Rajasthan Board RBSE Class 12 English Article Writing (Visual Input)

Visual Input
(Article)

Question 1.
The following graph gives information about cases reported, cured and a number of Reported deaths caused in the last 6 months of the year 2010 due to Dengue in Suryakhand. Using this information Cases together with your own ideas, write an article for the ‘World Health Day’ bulletin of the School.
RBSE Class 12 English Article Writing (Visual Input) graph Answer:

Dengue – A Nightmare

The country was perpetually victimised by the attack of dengue in the year 2010. Dengue is caused by a mosquito bite, a mosquito which is said to be found in clean and hygienic places. The fatal cases reported of dengue in Suryakhand were the highest in the month of November with an initial increase from the months of June and July. However, the disease started to come under control after the month of November. The number of patients who were cured completely kept on rising and falling simultaneously, showing the severity and lightness of dengue going hand in hand. There had been constant deaths from 10 to 20 people every month from June to December.

देश वर्ष 2010 में डेंगू के आक्रमण से लगातार पीड़ित रहा। डेंगू एक प्रकार के मच्छर के काटने से होता है, जो कि साफ-सुथरी जगहों पर पाया जाता है। सूर्याखण्ड में डेंगू के दर्ज मामले जून व जुलाई के महीनों से शुरुआती बढ़त के साथ नवम्बर के माह में सबसे अधिक हो गये थे। हालांकि, नवम्बर के बाद बीमारी कुछ नियन्त्रण में आना शुरू हो गई थी। ऐसे मरीजों की संख्या, जो पूरी तरह से ठीक हो गये थे, एक ही साथ घट-बढ़ रही थी जो डेंगू की भीषणता और हल्केपन को साथ-साथ दर्शाती है। जून से दिसम्बर तक प्रत्येक माह में 10 से 20 व्यक्तियों की लगातार मृत्यु होती रही।

Question 2.
The bar diagram shows the preference of students in different streams of Arts, Science, and Commerce respectively. You being the career counsellor (परामर्शदाता।) of the school want to ask the students to take their decision wisely at the beginning of the new session. Write the article for school bulletin using the information in the diagram to enlighten the choices made by students in the last 3 years.
RBSE Class 12 English Article Writing (Visual Input) graph q 3 Answer:

Decision Of Streams

The increase in the number of students in Sirsi village of Rajasthan depicts our growing literacy rate in rural areas. The multiple bar diagram also shows the preference of students for Arts, Science and Commerce stream respectively.
Arts was chosen by the majority of the students in the last three years for being the most simple and the least expensive one. The boys who have to join their family business or the girls who are to be married soon after graduation prefer Arts to other streams. The craze ‘of science seems to have been curbed a bit as it falls second to Arts. But still, it is more popular than Commerce stream as some of the students are still ignorant about the bright opportunities related to Commerce.

राजस्थान के सिरसी गाँव में छात्रों की बढ़ती संख्या ग्रामीण क्षेत्रों में हमारी बढ़ती साक्षरता दर को दर्शाती है। यह गुणात्मक आयत चित्र विद्यार्थियों की क्रमशः कला, विज्ञान व वाणिज्य के प्रति रुचि को दर्शाता है।
पिछले तीन सालों से अधिकतर विद्यार्थियों ने कला संकाय के प्रति रुचि दिखाई है क्योंकि यह सबसे आसान और कम खर्चीली है। जिन लड़कों को अपने पारिवारिक व्यापार में आना होता है या फिर जिन लड़कियों की स्नातक के बाद शादी होनी होती है वे सभी कला वर्ग को ही पसन्द करते हैं। विज्ञान के चलन पर थोड़ा नियंत्रण आया है क्योंकि कला वर्ग के बाद इसका दूसरा नम्बर है। परन्तु फिर भी यह वाणिज्य वर्ग से अधिक लोकप्रिय है क्योंकि कुछ विद्यार्थी अभी भी वाणिज्य वर्ग के सुनहरे अवसरों से परिचित नहीं हैं।

Question 3.
Write an article on the given visual in about 100 words.
RBSE Class 12 English Article Writing (Visual Input) graph q 5 Answer:

Child Labour

Child labour in India is a human right issue for the whole world. According to the statistics given by the Indian government, there are 20 million child labourers in the country. The government of India has tried to take some steps to lessen the problem of child labour in recent years by invoking a law that makes the employment of children below 14 illegal, except in family-owned enterprises. However, this law is rarely adhered to due to practical difficulties. In villages, there is no law implementing mechanism and any corrective action for commercial enterprises violating these laws is almost absent.

भारत में बालश्रम संसार में मानवाधिकार के लिए एक चर्चा का विषय है। भारत सरकार द्वारा जारी किये गये आँकड़ों के अनुसार देश में 20 मिलियन (दो करोड़) बालश्रमिक हैं। भारत सरकार ने बालश्रम की समस्या को कुछ कम करने के लिए हाल ही के वर्षों में एक कानून बनाया है जिसमें 14 वर्ष से कम उम्र के बच्चे को घरेलू उद्यम के अलावा किसी अन्य काम पर लगाना गैरकानूनी है। लेकिन व्यावहारिक समस्याओं के कारण यह कानून मुश्किल से ही लागू हो पाता है। गाँवों में कानून लागू करने वाला कोई तंत्र भी नहीं है। तथा इन कानूनों का उल्लंघन करने वाले व्यावसायिक उद्यमों को सुधारने के लिए सुधार तंत्र का भी अभाव है।

Question 4.
Look at the visual given below and write an article in about 100 words. Also, suggest how this problem can be solved.
RBSE Class 12 English Article Writing (Visual Input) graph q 8 Answer:

Potable Water Still A Challange

The basic things that a man needs are bread, clothes and home (roti, kapada and makan). But there are many other things that are also needed for living a life, and water is one of them. It is hopeless to note that after the seventy years of independence our governments have failed to make proper arrangement for pure drinking water. In cities, there are facilities for running water but in some of the villages, women have to carry it on their heads. It is very pathetic. The government should encourage projects for making proper arrangement of pure drinking water. People should adopt rainwater harvesting to face the seasonal problem.

मूलभूत चीजें जिनकी एक व्यक्ति को आवश्यकता होती है वे हैं रोटी, कपड़ा और मकान। लेकिन कई अन्य वस्तुएँ भी हैं जो जीवन जीने के लिए आवश्यक हैं तथा पानी उनमें से एक है। यह देखना निराशाजनक है कि स्वतन्त्रता प्राप्ति के सत्तर वर्षों के बाद भी हमारी सरकारें शुद्ध पेय जल उपलब्ध नहीं करा पाई हैं। शहरों में नल के पानी की व्यवस्था होती है लेकिन कुछ गाँवों में महिलाओं को इसे अपने सिर पर लाना पड़ता है। यह बहुत ही दयनीय है। सरकार को शुद्ध पेय जल की उचित व्यवस्था करने की परियोजनाओं को बढ़ावा देना चाहिये। मौसमी कमी का सामना करने के लिए लोगों को वर्षा का पानी एकत्र करने के तरीके अपनाने चाहिये।

Question 5.
Look at the following visual and write an article in about 100 words.
RBSE Class 12 English Article Writing (Visual Input) graph q 11 Answer:

The Taj Mahal

The Taj Mahal was built by the Mughal Emperor Shah Jahan in the memory of his beloved wife, Mumtaj Mahal. It is the finest example of Mughal architecture. This is a unique combination of Persian, Turkish and Indian architectural styles. It is situated on the bank of the river Yamuna at Agra in U.P. It was built between 1632 to 1648. It took 17 years and 20,000 workers to build this monument of love. It is one of the seven wonders of the world. It attracts between 2 million to 4 million visitors annually including more than 2,00,000 from overseas. It is made of white marble.

ताजमहल मुगल बादशाह शाहजहाँ द्वारा अपनी प्रिय पत्नी मुमताजमहल की याद में बनवाया गया था। यह मुगल वास्तुकला का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण है। यह फारसी, तुर्की और भारतीय वास्तु-शैलियों का एक अनूठा संगम है। यह उत्तर प्रदेश में आगरा में यमुना नदी के तट पर स्थित है। यह 1632 से 1648 के बीच में बना था। प्रेम के प्रतीक इस मकबरे को बनाने में 17 वर्ष तथा 20,000 श्रमिक लगे थे। यह संसार के सात आश्चर्यों में से एक है। यह प्रतिवर्ष 20 से 40 लाख पर्यटकों को आकर्षित करता है जिनमें 2,00,000 से अधिक विदेशी पर्यटक होते हैं। यह सफेद संगमरमर का बना हुआ है।

Question 6.
Look at the following visual and write an article in about 100 words.
RBSE Class 12 English Article Writing (Visual Input) graph q 12 Answer:

The Qutub Minar

The Qutub Minar is located in Delhi. Its construction was commenced by Qutub-ud-din Aibak in 1192 and was completed by Iltutmish. It was constructed with red sandstone and marble. It is the tallest minaret in India. Its height is 72.5 meters (237.8 ft) and it contains 379 stairs to reach its top. The diameter of its base is 14.3 meter. The Qutub Minar is unique for being one of the earliest and most prominent examples of Indo-Islamic architecture. It is surrounded by several other ancient and medieval structures and ruins, collectively known as Qutub complex. Some say that the minaret was used to call people for prayer.

कुतुज मीनार दिल्ली में स्थित है। इसका निर्माण 1192 ई. में कुतुबुद्दीन ऐबक द्वारा प्रारम्भ कराया गया था और इल्तुतमिश द्वारा पूर्ण कराया गया यह लाल चूना पत्थर व संगमरमर की बनी है। यह भारत की सबसे ऊँची मीनार है। इसकी ऊँचाई 72.5 मीटर (237.8 फीट) है और इसकी चोटी तक पहुँचने के लिए 379 सीढ़ियाँ हैं। इसके आधार का व्यास 14.3 मीटर है। कुतुब मीनार भारतीय-इस्लामिक वास्तुकला के एक सबसे प्रारम्भिक व सर्वाधिक प्रमुख उदाहरण के रूप में अनूठी है। यह चारों ओर से कई अन्य प्राचीन व मध्यकालिक ढाँचों वे खण्डहरों से घिरी है जिन्हें एक साथ मिलाकर कुतुब कॉम्प्लेक्स कहा जाता है। कुछ लोग कहते हैं कि इस मीनार से लोगों को नमाज अदा करने के लिए बुलाया जाता था।

Question 7.
Look at the visual on washing hands and write an article on ‘Why Hand-washing is Important’ in about 100 words.
RBSE Class 12 English Article Writing (Visual Input) graph q 15 Answer:

Why Hand-Washing Is Important

Handwashing is very important and necessary to maintain a good standard of hygiene. It helps to prevent infections, illness and bad odours. Handwashing removes dirt from our hands. It stops the spread of germs. It reduces the chances of spreading diseases. Every time when we touch something, our hands get infected with germs. We should wash our hands properly before eating anything. It is extremely important to wash hands after touching raw meat or poultry to prevent serious foodborne illnesses. We must wash our hands after handling soil equipment, travelling, using toilets/washrooms etc. Handwashing is a must for good health.

स्वच्छता का अच्छा स्तर बनाये रखने के लिए हाथ धोना बहुत महत्त्वपूर्ण व आवश्यक है। यह संक्रमण, बीमारी व दुर्गन्ध को रोकने में सहायक होता है। हाथ धोने से हमारे हाथों से गन्दगी हट जाती है। इससे कीटाणुओं के फैलने पर रोक लगती है। इससे बीमारी फैलने के अवसर कम हो जाते हैं। जब भी हम किसी वस्तु को छूते हैं, हमारे हाथों में कीटाणुओं का संक्रमण हो जाता है। हमें कुछ भी खाने से पहले अपने हाथों को अच्छी तरह धोना चाहिए। कच्चे मांस या पोल्ट्री को छूने के बाद तो हाथों को धोना गम्भीर भोजन-जनित बीमारियों को रोकने के लिए अत्यधिक महत्त्वपूर्ण है। मिट्टी के उपकरणों को उठाने, यात्रा, टॉयलेट/ वॉशरूम आदि का प्रयोग करने के बाद हमें हाथ अवश्य धोने चाहिए। हाथ धोना अच्छे स्वास्थ्य के लिए अति आवश्यक है।

Question 8.
Look at the visuals on entertainment and write an article on the importance of entertainment in about 100 words.
RBSE Class 12 English Article Writing (Visual Input) graph q 16 Answer:

Importance Of Entertainment

Just as food is important to re-energize our body, the same way entertainment is important to re-energize our mood. Various sources of entertainment increase our knowledge also. It keeps us mentally and physically fit. It reduces our level of stress, makes us happy and brings colours to our life. It diverts our mind from our day-to-day worries, tension and routine work. After the entertainment, we feel more energetic and enthusiastic. We are able to concentrate more on our work. So, everyone must have a daily dose of entertainment. There are various ways of entertainment like listening to music, playing games and sports, picnic, talking to friends etc.

जिस प्रकार हमारे शरीर में पुनः शक्ति संचार करने के लिए भोजन महत्त्वपूर्ण है, उसी प्रकार हमारी मनोदशा में पुनः शक्ति-संचार करने के लिए मनोरंजन महत्त्वपूर्ण है। मनोरंजन के विभिन्न साधन हमारा ज्ञान भी बढ़ाते हैं। यह हमें मानसिक व शारीरिक रूप से स्वस्थ रखता है। इससे हमारा तनाव का स्तर कम होता है, प्रसन्नता मिलती है और जीवन में रंग भरते हैं। इससे हमारा ध्यान हमारे दैनिक जीवन की चिन्ताओं, तनावों व दैनिक कार्यों से बँट जाता है। मनोरंजन के बाद हम स्वयं को अधिक ऊर्जावान व उत्साही अनुभव करते हैं। हम अपने कार्य पर और अधिक ध्यान एकाग्र कर पाते हैं। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को प्रतिदिन अपना मनोरंजन करना चाहिए। मनोरंजन के विविध तरीके हैं, जैसे- संगीत सुनना, खेल खेलना, पिकनिक, मित्रों के साथ बातें करना इत्यादि।

Question 9.
Look at the visuals on ‘Computer’ and write an article on the uses and misuses of computer in about 100 words.
RBSE Class 12 English Article Writing (Visual Input) graph q 17 Answer:

The Uses And Misuses Of Computer

Computer education is becoming absolutely vital for everyone. Computers are no longer luxury items. Now computers are not the sole property of the advanced nations. The computer is being used in every field like science, technology, agriculture, entertainment, banks, railway-department, stock market etc. Its appropriate use helps us in solving unique problems. But its excessive use is harmful to health. Some children who frequently use the computer may be at risk of developing vision problems. Its continuous use causes eye discomfort, fatigue, headache, weight increasing problem, skin, ear, throat, nose problems, etc. Because of spending long hours with the computer, children are becoming less social.

कम्प्यूटर शिक्षा सभी के लिए अत्यधिक आवश्यक होती जा रही है। कम्प्यूटर अब विलासिता की वस्तु नहीं रहे गये हैं। कम्प्यूटर अब केवल विकसित देशों की सम्पत्ति भी नहीं रह गये हैं। कम्प्यूटर का प्रयोग प्रत्येक क्षेत्र जैसे विज्ञान, तकनीकी, कृषि, मनोरंजन, बैंक, रेल विभाग, स्टॉक मार्केट आदि क्षेत्रों में हो रहा है। इसके उपयुक्त प्रयोग से हमें अनोखी समस्याओं को हल करने में सहायता मिलती है। लेकिन इसका आवश्यकता से अधिक प्रयोग स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। कुछ बच्चे जो प्राय: कम्प्यूटर का प्रयोग करते हैं, उनमें दृष्टि सम्बन्धी समस्याएँ उत्पन्न होने का खतरा रहता है। इसके लगातार प्रयोग से आँखों को परेशानी, थकान, सिरदर्द, वजन बढ़ना, त्वचा-कान, गला, नाक सम्बन्धी समस्याएँ आदि होती हैं। कम्प्यूटर के साथ बहुत अधिक समय बिताने के कारण बच्चों में सामाजिकता कम हो जाती है।

Question 10. (Board Sample Paper 2012)
Look at the following visuals. Draft an article on the topic, ‘First Aid after a Snake Bite’ for your school magazine. Some words are given for your help.
RBSE Class 12 English Article Writing (Visual Input) graph q 18 Answer:

First Aid after a Snake Bite

Snakebite can be deadly if not treated quickly. First aid can save a person’s life. Keep the person calm reassuring that bites can be effectively treated. First, tie a bandage about two inches above the bitten area. Wash the wound with effective antiseptic. Cleaning the wound is the single most effective treatment you can give. If you can get a syringe, use it to suck the poison. It is not necessary to cut the wound. You should not try to suck it out with your mouth as it is shown in films. Do not give the patient anything to eat or drink. Take the patient to the hospital as early as possible. The doctor will treat the patient and give him proper medicines.

यदि साँप के काटे का तुरन्त उपचार नहीं किया जाये तो यह घातक हो सकता है। प्राथमिक उपचार व्यक्ति को जीवन बचा सकता है। काटे हुए व्यक्ति को यह आश्वासन देते हुए शान्त रखिये कि काटे का उपचार प्रभावशाली ढंग से हो सकता है। पहले काटे हुए स्थान से लगभग दो इंच ऊपर एक पट्टी बाँधिये। घाव को किसी अच्छे एन्टीसेप्टिक से धो दीजिए। घाव को साफ करना एकमात्र सर्वाधिक प्रभावी उपचार है जो आप कर सकते हैं। यदि आपको कोई सिरिंज मिल जाये तो इससे जहर खींचिये। घाव पर कट लगाना आवश्यक नहीं है। आपको मुँह से जहर चूसने की कोशिश नहीं करनी चाहिए जैसा कि फिल्मों में दिखाया जाता है। मरीज को खाने या पीने के लिए कुछ मत दीजिए। जितना जल्दी सम्भव हो, मरीज को अस्पताल ले जाइये। डॉक्टर मरीज का उपचार करेगा और उसे उचित दवाएँ देगा।

Question 11.
Write an article on the harmful effect of polythene in 100 words. (S. S. Exam 2013)
RBSE Class 12 English Article Writing (Visual Input) graph q 19 Answer:

Harmful Effect Of Polythene

Have you ever seen a rubbish dump where animals, especially cows are eating garbage? In the process of eating food waste, they swallow materials like polythene bags and wrappers of food. The plastic material chokes the respiratory system of these animals and can cause their death. The polybags carelessly are thrown here and there are responsible for clogging the drains, too. Sometimes, we are very careless and throw the wrappers of chips, biscuits etc., here and there.
So

  • Do not throw plastic bags in the drains or on the road.
  • Take a cotton carry-bag or a jute bag while going for shopping.
  • Use a steel lunch-box instead of a plastic one.

We should follow the example of Kannor village of Kerala where cloth-bags or jute-bags are used in place of plastic bags according to a report published in ‘Hindustan’ newspaper of 29-4-2017.

क्या आपने कोई ऐसा कचरे का ढेर देखा है जहाँ पशु, विशेष रूप से गायें कचरा खा रही हों? खाद्य अपशिष्ट खाने के प्रक्रम में ये पशु पॉलिथीन की थैलियाँ और खाद्य पदार्थों के रैपर भी निगल लेते हैं। प्लास्टिक पदार्थ इन पशुओं के श्वसन तंत्र में अवरोध उत्पन्न करते हैं और अन्ततः यह उनकी मृत्यु का कारण बन सकते हैं। लापरवाही से इधर-उधर फेंकी गयी पॉलिथीन की थैलियाँ नालियों को भी रोक देती हैं। कभी-कभी हम बहुत अधिक लापरवाही दिखाते हैं और चिप्स, बिस्कुट आदि के रैपर इधर-उधर फेंक देते हैं।
इसलिए –

  • प्लास्टिक की थैलियाँ नालियों में अथवा सड़क पर मत फेंकिए।
  • खरीददारी के लिए जाते समय एक सूती कपड़े का या जूट का थैला लेकर जाइये।
  • प्लास्टिक के स्थान पर स्टील से बने भोजन रखने के डिब्बे को प्रयोग में लाइये।

‘हिन्दुस्तान’ अखबार में 29.4.2017 को छपी रिपोर्ट के अनुसार हमें केरल के गाँव कन्नूर के उदाहरण का अनुसरण करना चाहिए जहाँ प्लास्टिक बैग के स्थान पर कपड़े या जूट के बने थैलों का प्रयोग होता है।

Question 12.
Look at the visuals on Pranayam. Write an article in about 100 words on it.
RBSE Class 12 English Article Writing (Visual Input) graph q 20 Answer:

Pranayam

Pranayam is control and extension of the breath. By practising it, we can reduce our breathing rate. Reduced breathing rate has a lot of benefits. It slows down heart rate, reduces blood pressure and relaxes body and mind. Pranayam increases our life expectancy.
Steps of Pranayam:
We should sit in the ‘Padmasan’.Then we shouldered press our right nostril with our right-hand thumb and breathe in slowly from the left nostril. Then we should hold our breath for 5 to 10 seconds. Now we should release the thumb and close the left nostril with our ring finger. Then we should breathe out slowly through our right nostril. Again we should breathe in from the right nostril and after holding our breath, we should press the right nostril with thumb and breathe out from the left nostril.

प्राणायाम श्वास गति का नियंत्रण तथा विस्तार है। इसके अभ्यास से हम अपनी श्वास-दर घटा सकते हैं। घटी हुई श्वास-दर के अनेक लाभ हैं। यह हृदय-गति को धीमी करती है, रक्तचाप को कम करती है और शरीर एवं मस्तिष्क (मन) को आराम पहुँचाती है। प्राणायाम हमारी जीवन-प्रत्याशा को बढ़ाता है।
प्राणायाम के चरण:
हमें ‘पद्मासन’ में बैठना चाहिए। फिर हमें अपने दायें हाथ के अँगूठे से अपने दायें नथुने को दबाना चाहिए और बायें नथुने से धीरे-धीरे साँस लेनी चाहिए। फिर हमें 5 से 10 सेकण्ड तक अपनी साँस रोकनी चाहिए। अब हमें अँगूठे को हटा लेना चाहिए तथा अपनी अनामिका अँगुली से बायें नथुने को बन्द करना चाहिए। फिर हमें अपनी साँस धीरे धीरे अपने दायें नथुने से छोड़नी चाहिए। पुन: हो दायें नथुने से साँस लेनी चाहिए और अपनी साँस को रोककर दायें नथुने को अँगूठे से दबाना चाहिए और बायें नथुने से साँस छोड़नी चाहिए।