Rajasthan Board RBSE Class 12 English Rainbow Chapter 9

RBSE Class 12 English Rainbow Chapter 9 Textual Questions

Activity 1: Comprehension
A. Say whether the following statements are True or False. Write ‘T’ for true and ‘F’ for false:

Question 1.
The story ‘A Walk Through the Fire’ refers back to the year 1947.

Question 2.
The narrator did not like the food at the Chinese Restaurant in Secunderabad.

Question 3.
Driving back from Secunderabad to the army camp the narrator happens to meet Prof Rao on the way.

Question 4.
The old man who was lying injured on the road was the narrator’s old friend.

Question 5.
The old man’s English was flawless.

Question 6.
The Indian fire walker had not given any instructions to the narrator before he made him walk through the fire.

Question 7.
The narrator completed his walk through the fire without any damage.

Question 8.
The old man’s answers to most of the narrator’s questions were in yes/no.

Question 9.
Professor Rao was not the leader of the cultural troupe.
Answer:
1. True
2. False
3. False
4. False
5. True
6. False
7. True
8. False
9. False

B. Answer the following questions in about 30-40 words each:
निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर लगभग 30-40 शब्दों में दीजिए:

Question 1.
What was the narrator’s profession and where was he posted when he witnessed the entertainment show?
वर्णनकर्ता क्या काम करता था और वह कहाँ नियुक्त था जब उसने वह मनोरंजन वाला प्रदर्शन देखा?
Answer:
The narrator was a soldier in the British Army. When he witnessed the entertainment show at that time he was posted at a Sapper Camp at Begampet which was a small place in Hyderabad State.

वर्णनकर्ता अंग्रेजों की सेना में सैनिक था। जब उसने मनोरंजन वाला प्रदर्शन देखा था, उस समय वह बेगमपेट जो कि हैदराबाद राज्य में एक छोटी सी जगह थी, में एक सैपर कैम्प में नियुक्त था।

Question 2..
Where did the narrator eat a nice meal one evening and how did he feel after eating?
वर्णनकर्ता ने एक शाम कहाँ अच्छा खाना खाया और खाने के बाद उसने कैसा महसूस किया?
Answer:
One evening, the narrator had a nice meal at a Chinese restaurant at Secunderabad where he had gone on a visit. While driving back to the camp after eating the meal, he was at peace with the world.

एक शाम वर्णनकर्ता ने सिकन्दराबाद में जहाँ वह एक काम से गया था एक चाइनीज रेस्टोरेन्ट में अच्छा खाना खाया। खाना खाने के बाद शिविर में लौटते समय वह बहुत शान्ति महसूस कर रहा था।

Question 3.
Where and in what condition did the narrator meet the old man while driving back to the army camp in the evening?
शाम को सैनिक शिविर में वापस जाते समय वर्णनकर्ता को कहाँ और किस अवस्था में वृद्ध व्यक्ति मिला?
Answer:
While driving back to the army camp in the evening, the narrator met an elderly Indian at a point of the road where it was divided into a fork. The old man was lying quite still with his face covered with blood on the right-hand fork.

शाम को सैनिक शिविर की ओर लौटते समय, वर्णनकर्ता को सड़क पर एक जगह जहाँ वह दो भागों में विभाजित हो रही थी, एक वृद्ध भारतीय मिला। दाहिने हाथ वाली सड़क पर वह वृद्ध व्यक्ति बिल्कुल शान्त व खून से लथपथ चेहरा लिए पड़ा था।
Question 4.
Whom did the narrator see dissolving in the darkness of the night? Why did they seem in a hurry?
वर्णनकर्ता ने रात के अन्धेरे में किनको गुम होते देखा? वे जल्दबाजी में क्यों लग रहे थे?
Answer:
The narrator saw some shadowy figures dissolving in the darkness of the night. They seemed to be in a hurry because they wanted to put as much distance as they could in the shortest possible time.

वर्णनकर्ता ने रात के अँधेरे में गायब होती कुछ छाया जैसी आकृतियों को देखा। वे जल्दबाजी में लग रही थीं क्योंकि वे अपने और वर्णनकर्ता के बीच कम से कम समय में जितनी ज्यादा दूरी बना सकती थीं बनाना चाहती थीं।

Question 5.
What did the object lying on the fork road look like? What did it turn out to be on the narrator’s reaching there?
दो भागों में बँटी सड़क पर पड़ी चीज कैसी दिखती थी? वर्णनकर्ता के वहाँ पहुँचने पर वह चीज़ क्या निकली?
Answer:
The object lying on the fork road looked like a bundle of white clothing. On the narrator’s reaching near the object, it turned out to be an elderly Indian lying quite still with his face covered with blood.

बँटी हुई सड़क पर पड़ी चीज़ सफेद कपड़े की गठरी सी दिखती थी। वर्णनकर्ता के वस्तु के पास पहुँचने पर, वह खून से लथपथ चेहरे वाला पूर्णतः शान्त एक वृद्ध भारतीय निकला।

Question 6.
Who were the assailants, according to the wounded man?
घायल व्यक्ति के अनुसार आक्रमण करने वाले लोग कौन थे?
Answer:
According to the wounded man, the persons who had attacked him and had beaten him severely were two youths. They belonged to the Anglo-Indian community.

घायल व्यक्ति के अनुसार वे लोग जिन्होंने उस पर आक्रमण किया था और उसे बुरी तरह पीटा था, दो नौजवान थे। वे आंग्ल-भारतीय समुदाय के थे।

Question 7.
What did the writer do instantly to help the wounded old man? Was his condition as serious as the narrator had thought of?
लेखक ने उस घायल वृद्ध की सहायता के लिए तुरन्त क्या किया? क्या उसकी स्थिति इतनी गंभीर थी जितनी लेखक ने सोची थी?
Answer:
The writer had only a large handkerchief with which he cleared the blood from the old man’s face. In fact, the conditions of the old man were not serious. He was conscious and had no internal injuries.

लेखक के पास केवल एक बड़ा रूमाल था जिससे उसने वृद्ध व्यक्ति के चेहरे से खून को साफ किया। वस्तुतः घायल वृद्ध की स्थिति उतनी गंभीर नहीं थी। वह होश में था और उसे कोई भीतरी चोट नहीं लगी थी।

Question 8.
When and where was the entertainment show organized?
मनोरंजन के प्रदर्शन का आयोजन कब और कहाँ हुआ?
Answer:
The entertainment show was organised at the Sapper Camp at Begumpet in Hyderabad state. It was organised on the night before the narrator was due to leave to the General Headquarters at New-Delhi, the place of his new posting.

मनोरंजन वाला प्रदर्शन हैदराबाद राज्य में बेगम पेट में सैपर कैम्प में किया गया था। जिस दिन वर्णनकर्ता को नयी दिल्ली स्थित मुख्यालय, अपने नयी नियुक्ति के स्थान, के लिए प्रस्थान करना था उससे पूर्व की रात्रि को यह प्रदर्शन आयोजित किया गया था।

Question 9.
Name three important feats performed in the show.
प्रदर्शन में दिखाये गए तीन महत्वपूर्ण करतबों के नाम बताओ?
Answer:
The first feat was the bending of an iron bar in a U-shape pressed against the neck of the troupe leader, Professor Rao. Next, a five-ton truck was driven across his chest. The last one was a walk through the fire by an elderly gentleman.

पहली करतब था- लोहे की एक छड़ को दल के नेता प्रोफेसर राव के गले पर दबाकर U आकार में मोड़ना। दूसरा था- उसके सीने से पाँच टन वजनी ट्रक का गुजरना। आखिरी करतब था- एक वृद्ध व्यक्ति द्वारा आग में होकर चलना।

Question 10.
How was ‘the next meeting’ between the old man and the narrator a big surprise for the latter? Where was it?
वर्णनकर्ता के लिए उस वृद्ध व्यक्ति और उसका ‘अगली बार मिलना’ किस प्रकार एक बड़ा आश्चर्य था? यह मिलना कहाँ हुआ?
Answer:
‘The next meeting’ between the old man and the narrator was a big surprise to the narrator because the old man was the same person whom he had found wounded by the roadside. This meeting happened at the Sapper Camp.

उस वृद्ध व्यक्ति और वर्णनकर्ता का अगला मिलन वर्णनकर्ता के लिए बड़ा आश्चर्य था क्योंकि यह वृद्ध वही व्यक्ति था जिसे उसने घायल अवस्था में सड़क के किनारे पाया था। यह मिलन सैपर कैम्प में हुआ।

C. Answer the following question in about 125 words each:
निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर लगभग 125 शब्दों में दीजिए:

Question 1.
Describe the narrator’s first meeting with the injured old man.
घायल वृद्ध से वर्णनकर्ता की पहली मुलाकात का वर्णन कीजिए।
Answer:
The first meeting between the narrator and the injured old man took place one evening when he was driving back from Secunderabad to his Sapper Camp at Begumpet in Hyderabad. At one place, he saw something lying on the road in the headlights. It turned out to be an elderly Indian lying still with his face covered with blood. Clearly, he was severely beaten. The narrator cleaned the blood with his pocket handkerchief. The injured man thanked him in perfect English for his timely intervention and told him about his assailants. The narrator gave him a lift in his truck and dropped him at his destination. The old man thanked him again. He promised to return his washed handkerchief on their next meeting and he disappeared into the darkness of the night.

वर्णनकर्ता और घायल वृद्ध की पहली मुलाकात तब हुई थी जब वह एक शाम सिकन्दराबाद से ट्रक में हैदराबाद में बेगमपेट में अपने सैपर कैम्प को वापस जा रहा था। एक जगह ट्रक की रोशनी में उसने सड़क पर कोई चीज़ देखी। वह खून से लथपथ चेहरे वाला शान्त एवं वृद्ध भारतीय निकला। स्पष्ट रूप से उसे बुरी तरह से पीटा गया था, वर्णनकर्ता ने उसका खून अपने रूमाल से साफ किया। घायल व्यक्ति ने उसे उसके सही समय पर आने के लिए शुद्ध अंग्रेजी में धन्यवाद दिया। वर्णनकर्ता ने उसे अपने ट्रक में बिठाया और उसके गन्तव्य स्थान पर छोड़ दिया। वृद्ध ने उसे फिर धन्यवाद दिया। उसने उसका धुला हुआ रूमाल उनकी अगली मुलाकात के समय लौटाने का वचन दिया और वह रात के अन्धेरे में गायब हो गया।

Question 2.
Who was Prof. Rao and how did he perform two great feats of strength?
प्रोफेसर राव कौन थे और उन्होंने शक्ति के दो बड़े करतब किस प्रकार दिखाए?
Answer:
Professor Rao was the leader of a troupe of Indians. He visited the Sapper Camp at Begumpet to perform amazing feats of strength. In his first great feat, Prof. Rao pressed a twelve feet long iron bar horizontally against his throat. He arranged six volunteers each on either side of him. They pushed the bar with all their might and the iron-bar was bent into a U-shape around his neck. In his second and un-forgettable feat, of strength, he lay down under a five-ton army truck with men crowded into it. His chest was placed in line with one of the rear wheels. An old railway sleeper was placed alongside his chest to form a ramp. Then the truck was driven quickly on the sleeper and across the professor’s chest.

प्रोफेसर राव भारतीयों के दल के प्रमुख थे। वह बेगमपेट में सैपर कैम्प में शक्ति के आश्चर्यजनक रतब दिखाने आए थे। अपने पहले बड़े करतब में, प्रोफेसर राव ने एक बारह फुट लम्बी लोहे की छड़ को अपने गले पर समानान्तर रूप में रखा। उन्होंने अपने दोनों तरफ छः छः स्वयंसेवकों को लगाया। उन्होंने (स्वयंसेवकों ने) लोहे की छड़ को पूरी ताकत से धकेला और वह लोहे की छड़ उनके (प्रोफेसर राव के) गले के चारों ओर यू आकार में मोड़ दी गई। शक्ति के अपने दूसरे और अविस्मरणीय करतब में, वे लोगों से भरे हुए पाँच टन वजनी सैनिक ट्रक के नीचे लेट गए। उनका सीना पिछले पहियों में से एक की सीध में रखा गया। एक पुराना रेलवे का तख्ता उनके सीने के सहारे सटाकर ढलान बनाने के रूप में रखा गया। फिर ट्रक को तेजी से तख्ते पर और प्रोफेसर के सीने पर चलाया गया।

Question 3.
What did the narrator feel before, during and after the walk through the fire?
वर्णनकर्ता ने आग पर चलने के पहले, आग पर चलने के दौरान और बाद में क्या महसूस किया?
Answer:
Before walking through the fire, the narrator felt ice-cold with fear even at the very thought of it. But during the walk with closed eyes, he concentrated hard on green fields in England. He felt that he was walking along the Rockfield Road just outside Monmouth near Hendre Park. There were green fields on either side of him. The scene was infinitely peaceful. It was a lovely summer day. He could feel the warmth of the sun-rays through his clothing. His mind was wonderfully and completely at rest. After the walk, he felt himself suddenly go cold as though the sun had disappeared behind the clouds. He opened his eyes and found himself standing with his back to the fire trench. In this act of fire walking, he felt a mysterious state of mind full of divine peace and joy.

आग में होकर चलने से पहले, वर्णनकर्ता ने उसके विचार-मात्र से ही डर के मारे बर्फ समान ठंडा महसूस किया। लेकिन आँख बन्द करके (आग में) चलने के दौरान उसने इंग्लैण्ड में हरे-भरे खेतों पर ध्यान केन्द्रित किया। उसे लगा कि वह हेन्डर पार्क के पास मोनमाउथ के ठीक बाहर रोचफील्ड की सड़क पर चल रहा हो। उसके दोनों तरफ हरे-भरे खेत थे। दृश्य असीमित रूप से शान्तिपूर्ण था। यह ग्रीष्मकाल का सुन्दर दिन था। उसे कपड़ों के अन्दर सूरज की किरणों की गर्मी महसूस हो रही थी। उसका मस्तिष्क आश्चर्यजनक रूप से और पूरी तरह शान्त था। आग में से चलने के बाद उसे अचानक ठंडक महसूस हुई जैसे सूरज बादलों के पीछे छिप गया हो। उसने आँखें खोलीं और अपने आपको आग वाली खाई की ओर पीठ किये खड़ा हुआ पाया। आग पर चलने के इसे करतब में उसने एक रहस्यपूर्ण मानसिक अवस्था का अनुभव किया जो दिव्य शांति और आनंद से पूर्ण थी।

Question 4.
Where and when does the next meeting of the author and old man take place? How does the author recognize him?
लेखक और वृद्ध व्यक्ति की अगली भेंट कहाँ और कब होती है? लेखक उसे कैसे पहचानता है?
Answer:
The next meeting of the author and the old man takes place at the Sapper Camp at Begampet a few weeks after their first meeting. He was a member of the troupe of Indians visiting the camp for a show of amazing feats of strength. During the show, the author saw an elderly gentleman digging up a shallow trench. He then filled it with red-hot coals. He splashed water on his feet and walked over the coals along the whole length of the trench and back the same way. He squatted on the ground and invited others to inspect his feet. As the author knelt down beside him to check his feet, he felt something thrust into his hand. It was the same handkerchief which was used to clean the face of the wounded old man. It was then the author recognised him.

लेखक और उस वृद्ध व्यक्ति की अगली भेंट उनकी पहली भेंट के कुछ हफ्ते बाद बेगमपेट में सैपर कैम्प में होती है। वह कैम्प में शक्ति के आश्चर्यजनक करतब दिखाने आये भारतीयों के दल का एक सदस्य था। प्रदर्शन के दौरान, लेखक ने वृद्ध व्यक्ति को उथली खाई खोदते हुए देखा। उसने फिर उसे लाल गर्म अंगारों से भर दिया। उसने पैरों पर पानी छिड़का और खाई की पूरी लम्बाई पार की और उसी तरह वापस अंगारों पर चला। वह जमीन पर बैठ गया और दूसरों को अपने पैरों की जाँच करने के लिए आमंत्रित किया। जब लेखक उसके पैरों की जाँच करने के लिए उसके पास बैठने के लिए झुका, उसे अपने हाथ में कुछ थमा देने जैसा महसूस हुआ। यह वही रूमाल था जिसे घायल वृद्ध के चेहरे को साफ करने के काम में लिया गया था। तब लेखक ने उसे पहचाना।

Question 5.
What does the old man meanwhile saying to the narrator “Some things are known to all Sahib, but others only to a few” and “How the body is covered is of no importance compared with how the mind behaves”?
वर्णनकर्ता से वृद्ध व्यक्ति ने जब यह कहा, “कुछ बातें सबको पता होती हैं साहिब, लेकिन दूसरी बातें कुछ लोगों को ही” और ”शरीर कैसे ढका हुआ है यह उतना महत्वपूर्ण नहीं जितना कि मस्तिष्क कैसे व्यवहार करता है” उसके कहने का अर्थ क्या था?
Answer:
When the author asked the old man how he had known that he would come to his rescue, he said, “Some things are known to all, Sahib, others to only a few.” The old man meant to say that everybody on the earth has ordinary sensory powers but only a few have extraordinary powers like prescience. When the author wanted to know about his excellent English, the old man said, “How the body is covered is of no importance compared with how the mind behaves.” He meant to say that probably the author was deceived by his outward appearance. The old man must have been an educated person who had renounced worldly things to lead the life of an ascetic.

जब लेखक ने उस वृद्ध व्यक्ति से पूछा कि उसे कैसे को पता था कि वह उसे बचाने के लिए आएगा तो उसने कहा, “कुछ बातें सबको पता होती हैं, साहब, दूसरी कुछ ही को पता होती हैं।” वृद्ध व्यक्ति के कहने का अर्थ था कि सामान्य संवेदी शक्तियाँ पृथ्वी पर सबके पास होती हैं लेकिन असामान्य शक्तियाँ, जैसे पूर्वबोध, कुछ ही लोगों के पास होती हैं। जब लेखक ने उसकी अच्छी अंग्रेजी के बारे में जानना चाहा तो वृद्ध व्यक्ति ने कहा, ‘शरीर कैसे ढका है यह उतना महत्वपूर्ण नहीं है जितना कि मस्तिष्क कैसे काम करता है।” उसके कहने का अर्थ था कि शायद लेखक उसके बाहरी आवरण को देखकर धोखा खा गया है। वह वृद्ध व्यक्ति शिक्षित रहा होगा जिसने एक तपस्वी का जीवन जीने के लिए सांसारिक बातों को त्याग दिया था।

Question 6.
Why does the author go in search of the old Indian fire walker after the show? What efforts does he make to find him out? Does he succeed in finding out the old man and the secret of his powers?
प्रदर्शन के बाद लेखक आग पर चलने वाले की खोज में क्यों जाता है? उसको ढूंढने के वह क्या प्रयास करता है? क्या वह वृद्ध व्यक्ति को ढूंढने और उसकी शक्तियों का रहस्य जानने में सफल होता है?
Answer:
The author goes in search of the Indian fire walker after the show to know the secret of his powers. He wishes to know why the fire did not harm them. How they were able to walk on fire. But the author is unable to find him. Then he asks professor Rao about him but Mr Rao does not tell him anything. The next day the author borrows a truck and goes across to Firozguda to see if he could find that elderly Indian, but he is not able to see him again. Thus the author comes back after his hopeless efforts. He does not succeed in finding out the old man and the secret of his powers.

लेखक प्रदर्शन के पश्चात् आग पर चलने वाले भारतीय की खोज में उसकी शक्तियों के रहस्य को जानने हेतु जाता है। वह जानना चाहता है कि आग ने उन्हें हानि क्यों नहीं पहुँचाई। वे आग पर चलने में समर्थ कैसे रहे। किन्तु लेखक उसे नहीं ढूंढ पाता। तत्पश्चात् वह प्रोफेसर राव से उसके बारे में पूछता है किन्तु मि. राव भी उसे कुछ नहीं बताते। अगले दिन वह एक ट्रक लेता है और फिरोजगुडा में उस वृद्ध भारतीय से मिलने जाता है किन्तु वह उसे फिर भी नहीं मिल पाता है। लेखक अपने निराशाजनक प्रयासों के बाद वापस आ जाता है। वह वृद्ध भारतीय को ढूंढने में एवं उसकी शक्तियों के रहस्य का पता लगाने में सफल नहीं होता है।

Question 7.
Why does the author describe his experience of witnessing and then performing the walk through the fire as ‘incredible’?
लेखक आग पर चलने (के प्रदर्शन) को देखने और फिर उसे करने के अपने अनुभव को ‘अविश्वसनीय’ क्यों कहता है?
Answer:
The author describes his experience of witnessing and then performing the walk through the fire as incredible because there was nothing unreal about trench filled with red-hot coals. The heat from the coals was intense and the people around the trench could see low flames licking around the old man’s bare feet. He walked the whole length of the trench and back without a blister on his feet nor any burn mark left by the fire on his body. When the author himself walked through the fire with the old man, he experienced such a mysterious state of mind as he had never before nor since ever achieved. His mind was wonderfully and completely at rest. It was an ‘incredible’ experience.

लेखक आग में होकर चलने (के प्रदर्शन) को देखने और बाद में स्वयं उसे करने के अनुभव को अविश्वसनीय कहता है क्योंकि लाल-लाल अंगारों से भरी खाई के बारे में कुछ भी अवास्तविक नहीं था। कोयलों की आग बड़ी तेज थी और खाई के चारों ओर खड़े लोग नीची लपटों को उस वृद्ध व्यक्ति के नंगे पैरों को स्पर्श करते देख रहे थे। वह खाई की पूरी लम्बाई तक और वापस चला अपने पैरों पर बिना किसी फफोले के और ने शरीर पर आग द्वारा छोड़े गए किसी चिह्न के। जब लेखक स्वयं उस वृद्ध के साथ आग में होकर चला, उसे ऐसी रहस्यमयी मानसिक अवस्था का अनुभव हुआ जैसा न कभी पहले और न बाद में ही उसने उसे अवस्था को प्राप्त किया। उसका मस्तिष्क आश्चर्यजनक रूप से और पूरी तरह शान्त था। यह एक अविश्वसनीय’ अनुभव था।

Question 8.
What picture of the old fire-walker gradually emerges during the course of the narrative?
वृत्तान्त के दौरान आग पर चलने वाले की क्या तस्वीर धीरे-धीरे उभर कर आती है?
Answer:
The picture of the old fire-walker that gradually emerges during the course of the narrative is of an ascetic who has mastered the powers of his mind and body. He knows beforehand that the author would come to his rescue. He speaks excellent English which suggests that he is an educated man who has renounced worldly pleasures to lead an ascetic life. He has the wisdom of a philosopher. He tells the author that how the body is covered is not so important as how the mind works. His incredible feat of walking through fire without getting even a blister on his bare feet shows his excellent control over mental and physical powers which he could transfer to the author during his fire-walking with him.

आग पर चलने वाले वृद्ध की तस्वीर जो धीरे-धीरे वृत्तान्त के दौरान उभर कर आती है वह एक ऐसे तपस्वी की है जिसने अपने मस्तिष्क और शरीर की शक्तियों पर विजय पा ली है। उसे पहले से ही पता लग जाता है कि लेखक उसे बचाने आएगा । वह बहुत अच्छी अंग्रेजी बोलता है जो यह बताता है कि वह एक पढ़ा-लिखा व्यक्ति है जिसने संन्यासी का जीवन जीने के लिए सांसारिक सुखों को त्याग दिया है। उसके पास एक दार्शनिक जैसी बुद्धिमत्ता है। वह लेखक को बताता है कि शरीर कैसे ढका है यह उतना महत्वपूर्ण नहीं है जितना कि मस्तिष्क कैसे काम करता है। उसका आग में से होकर चलने का अविश्वसनीय कौशल उसके नंगे पैरों पर एक छाला भी पड़े बिना यह दिखाता है कि उसका मानसिक और शारीरिक शक्तियों पर बहुत अच्छा नियन्त्रण है जिसे उसने लेखक को भी अपने साथ आग पर चलने के दौरान हस्तांतरित किया।

RBSE Class 12 English Rainbow Chapter 9 Additional Questions

A. Answer the following questions in about 30-40 words each:
निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर लगभग 30-40 शब्दों में दीजिए:

Question 1.
What reminded the author of his experience with the fire-walker in India?
लेखक को भारत में आग पर चलने वाले व्यक्ति के साथ हुए अनुभव को किस चीज ने याद दिलाया?
Answer:
It was an old pair of khaki drill slacks, a souvenir of his army days in India which reminded the author of his experience with the old fire-walker in India. The slacks were badly burnt at the bottom of the legs.

यह एक खाकी रंग का सैन्य कवायद के समय पहना जाने वाला चुस्त पायजामा, भारत में सेना के दिनों की निशानी था जिसने लेखक को भारत में आग पर चलने वाले के साथ अनुभव की याद दिलायी। चुस्त पायजामा टाँगों में नीचे से बुरी तरह जला हुआ था।

Question 2.
When did the author first meet the fire-walker?
लेखक आग पर चलने वाले से पहली बार कब मिला?
Answer:
The author first met the fire-walker in the early part of 1947. He was posted at a Sapper Camp in Begumpet in Hyderabad. He was driving back to the camp one night when he saw him lying wounded on the road.

लेखक 1947 के शुरूआती भाग में आग पर चलने वाले व्यक्ति से पहली बार मिला था। वह हैदराबाद में बेगमपेट में सैपर कैम्प में तैनात था। एक रात वह शिविर में लौट रहा था जब उसने उसे सड़क पर घायल अवस्था में पड़ा हुआ देखा था।

Question 3.
Why did the author stop the truck and reverse it?
लेखक ने ट्रक को क्यों रोका और पीछे वापस क्यों किया?
Answer:
Driving back to the camp at night, the author reached a point on the road where it was divided into a fork. On the right-hand fork, he saw something in the headlight. So he stopped the truck and reversed it.

रात को शिविर में वापस लौटते समय लेखक सड़क के एक ऐसे स्थान पर पहुँचा जहाँ वह दो भागों में विभाजित हो गई थी। सड़क के दाहिने हाथ की ओर, उसने ट्रक की रोशनी में कुछ देखा। इसलिए उसने ट्रक रोका और उसे पीछे लिया।

Question 4.
Who is a good soldier, according to the author?
लेखक के अनुसार अच्छा सैनिक कौन होता है?
Answer:
According to the author, a good soldier is one who always carries his field dressing kit in the specially provided pocket of his slacks instead of the usual tin of cigarettes.

लेखक के अनुसार अच्छा सैनिक वह होता है जो हमेशा अपने चुस्त पायजामा में विशेषरूप से बनी हुई जेब में सिगरेट के पैकिट के बजाय अपना प्राथमिक उपचार किट लेकर चलता है।

Question 5.
Why did the author not consider himself a good soldier?
लेखक ने अपने आपको अच्छा सैनिक क्यों नहीं माना?
Answer:
The author was not carrying his field dressing kit with him which he needed very much form dressing the injured old man. So he did not consider himself a good soldier.

लेखक के पास घायल वृद्ध का उपचार करने के लिए अपनी प्राथमिक उपचार पेटिका नहीं थी। इसलिए उसने अपने आपको अच्छा सैनिक नहीं माना।

Question 6.
Seeing the very old Indian, why was the author worried?
बहुत वृद्ध भारतीय को देखकर, लेखक क्यों चिन्तित हुआ?
Answer:
Seeing the very old Indian, the author was worried because he was badly injured. His face was covered with blood. He evidently had taken a severe beating. The author could not leave him there in that condition while he drove to the camp for help.

बहुत वृद्ध भारतीय को देखकर लेखक चिन्तित हो गया क्योंकि वह बुरी तरह से घायल था। उसका चेहरा खून से लथपथ था। स्पष्ट रूप से उसे बुरी तरह मारा गया था। लेखक उसे उस हालत में छोड़ कर शिविर से सहायता लेने भी नहीं जा सकता था।

Question 7.
What two surprises did the old man give to the author that evening?
उस शाम उस वृद्ध व्यक्ति ने लेखक को कौन से दो आश्चर्य दिये?
Answer:
The first surprise that the old man gave to the author that evening was that he stood up while the author was left squatting on the ground. The second surprise was when he thanked the author in perfect English for his timely intervention.

पहला आश्चर्य जो उस वृद्ध ने लेखक को उस शाम दिया वह था कि वह एकदम खड़ा हो गया जबकि लेखक जमीन पर बैठा रह गया। दूसरा आश्चर्य था जब उसने लेखक को समय रहते बीच में आने के लिए शुद्ध अंग्रेजी में धन्यवाद दिया।

Question 8.
Why did the words of thanks in perfect English from the old man surprise the author?
वृद्ध व्यक्ति से शुद्ध अंग्रेजी में धन्यवाद के शब्दों ने लेखक को आश्चर्य में क्यों डाल दिया?
Answer:
The words of thanks in perfect English from the old man surprised the author because they seemed to be incongruous to him. The author did not expect them coming from a man who was ragged and barefoot.

शुद्ध अंग्रेजी में धन्यवाद के शब्द उस वृद्ध व्यक्ति से सुनकर लेखक को आश्चर्य हुआ क्योंकि वे उसे अटपटे लगे। लेखक को एक ऐसे व्यक्ति से उन शब्दों की आशा नहीं थी जो फटे-होल और नंगे पैर था।

Question 9.
Why had the old Indian not suffered too greatly in the attack on him?
अपने ऊपर हुए आक्रमण में वृद्ध भारतीय को अधिक चोट क्यों नहीं आयी थी?
Answer:
The old Indian had not suffered too greatly in the attack on him because he had covered his face with his hands and pretended to be unconscious. He had known that the author would come in time to rescue him.

वृद्ध भारतीय को अपने ऊपर हुए आक्रमण में अधिक चोट नहीं आयी थी क्योंकि उसने अपना चेहरा अपने हाथों से ढक लिया था और बेहोश होने का बहाना किया था। उसे पता था कि लेखक समय पर उसे बचाने आ जाएगा।

Question 10.
What was the old man’s answer to the question of how he had known that the author would come to his rescue?
वृद्ध व्यक्ति को इस प्रश्न का उत्तर क्या था कि उसे कैसे पता था कि लेखक उसे बचाने आ जाएगी?
Answer:
When the author questioned the old man how he had known that he would come to rescue him, his answer was, “Some things are known to all, Sahib, others to only a few.”

जब लेखक ने उस वृद्ध से पूछा कि उसे कैसे पता था कि वह उसे बचाने आएगा तो उसका उत्तर था, “कुछ बातें सबको पता होती हैं, साहब, दूसरी बातें केवल कुछ को ही”।

Question 11.
On what condition was Professor Rao allowed to perform his closing feat?
प्रो.राव को अपना अन्तिम करतब दिखाने की अनुमति किस शर्त पर दी गई?
Answer:
Before performing his closing feat, Professor Rao was asked to sign a document having the condition that the British Army would not be responsible if anything untoward happened to him.

अपनी अंतिम करतब दिखाने से पूर्व प्रो.राव से एक अनुबंध-पत्र पर हस्ताक्षर कराये गए कि यदि उनके साथ कुछ अनहोनी होती है तो उसके लिए ब्रिटिश सेना किसी प्रकार से उत्तरदायी नहीं होगी।

Question 12.
Where and when were professor Rao’s feats performed?
कहाँ और कब प्रोफेसर राव के करतब प्रदर्शित किये गए?
Answer:
Professor Rao’s feats were performed at the Sapper Camp in Begumpet. They were performed on the night before the author was to leave for the General Headquarters at New Delhi, the place of his new posting.

प्रोफेसर राव के करतब बेगमपेट में सैपर कैम्प में दिखाये गए थे। ये करतब लेखक के उसकी नियुक्ति की नयी जगह नई-दिल्ली जनरल हेडक्वार्टर जाने से पहले की रात दिखाये गए थे।

Question 13.
What was the old man doing when Professor Rao was performing his last feat?
जब प्रो. राव अपना अंतिम करतब दिखा रहे थे, बूढ़ा व्यक्ति क्या कर रहा था?
Answer:
When Professor Rao was performing his last feat, the old man was busy in digging a shallow trench about ten feet long and two or three feet wide.

जब प्रोफेसर राव अपना अन्तिम करतब दिखा रहे थे, वह बूढा व्यक्ति उस समय लगभग दस फीट लम्बी और दो-तीन फीट चौड़ी एक उथली खाई खोदने में व्यस्त था।

Question 14.
What was Professor Rao’s closing act?
प्रोफेसर राव का आखिरी करतब क्या था?
Answer:
In his closing act, Professor Rao lay down under an army truck filled with men close to its rear wheels. A railway sleeper was placed alongside his chest in the form of a crude ramp. The truck was driven forward across the Professor’s chest.

अपने अन्तिम करतब में, प्रोफेसर राव लोगों से भरे सेना के ट्रक के नीचे उसके पिछले पहियों के पास लेट गए। रेलवे का एक तख्ता अस्थाई ढलान के रूप में उनके सीने से सटाकर रख दिया गया। ट्रक को प्रोफेसर के सीने के ऊपर से चलाया गया।

Question 15.
When did the author recognise the elderly Indian?
लेखक ने वृद्ध भारतीय को कब पहचाना?
Answer:
After the fire-walk, the elderly Indian invited the onlookers to inspect his feet. As the author knelt down beside him, he felt something thrust into his hand. It was the author’s handkerchief. Then he recognised the elderly Indian.

आग पर चलने के बाद, उस वृद्ध भारतीय ने देखने वालों को अपने पैर देखने के लिए आमंत्रित किया। जैसे ही लेखक उसके पास झुककर बैठा, उसने महसूस किया कि कोई चीज उसके हाथ में ढूंस दी गई है। यह लेखक को रूमाल था। तब लेखक ने उस वृद्ध को पहचाना।

Question 16.
Why did the people standing around the coal-filled trench produced a big laugh?
अंगारों भरी खाई के चारों ओर खड़े लोगों ने जोर से अट्टहास क्यों किया?
Answer:
Professor Rao came over there after his last act and announced that the fire-walker would take a volunteer with him across the trench. This announcement made the people standing around the trench produce a big laugh.

प्रोफेसर राव अपने आखिरी प्रदर्शन के बाद वहाँ आये और घोषणा की कि आग पर चलने वाला व्यक्ति अपने साथ एक स्वयंसेवक खाई के पार ले जाएगा। इस घोषणा पर खाई के चारों ओर खड़े लोगों ने जोर से अट्टहास किया।

Question 17.
Why did the author not join the big laugh of the people around the trench?
लेखक खाई के चारों ओर खड़े लोगों के अट्टहास में शामिल क्यों नहीं हुआ?
Answer:
When the people around the fire-trench produced a big laugh at Professor Rao’s announcement, the author did not join them. It was so because he knew that he was going across the fire-trench.

जब अंगारों भरी खाई के चारों ओर खड़े लोगों ने प्रोफेसर राव की घोषणा पर जोर से अट्टहास किया तो लेखक उनमें शामिल नहीं हुआ। ऐसा इसलिए था क्योंकि वह जानता था कि वह स्वयं अंगारों भरी खाई के पार जाने वाला था।

Question 18.
What did the fire-walker tell the author before walking across the trench with him?
उसके साथ खाई पार करने से पहले आग पर चलने वाले ने लेखक से क्या कहा था?
Answer:
Before walking across the trench with him, the fire-walker told the author to put aside his fear while putting aside his boots. The fire would not harm him and that he should close his eyes and think hard about the peaceful English countryside.

खाई के पार उसके साथ चलते समय, आग पर चलने वाले ने लेखक को अपने जूते उतारते समय अपना डर एक तरफ रखने को कहा। आग उसे हानि नहीं पहुँचाएगी और यह भी कहा कि वह आँखें बन्द कर ले और इंग्लैण्ड के शान्तिपूर्ण ग्रामीण क्षेत्रों पर ध्यान एकाग्र करे।

Question 19.
‘I was back in England. In what sense was he back in England?
“मैं वापस इंग्लैण्ड पहुँच गया था।” लेखक किस अर्थ में इंग्लैण्ड जा पहुँचा?
Answer:
The author was asked by the fire-walker to imagine that he was back in England and not in India before walking across the fire-trench. Thus he was back in England through his imagination.

अंगारों पर चलने वाले ने लेखक को अंगारों-भरी खाई को पार करने से पूर्व यह कल्पना करने को कहा गया कि वह भारत में नहीं अपितु इंग्लैण्ड में था। इस प्रकार वह अपनी कल्पना-शक्ति से इंग्लैण्ड में था।

Question 20.
What enabled the author to walk the length of the fire-trench?
लेखक अंगारों- भरी खाई को कैसे पार कर पाया?
Answer:
His concentration and imagination of green-fields and the peaceful English countryside enabled him to walk across the fire-trench. The encouragement of the old man also made him do so.

लेखक की एकाग्रता और अपने देश इंग्लैण्ड के हरे-भरे खेतों और शान्तिप्रद ग्रामीण परिवेश की कल्पना ने लेखक को अंगारों-भरी खाई पार करने में समर्थ बनाया। उस बूढ़े व्यक्ति के प्रोत्साहन ने भी उसे ऐसा करने में सक्षम बनाया।

B. Answer the following questions in about 125 words each:
निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर लगभग 125 शब्दों में दीजिए:

Question 1.
‘It was an incredible spectacle…… What was an incredible spectacle? Who performed this amazing feat? What made the author recognize the fire-walker?
‘यह एक अविश्वसनीय दृश्ये था……’ अविश्वसनीय दृश्य कौन-सा था? इस करतब को किसने दिखाया? अंगारों पर चलने वाले को लेखक ने कैसे पहचाना?
Answer:
Walking over the red-hot coals was the incredible spectacle which was performed by the elderly Indian. When he had completed his performance, he invited people to inspect his feet. They inspected and there was not even a blister anywhere to be seen. The author then went to him to have a closer look at his feet. As he knelt down beside him, he felt something being thrust into his hand. The author found that it was his own handkerchief. It was then he at once recognized the fire-walker to be the man whom he had found injured on the road.

दहकते अंगारों पर चलना एक असंभव और अविश्वसनीय दृश्य था जिसे बूढ़े भारतीय द्वारा प्रदर्शित किया गया। जब उसने अपना प्रदर्शन सम्पन्न कर लिया, उसने लोगों को अपने पाँवों का निरीक्षण करने को आमंत्रित किया। उन्होंने निरीक्षण किया पर उन्हें कहीं भी एक फफोला तक नहीं मिला। तब लेखक करीब से देखने के लिए उसके पास गया। वह उसके पास घुटनों के बल झुका तो उसने महसूस किया कि उसके हाथ में कोई चीज ढूंस दी गई है। लेखक ने देखा कि यह उसका स्वयं का रूमाल था। तब उसने अंगारों पर चलने वाले को उस व्यक्ति के रूप में तुरन्त पहचान लिया जिसे उसने सड़क पर घायल अवस्था में पाया था।

Question 2.
Why did the author volunteer to walk with the fire-walker across the fire-trench?
आग पर चलने वाले के साथ अंगारों-भरी खाई पार करने हेतु लेखक ने अपने आपको क्यों प्रस्तुत किया?
Answer:
The author volunteered himself to walk with the fire-walker across the fire-trench because when Professor Rao announced that the fire-walker would take a volunteer with him across the fire trench, this produced a big laugh and it showed that nobody had such belief and courage in the crowd. Besides, the author did not join that big laugh because he knew then that he was going across the fire-trench although the very thought of it made him go ice-cold with fear. It proves that he had great respect for such an incredible spectacle and faith in the performer and wanted to feel that thrill himself too.

लेखक दहकते अंगारों-भरी खाई पार करने को स्वेच्छा से इसलिए तैयार हुआ क्योंकि जब प्रो. राव ने यह घोषणा की कि अंगारों पर चलने वाला अपने साथ एक स्वयंसेवक को लेकर एक बार फिर खाई को पार करेगा तो यह सुनकर भीड़ ने जोरदार अट्टहास किया जो यह सिद्ध करता था कि भीड़ में से किसी को ने तो इस पर विश्वास था और न ही ऐसा साहस। इसके अतिरिक्त लेखक ने इस अट्टहास में भाग नहीं लिया क्योंकि वह जान गया था कि वह आग वाली खाई के पार जाने वाला था यद्यपि इसके विचार से ही वह डर के मारे बर्फ समान ठंडा हो गया था। यह सिद्ध करता है कि लेखक के मन में ऐसे अविश्वसनीय दृश्य के प्रति गहन आदर था और प्रदर्शनकर्ता पर उसे पूरा भरोसा था और वह स्वयं भी इस रोमांच को महसूस करना चाहता था।

Question 3.
What was the secret of the old man’s powers? Did the author learn about it? What was the significance of the words “Some things are known to all, Sahib, but others only to a few’?
बूढ़े व्यक्ति की शक्तियों का रहस्य क्या था? क्या लेखक ने इस बारे में कुछ सीखा? ‘कुछ बातें सबको पता होती हैं, साहब, और दूसरी सिर्फ कुछ को ही’ इन शब्दों का क्या महत्व था?
Answer:
The only secret of the old man’s powers was his concentration, self-confidence, strong will power and fearlessness. The author certainly and obviously did not learn about these powers because when he went to speak to him, he looked away from him. But he had respect for and faith in the man otherwise he could not have dared to walk across the fire-trench with him. The words ‘Somethings are known to all, Sahib, but others-to only a few’ show that the old man had a miraculous power and he had strengthened his will power which enabled him to know about the author’s arrival to rescue him in advance.

बूढ़े व्यक्ति की शक्तियों का एक मात्र रहस्य उसकी एकाग्रता, आत्मविश्वास, प्रबल इच्छा-शक्ति और निर्भीकता थी। लेखक ने निश्चित और स्पष्ट रूप से इन शक्तियों के बारे में नहीं सीखा क्योंकि जब वह उसके पास उससे बात करने गया तो उसने मुँह फेर लिया। लेकिन उसके मन में उस व्यक्ति के प्रति आदर और विश्वास था अन्यथा वह उसके साथ दहकते अंगारों की खाई पार करने का साहस नहीं कर पाता। कुछ बातें सबको पता होती हैं साहब, लेकिन दूसरी कुछ ही लोगों को ये शब्द हमें बताते हैं कि बूढ़े व्यक्ति के पास एक अद्भुत शक्ति थी और उसने अपनी इच्छा-शक्ति को प्रबल कर लिया था जिसने ठीक समय पर लेखक के पहुँचने के बारे में उसे पहले ही बता दिया था।

Activity 2: Vocabulary

Question A.
Use in sentences of your own each of the following words with its meaning which should be different from the meaning in the context of this lesson:
निम्नलिखित शब्दों में से प्रत्येक शब्द को अपने वाक्यों में उस अर्थ में प्रयोग कीजिए जो इस पाठ के प्रसंग में प्रयुक्त अर्थ से भिन्न हो:
state, fork, mad, want, trunk, lift, country, leave, press, watch, feet, chest, fire, place
Answer:

RBSE Class 12 English Rainbow Chapter 9 A Walk Through the Fire activity 2 a

Question B.
Use the following phrasal verbs in your own sentences:
निम्नलिखित Phrasal Verbs का अपने वाक्यों में प्रयोग कीजिए:
come across, holdover, drive back, swing into, shine across, get on with, turn out to be, brush aside, work out, come by, head for, fade into, come through, laid on, called for, put aside, splash over, tackle about.

RBSE Class 12 English Rainbow Chapter 9 A Walk Through the Fire activity 2b


Activity 3: Speech Activity

Draft a short speech on ‘Benefits of Meditation and the Art of Concentrating’ and read it before the prayer assembly of your school.
“ध्यान और एकाग्रता की कला के लाभ’ विषय पर एक संक्षिप्त भाषण लिखिए और अपने स्कूल की प्रार्थना सभा के सामने पढिए।
Answer:
Respected teachers and dear friends! Meditation and the art of concentration are the two subjects which our Rishi-munis have preached. They have even laid down ways and means for generations to learn them and reap their benefits. Modern scientists and psychologists to acknowledge their importance in improving human life. Meditation and the art of concentration relax the mind, body and spirit. They increase creativity, happiness and energy of our mind and make it calmer.
Thanks.

Activity 4: Composition

Question 1.
Prepare a report to be published in your school magazine on the performance given by a South Indian cultural troupe at the ‘Inter-State Cultural Festival’ held at your school in Ajmer.
अजमेर में अपने स्कूल में आयोजित ‘अन्तर्राज्यीय सांस्कृतिक उत्सव’ में दक्षिण भारतीय सांस्कृतिक दल द्वारा दिये गए प्रस्तुतीकरण पर अपनी स्कूल पत्रिका में प्रकाशन हेतु, एक रिपोर्ट तैयार कीजिये।
Answer:
‘Inter-State Cultural Festival’
An Inter-State Cultural festival was held at our school from Jan. 1, 20– to Jan. 4, 20–. All the states of the country with their troupes participated in it. All of them gave outstanding performances representing the culture of their state. But the most striking performance was given by the South Indian Cultural Troupe. It was a Kathakali dance which was performed by four dancers. Their excellent footwork and impressive gestures of their hands complemented with vocal and instrumental music were mesmerising to watch. Their colourful costumes, unique face masks were outward. It looked like gods dancing on the stage.

Question 2.
Draft an advertisement for the magic show to be organised by the cultural society/committee of your school.
अपने स्कूल की सांस्कृतिक संस्था/समिति द्वारा आयोजित किये जाने वाले जादू के प्रदर्शन के लिए एक विज्ञापन तैयार कीजिए।
Answer:

RBSE Class 12 English Rainbow Chapter 9 A Walk Through the Fire activity4