Rajasthan Board RBSE Class 12 English Prudence Poetry Chapter 8 If

RBSE Class 12 English Prudence Poetry Chapter 8 Textual Questions

1. Choose the correct alternative :

Question (a)
“If you can keep your head when all about you ……………….. blaming it on you”. The poet asks to keep your head
(i) stand straight
(ii) stand at ease
(iii) remain calm and composed
(iv) take care of your head so that it doesn’t get hurt
Answer:
(iii) remain calm and composed

Question (b)
The poet addresses this poem ‘If’ to :
(i) son
(ii) family
(iii) daughter
(iv) wife
Answer:
(i) son

2. Answer the following questions in 15-20 words each :
निम्न प्रत्येक प्रश्न का उत्तर 15-20 शब्दों में दीजिए :

Question (a)
What should you do when all men doubt you?
जब सब लोग आप पर शक कर रहे हो तो आपको क्या करना चाहिये?
Answer:
When all men doubt us, we should not lose our temper. We should have self-confidence.
जब सभी इस पर शक कर रहे हों तो हमें गुस्सा नहीं करना चाहिये। हमें आत्म-विश्वास रखना चाहिये।

Question (b)
“If you can talk with crowds and keep your virtue.” What do you understand by ‘talk with crowds and keep your virtue’?
“यदि आप आम आदमी से वार्तालाप करो और अपनी अच्छाई बरकरार रख सको।” “आम आदमी से वार्तालाप और अपनी अच्छाई बरकरार रखने” से आप क्या समझते हो?
Answer:
“Talk with crowds and keep our virtue” means we should mix with common people and still maintain our good qualities.
“आम आदमी से वार्तालापे और अपनी अच्छाई बरकरार रखने” का अर्थ है कि हमें आम लोगों से मिलना-जुलना चाहिये फिर भी अपने अच्छे गुणों को बनाये रखना चाहिये।

Question (c)
What is meant by ‘the unforgiving minute’ in the poem?
कविता में कभी न माफ करने वाला क्षण” का क्या अर्थ है?
Answer:
“The unforgiving minute” refers to the time which does not come back to the person who does not use it.
कथन ‘‘कभी न माफ करने वाला क्षण” उस समय की ओर संकेत करता है जो उस व्यक्ति के पास नहीं लौटता जो उसका उपयोग नहीं करता।

Question (d)
What does ‘pitch and toss’ refer to in the poem ?
कविता में ‘pitch and toss’ किसको संकेत करती है।
Answer:
The term ‘pitch and toss’ refers to taking risks in life as in the game of chance with coins.
कथन ‘pitch and toss’ जीवन में जोखिम उठाने जैसे कि सिक्कों के साथ भाग्य के खेल में होता है, की ओर संकेत करता है।

Question (e)
How does Kipling present hopes and fears?
Kipling ने आशाओं और आकाशंओं की किस तरह प्रस्तुत किया है?
Answer:
The poet, Rudyard Kipling, presents hopes and fears as triumph and disaster, the two things that life is made up of कवी, Rudyard Kipling ने आशाओं और आशकाओं कोविजय और विपत्ति जिनसे मिलकर जीवन बना है के रूप में प्रस्तुत किया है।

3. Answer the following questions in 50 words each:
निम्न प्रत्येक प्रश्न का उत्तर 50 शब्दों में दीजिए :

Question (a)
Why does the poet say that triumph and disaster are two imposters?
कवि क्यों कहता है कि ‘विजय और विपत्ति दोनों धोखेबाज हैं ?
Answer:
In the poem, the poet refers to triumph and disaster as imposters because they tend to present only one aspect of life. Life is made up of pain and pleasure but when pain comes, people forget that there is pleasure too. The same is true of pleasure.

कविता में कवि ने विजय और विपत्ति को धोखेबाज कहा है क्योंकि ये जीवन का एक ही पहलू प्रस्तुत करते हैं। जीवन सुख- दुखः दोनों से मिलकर बना है लेकिन जब दु:ख आता है तो लोग भूल जाते हैं कि सुख भी है। यही बात सुख के बारे में सही है।

Question (b)
What is expected of a perfect man when he loses all that he has achieved or gained ?
एक आदर्श व्यक्ति से क्या आशी की जाती है जब वह सब कुछ खो दे जो कुछ उसने पाया है?
Answer:
When a perfect man loses all that he has achieved or gained in life he must have the
strength to bear the loss. He should not be disheartened. Instead, he is expected to try
to make up the loss even when he has grown old in mind, body and heart.

जब एक आदर्श व्यक्ति वह सब कुछ खो देता है जो उसने जीवन में प्राप्त किया तो अपने उस नुकसान को सहन करने की उसमें शक्ति होनी चाहिये। उसे निराश नहीं होना चाहिये। इसके बजाय, उससे उस नुकसान की भरपाई करने की कोशिश करने की अपेक्षा की जाती है तब भी जब वह मन, शरीर और हृदय से बूढा हो गया हो।

Question (c)
“And never breathe a word about your loss”. Elucidate.
“और अपने नुकसान के बारे में एक शब्द भी न कहो ।” व्याख्या करो।
Answer:
The poet advises his son to have the courage to risk all his smaller gains for a bigger achievement. But if in the process, he loses everything, he should not regret it and never tell anyone anything about it. Instead, he should start working again for the lost gains.

कवि अपने बेटे को अपनी छोटी-छोटी उपलब्धियों को एक बड़ी उपलब्धि पाने के लिये दाँव पर लगाने का साहस रखने की सलाह देता है। लेकिन यदि इस प्रक्रिया में सब कुछ खो दे तो उसे पछताना नहीं चाहिये और कभी भी किसी से भी उसके बारे में नहीं बताना चाहिये। इसके बजाय, उसे उन खोई हुई उपलब्धियों के लिये फिर से काम करना शुरू कर देना चाहिए।

Question (d)
What essential qualities of a true leader are highlighted in the poem ?
एक सच्चे नायक के कौन से मुख्य गुणों को कविता में उजागर किया गया है?
Answer:
The essential qualities of a true leader high-lighted by the poet in the poem are calm behaviour, truthfulness, self-confidence and patience in every circumstance. He loves all and has endless tolerance and calm state of mind in difficult situations. He has courage to take risk and makes the best use of time in life.

कविता में कवि द्वारा उजागर असली नायक के आवश्यक गुण हैं हर परिस्थिति में शांत आचरण, सत्यवादिता, आत्म-विश्वास और धैर्य। वह सबसे प्रेम करता है और उसके पास कठिन परिस्थितियों में असीमित सहनशीलता और शान्त स्वभाव होता है। उसके पास जोखिम उठाने का साहस होता है और वह जीवन में समय का सदुपयोग करता है।

4. Answer the following questions in 100 words each:
निम्न प्रत्येक प्रश्न का उत्तर 100 शब्दों में दीजिए :

Question (a)
What feelings does the poem awaken in you ? How do your feelings connect with those of the poet ?
कविता आपके मन में क्या भाव जगाती है? आपकी भावनायें कवि की भावनाओं से कैसे जुड़ पाती हैं?
Answer:
The poem ‘If’ by Rudyard Kipling inspires one to inculcate in one’s character the qualities recommended by the poet. Self-control, self confidence, patience, tolerance and courage are all required to tackle the difficult circumstances of life. Truthfulness, being practical in deeds and making the best use of time are essential to achieve success in life. But all these appear to be too indealistic in their totality to be acquired by ordinary persons. Nevertheless, the poet is right in emphasising that they are essential for achievements in life, and above all, making a human being a man in the real sense of the term.

Rudyard Kipling द्वारा रचित कविता ‘If’ व्यक्ति को अपने चरित्र में कवि द्वारा सुझाये गुणों को लाने के लिये प्रेरित करती है। आत्म-नियन्त्रण, आत्म-विश्वास, धैर्य, सहनशीलता और साहस सभी जीवन की कठिन परिस्थितियों से निपटने के लिये आवश्यक हैं। सत्यवादिता, अपने काम में व्यवहारिक होना और समय का सदुपयोग जीवन में सफलता पाने के लिये आवश्यक है, परन्तु ये सभी अपनी सम्पूर्णता में साधारण व्यक्तियों द्वारा अर्जित करने के लिये कुछ ज्यादा ही आदर्शवादी प्रतीत होते हैं। फिर भी, कवि यह जोर देने के मामले में सही है कि ये सभी बातें जीवन में उपलब्धियाँ पाने के लिये और सबसे ऊपर व्यक्ति को सही अर्थों में मनुष्य बनाने के लिये आवश्यक हैं।

Question (b)
The poem concludes with “You will.be a Man”. What kind of a man is implied here?
कविता का अन्त “तुम एक मनुष्य होगे” से होता है। यहाँ किस प्रकार के मनुष्य की ओर संकेत है।
Answer:
The poem, “If” concludes with ‘You will be a Man’. The poet implies a kind of a man who is endowed with certain qualities which are not found in ordinary human beings. Self control, self-confidence, patience, truthfulness and love for all are the qualities which when exercised in trying circumstances characterise only the man who is above the ordinary. Similarly equanimity, tolerance, courage in the face of difficulty, remaining active till death, treating all alike and making the fullest use of time are the qualities not usually found in ordinary persons. A man who possesses these qualities in totality is a Man in real sense.

कविता ‘If’ ‘तुम मनुष्य होगे’ के साथ समाप्त होती है। कवि का अर्थ उस प्रकार के व्यक्ति से है जो कुछ उन गुणों से युक्त है जो साधारण मनुष्यों में नहीं पाये जाते। आत्म नियन्त्रण, आत्म-विश्वास धैर्य, सत्यवादिता और सबके लिये प्रेम ऐसे गुण हैं जो जब मुश्किल हालातों में प्रयुक्त किये जाते हैं तो उसी व्यक्ति के होते हैं जो सामान्य व्यक्ति से ऊपर हो। उसी तरह से चित्त की स्थिरता, सहनशीलता, मुश्किल स्थिति में साहस, मृत्यु तक क्रियाशील रहना, सभी से समान व्यवहार करना और समय का पूरा उपयोग करना वे गुण हैं जो आम तौर पर सामान्य व्यक्तियों में नहीं पाये जाते। वह व्यक्ति जिसके पास ये गुण पूर्णता से हैं वही सही अर्थ में मनुष्य है।

Question (C)
Comment on the mood and tone of the poem.
कविता के मिजाज और सुर पर टिप्पणी कीजिये।
Answer:
The poem ‘If’ is an address to a son by a father who instructs him to cultivate great virtues so as to be a man in the true sense. Hence, the mood of the poem is inspiring and the tone is didactic. The poem has a universal appeal to all the youths. It inspires them to acquire qualities like self-confidence, self-reliance and self-control. It exhorts them to treat the ups and downs of life with poise. These qualities shall bring them success and perfection in life. Though the poet takes an idealistic view, he teaches the youths the real values of life.

(poise = a calm, confident way of behaving, शांत या स्थिर और आत्मविश्वासपूर्ण आचरण) कविता ‘If’ एक पिता द्वारा पुत्र को किया हुआ सम्बोधन है जो उसे अच्छे गुण विकसित करने की शिक्षा देता है जिससे वह सच्चे अर्थ में मनुष्य बन सके। इसीलिये, कविता का मिजाज प्रेरणादायी है और सुर शिक्षात्मक है। यह कविता सभी नौजवानों के लिये है। यह उन्हें आत्म-विश्वास, आत्म-निर्भरता और आत्म-नियन्त्रण पाने के लिये प्रेरित करती है। यह उन्हें जीवन के उतार-चढ़ावों से स्थिर मन के साथ व्यवहार करने की सलाह देती है। ये गुण उन्हें जीवन में सफलता और पूर्णता प्रदान करेंगे। यद्यपि कवि का दृष्टिकोण आदर्शवादी है, वह नौजवानों को जीवन के वास्तविक मूल्यों की शिक्षा देता है।

RBSE Class 12 English Prudence Poetry Chapter 8 Additional Questions

Answer the following questions in 50 words each :
निम्न प्रत्येक प्रश्न का 50 शब्दों में उत्तर दीजिये :

Question 1.
Who is the speaker ? What does the poem reveal about the speaker’s character?
वक्ता कौन है? यह कविता वक्ता के चरित्र के विषय में क्या उजागर करती है?
Answer:
The poet himself is the speaker. The poem indirectly reveals the virtues of the speaker’s character. It seems that the poet himself is a humble, practical, optimistic, hard working, disciplined and self-confident man as he has appreciated these virtues and inspires his readers to follow them.

वक्ता स्वयं कवि है। कविता अप्रत्यक्ष रूप से वक्ता के चरित्र के सद्गुणों को उजागर करती है। ऐसा प्रतीत होता है कि कवि स्वयं एक विनम्र, व्यावहारिक, आशावादी, परिश्रमी, अनुशासित और आत्म-विश्वास से पूर्ण व्यक्ति है क्योंकि वह इन गुणों की प्रशंसा करता है और अपने पाठकों को इन गुणों को अपनाने हेतु प्रेरित करता है।

Question 2.
“Keep your head” why would this be important ? What does Kipling mean “to trust yourself when others doubt you’?
“मानसिक संतुलन को बनाये रखना” यह महत्त्वपूर्ण क्यों होगा? “स्वयं पर विश्वास रखो जब अन्य लोग आप पर संदेह करें” से Kipling का क्या आशय है?
Answer:
It would be important to “keep our head” (be sensible) because when other people may lose their peace of mind, we should be sensible, otherwise the problem will become more serious. By “to trust yourself when others doubt you” the poet means that when others doubt us, we should not lose our self-confidence. We should trust ourselves without caring for others.

‘मानसिक संतुलन को बनाये रखना’ महत्त्वपूर्ण होगा क्योंकि जब अन्य सभी लोग अपना मानसिक संतुलन खोयें, तो हमें अपना मानसिक संतुलन बनाये रखना चाहिये अन्यथा समस्या और भी गंभीर हो जायेगी। “जब अन्य लोग आप पर संदेह करें तो आप स्वयं में विश्वास रखें” इससे कवि का आशय है कि दूसरों के संदेह करने पर भी हम अपना आत्म-विश्वास न खोयें। हमें बिना किसी की परवाह किये स्वयं पर विश्वास रखना चाहिये।

Question 3.
How does one make allowances for doubting ? Why is this important ?
किसी के द्वारा संदेह या आलोचना किये जाने पर व्यक्ति बिना प्रतिक्रिया उसे कैसे लेता है? यह महत्त्वपूर्ण क्यों है?
Answer:
One can make allowance for doubting by keeping the balance of mind. The person should not lose his temper. He should have self-confidence. This is important to be successful in life. If one keeps reacting to everybody’s point, one would not be able to concentrate on his aim.

व्यक्ति ऐसा अपना मानसिक संतुलन बनाये रखकर करता है। व्यक्ति को क्रोधित नहीं होना चाहिये। उसमें आत्मविश्वास होना चाहिये। यह जीवन में सफल होने के लिये महत्त्वपूर्ण है। यदि व्यक्ति अन्य प्रत्येक व्यक्ति की बात पर प्रतिक्रिया देता रहेगा, तो अपने लक्ष्य पर केन्द्रित नहीं हो पायेगा।

Question 4.
Why does the poet recommend not looking “too good” or “talking too wise”?
कवि “अधिक अच्छा नहीं दिखने” या “अधिक बुद्धिमान नहीं बनने की सलाह क्यों देता है?
Answer:
The poet recommends not looking “too good” or “talking too wise” because people should not be over-confident. People should not try to show what they are not. People should be what they are. They should have self-confidence and strong will power to achieve their aim.

कवि “अधिक अच्छा न दिखने” या “अधिक बुद्धिमान न बनने (बुद्धिमान होने का दिखावा न करने) की सलाह इसलिये देता है क्योंकि लोगों को जरूरत से अधिक आत्म विश्वासी नहीं होना चाहिये और लोगों को स्वयं को वैसा दिखाने का प्रयास नहीं करना चाहिये जैसे वे नहीं हैं। लोगों को वैसे ही दिखना चाहिये जैसे वे होते हैं। उन्हें अपना लक्ष्य पाने के लिये आत्म-विश्वास व दृढ़ इच्छाशक्ति रखनी चाहिए।

Question 5.
According to the poet, why is it not good to make dreams your master’?
कवि के अनुसार ‘स्वप्नों को अपना स्वामी’ बनाना अच्छा क्यों नहीं है?
Answer:
According to the poet, it is not good to make ‘dreams our master’. Instead of this, we should make efforts to turn our dreams into reality. We can never achieve success just by dreaming. So we should make our sincere efforts to achieve success, otherwise we will lose everything and will get only disappointment.

कवि के अनुसार अपने ‘स्वप्नों को अपना स्वामी’ बनाना अच्छा नहीं है। इसके स्थान पर, हमें अपने स्वप्नों को हकीकत (वास्तविकता) में बदलने के लिये प्रयास (कार्य) करने चाहिये। सिर्फ स्वप्न देखकर हम कभी भी सफलता हासिल नहीं कर सकते। इसलिये हमें सफलता पाने के लिये अपने उचित प्रयास करने चाहिये अन्यथा हम अपना सब कुछ खो देंगे और हमें सिर्फ निराशा मिलेगी।

Question 6.
Is the poet actually talking about “triumph and disaster” or how a person responds to those situations? What is he conveying here?
क्या कवि वास्तव में “विजय और आपदा” (पराजय) के विषय में बात कर रहा है या फ़िर इस विषय में कि कोई व्यक्ति उन परिस्थितियों (दशाओं) में किस प्रकार प्रतिक्रिया करता है? यहाँ वह क्या कह रहा है?
Answer:
The poet has used these words symbolically. By triumph and disaster, he means favorable or unfavorable conditions. He means to say that we should accept success and failure equally. We should neither be overjoyed at our success nor feel shattered at our failure.

कवि ने इन शब्दों का प्रतीकात्मक रूप से उपयोग यहाँ किया है। विजय या आपदा (पराजय) से उसका अर्थ अनुकूल व प्रतिकूल परिस्थितियों से है। उसके कहने का अर्थ है कि हमें हमेशा समान रूप से सफलता व असफलता दोनों को स्वीकार करना चाहिये। न तो सफलता पर जरूरत से अधिक खुश और न ही असफलता पर अत्यधिक निराश होना चाहिये।

Question 7.
Why does the poet say “Yours is the Earth and everything that’s in it” ?
कवि क्यों कहता है कि “संसार और इसमें मौजूद प्रत्येक वस्तु तुम्हारी है?
Answer:
The poet motivates his readers to make the best use of their time. We should keep an account of every second of our life. If we make the fullest and the best use of our time, our success is sure. Therefore the poet says, “Yours is the Earth and everything that’s in it”. It means no one can check you from becoming a successful person.

कवि अपने पाठकों को उनके समय का श्रेष्ठतम उपयोग करने हेतु प्रेरित करता है। हमें अपने जीवन के प्रत्येक क्षण का हिसाब रखना चाहिये। यदि हम अपने समय का पूर्ण और श्रेष्ठतम रूप से सदुपयोग करें, तो हमारी सफलता निश्चित है। इसलिये कवि कहता है, “यह संसार और इसमें मौजूद प्रत्येक वस्तु तुम्हारी हैं” इसका अर्थ हुआ कि तुम्हें सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।

Question 8.
What does unforgiving minute” suggest ?
“Unforgiving minute” क्या सुझाव देता है?
Answer:
“Unforgiving minute” suggests that time lost is lost forever. It does not come back. So we should keep an account of every second of our life. We should make the fullest and the best use of our time. If we waste even a minute of our time, it will not forgive us.

Unforgiving minute” सुझाव देता है कि हमें अपने जीवन के प्रत्येक सेकेण्ड का हिसाब रखना चाहिये। खोया हुआ समय हमेशा के लिये खो जाता है। इसलिये, यह फिर वापिस नहीं आता। हमें अपने समय का पूर्ण और सर्वोत्तम तरीके से सदुपयोग करना चाहिये। यदि हम एक मिनट भी व्यर्थ गंवायेंगे तो यह हमें क्षमा नहीं करेगा।

Question 9.
What is the poet’s suggestion regarding ‘being lied about’ and ‘being hated’?
किसी के द्वारा ‘झूठ बोले जाने’ या ‘नफरत किये जाने के सम्बन्ध में कवि का क्या सुझाव है?,
Answer:
Some people may spread rumours about us. They may tell lies about us. They may hate us. But the poet suggests us not to follow the policy of tit for tat. In turn, we should neither tell a lie nor hate others. We should always speak truth and love all.

कुछ लोग हमारे विषय में अफवाहें फैला सकते हैं। वे हमारे विषय में झूठ बोल सकते हैं। वे हमसे नफरत कर सकते हैं। लेकिन कवि हमें जैसे को तैसा’ वाली नीति नहीं अपनाने का सुझाव देता है। बदले में, हमें न तो झूठ बोलना चाहिये और न ही दूसरों से नफरत करनी चाहिये।

Question 10.
Explain the phrase – ‘not make thoughts your aim’.
‘विचारों को अपना लक्ष्य मत बनाओ’-वाक्यांश की व्याख्या करिये।
Answer:
The poet here suggests that we should not just keep on thinking and thinking. Thoughts without action are meaningless. We should work to put our thoughts into action and make them a reality. We should be practical. We should plan our future and execute our plans to be successful in life.

यहाँ कवि हमें सुझाव देता है कि हमें सिर्फ सोचते और सोचते ही नहीं रहना चाहिये। बिना उद्देश्य के विचार अर्थहीन हैं। हमें अपने विचारों को काम में बदलना चाहिये और वास्तविकता में लाना चाहिये। हमें व्यावहारिकं होना चाहिये। हमें भविष्य की योजना बनानी चाहिये और जीवन में सफल होने के लिये अपनी योजनाओं को क्रियान्वित करना चाहिये।

Question 11.
what do you understand by ‘wornout tools’ ?
‘Wornout tools’ से आप क्या समझते हैं ?
Answer:
The poet has used these words symbolically. Here ‘wornout tools’ means hard work and determination. The poet inspires us to be courageous and determined. If all our valuable things get broken (things/achievements are lost), we should rebuild (regain) them with the tools of hard work and determination.

कवि ने इन शब्दों का प्रयोग प्रतीकात्मक रूप में किया है। यहाँ ‘wornout tools’ का अर्थ कठिन परिश्रम व दृढ़-निश्चय से है। कवि हमें साहसिक और दृढ़-निश्चयी होने के लिये प्रेरित करता है। यदि हमारी सभी मूल्यवान वस्तुएँ टूट जायें (वस्तुएँ। उपलब्धियाँ नष्ट हो जायें) तो हमें अपने परिश्रम व दृढ़ता के औजारों से उन्हें पुनः बनाना (प्राप्त) चाहिये।

RBSE Class 12 English Prudence Poetry Chapter 8 Long Answer Type Question

Answer the following question in about 100 words :

निम्न प्रत्येक प्रश्न का उत्तर 100 शब्दों में दीजिए :

Question 1.
Do you think the virtues preached by the poet are achievable?
क्या आप मानते हैं कि कवि द्वारा उपदेशित गुण प्राप्य हैं?
Answer:
The poet preaches the virtues of patience, tolerance, truthfulness and love in the poem ‘If’. Though he invokes the youth to inculcate them in their character yet the poem has a universal appeal and applies to all human beings. The poet says that together with these qualities, virtues like equanimity in pain and pleasure, perseverence, humility and hard work may help all to achieve perfection in life and make them men in true sense. But all these are ideals and, if not impossible, are difficult to achieve for ordinary persons. Only the very strong-willed persons gifted with extra-ordinary powers may achieve them.

कवि कविता ‘If’ में धैर्य, सहनशीलता, सत्यवादिता और प्रेम जैसे गुणों का उपदेश देता है। यद्यपि वह इन गुणों को अपने चरित्र में लाने के लिये नौजवानों का आह्वान करता है फिर भी यह कविता सबके लिये संदेश है और सब पर लागू होती है। कवि कहता है कि इन गुणों के साथ, अन्य गुण जैसे सुख और दुख में मानसिक सन्तुलन, लगन, विनम्रता और परिश्रम भी सबके जीवन में पूर्णता लाने में सहायता कर सकते हैं और उन्हें सही अर्थ में मनुष्य बना सकते हैं। परन्तु ये सभी आदर्श हैं और यदि असम्भव नहीं तो साधारण व्यक्तियों के लिये कठिन जरूर हैं। केवल बहुत शक्तिशाली इच्छा वाले लोग जिनमें असाधारण शक्तियाँ होती हैं इन्हें प्राप्त कर सकते हैं।