसी तरह कर रही हो जैसे अपना। पतियों, पुत्रों और पुत्रियों को माँ तथा पत्नियों का ध्यान रखना चाहिए, उन्हें आज्ञा नहीं देनी चाहिए तथा उन्हें मिट्टी के समान नहीं समझना चाहिए। और तुम मुझसे यह नहीं कहना है कि मेरा अभिप्राय क्या है, यह तुम नहीं जानते हो, क्योंकि मैं उससे ज्यादा जानती हूँ जितना तुमने मुझे बतलाया है।

Mrs. Pearson (dubiously) I-.. ……rather miserably. (Pages 34-35)

कठिन शब्दार्थ : dubiously (ड्युबिअस्लि) = सन्देहपूर्ण ढंग से, glances (ग्लान्स्ज) = देखना, gracious (ग्रेशस्) = शान से, embarrassed (इम्बैरस्ट्) = परेशान करना, promise (प्रॉमिस्) = . वादा करना, flustered (फ्लस्ट(र)ड) = घबरा जाना, व्याकुल होना, resent (रिजेन्ट्) = बुरा मानना, नाराज होना, blame (ब्लेम्) = आरोप लगाना।

हिन्दी अनुवाद : श्रीमती पीअर्सन-(सन्देहपूर्ण ढंग से) मैं थोड़ा संकेत छोड़ देती हूँ…..

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-इशारा? श्रीमती पीअर्सन, तुम्हारे परिवार को इशारों से ज्यादा कुछ और चाहिए।

श्रीमती पीअर्सन-(सन्देहपूर्ण ढंग से) मेरी मान्यता है ऐसा ही हो। किन्तु मैं बद्तमीजी से घृणा करती हूँ। और यह जानना इतना कठिन है कि कहाँ से शुरू किया जाय। मैं मस्तिष्क में यह विचार करती हूँ कि उनसे बात कर ही लूँ किन्तु मैं यह नहीं जानती कि कैसे शुरू करूँ। (वह अपनी घड़ी या दीवार घड़ी पर निगाह डालती है) ओह, हे भगवान् ! समय को देखो। कुछ भी तैयारी नहीं है और वे किसी भी समय घर पर आ सकते हैं और सम्भवतया सभी दुबारा जाने की जल्दी में हों। पि

(जैसे ही वह उठने लगती है, श्रीमती फिट्जजैरेल्ड मेज के उस पार हाथ बढ़ाकर उसे खींच कर नीचे बैठा देती है।)

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-उन्हें इन्तजार करने दो या एक बार तो वे अपनी देखभाल स्वयं करें। यही बात है जिस पर तुम्हें अडिग रहना है। अब शुरू करो। (उसने पहले वाली सिगरेट से एक सिगरेट जलाई जो

अभी-अभी समाप्त हुई है।)

श्रीमती पीअर्सन-(परेशान होती हुई) श्रीमती फिट्जजैरेल्ड—मैं तुम्हारा अभिप्राय अच्छी तरह जानती हूँ— वास्तव में, मैं आपसे सहमत हूँ—लेकिन मै अभी नहीं कर सकती—और इससे कोई लाभ नहीं कि तुम मुझसे करवाने की कोशिश करो। यदि मैं तुमसे यह वादा भी कर लूँ कि मैं उनसे यह करवा लूँगी तो भी मैं अपना वादा नहीं निभा पाऊँगी।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-तब यह कार्य मुझे ही करने दो।

श्रीमती पीअर्सन-(घबराई हुई सी) ओह नहीं—आपको बहुत-बहुत धन्यवाद।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-लेकिन इससे काम नहीं चलेगा। कोई दूसरा सम्भवतया ऐसा नहीं कर सकता वे तुरन्त बुरा मान जायेंगे और सुनेंगे नहीं और वास्तव में मैं उनको दोष नहीं दे सकती । मैं जानती हूँ मुझे ऐसा करना चाहिए लेकिन आप देखती हैं यह कैसे सम्भव हो। (वह क्षमा याचना के अंदाज में टेबल के उस पार देखती है, थोड़ा दुःखी होकर मुस्कराती है।)

Mrs. Fitzgerald : [coolly] you………………….is it right? (Page 35)

कठिन शब्दार्थ : coolly (कूल्लि ) = शान्त भाव से, bewildered (बिविल्ड(र)ड) = स्तब्ध, आश्चर्यचकित, tricks (ट्रिक्स) = तरकीब, चालाकी, gimme (गिमि) = मुझे दो।

हिन्दी अनुवाद : श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(शान्त भाव से) तुम विचार नहीं समझ पायी हो।

श्रीमती पीअर्सन-(आश्चर्यचकित होते हुए) ओह, मुझे खेद है—मैंने सोचा था कि तुम मुझे ऐसा करने को कहोगी।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-मैंने ऐसा ही कहा था। लेकिन अपने रूप में नहीं तुम्हारे रूप में।

श्रीमती पीअर्सन-लेकिन मैं समझती नहीं हूँ। तुम मेरा स्थान कैसे ले सकती हो।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(शान्त भाव से) हम स्थान बदल लेते हैं, या वास्तव में शरीर । तुम मेरे जैसी दिखाई दो। मैं तुम्हारे जैसी दिखाई दूँ।

श्रीमती पीअर्सन-लेकिन यह असम्भव है।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-तुम्हें कैसे मालूम? क्या कभी उसे आजमाया है?

श्रीमती पीअर्सन-नहीं, वास्तव में नहीं।

श्रीमती फटजजैरेल्ड-(शान्त भाव से) मैंने आज़माइश की है। कछ समय से मैंने इसका प्रयोग ही नहीं किया किन्तु अब भी इसका प्रभाव होना चाहिए। ज्यादा देर तक नहीं चलेगा, किन्तु जो काम मैं करना चाहती हूँ उसके लिए पर्याप्त समय मिल जायेगा। यह मैंने वहाँ पूर्व में सीखा था, सचमुच जहाँ लोग इस तरह की तरकीबें करते हैं। (वह सिगरेट को अपने मुँह में रखे हुए अपना हाथ टेबल के उस ओर बढ़ाती है।) प्रिय, मुझे अपना हाथ दो।

श्रीमती पीअर्सन-(शान्त भाव से) अच्छा—मैं नहीं जानती—क्या यह उचित है?

Mrs. Fitzgerald : It’s your……………………fluttering. (Page 36)

कठिन शब्दार्थ : stare (स्टेअ(र)) = घूर-घूर कर देखना, muttering (मट(रि)ङ्) = बड़बड़ाते हुए, spell (स्पेल्) = जादू के शब्द, grasping (ग्रास्पिङ्) = जोर से पकड़े हुए, lax (लैक्स्) = ढीले, adopt (अडॉप्ट) = अपनाया, mannerisms (मैनरिजम्) = तौर-तरीके, bold (बोल्ड्) = बहादुर, dominating (डॉमिनेट्ङ्)ि = प्रभाव डालने वाली, nervous (नवस्) = हतोत्साहित, fluttering (फ्लट(रि)ङ्) = घबरा जाने वाली।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-तुम्हारे पास केवल यही एक अवसर है। मुझे तुम्हारे हाथ दो और एक मिनट चुप रहो। और कोई बात बिल्कुल मत सोचो। [उसका हाथ पकड़ते हुए] अब मुझे देखो। वे एक-दूसरे को घूर घूर कर देखती हैं और धीरे-धीरे बड़बड़ाते हुए, अर्शटाटा, डम-अर्शटाटा लम–अर्शटाटा लमडंबोना…

[इस छोटे से दृश्य का बड़े ध्यान से अभिनय किया जाना चाहिए। हमें यह मान लेना चाहिए कि उनके शरीरों का व्यक्तित्व बदल जाता है। जादुई मन्त्र बोलने के बाद दोनों महिलाओं ने हाथ पकड़ रखे हैं उन हाथों की पकड़ ढीली-सी पड़ जाती है मानो उनमें से प्राण निकल गए हों। तब दोनों जीवित हो जाती हैं लेकिन दूसरी के व्यक्तित्व के साथ। प्रत्येक को एक-दूसरे की आवाज बनानी होगी तथा तौर-तरीके बदलने होंगे। अतः अब श्रीमती पीअर्सन बहादुर और रौबदार बन गई और श्रीमती फिट्जजैरेल्ड घबराई हुई तथा हतोत्साहित लगती है।]

Mrs. Pearson [Now with…….………do it now…… (Page 36)

कठिन शब्दार्थ : snatches (स्नैच्ज) = छीनना, puffing (पफिङ्) = सुट्टे लगाना, कश लगाना, contentedly (कन्टेन्ट्डलि) = सन्तुष्ट, scream (स्क्रीम्) = चीखना, fright (फ्राइट) = भय, complacently (कमप्लेस्ट्ल ) = आत्म-तुष्टि के साथ, alarmed (अलाम्ड) = चिल्लाते हुए, grimly (ग्रिमलि) = कठोरता से, deal with (डील विद्) = व्यवहार करना, terrible (टेरब्ल्) = भयानक, steady (स्टेडि) = दृढ़ता से, ठीक हो जाओ।

हिन्दी अनुवाद : श्रीमती पीअर्सन जो अब श्रीमती फिट्जजैरेल्ड का रूप धारण किए हुए है देखो प्रिय, मेरे कहने का अभिप्राय क्या है? (उसे सिगरेट दिखाई देती है।) इधर लाओ, तुम्हें इसकी आवश्यकता नहीं है। [वह सिगरेट छीन लेती है और अपने मुँह में लगा लेती है, सन्तोष के साथ कश लेती है।]

[श्रीमती फिट्जजैरेल्ड जो अब श्रीमती पीअर्सन का रूप धारण किए है, अपने स्वरूप को देखती है और देखती है कि उसका शरीर बदल गया है, और भय के कारण चीख निकल जाती है।]

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(श्रीमती पीअर्सन के व्यक्तित्व में) ओह यह तो हो गया है।

श्रीमती पीअर्सन-(आत्मतुष्टि के साथ) वास्तव में यह हो गया है। बहुत अच्छे ढंग से। मैं नहीं जानती थी कि यह कला अभी मेरे पास है।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(चौंकते हुए) लेकिन अब मैं क्या करूँ, श्रीमती फिट्जजैरेल्ड! जॉर्ज और बच्चे मुझे इस रूप में स्वीकार नहीं करेंगे।

श्रीमती पीअर्सन-(गम्भीरता से) वे पहचान नहीं पाएंगे—यही खास बात है। अब मैं उनके साथ व्यवहार करूँगी—इसका उनको पता भी नहीं चलेगा।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(अभी भी चौंकते हुए) लेकिन तब क्या होगा जब हम रूप न बदल सकें? यह भयानक बात होगी।

श्रीमती पीअर्सन-अब धैर्य रखो, श्रीमती फिट्जजैरेल्ड यदि तुम्हें मेरे रूप में ही जीवन बिताना पड़े तो कोई ज्यादा बुरा नहीं होगा। तुम मेरे रूप में ज्यादा मजे से रहोगी उससे भी ज्यादा जितना तुम इस रूप में रहती आ रही हो।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-हाँ, लेकिन मैं किसी दूसरे के रूप में रहना नहीं चाहती।

श्रीमती पीअर्सन-अब चिन्ता मत करो। पुनः वास्तविक स्वरूप में लौटना आसान है। मैं जब आवश्यकता होगी इसे कर सकती हूँ।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-अच्छा, इसे अभी करो।

Mrs. Pearson-Not likely…………………………………………spoilt. (Page 37)

कठिन शब्दार्थ : likely (लाइक्लि) = सम्भवतया, chuckling (चक्लिङ्) = दबी हँसी हँसते हुए, for a bit (फॉ(र) अ बिट्) = थोड़ी देर के लिए, pop back (पोप बैक्) = लपक कर वापस आ जाना, hurries out (हरीज आउट) = जल्दी से बाहर जाना, patience (पेशेन्स्) = धैर्य, bursting in (बस्टिङ् इन्) = तेजी से अन्दर आना, pretty (प्रिटि) = सुन्दर, spoilt (स्पॉइल्ट) = बिगड़ना।

हिन्दी अनुवाद : श्रीमती पीअर्सन-अभी सम्भव नहीं है। पहले मुझे तुम्हारे परिवार से निपटना है। यही विचार है। क्या नहीं है? तुमने ही कहा था कि उनके साथ कैसे शुरू करूँ? अच्छा, मैं तुम्हें दिखा दूंगी।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-लेकिन मैं क्या करूँ?

श्रीमती पीअर्सन-थोड़ी देर के लिए मेरे घर चली जाओ—वहाँ कोई नहीं है तब एकदम वापस आ जाना और देखना कि हम क्या कर रहे हैं? तुम्हें आनन्द आना चाहिए। उनमें से किसी के आने से पहले चली जाओ यह ज्यादा अच्छा होगा।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(निराशा से उठती हुई) हाँ, मैं मानती हूँ यही सबसे अच्छा होगा। तुम्हें विश्वास है कि सब कुछ ठीक हो जाएगा।

श्रीमती पीअर्सन-(दबी हँसी सहित) यह आश्चर्यजनक होगा। अब प्रिय तुम जाओ।

[श्रीमती फिट्जजैरेल्ड कमरे के दूसरी तरफ जाती है और जल्दी से दाएं दरवाजे से बाहर निकल जाती है। अकेली होकर श्रीमती पीअर्सन सिगरेट पीती है—दूसरी सिगरेट जलाती है और धैर्य के लिए टेबल पर कार्ड फैला देती है। कछ क्षण बाद डोरिस पीअर्सन बायीं तरफ से तेजी से अन्दर आ जाती है। वह 22-23 वर्षीय सुन्दर लड़की है वह बहुत अच्छी बनती यदि उसे बिगाड़ा न जाता।]

Doris : [Before she has…………who might? (Page 37)

कठिन शब्दार्थ : iron (आइअन्) = इस्त्री करना, astounded (अस्टाउन्ड्ड) = हैरान, incisive (इन्साइसिव्) = छेदक, तीक्ष्ण, clarendon (क्लेरेन्डोन) = एक होटल, ordinary (ऑडित्रि) = सामान्य।

हिन्दी अनुवाद : डोरिस-[इससे पहले कि वह कुछ समझ पाती] माँ तुम्हें मेरी पीली रेशमी पोशाक पर इस्त्री करनी होगी। मुझे यह आज रात को पहननी है। [अब वह जो घटना घट रही है उसे देखती है और हैरान है।]

तुम क्या कर रही हो? (वह बाईं ओर से मध्य में आ जाती है।)

[श्रीमती पीअर्सन अब अपनी सामान्य आवाज में बोलती है लेकिन उसके ढंग में कोई घबराहट या भय की बात नहीं है अपितु शान्त एवं दृढ़ता है।]

– श्रीमती पीअर्सन-(ऊपर की ओर देखती भी नहीं है।) तुम्हारे विचार से मैं क्या कर रही हूँ? मैं छत की सफेदी कर रही हूँ?

डोरिस-(चकित होते हुए) लेकिन तुम तो सिगरेट पी रही हो!

श्रीमती पीअर्सन-प्रिय तुम ठीक कह रही हो। इसके विरुद्ध कोई कानून नहीं है, क्या है?

डोरिस-लेकिन मैं समझती थी कि तुम सिगरेट नहीं पीती।

श्रीमती पीअर्सन-तो तुम गलत समझती थी।

डोरिस-क्या हम चाय रसोई घर में बैठकर पिएंगे?

श्रीमती पीअर्सन-जहाँ भी तुम्हारा मन चाहे वहीं पी लो।

डोरिस-(क्रोधपूर्वक) क्या तुम यह कहना चाहती हो कि चाय तैयार नहीं है?

श्रीमती पीअर्सन-तुम्हारे लिए नहीं है। मुझे जितनी पीनी थी मैंने पीली है। हो सकता है थोड़ी देर में बाहर जावें और होटल में बैठ कर भर-पेट खाना खाया जाय।

डोरिस-(अपने कानों पर मुश्किल से विश्वास करते हुए) कौन बाहर जाए?

Mrs. Pearson-I might…………. ………………Charlie Spence. (Page 38)

कठिन शब्दार्थ : silly (सिलि) = मूर्ख, indignantly (इन्डिग्नट्लि ) = गुस्से में, bother (बाँद(र)) = परवाह करना, rubbish (रबिश्) = मूर्खतापूर्ण, कचरा, objections (अब्जेक्श्न्ज ) = एतराज, severely (सीविअ(र) लि) = गम्भीरता से, wages (वेज्ज) = मजदूरी, sulkily (सल्किली) = खीझी हुई।

हिन्दी अनुवाद : श्रीमती पीअर्सन-मैं और कौन? तुम किसे समझ रही हो?

डोरिस-(उसकी ओर घूरते हुए) माँ, तुम्हें क्या हो गया है?

श्रीमती पीअर्सन-मूर्ख मत बनो।

डोरिस-(गुस्से में) मूर्खता की बातें मैं नहीं कर रही हूँ और मैं यह कह दूँ कि आप ज्यादा ही बोल रही हो जबकि मैंने दिन भर कठोर परिश्रम किया है और तुम मेरे लिए चाय भी नहीं बना सकती। क्या तुमने जो मैंने अपनी पीली पोशाक के बारे में कहा था सुना?

श्रीमती पीअर्सन-नहीं सुना था। क्या तुम्हें यह अब पसन्द नहीं है? मुझे तो यह कभी भी पसन्द नहीं थी।

डोरिस-(गुस्से में) निःसन्देह मुझे यह पसन्द है। और मैं आज रात को इसे पहनूँगी। इसलिए मैं इसे इस्त्री करवाना चाहती हूँ।

श्रीमती पीअर्सन-इस्तरी करवाना चाहती हो? क्या तुम समझती हो कि इस्तरी अपने आप ही हो जावेगी?

डोरिस-नहीं, तुम मेरे लिये इसे इस्तरी करोगी, हमेशा तुम ही करती हो।

श्रीमती पीअर्सन-ठीक है, इस बार मैं नहीं करूंगी। मेरे साथ इस प्रकार की अनर्गल बातें मत करो। मैं बहुत अच्छी तरह समझती हूँ कि तुम कितना काम करती हो, डोरिस पीअर्सन । मैं तुमसे दुगुने घण्टे काम करती हूँ और इसके बदले मुझे न कोई वेतन मिलता है और न कोई धन्यवाद प्राप्त होता है। तुम अपनी रेशमी पोशाक क्यों पहनना चाहती हो? तुम कहाँ जा रही हो?

डोरिस-(खीझते हुए) चार्ली स्पेंस के साथ बाहर जा रही हूँ।

Mrs. Pearson : Why?…………………………..counterpart of Doris. (Page 38)

कठिन शब्दार्थ : buck teeth (बक टीथ) = ऊँचे-ऊँचे दाँत, half-witted (हाफ-विटड) = मोटी अक्ल वाला, job (जॉब्) = कार्य, nearly (नीअलि) = लगभग, tears (टीअ(र)स) = आँस, shut up (शट् अप्) = चुप रहो, chuckles (चक्ल्स ) = दबी हँसी हँसते हुए, masculine (मैस्क्य लिन्) = पुल्लिंग, counterpart (काउन्टपाट) = रूप।

हिन्दी अनुवाद : श्रीमती पीअर्सन-क्यों?

डोरिस-(गुस्से में) क्यों? क्यों? तुम्हें क्या हो गया है? मैं चार्ली स्पैंस के साथ बाहर क्यों नहीं जाऊँ, यदि उसने मुझसे कहा है और मैं भी चाहती हूँ? कोई आपत्ति है? बताओ तुम ही मुझे बतला दो….

. श्रीमती पीअर्सन-(गम्भीरता से) क्या तुम्हें उससे अच्छा कोई और आदमी नहीं मिल सकता? मैं तो मरकर भी चार्ली के साथ नहीं जाऊँगी। ऊँचे-ऊँचे दाँत, मोटी अक्ल वाला…..

डोरिस-वह ऐसा नहीं है।

श्रीमती पीअर्सन-मैं तुम्हारी उम्र की होती तो चार्ली से अच्छा आदमी ढूँढ़ती अथवा अपने आपको बेकार समझकर छोड़ देती।

डोरिस-(लगभग रुआंसी होते हुए) ओह चुप रहो!

[डोरिस भाग कर बाईं तरफ से बाहर चली जाती है, श्रीमती पीअर्सन दबी हँसी हँसती है और ताश के पत्तों को एकत्रित करती है।]

एक क्षण बाद बाईं ओर से सिरिल पीअर्सन प्रवेश करता है, वह डोरिस का ही पुल्लिंग रूप है।

Cyril : [briskly] Hello-Mum…………………..I don’t like mending. (Page 39)

कठिन शब्दार्थ : briskly (ब्रिक्ल ) = तेजी से, annoyed (अनॉइड्) = नाराज, feeling off colour (फीलिङ् ऑफ कल(र)) = तबीयत खराब होना, snap out of it (स्नैप् आउट ऑव् इट्) = इससे बचो, get cracking (गेट क्रैकिङ्) = तेजी से, plenty (प्लेन्टि) = पर्याप्त, check (चेक्) = रुकना, mending (मेन्डिङ्) = मरम्मत करना, सुधार करना, aggressively (अग्रेसिक्लि) = उग्र रूप से, bar (बा(र)) = रोकना, protesting (प्रटेस्ट्ङ्) = विरोध प्रदर्शन करते हुए।

हिन्दी अनुवाद-सिरिल-(तेजी से) हैलो मम्मी, क्या चाय तैयार है?

श्रीमती पीअर्सन-नहीं।

सिरिल-(मेज के पास आते हुए, नाराजी की मुद्रा में) क्यों नहीं?

श्रीमती पीअर्सन-(शान्त भाव से)मैं परेशान होना नहीं चाहती।

सिरिल-क्या तबीयत खराब है या और कुछ बात है?

श्रीमती पीअर्सन-अपने जीवन में इतना आनन्द कभी नहीं मिला।

सिरिल-(आक्रामक रूप से) तब तुम्हारा अभिप्राय क्या है?

श्रीमती पीअर्सन-केवल परिवर्तन।

सिरिल-(तेजी से) ठीक है, अब इससे बचो, माँ और जल्दी करो। मेरे पास ज्यादा समय नहीं है। (सिरिल जाने ही लगता है तभी श्रीमती पीअर्सन की आवाज सुनकर रुक जाता है।)

श्रीमती पीअर्सन-मेरे पास पर्याप्त समय है।

सिरिल-ठीक है, लेकिन मेरे पास नहीं है, आज रात मैं बहुत व्यस्त हूँ। (बाईं तरफ वाले दरवाजे की तरफ जाते हुए) क्या तुमने मेरी चीजें निकाल कर रख दी?

श्रीमती पीअर्सन-(शान्त भाव से) मुझे याद नहीं रहा। किन्तु मुझे सन्देह है।

सिरिल-(मेज की तरफ वापस आते हुए, विरोध भाव से) अब देखो माँ। जब आज प्रातः मैंने कहा था तो तुमने वादा किया था कि तुम कर दोगी। तुमने कहा था कि तुम पहले उसकी छानबीन करके देख लोगी कि उनमें कोई मरम्मत की जरूरत तो नहीं है।

श्रीमती पीअर्सन-हाँ-हाँ, लेकिन अब मैंने निर्णय कर लिया है कि अब मुझे मरम्मत करना अच्छा नहीं लगता।

Cyril-That’s a nice way………….made me cry. (Pages 39-40)

कठिन शब्दार्थ : movement (मूव्मन्ट) = हलचल, आन्दोलन, staggered (स्टेगड्) = आश्चर्यचकित हो गया, laconic (लकॉनिक्) = संक्षिप्त, sinister (सिनिस्ट(र)) = कठोर, भयानक, wear the face (वेअ(र) दि फेस्) = ऐसा चेहरा रखू, process (प्रोसेस्) = तरीका, wearing a wrap (वेअ(रि)ङ् ए रैप) = चेहरे पर कुछ ढकना, pale (पेल्) = पीला।

हिन्दी अनवाद-सिरिल-यह बात करने का अच्छा तरीका है क्या होगा यदि हम सब इसी तरह बातें करने लगें?

श्रीमती पीअर्सन-तुम सब इसी तरह की बातें करते हो। यदि घर पर कोई ऐसा कार्य हो जिसे तुम न करना चाहो तो तुम उसे करते नहीं हो। यदि यह तुम्हारी नौकरी की जगह का कोई काम है तो तुम यूनियन के द्वारा इसकी मनाही करवा देते हो। अब केवल इतना हुआ है कि मैं भी इस आन्दोलन में शामिल हो गई हूँ।

सिरिल-(स्तब्ध होते हुए) मुझे तुम्हारा अभिप्राय समझ में नहीं आया माँ। यह सब क्या हो रहा है?

श्रीमती पीअर्सन-(तेज और डरावने ढंग से) परिवर्तन।

[बाईं ओर से डोरिस प्रवेश करती है। वह अपने वस्त्र पहनने का कार्य कर रही है, और उसने एक शॉल ओढ़ रखी है। देखने में वह घबरायी हुई लगती है और उसकी आँखें लाल हो रही हैं।]

श्रीमती पीअर्सन-तुम भयानक दिखायी दे रही हो। मैं ऐसी शक्ल बनाकर चार्ली के पास भी नहीं जाऊँगी।

डोरिस-(मेज के पास जाती हुई, गुस्से में) ओह, चार्ली स्पेंस के बारे में बकवास बन्द करो और मैं अभी पूरी तैयार भी नहीं हुई हूँ-केवल वस्त्र ही पहन रही हूँ और यदि देखने में भयानक लग रही हूँ तो यह तुम्हारा ही दोष है, तुमने ही मुझे रुलाया था।

Cyril (curious) Why……………………..first house. (Pages 40-41)

कठिन शब्दार्थ : curious (क्यूअरिअस्) = उत्सुक, stout (स्टाउट) = मजबूत, गहरे रंग की तेज बीअर, clot (क्लॉट्) = मूर्ख व्यक्ति, huddle (हड्ल) = एकत्रित होना, exit (एक्सिट्; एजिट्) = बाहर जाना, instantly (इन्स्ट ट्लि ) = तुरन्त, rapidly (रैपिड्लि ) = शीघ्रता से, barmy (बा(र)मी) = झक्की , सठियाना, fathead (फैटहैड्) = मन्द बुद्धि, concussion (कन्कशन्) = सदमा, far-fetched (फॉर फेच्ट) = अतिशयोक्तिपूर्ण, giggle (गिगल) = ही, हीं करके हँसना, guffaw (गफा) = ठहाका लगाकर हँसना।

हिन्दी अनवाद : सिरिल-(उत्सकतावश) क्यों उसने क्या किया?

डोरिस-तुम इसकी चिन्ता मत करो।

श्रीमती पीअर्सन-(उठते हुए और रसोई की तरफ जाने की तैयारी में) क्या यहाँ कोई गहरे रंग की तेज बीअर बची है? मुझे याद नहीं आ रहा

सिरिल-एक या दो बोतल होंगी, मेरे विचार से। लेकिन तुम्हें इस समय तेज बीअर तो नहीं चाहिए।

श्रीमती पीअर्सन-(धीरे-धीरे बाईं तरफ जाती हुई) बिल्कुल जरूरत है। सिरिल-किसलिए?

श्रीमती पीअर्सन-(दरवाजे पर पहुँच कर मुड़कर देखती हुई) पीने के लिए तुम गधे!

(श्रीमती पीअर्सन दायीं तरफ से बाहर चली जाती है। तुरन्त सिरिल, डोरिस आपस में इकट्ठे हो जाते हैं और बाईं तरफ मंच के मध्य में आकर जल्दी-जल्दी मंद-मंद आवाज में बातें करने लगते हैं।)

डोरिस-क्या वह तुम्हारे साथ भी ऐसे ही बोलती रही है? किन

सिरिल-हाँ—कोई चाय नहीं बनाई है—कह रही थी आज बड़े मजे में है।

डोरिस-तो ठीक है, मुझे खुशी है हम दोनों के साथ ऐसा हुआ है। मैं समझ रही थी कि मुझसे कोई भूल हो गयी।

सिरिल-मैं भी ऐसा ही समझ रहा था। परन्तु वास्तव में गलती तो उसी की है कि…..

डोरिस-जब मैं अन्दर आयी तो वह सिगरेट पी रही थी और ताश खेल रही थी। मुझे तो अपनी आँखों पर विश्वास ही नहीं हुआ।

सिरिल-मैंने उससे पूछा क्या उसकी तबीयत खराब थी तो कहने लगी कि ऐसी कोई बात नहीं है।

डोरिस-हाँ, देखो, वह अचानक बिल्कुल बदल गयी है। और उसी कारण से मुझे रोना आ गया। जो

उसने कहा उसकी वजह से नहीं अपितु जिस ढंग से उसने कहा था और जिस तरह से वह देख रही थी।

सिरिल-ऐसा तो मैंने नहीं देखा। मुझे तो वह पहले जैसी दिख रही थी।

डोरिस-वह मझे नहीं लग रही है। क्या तम समझते हो कि उसके सिर पर कोई चोट लग गई होगी? अथवा कोई दूसरी बात हो गयी होगी और पता नहीं-उसी वजह से यह सब हो गया हो—क्या कह सकते

हैं?

सिरिल-(स्तब्ध होकर) क्या तुम समझती हो कि वह सठिया गयी है?

डोरिस-नहीं, तुम मूर्ख हो। शायद उसको दौरा पड़ गया है। सिरिल-ऐसा असम्भव-सा लगता है।

डोरिस-हाँ, वह असम्भव ही हो गई है, यदि मुझसे पूछो (वह अचानक दबी हुई हँसी हँसने लगती

सिरिल-तो फिर—अब क्या बात हो गयी? डोरिस-जब पिताजी घर आयेंगे अगर वह तब ऐसा करने लगी तो—(वह फिर दबी हँसी हँसने लगती

सिरिल-(खिलखिलाकर हँसते हुए) तो वह तमाशा देखने के लिए मैं यहाँ रुक जाऊँगा—मैंने सिनेमा की ड्रेस सर्किल की दो टिकटें ले रखी थीं….

[Mrs. Pearson enters………………two days off. (Pages 41-42)

कठिन शब्दार्थ : guffawing (गफाइङ्) = हँसता, giggling (गिग्लिङ्) = खिलखिलाना, regard (रिगाड्) = मानना, सोचना, contempt (कन्टेम्प्ट) = तिरस्कार, अपमान, settee (सेटी) = सोफा, yawning (यानिङ्) = जम्हाई लेना, उबासी लेना, promptly (प्रॉम्प्ट्ल ) = तुरन्त, weekend (वीकएन्ड्) = सप्ताहान्त।

हिन्दी अनुवाद : (श्रीमती पीअर्सन दायीं तरफ से प्रवेश करती है। उसके हाथ में बीयर की बोतल है तथा आधा भरा हुआ गिलास। सिरिल और डोरिस अपना हँसना व खिलखिलाना रोकने की कोशिश करते हैं किन्तु ऐसा जल्दी नहीं कर पाते। श्रीमती पीअर्सन उनकी तरफ घृणापूर्ण दृष्टि से देखती है।)

श्रीमती पीअर्सन-(रूखे स्वर में) तुम दोनों हमेशा यह कहते रहे हो कि तुम बड़े हो गए हो। तुम दोनों अपनी आयु के अनुसार व्यवहार क्यों नहीं करते हो? (वह सोफे पर जाकर बैठ जाती है।)

सिरिल-क्या अब हम हँस नहीं सकते हैं?

श्रीमती पीअर्सन-हाँ, यदि कोई मजाकिया बात हो। आगे बढ़ो। मुझे भी हँसाओ। मैं भी मजा ले सकती

हूँ

डोरिस-तुम जानती हो माँ तुम हमारी मजाक कभी नहीं समझ सकती।

श्रीमती पीअर्सन-मैं तुम्हारे पैदा होने से पहले ही तुम्हारे चुटकले सुनकर जम्हाइयाँ लेने लगती थी।

डोरिस-(आँखों में लगभग आँसू भरकर) आप किस कारण से ऐसी बातें करती हो? हमने क्या कर दिया?

श्रीमती पीअर्सन-(तुरन्त) कुछ नहीं किन्तु घर आते हो, कुछ माँगते हो फिर बाहर चले जाते हो और फिर वापस आ जाते हो जब कहीं और जाने की जगह न हो।

सिरिल-(आक्रामक रूप से) देखो, यदि तुमने चाय तैयार नहीं की तब मैं स्वयं कुछ खाने को तलाश लूँगी।

श्रीमती पीअर्सन-क्यों नहीं? अपनी मदद खुद करो। (वह बीअर की एक घूट लेती है।)

सिरिल-(रसोई घर की तरफ जाते हुए) अब जान लो मैं समझता हूँ कि कुछ ज्यादा ही हो रहा है। मैं दिन-भर काम करता रहा हूँ।

डोरिस-और मैं भी तुम्हारी तरह।

श्रीमती पीअर्सन-(शान्त भाव से) आठ घण्टे प्रतिदिन।

सिरिल-हाँ, दिन-भर में आठ घण्टे, और इसे भूलना मत।

श्रीमती पीअर्सन-मैं अपने आठ घण्टे कार्य कर चुकी हूँ।

सिरिल-तुम्हारी बात अलग है।

डोरिस-नि:सन्देह, यह अलग है।

श्रीमती पीअर्सन-(शान्त भाव से) पहले अलग थी, अब नहीं है। अब सबके लिए चालीस घण्टों का सप्ताह हुआ करेगा। केवल प्रतीक्षा करो अब सप्ताह के अन्त में भी दो दिन की छुट्टी किया करूँगी।

[Doris and Cyril exchange……………Now stop it. (Pages 42-43)

कठिन शब्दार्थ : grab (ग्रैब्) = अधिकार में करना, हथियाना, fuss (फस्) = बतंगड़, nasty (नास्टि) = गंदा, अप्रिय, disappointment (डिसपॉइन्टमन्ट) = निराशा, go off (गो ऑफ) = काम बन्द करना, aghast (अगास्ट) = भयभीत, stuck (स्ट्क) = फँस जाना, business (बिज्नस्) = कार्य, awful (ऑफल्) = दु:खदायी, passionately (पैशनलि) = आवेश में, blubbering (ब्लब(रि)ङ्) = रोना-चीखना। जान

हिन्दी अनुवाद : (डोरिस और सिरिल चिन्तित भाव से एक-दूसरे की तरफ देखते हैं। और तब वे श्रीमती पीअर्सन की ओर घूर-चूर कर देखते हैं जो बदले में शान्त भाव से उनकी ओर देखती है।)

सिरिल-मुझे खाने को कुछ तलाश करना है। मुझे लगता है कि मुझे अपनी हिम्मत बनाए रखनी पड़ेगी। (सिरिल रसोई की तरफ बाहर चला जाता है।)

डोरिस-(सोफे की तरफ जाते हुए, उत्सुकतावश) मम्मी तुम ऐसा तो नहीं कहना चाहती कि तुम शनिवार और रविवार को कुछ नहीं करोगी?

श्रीमती पीअर्सन-(फैलते हुए) नहीं, मैं उस हद तक तो नहीं जाऊँगी। शायद एक या दो बिस्तर लगा दिया करूँगी और तुम पर दया करके थोड़ा बहुत पका दिया करूँगी। और निस्सन्देह जिसका अर्थ यह है कि इसके लिए मुझे तुमसे बहुत सभ्य ढंग से कहना होगा और हर काम के लिए मुझे धन्यवाद देना होगा और सामान्य रूप से इसे बढ़ा-चढाकर कहना होगा। परन्तु तुम में से कोई भी सप्ताह में चालीस घण्टे काम करने वाले यदि यह आशा करेंगे कि शनिवार और रविवार को मैं बिना कोई धन्यवाद प्राप्त किए तुम्हारे आगे-पीछे दौड़ती रहूँ तो तुम्हें भयंकर निराशा होगी। शायद सप्ताह के अन्त में मैं कहीं घूमने चली जाऊँ।

डोरिस-(घबराए हुए) सप्ताह के अन्त में घूमने चली जाओगी?

श्रीमती पीअर्सन-क्यों नहीं? मैं भी परिवर्तन कर सकती हूँ। दिन-प्रतिदिन, सप्ताह-प्रति सप्ताह यहीं टॅगी रहती हूँ। यदि मुझे परिवर्तन की आवश्यकता नहीं तो फिर किसे है?

डोरिस-लेकिन तुम कहाँ जाओगी तुम्हारे साथ कौन जाएगा?

श्रीमती पीअर्सन-यह मेरा कार्य है। तुम मुझसे मत पूछो तुम कहाँ जाओगी और तुम्हारे साथ कौन . जायेगा? क्या पूछती हो?

डोरिस-वह अलग बात है।

श्रीमती पीअर्सन-अलग केवल इतना ही है कि मैं आयु में तुमसे बड़ी हूँ अपनी देखभाल ज्यादा अच्छी तरह कर सकती हूँ। यह तुम ही हो जिसने मुझसे पूछने की हिम्मत की है।

डोरिस-क्या तुम गिर गयी थीं या किसी चीज से चोटग्रस्त हो गई थीं?

श्रीमती पीअर्सन-(रूखे ढंग से) नहीं। लेकिन मैं चोटग्रस्त कर दूँगी, लड़की, यदि तुमने मूर्खतापूर्ण प्रश्न पूछना बन्द नहीं किया।

(डोरिस उसकी तरफ मुँह खोले हुए घूर-घूर कर देखने लगती है, रोने को तैयार।) डोरिस-ओह यह कितना कष्टदायक है। (रोने लगती है लेकिन आवेश में नहीं।)

श्रीमती पीअर्सन-(रूखे ढंग से) यह फुसफुसाना बन्द करो। अब तुम बच्ची नहीं हो। यदि तुम इतनी बड़ी हो गई हो कि चार्ली स्पेंस के साथ घूमने जा सकती हो तो इतनी बड़ी भी हो गई हो कि तुम ठीक से व्यवहार कर सको। अब यह सब बन्द करो।

[George Pearson enters……………………………..they do now. (Pages 43-44)

कठिन शब्दार्थ : Fundamentally (फन्डमेन्टलि) = मूल रूप से, decent (डीस्न्ट) = बढ़िया, सुन्दर, solemn (सॉलम्) = गम्भीर, pompous (पॉम्पस्) = दिखावा, preferably (प्रिफ्रब्लि ) = महत्त्व देना, ज्यादा अच्छा समझना, Sobs (सॉब्स) = सुबकना, bulge (बल्ज्) = उभार, amazed (अमेज्ड्) = आश्चर्य, fancied (फैन्सीड्) = पसन्द किया, अच्छी लगी, distaste (डिस्टेस्ट्) = कड़वापन, snooker (स्नूक(र)) = सन्तुलित, नियमित, aggrieved (अग्रीव्ड्) = उदास होना, my goodness (माइ गुड्नस्) = हे भगवान, poured (पो(र)ड) = उँडेला।

हिन्दी अनुवाद : [जॉर्ज पीअर्सन दाईं तरफ से प्रवेश करता है। वह लगभग 50 वर्ष का है, मौलिक रूप से अच्छा किन्तु गम्भीर व्यक्ति है। वह अपने को महत्त्वपूर्ण समझने वाला और भड़कीले कपड़े पहनने वाला है। उसे एक भारी शरीर वाला, धीरे-धीरे काम करने वाला आदमी होना चाहिए। वह डोरिस के आँसू देख

लेता है।

जॉर्ज-हैलो-यह क्या हो रहा है? रोने की तो कोई बात नहीं हो सकती है।

डोरिस-(सिसकियाँ भरती हुई) आप देख लोगे।

(डोरिस बाईं तरफ से भाग जाती है, रास्ते में एक दो सिसिकियाँ भरते हुए। जॉर्ज उसके पीछे-पीछे एक पल देखता है, और फिर श्रीमती पीअर्सन की तरफ देखता है।)

जॉर्ज-क्या उसने ऐसा कहा था ‘आप देख लोगे।

श्रीमती पीअर्सन-हाँ (ऐसा ही कहा था)।

जॉर्ज-उसके कहने का क्या तात्पर्य था?

श्रीमती पीअर्सन-ज्यादा अच्छा हो उसी से ही पूछो।

(जॉर्ज धीरे-धीरे दुबारा दरवाजे की ओर देखता है और श्रीमती पीअर्सन की ओर, फिर उसे वह बीयर दिखायी देती है जिसे श्रीमती पीअर्सन ने एक और चूंट लेने के लिए ऊपर उठाया होता है। उसकी आँखें

लगभग बाहर की ओर निकल आती हैं।)

जॉर्ज-बीअर?

श्रीमती पीअर्सन-हाँ।

जॉर्ज-(आश्चर्यचकित) तुम बीअर किसलिए पी रही हो?

श्रीमती पीअर्सन-क्योंकि मेरा मन हुआ कि कुछ पिया जाए।

जॉर्ज-दिन के इस समय?

श्रीमती पीअर्सन-हाँ दिन के इस समय इसके पीने में क्या बुराई है?

जॉर्ज-(भौंचक्का होते हुए) कोई खराबी नहीं, मेरे विचार से, ऐनि—लेकिन तुम्हें मैंने इससे पहले कभी ऐसा करते हुए नहीं देखा

श्रीमती पीअर्सन-तो ठीक है। अब तो तुम मुझे देख रहे हो।

जॉर्ज-(बहुत घृणापूर्वक) हाँ, देख रहा हूँ और मुझे यह अच्छा नहीं लग रहा। यह ठीक नहीं है। मुझे तुम पर आश्चर्य है।

श्रीमती पीअर्सन-अच्छा, यह तुम्हारे लिए भी एक अच्छा परिवर्तन होगा।

जॉर्ज-तुम्हारा क्या मतलब है?

श्रीमती पीअर्सन-जॉर्ज मुझ पर आश्चर्य किए हुए तुम्हें कुछ समय हो गया होगा।

जॉर्ज-मैं हैरान करने वाली बातें पसन्द नहीं करता हूँ। मैं एकसमान रहना पसन्द करता हूँ अब तक तुम्हें इस बात का पता चल जाना चाहिए था। और हाँ, मैं आज सुबह तुम्हें यह बतलाना भूल गया कि मैं चाय नहीं पीऊँगा। आज रात को क्लब में स्नूकर का मैच होगा और शाम का भोजन भी अतः चाय नहीं। गीत

श्रीमती पीअर्सन-बिल्कुल ठीक। चाय तैयार नहीं है।

जॉर्ज-[आश्चर्यचकित] तुम्हारा अभिप्राय है तुमने चाय नहीं बनाई।

श्रीमती पीअर्सन-हाँ! और अच्छा ही हुआ जैसाकि मुझे अब पता चला।

जॉर्ज-(दु:खी भाव से) वह तो सब ठीक है, लेकिन मान लो मैंने कुछ चाय माँग ली होती तो?

श्रीमती पीअर्सन-हे भगवान् ! इस आदमी की बात सुनो ! इसलिए नाराज हो रहा है कि मैंने इसके लिए ही बनायी जिसे वह पीना भी नहीं चाहता है। क्या इस तरह की बात कभी क्लब में करके देखी है?

जॉर्ज-क्लब में क्या करके देखी है?

श्रीमती पीअर्सन-यही कि तुम वहाँ बार (शराबखाने) में जाओ और उनसे कहो कि तुम्हें बीअर का गिलास नहीं चाहिए किन्तु तुम्हें इस पर क्रोध आ जाए कि उन्होंने तुम्हारे लिए पहले से ही डाल कर नहीं रखी है। यह बात उनसे करके देखो फिर देखना इसके बदले क्या मिलता है?

जॉर्ज-मुझे समझ में नहीं आ रहा है कि तुम कैसी बातें कर रही हो?

श्रीमती पीअर्सन-वे तुम पर उससे भी ज्यादा हँसेंगे जितना कि वे अब हँसती हैं।

George : [indignantly] laugh……………….doubt it. (Page 45)

कठिन शब्दार्थ : indignantly (इनडिग्नट्लि) = गुस्से में, pompous (पॉम्पस्) = दिखावा, horrified (हॉरिफाइड) = भयभीत कर देना, call names (कॉल् नेम्स) = गाली देना, instead of (इन्स्टेड् ऑव) = बजाय, dazed (डेज्ड्) = परेशान, appealingly (अपीलिलि ) = अनुरोध करते हुए, hesitate (हेजिटेट) = हिचकिचाना, staggered (स्टैगड्) = लड़खड़ाया, damned (डेम्ड) = खीझ व्यक्त करना, झुंझलाहट व्यक्त करना।

हिन्दी अनुवाद : जॉर्ज-(गुस्से में) मुझ पर हँसेंगे? वे मुझ पर नहीं हँसते हैं।

श्रीमती पीअर्सन-निस्सन्देह वे हँसेंगे। तुम्हें इस बात का अब तक पता चल जाना चाहिए था। किसी भी दुसरे को पता चल जाता। तम उनके लिए स्थायी मजाक हो । तम प्रसिद्ध हो। वे तम्हें भडकीला-मटल्ला पीअर्सन कहते हैं क्योंकि वे समझते हैं कि तुम बहुत धीरे-धीरे चलने वाले और भड़कीले कपड़े पहनने वाले व्यक्ति हो।

जॉर्ज-(भयभीत) कभी नहीं।

श्रीमती पीअर्सन-यह बात हमेशा मुझे अखरती रही है कि तुम ऐसे स्थान पर इतना अधिक समय क्यों बिताते हो जहाँ तुम्हारे पीठ पीछे तुम्हारी हँसी उड़ायी जाती है और तुम्हें गाली दी जाती है। हर रात अपनी पत्नी को घर छोड़ जाते हो उसके साथ जाने के बजाय, जो तुम्हें मूर्ख नहीं दिखने देती है……..

(सिरिल दायीं तरफ से अन्दर आता है, एक हाथ में उसने दूध का गिलास पकड़ रखा है और दूसरे में केक का मोटा-सा टुकड़ा। जॉर्ज जो आश्चर्यचकित है उसकी ओर विनीत भाव से देखता है।)

– जॉर्ज-सुनो, सिरिल, तुम एक या दो बार मेरे साथ क्लब गए हो। वे मेरा मजाक नहीं उड़ाते हैं और न भड़कीला-मुटल्ला पीअर्सन कहते हैं, क्या कहते हैं? (सिरिल घबरा जाता है और झिझकता है।) (क्रोध में आते हए) बोलो, मुझे बताओ क्या वे ऐसा कहते हैं?

सिरिल-(घबराए स्वर में) अच्छा—हाँ, डैडी मुझे सन्देह है कि वे ऐसा करते हैं। (जॉर्ज स्तब्ध होते हुए कभी एक को देखता है कभी दु

जॉर्ज-(धीरे-धीरे) अच्छा—तो इसका अभिप्राय है मेरा तो नाश ही हो जाएगा।

(जॉर्ज बाईं तरफ से बाहर चला जाता है, धीरे-धीरे ऐसे चलता है मानो किसी ने सिर पर चोट मार दी हो। सिरिल उसे जाता हुआ देखने के बाद क्रोधपूर्वक श्रीमती पीअर्सन की तरफ मुड़ता है।

सिरिल-मम्मी, अब तुम्हें पापा को यह नहीं बतलाना चाहिए था। यह उचित नहीं है। तुमने उनकी भावनाओं को ठेस पहुँचायी है। मेरी भी।

श्रीमती पीअर्सन-कई बार लोगों की भावनाओं को ठेस पहुँचाना उनके लिए बढ़िया रहता है। सच्ची बात सुनकर किसी आदमी को ज्यादा देर तक पीड़ा महसूस नहीं होनी चाहिए। यदि तुम्हारा पिता इतना बार बार क्लब न जाया करता तो शायद वे उसका मजाक उड़ाना बन्द कर देते।

सिरिल-(निराश भाव से) मुझे सन्देह है। हम

Mrs. Pearson [severely] possibly……………………into the kitchen. (Page 46)

कठिन शब्दार्थ : severely (सीविअ(र)लि) = गम्भीरता से, opinion (अपिन्यन्) = विचारधारा, worth (वथ्) = लायक, मूल्य, grey hound (ग्रे हाउन्ड्) = दौड़ में या शिकार में हिस्सा लेने वाले कुत्ते, tracks (ट्रैक्स) = रास्ता, sulkily (सल्किक्लि) = नाराजगी से, sharp (शाप्) = तेज, hurried (हरिड) = जल्दी की, knocking (नॉकिङ्) = खटखटाना, smacking (स्मैकिङ्) = जोर से चूमना, silly old bag (सिलि ओल्ड बैग्) = मूर्ख बूढ़ी मुटल्ली, ushering in (अश(रि)ङ् इन्) = अन्दर आते हुए, spoilt (स्पाइल्ट) = बिगड़ा हुआ, piecan (पाइकैन्) = कचोरी का डिब्बा, protesting (प्रटेस्टिङ्) = विरोध करते हुए, manage (मैनिज्) = नियन्त्रित करने दो, glowering (ग्लाउअ(रि)ङ्) = गुस्से से देखते हुए, stalks off (स्टॉक्स ऑफ्) = गुस्से में चले जाना।

हिन्दी अनुवाद : श्रीमती पीअर्सन-(गम्भीरता से) सम्भवतया तुम करते हो, लेकिन मुझे जो शंका है कि क्या तुम्हारी विचारधारा उचित है अथवा नहीं। तुम क्या जानते हो? कुछ नहीं। तुम बहुत अधिक धन और समय शिकारी कुत्तों की दौड़ पर खर्च कर देते हो तथा धूलभरी सड़कों पर तथा बर्फ के प्रदर्शनों पर।

सिरिल-(बड़बड़ाता हुआ) अच्छा, तो क्या, यदि मैं करता हूँ? मुझे किसी न किसी तरह अपना मनोरंजन तो करना ही है। क्या नहीं करना है?

श्रीमती पीअर्सन-यदि तुम वास्तव में अपना मनोरंजन करते तो मुझे बहुत बुरा नहीं लगता। किन्तु क्या तुम ऐसा करते हो? और ये सब तुम्हें किधर ले जा रहे हैं? (बाईं तरफ दरवाजे पर जोर-जोर से खटखटाने की आवाज आती है।)

सिरिल-शायद कोई मेरे लिए आया है। मैं देखता हूँ।

(सिरिल बाईं तरफ से जल्दी से बाहर चला जाता है। वह एक पल में लौट आता है और अपने पीछे की तरफ दरवाजे को बन्द कर देता है।)

वहाँ वह मोटी बूढ़ी मूर्ख पड़ोसन श्रीमती फिट्जजैरेल्ड है। आप उसे यहाँ पसन्द नहीं करेंगे। क्या करेंगे?

श्रीमती पीअर्सन-(तेजी से) निश्चयपूर्वक मैं उसे यहाँ पसन्द करूँगी। उससे अन्दर आने को कहो। और उसे बूढ़ी मूर्ख मत कहना। वह बहुत अच्छी महिला है जिसमें तुम सबसे ज्यादा अक्ल है।

(सिरिल बाईं तरफ से जाता है, श्रीमती पीअर्सन अपनी बीयर समाप्त करती है और अपने होंठों को चाटती है। सिरिल बाईं तरफ से पुनः प्रवेश करता है। श्रीमती फिट्जजैरेल्ड उसके साथ अन्दर आती है जो दरवाजे पर हिचकिचाती है।)

अन्दर आ जाओ, अन्दर आ जाओ, श्रीमती फिट्जजैरेल्ड।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(बाईं तरफ मंच के मध्य में आते हुए, उत्सुकता से) मैं—अभी-अभी आश्चर्य कर रही थी—क्या सब कुछ ठीक है…?

सिरिल-(बड़बड़ाते हुए) नहीं, ठीक नहीं है।

श्रीमती पीअर्सन-(तेजी से) निस्सन्देह सब कुछ ठीक है, तुम चुप रहो।

सिरिल-(क्रोधपूर्वक तथा ऊँचे स्वर में) मैं चुप क्यों रहूँ?

श्रीमती पीअर्सन-(ऊँचे स्वर में) क्योंकि मैं तुमसे कह रही हूँ—तुम जो एक मूर्ख, बिगड़े हुए कचौरी के डिब्बे जैसे लगते हो।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(घबराहट के साथ विरोध करती हुई) ओह नहीं। निःसन्देह

श्रीमती पीअर्सन-(कठोर स्वर में) अब, श्रीमती फिट्जजैरेल्ड, कृपया मुझे मेरे परिवार को अपने ढंग से चलने दो, कृपा करके!

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-ठीक है, लेकिन सिरिल……

सिरिल-(नाराजगी से चेहरा लाल करते हुए) तुम्हारे लिए मैं मि. सिरिल पीअर्सन हूँ। कृपया श्रीमती फिट्जजैरेल्ड। (सिरिल अकड़ के साथ रसोई घर की ओर चला जाता है।)

Mrs. Fitzgerald : [Moving to the settee……………….eyes out. (Page 47)

कठिन शब्दार्थ : whispering (विस्प(रि)ङ्) = कानाफूसी करना, impatiently (इम्पेल्लि ) = अधीरता से, mark (माक्) = ध्यान देना, glumly (ग्लम्लि ) = उदासी से, visitor (विजिट(र)) = आगन्तुक।

हिन्दी अनुवाद : श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(सोफे के पास आती हुई धीमे स्वर में) ओह–प्रिय क्या हो

रहा है?

श्रीमती पीअर्सन-(शान्त भाव से) ज्यादा नहीं। केवल उनको उनकी जगह पर ला रही थी, बस इतना ही। वह कार्य तुम्हें बहुत पहले कर लेना चाहिए था।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-क्या जॉर्ज घर पर है? (वह श्रीमती पीअर्सन के पास सोफे पर बैठ जाती है।) श्रीमती पीअर्सन-हाँ, मैं उसे बता रही थी कि वे क्लब में उसके बारे में क्या सोचते हैं?

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-अच्छा, वे उसके बारे में बहुत ज्यादा सोचते हैं। क्या नहीं सोचते?

श्रीमती पीअर्सन-नहीं, वे नहीं सोचते। और अब वह इसे जानता है।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(हतोत्साहित होकर) ओह, प्रिय, काश तुमने ऐसा न किया होता, श्रीमती फिट्जजैरेल्ड…….

श्रीमती पीअर्सन-बेवकूफ! उन सबको बहुत लाभ हो रहा है और वे जल्दी ही तुम्हारे इशारों पर नाचेंगे—तुम देखोगी।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-मैं नहीं समझती कि उनको अपने इशारों पर नचाना चाहती हूँ …..

श्रीमती पीअर्सन-(बेचैन होते हुए) हाँ, तुम जो चाहोगी वे वैसा ही करेंगे तीनों के तीनों। मेरे शब्द याद रखना श्रीमती पीअर्सन।

(जोर्ज उदासी के साथ बायीं तरफ से प्रवेश करता है। उसे द:खद आश्चर्य होता है जब वह वहाँ आयी आगन्तुक को देखता है। वह बाईं ओर पड़ी आरामकुर्सी की ओर जाता है और ढेर होकर बैठ जाता है तथा उदास होकर अपना पाइप जला लेता है। फिर वह श्रीमती पीअर्सन के बाद श्रीमती फिट्जजैरेल्ड की तरफ देखता है जो उसकी ओर चिन्तित निगाहों से देख रही होती है।)

जॉर्ज-श्रीमती फिट्जजैरेल्ड, मेरे विचार से आप एक मिनट के लिए आई होंगी।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(जिसे समझ में नहीं आता कि वह क्या बोल रही है?) अरे हाँ—मैं ऐसा ही समझती हूँ, जॉर्ज।

जॉर्ज-(चकित होते हुए) जॉर्ज!

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-ओह! क्षमा करना…..

श्रीमती पीअर्सन-(बेचैनीपूर्वक) इससे क्या अन्तर पड़ता है? तुम्हारा नाम जॉर्ज है, क्या नहीं है? तुम क्या समझते हो कि तुम क्या हो? ड्यूक ऑफ एडिनबर्ग?

जॉर्ज-(क्रोधपर्वक) उसका इस बात से क्या मतलब है? तनिक वह मझे बता दो। और क्या उसके द्वारा मुझे जॉर्ज कहे बिना पेट नहीं भरा क्या? कोई चाय नहीं। भड़कीला-मोटा पीअर्सन। और बेचारी डोरिस की ऊपर से रो-रो कर आँखें सूज गई हैं—हाँ, रो-रोकर उसकी आँखें सूज गई हैं।

Mrs. Fitzgerald (waiting) oh-dear…………….. must be tiddly. (Pages 48-49)

कठिन शब्दार्थ : wailing (वेलिङ्) = विलाप करना, at sixes and sevens (एट् सिक्स्ज ऐन्ड् सेन्ज) = अस्त-व्यस्त, excuse (इक्स्क्यू ज्) = क्षमा करना, intimidated (इन्टिमिडेट्ड) = भयभीत हुई, taunting (टॉन्टिङ्) = ताने मारना, loosing his temper (लूसिङ् हिज् टेम्प(र)) = गुस्सा आना, glaring (ग्लेअरिङ्) = क्रूर दृष्टि से देखना, savagely (सैविज्लि ) = जंगली की तरह, slap (स्लैप्) = थप्पड़ मारना, moaning (मॉनिङ्) = कराहते हुए, off my chump (ऑफ माइ चम्प) = दिमाग फिरा हुआ।

हिन्दी अनुवाद : श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(विलाप करते हुए) ओह—प्रिय—मुझे यह जान लेना चाहिए था।

जॉर्ज-(उसकी तरफ घूरता हुआ, नाराज होकर) तुम्हें जान लेना चाहिए था! तुम्हें क्यों जान लेना चाहिए था? तुमसे इसका कोई सम्बन्ध नहीं है, श्रीमती फिट्जजैरेल्ड। देखो-अभी यहाँ हमारा सब गड़बड़ हो गया है—इसलिए शायद आप हमें क्षमा करेंगी….

श्रीमती पीअर्सन-(श्रीमती फिट्जजैरेल्ड के उत्तर देने से पहले) मैं तुम्हें क्षमा नहीं करूँगी, जॉर्ज पीअर्सन। अगली बार जब कोई मित्र या पड़ौसी मुझसे मिलने आए तो तुम अपने मुँह से केवल नमस्कार या आपका क्या हाल है? बोलोगे या कुछ और और बिना कोई शब्द बोले अन्दर आकर मत बैठो। यह बुरी आदत है।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(बेचैनी से) नहीं—सब ठीक है..

श्रीमती पीअर्सन-नहीं, सब ठीक नहीं है। इस घर में हमें अच्छी आदतें रखनी होंगी अन्यथा मुझे कारण का पता होना चाहिए। (जॉर्ज की तरफ घूरती हुई) सुन लिया?

जॉर्ज-(भयभीत होकर) सुन लिया, क्या!

श्रीमती पीअर्सन-(ताना मारती हुई) तुम उठकर क्लब क्यों नहीं चले जाते? आज एक विशेष रात्रि है, क्या नहीं है? वे तुम्हारा इन्तजार कर रहे होंगे—अच्छा-खासा हँसना चाह रहे होंगे। तो चले जाओ। उन्हें निराश मत करो।

जॉर्ज-(कड़वाहट के साथ) यह सब ठीक हो रहा है। अब उसके सामने मेरी हँसी उड़ाओ। बोलती रहो—मेरी परवाह मत करो। सब गड़बड़ हो गया है! बेचारी डोरिस की आँखें रो-रोकर सूज गई हैं। पड़ोसियों को तमाशा देखने के लिए बुला लिया है ! (अचानक क्रोध में श्रीमती पीअर्सन की ओर घूरते हुए चिल्लाकर) तो ठीक है—उसे सुन लेने दो। तुम्हें क्या हो गया है? क्या तुम्हारा दिमाग फिर गया है—या कुछ और हो गया है?

– श्रीमती पीअर्सन-(जगली की तरह उछलते हुए) यदि तुम मुझ पर इस तरह दुबारा चिल्लाए तो जॉर्ज पीअर्सन मैं तुम्हारे बड़े, मोटे, मूर्ख चेहरे पर थप्पड़ मार दूंगी।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(आह भरते हुए) ओह-नहीं-नहीं-नहीं कृपया श्रीमती फि रेल्ड… (श्रीमती पीअर्सन बैठ जाती है।)

– जॉर्ज-(पागल की तरह उसकी ओर घूरते हुए) या तो मेरा दिमाग खराब है या तुम दोनों का। तुम्हारा यह कहने का क्या मतलब है—’नहीं-नहीं-नहीं-कृपया-श्रीमती फिट्जजैरेल्ड?” देखो-तुम ही तो श्रीमती

फिट्जजैरेल्ड हो। अतः तुम स्वयं को रुकने को क्यों कह रही हो? जब तुम कुछ कर ही नहीं रही हो? उसे रुकने को कहो—तब इसमें कुछ बुद्धिमत्ता की बात होगी। (श्रीमती पीअर्सन को घूरते हुए) मैं सोचता हूँ तुमने थोड़ी-सी पी रखी है।

Mr. Pearson (starting up; savagely) say…… …………bewildered. (Page 49)

कठिन शब्दार्थ : savagely (सैविज्लि) = जंगली की तरह, intimidated (इन्टिमिडेट्ड) = भयभीत होते हुए, wrap (रैप्) = लपेटना, despair (डिस्पेअ(र)) = निराश, fiercely (फिअस्लि ) = तेजी से, उग्र रूप से, grimly (निम्लि) = निराश भाव से, flash of temper (फ्लैश ऑफ टेम्पर) = गुस्सा आना, ticking-off (टिकिङ् ऑफ) = लताड़ना, called off (काल्ड ऑफ्) = बन्द करना, buck teeth (बक् टीथ) = ऊँचे दाँत।

का हिन्दी अनुवाद : श्रीमती पीअर्सन-(एकदम उछलती हुई; जंगली की तरह) फिर से वही कहो, जॉर्ज पीअर्सन।

जॉर्ज-(भयभीत होते हुए) ठीक है, ठीक है, ठीक है।

(डोरिस बाईं ओर से धीरे प्रवेश करती है, दुःखी दिखाई देती है, अभी भी वह शॉल ओढ़े हुए है। श्रीमती पीअर्सन सोफे पर बैठी हुई है।)

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-हैलो–प्रिय डोरिस !

डोरिस-(दुःखी भाव से) हैलो–श्रीमती फिट्जजैरेल्ड!

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-मैंने सोचा कि आज रात को तुम चार्ली स्पेंस के साथ बाहर जा रही हो।

डोरिस-(नाराज होते हुए) उससे आपको क्या करना है?

श्रीमती पीअर्सन-(तेजी से) बकवास बन्द करो!

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(हतोत्साहित होते हुए) नहीं, यह बिल्कुल ठीक है। …….

श्रीमती पीअर्सन-(गंभीरता से) यह ठीक नहीं है। मैं नहीं चाहती कि मेरी बेटी किसी से इस प्रकार बात करे। अब श्रीमती फिट्जजैरेल्ड को उचित ढंग से उत्तर दो डोरिस-या पुनः सीढ़ियों से ऊपर चली जाओ।

[डोरिस आश्चर्य से अपने पिता की ओर देखती है।

जॉर्ज-(निराशा से) मेरी ओर मत देखो। मैंने हार मान ली, मैंने अभी हार मानी है।

श्रीमती पीअर्सन-(उग्रता से) अच्छा? उसे उत्तर दो।

डोरिस-(खीझते हुए) आज रात को मैं चार्ली स्पेंस के साथ बाहर जा रही थी। लेकिन अब रुक गई

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-ओह-कैसी दयनीय बात है, प्रिय ! तुम क्यों नहीं जा रही हो?

डोरिस-[गुस्से में] क्योंकि यदि आप अवश्य जानना चाहती हैं तो मेरी माँ मुझे डाँट रही हैं, मेरी हालत बिगाड़ दी है-और कहती है कि उसके दाँत ऊँचे हैं और बुद्धि मोटी है।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-[बहादुरी से, श्रीमती पीअर्सन से] ओह-तुम को ऐसा नहीं कहना चाहिए।

श्रीमती पीअर्सन-(तेजी से) श्रीमती फिट्जजैरेल्ड, मुझे अपने परिवार को संभालना है-आप अपने को संभालो।

जॉर्ज-(गंभीरता से) अब तुम उसे भी काटने लगी हो, क्या तुम, एनी?

श्रीमती पीअर्सन-(और भी अधिक गंभीर भाव से) वे क्लब में तुम्हारी प्रतीक्षा कर रहे हैं, जॉर्ज, भूल मत जाना और तुम फिर से रोना शुरू मत कर देना डोरिस।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(अचानक उठने का निर्णय करती हुई) बहुत हो गया, बहुत अधिक हो गया। (जॉर्ज और डोरिस उसे पागल की तरह घूरते हैं।)

[To George and Doris] Now ……………. Mrs. Fitzgerald………. (Pages 50-51)

कठिन शब्दार्थ- regret (रिग्रेट) = पश्चाताप करना, deal with (डील् विद्) = निपटना, done for (डन् फॉ(र)) = बर्बाद, bear (बेअ(र)) = सहन करना, can’t stand (कान्ट् स्टैन्ड्) – सहन नहीं कर सकती, insist (इन्सिस्ट्) जोर देना।

हिन्दी अनुवाद-(जॉर्ज तथा डोरिस से) अब तुम दोनों मेरी बात सुनो । मैं श्रीमती फिट्जजैरेल्ड (जल्दी ही स्वयं को ठीक करती है) श्रीमती पीअर्सन के साथ थोड़ी-सी निजी बात करना चाहती हूँ। बड़ी मेहरबानी होगी यदि थोड़ी देर के लिए हमें अकेला छोड़ दो। मैं आपको बता दूंगी जब हमारी बात समाप्त हो जायेगी। कृपया चले जावें । मेरा वादा है कि इसमें आपको कोई हानि नहीं होगी। यहाँ कोई ऐसी बात है जिसका निपटारा केवल मैं ही कर सकती हूँ।

जॉर्ज-(उठते हुए) मुझे खुशी है कि कोई ऐसा कर सकता है क्योंकि मैं तो नहीं कर सकता। आओ, डोरिस।

(जॉर्ज और डोरिस बाईं ओर से बाहर चले जाते हैं। जैसे ही वे जाते हैं श्रीमती फिट्जजैरेल्ड छोटी-सी टेबल के बाईं ओर जाती है और बैठ जाती है। वह श्रीमती पीअर्सन को वैसा ही करने को कहती है।)

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-श्रीमती फिट्जजैरेल्ड, हमें अब पुनः परिवर्तन कर लेना चाहिए। वास्तव में

श्रीमती पीअर्सन-(उठते हुए) क्यों?

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-क्योंकि अब अति हो चुकी है। मैं देख सकती हूँ कि वे सब दुःखी हैं और मैं इसे सहन नहीं कर सकती हूँ।

श्रीमती पीअर्सन-थोड़ा और होने में ही उनकी भलाई है । पहले से ही बहुत परिवर्तन हो गया है। (वह मेज के दायीं तरफ जाती है और बैठ जाती है।)

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-नहीं, मैं अब और नहीं रुक सकती हूँ । वास्तव में हमें अवश्य परिवर्तन कर लेना चाहिए। कृपया जल्दी करो, श्रीमती फिट्जजैरेल्ड।

श्रीमती पीअर्सन-अच्छा, यदि तुम जोर देती हो तो…

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-हाँ-मैं जोर देती हूँ-कृपया-कृपया।

[वह उत्सुकता से अपने हाथ टेबल के उस पार फैला देती है। श्रीमती पीअर्सन उनको पकड़ लेती है।] श्रीमती पीअर्सन-अब शांत हो जाओ। शरीर को ढीला छोड़ दो।

(श्रीमती पीअर्सन और श्रीमती फिट्जजैरेल्ड एक-दूसरे को टकटकी लगाए देखती हैं। बिल्कुल पहले की भांति धीरे-धीरे बोलते हुए अर्श टाटा-डम-अर्श टाटा-लम-अर्श टाटा लमडमबोना…….)

वे पहले की भाँति वही किया करती हैं। पहले निर्जीव-सी बन जाती हैं और फिर जीवित हो जाती हैं। किन्तु इस बार वे अपने स्वाभाविक व्यक्तित्व को प्राप्त कर लेती हैं।

श्रीमती फिटजरेल्ड-वाह, मुझे तो बहत आनन्द महसुस हआ।

श्रीमती पीअर्सन-मुझे महसूस नहीं हुआ।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-अच्छा, तुम्हें महसूस होना चाहिए था। अब—सुनो, श्रीमती पीअर्सन। दोबारा उससे नरमी मत दिखाना अन्यथा यह सब बेकार चला जाएगा।

श्रीमती पीअर्सन-मैं कोशिश करूँगी कि बेकार न हो. श्रीमती फिटजजैरेल्ड।

Mrs. Fitzgerald’-They’ve not had ……………….. back at her. (Pages 51-52)

कठिन शब्दार्थ-appreciate (अप्रीशिएट्) = प्रशंसा करना, apologising (अपॉलजाइजिङ्) = क्षमा मांगते हुए, tough (टफ्) = कठोर, firm (फम्) = मजबूत, give me a hand (गिव् मी ए हैन्ड्) = मेरी सहायता करो, rummy (रमी) = ताश का एक खेल, apprehensively (ऐप्रिहेन्सिक्लि) = . आशंका जनित उम्मीद।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-उनका उतनी देर तक इलाज नहीं हुआ जितनी देर तक मैं करना चाहती थी एक या दो घण्टे का और सख्त इलाज हो जाता तो बात पक्की हो जाती…….।

– श्रीमती पीअर्सन-मुझे विश्वास है अब वे पहले से बेहतर हो जावेंगे। यद्यपि मुझे समझ में नहीं आ रहा कि मैं कैसे समझाऊँगी….

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(कठोर स्वर में) कुछ समझाने मत लग जाना या क्षमा मत मांगना, अन्यथा सब नष्ट हो जाएगा।

श्रीमती पीअर्सन-(थोड़ा जोश में) तुम्हारे लिए यह सब ठीक है श्रीमती फिट्जजैरेल्ड। आखिर वे तुम्हारे पति और बच्चे नहीं हैं….

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(प्रभावशाली ढंग से) अब तुम मेरी बात सुनो। तुमने स्वीकार किया था कि तुम उन्हें बिगाड़ रही हो और वे तुम्हारी प्रशंसा नहीं करते थे। किसी भी तरह की क्षमा मांगोगी, कुछ भी स्पष्टीकरण दोगी तो तुम पुनः वहीं लौट आओगी जहाँ थीं। प्रिय मैं तुम्हें चेतावनी दे रही हूँ। थोड़ा कठोर निगाह से देखना, थोड़ी डांट लगाना, केवल कभी-कभी जिससे उन्हें यह एहसास हो जाए कि तुम उनके साथ कठोरता का बर्ताव करती हो । यदि तुम चाहो कि इसका असर रहना चाहिए तो हम इसकी जाँच कर सकते हैं।

श्रीमती पीअर्सन-कैसे?

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-हाँ, तो तुम उनसे क्या करवाना चाहोगी और जो वे नहीं करते हैं? एक बार फिर घर पर रुकें?

श्रीमती पीअर्सन-हाँ, खाना बनाने में मेरी मदद करें ……

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-कोई भी काम जो तुम उनसे करवाना चाहती हो जिससे तुम्हें आनन्द मिलता हो

यद्यपि उन्हें मिलता हो या न मिलता हो?

श्रीमती पीअर्सन-(हिचकिचाते हुए) अच्छा—हाँ, तो मुझे ताश से रमी खेलने का शौक है लेकिन सचमुच मुझे ऐसा करने का मौका कभी ही मिलता है-क्रिसमिस को छोड़ कर

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(उठते हुए) तो फिर ठीक है। (वह बायीं तरफ वाले दरवाजे की ओर जाती है और पीछे घूमती है।) किन्तु याद रखना-दृढ़ बने रहना नहीं तो सब खेल खत्म हो जाएगा। (वह दरवाजा खोलती है, आवाज लगाते हुए) सुनो! अब तुम सब लोग अन्दर आ सकते हो। (दरवाजे से परे हटते हुए, थोड़ा दायीं ओर होते हुए, धीमे स्वर में) किन्तु याद रखना—याद रखना-दृढ़ बने रहना।

(जॉर्ज, डोरिस और सिरिल दरवाजे से पंक्तिबद्ध अन्दर आते हैं और आशंका से श्रीमती पीअर्सन की ओर देखते हैं।)

मैं जा रही हूँ। ताकि तुम स्वयं आनन्द मना सको।

(परिवार के लोग उत्सुकतापूर्वक श्रीमती पीअर्सन की तरफ देखते हैं, जो मुस्करा देती है। उन्हें बहुत राहत महसूस होती है और वे बदले में मुस्करा देते हैं।)

Doris—[anxiously] Yes, Mother…………round mother as………. (Page 52)

कठिन शब्दार्थ : nodding (नोडिङ्) = सिर हिलाते हुए, suits (सूट्स) = उपयुक्त, cluster round (क्लस्ट(र) राउन्ड्) = चारों ओर इकट्ठा होना।।

डोरिस-[चिन्तामुक्त] हाँ, माँ?

श्रीमती पीअर्सन-(मुस्कराते हुए) यह देखकर कि तुम बाहर नहीं जाना चाहती हो, मैं तुम्हें बतलाती हूँ कि मेरे विचार से हमें क्या करना चाहिए।

श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-(अन्तिम चेतावनी देती हुई) याद रखना!

श्रीमती पीअर्सन-(सिर हिलाकर हामी भरते हुए, फिर तीखे भाव से परिवार की ओर देखते हुए) कोई आपत्ति नहीं होगी, मेरे विचार से?

जॉर्ज-(विनम्रतापूर्वक) नहीं, माँ जो कुछ आप कहती हैं……

श्रीमती पीअर्सन-(मुस्कराते हुए) मैंने सोचा कि हम रमी का अच्छा पारिवारिक खेल खेलेंगे और तब तुम बच्चे लोग खाना तैयार कर लोगे जबकि मैं तुम्हारे पिता के साथ बात करूँ।

जॉर्ज-(दृढ़ता से) मेरे लिए उपयुक्त है। [वह बच्चों की ओर चुनौतीपूर्ण दृष्टि से देखता है] तुम दोनों का क्या विचार है?

सिरिल-(जल्दी में) हाँ—यह बिल्कुल ठीक है।

डोरिस-(हिचकिचाते हुए) अच्छा—मैं…….

श्रीमती पीअर्सन-(तीखे स्वर में) क्या? बोलो!

डोरिस-(जल्दी से) ओह—मैं सोचती हूँ यह बढ़िया रहेगा………

श्रीमती पीअर्सन-(मुस्कराते हुए) अलविदा, श्रीमती फिट्जजैरेल्ड। दुबारा शीघ्र ही आना। श्रीमती फिट्जजैरेल्ड-हाँ, प्रिय। सभी को शुभरात्रि—अच्छा समय बिताना।

(श्रीमती फिट्जजैरेल्ड बायीं ओर से प्रस्थान करती है और पूरा परिवार माँ के चारों ओर इकट्ठा हो जाता है

पर्दा गिरता है