Rajasthan Board RBSE Class 12 English Rainbow Chapter 10

RBSE Class 12 English Rainbow Chapter 10 Textual Questions

Activity 1: Comprehension

A. Say whether the following statements are True or False. Write ‘T’ for true and ‘F’ for false.
Question 1.
William Douglas began to fear water at an early age of three or four.

Question 2.
Douglas decided to learn swimming at the YMCA pool.

Question 3.
The author’s introduction to the YMCA revived childish fears in him.

Question 4.
An eighteen-year-old boy threw the author into the deep end of the swimming pool.

Question 5.
The depth of the swimming pool was uniform from one end to the other end.

Question 6.
The author was frightened when he realized that he was drowning.

Question 7.
Douglas tried to cry for help but no sound came out.

Question 8.
When the author’s feet touched the bottom of the pool he made a great jump upwards, to spring from the bottom of the pool.

Question 9.
After surviving death by drowning the author never went back to the YMCA pool again.

Question 10.
Douglas finally conquered his fear of water.

Answers:
1. True
2. True
3. True
4. True
5. False
6. True
7. True
8. True
9. True
10. True

B. Answer the following questions in about 30-40 words each:
निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर लगभग 30-40 शब्दों में दीजिए:

Question 1.
Why does water create a feeling of hatred and terror in William Douglas?
पानी विलियम डगलस के मन में घृणा एवं भय की भावना क्यों पैदा कर देता है?
Answer:
Willam Douglas faced two accidents in water in his childhood. At the age of three or four, he was almost buried with the waves at the beach. Then at the age of eleven or twelve, he had a narrow escape from drowning in a swimming pool. So water creates a feeling of hatred and terror in him.

विलियम डगलस ने बचपन में पानी में दो दुर्घटनाओं का सामना किया। तीन या चार वर्ष की उम्र में समुद्र तट की लहरों ने उसे लगभग डुबो दिया था। तत्पश्चात् ग्यारह या बारह वर्ष की उम्र में वह एक तरणताल में डूबने से बाल-बाल बचा। इसलिए पानी उसमें घृणा और भय की भावना पैदा कर देता है।

Question 2.
What was the continual warning of the author’s mother and did he take it seriously?
लेखक की माँ लगातार क्या चेतावनी देती रहती थी और क्या उसने इसे गम्भीरतापूर्वक लिया था?
Answer:
The author had decided to learn to swim. His mother continually warned him against the treacherous Yakima river. She reminded him repeatedly the details of each drowning in the river. But the author did not take her warning seriously.

लेखक ने तैरना सीखने का निश्चय कर लिया था। उसकी माँ उसे लगातार खतरनाक यकीमा नदी से दूर रहने की चेतावनी देती रहती थी। वह उसे उस नदी में डूबने की प्रत्येक घटना का विवरण बार-बार याद दिलाती कहती थी। किन्तु उसने उनकी चेतावनी को गम्भीरतापूर्वक नहीं लिया था।

Question 3.
Why did Douglas decide to join the YMCA pool?
डगलस ने YMCA के तरणताल पर जाने का निश्चय क्यों किया?
Answer:
Douglas had decided to learn to swim. Knowing that the YMCA pool was safe, he decided to go there and learn swimming without any danger.

डगलस ने तैरना सीखने का निश्चय किया था। YMCA के तरणताल को सुरक्षित जानकर उसने वहाँ जाकर बिना किसी खतरे के तैरना सीखने का निश्चय किया।

Question 4.
What does the author describe as the misadventure and how does he end up?
लेखक किस बात का दुर्घटना के रूप में वर्णन करता है और अन्त में उसके साथ क्या होता है?
Answer:
The author describes the narrow escape from death by drowning in the YMCA pool as misadventure. He was saved from drowning by others. This misadventure created a permanent feeling of hatred and terror from water in the author’s mind.

लेखक वाइ एम सी ए ताल में डूबने से बाल-बाल बचने की घटना को दुर्घटना बताता है। उसे दूसरे लोगों द्वारा डूबने से बचाया गया। इस दुर्घटना ने लेखक के मन में पानी के प्रति घृणा एवं भय की स्थायी भावना पैदा कर दी।

Question 5.
What did William Douglas plan while sinking to the bottom of the swimming pool?
तरणताल के तल की ओर डूबते समय विलियम डगलस ने क्या योजना बनाई?
Answer:
When the author was drowning in deep water, he thought that he would make a great spring upward and lie flat on the water. He also thought that he would strike out with his arms and thrash with his legs. Then he would get to the edge of the pool.

जब लेखक गहरे पानी में डूब रहा था तो उसने सोचा कि वह जोर से ऊपर की ओर छलाँग लगाएगा और पानी पर सपाट लेट जाएगा। उसने यह भी सोचा कि वह अपनी भुजाओं से बाहर आएगा तथा टाँगों को चलाएगा और इस तरह वह ताल के किनारे पहुँच जाएगा।

Question 6.
How did terror seize the narrator when he was going down and down and a yellow glow of water surrounded him?
जब लेखक गहराई की ओर बढ़ता जा रहा था और पानी की एक पीली आभा ने उसे घेर रखा था, उस समय भय ने किस प्रकार उसे जकड़ लिया?
Answer:
When all his efforts to come out of water failed, terror seized him. He was shrieking under water. He felt paralysed. Even the screams in his throat were frozen. He felt his heart and head pounding fast.

जब उसके पानी से बाहर आने के सारे प्रयास विफल हो गए तो भय ने उसे जकड़ लिया। वह पानी के अन्दर चीख रहा था। उसने स्वयं को लकवाग्रस्त महसूस किया। उसके गले से चीख भी नहीं निकल रही थी। उसने अपने हृदय व सिर में तेज़ धड़कन महसूस की।

Question 7.
Where did the author find himself lying?
लेखक ने स्वयं को कहाँ पड़े हुए पाया?
Answer:
When all his efforts to save himself from drowning failed, he felt himself close to death. He was in a state of subconsciousness. The next moment he found himself lying on hiş stomach beside the pool.

जब लेखक के डूबने से बचने के सभी प्रयास विफल हो गए तो उसने स्वयं को मृत्यु के समीप महसूस किया। वह अर्द्धसंचेतना की अवस्था में था। अगले ही पल उसने स्वयं को तालाब के किनारे पेट के बल लेटे हुए पाया।

Question 8.
How does the fear of water ruin his fishing trips and other joys?
लेखक को पानी से भय उसकी मछली पकड़ने की यात्राओं व अन्य खुशियों को किस प्रकार नष्ट कर देता था।
Answer:
The author was fond of fishing, and all types of water sports. But his fear of water spoiled all his fun. Wherever he went, the fear of water followed him. It ruined his fishing trips, deprived him of the joy of canoeing, boating and swimming.

लेखक को मछली पकड़ने व सब प्रकार के पानी के खेलों का शौक था। लेकिन पानी से उसका डर उसका सारा मजा खराब कर देता था। वह जहाँ भी जाता था, पानी का डर उसका पीछा करता। यह उसकी मछली पकड़ने की यात्राओं को खराब कर देता था; उसे डोंगी चलाने, नौकायन करने और तैरने के आनन्द से वंचित कर देता था।

Question 9.
Why was William Douglas determined to conquer his fear of water?
विलियम डगलस ने पानी से अपने भय पर विजय प्राप्त करने का दृढ़ निश्चय क्यों किया?
Answer:
The author was fond of fishing, and of all types of water sports. But his fear of water spoiled all his fun. Wherever he went, this fear followed him, So in order to enjoy life, he was determined to conquer his fear of water.

लेखक को मछली पकड़ने का व सब प्रकार के पानी के खेलों का शौक था। लेकिन पानी से उसका डर उसका सारी मजा खराब कर देता था। वह जहाँ भी जाता था, यह डर उसका पीछा करता था। इसलिए जीवन का आनन्द उठाने के लिए उसने पानी से अपने भय पर विजय प्राप्त करने का दृढ़ निश्चय किया।

Question 10. How did the author become a perfect swimmer?
लेखक एक पूर्णतः कुशल तैराक किस प्रकार बना?
Answer:
The author hired an instructor. The instructor first taught him to stay in the water. Then he taught him to put his face under water and exhale, and to raise his nose and inhale. Next, he taught him how to kick with his legs. Thus gradually, he became a swimmer.

लेखक ने एक प्रशिक्षक की सेवाएँ लीं। प्रशिक्षक ने पहले उसे पानी में रहना सिखाया। फिर उसने उसे पानी के अन्दर मुँह रखकर सांस छोड़ना और नाक ऊपर उठाकर सांस अन्दर खींचना सिखाया। फिर उसने उसे टाँगें चलाना सिखाया। इस प्रकार क्रमशः वह एक पूर्णतः कुशल तैराक बना।

C. Answer the following questions in about 125 words each:
निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर लगभग 125 शब्दों में दीजिए।

Question 1.
How does Douglas develop a sense of deep fear of water and what does he do to overcome it?
डगलस के मन में पानी के प्रति गहरा भय किस प्रकार विकसित होता है और इस डर पर विजय प्राप्त करने के लिए वह क्या करती है?
Answer:
Douglas was a young boy. He went to a swimming pool to learn how to swim. One day he was thrown into deep water by a bully boy of about eighteen. He narrowly escaped death. It was a terrible experience for him. After this incident, he got scared of water. He also had a fascination for lakes and brooks. So he decided to overcome his fear of water. For this purpose, he hired an instructor. The instructor first taught him to stay in the water. Then he taught him to put his face under water and exhale, and to raise his nose and inhale. Next, he taught him how to kick with his legs. Thus piece by piece or bit by bit, he became a perfect swimmer. Then he went to several lakes and swam alone to overcome his fear of water. Thus maintaining his confidence and spirit he became free from this fear.

डगलस एक छोटा लड़का था। वह तरणताल पर तैरना सीखने जाता था। एक दिन लगभग अट्ठारह वर्ष के एक दबंग लड़के द्वारा उसे गहरे पानी में फेंक दिया गया। वह मृत्यु से बाल-बाल बचा। यह उसके लिए एक भयंकर अनुभव था। इस घटना के बाद, उसे पानी से डर लगने लगा । उसका झीलों और झरनों के प्रति भी आकर्षण था। अतः उसने पानी से अपने डर पर विजय प्राप्त करने का निश्चय किया। इस उद्देश्य से उसने एक प्रशिक्षक की सेवाएँ लीं। प्रशिक्षक ने पहले उसे पानी में रहना सिखाया। फिर उसने उसे पानी के अन्दर मुँह रखकर सांस छोड़ना और नाक ऊपर उठाकर सांस खींचना सिखाया। फिर उसने उसे टाँगें चलाना सिखाया। इस प्रकार क्रमशः वह एक कुशल तैराक बना। फिर वह पानी से अपने डर पर विजय प्राप्त करने के लिए कई झीलों पर अकेला जाकर तैरा। इस तरह अपने आत्मविश्वास और जोश (स्फूर्ति) को बनाये रख कर वह इस भय से मुक्त हो गया।

Question 2.
Who helps the author in becoming a perfect swimmer and how?
लेखक की एक कुशल तैराक बनने में कौन सहायता करता है और किस प्रकार?
Answer:
The instructor of the author helped him to be a perfect swimmer. He had to put in extra effort for the purpose. The instructor used a rope and pulley to train the author. He held on to the end of the rope and made him go back and forth across the pool over and over again. Whenever the instructor relaxed his hold on the rope, the author would get extremely frightened. The instructor created confidence in Douglas. Then he taught him to put his face under water and exhale and to raise his nose and inhale. He made the author kick the water with his legs. He made him perfect on each step of swimming piece by piece and when he had perfected each piece, he put them together into an integrated whole. Thus the instructor made the author a perfect swimmer.

लेखक के प्रशिक्षक ने उसे एक कुशल तैराक बनने में सहायता की। इस उद्देश्य के लिए उसे अतिरिक्त मेहनत करनी पड़ी। प्रशिक्षक ने लेखक को प्रशिक्षण देने के लिए घिरनी और रस्सी का प्रयोग किया। वह रस्सी को छोर पकड़ लेता था और उससे बार-बार ताल को पार करवाता था। जब कभी प्रशिक्षक रस्सी ढीली छोड़ता तो लेखक बुरी तरह डर जाता था। तीन महीने के अन्दर उसको पानी का डर कम होने लगा। प्रशिक्षक ने लेखक के मन में भरोसा जगाया। फिर उसने लेखक को पानी के अन्दर डुबकी लगाना और साँस छोड़ना सिखाया और नाक ऊपर उठाना और साँस लेना सिखाया। उसने लेखक से पानी में पैर चलवाये। उसने तैरने के हेर चरण को अलग-अलग अभ्यास कराया और जब उसने हरे भाग पर कुशलता हासिल कर ली तो फिरे उन सबको मिला दिया। इस प्रकार प्रशिक्षक ने लेखक को एक कुशल तैराक बना दिया।

Question 3.
Describe how Douglas tried to save himself from.drowning.
वर्णन कीजिए कि डगलस ने स्वयं को डूबने से बचाने के लिए किस प्रकार प्रयास किया।
Answer:
Once a bully boy of about eighteen years threw Douglas into deep water. While going down, he was frightened, But he made a plan that as his feet hit the bottom, he would make a big jump, come to the surface, lie flat on it, and paddle to the edge of the pool. But his jump couldn’t make him reach the surface. A great force was pulling him down. As he was again going down, he remembered his strategy: he would spring from the bottom of the pool and come like a cork to the surface. In the midst of stark terror, he again jumped as he hit the bottom. But the jump made no difference. He looked for ropes, ladders and water wings. But there was nothing. He tried to scream but couldn’t. Thus he very courageously tried to save himself from drowning. But he didn’t succeed.

एक बार एक अठारह वर्षीय दबंग लड़के ने डगलस को गहरे पानी में फेंक दिया। नीचे जाते समय वह बहुत डरा हुआ था। लेकिन उसने एक योजना बनाई कि जैसे ही उसके पैर तल से टकरायेंगे, वह जोर से उछलेगा, पानी की सतह पर आ जाएगा, उस पर सीधे लेट जाएगा, और पैर चलाकर तालाब के किनारे पर पहुँच जाएगा। लेकिन वह उछलकर सतह पर नहीं पहुँच पाया। कोई बड़ी ताकत उसे नीचे की ओर खींच रही थी। पुनः नीचे जाते समय उसे अपनी रणनीति याद थी। वह तालाब के तल से उछलेगा और एक कॉर्क की भाँति सतह पर आ जाएगा। अपने गहरे डर के बीच वह तल से टकराते ही पुनः उछला। लेकिन उछलने से कोई फर्क नहीं पड़ा। उसने रस्सी, सीढ़ी तथा जल पंखा खोजे। किन्तु वहाँ कुछ नहीं था। उसने चीखने का प्रयास किया लेकिन चीख नहीं पाया। इस प्रकार उसने बहुत साहसपूर्वक स्वयं के डूबने से बचाने का प्रयास किया। किन्तु वह सफल नहीं हुआ।

Question 4.
What things of joy did the author miss due to his fear of water?
लेखक पानी से अपने डर के कारण किन गतिविधियों का आनन्द नहीं उठा पाता था?
Answer:
The author was fond of fishing, and of all sorts of water sports. Water always attracted him. He loved canoeing, boating, and swimming. But his childhood experience of drowning accident in a swimming pool haunted him everywhere. He had developed a fear of water. Whenever he waded or bathed in a river, his fear would come back. It would take possession of him completely. His legs would become paralysed. Wherever and whenever he went to enjoy a lovable activity on the water, the haunting fear of water followed him. It ruined his fishing trips, deprived him of the joy of canoeing, boating, and swimming. The fear of water which was formed in his childhood didn’t leave him. He worked very hard to get rid of this fear with the help of his instructor.

लेखक को मछली पकड़ने की व सब प्रकार के पानी के खेलों का शौक था। पानी सदा उसे आकर्षित करता था। उसे डोंगी चलाना, नौकायन और तैरना बहुत पसन्द था। लेकिन उसका बचपन में एक तरणताल में डूबने की दुर्घटना को अनुभव सब जगह उसका पीछा करता था और उसे डराता रहता था। उसके मन में पानी से डर उत्पन्न हो गया था। जब भी वह किसी नदी में चलती था या स्नान करता था तो उसका डर वापस आ जाता था। यह पूरी तरह उस पर हावी हो जाता था। उसकी टाँगें लकवाग्रस्त सी हो जाती थीं। वह जब भी व जहाँ भी किसी पानी से सम्बन्धित गतिविधि को आनन्द लेने जाता था, पानी का डरावना डर उसके पीछे-पीछे आ जाता था। यह डर उसकी मछली पकड़ने की यात्राओं को खराब कर देता था, डोंगी चलाने के, नौकायन के तथा तैरने के आनन्द से उसे वंचित कर देता था। बचपन में पानी का जो भय उसमें में स्थापित हो चुका था, वह उसे नहीं छोड़ता था। इस भय से मुक्त होने के लिए उसे अपने प्रशिक्षक की मदद से बड़ी मेहनत करनी पड़ी।

RBSE Class 12 English Rainbow Chapter 10 Additional Questions

A. Answer the following questions in about 30-40 words each:
निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर लगभग 30-40 शब्दों में दीजिए:
Question 1.
What is the misadventure that William Douglas speaks about?
विलियम डगलस कौन-सी दुर्घटना की बात करते हैं?
Answer:
Douglas goes to the swimming pool when no one else is there. A bully boy of around eighteen years comes there and throws him into deep water. This is the misadventure Douglas speaks about in which he narrowly escapes death.

डगलस उस समय तरणताल पर पहुँचते हैं जब वहाँ कोई नहीं है। लगभग अट्ठारह वर्ष का एक दबंग लड़का वहाँ आता है और उन्हें गहरे पानी में फेंक देता है। यही वह दुर्घटना है जिसकी डगलस चर्चा करते हैं और जिसमें वे मृत्यु से बाल-बाल बचते हैं।

Question 2.
How did the experience at the YMCA pool affect Douglas?
वाई. एम. सी. ए. के ताल के अनुभव ने डगलस को किस तरह प्रभावित किया?
Answer:
This experience had an unending effect on Douglas. Fear kept haunting his heart. Even the slightest exertion would upset him. He felt sick to his stomach. He never went back to the pool. He was scared of water and avoided it.

इस अनुभव का प्रभाव डगलस पर लम्बे समय तक रहा। भय उसके दिल पर छाया रहता था। थोड़ी-सी भी थकान से वह घबरा जाता था। उसे अपने पेट में तकलीफ महसूस होती थी। वह फिर कभी वापस उस ताल पर नहीं गया। वह पानी से डरता था और उससे बचता था।

Question 3.
Why was Douglas determined to get over his fear of water?
डगलस ने पानी के अपने भय पर विजय पाने का निश्चय क्यों किया?
Answer:
Douglas had a terrible experience which had developed in him a fear of water. He was determined to get over his fear of water because it ruined his fishing trips and deprived him of the joy of boating and swimming.

डगलस को एक भयानक अनुभव हुआ था जिसने उसके अन्दर पानी के प्रति भय उत्पन्न कर दिया था। उसने अपने पानी के भय पर विजय पाने का निश्चय किया क्योंकि यह भय उसकी मछली पकड़ने की यात्राओं को बर्बाद कर देता था तथा उसे नौकायन तथा तैरने के आनन्द से वंचित कर देता था।

Question 4.
Why was the Y.M.C.A. pool safe?
Y.M.C.A. ताल सुरक्षित क्यों था?
Answer:
The Y.M.C.A. pool was safe as it was only two or three feet deep at the shallow end and nine feet deep at the other end. But its drop was gradual. One could easily learn swimming in this pool at Y.M.C.A.

वाई. एम. सी. ए. का ताल सुरक्षित था चूँकि उंथले किनारे पर यह केवल दो या तीन फीट गहरा था और दूसरी तरफ नौ फीट गहरा था। परन्तु इसका ढलान बहुत धीमी था। वाई. एम. सी. ए. के इस ताल में आसानी से तैरना सीखा जा सकता था।

Question 5.
How did the narrator have an aversion to water?
वर्णनकर्ता को पानी से अरुचि किस प्रकार हुई?
Answer:
The narrator was three or four years old when his father took him to the beach. There the waves knocked him down and swept over him. He got frightened and had an aversion to water. This fear of his childhood created an aversion to water in his boyhood.

जब लेखक तीन-चार वर्ष का था, उसके पिता उसे लेकर समुद्र किनारे गये। वहाँ लहरों ने उसे गिरा दिया और उसके ऊपर से बह निकलीं। वह डर गया और उसे पानी से अरुचि हो गई। उसके बाल्यकाल के इस भय के कारण उसके बाद की आयु (लड़कपन) में उसे पानी से अरुचि हो गई।

Question 6.
How did the author start learning swimming?
लेखक ने तैरना सीखना किस तरह शुरू किया?
Answer:
The author paddled with his water wings. He would watch other boys and tried to learn swimming by imitating them. He did this two or three times on different days. In this way, he started learning the art of swimming.

लेखक अपने जल पंख चलाता रहता था। वह दूसरे लड़कों को देखता रहता था और उनकी नकल करके तैरना सीखता रहता था। ऐसा उसने अलग-अलग दिनों में दो-तीन बार किया। इस प्रकार उसने तैरने की कला सीखनी शुरू की।

Question 7.
What accident took place with the author at the Y.M.C.A. Pool?
वाई एम सी ए के तरणताल पर लेखक के साथ क्या दुर्घटना हुई?
Answer:
One day, a big bruiser tossed the author into the deep end of the pool. He had a narrow escape from death by drowning. This terrible accident frightened him deeply and he developed a fear of water.

एक दिन एक बड़े दबंग लड़के ने लेखक को उछालकर तरणताल के गहरे छोर में फेंक दिया। वह डूबकर मरने से बाल-बाल बचा। इस भयावह दुर्घटना से वह अत्यधिक डर गया और उसके मन में पानी से डर बैठ गया।

Question 8.
What happened when the author was tossed into deep water?
जब लेखक को गहरे पानी में फेंक दिया गया तो क्या हुआ?
Answer:
When the author was tossed into deep water, he landed in a sitting position. He swallowed water and went at once to the bottom. He was frightened. Still, he planned that as his feet hit the bottom, he would make a big jump and come to the surface.

जब लेखक को गहरे पानी में फेंक दिया गया, वह बैठी हुई स्थिति में गिरा। वह पानी पी गया और तुरन्त नीचे पहुँच गया। वह डरा हुआ था। फिर भी उसने योजना बनाई कि जैसे ही उसके पैर तल से टकराएंगे वह जोर से उछलकर सतह पर आ जाएगा।

Question 9.
What plan did the narrator make to save himself?
अपने आपको बचाने के लिए लेखक ने क्या योजना बनाई?
Answer:
When the narrator was thrown into the pool, he made a plan to save himself. He thought that when his feet hit the bottom, he would make a big jump, come to the surface and paddle to the edge of the pool.

जब लेखक को तरणताल में फेंका गया, तो उसने खुद को बचाने के लिए एक योजना बनाई। उसने सोचा कि जब उसके पैर जमीन को छुएंगे तो वह एक जोरदार छलाँग लगाएगा, ऊपर तल पर पहुँचेगा और पैर चलाकर तरणताल के किनारे पहुँच जाएगा।

Question 10.
How does the author feel just before he becomes unconscious?
अचेत होने से ठीक पहले लेखक कैसा महसूस करता है?
Answer:
The author feels relaxed just before he becomes unconscious. His fear gets wiped out and he feels no panic. He feels as if he were going to sleep. He feels totally calm. Darkness sweeps over his brain and he stops all efforts.

अचेत होने से ठीक पहले लेखक आराम महसूस करता है। उसका डर समाप्त हो जाता है और वह कोई घबराहट महसूस नहीं करता है। वह महसूस करता है जैसे वह सोने जा रहा हो। वह पूर्ण शान्ति का अनुभव करता है। उसके मस्तिष्क पर एक अंधकार छा जाता है और वह सभी प्रयास बन्द कर देता है।

Question 11.
What was the after effects of the unpleasant incident that the author had gone through?
लेखक के साथ हुई उस दु:खद घटना के बाद में होने वाले प्रभाव क्या थे?
Answer:
After the incident, the author felt extremely weak. He shook and cried when he lay on his bed. He could not eat anything that night. He would get upset by slightest exertion. He felt wobbly in the knees and sick to his stomach.

उस घटना के बाद, लेखक ने बहुत कमजोरी महसूस की। जब वह बिस्तर पर लेटा तो काँप उठा और रोने लगा। उस रात वह कुछ भी नहीं खा सका। थोड़े से श्रम से ही उसे घबराहट होने लगती थी। उसे पैरों में लड़खड़ाहट तथा पेट में उल्टी महसूस होती थी।

Question 12.
Why did Douglas decide to take help from an instructor?
डगलस ने किसी प्रशिक्षक की मदद लेने का निश्चय क्यों किया?
Answer:
Douglas had a terrible experience in the swimming pool. But the sight of brooks and the enjoyment of boating and swimming continually enticed him. That is why he decided to take help from an instructor to learn how to swim.

डगलस को तरणताल में भयानक अनुभव हो चुका था। परन्तु झरनों का दृश्य और नौकायन और तैरने का आनन्द उसे लगातार आकर्षित करते रहते थे। यही कारण था कि उसने तैरना सीखने के लिए प्रशिक्षक की मदद लेने का निश्चय किया।

Question 13.
How did the author test his confidence?
लेखक ने अपने आत्मविश्वास की परीक्षा किस प्रकार ली?
Answer:
The author did not want to take any chance. So he decided to test his confidence. He went to Warm Lake. He dived and swam across the lake. He also came back from the other shore. That is how he tested his confidence.

लेखक कोई खतरा मोल नहीं लेना चाहता था। अतः उसने अपने आत्मविश्वास की परीक्षा लेने का निश्चय किया। वह वार्म झील पर गया। उसने छलाँग लगाई और झील को पार किया। वह दूसरे किनारे से वापस भी आया। इस प्रकार उसने अपने ‘आत्मविश्वास की परीक्षा ली।

Question 14.
Why did the author go to Lake Wentworth?
लेखक वेण्टवर्थ झील पर क्यों गया?
Answer:
The author was not sure whether his fear of water had disappeared or not. So he went to Lake Wentworth. He dived off a dock at Triggs Island and swam across the Lake to Stamp Act Island. He got a bit frightened but he laughed and kept on swimming.

लेखक आश्वस्त नहीं था कि पानी के प्रति उसका भय समाप्त हुआ है अथवा नहीं। इसलिए वह वेण्टवर्थ झील पर गया। वह ट्रिग्स द्वीप के एक नौका घाट से झील में कूदा और झील को पार कर स्टाम्प एक्ट द्वीप तक गया। वह थोड़ा सा डरा परन्तु वह हँसा और तैरता रहा।

Question 15.
Why did Douglas have a fear of water? How did he overcome it?
डगलस को पानी से भय क्यों लगता था? उसने इस भय पर किस प्रकार विजय प्राप्त की?
Answer:
Douglas once had a narrow escape from drowning. This incident created in him a fear of water. To overcome this fear, he took the help of an instructor, who safely taught him how to swim. Becoming an expert swimmer, he defeated his fear.

डगलस एक बार गहरे पानी में डूबने से बाल-बाल बचा था। इस घटना से उसके मन में पानी से डर पैदा हो गया। इस डर पर विजय प्राप्त करने के लिए उसने एक प्रशिक्षक की सहायता ली जिसने उसे सुरक्षित रूप से तैरना सिखाया। एक कुशल तैराक बनकर उसने अपने भय को पराजित किया।

Question 16.
Which new idea do you gather from the lesson ‘Deep Water’?
‘गहरा पानी’ पाठ से आपको कौन सा नया विचार मिलता है?
Answer:
The lesson ‘Deep Water’ is a vivid description of an incident in which the narrator narrowly escaped from death. Ultimately he found that death itself is not as fearful as the fear of death. This is the new idea which we gather from this lesson.

‘गहरा पानी’ पाठ एक ऐसी घटना का विशद् वर्णन है जिसमें लेखक मृत्यु से बाल-बाल बच जाता है। अन्ततः उसने पाया कि मृत्यु स्वयं इतनी भयावह नहीं है जितनी कि मृत्यु का डर हुआ करता है। यही वह नया विचार है जो हमें इस पाठ से मिलता है।

Question 17.
Do you think it is very difficult to overcome fear developed in childhood?
क्या आपको लगता है बचपन में पैदा हुए भय को जीतना बहुत मुश्किल है?
Answer:
Yes, the horrifying memories of childhood haunt one throughout one’s life. The grip of childhood fear is so strong that it is very difficult to get out of its clutches. Childhood experiences make an almost indelible impression on one’s mind.

हाँ, बचपन की भयावह स्मृतियाँ किसी के भी ऊपर जीवन भर मँडराती रहती हैं। बचपन के भय की पकड़ इतनी मजबूत होती है कि इसकी पकड़ से छूट पाना बहुत मुश्किल है। बचपन के अनुभवों का मनुष्य के मस्तिष्क पर अमिट प्रभाव रहता है।

Question 18.
What is the moral of this story?
इस कहानी से क्या शिक्षा मिलती है?
Answer:
The story depicts a near-death experience. From the very beginning to the end, the narrator does not give up hope and struggle. The moral of this story is that one should never give up hope. Besides, it is totally possible to overcome one’s fear.

कहानी में लगभग मृत्यु के अनुभव का वर्णन है। शुरू से लेकर अन्त तक लेखक आशा और संघर्ष नहीं छोड़ता है। इस कहानी से यही शिक्षा मिलती है कि कभी भी आशा नहीं त्यागनी चाहिए। इसके अलावा, व्यक्ति के लिए अपने भय पर विजय पाना पूर्णतः सम्भव है।

B. Answer the following questions in about 125 words each:
निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर लगभग 125 शब्दों में दीजिए:

Question 1.
Describe the episode that turned the author averse to water.
उस घटना का वर्णन कीजिए जिसके बाद से लेखक को पानी से अरुचि हो गई।
Answer:
The author, from the beginning, had an aversion to water when he was in it. This started when he was three or four years old. Once his father took him to the beach in California. His father and he stood together in the surf. He hung on to his father. Yet the waves knocked him down and swept over him. He was buried in water. His breath was gone. He was much frightened. His father laughed at the incident. But there was a terror in his heart at the overpowering force of the waves. This incident turned him averse to water. Later, once he was thrown into deep water by a bully boy and had a narrow escape from drowning. This incident created in him great fear of water. These incidents of his childhood made him scared of water.

लेखक को शुरू से ही पानी में होने पर उससे अरुचि होती थी। ऐसा तब शुरू हुआ जब वह तीन-चार वर्ष का था। उसके पिताजी उसे कैलिफोर्निया में समुद्र किनारे ले गये। उसके पिताजी और वह एक साथ लहरों के फेन में खड़े थे। वह अपने पिताजी की टाँगों से चिपका हुआ था। फिर भी लहरों ने उसे गिरा दिया और उसके ऊपर से बह निकलीं। वह पानी के नीचे था। उसकी सांस रुक गयी थी। वह डर गया था। उसके पिताजी इस घटना पर हँस पड़े। लेकिन उसके मन में लहरों की महान शक्ति से भय उत्पन्न हो गया था। इस घटना के बाद से उसे पानी से अरुचि हो गई। बाद में, एक बार उसे एक दबंग लड़के द्वारा गहरे पानी में फेंक दिया गया और वह डूबने से बाल-बाल बचा। इस घटना से उसके मन में पानी से अत्यधिक भय उत्पन्न हो गया। इस तरह उसके बाल्यकाल की इन घटनाओं ने उसके मन में पानी से भय उत्पन्न कर दिया।

Question 2.
What was the fear of the author and how did a misadventure strengthen it further?
लेखक का डर क्या था और कैसे एक दुर्घटना ने इसे और मजबूत कर दिया?
Answer:
The author had an aversion to water since his childhood when his father took him to California Beach. Though he clung to his father, the waves knocked him down to take away his breath. In the determination of overpowering that childish fear, he, at about eleven, decided to learn the art of swimming, starting from the Y.M.C.A pool. He tried paddling with his water wings seeing and aping other boys in the pool. It was just 2 or 3 times when he started finding himself in a comfort zone in water. Then a misadventure swept him head over heels. An about 18 years old chap threw him in the pool when he was alone there. He struggled hard but failed and finally found himself lying on stomach beside the pool, vomiting. This accident further strengthened his fear of water.

लेखक को अपने बचपन से तब से ही पानी से अरुचि थी जब उसके पिता उसे कैलिफोर्निया बीच पर ले गये थे। यद्यपि वह अपने पिता से चिपका हुआ था फिर भी लहरों ने उसकी साँसें दूर करने को उसे गिरा दिया। बचपन के उस डर को जीतने के लिए उसने लगभग ग्यारह साल की उम्र में Y.M.C.A: के तरणताल में तैरने की कला सीखने का निर्णय लिया। वह जल पंखों की सहायता से तालाब में दूसरे लड़कों को देखकर नकल उतारते हुए पैर चलाने की कोशिश करता। ऐसा 2-3 बार करने पर उसने अपने आपको पानी के अन्दर आराम की स्थिति में पाना शुरू किया। तभी एक दुर्घटना ने उसे सिर से पैर तक हिला (डरा) दिया। एक लगभग 18 साल के लड़के ने उसे तालाब में फेंक दिया जब वह वहाँ बिल्कुल अकेला था। उसने कठिन संघर्ष किया परन्तु असफल हो गया और अन्त में उसने अपने आपको तालाब के समीप पेट के बल लेटे हुए, उल्टी करते हुए पाया। इस दुर्घटना ने पानी से उसके भय को और अधिक मजबूत कर दिया।

Question 3.
The author describes the incident vividly to make a clear picture in the reader’s mind. Give some examples of the author’s vivid description.
लेखक पाठक के मन में स्पष्ट चित्र अंकित करने के लिए घटना का बड़ा सटीक वर्णन करते हैं। लेखक द्वारा किए गए सटीक वर्णन के कुछ उदाहरण दीजिए।
Answer:
The author was thrown in deep water. He describes this incident so vividly that it becomes clear to the reader to feel the sense of panic that gripped him. The details of the description are as follow:
(1) The boy who threw him into deep water was ‘a beautiful physical specimen, with legs and arms that showed rippling muscles.’ This description is the beginning of the panic.
(2) The author describes how he was thrown into deep water and how he landed in a sitting position. He was frightened but not out of his wits.
(3) The detailed description of how he struggled to save himself, is what may cause panic even to the reader.
(4) The sentence, ‘Éven the screams in my throat was frozen’ shows that the description of this horrifying incident is very effective and poignant.

लेखक को गहरे पानी में फेंक दिया गया था। वह इस घटना को इतनी स्पष्टतापूर्वक बताते हैं कि उन्होंने जिस डर का अनुभव किया था, वह पाठक को स्पष्ट हो जाता है। वर्णन के बिन्दु निम्नप्रकार हैं:
(1) वह लड़का जिसने उन्हें पानी में फेंका शारीरिक सौष्ठव का नमूना था जिसकी टाँगों और बाँहों पर लहराती माँसपेशियाँ दिख रही थीं, यह वर्णन डर की शुरुआत है।
(2) लेखक बताते हैं कि किस तरह उन्हें फेंका गया और किस तरह वे बैठने की अवस्था में गिरे वे डर गये थे।लेकिन उन्होंने होश नहीं आँवाया।
(3) उन्होंने किस तरह स्वयं को बचाने के लिए संघर्ष किया, इसके वर्णन से पाठक स्वयं भी डर सकता है।
(4) यह वाक्य कि “मेरे गले में चीख भी जम गई” यह दर्शाता है कि इस भयानक घटना का वर्णन बहुत ही प्रभावी और मार्मिक अर्थात् हृदयविदारक है।

Question 4.
How did the author make sure that he had conquered the old terror?
लेखक किस तरह से आश्वस्त हुआ कि उसने अपने पुराने डर पर जीत हासिल कर ली है?
Answer;
The author had learnt how to swim. But he was not sure that all his fear had left. He decided to overcome his fear of water. So he went to Lake Wentworth in New Hampshire, dived off a dock at Triggs Islands and swam two miles across the lake to Stamp Act Island. He swam the various types, as, crawl, breaststroke, sidestroke and backstroke. When he was in the middle of the lake and put his face under water and saw nothing but bottomless water, he got a little
frightened. But, he laughed the terror away. Yet he had residual doubts. So he camped in the high meadow by the side of Warm Lake. The next day he stripped, dived into the lake, and swam across to the other shore and back. He shouted with joy and Gilbert Peak returned the echo. Thus the author conquered his old terror.

लेखक तैरना सीख चुका था। परन्तु वह आश्वस्त नहीं था कि उसका सारा डर, समाप्त हो गया था। उसने अपने पानी के डर पर विजय पाने का निश्चय किया। अतः वह न्यू हैम्पशायर में वैण्टवर्थ झील पर गया, उसने ट्रिग्स टापू से छलांग लगाई और स्टाम्प एक्ट टापू तक झील में दो मील तैरा। वह भिन्न-भिन्न मुद्राओं में तैरा जैसे- क्राउल स्ट्रोक, ब्रेस्ट स्ट्रोक, साइड स्ट्रोक, बैक स्ट्रोक आदि (ये तैरने की अलग-अलग मुद्राएँ हैं)। जब वह झील के बीच में था तथा जब उसने पानी में डुबकी लगाई और अथाह पानी के अतिरिक्त कुछ न देखा तो उसे थोड़ा डर लगा। लेकिन लेखक ने डर को हँसी में उड़ा दिया। फिर भी कुछ संदेह बचे थे। अतः वह वार्म लेक के किनारे ऊँचे. घास के मैदान में तम्बू लगाकर ठहरा। अगली सुबह उसने कपड़े उतारे, झील में छलांग लगाई और दूसरे किनारे तक तैर कर गया और वापस आया। वह खुशी से चिल्लाया और गिलबर्ट शिखर ने प्रतिध्वनि की। इस तरह लेखक ने अपने पुराने भय से मुक्ति पाई।

Activity 2: Vocabulary
A. Use the following phrasal verbs in your own sentences:
निम्नलिखित phrasal verbs को अपने वाक्यों में प्रयोग कीजिए:
knock-down, sweep over, wipe out, dived-off, hang on, paddle with, toss into, pick-up, frighten out, clutched at, strike at, strikeout, take hold on, float along, get into, roll by, deprive of, run on, hold on.
Answer:
1. knock-down (गिरी देना) -The waves knocked him down onto the shore.
2. Sweep over (छा जाना) – Whenever, he was in the water, his fear swept him over completely
3. wipe out (मिटा देना) – Fear wipes out the fun from activities.
4. dived off (गोता लगाया) – He dived off a dock into the lake.
5. hang 0n (कसकर पकड़ना) -Hang on to the rope and don’t let it go.
5. paddled With (पानी में चलना) -While learning how to swim, the small boy paddled with his water wings.
7. toss into (फेंक देना) -A sturdy boy tossed the narrator into the water.
8. pick-up (बेहतर होना) -Trade usually picks up in the spring.
9. frighten out (भयभीत कर देना) – While drowning, he was frightened, but not frightened out of his wits.
10. clutched at (जकड़ लेना) – He clutched at the branch tightly.
11. strike at (प्रहार करना) – While drowning, the small boy continued to strike at the water.
12. strikeout (हाथ-पैर मारना) – He planned to strike Out of water with his arms.
13. take hold on (नियन्त्रण करना) – Whenever he went in the water, his fear would take hold on him.
14. float along (तैरना)- Floating along with the current, he came to the shore.
15. get into (घुसना/प्रवेश करना) – As he got into the water, he got scared.
16. roll by (बीत जाना) – Years rolled by and the memory faded away.
17. deprive of (वंचित करना) – The writer’s fear of water-deprived him of the joy of fishing.
18. run on (जारी रहना) – Adjourn the meeting right now. I don’t want it to run on.
19. hold on (एक में रखना) – Hold on the rope and don’t let it go.

B. Following words occur as nouns in the lesson. Now use each of these as a verb in sentences of your own:
निम्नलिखित शब्द पाठ में noun के रूप में आये हैं अब इनमें से प्रत्येक का verb के रूपमें अपने वाक्य में प्रयोग कीजिए:
sound, leg, water, force, eye, head, toe, rope, cascades, fear, time, pool, panic, face, experience, echo.
Answer:
1. sound – She sounds very sweet.
2. leg – Douglas soon legged to kick water waves.
3. water – The gardener is watering the plants.
4. force- The boy was forced to do child-labour.
5. eye – Many people are having this job.
6. head – Let’s head back home.
7. toe – Have your own opinion. Don’t toe the line.
8. rope – The shepherd roped the goat to a post.
9. cascades – Her hair beautifully cascades over her shoulder.
10. fear – Almost everybody fears death.
11. time – Your request was badly timed.
12. pool – Work individually, and then pool your ideas together.
13. panic – We should not panic at an accident.
14. face – Anil has faced very hard days in his life.
15. experience – She experienced deep pain during her illness.
16. echo – Her voice echoed in the atmosphere.

Activity 3: Speech Activity
Question A.
Write a speech on Impossible, is it? ‘word that Exists in the Dictionary of Fools’. Read it before the prayer assembly of your school.
‘असम्भव शब्द मूर्खा के शब्दकोष में होता है’ विषय पर एक भाषण लिखिए। इसे अपने विद्यालय की प्रार्थना सभा में पढ़कर सुनाइये।
Answer:
Respected Principal, teachers and my brothers and sisters! I’m going to deliver a speech on the topic ‘Impossible is the Word that Exists in the Dictionary of Fools’. Let me tell you, ‘impossible’ itself says ‘I am possible’. The people with wisdom and hard work never find anything impossible. Yes, I agree, things could be difficult but losing heart suits only the weak and the fools. I hope you all must have heard the saying: When the going gets tough, the tough get going. Ordeals of life are simply a test of our courage, hard work and determination. A great mind always keeps moving without caring for the hurdles of life as the word ‘impossible’ is meaningless to him.

आदरणीय प्रधानाचार्य, अध्यापकगण व मेरे भाई-बहनो! मैं इस विषय पर भाषण देने जा रहा हूँ कि असम्भव शब्द मूर्खा के शब्दकोष में होता है। मैं आपको बता दें, impossible शब्द स्वयं ही ‘मैं सम्भव हुँ’ यह अर्थ देता है। बुद्धिमान व परिश्रमी लोगों को कभी कोई चीज असम्भव नहीं लगती है। हाँ मैं मानता हूँ कि कठिनाइयाँ आ सकती हैं परन्तु केवल कमजोर व मूर्ख लोग ही हिम्मत हारते हैं। आशा करता हूँ आप सबने यह कहावत सुनी होगी कि कठिनाई आने पर ही कठिन काम हल होता है। जीवन की परीक्षाएँ हमारे साहस, परिश्रम और दृढ़ निश्चय की परीक्षा मात्र हैं। एक महान मस्तिष्क वाला व्यक्ति जीवन की कठिनाइयों की परवाह किए बिना आगे बढ़ता रहता है क्योंकि असम्भव शब्द उसके लिए अर्थहीन होता है।

Activity 4: Composition
Question 1.
Write an article on ‘Sweet is the Uses of Adversity’.
‘दुर्दिन से बड़ा कोई शिक्षक नहीं’ विषय पर एक लेख लिखिए।
Answer:
Shakespeare’s famous quote ‘Sweet are the uses of Adversity’ is a whole measure of truth packed into a few words. At some point in life, almost all of us have to go through bad times. Challenges come to us in many forms. But these challenges make us only wiser and more courageous. The best way to deal with hard times is to hold onto one’s patience and good sense. When one goes through difficulty with this attitude, one comes out as a polished individual. Problems leave us with a better understanding of life. Thus adversity brings the best form of us. We must not lose courage and patience in life. One must not surrender to hurdles of life. शेक्सपीयर का प्रसिद्ध उद्धरण ‘Sweet are the uses of Adversity’

थोड़े से शब्दों में कहा गया बहुत बड़ा सत्य है। लगभग हम सभी को जीवन में कभी न कभी बुरे समय से गुजरना पड़ता है। हमारे सामने अनेक रूपों में चुनौतियाँ आती हैं। लेकिन ये चुनौतियाँ हमें अधिक बुद्धिमान व अधिक साहसी ही बनाती हैं। कठिन समय से निबटने का सबसे अच्छा तरीका है- धैर्य व समझदारी बनाये रखना। जब व्यक्ति इस दृष्टिकोण के साथ कठिनाइयों का सामना करता है तो वह एक परिष्कृत व्यक्ति के रूप में सामने आता ह। समस्याओं से हमें जीवन की अधिक अच्छी समझ प्राप्त होती है। इस प्रकार बुरे दिन हमारा सबसे श्रेष्ठ रूप सामने लाते हैं। हमें जीवन में उत्साह और धैर्य का त्याग कभी नहीं करना चाहिए। संकटों के समक्ष व्यक्ति को कभी आत्मसमर्पण नहीं करना
चाहिए।

Question 2.
As the captain of the swimming team of your school, write a letter to the Organizing Secretary, District Swimming Competition, Jodhpur accepting his invitation to participate in the tournament.
अपने विद्यालय की तैराकी टीम के कप्तान के रूप में, डिस्ट्रिक्ट स्विमिंग कम्पीटिशन, जोधपुर के आर्गेनाइजिंग सेक्रेटरि को, इस प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने हेतु उनके आमन्त्रण को स्वीकार करते हुए उन्हें एक पत्र लिखिए।
Answer:
The Captain
Swimming Team
Govt S. S. School, Jodhpur
The Organizing Secretary
The District Swimming Competition
Jodhpur.
Subject: Accepting an invitation to participate in the swimming tournament.
Sir
With reference to your invitation letter dated 15 March 20…….., I am very pleased to inform you that my team has accepted the invitation. As the captain of my school swimming team, I assure you that my team will arrive at the fixed place in time. We really feel honoured to participate in this tournament.
Yours sincerely
XXX