Rajasthan Board RBSE Class 12 Home Science Chapter 7 जनसंख्या नियंत्रण

RBSE Class 12 Home Science Chapter 7 पाठ्यपुस्तक के प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
निम्नलिखित में से सही उत्तर चुनें –
(i) सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश है –
(अ) भारत
(ब) चीन
(स) पाकिस्तान
(द) जापान।
उत्तर:
(ब) चीन

(ii) 1901 की तुलना में 2011 में भारत की जनसंख्या में वृद्धि हो गई –
(अ) 186.64 प्रतिशत
(ब) 330.8 प्रतिशत
(स) 84.27 प्रतिशत
(द) 408.0 प्रतिशत।
उत्तर:
(द) 408.0 प्रतिशत।

(iii) जनसंख्या वृद्धि को नियन्त्रण में लाने का सबसे कामयाब तरीका है –
(अ) कल्याण कार्यक्रम
(ब) रोजगार योजना
(स) परिवार नियोजन
(द) ग्रामीण विकास योजनाएँ।
उत्तर:
(स) परिवार नियोजन

(iv) जनसंख्या वृद्धि का एक बड़ा कारण है –
(अ) औद्योगिकीकरण
(ब) पुत्र की चाह
(स) शहरीकरण
(द) उपरोक्त में से कोई नहीं।
उत्तर:
(ब) पुत्र की चाह

(v) विश्व की करीब “प्रतिशत आबादी भारत में निवास करती है –
(अ) 16
(ब) 17
(स) 18
(द) 15
उत्तर:
(अ) 16

प्रश्न 2.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए –
1. बढ़ती जनसंख्या के कारण कृषि योग्य भूमि निरन्तर…………..भूमि में बदलती जा रही है।
2. ………….के फलस्वरूप गरीबी, बेरोजगारी, पर्यावरण प्रदूषण, शोषण, अपराध जैसी कई समस्याएँ हमारे सामने मुँह फाड़े खड़ी हैं।
3. ………….द्वारा दम्पत्ति स्वयं की इच्छानुसार सुनियोजित तरीके से एक या दो बच्चों को जन्म देकर अपने परिवार को छोटा एवं सीमित रख सकते हैं।
4. ………….तथा………….द्वारा बालिकाएँ आज समाज में सम्मानित स्थान पा रही हैं।

उत्तर:
1. आवासीय
2. जनसंख्या विस्फोट
3. परिवार नियोजन
4. शिक्षा, रोजगार।

प्रश्न 3.
बढ़ती आबादी का भोजन,आवासीय भूमि,पीने का पानी एवं स्वच्छता पर क्या प्रभाव पड़ रहा है ?
उत्तर:
भारत में सम्पूर्ण विश्व की कुल आबादी का 17.5 प्रतिशत भाग निवास करता है, जबकि भारत के पास विश्व के कुल क्षेत्रफल की मात्र 2.4 प्रतिशत भूमि है जिससे बढ़ती आबादी को भोजन की उपलब्धता, आवासीय भूमि, पीने का पानी एवं स्वच्छता पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है। इसे निम्न प्रकार समझाया जा सकता है –

1. बढ़ती आबादी का भोजन पर प्रभाव:
मानव जीवन की प्राथमिक मूलभूत आवश्यकता है – भोजन, किन्तु आज बढ़ती आबादी के कारण हमारे देश में स्थिति यह है कि देश की 24 प्रतिशत जनसंख्या को दो वक्त का भोजन मिल पाना भी दुष्कर हो रहा है। भारत एक कृषि प्रधान देश होते हुए भी बढ़ती आबादी की खाद्यान्न पूर्ति को पूर्ण करने में सक्षम नहीं है। इसका प्रमुख कारण है एक तो कृषि योग्य भूमि सतत् रूप से आवासीय भूमि में परिवर्तित होती जा रही है तथा दूसरे जिस रफ्तार से जनसंख्या में वृद्धि हो रही है उस रफ्तार से खाद्यान्न उत्पादन की क्षमता में वृद्धि करना सम्भव नहीं है।

2. बढ़ती आबादी का आवासीय भूमि पर प्रभाव:
तीव्र गति से बढ़ती आबादी के कारण क्षेत्रीय जनसंख्या घनत्व में भी तीव्र वृद्धि हो रही है जिसके परिणामस्वरूप प्रति व्यक्ति भूमि की उपलब्धता भी गिर रही है। औद्योगीकरण के कारण स्थान-स्थान पर झुग्गी-झोंपड़ियों की तादाद अपने पैर पसारती जा रही है।

3. बढ़ती आबादी का पीने के पानी पर प्रभाव:
पानी के बिना मानव जीवित रहने की कल्पना भी नहीं कर सकता। बढ़ती आबादी से पेयजल की समस्या भी अछूती नहीं है। बढ़ती हुई आबादी को आवास, ईंधन तथा रोजगार उपलब्ध कराने के लिए निरन्तर जंगल काटे जा रहे हैं जिससे वर्षा अनियमित होती जा रही है तथा वर्ष दर वर्ष जल-स्तर गिर रहा है। अत: बढ़ती आबादी के कारण छोटे-छोटे कस्बों से लेकर शहरों तक में पेयजल संकट उत्पन्न हो गया है।

4. बढ़ती आबादी का स्वच्छता पर प्रभाव:
बढ़ती हुई जनसंख्या ने न केवल भोजन, आवास तथा जल की समस्याओं को ही जन्म दिया है अपितु इसका एक दुष्परिणाम गन्दगी का बढ़ना है। बस्तियों तथा झुग्गी-झोंपड़ियों वाले इलाके में इतनी गन्दगी होती है कि वहाँ से उल्टी, दस्त, बुखार, मलेरिया, हैजा जैसी बीमारियाँ फैलती हैं तथा यदि समय रहते इन पर नियन्त्रण न किया जाए तो ये भयंकर महामारी का रूप धारण कर लेती हैं।

प्रश्न 4.
परिवार नियोजन कार्यक्रम क्या है और कब शुरू हुआ था ?
उत्तर:
परिवार नियोजन (Family Planning):
परिवार नियोजन विवाहित दम्पत्ति द्वारा अनचाहे गर्मों का नियोजित नियमन है, जो उनके दाम्पत्य सम्बन्धों के फलस्वरूप हो सकते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार-”परिवार नियोजन का अर्थ केवल बच्चों के जन्म को रोकना नहीं है, बल्कि परिवार नियोजन तब होता है, जब इन पाँच लक्ष्यों की पूर्ति होती है –

  • अनचाहे गर्भ को रोकना।
  • चाहने पर गर्भ धारण करना।
  • दो गर्मों के बीच अन्तर को स्वयं निर्धारित करना।
  • माता-पिता की उम्र के सम्बन्ध में गर्भ धारण का समय निश्चित करना।
  • परिवार में बच्चों की संख्या निर्धारित करना।

परिवार नियोजन कार्यक्रम (Family Planning Programme):
सरकार ने जनसंख्या वृद्धि को नियन्त्रित करने के लिए जो उपाय निकाला है वह है परिवार नियोजन। तीसरी पंचवर्षीय योजना के तहत सरकार ने परिवार नियोजन कार्यक्रम चलाया था तथा वर्तमान में यह परिवार कल्याण कार्यक्रम के नाम से चल रहा है। परिवार नियोजन कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य है – राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था के अनुरूप जन्म – दर को घटाकर जनसंख्या को स्थिर रखा जाए। परिवार नियोजन से तात्पर्य है कि दम्पत्ति स्वयं ही इच्छानुसार सुनियोजित रूप से एक या दो बच्चों को जन्म देने के पश्चात् अपने परिवार को सीमित रखें जिससे परिवार सन्तुष्ट, सुखी व प्रसन्न रहे। प्रतिवर्ष इस सन्दर्भ में 11 जुलाई जनसंख्या दिवस के रूप में मनाया जाता है।

प्रश्न 5.
एक किशोर / किशोरी बढ़ती जनसंख्या दर को घटाने में क्या योगदान दे सकते हैं ?
उत्तर:
किशोर / किशोरी प्रत्येक नागरिक में जनचेतना की भावना को जाग्रत कर परिवार को सीमित तथा स्वस्थ रखने के तरीकों के लिए प्रेरित कर सकते हैं। किशोर नागरिकों को परिवार नियोजन के फायदे तथा सरकार द्वारा दी जाने वाली सहायता के बारे में बता सकते हैं। किशोर / किशोरी यह दृढ़ निश्चय करके कि वे विवाह की न्यूनतम निर्धारित आयु से कम आयु में विवाह नहीं करेंगे तो भी वे परिवार नियोजन में सहायता प्रदान कर सकते हैं।

प्रश्न 6.
जनसंख्या वृद्धि एवं उससे उत्पन्न समस्याओं पर कक्षा में अध्यापिका की सहायता से चर्चा करें।
उत्तर:
भारत चीन के बाद दूसरा विशाल जनसंख्या वाला देश है। संसार की लगभग 17.5% जनसंख्या यहाँ निवार करती है, जबकि भारत का कुल क्षेत्रफल संसार का 2.4% ही है। ‘‘स्वास्थ्य मंत्रालय ने प्रस्ताव रखा है कि जिन व्यक्तियों के दो से अधिक बच्चे हों, उनको निर्वाचन के आधार पर मिलने वाले पदों से वंचित किया जाय और सरकारी सेवा में पद नर्हः दिये जायें।” बढ़ती जनसंख्या से उत्पन्न समस्याएँ सुरसा के समान मुँह फैलाकर भारत को निगलने के लिए खड़ी हैं। समस्याएँ अग्रलिखित हैं –

1. बेरोजगारी:
बढ़ती जनसंख्या ने प्रत्येक नागरिक के लिए रोजगार के लिए उपयुक्त परिस्थितियों को निगल लिया है। बेरोजगार युवकों के पथ- भ्रष्ट होने की सम्भावना अधिक रहती है।

2. भुखमरी:
भारत कृषि प्रधान देश होते हुए भी अपनी विशाल जनसंख्या के लिए पर्याप्त तथा समुचित खाद्यान्न उत्पन्न नहीं कर पा रहा है। उत्पादन तथा वितरण के अभाव में लोग भूखे मर रहे हैं।

3. चिकित्सा एवं शिक्षा सुविधाओं का अभाव:
बढ़ती जनसंख्या तथा सीमित संसाधनों की कमी से आज प्रत्येक व्यक्ति को समुचित शिक्षा तथा चिकित्सा नहीं मिल पा रही है। अस्पताल, विद्यालय, महाविद्यालय दिन – प्रतिदिन बढ़ रहे हैं पर वे सब बढ़ती जनसंख्या के सामने ऊँट के मुँह में जीरे के समान हैं।

4. समुचित आवास का अभाव:
लोगों को समुचित आवास तक उपलब्ध नहीं हो पा रहा। सरकार के सतत् प्रयासों के पश्चात् भी अधिकांश लोग झुग्गी – झोंपड़ियों में रहने को विवश हैं। कुकरमुत्ते की तरह बढ़ती झुग्गी बस्तियाँ विभिन्न वामारियों, महामारियों को जन्म दे रही हैं।

5. स्वच्छ जलाभाव:
जनसंख्या विस्फोट के कारण लोगों को पर्याप्त स्वच्छ जल तक नहीं मिल पा रहा है।

6. वस्त्राभाव:
गरीबी में रह रहे लोगों को पर्याप्त वस्त्र नहीं मिल पा रहे हैं, जबकि भारत वस्त्र निर्यात भी कर रहा है। जनसंख्या विस्फोट के कारण अन्य अनेक समस्याएँ मुँहबाए खड़ी हैं; जैसे – गरीबी, पर्यावरण प्रदूषण, शोषण, अपराध, भ्रष्टाचार, आवागमन का अभाव आदि।

RBSE Class 12 Home Science Chapter 7 अन्य महत्त्वपूर्ण प्रश्नोत्तर

RBSE Class 12 Home Science Chapter 7 वस्तुनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न 1.
सन् 2011 की जनगणना के अनुसार भारत की आबादी थी –
(अ) 1 अरब 21 करोड़
(ब) 1 अरब 11 करोड़
(स) 1 अरब 25 करोड़
(द) 1 अरब 15 करोड़
उत्तर:
(अ) 1 अरब 21 करोड़

प्रश्न 2.
भारत में प्रतिदिन कितने शिशु जन्म लेते हैं –
(अ) 62 हजार
(ब) 72 हजार
(स) 52 हजार
(द) 82 हजार
उत्तर:
(ब) 72 हजार

प्रश्न 3.
विश्व की कितनी प्रतिशत भूमि भारत के पास है?
(अ) 3.4%
(ब) 4.4%
(स) 2.4%
(द) 5.4%
उत्तर:
(स) 2.4%

प्रश्न 4.
जनसंख्या दिवस कब मनाया जाता है?
(अ) 11 अगस्त को
(ब) 11 जुलाई को
(स) 11 अक्टूबर को
(द) 11 दिसम्बर को
उत्तर:
(ब) 11 जुलाई को

प्रश्न 5.
परिवार नियोजन का उद्देश्य जन्म दर को नियंत्रित करने के अतिरिक्त है –
(अ) परिवार के सदस्यों के कल्याण एवं स्वास्थ्य की देखभाल
(ब) परिवार के सदस्यों को रोजगार दिलाना
(स) परिवार के सदस्यों को आवास प्रदान करना
(द) ऋण प्रदान करना
उत्तर:
(अ) परिवार के सदस्यों के कल्याण एवं स्वास्थ्य की देखभाल

प्रश्न 6
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए –
1. भोज्य पदार्थों का उत्पादन…………वृद्धि के अनुपात में नहीं होता है।
2. पेयजल की…………का एक मुख्य कारण जनसंख्या वृद्धि है।
3. अधिक जनसंख्या गन्दगी को और…………बीमारियों को आमंत्रित करती है।
4. हम अपनी जनसंख्या वृद्धि पर…………अंकुश नहीं लगा पा रहे हैं।
5. परिवार नियोजन का अर्थ है, दम्पत्तियों द्वारा…………बच्चों को जन्म देकर परिवार…………करना।
6. पुत्र प्राप्ति की…………जनसंख्या वृद्धि का एक प्रमुख कारण है।

उत्तर:
1. जनसंख्या
2. कमी
3. गन्दगी
4. सार्थक
5. इच्छानुसार, सीमित
6. इच्छा।

RBSE Class 12 Home Science Chapter 7 अति लघूत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
परिवार नियोजन कार्यक्रम वर्तमान में किस नाम से जाना जाता है ?
उत्तर:
परिवार नियोजन कार्यक्रम वर्तमान में परिवार कल्याण कार्यक्रम के नाम से जाना जाता है।

प्रश्न 2.
बढ़ती आबादी से उत्पन्न गन्दगी से फैलने वाली प्रमुख बीमारियों कौन – सी हैं ?
उत्तर:
बढ़ती आबादी से उत्पन्न गन्दगी से उल्टी, दस्त, हैजा, मलेरिया आदि बीमारियाँ फैलती हैं।

प्रश्न 3.
जनसंख्या विस्फोट क्या है ?
उत्तर:
हमारे देश में लम्बे समय से जनसंख्या में तो लगातार वृद्धि हो रही है परन्तु मृत्यु – दर में गिरावट आई है, इससे उत्पन्न स्थिति ही जनसंख्या विस्फोट है।

प्रश्न 4.
जनसंख्या विस्फोट से उत्पन्न प्रमुख समस्याएँ क्या हैं ?
उत्तर:
जनसंख्या विस्फोट से उत्पन्न प्रमुख समस्याएँ हैं – गरीबी, पर्यावरण प्रदूषण, शोषण, बाल-अपराध, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार आदि।

प्रश्न 5.
सरकार द्वारा जनसंख्या नियन्त्रण हेतु कौन – कौन – सी योजनाएँ चलाई जा रही हैं ?
उत्तर:
सरकार द्वारा जनसंख्या नियंत्रण हेतु विभिन्न योजनाएँ चलाई जा रही हैं; जैसे-परिवार कल्याण कार्यक्रम, रोजगार योजनाएँ, कार्य के बदले अनाजे योजना, ग्रामीण विकास योजनाएँ आदि।

प्रश्न 6.
परिवार कल्याण कार्यक्रम का क्या उद्देश्य है?
उत्तर:
परिवार कल्याण कार्यक्रम का उद्देश्य है – राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था के अनुरूप जन्म – दर को घटाकर जनसंख्या को स्थिर रखना।

प्रश्न 7.
परिवार नियोजन से आप क्या समझते हैं?
उत्तर:
परिवार नियोजन परिवार कल्याण की दिशा में सहायक होने वाली एक प्रक्रिया है, जिसे अपनाकर कोई भी व्यक्ति समृद्धशाली एवं उन्नत भविष्य का निर्माण कर सकता

प्रश्न 8.
वर्तमान में जनसंख्या वृद्धि दर कितनी है?
उत्तर:
वर्तमान में जनसंख्या वृद्धि दर 48% है।

प्रश्न 9.
एक वर्ष में भारत की जनसंख्या में कितनी वृद्धि होती है?
उत्तर:
एक वर्ष में भारत की जनसंख्या में 1 करोड़ 70 लाख जनसंख्या बढ़ जाती है।

प्रश्न 10.
जनसंख्या दिवस कब मनाया जाता है?
उत्तर:
जनसंख्या दिवस 11 जुलाई को मनाया जाता

प्रश्न 11.
परिवार नियोजन कार्यक्रम का वर्तमान नाम क्या है?
उत्तर;
परिवार नियोजन कार्यक्रम का वर्तमान नाम परिवार कल्याण कार्यक्रम है।

प्रश्न 12.
भारत में परिवार नियोजन एसोसिएशन की स्थापना कब हुई?
उत्तर:
भारत में परिवार नियोजन एसोसिएशन की स्थापना सन् 1949 में हुई।

RBSE Class 12 Home Science Chapter 7 लघूत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
सरकार द्वारा वृहद् स्तर पर परिवार कल्याण कार्यक्रम चलाये जाने के बावजूद भी जनसंख्या वृद्धि पर नियन्त्रण की असफलता के क्या कारण हैं ?
उत्तर:
सरकार द्वारा वृहद् स्तर पर परिवार कल्याण कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं किन्तु इसके पश्चात् भी जनसंख्या वृद्धि पर नियन्त्रण नहीं हो सका है। इसके कई प्रमुख कारण हैं; जैसे – बाल – विवाह, अशिक्षा, गरीबी, निम्न जीवन – स्तर, परिवार नियोजन की जानकारी का अभाव, पुत्र की कामना, धार्मिक रूढ़ियाँ आदि। हमारे देश में पुरुष प्रधान समाज है जहाँ प्रत्येक परिवार में वंश वृद्धि के लिए लड़के की चाहत में परिवार का आकार बढ़ता जाता है। इसलिए सरकार द्वारा चलाये गये परिवार कल्याण कार्यक्रम सफल नहीं हो पा रहे हैं जिससे निरन्तर जनसंख्या बढ़ रही है।

प्रश्न 2.
जनसंख्या विस्फोट का चिकित्सा तथा शिक्षा सुविधाओं पर क्या प्रभाव पड़ा है ?
उत्तर:
जनसंख्या की तीव्र वृद्धि ने गन्दगी को तथा गन्दगी ने अनेकों बीमारियों को जन्म दिया है। इसके परिणामस्वरूप चिकित्सा सुविधाओं की आवश्यकता में तीव्र वृद्धि हुई है। केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा चिकित्सा के मद पर बजट का बड़ा हिस्सा व्यय करने के पश्चात् भी सरकारी अस्पतालों में मरीजों को पलंग के स्थान पर जमीन पर पड़े देखा जा सकता है। प्रति वर्ष कुकुरमुत्तों की भाँति विद्यालयों तथा महाविद्यालयों की संख्या में वृद्धि होने के बावजूद जनसंख्या वृद्धि के कारण इनमें दाखिला मिलना अत्यन्त कठिन है तथा जनसंख्या का एक बड़ा भाग शिक्षा सुविधाओं से वंचित रह जाने वाला है। इसका कारण जनसंख्या विस्फोट है।

प्रश्न 3.
परिवार नियोजन के उद्देश्य बताइये।
उत्तर:
परिवार नियोजन के उद्देश्य:
परिवार नियोजन का मुख्य उद्देश्य केवल परिवार को सीमित रखना ही नहीं बल्कि विवाहित युवा दम्पत्तियों को माँ – बाप के दायित्व सम्बन्धी सलाह देना, दो बच्चों के मध्य आदर्श अन्तर रखना, गर्भवती माताओं तथा प्रसूताओं की देखभाल, यौन शिक्षा तथा विवाह सम्बन्धी आवश्यक बातों की जानकारी प्रदान कर आर्थिक, सामाजिक तथा सांस्कृतिक दृष्टिकोण से ऐसे परिवार का निर्माण करना है, जो स्वस्थ समाज की एक इकाई हो सके।

प्रश्न 4.
परिवार नियोजन से लाभ बताइये।
उत्तर:
परिवार नियोजन से निम्न लाभ हैं –

  • परिवार नियोजन सुखमय जीवन का निर्माण करता है।
  • परिवार के स्थायित्व में सहायक होता है।
  • परिवार नियोजन उने दम्पत्तियों को सुरक्षा प्रदान करता है, जो माता या पिता में असंगत रोग होने के कारण बच्चे पैदा नहीं करना चाहते।
  • उन माताओं को जिन्हें सन्तान नहीं है, उचित सलाह तथा चिकित्सा द्वारा उनके सन्तान होने में सहायक होता है।
  • यह बच्चों को सुरक्षा प्रदान करता है, ताकि वे जन्म लेकर परिवार की खुशी बन सकें।
  • परिवार नियोजन गर्भवती एवं प्रसूताओं की देखभाल कर उन्हें सुरक्षा प्रदान करता है।

प्रश्न 5.
जनसंख्या शिक्षा क्या होती है? इसके क्या लाभ हैं?
उत्तर:
हमारे देश में जनसंख्या वृद्धि के अनेक कारण हैं। जैसे-कम उम्र में शादी होना, अशिक्षा, गरीबी, निम्न जीवन स्तर, परिवार नियोजन की जानकारी का अभाव, पुत्र की चाहत, धार्मिक अन्धविश्वास आदि। भारत की तेज रफ्तार से बढ़ती हुई जनसंख्या हमारे चहर्मुखी विकास के लिए बाधक सिद्ध हो रही है। इस बढ़ती आबादी को घटाने के लिए यह आवश्यक है कि प्रत्येक नागरिक में जन – चेतना की भावना को जागरूक कर परिवार को सीमित एवं स्वस्थ रखने के तरीकों की तरफ प्रेरित किया जाये।

नागरिकों में जनचेतना जागृत करने को ही जनसंख्या शिक्षा कहते हैं। जनसंख्या शिक्षा द्वारा हम नागरिकों को जनसंख्या वृद्धि से होने वाले दुष्परिणामों को समझा सकते हैं तथा उन्हें सीमित परिवार से होने वाले लाभों को प्राप्त करने हेतु प्रेरित कर सकते हैं। परिवार कल्याण कार्यक्रम जनसंख्या शिक्षा का ही एक कार्यक्रम है, जिसका उद्देश्य केवल परिवार को सीमित करने का ही नहीं अपितु परिवार के सभी सदस्यों के कल्याण एवं स्वास्थ्य की देखभाल करना भी है।

RBSE Class 12 Home Science Chapter 7 निबन्धात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
लड़के की चाहत तथा बालिका की उपेक्षा किस प्रकार जनसंख्या वृद्धि में सहयोग देती है ? समझाइए।
उत्तर:
भारतीय समाज पुरुष प्रधान है। हमारे देश में बहुत से ऐसे अन्धविश्वास प्रचलित हैं जिसके कारण पुत्र की चाहत बलवती हो जाती है। उदाहरण के लिए वंश वृद्धि पुत्र द्वारा ही सम्भव है, मुखाग्नि पुत्र द्वारा दिए जाने पर स्वर्ग मिलता है। यही वजह है कि पुत्र की चाहत हर समुदाय व आर्थिक स्तर के परिवारों में अत्यधिक होती है। पुत्र प्राप्ति की चाहत में दम्पत्ति कई – कई सन्तान पैदा करते जाते हैं और इस प्रकार जनसंख्या में वृद्धि होती जाती है।

एक अन्य कारण हमारे समाज में लड़कियों के विवाह में दहेज प्रथा का प्रचलन है। इस कारण माता – पिता लड़कियों को भार समझकर उनकी उपेक्षा करते हैं। जबे उपेक्षित लड़कियाँ विवाह के बाद माँ बनना चाहती हैं तो ये भी पुत्र की इच्छा रखने लगती हैं। यदि एक या दो लड़कियाँ पैदा हो जाएँ तो भी ये पुत्र प्राप्ति की अभिलाषा लिए रहती हैं। इस प्रकार जनसंख्या में वृद्धि होती जाती है।