Today, Monday, ……….fun with her. (Pg. 64)

कठिन शब्दार्थ -Noticed ( नोटिस्ड ) = ध्यान दिया, Absence( ऐबसेंस) = अनुपस्थिति, Rough ( रफ़) = ऊधमी/शैतान, Scuffling ( स्क्फलिंग) = घिसटने की आवाज़, Mud and dirt(मड एण्ड डर्ट) = कीचड़ और धूल, On the contrary (ऑनदा कॉन्टरॅरि) = इसके विपरीत, Crooked sort of smile (क्रुक्ड सॉर्ट ऑफ स्माइल) = शातिर अथवा कपटी प्रकार की हँसी, Popular (पॉप्युलर) = लोकप्रिय, Curly ( कलि ) = घूघराले।

हिन्दी अनुवाद- आज, सोमवार, को वांडा पेट्रोन्स्की अपनी सीट पर नहीं थी। लेकिन किसी ने भी, यहाँ तक कि पेगि और मैडॅलिन, लड़कियाँ जिन्होंने यह सब मज़ाक शुरू किया था, ने भी उसकी अनुपस्थिति पर ध्यान नहीं दिया था। वांडा ज्यादातर कक्ष संख्या-13 की अन्तिम पंक्ति की अन्तिम सीट से अगली वाली सीट पर बैठती थी। वह कक्ष के उस कोने में बैठती थी, जहाँ वे शैतान लड़के बैठते थे जो अच्छे अंक नहीं लाते थे। यह कक्ष का वह कोना था, जहाँ पैरों के घिसटने की सर्वाधिक आवाज़ होती थी और हँसी के सबसे ज्यादा ठहाके लगते थे जब कोई मज़ाकिया बात कह दी जाती थी व फ़र्श पर सर्वाधिक कीचड़ और धूल रहती थी।

– वांडा वहाँ इसलिए नहीं बैठती थी कि वह शैतान और शोर मचाने वाले थे। इसके विपरीत, वह बहुत शान्त और मुश्किल से ही कुछ बोलने वाली थी तथा किसी ने कभी भी उसे ऊँची आवाज़ में हँसते भी नहीं सुना था। कभी-कभी वह अपने मुंह को टेढ़ा मेढ़ा कर एक शातिर प्रकार की हँसी हँसती थी, लेकिन सिर्फ इतना ही था जो वह करती थी।

कोई भी ठीक से नहीं जानता था कि वांडा उस सीट पर क्यों बैठती थी और वे तब तक नहीं जानते थे जब तक कि यह जरूरी नहीं हो जाता क्योंकि वह पूरे रास्ते बोगिन्ज हाइट्स से आती थी तथा उसके पैर अक्सर सूखी मिट्टी से सने होते थे और कोई वांडा पेट्रोन्स्की के बारे में वास्तव में ज्यादा नहीं सोचता था, जब एक बार वह कक्ष के उस कोने में बैठे जाती थी।

वह समय जब वे वांडा के बारे में सोचा करते थे वह स्कूल के समय के बाहर का होता था-दोपहर का समय जब वे विद्यालय वापस आ रहे होते थे या सवेरे में जल्दी स्कूल शुरू होने से पहले, जब दो या तीन या ज्यादा विद्यार्थियों का समूह विद्यालय के अहाते के रास्ते में बात करते होते थे और हँस रहे होते थे।

तब, कभी-कभी, वे वांडा का इंतज़ार करते-उससे मज़ाक करने के लिए।

अगले दिन, मंगलवार को, वांडा विद्यालय में नहीं थी। तथा किसी ने उसकी पुन: अनुपस्थिति पर ध्यान भी नहीं दिया।

लेकिन बुधवार को, पेगि व मैडी, जो अच्छे अंक लाने वाले बच्चों के साथ आगे बैठती थीं और जिनके ऊपर कीचड़ का बिल्कुल भी निशान नहीं था, ने ध्यान दिया कि वांडा वहाँ नहीं थी। पेगि विद्यालय में सबसे ज्यादा लोकप्रिय लड़की थी। वह सुन्दर थी, उसके पास बहुत से सुन्दर कपड़े थे और उसके बाल धुंघराले थे। मैडी उसकी सबसे करीबी मित्र थी। जिस कारण से पेगि व मैडी वाडा की अनपस्थिति पर ध्यान दिया था। वह कारण यह था कि वांडा ने उन्हें विद्यालय पहुंचन म दस सीमा पर प्रतीक्षा करती रहीं, जिससे उसके साथ कछ मज़ाक कर सकें और वह तब तक भी आई नहा था।

उन्हें विद्यालय पहुंचने में देरी करा दी थी। वे वांडा की वे वांडा पेट्रोन्स्की की अक्सर प्रतीक्षा किया करती थीं-सिर्फ उससे मज़ाक करने के लिए।

Wanda Petronski. Most…….All lined up.” (Pg. 65-66)

कठिन शब्दार्थ-Wore ( वोर) = पहनती थी. Faded (फैइडिड)= फीक रग का, Didn’t hang right (डिडन्ट हैन्ग राइट)= सही तरीके से फिट नहीं होना, Ironed (आइअन्ड)= इस्तरी की हुई, Hopscotch (हॉपस्कॉच) = सटापू का खेल (एक खेल जिसमें बच्चे धरती पर लाइन खींचकर बनाए गए चौकोर खाने के अन्दर और उनके ऊपर से कूदते हैं), Most courteous manner (मोस्ट कर्टीअस मैनॅर) = सर्वाधिक शालीन तरीके से, Nudge (नज)= हल्का-सा धक्का (कोहनी से स्पर्श करना अथवा धक्का देना), Hanging up ( हैंगिंग अप) = लटके होना, Closet( क्लाजिल) = कमरे में बनाई हुई एक बड़ी अलमारी, Exclaimed (इक्स्क्ले म्ड)= भावावेश में अचानक चिल्लाकर कहा, Incredulously (इनक्रेड्यूलॅसलि) = अविश्वसनीयता से, Drew together (ड्र ट्रॅगेर ) = चिपक जाना, Velvet ( वेलवेट) = मखमल, Stolidly (स्टॉलिडलि) = भावशून्यता से, Bursting into shrieks (बॅस्टिंग इनटु श्रीक्स) = ठहाके से फट पड़ना, Peal of laughter (पील्ज ऑफ लाफ्टर) = अट्टहासपूर्ण हँसी, Obviously (ऑब्वीअस्ली) = स्पष्टतः, Exaggerated (इग्ज़ैजरेटिड) = अतिशयोक्ति करना, बात को बढ़ा-चढ़ाकर कहना, Politeness (पॉलाइटनेस) = शिष्टता, Greeted (ग्रीटिड)= सत्कार किया।

हिन्दी अनुवाद-वांडा पेट्रोन्स्की। कक्ष संख्या-13 के ज्यादातर बच्चों के नाम इस तरह के नहीं थे। उनके नाम बोलने में आसान थे, जैसे-थॉमस, स्मिथ या ऐलन। उनमें से एक लड़के का नाम बाउन्स, विली बाउन्स था और लोग सोचते थे कि यह नाम बहुत हास्यपूर्ण था, लेकिन ऐसे हास्यपूर्ण भी नहीं था जैसाकि पेट्रोन्स्की था।

वांडा के कोई मित्र नहीं था। वह विद्यालय अकेले ही आती थी और अकेले ही जाती थी। वह हमेशा एक फीके नीले रंग की पोशाक पहनती थी जो उसके सही तरीके से फिट भी नहीं थी। ये साफ़ तो थी, लेकिन यह ऐसे दिखाई देती थी जैसे कि इसे कभी सही तरीके से इस्तरी नहीं किया गया हो। उसके कोई मित्र नहीं है, लेकिन बहुत-सी लड़कियाँ उससे बात करती थी। कभी-कभी तो वे उसे विद्यालय के अहाते में ही घेर लेती थीं जब वह खड़ी होकर छोटी लड़कियाँ को सटापू का खेल बने हुए सख्त मैदान पर खेलते देखती रहती थी।

“वांडा” पेगि सर्वाधिक शालीन तरीके से बोलती, ऐसे जैसे कि वह मिस कुमारी मैसन से बात कर रही हो। “वांडा”, वह अपने मित्रों में से एक को हल्के से कोहनी मारते हुए कहती, “हमें बताओं। तुमने कितनी पोशाकें बताई थीं, जो तुम्हारी अलमारी में टंगी हुई हैं?”

“एक सौ”, वांडा कहती।

“ एक सौ।” सभी छोटी लड़कियाँ आश्चर्य से विश्वास न करते हुए भावावेश में कहती और बहुत छोटी लड़कियाँ तो अपना सटापू का खेल रोक देती और सुनने लगतीं।

“हाँ, एक सौ, सभी पंक्तिबद्ध”, वांडा कहती। तब उसके पतले होंठ चुप्पी से चिपक जाते। “ये सब किस तरह की हैं? सभी रेशमी होंगी, मैं शर्त लगाती हूँ,” पेगि ने कहा। “हाँ, सभी रेशमी, सभी रंगीन।” “मखमली, भी?” “हाँ, मखमली भी। एक सौ पोशाकें,” वांडा भावशून्यता से दोहराती। “मेरी अलमारी में सभी पंक्तिबद्ध हैं।”

फिर वे (लड़कियाँ) उसे जाने देतीं और फिर उससे पहले कि वह बहुत दूर जा चुकी होती, तब वे ठहाके वाली तथा फट पड़ने वाली हँसी हँसने से अपने को नहीं रोक पाती थीं।

आर.बी.डी. पास बुक्स

एक सौ पोशाकें । स्वाभाविक रूप से, एकमात्र पोशाक जो वांडा के पास थी, वो वह नीली वाली थी जिसे वह प्रतिदिन पहनकर आती थी। तो फिर उसने यह क्यों कहा कि उसके पास एक सौ पोशाकें थीं? क्या कहानी हैं ?

“कितने जूते तुम कहती हो तुम्हारे पास हैं ?” “साठ जोड़ें। सब एक लाइन में मेरी अलमारी में हैं।” अतिरंजित विनम्रता के साथ चीखकर इसका अभिवादन करते हुए कहा, ‘सब एक जैसे ?’ “अरे, नहीं। प्रत्येक जोड़ा अलग है। सारे रंगों में हैं। सभी पंक्तिबद्ध हैं।”

Peggy, who had ………….teasing Wanda Petronski. (Pg. 66-67)

कठिन शब्दार्थ-Inseparable(इनसेपरेबल) = अपृथक्, अलग न होने वाली, Hitching (हिचिंग) = झटकते हुए हटाना, Bullies (बुलीज) = रौब जमाने वाले, बदमाशों, Mistreat (मिसट्रीट)= दुर्व्यवहार करना, Hand-me-down clothes ( हैन्ड-मी-डाउन क्लोद्ज) = पुराने वस्त्र, किसी अन्य द्वारा दिए गए हो, Mocking (मॉकिंग)= उपहासात्मक, Embarrassed (इम्बैरेंस्ड ) = लज्जित, Marbles (मार्बल्ज ) = कँचे, palm (पाम ) = हथेली, invested (इनवेस्टेड) = आविष्कार किया, teasing ( टीजिंग)= चिढ़ाना।

हिन्दी अनुवाद-पेगि जिसने यह खेल खोजा था अर्थात् जो ये मज़ाक करती थी और मैडी, उसकी अपृथक्कनीय सहेली दोनों ने हमेशा की तरह सबसे आखिर में प्रस्थान किया था। अन्त में, वांडा, गली में चलने लगती, उसकी आँखें उदास रहतीं और मुख बन्द रहता, अपने बाएँ कैंधे को बराबर अपने हास्यपूर्ण तरीके से झटकते हुए तथा विद्यालय तक का रास्ता अकेले खत्म कर चलती। – पेगि वास्तव में निर्दयी नहीं थी। वह छोटे बच्चों को उन पर रौब जमाने वाले लोगों से बचाती थी और वह घण्टों तक रोती रहती यदि वह किसी जानवर के साथ भी दुर्व्यवहार होते देख लेती। अगर कोई व्यक्ति उससे कह देता, “क्या तुम्हें नहीं लगता कि वांडा के साथ तुम्हारा व्यवहार निर्दयी है ?” तो वह बहुत हैरान हुआ करती थी। निर्दयी ? उस लड़की ने क्यों कहा कि उसके पास एक सौ पोशाकें थीं? कोई भी बता सकता था कि वह एक झूठ था। उसने झूठ बोलना क्यों चाहा ? तथा वह कोई एक साधारण लड़की नहीं थी और उसका नाम उस तरह का क्यों था? फिर भी, उन्होंने उसे कभी नहीं रुलाया।

___जहाँ तक मैडी की बात है, तो उसके लिए वांडा से प्रतिदिन यह पूछने का काम, कि उसके पास कितनी पोशाकें थी और कितनी टोपियाँ थी और कितने ये थे और कितने वो थे उसको अथवा मैडी को परेशान कर रहा था। मैडी स्वयं भी गरीब थी। वह अक्सर किसी के उतरे वस्त्र पहनती थी। भगवान का शुक्र है कि वह (मैडी) वॉगिन्ज हाइट्स पर नहीं रहती थी और उसका कोई हास्यास्पद नाम नहीं था।

_कभी-कभी, जब पेगि, वांडा से उस उपहासात्मक रूप में विनम्र आवाज़ में उन सवालों को पूछ रही होती थी तो मैडी लज्जित महसूस करती थी और अपनी हथेली में रखे कैंचों का निरीक्षण करने लगती, उनको इधर-उधर घुमाने लगती तथा स्वयं से कुछ नहीं कहती। ऐसा भी नहीं कि उसने कभी वांडा के लिए एकदम बुरा महसूस किया हो। उसने वांडा के प्रति कोई ध्यान ही नहीं दिया होता यदि पेगि ने पोशाक खेल ईजाद नहीं किया होता। लेकिन मान लें कि अगर पेगि और अन्य सभी अगली बार यह खेल उससे ही अथवा मैडी से ही खेलना शुरू कर दें तो ? शायद, वह (मैडी) इतनी गरीब नहीं थी जितनी कि वांडा थी, लेकिन फिर भी वह गरीब थी। निःसन्देह उसमें ज्यादा समझ थी कि वह यह नहीं कहते कि उसके पास एक सौ पोशाकें थीं। फिर भी, वह नहीं चाहेगी कि वे उस मैडी पर यह खेल खेलना शुरू कर दे। उसने कामना की कि पेगि वांडा पेट्रोन्स्की को चिढ़ाना बन्द कर दे।

Today, even though……… today was important. (Pg. 67-68)

कठिन शब्दार्थ -Absent-mindedly (ऐबसॅन्ट-माइन्डिडलि) = बिना ध्यान के, अनुपस्थित, Nerve (नॅर्व) = हिम्मत, Paused (पोज्ड) = रूकी, Target (टार्गिट) = लक्ष्य, लोगों की हँसी का पात्र, Shuddered (शॉर्ड ) = थरथराई, काँपी, Disguise (डिसगाइज) = बदलना, Trimmings (ट्रिमिंग्ज) = काँट-छाँट से, Own accord(ओन अकोड)= अपनी इच्छा से, Blonde(ब्लॉन्ड)= शुभ्र, tore into bits (टोर इनटु बिट्स) = छोटे-छोटे टुकड़ों में फाड़ दिया, Note (नोट) = लेख/चिट्ठी, Scarcely (स्कस्ला ) = मुश्किल से ही, Sash (सैश) = कमरबन्द Pretended (प्रिटेन्डिड)=नाटकीय, Admiration (एडमरिशन)= प्रशंसा, Contest(कॉनटेस्ट – प्रतियोगिता Consisted of (कनसिस्टेड ऑफ)= के लिए थी, Probably (प्रॉबॅब्लि) = संभवतः।

हिन्दी अनुवाद -आज, यद्यपि उन्हें विद्यालय के लिए देरी हो गई थी, मैडी खुश थी कि उसे वांडा का मजाक नहीं बनाना पड़ा था। उसने अंकगणित के अपने सवाल बिना ध्यान के किए। ‘आठ गुणा आठ-चलो (आओ) देखते है…’ उसने कामना की कि उसमें पेगि को एक पत्र लिखने की हिम्मत आ जाए क्योंकि वह जानती थी कि उसमें कभी भी पेगि से सीधे-सीधे यह कहने का साहस नहीं होगा, “हे ! पेग, चलो वांडा से यह पूछना बन्द कर देते हैं कि उसके पास कितनी पोशाकें हैं।” जब उसने अपना अंकगणित का कार्य खत्म कर दिया तो उसने निश्चय ही पेगि को एक पत्र लिखना शुरू किया। अचानक वह रूको तथा कॉपने लगी। उसने अपने आपको कल्पना में विद्यालय के अहाते में पेगि एवं दूसरी लड़कियों की हंसी के पात्र के रूप में खड़े हुए देखा। पेगि शायद उससे यह पूछ लेती कि जो पोशाक उसने पहन रखी थी उसे वह कहाँ से लाई थी, तो फिर मैडी को यह कहना ही पड़ता कि यह पेगि की पुरानी पोशाकों में से एक थी जिसे मैडी की माँ ने काँट-छाँट करके बदलने की कोशिश की थी ताकि कक्ष संख्या-13 में इसे कोई पहचान नहीं पाए।

_अगर पेगि अपने आप अपनी इच्छा से ही वांडा से मज़ाक करना छोड़ दे तो। ओह ! बढ़िया रहे । मैडी ने अपने छोटे सुनहरे बालों में से हाथ ऐसे फिराया जैसे वह असंगत विचारों को दूर कर रही हो। उसे क्या फ़र्क पड़ने वाला था ? मैडी ने धीरे-धीरे उस पत्र को छोटे-छोटे टुकड़ों में फाड़ डाला जो उसने लिखना शुरू किया था। वह पेगि की पक्की सहेली थी और पेगि पूरी कक्षा में सर्वाधिक पसन्दीदा लड़की थी। उसने सोचा कि पेगि कोई भी ऐसा काम नहीं कर सकती थी जो वाकई में गलत हो।

_जहाँ तक वांडा की बात है, वह बस एक ऐसी लड़की थी जो बॉगिन्ज हाइट्स पर रहती थी और विद्यालय के अहाते में अकेली खड़ी रहती थी। उसने मुश्किल से ही कभी किसी से कुछ भी कहा हो। वह सिर्फ तब ही बोली थी जब उसने विद्यालय के अहाते में अपनी एक सौ पोशाकें के बारे में बताया था। मैडी ने उसको याद किया जब वह उसकी एक पोशाक के बारे में बता रही थी जो हल्के नीले रंग की थी तथा उसमें रंगीन झालर लगी थी और फिर उसने उसकी एक दूसरी पोशाक को याद किया जो कि सुन्दर जंगली हरे रंग के साथ लाल कमरबन्द वाली थी। “तुम उसमें बिल्कुल क्रिसमस-ट्री की जैसी दिखाई दी,” लड़कियों ने बनावटी प्रशंसा के साथ कहा था।

___ वांडा के और उसकी अलमारी में पंक्तिबद्ध उसकी एक सौ पोशाकों के विषय में सोचते हुए, मैडी हैरान होने लगी कि चित्रकला

और रंग भरने की प्रतियोगिता कौन जीतने वाला था। लड़कियों के लिए यह प्रतियोगिता पोशाके डिजाइन करने के लिए थी तथा लड़कों के लिए यह मोटर-नाव डिज़ाइन करने के लिए थी। संभवत: पेगि लड़कियों में से मेडल जीतेगी। पेगि उस कमरे में किसी भी दूसरे से बेहतर चित्रकारी करती थी। कम-से-कम, प्रत्येक व्यक्ति यही सोचता था। वह एक पत्रिका की तस्वीर का अथवा एक फिल्म स्टार के चेहरे का ऐसा चित्र बना देती थी जिससे आप लगभग ये तो बता सकें कि यह किसका चित्र था। अरे, मैडी तो पक्का थी अर्थात् उसे तो पूरा भरोसा था कि पेगि ही जीतेगी। अच्छा, कल अध्यापिका जीतने का नाम घोषित करने जा रही थी। तब से सब जान जाएँगे।

‘ अगले दिन बूंदाबांदी हो रही थी। मैडी और पेगि, पेगि की छतरी के नीचे जल्दी से विद्यालय पहुंची। स्वाभाविक रूप से, इस तरह के दिन पर, उन्होंने ऑलिबर स्ट्रीट के कोने पर वांडा पेट्रोन्स्की का इंतज़ार नहीं किया, यह गली दूर तक, रेल की पटरियों के नीचे थी और जो पहाड़ी के ऊपर से, बॉगिन्ज हाइट्स तक ले जाती थी। किसी भी हालत में, वे आज देरी करने का कोई मौका नहीं चाहती थीं क्योंकि आज का दिन महत्त्वपूर्ण था।

‘Do you think ……. I could draw’. (Pg. 69-70)

कठिन शब्दार्थ-Eagerly (ईगर्ली) = उत्सुकतापूर्वक, Gasped (गास्प्ड) = हैरानी से हाफने लगी, Ledge ( लेज़)= कगार/शिला-फलक, Windowsill(विन्डोसिल)= खिड़की के नीचे का पाटियाँ, Dazzling एडजलिंग) = चकाचौंध करने वाले, Lavish (लेविश) = भव्य, Drawn (ड्रोन) = बनाए हुए, Wrapping (रेपिंग) =

लपेटने वाले, Whistled (विस्ल्ड)= सीटी बजाता, Murmured ( मॅर्मर्ड )= बड़बड़ाया, Admiringly (डमाइअरिंगलि)= प्रशंसा से, Assembled (असेम्ब्ल्ड )= इकट्ठा करना, Exhibition (एक्सिबिशन)= प्रदर्शिनी, Unfortunately (अनफो – नेटलि) = दुर्भाग्य से, Applause (अप्लोज) = करतल ध्वनि द्वारा शाबाशी, File (फ़ाइल)= पंक्तिबद्ध होकर, Exquisite (इस्क्विजिट) = बेहद सुन्दर, Whispered ( विस्पॅर्ड ) = कानाफूसी की। .

हिन्दी अनुवाद-“क्या तुम्हारे विचार से मिस मैसन विजेताओं की घोषणा आज करेंगी?” पेगि ने पूछा।

“ओह हाँ, मैं आशा करती हूँ ऐसी, जैसे ही हम पहुँचेंगे,” मैडी ने कहा, “निःसन्देह तुम ही जीतोगी पेग।” “मैं भी ऐसी ही आशा करती हूँ” पेगि ने उत्सुकता से कहा।

जिस पल उन्होंने कक्षा-कक्ष में प्रवेश किया, वे अन्तिम क्षणों में रुक गई और हैरानी से हाँफने लगीं। वहाँ कक्षा में सभी तरफ चित्र-ही-चित्र थे, प्रत्येक कगार पर और खिड़की के पाटिए पर, चकाचौंध कर देने वाले तथा वैभवशाली रंग, भव्य डिज़ाइनें, इन सभी को, लपेटने वाले कागज़ की बड़ी शीटों पर बनाया गया था। वे लगभग एक सौ होने चाहिए थे और सभी पंक्तिबद्ध। ये तो जरूर से ही प्रतियोगिता के लिए चित्र होने चाहिए। वे थे भी। सभी वहाँ रुकते और सीटी बजाते या तारीफ में बड़बड़ाते।

जैसे ही कक्षा एकत्रित हो गई, मिस मैसन ने विजेताओं की घोषणा की। जैक बेगल्ज, लड़कों में से विजेता बना था, उन्होंने कहा और उसके द्वारा बनाया गया नाव में लग सकने वाला इंजन का डिज़ाइन शेष लड़कों द्वारा बनाए गए चित्रों के साथ कक्षा संख्या 12 में प्रदर्शित है।

“बालिका वर्ग में,” उन्होंने कहा, “हालाँकि ज्यादातर ने एक या दो चित्र ही जमा करवाएँ, लेकिन एक लड़की ने और कक्षा संख्या-13 को इस पर गर्व होना चाहिए-इस एक लड़की ने वाकई में एक सौ डिज़ाइन बनाए हैं-सभी अलग-अलग और सभी अत्यन्त सुन्दर । निर्णायकों के विचार में, उनमें से कोई भी एक चित्र अथवा डिज़ाइन पुरस्कार जीतने के योग्य है। मैं यह कहते हुए खुश हूँ कि वांडा पेट्रोन्स्की बालिका वर्ग के पदक की विजेता है। दुर्भाग्यवश, वांडा विद्यालय में पिछले कुछ दिनों से अनुपस्थित है और यहाँ पर उसके हिस्से की तालियाँ सुनने को भी मौजूद नहीं है। आइए, उम्मीद करते है कि वह कल वापस आ जाएँगी। अब कक्षा के सभी विद्यार्थी लाइन में होकर कक्ष में शान्ति से चारों तरफ घूम सकते हैं और उसके भव्य चित्रों को देख सकते हैं।

बच्चे अचानक तालियाँ बजाने लगे तथा लड़के भी खुश थे कि उन्हें फ़र्श पर कूदने का अवसर मिला, उन्होंने अपनी अंगुलियाँ अपने मुंह में डाली और सीटियाँ बजाई, हालाँकि वे पोशाकों में रुचि नहीं ले रहे थे।

“देखों, पेग,” मैडी ने कानाफूसी की, “यह रही वह नीली पोशाक, जिसके बारे में उसने हमें बताया था। क्या यह सुन्दर नहीं है ?” “हाँ,” पेगि ने कहा, “और यह रही वह हरी वाली। लड़का और मैं सोचते थे कि मैं ही चित्रकारी कर सकती थी।”