Rajasthan Board RBSE Class 12 History Chapter 4 मुगल आक्रमण: प्रकार और प्रभाव

RBSE Class 12 History Chapter 4 अन्य महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर

RBSE Class 12 History Chapter 4 बहुचयनात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
हजरत मुहम्मद की मृत्यु कब हुई?
(अ) 622 ई.
(ब) 712 ई.
(स) 711 ई.
(द) 632 ई.।

प्रश्न 2.
भारत पर अरब आक्रमण हुआ?
(अ) 711 ई.
(ब) 712 ई.
(स) 713 ई.
(द) 636 ई.।

प्रश्न 3.
अरब आक्रमण के समय सिन्ध का शासक कौन था?
(अ) दाहिर सेन
(ब) अब्दुला
(स) वत्सराज
(द) हज्जाज।

प्रश्न 4.
किस विजय के उपरान्त कासिम ने उस नगर का नाम ‘स्वर्णनगर’ रखा?
(अ) अरोर विजय
(ब) सिन्ध विजय
(स) नीरुन विजये
(द) मुल्तान विजय।

प्रश्न 5.
नागभट्ट ने जिस वंश की स्थापना थी?
(अ) पाल वंश
(ब) गुर्जर – प्रतीहार वंश
(स) चन्देन वंश
(द) चाहमान वंश।

प्रश्न 6.
नागभट्ट द्वितीय गद्दी पर कब बैठा?
(अ) 30 ई.
(ब) 785 ई.
(स) 790 ई.
(द) 795 ई.।

प्रश्न 7.
गुर्जर – प्रतीहार वंश के किस शासक ने गंगा में कूद कर आत्महत्या की?
(अ) मिहिरभोज
(ब) वत्सराज
(स) नागभट्ट द्वितीय
(द) नागभट्ट प्रथम।

प्रश्न 8.
भीनमाल के प्रतिहार वंश का राज्य स्थापित करने वाले शासक का नाम था।
(अ) नागभट्ट प्रथम
(ब) वत्सराज
(स) देवराज
(द) धर्मपाल।

प्रश्न 9.
प्रतिहारों के जिस शासक ने अनेक अरब आक्रमणों को विफल किया, वह था?
(अ) नागभट्ट प्रथम
(ब) वत्सराज
(स) नागभट्ट द्वितीय
(द) मिहिर भोज प्रथम।

प्रश्न 10.
‘एकलिंग महात्म्य’ ग्रन्थ में बप्पा रावल को बताया गया है?
(अ) सूर्यवंशी
(ब) चन्द्रवंशी
(स) यदुवंशी
(द) ब्राह्मण।

प्रश्न 11.
नागभट्ट द्वितीय को परास्त होना पड़ा था?
(अ) कन्नौज के राज चक्रायुद्ध से
(ब) बंगाल के धर्मपाल से
(स) गोविन्द तृतीय से।
(द) मिहिर भोज प्रथम से।

प्रश्न 12.
गुर्जर – प्रतिहार नरेशों की सैनिक दृष्टि से प्रमुख उपलब्धिमानी जाती है?
(अ) हर्ष के उपरान्त उन्होंने उत्तरी भारत में राजनीतिक एकता स्थापित की।
(ब) उन्होंने एक विशाल साम्राज्य की स्थापना की।
(स) उन्होंने सिन्ध के मुसलमानों की सिन्ध के आगे नहीं बढ़ने दिया।
(द) त्रिकोणात्मक संघर्ष में उन्होंने अनेक सैनिक सफलताएँ प्राप्त की।

प्रश्न 13.
चित्तौड़ विजय के उपरान्त बप्पा ने कौन – सी उपाधि धामण की?
(अ) हिन्दू सूर्य
(ब) राजगुरु
(स) चक्कवै
(द) उपर्युक्त सभी।

प्रश्न 14.
जिस इतिहासकार ने बप्पा रावल की तुलना चार्ल्स मोर्टल सभी है?
(अ) गोपीनाथ शर्मा
(ब) सी. वी. वैद्य
(स) जी. एस. ओस
(द) वी. एस. भार्गव।

प्रश्न 15.
महमूद गजनवी ने सोमनाथ पर कब आक्रमण किया?
(अ) 1020 ई.
(ब) 1018 ई.
(स) 1022 ई.
(द) 1025 ई.।

प्रश्न 16.
‘राम पिथौरा’ उपाधि से जिस शासक को प्रसिद्धि मिली-
(अ) सोमेश्वर
(ब) अर्णोराज
(स) पृथ्वीराज तृतीय
(द) विग्रहराज चतुर्थ।

प्रश्न 17.
पृथ्वीराज चौहान की विजय – नीति के उद्देश्य थे?
(अ) स्वजनों के विरोध से मुक्ति पाना
(ब) पड़ोसी राज्यों का दमन
(स) विदेशी शत्रुओं का मुकाबला
(द) उपर्युक्त सभी।

प्रश्न 18.
पृथ्वीराज ने महोबा पर विजय भी?
(अ) 1180 ई.
(ब) 1182 ई.
(स) 1183 ई.
(द) 1190 ई.।

प्रश्न 19.
हम्मीर महाकाव्य में चाहमानों को बताया गया है?
(अ) सूर्यवंशी
(ब) यदुवंशी
(स) चन्द्रवंशी
(द) राजवंशी।

प्रश्न 20.
तराइन का द्वितीय युद्ध कब हुआ?
(अ) 1190 ई.
(ब) 1191 ई.
(स) 1192 ई.
(द) 1194 ई.।

प्रश्न 21.
पृथ्वीराज तृतीय के दरबारी विद्वान थे?
(अ) विद्यापति गौड़
(ब) वागीश्वर
(स) जनार्दन
(द) जयानक।

प्रश्न 22.
‘पृथ्वीराजरासो’ की रचना की?
(अ) आशाधर
(ब) जयानक
(स) विश्वरूप
(द) चन्दबरदाई।

प्रश्न 23.
पृथ्वीराज और मुहम्मद गोरी के मध्य संघर्ष का प्रमुख कारण था?
(अ) धन प्राप्ति की लालसा
(ब) गौर राजनीति
(स) साम्राज्य की स्थापना
(द) उपर्युक्त सभी।

प्रश्न 24.
अलाउद्दीन खिलजी का चित्तौड़ आक्रमण का प्रमुख कारण था?
(अ) अलाउद्दीन का अत्यधिक महत्वाकांक्षी व साम्राज्यवादी होना।
(ब) रत्नसिंह की सुन्दर रानी पद्मिनी को प्राप्त करने की लालसा।
(स) दिल्ली से मालवा, गुजरात और दक्षिण भारत जाने वाले मुख्य मार्ग में चित्तौड़ होने के कारण।
(द) सम्पूर्ण भारत पर अपना स्थायी अधिकार बनाए रखने के लिए।

प्रश्न 25.
अलाउद्दीन के चित्तौड़ आक्रमण के समय मेवाड़ का शासक कौन था?
(अ) हम्मीर
(ब) जैयसिंह
(स) रतनसिंह
(द) कुम्भा।

प्रश्न 26.
हम्मीर के विषय में विस्तृत विजय एवं उपलब्धियों की जानकारी प्राप्त होती है?
(अ) हम्मीर महाकाव्य से
(ब) वीर-विनोद से
(स) नैणसी री ख्यात से
(द) कााण्हण दे प्रबन्ध से।

प्रश्न 27.
‘पद्मावत’ का लेखक कौन था?
(अ) रसखान
(ब) अब्दुर्रहीम
(स) अबुल फजल
(द) मलिक मुहम्मद जयासी।

प्रश्न 28.
हम्मीर की शूरवीरता तथा विजयों के विस्तृत विवरण के सम्बन्ध में न्यायचन्द सूरी द्वारा रचित काव्य है?
(अ) हम्मीर महाकाव्य
(ब) सुर्जन चरित्र
(स) हम्मीर हठ
(द) हम्मीर रासो।

प्रश्न 29.
“हम्मीर महाकाव्य के अनुसार युद्ध में सफलता की आशा न रहने पर हम्मीर ने अपना शीश काटकर अर्पित किया?
(अ) भगवान शंकर को
(ब) भगवान राम को
(स) भगवान विष्णु को
(द) भगवान गणेश को।

प्रश्न 30.
एकलिंग महात्म्य का लेखक था?
(अ) मण्डन
(ब) कवि आत्रि और महेश
(स) कान्ह व्यास
(द) मण्डन का पुत्र गोविन्द।

प्रश्न 31.
राजस्थान के किस शासक का अभिनव भरताचार्य के नाम से पुकारा जाता है?
(अ) पृथ्वीराज चौहान
(ब) महाराणा कुम्भा
(स) सवाई जय सिंह
(द) महाराजा मानसिंह।

प्रश्न 32.
चित्तौड़ के कीर्तिस्तम्भ या निर्माण किसके द्वारा करवाया गया।
(अ) हम्मीर
(ब) राणा कुम्भा
(स) पृथ्वीराज चौहान
(द) राणा सांगा।

प्रश्न 33.
महाराणा कुम्भा की सांस्कृतिक उपलब्धियों की जानकारी मिलती है?
(अ) फारसी तवारीख से
(ब) एकलिंग महात्म्य से
(स) कुम्भलगढ़ प्रशास्ति (1460 ई.) से
(द) कीर्ति स्तम्भ से।

प्रश्न 34.
‘खींची वाड़ा’ के नाम से जो क्षेत्र प्रसिद्ध था?
(अ) गागरोण
(ब) अजमेर
(स) मण्डल गढ़
(द) मालवा।

प्रश्न 35.
कविराज श्यामलदास के अनुसार कुम्भा ने मेवाड़ में दुर्गों का निर्माण करवाया, उनकी संख्या है?
(अ) 84 दुर्ग
(ब) 32 दुर्ग
(स) 60 दुर्ग
(द) 40 दुर्ग।

प्रश्न 36.
कुम्भा कालीन सर्वाधिक विशाल मन्दिर है?
(अ) रणकपुर
(ब) कुम्भश्याम का मन्दिर
(स) एक लिंग जी का मन्दिर
(द) देलवाड़ा का जैन मन्दिर।

प्रश्न 37.
‘गीत – गोविन्द’ का रचयिता है?
(अ) महाराणा कुम्भा
(ब) जयदेव
(स) कल्हण
(द) जयानक।

प्रश्न 38.
खानवा के युद्ध में राणा सांगा की पराजय का प्रमुख कारण था?
(अ) बावर की सैन्य – व्यवस्था में उसकी तुलुगमा पद्धति
(ब) सांगा की सैनिक कमजोरी
(स) सांगा में रणकुशता का अभाव
(द) सांगा के सिर में अचानक तीर लगना।

प्रश्न 39.
वह राजपूत शासक जिसे हिन्दू सुरताण’ या ‘हिन्दूपति’ के नाम से जाना जाता है, उसका नाम है?
(अ) महाराणा उदय सिंह
(ब) महाराणा सांगा
(स) महाराणा कुम्भा
(द) महाराणा प्रताप

प्रश्न 40.
महाराणा सांगा और इब्राहिम लोदी के बीच लड़ा जाने वाला युद्ध था?
(अ) पानीपत का युद्ध
(ब) खानवा का युद्ध
(स) खातोली का युद्ध
(द) चन्देरी का युद्ध।

प्रश्न 41.
अकबर द्वारा चन्द्रसेन के राज्य जोधपुर पर आक्रमण का प्रमुख कारण था?
(अ) राव चन्द्रसेन ने अकबर को चुनौती दी थी।
(ब) राव चन्द्रसेन ने मुगले प्रदेशों को अधिकृत कर लिया था
(स) अकबर चन्द्रसेन के भाई राम को जोधपुर राज्य देना चाहता था
(द) जोधपुर दुर्ग जीतकर अकबर मारवाड़ की विजय पूर्ण करना चाहता था।

प्रश्न 42.
राव चन्द्रसेन का नागौर दरबार में जाने का प्रमुख उद्देश्य था?
(अ) अकबर की अधीनता स्वीकार करना
(ब) अपना राज्य पुनः प्राप्त आने के लिए।
(स) अपने पुत्र को शाही सेवा में सौंपने के लिए
(द) मुगलों की कमजोरियों का पता लगाने के लिए।

प्रश्न 43.
‘मारवाड़ का भूला – बिसरा नायक’ किसे कहा जाता है?
(अ) अजीत सिंह
(ब) दुर्गादास
(स) चन्द्रसेन
(द) उदय सिंह।

प्रश्न 44.
हल्दीघाटी के युद्ध में प्रताप भी सेना का अग्रभाग या सेना नायक कौन था?
(अ) प्रताप
(ख) अमरसिंह
(स) हकीम खाँ
(द) झाला मान सिंह।

प्रश्न 45.
हल्दीघाटी का युद्ध लड़ा गया?
(अ) 1707 ई.
(ब) 1576 ई.
(स) 1556 ई.
(द) 1530 ई.।

प्रश्न 46.
हल्दीघाटी के युद्ध में राणा प्रताप की पराजय का प्रमुख कारण था?
(अ) प्रताप की परम्परागत युद्ध शैली
(ब) राणा प्रताप की सैन्य कमजोरी
(स) राणा प्रताप का युद्ध क्षेत्र त्यागना
(द) अकबर को राजपूत शासकों का सहयोग देना।

प्रश्न 47.
हल्दीघाटी के युद्ध को कर्नल टॉड ने जिस नाम से सम्बोधित किया वह है?
(अ) खमनोर का युद्ध
(ब) मेवाड़ की थर्मोपल्ली
(स) गोगुन्दा का युद्ध
(द) पानीपत का युद्ध।

प्रश्न 48.
अकबर ने महाराणा प्रताप से मैत्री भाव स्थपित करने के लिए चार शिष्ट मण्डल भेजे। दूसरे शिष्ट – मण्डल का नेतृत्व किसने किया था?
(अ) जलाल खों
(ब) मानसिंह
(स) भगवन्तदास
(द) टोडरमल।

प्रश्न 49.
महाराणा प्रताप ने इस संसार से विदा ली?
(अ) 1576 ई. में
(ब) 1580 ई. में
(स) 1585 ई. में
(द) 1597 ई. में।

प्रश्न 50.
महाराणा प्रताप का राजतिलक हुआ?
(अ) 1572 ई.
(ब) 1575 ई.
(स) 1676 ई.
(द) 1580 ई.।

प्रश्न 51.
महाराणा प्रताप के हाथी का क्या नाम था?
(अ) लूना
(ब) राम प्रसाद
(स) गजमुक्ता
(द) महावत।

प्रश्न 52.
चक्रपाणि मिश्र द्वारा लिखे गए ग्रन्थ हैं?
(अ) राज्याभिषेक पद्धति
(ब) मुहूर्तमाला
(स) विश्व वल्लभ
(द) उपर्युक्त सभी

प्रश्न 53.
दुर्गादास को बाल्यकाल जिस गाँव में व्यतीत हुआ, वह था?
(अ) सालवा
(ब) भीमरलाई
(स) लूनवा
(द) सचिमीच।

प्रश्न 54.
दुर्गादास ने शिशु राजकुमार अजीत सिंह को सिरोही में किसके पास रखा?
(अ) मुकुन्ददास र्वीची
(ब) राठौड़ मोहकम सिंह
(स) वीर सोनम चांपावत
(द) पुष्करणा ब्राह्मण जयदेव।

प्रश्न 55.
दुर्गादास की शाहजादा अकबर के साथ दक्षिण यात्रा के समय महाराष्ट्र का छत्रपति (शासक) कौन था?
(अ) शिवाजी
(ब) शम्भाजी
(स) शाहू
(द) राजाराम।

प्रश्न 56.
दुर्गादास की वीरता का वर्णन जिस ग्रन्थ में हैं?
(अ) पृथ्वीराज रासो
(ब) विग्रह रासो
(स) रतनरासो
(द) पद्मचरित।

प्रश्न 57.
‘राठौड़ों का यूलीसैस’ किसे कहा जाता है?
(अ) अजीत सिंह
(ब) दुर्गादास
(स) जसवन्त सिंह
(द) जयसिंह।

प्रश्न 58.
शिवाजी का जन्म कब हुआ था?
(अ) 1625 ई.
(ब) 1626 ई.
(स) 1627 ई.
(द) 1628 ई.।

प्रश्न 59.
शिवाजी मुगल दरबार में उपस्थित हुए।
(अ) 1665 ई.
(ब) 1666 ई.
(स) 1667 ई.
(द) 1668 ई.।

प्रश्न 60.
शिवाजी ने निम्न में से जो उपाधि धारण की?
(अ) छत्रपति
(ब) हिन्दू धर्मोद्वारक
(स) ब्राह्मण प्रतिपालक
(द) उपर्युक्त सभी।

प्रश्न 61.
बाल गंगाधर तिलक द्वारा जो उत्सव प्रारम्भ किया गया?
(अ) दीपोत्सव
(ब) जलाभिषेक उत्सव
(स) शिवाजी उत्सव
(द) उपर्युक्त में से कोई नहीं।

प्रश्न 62.
पेशवाओं के शासन का प्रारम्भ माना जाता है?
(अ) बालाजी विश्वनाथ से
(ब) जलाभिषेक उत्सव
(स) बाजीराव द्वितीय से
(द) बहादुर प्रथम से।

प्रश्न 63.
मुंगी शिवगॉव की सन्धि हुई?
(अ) मार्च, 1728 ई.
(ब) मई 1628 ई.
(स) अप्रैल, 1774 ई.
(द) मार्च, 1740 ई.।

उत्तरमाला:
1. (द), 2. (ब), 3. (अ), 4. (द), 5. (ब), 6. (द), 7. (स), 8. (अ), 9. (द), 10. (द), 11. (स), 12. (स), 13. (द), 14. (ब), 15. (द), 16. (स), 17. (द), 18. (ब), 19. (अ), 20. (स), 21. (द), 22. (द), 23. (द), 24. (ब), 25. (स), 26. (अ), 27. (द), 28. (अ), 29. (अ), 30. (स), 31. (ब), 32. (ब), 33. (द), 34. (अ), 35. (ब), 36. (अ), 37. (ब), 38. (अ), 39. (ब), 40. (स), 41. (द), 42. (ब), 43. (स), 44. (स), 45. (ब), 46. (अ), 47. (ब), 48. (ब), 49. (द), 50. (अ), 51. (ब), 52. (द), 53. (अ), 54. (द), 55. (ब), 56. (स), 57. (ब), 58. (स), 59. (ब), 60. (द), 61. (स), 62. (अ), 63. (अ)।

RBSE Class 12 History Chapter 4 अति लघुत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
अरबों ने सर्वप्रथम कब और कहाँ आक्रमण किया?
उत्तर:
अरबों ने सर्वप्रथम 635 – 36 ई. में सीरिया पर आक्रमण किया।

प्रश्न 2.
भारत पर अरब आक्रमण का सिलसिला कब प्रारम्भ हुआ?
उत्तर:
हजरत मुहम्मद साहब की मृत्यु (632 ई.) के बाद भारत पर अरब आक्रमण का सिलसिला प्रारम्भ हुआ।

प्रश्न 3.
भारत पर प्रथम अरब आक्रमणकारी कौन था? उसने भारत पर कब आक्रमण किया?
उत्तर:
भारत पर प्रथम आक्रमणकारी मीर कासिमया उसने 712 ई. में सिंन्ध पर आक्रमण किया।

प्रश्न 4.
अरब आक्रमण का भारत पर सांस्कृतिक प्रभाव किस प्रकार पड़ा?
उत्तर:
सांस्कृतिक दृष्टि से भारत ने अरबों पर विजय प्राप्त की। भारतीय दर्शन, विज्ञान, गणित, चिकित्सा और ज्योतिष ने अरबों को बहुत प्रभावित किया।

प्रश्न 5.
अरबों ने भारतीयों से क्या – क्या सीखा?
उत्तर:
अरब लोगों ने अंक, दशमलव पद्धति, चिकित्सा व खगोलशास्त्र के कई मौलिक सिद्धान्त भारतीयों से सीखे प्रथम कला और साहित्य के क्षेत्र में भी भारतीय पद्धतियों को अपनाया।

प्रश्न 6.
किन – किन भारतीय ग्रन्थों का संस्कृत से अरबी में अनुवाद कराया गया?
उत्तर:
ब्रह्मगुप्त का ‘ब्रह्म सिद्धान्त’ तथा ‘खण्ड खांड्यक’ का संस्कृत से अरबी में अनुवाद कराया गया।

प्रश्न 7.
भारत में अरबों की सफलता में कोई दो कारण बताइए।
उत्तर:
भारत में अरबों की सफलता के कारण थे-

  1. दाहिर के शासन में सामान्य वर्ग असन्तुष्ट था।
  2. दाहिर स्वयं जनता में अप्रिय था क्योंकि उसका पिता राज्य का वास्तविक उत्तराधिकारी नहीं था।

प्रश्न 8.
अरब आक्रमणकारी ने किस नगर को विजित कर उसका नाम ‘स्वर्ण नगर’ रख दिया?
उत्तर:
मुल्तान विजय में अरबों को इतना धन हाथ लगा कि उन्होंने मुल्तान का नाम बदलकर ‘स्वर्ण नगर’ रख दिया।

प्रश्न 9.
गुर्जर – प्रतिहार वंश का संस्थापक कौन था?
उत्तर:
नागभट्ट प्रथम जालौर, अवन्ति और कन्नौज के गुर्जर प्रतिहार वंश का संस्थापक था।

प्रश्न 10.
नागभट्ट प्रथम ने ‘नारायण’ की उपाधि क्यों धारण की?
उत्तर:
नागभट्ट ने मलेच्छों का दमन और दीनों का उद्धार करने के कारण ‘नारायण’ की उपाधि धारण की।

प्रश्न 11.
नागभट्ट द्वितीय ने कौन – सी उपाधि धारण की?
उत्तर:
उत्तर भारत की विजय के उपलक्ष्य में नागभट्ट द्वितीय ने ‘परमभद्वारक महाराजाधिराज परमेश्वर की उपाधि धारण की।

प्रश्न 12.
प्रतिहार वंश का वह कौन-सा शासक था जिसने गंगा में डूबकर आत्महत्या कर ली?
उत्तर:
‘प्रभावक चरित’ के अनुसार नागभट्ट द्वितीय ने 833 ई. में गंगा में डूबकर आत्महत्या कर ली।

प्रश्न 13.
गुहिल वंश का वास्तविक संस्थापक कौन था?
उत्तर:
मेवाड़ के गुहिल वंश का वास्तविक संस्थापक बप्पा रावल को माना जाता है।

प्रश्न 14.
किस विजय के उपरान्त बप्पा रावल ने अपने को विभिन्न उपाधियों से विभूषित किया?
उत्तर:
बप्पा रावल ने 734 ई. मेवाड़ पर आक्रमण कर तथा उस पर अधिकार कर तीन उपाधियाँ- ‘हिन्दू सूर्य’, ‘राजगुरु’ और ‘चक्कवे’ धारण की।

प्रश्न 15.
बप्पा रावल ने किस प्रकार के सिक्के प्रचलित किए तथा उन पर कौन – कौन से चिह्नों का अंकन है?
उत्तर:
बप्पा रावल ने अपने पूर्वजों की भाँति सोने के सिक्के का प्रचलने किया। उसके सिक्के पर दोनों तरफ कामधेनु, बछड़ा, शिवलिंग, नन्दी, दण्डवत करता हुआ पुरुष, नदी, मछली, त्रिशूल आदि का अंकन है।

प्रश्न 16.
किस इतिहासकार ने बप्पा रावल को चार्ल्स मार्टेल’ की तुलना की है?
उत्तर:
श्री सी वी. बैद्य ने बप्पा रावल की ‘चार्ल्स मार्टेन’ से तुलना भी है।

प्रश्न 17.
महमूद गजनवीने सोमनाथ पर कब आक्रमण किया?
उत्तर:
महमूद गजनवी ने 1025 ई. में सोमनाथ पर आक्रमण किया। यह उसका सोलहवाँ और सर्वाधिक कुख्यात आक्रमण था।

प्रश्न 18.
महमूद गजनवी के भारत पर आक्रमण का क्या उद्देश्य था?
उत्तर:
महमूद गजनवी के भारत पर आक्रमण का उद्देश्य था-धन सम्पदा प्राप्त करना, साम्राज्य विस्तार की महत्वकांक्षा, इस्माइलिया वंश की सत्ता को नष्ट करना तथा इस्लाम धर्म का प्रचार करना।

प्रश्न 19.
पृथ्वीराज चौहान का जन्म कब हुआ था और किस शासक के बाद वह गद्दी पर बैठा?
उत्तर:
पृथ्वीराज चौहान का जन्म 1166 ई. में हुआ। वह सोमेश्वर की मृत्यु के बाद मात्र ग्यारह वर्ष की आयु में गद्दी पर बैठा।

प्रश्न 20.
पृथ्वीराज चौहान की विजय नीति का क्या उद्देश्य था?
उत्तर:
पृथ्वीराज चौहान की विजय नीति के उद्देश्य थे-स्वजनों के विरोध से मुक्ति पाना, पड़ोसी राज्यों का दमन तथा विदेशी शत्रुओं का मुकाबला।

प्रश्न 21.
पृथ्वीराज तृतीय ने भण्डानको पर कब और क्यों आक्रमण किया?
उत्तर:
पृथ्वीराज तृतीय ने 1182 ई. में गुड़गाँव व हिसार के आस-पास बसी हुई भण्डानक नामक उपद्रवी जाति को पराजित किया तथा अपने राज्य की उत्तरी सीमा को सुरक्षित किया।

प्रश्न 22.
पृथ्वीराज ने महोबा पर कब और क्यों आक्रमण किया?
उत्तर:
अपने कुछ सैनिकों की हत्या का बदला लेने के लिए पृथ्वीराज ने 1182 ई. में महोबा राज्य पर आक्रमण कर चन्देल शासक पर मर्दिदेव को पराजित किया। परमर्दिदेव के दो सेनापति आल्हा और ऊदल भी मारे गए।

प्रश्न 23.
पृथ्वीराज और जयचन्द के मध्य संघर्ष का मुख्य कारण क्या था?
उत्तर:
पृथ्वीराज और जयचन्द के मध्य संघर्ष का कारण दोनों की विस्तारवादी नीति का परिणाम था।

प्रश्न 24.
पृथ्वीराज और जयचन्द के मध्य संघर्ष का कारण चरमोत्कर्ष पर कब पहुँच गया?
उत्तर:
पृथ्वीराज द्वारा जयचन्द की पुत्री संयोगिता का बलपूर्वक अपहरण कर विवाह किया जाना दोनों शासकों के बीच संघर्ष का चरमोत्कर्ष था।

प्रश्न 25.
तराइन का प्रथम युद्ध कब और किसके मध्य हुआ?
उत्तर:
तराइन का प्रथम युद्ध 1191 ई. में पृथ्वीराज और मुहम्मद गोरी के मध्य हुआ।

प्रश्न 26.
तराइन का द्वितीय युद्ध कब और किसके मध्य हुआ?
उत्तर:
तराइन का द्वितीय युद्ध 1192 ई. में पृथ्वीराज और मुहम्मद गोरी के मध्य हुआ।

प्रश्न 27.
पृथ्वीराज चौहान की पराजय का प्रमुख कारण क्या था?
उत्तर:
पृथ्वीराज की पराजय का प्रमुख कारण उसमें दूरदर्शिता व कूटनीति का अभाव तथा पड़ोसी राज्यों के साथ मैत्री-सम्बन्धों का न होना था।

प्रश्न 28.
पृथ्वीराज चौहान के राजदरबार में रहने वाले प्रमुख विद्वान कौन – कौन से थे?
उत्तर:
पृथ्वीराज चौहान के राजदरबार में अनेक विद्वान रहते थे जिनमें विद्यापति गौड़, वागीश्वर, जनार्दन, जयानक, विश्वरूप, आशाधर आदि प्रमुख थे।

प्रश्न 29.
पृथ्वीराज चौहान का राजकवि कौन था? उसने कौन – से ग्रन्थ की रचना की?
उत्तर:
पृथ्वीराज चौहान का राजकवि चन्दबरदाई था। उसने पृथ्वीराजरासो की रचना की।

प्रश्न 30.
हिन्दी साहित्य का प्रथम महाकाव्य किसे कहा जाता है?
उत्तर:
चन्दबरदाई कृत ‘पृथ्वीराजरासो’ हिन्दी साहित्य का प्रथम महाकाव्य माना जाता है।

प्रश्न 31.
‘मिफ्ता-उल-फुतूह’ नामक ग्रन्थ की रचना किसने की?
उत्तर:
‘मिफ्ता-उल-फुतूह’ भी रचना अमीर खुसरो ने की।

प्रश्न 32.
अलाउद्दीन खिलजी के रणथम्भौर पर आक्रमण करने के क्या कारण थे?
उत्तर:

  1. रणथम्भौर सामारिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण था
  2. यह दिल्ली के बहुत निकट था
  3. जलालुद्दीन खिलजी ने दो बार विजित करने का प्रयास किया था तथा
  4. अलाउद्दीन खिलजी का एक महत्वाकांक्षी और साम्राज्यवादी शासक होना था।

प्रश्न 33.
‘हम्मीर महाकाव्य’ की रचना किसने थी?
उत्तर:
‘हम्मीर महाकाव्य’ की रचना नयन चंद्र सूरी ने की।

प्रश्न 34.
रणथम्भौर पर आक्रमण करने के लिए अलाउद्दीन खिलजी ने किन सेनापतियों को भेजा था?
उत्तर:
रणथम्भौर पर आक्रमण करने के लिए अलाउद्दीन खिलजी ने अपने दो सेनापतियों उलूग खाँ व नुसरत खाँ को भेजा।

प्रश्न 35.
‘हम्मीर हठ’ नामक काव्य की रचना किसने की?
उत्तर:
‘हम्मीर हठ’ नामक काव्य की रचना चन्द्रशेखर ने की।

प्रश्न 36.
जलालुद्दीन खिलजी अपने युद्ध अभियान में किस दुर्ग पर अधिकार नहीं कर सका?
उत्तर:
जलालुद्दीन खिलजी अपने जीवन में 17 युद्ध लड़े और 16 में विजयी रहा। बार – बार में प्रयासों के बाद भी वह रणथम्भौर पर अधिकार न कर सका।

प्रश्न 37.
हम्मीर देव का सम्मानित दरबारी कवि तथा गुरु कौन था?
उत्तर:
हम्मीर देव का सम्मानित दरबारी कवि विजया दित्य था तथा राघवदेव उसका गुरु था।

प्रश्न 38.
किस यज्ञ के सम्पादन से हम्मीर की धर्मनिष्ठा का परिचय मिलता है?
उत्तर:
कोटि यज्ञ के सम्पादन द्वारा हम्मीर ने अपनी धर्मनिष्ठा का परिचय दिया।

प्रश्न 39.
अलाउद्दीन खिलजी के चित्तौड़ पर आक्रमण के क्या कारण थे?
उत्तर:
अलाउद्दीन खिलजी के चित्तौड़ पर आक्रमण के कारण थे-

  1. अलाउद्दीन की साम्राज्यवादी महत्वाकांक्षा
  2. मेवाड़ की बढ़ती हुई शक्ति
  3. चित्तौड़ का भौगोलिक एवं सामारिक महत्व तथा
  4. पद्मिनी को प्राप्त करने की लालसा।

प्रश्न 40.
अलाउद्दीन ने चित्तौड़ पर कब आक्रमण किया?
उत्तर:
अलाउद्दीन खिजली ने 28 जनवरी, 1303 ई. में चित्तौड़ पर आक्रमण किया तथा 26 अगस्त, 1303 ई. में चित्तौड़ पर अलाउद्दीन खिलजी का अधिकार हो गया।

प्रश्न 41.
अलाउद्दीन ने किस नगर का नाम बदल का खिज्राबाद कर दिया?
उत्तर:
अलाउद्दीन खिलजी ने चित्तौड़ का नाम बदलकर ‘खिज्राबाद’ कर दिया।

प्रश्न 42.
पद्मिनी की ऐतिहासिकता की पुष्टि किन – किन ग्रन्थों से होती है?
उत्तर:
पद्मिनी की ऐतिहासिकता का उल्लेख जायसी कृत ‘पद्मावत’ के साथ – साथ अबुलफजल (अकबरनामा), फरिश्ता (गुलशन-ए-इब्राहिमी), हाजी उद्दवीर (जफरुलवली) में है।

प्रश्न 43.
कुम्भा ने मेरों का दमन कैसे किया?
उत्तर:
बदनोर के आस – पास मेरों की बस्ती थी। ये लोग सदैव विद्रोह करते रहते थे। कुम्भा ने इनके विद्रोह कर दमन का विद्रोही नेताओं को कड़ा दण्ड दिया।

प्रश्न 44.
सारंगपुर का युद्ध कब और किसके मध्य हुआ?
उत्तर:
सारंगपुर का युद्ध 1437 ई. में महाराणा कुम्भा और सुल्तान महमूद खिलजी के मध्य हुआ।

प्रश्न 45.
गुजरात और मालवा की संयुक्त सेना द्वारा मेवाड़ आक्रमण हेतु समझौता किस स्थान पर हुआ?
उत्तर:
गुजरात और मालवा की संयुक्त सेना द्वारा मेवाड़ आक्रमण हेतु समझौता चम्पानेर स्थान पर हुआ।

प्रश्न 46.
महाराणा कुम्भा ने चाचा और मेरा का दमन किसके सहयोग से किया?
उत्तर:
कुम्भा ने चाचा और मेरा का दमन रणमल के सहयोग से किया।

प्रश्न 47.
सिसोदिया और राठौड़ संघर्ष का मूल कारण क्या था?
उत्तर:
इस संघर्ष का मूल कारण रणमल की हत्या करना था।

प्रश्न 48.
राजस्थान के किस शासक को ‘अभिनव भरताचार्य’ के नाम से पुकारा जाता है।
उत्तर:
महाराणा कुम्भा को ‘अभिनव भरताचार्य’ के नाम से पुकारा जाता है।

प्रश्न 49.
युद्ध में स्थिर बुद्धि’ किसे कहा गया है?
उत्तर:
महाराणा कुम्भा को स्थिर बुद्धि’ कहा गया है।

प्रश्न 50.
कुम्भा के संगीतज्ञ लेने के प्रमाण में कौन – कौन से ग्रन्थ हैं?
उत्तर:
कुम्भा बीणा वादन में प्रवीण था। संगीतराज, संगीत मीमांसा, संगीत क्रम दीपिका नामक ग्रन्थ उसके संगीतज्ञ होने के प्रमाण हैं।

प्रश्न 51.
‘गीत गोविन्द’ की रचना किसने की?
उत्तर:
गीत गोविन्द की रचना जयदेव ने की।

प्रश्न 52.
कुम्भा के राजदरबार में रहने वाले दो प्रसिद्ध विद्वानों के नाम लिखिए।
उत्तर:
कुम्भा के दरबार में एकलिंग महात्म्य का लेखक ‘कान्ह व्यास’ तथा प्रसिद्ध वास्तुशास्त्री मण्डल मिश्र रहते है।

प्रश्न 53.
आयुर्वेद के किस ग्रन्थ में विभिन्न व्याधियों तथा उपचारों का वर्णन है?
उत्तर:
आयुर्वेदज्ञ के रूप में गोविन्द की रचना ‘सार समुच्चय’ में विभिन्न व्याधियों के निदान और उपचार की विधियों का वर्णन है।

प्रश्न 54.
कवि ‘मेहा’ क्यों प्रसिद्ध है?
उत्तर:
कवि मेहा महाराणा कुम्भा के समय का प्रसिद्ध रचनाकार था। उसकी रचनाओं में तीर्थमाला के कारण वह प्रसिद्ध है।

प्रश्न 55.
कुम्भा ने कौन – कौन से ग्रन्थों की रचना की?
उत्तर:
कुम्भा ने संगीत के क्षेत्र में तीन ग्रन्थों की रचना की-

  1. संगीतराज
  2. संगीत मीमांसा तथा
  3. रसिक प्रिया।

प्रश्न 56.
कुम्भाकालीन मन्दिर निर्माण के केन्द्र कौन – कौन से थे?
उत्तर:
कुम्भाकालीन मन्दिर निर्माण के तीन प्रमुख केन्द्र थेकुम्भलगढ़, चित्तौड़गढ़ तथा अचलगढ़।

प्रश्न 57.
कीर्ति स्तम्भ की प्रशास्ति की रचना किन कवियों ने की?
उत्तर:
कीर्ति स्तम्भ की प्रशास्ति की रचना (i) कवि अत्रि और (2) उसके पुत्र महेश ने की।

प्रश्न 58.
कुम्भा ने किसे ‘कविराज’ भी उपाधि से विभूषित किया?
उत्तर:
हीरानन्द मुनि को कुम्भा ने अपना गुरु और ‘कविराज’ की उपाधि से विभूषित किया।

प्रश्न 59.
कुम्भाकालीन प्रमुख मंन्दिरों के नाम लिखिए।
उत्तर:
ऐसे मन्दिरों में चित्तौड़ का कुम्भस्वामी व शृंगार गौरी का मन्दिर एक लिंग जी में मीरा मन्दिर और रणकपुर के मन्दिर प्रसिद्ध हैं।

प्रश्न 60.
किस स्तम्भ ने क्रान्तिकारियों के लिए प्रेरणा स्रोत का कार्य किया?
उत्तर:
भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन के दौरान ‘विजय स्तम्भ’ के क्रान्तिकारियों के लिए प्रेरणा स्रोत का कार्य किया।

प्रश्न 61.
मुगल साम्राज्य की स्थापना किसने और कब की?
उत्तर:
मुगल साम्राज्य की स्थापना 1526 ई. में बाबर ने की।

प्रश्न 62.
बाबर के आक्रमण के समय भारत का सबसे शक्तिशाली शासक कौन था?
उत्तर:
बाबर के आक्रमण के समय भारत का सबसे शक्तिशाली शासक मेवाड़ का महाराणा सांगाया, जो इतिहास में महाराणा संग्राम सिंह प्रथम के नाम से प्रसिद्ध है।

प्रश्न 63.
महाराणा सांगा ने ईडर राज्य में हस्तक्षेप क्यों किया?
उत्तर:
राणा ने ईडर राज्य में हस्तक्षेप इसलिए किया क्योंकि वहाँ उत्तराधिकारी के लिए संघर्ष हो रहे थे।

प्रश्न 64.
महाराणा सांगा के गुजरात संघर्ष का तात्कालिक कारण क्या था?
उत्तर:
ईडार में उत्तराधिकार के लिए संघर्ष का प्रश्न महाराणा सांगा के गुजरात – संघर्ष को तात्कालिक कारण था।

प्रश्न 65.
खानवा का युद्ध कब और किसके मध्य में हुआ और उसमें कौन – सी नई रणनीति अपनाई गयी?
उत्तर:
खानवा का युद्ध 16 मार्च, 1525 ई. को महाराणा सांगा व बाबर के मध्य में हुआ और उसमें बाबर ने अपनी तुलुगमा पद्धति का प्रयोग किया।

प्रश्न 66.
खानवा के युद्ध में राणासांगा की पराजय के कोई दो कारण बताइए।
उत्तर:

  1. राजपूत सैनिक परम्परागत हथियारों से युद्ध लड़ रहे थे।
  2. राजपूत सेना में एकता और तालमेल का अभाव था।

प्रश्न 67.
खानवा युद्ध के मुख्य दो परिणाम क्या थे?
उत्तर:

  1. भारत में राजपूतों की सर्वोच्चता का अन्त हो गया अब उनका सूर्य अस्तांचल की ओर खिसने लगा तथा
  2. भारतवर्ष में मुगल साम्राज्य स्थापित हो गया और बाबर स्थिर रूप से भारत का बादशाह बन गया।

प्रश्न 68.
राव चन्द्रसेन, मालदेव का ज्येष्ठ पुत्र न होते हुए भी उसका उत्तराधिकारी कैसे बना?
उत्तर:
मालदेव ने अपने ज्येष्ठ पुत्र राम तथा दूसरे पुत्र उदयसिंह को राज्य से निर्वासित कर दिया था। इसलिए चन्द्रसेन, मालदेव का ज्येष्ठ पुत्र ने होते हुए भी उसका उत्तराधिकारी बना।

प्रश्न 69.
राव चन्द्रसेन ने अकबर की अधीनता क्यों नहीं स्वीकार की?
उत्तर:
अकबर जोधपुर का दुर्ग अपने पास रखना चाहता था तथा उसके भाई उदय सिंह का प्रभाव भी मुगल दरबार में बढ़ता जा रहा था। इसलिए चन्द्रसेन ने अकबर की अधीनता स्वीकार नहीं की।

प्रश्न 70.
अकबर नागौर कब और क्यों पहुँचा?
उत्तर:
1570 ई. में अपनी अजमेर यात्रा के समय अकबर मारवाड़ क्षेत्र में दुष्काल की खबरें सुनकर नागौर पहुँचा।

प्रश्न 71.
राव चन्द्रसेन की मृत्यु कब हुई?
उत्तर:
राव चन्द्रसेन की मृत्यु 11 जनवरी, 1581 ई. को हुई।

प्रश्न 72.
महाराणा प्रताप का ‘अग्रगामी’ तथा ‘मारवाड़े का प्रताप’ किसे कहा जाता है?
उत्तर:
राव चन्द्रसेन को महाराणा प्रताप का अग्रगामी तथा मारवाड़ को प्रताप कहा जाता है।

प्रश्न 73.
अकबर ने चित्तौड़ दुर्ग पर कब अधिकार कर लिया?
उत्तर:
मेवाड़ के महाराणा उदय सिंह समय में 23 अक्टूबर, 1567 ई. को अकबर ने चित्तौड़ दुर्ग पर आक्रमण कर दिया।

प्रश्न 74.
अकबर ने चित्तौड़ दुर्ग पर कब अधिकार कर लिया?
उत्तर:
जयमल और पत्ता की मृत्यु के बाद ही 1568 ई. में अकबर ने चित्तौड़ पर अधिकार कर लिया।

प्रश्न 75.
वर्नियर ने कौन -सी पुस्तक की रचना की?
उत्तर:
फ्रांसीसी यात्री वर्नियर ने अपना यात्रा वृत्तान्त ‘ट्रेवल्स इन द मुगल एम्पायर’ नामक पुस्तक लिखी।

प्रश्न 76.
महाराणा प्रताप ने अकबर का विरोध करने का निश्चय क्यों किया?
उत्तर:
महाराणा प्रताप ने अकबर का विरोध इसलिए किया क्योंकि कि प्रताप को मेवाड़ की स्वतन्त्रता प्रिय थी तथा इसकी रक्षा के लिए वह सब कुछ बलिदान करने को तैयार थे।

प्रश्न 77.
अकबर ने महाराणा प्रताप को समझाने के लिए क्या किया?
उत्तर:
अकबर ने महाराणा प्रताप को समझाने के लिए चार शिष्ट मण्डल भेजे।

प्रश्न 78.
हल्दीघाटी के युद्ध में शाही सेना का नेतृत्व किसने किया?
उत्तर:
हल्दीघाटी के युद्ध में शाही सेना का नेतृत्व मान सिंह ने किया गया।

प्रश्न 79.
हल्दीघाटी युद्ध में धनुर्धर भीलों को कहाँ नियुक्त किया गया?
उत्तर:
हल्दीघाटी युद्ध में धनुर्धर भीलों को पृष्ठभाग में नियुक्त किया गया।

प्रश्न 80.
प्रताप से किन राज्यों से सन्धि – समझौता किया?
उत्तर:
प्रताप से कुम्भलगढ़, जावर, चावण्ड, उदयपुर, पिण्डवाडा, माण्डलगढ़ आदि ने सन्धि – समझौता किया।

प्रश्न 81.
हल्दीघाटी का युद्ध कब और किसके मध्य हुआ?
उत्तर:
हल्दीघाटी का युद्ध 1576 ई. में अकबर और महाराणा प्रताप के मध्य हुआ।

प्रश्न. 82.
किस युद्ध को ‘मेवाड़ का मैराथन’ कहा जाता है?
उत्तर:
कर्नल टॉड ने दिवेर के युद्ध को ‘मेवाड़ का मैराथन’ कहा है।

प्रश्न 83.
चावण्ड का प्रसिद्ध चित्रकार कौन था?
उत्तर:
चावण्ड का प्रसिद्ध चित्रकार निसारदी (नासिरूद्दीन) हुआ।

प्रश्न 84.
दुर्गादास ने चरवाहे को क्यों मार डाला?
उत्तर:
1655 ई. में आपसी कहा – सुनी के बाद उसने अपने खेत से होकर सांडनियाँ (मादा ऊँट) ले जाने पर राजकीय चरवाहे को मार डाला।

प्रश्न 85.
जसवन्त सिंह की मृत्यु के समय औरंगजेब ने क्या कहा?
उत्तर:
अजीत सिंह की मृत्यु पर औरंगजेब ने कहा -‘दरबाजा-ए-कुफ्र’ शिकस्त (आज मजहब विरोध का दरवाजा टूट गया)।

प्रश्न 86.
औरंगजेब के किस पुत्र ने अपने को बादशाह घोषित कर दिया?
उत्तर:
औरंगजेब के पुत्र अकबर ने 1 जनवरी, 1681 ई. को नाडोल में स्वयं को बादशाह घोषित कर दिया।

प्रश्न 87.
औरंगजेब की मृत्यु कब हुई?
उत्तर:
औरंगजेब की मृत्यु 1707 ई. में हुई।

प्रश्न 88.
शाहजहाँ के पुत्रों के मध्य उत्तराधिकार युद्ध में किस ने भाग लिया था?
उत्तर:
शाहजहाँ के पुत्रों के मध्य उत्तराधिकार युद्ध में दुर्गादास ने जसवन्त सिंह के साथ ‘धरमत के युद्ध’ में भाग लिया था।

प्रश्न 89.
दुर्गादास की कूटनीतिज्ञता का परिचय दीजिए।
उत्तर:
दुर्गादास ने अपनी कूटनीतिज्ञता के कारण न केवल महाराणा राजसिंह के साथ मिलकर राठौड़-सिसेदिया गठबन्धन’ किया अपितु शाहजादा अकबर को बादशाह के विरुद्ध प्रेरित भी किया।

प्रश्न 90.
शिवाजी का जन्म कब और कहाँ हुआ था?
उत्तर:
शिवाजी का जन्म 20 अप्रैल, 1627 ई. में को पूना (महाराष्ट्र) के समीप शिवनेर के पहाड़ी के किले में हुआ था।

प्रश्न 91.
सूरत की लूट कब और किसके द्वारा की गई?
उत्तर:
जनवरी, 1664 ई. में शिवाजी द्वारा सूरत की लूट की गई।

प्रश्न 92.
पुरन्दर की सन्धि कब और किस-किसके मध्य हुई?
उत्तर:
पुरन्दर की सन्धि जून, 1665 ई. में शिवाजी और जयसिंह के मध्य हुई।

प्रश्न 93.
मुगल – मराठा सन्धि कब हुई?
उत्तर:
1667 ई. में जसवन्त सिंह की मध्यस्थता में मुगल – मराठा सन्धि हुई।

प्रश्न 94.
शिवाजी का राज्याभिषेक कब और कहाँ हुआ?
उत्तर:
शिवाजी का राज्याभिषेक जून, 1674 ई. को राजधानी रायगढ़ में हुआ।

प्रश्न 95.
शिवाजी के समय प्रचलित दो प्रकार के कर कौन – कौन थे?
उत्तर:
शिवाजी के समय दो प्रकार के कर थे-चौथ, सरदेशमुखी।

RBSE Class 12 History Chapter 4 लघुत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
भारत पर अरब आक्रमण का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:
हजरत मुहम्मद साहब की मृत्यु (632 ई) के बाद भारत पर अरबी आक्रमणों का सिलसिला प्रारम्भ हुआ। खलीफा उमर के शासन काल में 636 ई. में भारतीय प्रदेशों को लूटने के लिए मुम्बई के थाना नामक स्थान पर अरबों ने आक्रमण किया किन्तु उन्हें सफलता नहीं मिली। कालान्तर में उम्मैया वंश के शासनकाल के दौरान अब्दुल्ला के नेतृत्व में अरबी सेना ने सिन्ध के उस पार किरमार, सीस्त्रान व मकरान पर अधिकार कर लिया। खलीफा ने अब्दुल्ला को इसके आगे बढ़ने की अनुमति नहीं दी और अरबी आक्रमण यही तक सीमित रह गया।

प्रश्न 2.
711 ई. में सिंध में समुद्री डाकुओं द्वारा अरबी जहाज की घटना की लूट के परिप्रेक्ष्य में राजा दाहिर और अरबों के बीच हुए युद्ध का संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत कीजिए।
उत्तर:
711 ई. में सिंध के समुद्री डाकुओं द्वारा स्थानीय बन्दरगाह देवल पर अरबी जहाज को लूट लिया गया। इस समय सिंध में दाहिर नामक ब्राह्मण राजा का शासन था। दाहिर के राज्य की सीमाएँ उत्तर में कश्मीर और पूर्व में प्रतिहारों के कन्नौज तक फैली हुई थी। पश्चिम में उसकी सीमाओं में मकरान या बलूचिस्तान का प्रदेश सम्मिलित था। दाहिर द्वारा अरबी जहाज लूटने की घटना का उपयुक्त स्पष्टीकरण नहीं दिए जाने को तात्कालिक कारण बनाकर ईराक के गवर्नर हज्जाज ने खलीफा वलीद से अनुमति प्राप्त कर सिंध पर आक्रमण के लिए सेना भेज दी।

प्रारम्भिक दो अभियानों में हज्जाज के सेनापतियों उबैदुल्ला तथा बुदैल को असफलता का सामना करना पड़ा और दोनों मौत के घाट उतार दिए गए। इसके बाद हज्जाज ने अपने चचेरे भाई तथा दामाद मुहम्मद बिन कासिम को युद्ध हेतु भेजा। मुहम्मद बिन कासिम द्वारा काफी मार-काट मचाने के बाद अन्ततोगत्वा 20 जून, 712 को दाहिर सेन व इसके बीच युद्ध हुआ जिसमें दाहिर सेन वीरगति को प्राप्त हुआ।

प्रश्न 3.
मुहम्मद बिन कासिम का अन्त कैसे हुआ? संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत कीजिए।
उत्तर:
इतिहासकार गौरीशंकर हीराचन्द ओझा ने जो विवरण प्रस्तुत किया है, उसके अनुसार दाहिर की राजकुमारियों का रूप-लावण्य देखकरे खलीफा ने उनके सामने प्रेम की याचना की। वे दोनों अपने पिता की मृत्यु का बदला लेना चाहती थी। इस कारण मौका देखकर उन्होंने खलीफा से शिकायत की कि हम आपकी शैय्या पर पैर रखने योग्य नहीं हैं, यहाँ भेजने के पहले ही कासिम ने हमारा कौमार्य भंग कर दिया।

इतना सुनते ही खलीफा आगबबूला हो गया और उसने तत्काल आज्ञापत्र लिखवाया कि इसे देखते ही मुहम्मद बिन कासिम को बैल के चमड़े में जीवित सिलाई कर हमारे पास भेज दो। हुक्म की उसी समय तामील हुआ। मार्ग में तीसरे दिन कासिम मर गया ओर उसी अवस्था में खलीफा के पास पहुँचाया गया। खलीफा ने उन दोनों राजकुमारियों को बुलवाया और उन्हीं के सामने बैल का चमड़ा खुलवा कर कासिम का शव उन्हें दिखलाया और कहा कि खुदा के खलीफा का अपमान करने वालों को मैं इस प्रकार दण्ड देता हूँ।

कासिम का मृत शरीर देखते ही राजकुमारी के मुख पर अपना मनोरथ सफल होने की प्रसन्नता छा गई, परन्तु साथ ही मंद मुस्कराहट और कटाक्ष के साथ उसने खलीफा को कहा कि ऐ खलीफा ! कासिम ने हमारा सतीत्व नष्ट नहीं किया। उसने कभी आँख उठाकर भी हमें कुदृष्टि से नहीं देखा परन्तु उसने हमारे माता, पिता, भाई और देशबंधुओं को मारा था इसलिए उससे अपना बदला लेने के लिए हमने यह मिथ्या दोष उस पर लगाया था। वीर बालिकाओं के ये वचन सुनते ही खलीफा सन्न हो गया और उन दोनों को जिन्दा जलवा दिया।

प्रश्न 4.
भारत के सम्पर्क में आने पर अरबों पर क्या प्रभाव पड़ा?
उत्तर:
अरबों की सिंध विजय का राजनीतिक परिणाम सिर्फ यह निकला कि सिंध का सम्बन्ध कुछ समय के लिए भारत से टूट गया और वह इस्लामी साम्राज्य का हिस्सा बन गया किन्तु सांस्कृतिक दृष्टि से भारत ने अरबों पर विजय प्राप्त की। भारतीय दर्शन, विज्ञान, गणित, चिकित्सा और ज्योतिष ने अरबों को बहुत प्रभावित किया। उन्होंने कई भारतीय संस्कृत ग्रन्थों का अरबी भाषा में अनुवाद करवाया जिनमें ब्रह्मगुप्त का ‘ब्रह्म सिद्धान्त’ तथा ‘खण्ड खांड्यक’ अधिक प्रसिद्ध हैं।

अरब के लोगों ने अंक, दशमलव पद्धति, चिकित्सा व खगोलशास्त्र के कई मौलिक सिद्धान्त भारतीयों से सीखे और केला तथा साहित्य के क्षेत्र में भी भारतीय पद्धतियों को अपनाया। भारतीय दर्शन, साहित्य व कला की अनेक बातें अरबों के माध्यम से यूरोप के लोगों ने सीखी। इस प्रकार अरबों द्वारा भारतीय ज्ञान पश्चिमी देशों में पहुँचने में सफल रहा।

प्रश्न 5.
नागभट्ट प्रथम के बारे में आप क्या जानते हैं? संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत कीजिए।
उत्तर:
नागभट्ट प्रथम (730 – 756 ई.) जालौर, अवन्ति और कन्नौज के गुर्जर – प्रतिहार वंश का संस्थापक कहा जाता है। उसने चावड़ों से भीनमाल जीतने के बाद आबू, जालौर आदि स्थानों पर भी अपना अधिकार किया। इस राज्य विस्तार के बाद उसने भीनमाल के स्थान पर जालौर को अपनी राजधानी बना लिया। मालवा में राज्य विस्तार कर उसने अवन्ति (उज्जैन) को भी अपनी राजधानी बनाया। नागभट्ट प्रथम के समय सन्धि की दिशा से बिलोचों तथा अरबों ने भारत पर आक्रमण किया।

उसने न केवल मुस्लिम आक्रमण से पश्चिम भारत की रक्षा की अपितु उनके रौंदे हुए प्रदेशों पर पुनः अधिकार कर लिया। ग्वालियर प्रशस्ति में नागभट्ट प्रथम को म्लेच्छों (विदेशी आक्रमणकारी) का दमनकारक और दोनों का उद्धारक होने के कारण ‘नारायण’ उपाधि से विभूषित किया गया है। मुस्लिम लेखक अब बिलादुरी के विवरण से भी ज्ञात होता है कि समकालीन अरब शासक जुनैद को मालवा के विरुद्ध सफलता नहीं मिली। नौसारी अभिलेख में अरबों द्वारा पराजित राजाओं के नाम दिए गए हैं किन्तु इस सूची में नागभट्ट प्रथम का नाम न होनी उपरोक्त तथ्यों को प्रमाणित करता है।

प्रश्न 6.
भारत में अरबों की सफलता के क्या कारण थे?
उत्तर:
सिन्ध पर अरबों की सफलता के कई कारण थे। दाहिर के शासन में सामान्य वर्ग असन्तुष्ट था। राज्य के अधिकांश भागों में असन्तोष और अव्यवस्था व्याप्त थी। इस कारण अरब आक्रमण के समय उसे जन – सहयोग नहीं मिल पाया। दाहिर स्वयं जनता में अप्रिय था क्योंकि उसका पिता राज्य का वास्तविक अधिकारी नहीं था। समकालीन भारतीय शासकों में आपसी तालमेल, सौहाद तथा सहयोग की भावना नहीं थी और व्यक्तिगत स्वार्थ पनप रहे थे। सैनिक शक्ति बढ़ाने और विदेशी आक्रमण की सम्भावना को ध्यान में रखकर किसी भी राज्य ने अपनी सैन्य शक्ति बढ़ाने की कोशिश नहीं की।

प्रश्न 7.
नागभट्ट द्वितीय कौन था?
उत्तर:
वत्सराज की मृत्यु के बाद सुन्दर देवी से उत्पन्न पुत्र नागभट्ट द्वितीय (795 – 833 ई.) प्रतीहार वंश की गद्दी पर आसीन हुआ। इसने अपने पराक्रम से गुर्जर – प्रतिहार वंश की खोई हुई प्रतिष्ठा को पुनः स्थापित कर उसे चरम पर पहुँचा दिया। वह प्रारम्भ में दक्षिण के राष्ट्रकूट वंशी शासक गोविन्द तृतीय से पराजित हुआ किन्तु बाद में गोविन्द तृतीय की घरेलू परिस्थितियाँ का लाभ उठाकर चक्रायुद्ध को पराजित कर कन्नौज पर अधिकार कर लिया।

ग्वालियर प्रशास्ति के अनुसार ‘आन्ध्र’, सिन्धु, विदर्भ तथा कालिंग के नरेशों ने उसकी युवाशक्ति के समक्ष इस प्रकार समर्पण किया जिस प्रकार पतंगे अग्नि में करते हैं। उसकी महान् विशेषताओं की ख्याति सभी क्षेत्रों में फैल गई, जबकि उसने आनर्त, मालव, मत्स्य, किरात, तुरुष्क तथा वत्स के पर्वतीय दुर्गों के राजाओं पर बलपूर्वक विजय प्राप्त की। नागभट्ट द्वितीय ने परम भट्टारक महाराजाधिराज परमेश्वर की उपाधि धारण की। उसने 833 ई. में गंगा में डूबकर आत्महत्या कर ली।

प्रश्न 8.
मेवाड़ में गुहिल वंश का वास्तविक संस्थापक कौन कहा जाता है? बताइए।

अथवा

बप्पा रावल के बारे में आप क्या जानते हैं?
उत्तर:
बप्पा रावल को मेवाड़ के गुहिल वंश का वास्तविक संस्थापक कहा जाता है। डॉ. ओझा के अनुसार, ‘बप्पा रावल’ किसी व्यक्ति विशेष का नाम न होकर कालभोज नामक शासक की उपाधि थी। मुहणौत नैणसी की ख्यात के अनुसार वह ऋषि हारीत राशि की गायें चराता था। बप्पा की सेवा से प्रसन्न होकर हारीत राशि ने महादेव को प्रसन्न कर उसके लिए मेवाड़ का राज्य माँग लिया। चित्तौड़ में राजा मान और सामंतों के बीच तनाव पैदा होने के बाद कई सामंत दरबार छोड़कर चले गए।

इन विद्रोही सामंतों ने बप्पा को शासक बनने के लिए राजी कर 734 ई. में चित्तौड़ पर आक्रमण कर दिया। बप्पा ने चित्तौड़ पर अधिकार कर तीन उपाधियाँ-‘हिन्दू सूर्य’, ‘राजगुरु’ और ‘चक्कवै’ धारण की। पचास वर्ष की आयु में बप्पा ने खुरासान पर आक्रमण करे अधिकार कर लिया। वहीं पर उसकी मृत्यु हो गई। इतिहासकार ओझा के अनुसार बप्पा का देहान्त नागदा में हुआ और उसका समाधि स्थल ‘बापा रावल’ के नाम से प्रसिद्ध है। इतिहासकार सी. वी. वैद्य ने बप्पा रावल की तुलना चार्ल्स मार्टेल (मुगल सेनाओं को सर्वप्रथम पराजित करने वाला फ्रांसीसी सेनापति) के साथ करते हुए कहा है कि उसकी शौर्य की चट्टान के सामने अरब आक्रमण का ज्वार-भाटा टकराकर चूर – चूर हो गया।

प्रश्न 9.
भारत पर तुर्क आक्रमण की पृष्ठभूमि समझाइए।

अथवा

सुबुक्तगीन और उसके पुत्र महमूद गजनवी की भारत पर आक्रमण की स्थिति स्पष्ट कीजिए।
उत्तरआठवीं शताब्दी में होने वाले अरब आक्रमणों के बाद भारत लगभग दो शताब्दियों तक मुगल आक्रमणों से सुरक्षित रहा। दसवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में मुगल आक्रमणों का सिलसिला एक बार फिर प्रारम्भ हुआ किन्तु इस बार आक्रमण अरबों के स्थान पर तुर्को द्वारा किए गये थे। भारत पर आक्रमण करने वाला प्रथम तुर्क आक्रमणकारी गजनी का शासक सुबुक्तगीन था। 977 ई. में शासक बनने के बाद उसने अपने साम्राज्य की सीमाओं का प्रसार करना प्रारम्भ किया।

इस समय भारत के उत्तर-पश्चिमी भाग पर शाही वंश के योग्य राजा जयपाल का शासन था। लम्बे संघर्ष के बाद धोखे व षड्यन्त्र से सुबुक्तगीन विजयी रहा और उसने लमधान से पेशावर तक के भारतीय प्रदेशों पर अपना अधिकार कर लिया। 997 ई. में सुबुक्तगीन की मृत्यु हो गई जिसके बाद उसके पुत्र इस्माइल और महमूद (गजनवी) क्रमशः गजनी के शासक बने। महमूद योग्य व महत्वाकांक्षी शासक था। उसने भारत पर कुल 17 बार आक्रमण किए जिनमें 1025 ई. में सोमनाथ मंदिर (गुजरात) पर किया गया उसका सोलहवाँ आक्रमण सर्वाधिक कुख्यात है।

प्रश्न 10.
महमूद गजनवी के सोमनाथ पर आक्रमण का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:
महमूद गजनवी ने 1025 ई. में सोमनाथ मन्दिर पर आक्रमण किया। यह उसका सोलहवाँ आक्रमण था। महमूद के आक्रमण की सूचना सुनकर राजा भीमदेव अपने अनुयायिपों सहित राजधानी छोड़कर भाग गया किन्तु सोमनाथ की साधारण जनता और पुजारी अपने स्थानों पर डटे रहे क्योंकि उनका विश्वास था कि भगवान सोमनाथ भी उपस्थिति के कारण वे लोग पूर्णतया सुरक्षित हैं। सोमनाथ के लोगों ने पहले तो आक्रमणकारियों का विरोध किया परन्तु बाद में आक्रमणकारी मन्दिर में प्रवेश कर गए। महमूद ने बिना किसी प्रतिरोध के नगर पर अधिकार कर लिया। महमूद ने स्वयं सोमनाथ की मूर्ति को तोड़ा तथा पचास हजार से अधिक स्त्री – पुरुषों को मौत के घाट उतार दिया। मूर्तियों के टुकड़ों को गजनी, मक्का व मदीना भिजवाकर वहाँ की प्रमुख मस्जिदों की सीढ़ियों के नीचे डलवा दिया।

प्रश्न 11.
पृथ्वीराज चौहान और जयचन्द्र के बीच शत्रुता पर प्रकाश डालिए।

अथवा

‘यचन्द्र ने अपनी राजधानी में खुशियाँ क्यों मनाईं।’ स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
पृथ्वीराज के पूर्व में स्थित कन्नौज के गहड़वाल राज्य का शासक इस समय जयचन्द्र था। दिल्ली पर नियन्त्रण को लेकर चौहानों और गहड़वालों के बीच परम्परागत वैमनस्य चला आ रहा था। पृथ्वीराज दिग्विजय योजना को पूर्णता प्रदान करने के लिए कन्नौज को अपने राज्य में मिलाना चाहता था, वहीं जयचद्र भी उसकी होड़ में विजय योजनाएँ बना रहा था। इस कारण दोनों के बीच संघर्ष होना अवश्यम्भावी था।

पृथ्वीराज द्वारा जयचन्द्र की पुत्री संयोगिता का बलपूर्वक अपहरण कर विवाह किया जाना दोनों शासकों के बीच संघर्ष का चरमोत्कर्ष था। अपनी पुत्री के अपहरण से जयचन्द्र पृथ्वीराज का पक्का शत्रु बन गया और बदला लेने का अवसर ढूँढ़ने लगा। एक प्रचलित मत के अनुसार उसने सहायता का आश्वासन देकर मुहम्मद गौरी को पृथ्वीराज पर आक्रमण करने के लिए आमन्त्रित किया। पुरातन प्रबन्ध संग्रह के अनुसार गौरी के हाथों पृथ्वीराज की पराजय की खबर सुनकर जयचन्द्र ने अपनी राजधानी में खुशियाँ मनार्यां थीं।

प्रश्न 12.
ऐतिहासिक विवरणों के आलोक में ‘संयोगिता प्रकरण’ की समीक्षा कीजिए।
अथवा
‘पृथ्वीराज – संयोगिता प्रेम’ के सम्बन्ध में विद्यमान साक्ष्यों में विरोधाभास है-संक्षिप्त विश्लेषण कीजिए।
उत्तर:
चन्दबरदाई की रचना ‘पृथ्वीराज रासो’ के अनुसार जयचन्द्र और पृथ्वीराज चौहान के बीच संघर्ष को कारण पृथ्वीराज चौहान द्वारा जयचन्द्र की पुत्री संयोगिता का अपहरण कर उसके साथ विवाह करना था। कथानक के अनुसार पृथ्वीराज चौहान और जयचन्द्र की पुत्री संयोगिता के बीच प्रेम था किन्तु जयचन्द्र पृथ्वीराज के साथ शत्रुतापूर्ण सम्बन्धों के चलते अपनी पुत्री संयोगिता का विवाह किसी अन्य राजा के साथ करना चाहता था। इस उद्देश्य से उसने राजसूय यज्ञ के साथ संयोगिता के स्वयंवर का आयोजन किया। इस आयोजन में उसने पृथ्वीराज को छोड़कर सभी प्रमुख राजा – महाराजाओं को आमन्त्रित किया। इतना ही नहीं जयचन्द्र ने पृथ्वीराज को अपमानित करने के लिए उसकी मूर्ति बनवाकर द्वारपाल के स्थान पर लगवा दी।

स्वयंवर के समय जब सभी राजा – महाराजा संयोगिता की वरमाला का इन्तजार कर रहे थे उस समय संयोगिता ने पृथ्वीराज की मूर्ति के गले में वरमाला डाल दी। इसी वक्त पृथ्वीराज अपनी सेना सहित घटनास्थल पर पहुँच गया और संयोगिता को उठाकर ले गया। जयचन्द्र के सैनिकों से पृथ्वीराज को रोकने का प्रयास किया किन्तु वे असफल रहे। डॉ. आर. एस. त्रिपाठी, गौरीशंकर हीराचन्द और विश्वेश्वरनाथ रेऊ जैसे इतिहासकारों ने इसकी ऐतिहासिकता को मात्र प्रेमाख्यान कहकर अस्वीकार कर दिया है, जबकि डॉ. दशरथ शर्मा ने ‘दि अर्ली चौहान डाइनेस्टीज’ में संयोगिता की घटना को ऐतिहासिक तथ्य स्वीकार किया है।

प्रश्न 13.
पृथ्वीराज चौहान तथा मुहम्मद गौरी के बीच प्रारम्भिक संघर्षों का संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत कीजिए।
उत्तर:
‘गजनी का गवर्नर नियुक्त होने के बाद मुहम्मद गौरी ने 1175 ई. में मुल्तान का आक्रमण कर अधिकार कर लिया। इसके बाद उसने गुजरात, सियालकोट और लाहौर के युद्धों में विजय हासिल कर अपनी शक्ति का परिचय दिया। राजस्थानी स्रोतों के अनुसार इस दौरान उसकी पृथ्वीराज चौहान के साथ अनेक बार लड़ाइयाँ हुईं और हर बार उसे पराजय का सामना ही करना पड़ा। पृथ्वीराज रासो में 21 तथा हम्मीर महाकाव्य में सात बार गौरी पर पृथ्वीराज की विजयों का दावा किया गया है।

दोनों के बीच दो निर्णायक युद्ध हुए। 1191 ई. में लाहौर से रवाना होकर मुहम्मद गौरी तबरहिन्द नामक स्थान पर अधिकार करते हुए तराइन तक पहुँच गया। यहाँ दोनों पक्षों के बीच भयंकर युद्ध हुआ जिसमें पृथ्वीराज चौहान के दिल्ली सामंत गोविन्दराज ने अपनी बर्थी के वार से मुहम्मद गौरी को घायल कर दिया। घायल गौरी अपनी सेना सहित गजनी भाग गया। पृथ्वीराज ने तबरहिन्द पर अधिकार कर काजी जियाउद्दीन को बंदी बना लिया जिसे बाद में एक बड़ी धनराशि के बदले रिहा कर दिया गया।

प्रश्न 14.
तराइन के द्वितीय युद्ध का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
1191 ई. के एक वर्ष बाद मुहम्मद गोरी सेना सहित पुनः तराइन के मैदान में आ धमका। पृथ्वीराज भी मुकाबला करने मैदान में आ गया किन्तु गोरी ने शत्रु को सन्धि-वार्ता के झाँसे में फंसा दिया। चौहान सेना कई दिनों सन्धि वार्ता में व्यस्त रही और पृथ्वीराज आमोद-प्रमोद में डूबा रहा। इसका फायदा उठाकर गोरी ने एक रात्रि अचानक आक्रमण कर दिया।

राजपूत सेना इस अप्रत्याशित आक्रमण को झेल न पाई और पराजित हुई। पराजित पृथ्वीराज चौहान को सिरसा के पास सरस्वती नामक स्थान पर बन्दी बना लिया गया। बन्दी पृथ्वीराज को गोरी अपने साथ गजनी ले गया जहाँ शब्दभेदी बाण के प्रदर्शन के समय पृथ्वीराज ने गोरी को मार डाला। हसन निजामी ने इसके विपरीत पृथ्वीराज के मारे जाने की पुष्टि की है।

प्रश्न 15.
पृथ्वीराज के पराजय के कारणों की समीक्षा कीजिए।
उत्तर:
पृथ्वीराज चौहान की पराजय के कारण – विजेता होने के बावजूद पृथ्वीराज चौहान में दूरदर्शिता व कूटनीति का अभाव था। उसने अपने पड़ोसी राज्यों के साथ मैत्रीपूर्व सम्बन्ध स्थापित नहीं किये अपितु उनके साथ युद्ध करके शत्रुता मोल ले ली। इसी कारण मुहम्मद गौरी के विरुद्ध संघर्ष में उसे उनकी कोई सहयोग नहीं मिला। 1178 ई. में जब मुहम्मद गौरी ने गुजरात के शासक भीमदेव द्वितीय पर आक्रमण किया था, उस समय पृथ्वीराज ने गुजरात की कोई सहायता न कर एक भूल की।

तराइन के प्रथम युद्ध में पराजित होकर भागती तुर्क सेना पर आक्रमण न करना भी उसकी एक भयंकर भूल सिद्ध हुई। यदि उस समय शत्रु सेना पर प्रबल आक्रमण करता तो मुहम्मद गौरी भारत पर पुनः आक्रमण करने के बारे में कभी नहीं सोचता। संयोगिता के साथ विवाह करने के बाद उसने राजकार्यों की उपेक्षा कर अपना जीवन विलासिता में व्यतीत करना प्रारम्भ कर दिया था।

प्रश्न 16.
पृथ्वीराज चौहान का मूल्यांकन कीजिए।
उत्तर:
पृथ्वीराज एक वीर और साहसी शासक था। अपने शासन काल के प्रारम्भ से ही वह युद्ध करता रहा जो उसके अच्छे सैनिक और सेनाध्यक्ष होने को प्रमाणित करता है। अनेक युद्धों में सफलता प्राप्त कर उसने ‘दलपंगुल’ (विश्वविजेता) की उपाधि धारण की। तराइन के द्वितीय युद्ध में मुहम्मद गोरी द्वारा छल – कपट का सहारा लेने से पूर्व वह किसी भी लड़ाई में नहीं हारा था। एक विजेता के साथ – साथ वह विद्यानुरागी था। उसके दरबार में अनेक विद्वान रहते थे जिनमें विद्यापति गौड़, वागीश्वर, जनार्दन, जयानक, विश्वरूप, आशाधर आदि प्रमुख थे। चन्दबरदाई उसका राजकवि था जिसका ग्रन्थ ‘पृथ्वीराज रासो’ हिन्दी साहित्य का प्रथम महाकाव्य माना जाता है।

प्रश्न 17.
अलाउद्दीन खिलजी के रणथम्भौर पर आक्रमण के क्या कारण थे?
उत्तर:
अलाउद्दीन खिलजी के रणथम्भौर पर आक्रमण के निम्नलिखित चरण थे

  1. रणथम्भौर सामरिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण था अलाउद्दीन इस अभेद्य दुर्ग पर अधिकार करना चाहता था तथा राजपूतों पर ने अपनी धाक जमाना चाहता था।
  2. रणथम्भौर दिल्ली के काफी निकट था। चौहान की बढ़ती हुई शक्ति वह सहन नहीं कर सकता था।
  3. अलाउद्दीन खिलजी अपने चाचा जलालुउद्दीन खिलजी की पराजय का बदला लेना चाहता था।
  4. अलाउद्दीन खिलजी एक महत्वाकांक्षी और साम्राज्यवादी शासक था। रणथम्भौर पर आक्रमण इसी नीति का परिणाम था।

प्रश्न 18.
‘शरणागत की रक्षा’ रणथम्भौर के दुर्ग पर आक्रमण का कारण बना। इस कथन की समीक्षा कीजिए।
उत्तर:
नयनचन्द्र सूरी की रचना ‘हम्मीर महाकाव्य’ के अनुसार रणथम्भौर पर आक्रमण का कारण यहाँ के शासक हम्मीर द्वारा अलाउद्दीन खिलजी के विद्रोही सेनापति मीर मुहम्मद शाह को शरण देना था। मुस्लिम इतिहासकार इसामी ने भी अपने विवरण में इस कारण की पुष्टि की है। उसने लिखा है कि 1299 ई. में अलाउद्दीन खिलजी ने अपने दो सेनापतियों उलूग। खाँ व नुसरत खाँ को गुजरात पर आक्रमण करने के लिए भेजा था। गुजरात विजय के बाद जब यह सेना वापिस लौट रही थी तो जालौर के पास लूट के माल के बँटवारे के प्रश्न पर ‘नव-मुसलमानों’ (जलालुद्दीन फिरोज खिलजी के समय भारत में बस चुके वे मंगोल, जिन्होंने इस्लाम स्वीकार कर लिया था) ने विद्रोह कर दिया।

यद्यपि विद्रोहियों को बर्बरता के साथ दमन कर दिया गया किन्तु उनमें से मुहम्मदशाह व उसका भाई कैहब्रु भाग कर रणथम्भौर के शासक हम्मीर के पास पहुँचने में। सफल हो गए। हम्मीर ने न केवल उन्हें शरण दी अपितु मुहम्मदशाह को जगाना’ की जागीर भी दी। चन्द्रशेखर की रचना ‘हम्मीर हठ’ के अनुसार अलाउद्दीन खिलजी की एक मराठा बेगम से मीर मुहम्मदशाह को प्रेम हो गया था और उन दोनों ने मिलकर अलाउद्दीन खिलजी को समय रहते इस षड्यंत्र की जानकारी मिल जाने के कारण मीर मुहम्मदशाह को बंदी बनाने का प्रयास किया गया किन्तु वह भागकर हम्मीर की शरण में पहुँच गया। अलाउद्दीन खिलजी की तरफ से इन विद्रोहियों को सौंप देने की माँग की गई। इस माँग को जब हम्मीर द्वारा ठुकरा दिया गया तो अलाउद्दीन खिलजी की सेना ने रणथम्भौर पर आक्रमण कर दिया।

प्रश्न 19.
अलाउद्दीन खिलजी द्वारा रणथम्भौर पर किस प्रकार अधिकार किया गया?
उत्तर:
अधिकार – उलूग खाँ की असफलता के बाद अलाउद्दीन खिलजी स्वयं रणथम्भौर पहुँचा। अमीर खुसरो ने अपनी रचना ‘खजाईन-उल-फुतूह’ में इस अभियान का आँखों देखा वर्णन करते हुए लिखा है कि सुल्तान ने इस आक्रमण में पाशेब, मगरबी व अदा की सहायता ली। काफी प्रयासों के बाद भी जब अलाउद्दीन खिलजी दुर्ग को जीतने में असफल रही तो उसने छल और कूटनीति को आश्रय लेते हुए हम्मीर के पास संधि का प्रस्ताव भेजा। हम्मीर द्वारा संधि के लिए अपने सेनापति रतिपाल को भेजा गया।

अलाउद्दीन खिलजी ने रतिपाल व उसकी सहायता से हम्मीर के एक अन्य सेनापति रणमल को रणथम्भौर दुर्ग का प्रलोभन देकर अपनी ओर मिला लिया। चौहान रचनाओं में इस बात का उल्लेख किया गया है कि अलाउद्दीन ने हम्मीर के एक अधिकारी को अपनी तरफ मिलाकर दुर्ग में स्थित खाद्य सामग्री को दूषित करवा दिया। इससे दुर्ग में खाद्यान सामग्री का भयंकर संकट पैदा हो गया। अमीर खुसरो ने इस सम्बन्ध में लिखा है कि “सोने के दो दानों के बदले में चावल का एक दाना भी नसीब नहीं हो पा रहा था।”

खाद्यान्न के अभाव में हम्मीर को दुर्ग के बाहर निकलना पड़ा किन्तु रणमल और रतिपाल के विश्वासघात के कारण उसे पराजय का मुँह देखना पड़ा। युद्ध के दौरान हम्मीर लड़ता हुआ मारा गया और उसकी रानी रंगदेवी के नेतृत्व में राजपूत वीरांगनाओं द्वारा जौहर किया गया। यह रणथम्भौर का प्रथम साका कहा जाता है। जोधराज की रचना ‘हम्मीर रासो’ के अनुसार इस जौहर में मुहम्मदशाह की स्त्रियाँ भी रंगदेवी के साथ चिता में भस्म हो गई। कुछ स्थानों पर उल्लेख है कि रंगदेवी ने किले में स्थित ‘पदमला तालाब में जल जौहर किया था। इस प्रकार 11 जुलाई, 1301 ई. को अलाउद्दीन खिलजी ने रणथम्भौर पर अधिकार कर लिया।

प्रश्न 20.
हम्मीरदेव का मूल्यांकन कीजिए।
उत्तर:
हम्मीर ने अपने जीवन में कुल 17 युद्ध लड़े जिनमें सोलह में वह विजयी रहा। बार-बार के प्रयासों के बाद भी जलालुद्दीन खिलजी का रणथम्भौर पर अधिकार न कर पाना हम्मीर की शूर वीरता व सैनिक योग्यता का स्पष्ट प्रमाण है। वह वीर योद्धा ही नहीं अपितु एक उदार शासक भी था। विद्वानों के प्रति हम्मीर की बड़ी श्रद्धा थी। विजया दित्य उसका सम्मानित दरबारी कवि तथा राघवदेव उसका गुरु था। कोटियज्ञ के सम्पादन के द्वारा उसने अपनी धर्मनिष्ठा का परिचय दिया। हम्मीर अपने वचन व शरणागत की रक्षा के लिए इतिहास में प्रसिद्ध है। उसने अपनी शरण में आए हुए अलाउद्दीन खिलजी के विद्रोहियों को न लौटाने का हठ कर लिया।

प्रश्न 21.
“पद्मिनी को प्राप्त करने की लालसा ही अलाउद्दीन खिलजी के मेवाड़ पर आक्रमण का कारण था” स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
कुछ इतिहासकारों के अनुसार, अलाउद्दीन खिलजी मेवाड़ के शासक रत्नसिंह की सुन्दर पत्नी को प्राप्त करना चाहता था। उसने रत्नसिंह को सन्देश भिजवाया कि वह सर्वनाश से बचना चाहता है तो अपनी पत्नी पद्मिनी को शाही हरम में भेज दे। रत्न सिंह द्वारा इस प्रस्ताव को अस्वीकार किए जाने पर अलाउद्दीन खिलजी ने चित्तौड़ पर आक्रमण कर दिया। शेरशाह सूरी के समय 1540 ई. में लगभग लिखी गई मलिक मुहम्मद जायसी की रचना ‘पद्मावत’ के अनुसार इस आक्रमण का कारण पद्मिनी को प्राप्त करना था।

प्रश्न 22.
महाराणा कुम्भा के समय मेवाड़ और गुजरात के सम्बन्धों का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:
कुम्भा के समय गुजरात की व्यवस्था समाप्त हो चुकी थी और वहाँ के शासक अपने प्रभाव क्षेत्र के विस्तार के लिए लालायित थे। मालवा-मेवाड़ के बीच चलने वाले संघर्ष तथा सिरोही व गुजरात की राजनीतिक स्थिति ने मेवाड़ – गुजरात के संघर्ष को आवश्यक बना दिया। 1456 में फिरोज खाँ की मृत्यु के बाद उसका पुत्र शम्स खाँ नागौर का नया स्वामी बना किन्तु फिरोज के छोटे भाई मुजाहिद खाँ ने शम्स खाँ को पराजित कर नागौर पर अपना अधिकार कर लिया। शम्स खाँ ने महाराणा कुम्भा की सहायता से नागौर पर पुनः अधिकार कर लिया किन्तु शीघ्र ही उसने कुम्भा की शर्त के विपरीत नागौर किले की मरम्मत करवानी प्रारम्भ कर दी। नाराज कुम्भा ने नागौर पर आक्रमण कर अपना अधिकार कर लिया।

प्रश्न 23.
चित्तौड़ ‘विजय स्तम्भ’ के बारे में आप क्या जानते हैं?
उत्तर:
चित्तौड़ दुर्ग के भीतर स्थित नौ मंजिले और 122 फीट ऊँचे विजय स्तम्भ का निर्माण महाराणा कुम्भा ने मालवा के सुल्तान महमूद खिलजी पर विजय की स्मृति में करवाया। इसका निर्माण प्रधान शिल्पी जैता व उसके तीन पुत्रों – नापा, पोमा और पूँजा की देखरेख में हुआ। अनेक हिन्दु-देवी – देवताओं की कलात्मक प्रतिमाएँ उत्कीर्ण होने के कारण विजय स्तम्भ को “पौराणिक हिन्दू मूर्तिकला का अनमोल खजाना (भारतीय मूर्ति कला का विश्व कोष) कहा जाता है। डॉ. गोपीनाथ शर्मा ने इसे ‘हिन्दू देवी – देवताओं से सजाया हुआ एक व्यवस्थित संग्रहालय’ तथा डॉ. ओझा ने ‘पौराणिक देवताओं के अमूल्य कोष’ की संज्ञा दी है।

प्रश्न 24.
“बाबर द्वारा सांगा पर आक्रमण करना दो महत्वाकांक्षाओं का टकराव था।” स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
बाबर भी इब्राहिम लोदी पर विजय के बाद, सांगा ने सोचा था कि वह अपने पूर्वज तैमूर तथा अन्य आक्रमण कारियों की भाँति माल लूटकर वापस चला जायेगा किन्तु यह उसका भ्रम था। बाबर सम्पूर्ण भारत पर अपना आधिपत्य स्थापित करना चाहता था। ‘हिन्दूपत’ (हिन्दू प्रमुख) सांगा को पराजित किए बिना ऐसा सम्भव नहीं था। दोनों का उत्तरी भारत में एक साथ बने रहना ठीक वैसा ही ही था जैसे- एक म्यान में दो तलवार। इस प्रकार दोनों की (बाबर और महाराणा सांगा) महत्वकांक्षाओं का टकराव ही आक्रमण का प्रमुख कारण थे।

प्रश्न 25.
खानवा युद्ध के परिणामों का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:
खानवा युद्ध के निम्नलिखित परिणाम हुए

  1. भगत में राजपूतों की सर्वोच्चता का अन्त हो गया। राजपूतों का वह प्रताप – सूर्य जो भारत में गगन के उच्च स्थान पर पहुँच कर लोगों में चकाचौंध उत्पन्न कर रहा था, अब अस्ताचल की और खिसकने लगा था।
  2. मेवाड़ की प्रतिष्ठा और शक्ति के कारण निर्मित राजपूत संगठन इस पराजय के साथ ही समाप्त हो गया।
  3. भारतवर्ष में मुगल साम्प्रज्य स्थापित हो गया और बाबर स्थिर रूप से भारत का बादशाह बन गया।

प्रश्न 26.
शासक बनने के बाद राव चन्द्रसेन ने आन्तरिक विद्रोहों का दमन किस प्रकार किया?
उत्तर:
शासक बनने के कुछ समय बाद चन्द्रसेन में आवेश में आकर अपने एक चाकर की हत्या कर दी। इनसे जैतमाल ओर उससे मेल रखने वाले कुछ अन्य सरदार अप्रसन्न हो गए। नाराज सरदारों ने चन्द्रसेन को दण्डित करने के लिए उसके विरोधी भाइयों राम, उदय सिंह और रायमल के साथ गठबन्धन कर उन्हें आक्रमण के लिए आमंत्रित किया। राम ने सोजत और रायमल ने दूनाड़ा प्रान्त में उपद्रव शुरू कर दिया तथा उदय सिंह ने गांगाणी और बावड़ी पर अधिकार कर लिया।

सूचना मिलते ही चन्द्रपेन ने इन उपद्रवों को शान्त करने के लिए अपनी सेना भेजी जिससे राम और रायमल तो अपनी-अपनी जागीरों में लौट गए किन्तु उदय सिंह ने लोहावट नामक स्थान पर संघर्ष किया। इस युद्ध में उदयसिंह ने लोहावट नामक स्थान पर संघर्ष किया। इस युद्ध में उदयसिंह घायल हुआ और चन्द्रसेन विजयी रहा।

प्रश्न 27.
राव चन्द्रसेन को ‘प्रताप का अग्रगामी’ क्यों कहा जाता है? समझाइए।
उत्तर:
राव चन्द्रसेन अकबर कालीन राजस्थान का प्रथम स्वतन्त्र प्रकृति का शासक था। उसके भाई शाही सत्ता का सुख भोगते रहे, वहीं उसे अपने रत्न-आभूषण बेचकर गुजारा चलाना पड़ा। चन्द्रसेन ने जोधपुर राज्य को छोड़कर रात – दिन पहाड़ में घुमना और मुगल सेना से लड़ता रहना अंगीकार कर लिया किन्तु अधीनता स्वीकार नहीं। संघर्ष की जो शुरुआत ‘चन्द्रसेन ने की थी उसी राह पर आगे चलकर महाराणा प्रताप ने बड़ा नाम कमाया। इस कारण चंद्रसेन को ‘प्रताप का अग्रगामी’ तथा ‘मारवाड़ का प्रताप’ भी कहा जाता है।

प्रश्न 28.
महाराणा प्रताप का चरित्र – चित्रण कीजिए।
उत्तर:
महाराणा की चारित्रिक विशेषताएँ निम्नलिखित थी

  1. निहत्थे पर वार नहीं करना – उन्होंने कभी भी निहत्थे पर वार नहीं करने का प्रण ले रखा था। वे सदैव दो तलवार रखते थे। एक तलवार दुश्मन को देने के लिए भी रखते थे।
  2. मेवाड़ का राजचिह्न सामाजिक समरसता का प्रतीक है। एक तरफ क्षत्रिय व एक तरफ भील योद्धा, सर्व समाज समभाव का सूचक है। महाराणा प्रताप सभी के लिए प्रिय थे, सब लोग उनके लिए प्राण देने के लिए तैयार रहते थे।
  3. धर्मरक्षक व राजचिह्न की सदैव रक्षा की उनकी मान्यता थी कि “जो दृढ़ राखे धर्म को तिहि राखे करतार।”

प्रश्न 29.
दुर्गादास राठौड़ का मूल्यांकन कीजिए।
उत्तर:
शाहजहाँ के पुत्रों के बीच उत्तराधिकार युद्ध के दौरान दुर्गादास ने महाराजा जसवन्त सिंह के साथ धरमत के युद्ध में भाग लिया था। वे एक वीर योद्धा थे। कहा जाता है कि “दुर्गादास राठौड़ ने एक के बाद एक चार घोड़ों की सवारी की और जब चारों एक-एक कर मारे गए तो अन्त में वह पाँचवें घोड़े पर सवार हुआ, लेकिन पाँचवाँ घोड़ा भी मारा गया। तब तक न केवल उसके सारे हथियार टूट चुके थे बल्कि उसका शरीर भी बुरी तरह घायल हो चुका था। अन्ततः वह रण भूमि में गिर पड़ा। ऐसा लगता था कि जैसे एक और भीष्म शर शैय्या पर लेटा हुआ हो। उसकी वीरता और गुणों के आधार पर उसे कर्नल टॉड ने ‘राठौड़ों का यूलीसैस’ कहा है।

प्रश्न 30.
शिवाजी हिन्दू स्वराज्य के समर्थक थे। स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
शिवाजी का उद्देश्य सम्पूर्ण भारत में हिन्दुओं को धार्मिक स्वतन्त्रता दिलाना था। विचारशील व क्रियाशील मराठों ने उनके विचारों को इसी सन्दर्भ में समझा। शिवाजी द्वारा चौथ व सर देशमुखी करों की वसूली सम्पूर्ण भारत में राज्य – विस्तार का ही साधन थे। शिवाजी के आगरा जाने का उद्देश्य अपनी आँखों से उत्तर भारत की दशा देखकर यह जानना था कि क्या उत्तर भारत मुगल साम्राज्य के पंजे से मुक्त होने के लिए तैयार है। मुगलों से युद्ध करते समय शिवाजी ने राजपूत राजाओं से संघर्ष के स्थान पर मेल – जोल की नीति अपनाई। इस प्रकार शिवाजी हिन्दू स्वराज्य के समर्थक थे।

प्रश्न 31.
मीरबक्शी हुसैन अली और शाहू के मध्य हुई सन्धि की प्रमुख बातें क्या थीं?
उत्तर:
सन्धि की शर्ते-

  1. मुगलों द्वारा शाहू को वे सब प्रदेश लौटा दिए जाएँगे जो शिवाजी के ‘स्वराज’ नाम से प्रसिद्ध थे।
  2. खानदेश, बरार, गोंडवाना, हैदराबाद और कर्नाटक में मराठों द्वारा हाल ही में जीते गए प्रदेशों पर उनका अधिकार स्वीकार कर लिया जाएगा।
  3. मराठों को दक्खन के छ: प्रान्तों में चौथ और सरदेशमुखी नामक कर वसूल करने की अनुमति दे दी जाएगी। चौथ के बदले पन्द्रह हजार मराठा सैनिक मुगल सम्राट की सेवा में रहेंगे।
  4. दिल्ली में नजरबन्द शाहू की माता यसूबाई व पत्नी सहित मराठा राज परिवार के सदस्यों को मुक्त कर वापिस भेज दिया जाएगा।

प्रश्न 32.
मुंगी शिव गाँव की क्या शर्ते थीं?
उत्तर:
मार्च, 1728 ई. को औरंगाबाद के पास पालखेड़ नामक स्थान पर पेशवा ने निजाम की सेनाओं को पराजित कर उसे मुंगी शिवगाँव की सन्धि पर हस्ताक्षर करने के लिए बाध्य किया।  इस सन्धि के अनुसार-

  1. निजाम ने शम्भा जी की सुरक्षा की जिम्मेदारी छोड़कर उसे पन्हाला भेजना स्वीकार कर लिया।
  2. छीने गए मरीठा प्रदेश तथा मराठा कैदियों को छोड़ देने का निर्णय लिया गया।
  3. 1719 ई. की सन्धि के अनुसार शाहू के चौथ तथा सरदेशमुखी कर भी वसूली के अधिकार को मान लिया।

RBSE Class 12 History Chapter 4 निबन्धात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
भारत पर अरब आक्रमण के क्या कारण थे? अरबों के भारत पर हुए आक्रमण का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
अरब आक्रमण:
हजरत मुहम्मद की 632 ई. में मृत्यु के बाद भारत पर अरबी आक्रमणों का सिलसिला प्रारम्भ हुआ। खलीफा उमर के शासन काल में 636 ई. में भारतीय प्रदेशों को लूटने के लिए मुम्बई के थाना नामक स्थान पर अरबों ने आक्रमण किया, किन्तु उन्हें सफलता नहीं मिली। कालान्तर में उम्मैया वंश के शासन काल के दौरान अब्दुल्ला के नेतृत्व में अरबी सेना ने सिन्ध के उस पार किरमार, सीस्तान व मकराने पर अधिकार कर लिया। खलीफा ने अब्दुल्ला को इससे आगे बढ़ने की अनुमति नहीं दी और अरबी आक्रमण यहीं तक सीमित रह गया।

भारत पर अरब आक्रमणों के कारण – भारत पर आक्रमण के निम्नलिखित कारण थे

  1. इस्लाम ने अरबवासियों को संगठित कर उनमें मजहबी प्रचार की तीव्र अभिलाषा उत्पन्न कर दी थी। अन्य देशों की तरह भारत में भी इस्लाम के प्रसार के उद्देश्य ने उन्हें आक्रमण करने के लिए प्रेरित किया।
  2. खलीफा इस्लामी जगत का मजहबी प्रमुख ही नहीं अपितु राजनैतिक अधिकारी भी होता था। ऐसे में साम्राज्य विस्तार की भावना होना भी स्वाभाविक था।
  3. अरबवासी भारत की आर्थिक समृद्धि से परिचित थे। वे यहाँ आक्रमण कर धन प्राप्त करना चाहते थे।

अरब और दाहिरसेन

1. तात्कालिक कारण:
711 ई. में सिन्ध के समुद्री डाकुओं द्वारा स्थानीय बन्दरगाह देवल पर अरबी जहाज को लूट लिया गया। इस समय सिन्ध में दाहिर नामक ब्राह्मण राजा का शासन था। दाहिर के राज्य की सीमाएँ उत्तर में कश्मीर और पूर्व में प्रतिहारों के कन्नौज तक फैली हुई थी। पश्चिम में उसकी सीमाओं में मकरान या बलूचिस्तान का प्रदेश सम्मिलित था। दाहिर द्वारा अरबी जहाज लूटने की घटना का उपयुक्त स्पष्टीकरण नहीं दिए जाने को तात्कालिक कारण बनाकर ईराक के गवर्नर हज्जाज ने खलीफा वलीद से अनुमति प्राप्त कर सिन्ध पर आक्रमण के लिए सेना भेज दी। प्रारम्भिक दो अभियानों में हज्जाज के सेनापतियों उबैदुल्ला तथा बुदैल को असफलता का सामना करना पड़ा और दोनों मौत के घाट उतार दिए गये। इसके बाद हज्जाज ने अपने चचेरे भाई व दामाद सत्रह वर्षीय नवयुवक मुहम्मद बिन कासिम को भेजा।

2. देवल पर विजय:
देवल पहुँचते ही उसने नगर का घेरा डालने की तैयारी की परन्तु बीच में पत्थर की दीवार से घिरा हुआ। 120 फुट ऊँचा एक विशाल मन्दिर आ गया। मन्दिर का एक देशद्रोही पुरोहित अरबों से जा मिला और उसने सूचना दी  कि जब तक ताबीज बँधा वह लाल झण्डा मन्दिर पर लहराता रहेगा, तब तक नगर को जीता नहीं जा सकता। शीघ्र ही मुहम्मद कासिम ने ‘मंजनीक’ द्वारा इस ध्वज को गिरा डाला। ध्वज गिरने से नगर की रक्षा करने वाले सैनिक हतोत्साहित तथा अरब सेना उत्साहित हुई। कासिम ने नगर पर अधिकार करने के बाद सत्रह वर्ष से अधिक अवस्था वाले तमाम लोगों को मार डाला तथा छोटे बालक व स्त्रियों को कैद कर लिया। मन्दिर की लूट में काफी सामान हाथ लगा जिसका पाँचवाँ हिस्सा हज्जाज के पास भेज दिया गया और शेष सेना में बाँट दिया।

इसके बाद उसने आगे बढ़कर निरुन, सेहवान और सीसम पर भी अपना अधिकार कर लिया। अन्त में 20 जून, 712 ई. को रावर के युद्ध में भारतीय और अरबी सेनाओं के बीच भयंकर संघर्ष हुआ। दाहिर शत्रुओं का काटता हुआ अपने साथियों सहित अरब सेना के मध्य भाग तक पहुँच गया। हाथी पर सवार दाहिर अपनी सेना के साथ डटकर युद्ध कर रहा था कि अनायास ही एक तीर उसके शरीर में आ घुसा और वह वीरगति को प्राप्त हुआ। इसके बाद दाहिर की पत्नी रानीबाई ने किले की रक्षा का प्रयत्न किया किन्तु इसमें असफल रहने पर उसने जौहर करे अपने सम्मान की रक्षा की।

रावर की विजय के बाद कासिम ने ब्राह्मणवाद पर अधिकार कर लिया। यहाँ कासिम के हाथ दाहिर की दूसरी रानी लाडी और दो पुत्रियाँ सूर्यदेवी व परमल देवी लगी। ब्राह्मणवाद के बाद कासिम ने सिन्ध की राजधानी आरोर (आलोर) और मुल्तान पर भी अधिकार कर लिया। ‘मुल्तान विजय भारत में अरबों की अन्तिम विजय थी। यहाँ उनको इतना धन हाथ लगा कि उन्होंने मुल्तान का नाम बदलकर ‘स्वर्ण नगर’ रख दिया।

3. मुहम्मद बिन कासिम का अन्त:
इतिहासकार गौरीशंकर हीराचन्द ओझा के अनुसार दाहिर की राजकुमारियों का रूप-लावण्य देखकर खलीफा ने उनके सामने प्रेम की याचना भी। वे दोनों अपने पिता की मृत्यु का बदला लेना चाहती थी। इस कारण मौका देखकर उन्होंने खलीफा से शिकायत भी कि हम आपकी शैय्या पर पैर रखने योग्य नहीं हैं, यहाँ भेजने के पहले ही कासिम ने हमारा कौमार्य भंग कर दिया।

इतना सुनते ही खलीफा आग बबूला हो गया और उसने तत्काल आज्ञापत्र लिखवाया कि इसे देखते ही मुहम्मद बिन कासिम को बैल के चमड़े में जीवित सिलाई कर हमारे पास भेज दो। हुक्म की उसी समय तामील हुई। मार्ग में तीसरे दिन कासिम मर गया और उसी अवस्था में खलीफा के पास पहुँचाया गया। खलीफा ने उन दोनों राजकुमारियों को बुलवाया और उन्हीं के सामने बैल का चमड़ा खुलवाकर कासिम का शव उन्हें दिखलाया और कहा कि खुदा के खलीफा का अपमान करने वालों को मैं इस प्रकार दण्ड देता हूँ।

कासिम का मृत शरीर देखते ही राजकुमारी के मुख पर अपना मनोरथ सफल होने की प्रसन्नता छा गई, परन्तु साथ ही मन्द मुस्कराहट और कटाक्ष के साथ उसने खलीफा को कहा ‘ऐ खलीफा! कासिम ने हमारा सतीत्व नष्ट नहीं किया। उसने कभी आँख उठाकर भी हमें कुदृष्टि से नहीं देखा परन्तु उसने हमारे माता, पिता, भाई और देशबन्धुओं को मारा था, इसलिए उससे अपना बदला लेने के लिए हमने यह मिथ्या दोष उस पर लगाया था। वीर बालिकाओं के ये वचन सुनते ही खीफा सन्न हो गया और उन दोनों को जिन्दा जलवा दिया।

भारत पर अरब आक्रमण का प्रभाव

अरबों की सिन्ध विजय का राजनीतिक परिणाम सिर्फ यह निकला कि सिन्ध का सम्बन्ध कुछ समय के लिए भारत से टूट गया और वह इस्लामी साम्राज्य का हिस्सा बन गया किन्तु सांस्कृतिक दृष्टि से भारत ने अरबों पर विजय प्राप्त की। भारतीय दर्शन, विज्ञान, गणित, चिकित्सा और ज्योतिष ने अरबों को बहुत प्रभावित किया। उन्होंने कई भारतीय संस्कृत ग्रन्थों का अरबी भाषा में अनुवाद करवाया जिनमें ब्रह्मगुप्त का ‘ब्रह्म सिद्धान्त’ तथा ‘खण्ड खांड्यक’ अधिक प्रसिद्ध है।

अरब के लोगों ने अंक, दशमलव पद्धति, चिकित्सा व खगोल शास्त्र के कई मौलिक सिद्धान्त भारतीयों से सीखें और कला तथा साहित्य के क्षेत्र में भी भारतीय पद्धतियों को अपनाया। भारतीय दर्शन, साहित्य व कला की अनेक बातें अरबों के माध्यम से यूरोप के लोगों ने सीखी। इस प्रकार अरबों द्वारा भारतीय ज्ञान पश्चिमी देशों में पहुँचने में सफल रहा।

भारत पर अरबों की सफलता के कारण

सिन्ध पर अरबों की सफलता के कई कारण थे। दाहिर के शासन में सामान्य वर्ग असन्तुष्ट था। राज्य के अधिकांश भागों में असन्तोष और अव्यवस्था व्याप्त थी। इस कारण अरब आक्रमण के समय उसे जनसहयोग नहीं मिल पाया। दाहिर स्वयं जनता में अप्रिय था क्योंकि उसका पिता राज्य का वास्तविक अधिकारी नहीं था। समकालीन भारतीय शासकों में आपसी तालमेल, सौहार्द्र तथा सहयोग की भावना नहीं थी और व्यक्तिगत स्वार्थ पनप रहे थे।

सैनिक शक्ति बढ़ाने और विदेशी आक्रमण की सम्भावना को ध्यान में रखकर किसी भी राज्य ने अपनी सैन्य शक्ति को बढ़ाने की कोशिश नहीं की थी। सैनिक गतिविधियों का उत्तरदायित्व मात्र राजपूतों के कन्धों तक सिमट गया था जो पारस्परिक द्वेष और ईर्ष्या के कारण आपस में लड़ने में लगे थे। मुहम्मद बिन कासिम की योग्यता, साहस तथा नेतृत्व शक्ति के साथ अरबों में मजहबी प्रचार के जोश, धन प्राप्ति की प्रबल इच्छा और खलीफा से मिलने वाले सैनिक सहयोग ने भी उनकी सफलता में अपना योगदान दिया।

प्रश्न 2.
पृथ्वीराज चौहान और मुहम्मद गौरी के बीच हुए संघर्ष का उल्लेख कीजिए। पृथ्वीराज चौहान की पराजय के क्या कारण थे?

अथवा

पृथ्वीराज और मुहम्मद गौरी के मध्य संघर्ष का उल्लेख करते हुए उसकी पराजय के कारणों का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
मुहम्मद गौरी के आक्रमण के समय भारत में दिल्ली व अजमेर पर पृथ्वीराज चौहान (तृतीय) का शासन था। जो इतिहास में ‘रायपिथौरा’ के नाम से प्रसिद्ध है। पृथ्वीराज का जन्म 1166 ई. में हुआ था। वह अपने पिता सोमेश्वर की मृत्यु के बाद ग्यारह वर्ष की आयु में चौहान साम्राज्य का उत्तराधिकारी बना। एक वर्ष तक माता के संरक्षण में रहने के बाद 1178 . ई. में पृथ्वीराज ने शासन की बागडोर अपने हाथों में ले ली।

1. पृथ्वीराज चौहान और मुहम्मद गौरी के बीच संघर्ष:
गजनी का गवर्नर नियुक्त होने के बाद मुहम्मद गौरी ने 1175 ई. में मुल्तान पर आक्रमण का अधिकार कर लिया। इसके बाद उसने गुजरात, सियालकोट और लाहौर के युद्धों में विजय हासिल कर अपनी शक्ति का परिचय दिया। राजस्थानी स्रोतों के अनुसार इस दौरान उसकी पृथ्वीराज चौहान के साथ अनेक बार लड़ाईयाँ हुई और हर बार उसे पराजय का सामना ही करना पड़ा। पृथ्वीराज रासो में इक्कीस तथा हम्मीर महाकाव्य में सात बार गौरी पर पृथ्वीराज की विजयों की दावा किया गया है। दोनों के मध्य दो निर्णायक युद्ध हुए।

2. तराइन का प्रथम युद्ध (1191 ई.):
1191 ई. में लाहौर से रवाना होकर मुहम्मद गौरी तबर हिन्द नामक स्थान पर अधिकार करते हुए तराइन (हरियाणा) तक पहुँच गया। यहाँ दोनों पक्षों के बीच भयंकर युद्ध हुआ जिसमें पृथ्वीराज चौहान के दिल्ली सामन्त गोविन्दराज ने अपनी बरछी के वार से मुहम्मद गौरी को घायल कर दिया। घायल गौरी अपनी सेना सहित गजनी भाग गया। पृथ्वीराज ने तबर हिन्द पर अधिकार कर काजी जियाउद्दीन को बन्दी बना बना लिया जिसे बाद में एक बड़ी धनराशि के बदले रिहा कर दिया गया।

3. तराइन का द्वितीय युद्ध (1192 ई.):
एक वर्ष बाद मुहम्मद गौरी अपनी सेना के साथ तराइन के मैदान में पुन: आ धमका। पृथ्वीराज उसका मुकाबला करने पहुँच गया किन्तु गौरी ने इस बार अपने शत्रु को सन्धि-वार्ता के झाँसे में फंसा लिया। कई दिन तक सन्धि – वार्ता चलने के कारण चौहान सेना निश्चित होकर आमोद – प्रमोद में डूब गई। इसका फायदा उठाकर गौरी ने एक रात्रि अचानक आक्रमण कर दिया। राजपूत सेना इस अप्रत्याशित आक्रमण को झेल नहीं पाई और पराजित हुई।

पराजित पृथ्वीराज चौहान को सिरसा के पास सरस्वती नामक स्थान पर बन्दी बना लिया गया। पृथ्वीराज रासो के अनुसार, “बन्दी पृथ्वीराज को गौरी अपने साथ गजनी ले गया। जहाँ शब्द भेदी बाण के प्रदर्शन के समय पृथ्वीराज ने गौरी को मार डाला।” जबकि समकालीन इतिहासकार हसन निजामी के अनुसार, तराइन के द्वितीय युद्ध के बाद पृथ्वीराज चौहान ने मुहम्मद गौरी के अधीनस्थ शासक के रूप में अजमेर पर शासन किया था। निजामी के कथन के पक्ष में एक सिक्के का भी सन्दर्भ दिया जाता है जिसके एक तरफ मुहम्मद बिन साम और दूसरी तरफ पृथ्वीराज नाम अंकित है।

पृथ्वीराज चौहान की पराजय के कारण

विजेता होने के बावजूद पृथ्वीराज चौहान में दूरदर्शिता व कूटनीति का अभाव था। उसने अपने पड़ोसी राज्यों के साथ मैत्रीपूर्ण सम्बन्ध स्थापित नहीं किए अपितु उनके साथ युद्ध करके शत्रुता मोल ले ली। इसी कारण मुहम्मद गौरी के संघर्ष में उसे उनका कोई सहयोग नहीं मिला। 1178 ई. में जब मुहम्मद गौरी ने गुजरात के शासक भीमदेव द्वितीय पर आक्रमण किया था, उस समय पृथ्वीराज ने गुजरात की कोई सहायता न कर एक भूल की।

तराइन के प्रथम युद्ध में पराजित होकर भागती तुर्क सेना पर आक्रमण न करना भी उसकी एक भयंकर भूल सिद्ध हुई। यदि उस समय शत्रु सेना पर प्रबल आक्रमण करतो तो मुहम्मद गौरी भारत पर पुनः आक्रमण करने के बारे में कभी नहीं सोचता। संयोगिता के साथ विवाह करने के बाद उसने राजकार्यों की उपेक्षा कर अपना जीवन विलासिता में व्यतीत करना प्रारम्भ कर दिया।

पृथ्वीराज चौहान का मूल्यांकन

पृथ्वीराज एक वीर और साहसी शासक था। अपने शासनकाल के प्रारम्भ से ही वह युद्ध करता रहा जो उसके अच्छे सैनिक और सेनाध्यक्ष होने को प्रमाणित करता है। अनेक युद्धों में सफलता प्राप्त कर उसने ‘दलपंगुल’ (विश्वविजेता) की उपाधि धारण की। तराइन के द्वितीय युद्ध में मुहम्मद गौरी द्वारा छल-कपट का सहारा लेने से पूर्व वह किसी भी लड़ाई में नहीं हारा था। एक विजेता के साथ-साथ वह विद्यानुरागी था। उसके दरबार में अनेक विद्वान रहते थे जिनमें – विद्यापति गौड़, वागीश्वर, जनार्दन, जयानक, विश्वरूप, आशीधर आदि प्रमुख थे। चन्दबरदाई उसका राजकवि था जिसका ग्रन्थ ‘पृथ्वीराज रासो’ हिन्दी साहित्य का प्रथम महाकाव्य माना जाता है।

प्रश्न 3.
अलाउद्दीन खिलजी की रणथम्भौर और विजय का वर्णन कीजिए।

अथवा

अलाउद्दीन खिलजी के रणथम्भौर के शासक हम्मीर चौहान के साथ सम्बन्धों का उल्लेख कीजिए।
उत्तर:
भूमिका:
हम्मीर अपने पिता जैमा सिंह का तीसरा पुत्र था। सभी पुत्रों में योग्य होने के कारण उसका राज्यारोहण उत्सव जैम सिंह ने अपने जीवनकाल में ही 1282 ई. में सम्पन्न करवा दिया था। शासनभार सम्भालने के बाद 1288 ई. तक हम्मीर ने दिग्विजय नीति का अवलम्बन कर अपने राज्य की सीमाओं का विस्तार किया। विजित राज्यों को उसने धन लेकर छोड़ दिया। दिग्विजय के बाद हम्मीर ने कोटि यज्ञों का आयोजन किया जिससे उसकी प्रतिष्ठा में वृद्धि हुई। मेवाड़ के शासक समर सिंह को पराजित कर हम्मीर ने अपनी धाक सम्पूर्ण राजस्थान में जमा ली।

हम्मीर और अलाउद्दीन खिलजी

1296 ई. में अलाउद्दीन खिलजी अपने चाचा जलालुउद्दीन खिलजी की हत्याकर दिल्ली का सुल्तान बन गया। कुछ वर्षों बाद ही अलाउद्दीन खिलजी ने रणथम्भौर पर आक्रमण करने प्रारम्भ कर दिए।

आक्रमण के कारण: अलाउद्दीन खिलजी के रणथम्भौर पर आक्रमण करने के निम्नलिखित कारण थे-

  1. रणथम्भौर और सामरिक दृष्टि से बहुत महत्त्वपूर्ण था। अलाउद्दीन खिलजी इस अभेद्य दुर्ग पर अधिकार कर राजपूत नरेशों पर अपनी धाक जमाना चाहता था।
  2. रणथम्भौर दिल्ली के काफी निकट था। इस कारण यहाँ के चौहानों की बढ़ती हुई शक्ति को अलाउद्दीन खिलजी किसी भी स्थिति में सहन नहीं कर सकता था।
  3. अलाउद्दीन खिलजी से पहले उसके चाचा जलालुद्दीन खिलजी ने इस दुर्ग पर अधिकार करने के लिए दो बार प्रयास किए थे किन्तु वह असफल रहा। अलाउद्दीन खिलजी अपने चाचा की पराजय का बदला लेना चाहता था।
  4. अलाउद्दीन खिलजी एक महत्त्वाकांक्षी और साम्राज्यवादी शासक था। रणथम्भौर पर आक्रमण इस नीति का परिणाम था।

हम्मीर द्वारा अलाउद्दीन खिलजी के विद्रोहियों को शरण देना

नयनचन्द्र सूरी का रचना ‘हम्मीर महाकाव्य’ के अनुसार रणथम्भौर पर आक्रमण का कारण यहाँ के शासक हम्मीर द्वारा अलाउद्दीन खिलजी के विद्रोही सेनापति मीर मुहम्मद शाह को शरण देना था। मुस्लिम इतिहासकार इसामी ने भी अपने विवरण में इस कारण की पुष्टि की है। उसने लिखा है कि 1299 ई. में अलाउद्दीन खिलजी ने अपने दो सेनापतियों उलूग खाँ व नुसरत खाँ को गुजरात पर आक्रमण करने के लिए भेजा था।

गुजरात विजय के बाद जब सेना वापस लौट रही थी तो जालौर के पास लूट के माल के बँटवारे के प्रश्न पर ‘नवमुसलमानों’ (जलालुद्दीन खिलजी के समय भारत में बस चुके थे वे मंगोल, जिन्होंने इस्लाम स्वीकार का लिया था) ने विद्रोह कर दिया। यद्यपि विद्रोहियों का बर्बरता के साथ दमन कर दिया गया। किन्तु उनमें से मुहम्मद शाह व उसका भाई केहब्रू भागकर रणथम्भौर के शासक हम्मीरदेन के पास पहुँचने में सफल हो गए। हम्मीर ने न केवल उन्हें शरण दी अपितु मुहम्मद शाह को ‘जगाना’ की जागीर भी दी।

चन्द्रशेखर की रचना ‘हम्मीर हठ’ के अनुसार अलाउद्दीन खिलजी की एक मराठा बेगम से मीर मुहम्मद शाह को प्रेम हो गया था और उन दोनों ने मिलकर अलाउद्दीन खिलजी को समय रहते इस षड़यन्त्र की जानकारी मिल जाने के कारण मीर मुहम्मद शाह को बन्दी बनाने का प्रयास किया गया किन्तु वह भागकर हम्मीर की शरण में पहुँच गया। अलाउद्दीन खिलजी की तरफ से इन विद्रोहियों को सौंप देने की माँग की गई। इस माँग को जब हम्मीर द्वारा ठुकरा दिया गया तो अलाउद्दीन खिलजी की सेना ने रणथम्भौर पर आक्रमण कर दिया।

हम्मीर की प्रारम्भिक सफलताएँ

1999 ई. के अन्त में अलाउद्दीन खिलजी ने उलूग खाँ, अलपखाँ और नुसरत खाँ के नेतृत्व में एक सेना रणथम्भौर पर अधिकार करने के लिए भेजी। इस सेना ने ‘रणथम्भौरे की कुंजी’ झाँई पर अधिकार कर लिया। इसामी के अनुसार विजय के बाद उलूग खाँ ने झाँई का नाम बदलकर ‘नौ शहर’ कर दिया। हम्मीर महाकाव्य में लिखा है कि हम्मीर इस समय कोटियज्ञ समाप्त कर ‘मुनिव्रत’ में व्यस्त था। इस कारण स्वयं न जाकर अपने दो सेनापतियों-भीम सिंह व धर्म सिंह को सामना करने के लिए भेजा।

इन दोनों सेनापतियों ने खिलजी की सेना को पीछे की तरफ खदेड़ दिया तथा उनसे लूट का माल छीन लिया। राजपूत सेना ने शत्रु सेना पर भयंकर हमला किया जिसमें अलाउद्दीन खिलजी की सेना को पराजय का सामना करना पड़ा। शाही सेना से लूटी गई सामग्री लेकर धर्म सिंह के नेतृत्व में सेना का एक दल तो रणथम्भौर लौट गया किन्तु भीम सिंह पीछे रह गया। इस अवसर का लाभ उठाकर बिखरी हुई शाही सेना ने अलप खाँ के नेतृत्व में उस पर हमला कर दिया। इस संघर्ष में भीम सिंह अपने सैकड़ों सैनिकों सहित मारा गया।

1. भोजराज का नया मन्त्री बनाया जाना:
भीमसिंह की मृत्यु के लिए धर्मसिंह को उत्तरदायी मानते हुए उन्हें अन्धा कर दिया और उसके स्थान पर भोजराज’को नया मन्त्री बनाया। भोजराज़ रणथम्भौर की बिगड़ी हुई स्थिति को सम्भाल नहीं पाया और शीघ्र ही अलोकप्रिय हो गया। ऐसी स्थिति में धर्मसिंह ने हम्मीर को राज्य की आय बढ़ाने का आश्वासन देकर अपने पुराने अधिकार पुनः प्राप्त कर लिये। धर्मसिंह अपने अपमान का बदला लेना चाहता था इसलिए उसने प्रजा पर कई कर लगाकर उन्हें बलात् वसूल करना प्रारम्भ कर दिया। इसलिए प्रजा में असन्तोष बढ़ने लगा।

उधर भोजराज हम्मीर द्वारा अपनी सेवा से निकाले जाने पर नाराज होकर अलाउद्दीन खिलजी के दरबार में चला गया। उसने सुल्तान को रणथम्भौर पर आक्रमण करने के लिए उकसाना प्रारम्भ कर दिया। सुल्तान ने रणथम्भौर विजय के लिए सेना भेज दी किन्तु हिन्दुवाट की घाटी में हुए मुठभेड़ में चौहान सेना ने शाही सेना को बुरी तरह पराजित किया।

इस अपमानजनक पराजय की जानकारी मिलने पर सुल्तान ने उलूग खाँ और नुसरत खाँ के नेतृत्व में एक बड़ी सेना भेजी। इस सेना ने झाँई के दुर्ग पर अधिकार कर लिया। झाँई विजय के बाद उलूग खाँ ने मेहलनसी नामक दूत के साथ हम्मीर के पास अलाउद्दीन खिलजी का सन्देश पुनः भिजवाया। इस सन्देश में दोनों विद्रोहियों-मुहम्मद शाह व उसके भाई कैहबू को सौंपने के साथ हम्मीर की बेटी देवलदी का विवाह सुल्तान के साथ करने की माँग की गई थी। यद्यपि देवलदी ने राज्य की रक्षा के लिए इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लेने की सुझाव दिया किन्तु हम्मीर ने संघर्ष का रास्ता चुना।

उलूग खाँ ने रणथम्भौर दुर्ग पर घेरा डालकर उसके चारों तरफ पाशिव व गरमच बनवाये और मगरबों द्वारा दुर्ग रक्षकों पर पत्थरों की बौछार की। दुर्ग में भी भैरवयन्य ठिकुलिया व मर्कटी यन्त्र नामक पत्थर बरसाने वाले यन्त्र लगे थे जिनके द्वारा फेंका गया एक पत्थर संयोग से नुसरत खाँ को लगा। नुसरत खाँ इसमें घायल हुआ और कुछ दिनों बाद उसकी मृत्यु हो गई। इससे शाही सेना में निराशा की स्थिति पैदा हो गई। हम्मीर ने इस स्थिति का फायदा उठाने के लिए दुर्ग से बाहर निकलकर शाही सेना पर आक्रमण कर दिया। इस अप्रत्याशित आक्रमण से घबराकर उलूग खाँ को झाँई की तरफ पीछे हटना पड़ा।

अलाउद्दीन खिलजी का रणथम्भौर आना व रणथम्भौर पर अधिकार

उलूग खाँ की असफलता के बाद अलाउद्दीन खिलजी स्वयं रणथम्भौर पहुँचा। अमीर खुसरो ने अपनी रचना ‘खजाईन-उल-फुतूह’ में इस अभियान का आँखों देखा वर्णन करते हुए लिखा है कि सुल्तान ने इस आक्रमण में पशिब, मगरबी व अरबी की सहायता ली। काफी प्रयासों के बाद भी जब अलाउद्दीन खिलजी दुर्ग को जीतने में असफल रहा तो उसने छल और कूटनीति का आश्रय लेते हुए हम्मीर के पास सन्धि का प्रस्ताव भेजा।

हम्मीर द्वारा सन्धि के लिए अपने सेनापति रतिपाल को भेजा गया। अलाउद्दीन खिलजी ने रतिपाल व उसकी सहायता से हम्मीर के एक अन्य सेनापति रणमल को रणथम्भौर दुर्ग का प्रलोभन देकर अपनी ओर मिला लिया। चौहान रचनाओं में इस बात का उल्लेख किया गया है कि अलाउद्दीन ने हम्मीर के एक अधिकारी को अपनी तरफ मिलाकर दुर्ग में स्थित खाद्य सामग्री को दूषित करवा दिया। इससे दुर्ग में खाद्यान्न सामग्री का भयंकर संकट पैदा हो गया।

अमीर खुसरो ने इस सम्बन्ध में लिखा है कि “सोने के दो दानों के बदले में चावल का एक दाना भी नसीब नहीं हो। पा रहा था।” खाद्यान्न के अभाव में हम्मीर को दुर्ग के बाहर निकलना पड़ा किन्तु रणमल और रतिपाल के विश्वासघात के कारण उसे पराजय का मुँह देखना पड़ा। युद्ध के दौरान हम्मीर लड़ता हुआ मारा और उस कीरावी रंगदेवी के नेतृत्व में राजश्त वीरांगनाओं के द्वारा जौहर किया गया। यह रणथम्भौर की प्रथम साका कहा जाता है। जोधराज की रचना’ ‘हम्मीर रासो’ के अनुसार इस जौहर में मुहम्मद शाह की स्त्रियाँ भी रंगदेवी के साथ चिता में भस्म हो गई। कुछ स्थानों पर उल्लेख है कि रंगदेवी ने किले में स्थित ‘पदमला तालाब’ में जल – जौहर किया था। इस प्रकार 11 जुलाई, 1301 ई. को अलाउद्दीन खिलजी ने रणथम्भौर पर अधिकार कर लिया।

युद्ध में मीर मुहम्मद शाह भी हम्मीर की तरफ से संघर्ष करते हुए घायल हुआ। घायल मुहम्मद शाह पर नजर पड़ने पर अलाउद्दीन खिलजी ने उससे पूछा कि ‘अगर तुम्हें ठीक करवा दिया जाए तो तुम क्या करोगे?” इस पर बड़ी बहादुरी के साथ मुहम्मद शाह ने जबाब दिया कि अगर मुझे ठीक करवाया गया तो मैं दो काम करूंगा – पहला तुम्हें मार दूंगा और दूसरा हम्मीर के किसी वंशज को रणथम्भौर के सिंहासन पर बैठा दूंगा। ऐसा जवाब सुनकर अलाउद्दीन खिलजी कॉफी क्रोधित हुआ और उसने हाथी के पैरों के नीचे कुचलवाकर मुहम्मदशाह की हत्या करवा दी।

प्रश्न 4.
राव चन्द्रसेन की प्रारम्भिक कठिनाइयों का विवेचन कीजिए। अकबर ने राव चन्द्रसेन को अधीन करने के लिए क्या – क्या प्रयत्न किये और उनके क्या परिणाम निकले?

अथवा

“राव चन्द्रसेन अकबर का अग्रगामी था।” इस कथन को समझाइए।
उत्तर:
1. भूमिका:
राव चन्द्रसेन जोधपुर के प्रसिद्ध शासक राव मालदेव (1532-62 ई.) के कनिष्ठ पुत्र थे। राव मालदेव के समय दिल्ली के शासक शेरशाह सूरी ने मारवाड़ पर आक्रमण किया था। दोनों पक्षों के बीच 1544 ई. में लड़े गए। गिरि – सुमेल (पाली) युद्ध में छल – कपट के सहारे शेरशाह जीत हासिल करने में सफल रहा किन्तु राव मालदेव के पराक्रमी सेनापतियों जैता और कूपा ने युद्ध के दौरान उसे ऐसी कड़ी टक्कर दी कि इतिहासकार फरिश्ता के अनुसार शेरशाह अपने घोड़े से नीचे उतरकर सफलता के लिए अल्लाह से दुआ माँगने लगा। शेरशाह के भय का पता उसकी इस स्वीकारोक्ति से चलता है, जिसमें उसने युद्ध के बाद कहा था कि “मैं एक मुट्ठीभर बाजरे के लिए हिन्दुस्तान की बादशाहते खो बैठता।”

2. जीवन – परिचय:
जोधपुर राज्य की ख्यात के अनुसार चन्द्रसेन का जन्म 1541 ई. में हुआ था। राव मालदेव अपने ज्येष्ठ पुत्र राम से अप्रसन्न था, जबकि उसमें छोटे पुत्र उदयसिंह को पटरानी स्वरूप दे (चन्द्रसेन की माँ) राज्याधिकार से वंचित करवा दिया। इस कारण मालदेव की मृत्यु के बाद उसकी इच्छानुसार 31 दिसम्बर, 1562 ई. को चन्द्रसेन जोधपुर की गद्दी पर बैठा। मालदेव के काल में उसे बीसलपुर और सिवाना की जागीर मिली हुई थी।

3. आन्तरिक विद्रोह का दमन:
शासक बनने के कुछ ही समय बाद चन्द्रसेन ने आवेश में आकर अपने एक चाकर की हत्या कर दी। इससे जैतमाल और उससे मेल रखने वाले कुछ अन्य सरदार अप्रसन्न हो गए। नाराज सरदारों ने चन्द्रसेन को दण्डित करने के लिए उसके विरोधी भाईयों राम, उदय सिंह और रायमल के साथ गठबन्धन कर उन्हें आक्रमण के लिए आमंत्रित किया। राम ने सोजत और रायमल ने दूनाड़ा प्रान्त में उपद्रव शुरू कर दिया तथा उदय सिंह ने गांगाणी और बावड़ी पर अधिकार कर लिया।

सूचना मिलते ही चन्द्रसेन ने इन उपद्रवों को शान्त करने के लिए अपनी सेना भेजी जिससे राम और रायमल तो अपनी – अपनी जागीरों में लौट गए किन्तु उदयसिंह ने लोहावट नामक स्थान पर संघर्ष किया। इस युद्ध में उदयसिंह घायल हुआ और चन्द्रसेन विजयी रहा। 1563 ई. में राव चन्द्रसेन और उदयसिंह की सेनाओं के बीच नाडोल नामक स्थान पर पुनः संघर्ष हुआ किन्तु विजय की आशा न देखकर उदयसिंह बादशाह अकबर के पास चला गया।

4. जोधपुर पर मुगलों का अधिकार:
राव चन्द्रसेन के नाराज भाइयों राम उदयसिंह व रायमल के साथ अपनी कलह के कारण अकबर को हस्तक्षेप करने का मौका मिल गया। उसने शीघ्र ही हुसैन कुली खाँ की अध्यक्षता में एक सेना भेजी जिसने जोधपुर पर अधिकार कर लिया। जोधपुर की ख्यात में मुगल अभियान का अतिरंजित वर्णन करते हुए कहा गया है कि शाही सेना ने जोधपुर पर तीन बार हमला किया और लगभग दस माह के घेरे के बाद चन्द्रसेन को अन्न – जल की कमी के कारण गढ़ का परित्याग कर भाद्राजूण जाना पड़ा। जोधपुर राज्य से निकलने के बाद चन्द्रसेन की आर्थिक स्थिति बिगड़ने लगी और वह अपने रत्न आदि बेचकर खर्च चलाने लगा। पं. विशेश्वरनाथ रेऊ ने अकबर द्वारा जोधपुर पर आक्रमण का प्रमुख कारण जोधपुर के मालदेव द्वारा उसके पिता हुमायूँ के प्रति किए गए असहयोग को माना है।

5. नागौर दरबार:
1570 ई. में अपनी अजमेर यात्रा के समय अकबर मारवाड़ क्षेत्र में दुष्काल की खबरें सुनकर नागौर पहुँचा। इस अवसर पर उसने अपने सैनिकों से दुष्काल निवारणार्थ एक तालाब खुदवाया जो ‘शुक्र तालाब’ के नाम से प्रसिद्ध हुआ। वास्तव में इस दरबार का उद्देश्य मारवाड़ की राजनीतिक स्थिति का अध्ययन करना था।

6. चन्दसेन के खिलाफ मुगल अभियान:
नागौर दरबार के कुछ समय बाद मुगल सेना ने भाद्राजूण पर आक्रमण कर दिया। फरवरी, 1571 ई. में चन्द्रसेन भाद्राजूण का परित्याग का सिवाणा की तरफ चला गया। 1572 ई. में एक तरफ जहाँ गुजरात में विद्रोह फैला हुआ था, वहीं दूसरी तरफ महाराणा प्रताप के शासक बनने से मेवाड़ के भी आक्रामक होने का खतरा पैदा हो गया। ऐसी स्थिति में अकबर ने बीकानेर के रायसिंह को जोधपुर का शासक बनाकर गुजरात की तरफ भेजा ताकि महाराणा प्रताप गुजरात के मार्ग को रोककर हानि न पहुँचा सके।

1573 ई. में अकबर ने चन्द्रसेन को अपने अधीन बनाने के लिए शाहकुली खाँ के साथ जगत सिंह, केशवदास मेड़ातिया, बीकानेर के रायसिंह आदि को भेजा। यह सेना सोजत में चन्द्रसेन के भतीजे कल्ला को पराजित करते हुए सिवाना पहुँची। अपने सेनानायकों के परामर्श के अनुसार चन्द्रसेन किले की रक्षा का भार पत्ता राठौड़ को सौंपकर पहाड़ों में चला गया और वहीं से किले को घेरने वाली मुगल सेना के पाश्र्वो पर छापामार पद्धति से आक्रमण कर उसे क्षति पहुँचाने लगा। पत्रा राठौड़ और चन्द्रसेन के सम्मिलित सफल प्रतिरोध के कारण रायसिंह ने अकबर से अतिरिक्त सैन्य सहायता की माँग की। अकबर की तरफ से एक बड़ी सेना भेजे जाने पर चन्द्रसेन पहाड़ों में चला गया। यद्यपि मुगल सेना ने उसका पीछा किया किन्तु चन्द्रसेन को पकड़ने में वह असफल रही। इस असफलता से निराश अकबर ने अपने अमीरों को कड़ी फटकार लगाई।

7. सिवाना के दुर्ग पर अकबर का अधिकार:
चन्द्रसेन को अपने अधीन बनाने के लिए अकबर ने 1575 ई. में जलाल खाँ के नेतृत्व में सिवाना की एक तरफ बड़ी सेना भेजी जिसमें सैयद अहमद, सैयद हाशिम, शिमाल खाँ आदि अमीर भी शामिल थे। लम्बे संघर्ष के दौरान एक दिन अवसर पाकर चन्द्रसेन ने अपने सहयोगी देवीदास के साथ मुगल सेना पर आक्रमण कर दिया। इस आक्रमण में जलाल खाँ मारा गया। इस घटना से शाही सेना की प्रतिष्ठा को गहरा धक्का पहुँचा। अब अकबर ने शाहबाज खाँ को भेजा। उसने शीघ्र ही देवकोर और दूनाड़ा पर अधिकार का सिवाना को घेर लिया। खाद्य सामग्री समाप्त होने के कारण सिवानी दुर्ग के रक्षक को किला छोड़ना पड़ा। इस प्रकार 1575 ई. में सिवाना के दुर्ग पर अकबर का अधिकार हो गया।

‘संकटकालीन राजधानी’ सिवाणा हाथ से निकलने के बाद अक्टूबर, 1575 ई. में जैसलमेर के रावल हर राय ने पोकरण पर आक्रमण कर दिया। इस समय पोकरण में राव चन्द्र सेन की तरफ से किलेदार आनन्दराम पंचोली था। चार माह के घेरे के बाद रावल हरराय ने चन्द्रसेन के सामने प्रस्ताव रखा कि ‘एक लाख फदिये के बदले मुझे पोकरण दे दो, जोधपुर पर अधिकार होने के बाद एक लाख फदिये लौटाकर पोकरण मुझसे वापिस ले लेना।’ संकटापन्न आर्थिक दशा के कारण चन्द्रसेन ने यह प्रस्ताव स्वीकार कर जनवरी, 1576 ई. में पोकरण भाटियों को दे दिया।

पोकरण के रूप में अन्तिम आश्रय स्थल हाथ से निकल जाने के भी चन्द्रसेन हताश नहीं हुआ। लगभग डेढ़-दो वर्ष तक सिरोही, डूंगरपुर और बाँसवाड़ा में घूमते रहने के बाद 1579 ई. में चन्द्रसेन ने सरवाड़ के मुगल थाने को लूटकर अपने अधिकार में ले लिया। इसके बाद उसने अजमेर प्रान्त पर भी धावे मारने शुरू कर दिये। यह समाचार मिलने पर बादशाह अकबर ने पायंदा मोहम्मद खाँ के नेतृत्व में सेना भेजी। चन्द्रसेन ने 1580 ई. में इस सेना का सामना किन्तु उसे असफल होकर पुन: पहाड़ों में लौटना पड़ा।

कुछ दिनों बाद चन्द्रसेन ने सेना को पुनः संगठित किया और 7 जुलाई, 1580 ई. को सोजत पर हमला कर दिया। सोजत पर अधिकार कर उसने सारण के पर्वतों में अपना निवास कायम किया। यहीं 11 जनवरी, 1581 ई. को उसकी मृत्यु हो गई। जोधपुर राज्य की ख्यात के अनुसार चन्द्रसेन के एक सामन्त बैरसल ने विश्वासघात कर भोजन में जहर दे दिया, जिससे उसकी मृत्यु हो गई।

8. चन्द्रसेन का मूल्यांकन:
राव चन्द्रसेन अकबरकालीन राजस्थान का प्रथम स्वतन्त्र प्रकृति का शासक था। उसके भाई शाही सत्ता का सुख भोगते रहे, वहीं उसे अपने रत्न – आभूषण बेचकर गुजारा चलाना पड़ा। चन्द्रसेन ने जोधपुर राज्य को छोड़कर रात – दिन पहाड़ों में घूमना और मुगल सेना से लड़ते रहना अंगीकार कर लिया किन्तु अधीनता स्वीकार नहीं थी। संघर्ष की जो शुरुआत चन्द्रसेन ने की थी उसी राह पर आगे चलकर महाराणा प्रताप ने बड़ा नाम कमाया। इस कारण चन्द्रसेन को ‘प्रताप का अग्रगामी’ तथा ‘मारवाड़ को प्रताप’ भी कहा जाता है।

इतिहास में समुचित महत्व न मिलने के कारण चन्द्रसेन को ‘मारवाड़ का भूला बिसरा नायक’ कहा जाता है। चन्द्रसेन का नाम इतिहास में विस्मृत होने का प्रमुख कारण यही है कि एक तरफ प्रताप की मृत्यु के बाद जहाँ मेवाड़ का राज्य उनके पुत्र-पौत्रादि के हाथों में रहा, वहीं चन्द्रसेन की मृत्यु के बाद मारवाड़ की गद्दी पर उसके भाई उदय सिंह का अधिकार हो गया। चन्द्रसेन और उदयसिंह के बीच विरोध चलता रहा।

9. चन्द्रसेन और प्रताप में तुलना:
रावचन्द्र सेन और महाराणा प्रताप दोनों मुगल बादशाह अकबर के साथ आजीवन संघर्ष के लिए प्रसिद्ध हैं। उनके बारे में कहा गया है कि-

अणदगिया तुरी ऊजला असमर, चाकर रहण न डिगियों चीत।
सारे हिन्दुस्तान तण सिर पातल नै चन्द्रसेण प्रवीत॥

(अर्थात् उस समय सारे हिन्दुस्तान में महाराणा प्रताप और राव चन्द्रसेन, यही दो वीर ऐसे थे, जिन्होंने न तो अकबर की अधीनता स्वीकार की और न अपने घोड़ों पर शाही दाग लगने दिया तथा जिनके शस्त्र हमेशा ही मुगल-सम्राट के विरुद्ध चमकते रहे।)

चन्द्रसेन व प्रताप दोनों को अपने भाई-बन्धुओं के विरोध का सामना करना पड़ा। प्रताप की भाँति चन्द्रसेन के अधिकार में मारवाड़ के कई भाग नहीं थे। मेवाड़ के माण्डलगढ़ और चित्तौड़ पर तो मारवाड़ के मेड़ता, नागौर, अजमेर आदि स्थानों पर मुगलों का अधिकार था। समानता के साथ दोनों शासकों की गतिविधियों में मूलभूत अन्तर भी पाया जाता है। दोनों शासकों ने अपने-अपने पहाड़ी क्षेत्रों में रहकर मुगलों को खूब छकाया किन्तु प्रताप के समान चन्द्रसेन चांवड़ जैसी कोई स्थायी राजधानी नहीं बसा पाया। विशेष अवसर पर चन्द्रसेन की उपस्थिति व मुगल सेना को विकेन्द्रित करने से प्रताप को सहयोग मिला।

प्रश्न 5.
शिवाजी का प्रारम्भिक जीवन तथा उनके मुगलों से सम्बन्धों की विवेचना कीजिए।

अथवा

शिवाजी ने मुगलों का प्रतिरोध किस प्रकार किया ? वर्णन कीजिए।
उत्तर:
जीवन – परिचय:
शिवाजी मराठा सरदार शाहजी भौंसले वे जीजाबाई की सन्तान थे। उनका जन्म 20 अप्रैल, 1627 ई. को पूना (महाराष्ट्र) के समीप शिवनेर से पहाड़ी किले में हुआ था। शिवाजी का बाल्यकाल संरक्षक दादी कोंडदेव की देखरेख में पिता से दूर माता जीजाबाई की गोद में बीता। बालक शिवाजी को अपनी माता तथा संरक्षक द्वारा हिन्दू धर्म शास्त्रों के साथ सैनिक शिक्षा दी गई। शिवाजी ने बाल्यावस्था में ही रामायण, महाभारत तथा दूसरे हिन्दू-शास्त्रों को पूर्ण ज्ञान प्राप्त कर लिया। बारह वर्ष की आयु में ही उन्हें अपने पिता की जागीर पूना प्राप्त हो गई।

शिवाजी का विजय अभियान

1. बीजापुर के विरुद्ध सैन्य अभियान:
शिवाजी ने अपने जीवन काल के प्रारम्भिक सैन्य-अभियान बीजापुर राज्य के विरुद्ध किये। इस समय बीजापुर का सुल्तान मुहम्मद आदिल शाह लम्बी बीमारी के बाद मृत्यु शैय्या पर पड़ा था और राज्य अस्त-व्यस्त दशा में था। बीमारी के 1646 ई. में शिवाजी ने बीजापुर के तोरण नामक पहाड़ी किले पर अधिकार कर लिया। इस किले से उसे दो लाख हूण का खजाना मिला। शिवाजी ने इस धन से अपनी सेना का विस्तार किया और तोरण किले से पाँच मील पूर्व में मुरुम्बगढ़ के क्षत-विक्षत दुर्ग का नया रूप देकर उसे ‘राजगढ़’ नाम दिया। शिवाजी द्वारा बीजापुर के प्रमुख मन्त्रियों को घूस देकर अपनी तरफ मिला लेने तथा अपनी कमजोर स्थिति के कारण बीजापुर सुल्तान शिवाजी के विरुद्ध इस समय कोई कार्यवाही नहीं कर सकी।

2. अफजल खाँ की हत्या:
शिवाजी की बढ़ती हुई शक्ति से सुल्तान आदलशाह भयभीत हो गया। यहाँ तक कि बीजापुर का कोई भी सेनापति शिवाजी के विरुद्ध अभियान के लिए तैयार नहीं हुआ। अन्त में अफजल खाँ नामक सेना पति में यह कहले हुए बीड़ा उठाया कि मैं अपने घोड़े से उतरे बिना शिवाजी को बन्दी बनाकर ले आऊँगा।” 1659 ई. में अफजल खाँ एक बड़ी फौज लेकर शिवाजी के विरुद्ध रवाना हुआ।

अंफजल ने छल का सहारा लेते हुए अपने दूत कृष्ण जी भास्कर को भेजकर शिवाजी के सामने सन्धिवार्ता का प्रस्ताव रखा। शिवाजी ने अफजल खाँ के छिपे मन्तव्य को समझ लिया और सावधानी के साथ वार्ता के लिए अपनी स्वीकृत दे दी। निश्चित दिन शिवाजी वस्त्रों के नीचे कवच और लोहे की टोपी पहनकर अफजल खाँ से मिलने पहुँचे। अपने बायें हाथ में बाघनख और सीधी बाँह में विछवा नामक तेज कटार छुपा रखे थे।

मुलाकात के दौरान अफजल खाँ ने शिवाजी को गले लगाते समय गर्दन दबोचकर तलवार से वध करने का प्रयास किया, किन्तु शिवाजी का कुछ नहीं बिगाड़ सका। उसी समय शिवाजी ने बाघनख का प्रयोग कर अफजल खाँ को मार डाला। अफजल खाँ के मरते ही इधर-उधर जंगलों में छिपे हुए मराठा सैनिकों ने आक्रमण कर बीजापुरी सेना को खदेड़ दिया। इस घटना ने शिवाजी की प्रतिष्ठा में अद्वितीय वृद्धि कर दी। अफजल खाँ के बाद भी बीजापुर ने शिवाजी के विरुद्ध अनेक अभियान भेजे किन्तु कोई लाभ नहीं हुआ।

3. शिवाजी और मुगल:
शिवाजी की बढ़ती हुई शक्ति ने औरंगजेब को भी चिह्नित कर दिया। उसने शिवाजी के दमन, के लिए अपने शाइस्ताखाँ को दक्षिण का सूबेदार नियुक्त किया। शाइस्ताखाँ ने शीघ्र ही पूना पर अधिकार कर लिया और वहीं से शिवाजी के विरुद्ध कार्यवाही का संचालन करने लगा। शाइस्ताखाँ पूना के उसी महल में ठहरा हुआ था जहाँ शिवाजी ने। अपना बचपन बिताया था। 15 अप्रैल, 1663 की सन्ध्या शिवाजी लगभग चार सौ सैनिकों के साथ पूना पहुँचे। जब वे शाइस्ता खाँ के निवास स्थान के पास पहुँचे तो मुगल रक्षकों ने उन्हें टोका। शिवाजी ने उन्हें यह कहकर असावधान कर दिया कि वे मुगल सेना के ही मराठे सैनिक हैं और अपने-अपने स्थान पर जा रहे हैं।

अर्द्धरात्रि के समय शिवाजी ने अपने सैनिकों के साथ शाइस्ताखाँ के डेरे पर मारकाट आरम्भ कर दी। शाइस्ता खाँ की एक उंगली कट गई किन्तु वह रात्रि के अन्धकार का फायदा उठाकर भागने में सफल रहा। उसके एक पुत्र और छः पत्नियों सहित अनेक मुगल सैनिक इस अभियान में मारे गए। औरंगजेब को जब इस अभियान की जानकारी मिली तो उसके क्रोध का ठिकाना नहीं रहा। उसने शाइस्ताखाँ को उसकी असफलता का दण्ड देने के अभिप्रयास से बंगाल भेज दिया।

4. मुअज्जम और जसवन्तसिंह:
शाइस्ताखाँ के बाद औरंगजेब ने शिवाजी के दमन के लिए शाहजादा मुअज्जम और मारवाड़ के जसवन्त सिंह को भेजा किन्तु वे भी इस उद्देश्य में असफल रहे। इससे शिवाजी का हौंसला बढ़ा और वह निर्भय होकर मुगल प्रदेशों में लूटमार करने लगा। जनवरी, 1664 ई. में उसने सूरत के समृद्ध नगर को लूट लिया। इसे लूट से शिवाजी को एक करोड़ रुपये के आभूषण, रत्न आदि हाथ लगे।

जयसिंह और पुरन्दर की सन्धि-अब औरंगजेब ने आमेर में कुशल कूटनीतिज्ञ मिर्जा राजा जयासिंह के साथ सेनानायक दिलेर खाँ और ताज खाँ को भेजा। मिर्जा राजा जयसिंह ने कहा था कि “हम उसे वृत्त के घेरे की तरह बाँध लेंगे।” कूटनीतिज्ञ जयसिंह ने शिवाजी के विरोधियों को ही नहीं अपितु प्रलोभन देकर अनेक मराठों को भी अपने पक्ष में कर लिया। मराठ राज्य पर आक्रमण करते हुए उसने शिवाजी को पुरन्दर के किले में घेर लिया। विवश होकर शिवाजी को जून, 1665 ई. को जयसिंह के साथ पुरन्दर भी सन्धि करनी पड़ी।

इस सन्धि के अनुसार अपने 23 दुर्ग मुगलों के हवाले कर दिए और आवश्यकता पड़ने पर बीजापुर के विरुद्ध मुगलों की सहायता करने का आश्वासन दिया। शिवाजी को व्यक्तिगत रूप से दरबार में उपस्थित होने के लिए बाध्य नहीं किया जायेगा। इस सन्धि के समय फ्रांसीसी यात्री वर्नियर भी मौजूद था। सन्धि की धाराओं के अनुसार उल्लेख था कि शिवाजी को मुगल दरबार में उपस्थित होने के लिए बाध्य नहीं किया जायेगा। इसके बावजूद जयसिंह ने शिवाजी को आगरा चलने के लिए तैयार कर लिया।

सम्भवतः शिवाजी ने भी मुगल दरबार से सम्पर्क तथा उत्तरी भारत की स्थिति को जानने के लिए एक अच्छा अवसर समझा। मई, 1666 ई. में शिवाजी आगरा के मुगल दरबार में उपस्थित हुए। औरंगजेब ने शिवाजी को उचित सम्मान न देकर उनके प्रति रूखा व्यवहार किया और मनसबदारों की तृतीय पंक्ति में खड़ा कर दिया। शिवाजी ने देखा कि जसवन्तं सिंह उनके सामने खड़ा है, तो दु:खी होकर कहा “जिस जसवन्त सिंह की पीठ मेरे सैनिकों ने देखी थी, मुझे उसके पीछे खड़ा होना पड़ रहा है।

दरबार में सम्मानजनक व्यवहार नहीं मिलने पर नाराज शिवाजी वहाँ से रामसिंह (मिर्जा राजा जयसिंह का पुत्र) के निवास पर लौट आये। औरंगजेब ने शिवाजी को जयपुर भवन’ में बन्दी बना लिया और मार डालने का निश्चय किया। इस गम्भीर स्थिति में भी शिवाजी ने अपना धैर्य नहीं खोया और मुगलों की चंगुल से बच निकलने का उपाय खोजने लगे। शिवाजी ने बीमार होने का बहाना किया और हिन्दू परम्परा के अनुसार दीन – दुःखियों को मिठाई फल आदि दान देना आरम्भ कर दिया। प्रतिदिन बन्दीगृह में मिठाई और फलों के टोकरे आने लगे। शुरू – शुरू में तो पहरेदार टोकरों की गहन छानबीन करते थे किन्तु बाद में काफी लापरवाह हो गए। अवसर देखकर शिवाजी अपने पुत्र शम्भा जी के साथ इन टोकरों में बैठकर बन्दीगृह से निकलकर महाराष्ट्र पहुँचने में सफल हो गए।

बन्दी जीवन के कठिन यात्रा के कारण शिवाजी का स्वास्थ्य काफी गिर गया। उधर नया मुगल सूबेदार मुअज्जम आरामतलब आदमी था और उसका सहयोगी जसवन्त सिंह शिवाजी से सहानुभूति रखता था। दोनों पक्ष इस समय युद्ध-विराम चाहते थे। 1667 ई. में जसवन्त सिंह की मध्यस्थता से मुगल-मराठा सन्धि सम्पन्न हो गई जिसके अनुसार औरंगजेब ने शिवाजी को स्वतन्त्र शासक स्वीकार कर ‘राजा’ की उपाधि को मान्यता दे दी। सन्धि के बावजूद औरंगजेब शिवाजी के विरुद्ध चाल चलने से बाज नहीं आया। इस कारण 1670 ई. में शिवाजी ने सूरत को पुनः लूट लिया और अपने खोये हुए प्रदेशों पर अधिकार आना प्रारम्भ कर दिया।

5. राज्याभिषेक:
शिवाजी ने बनारस के गंगाभट्ट नामक ब्राह्मण को बुलाकरं जून, 1674 ई. को राजधानी रायगढ़ में अपना राज्याभिषेक करवाया और ‘छत्रपति’ हिन्दू धर्मोद्वारक,’ ‘गो ब्राह्मण प्रतिपालक’, आदि उपाधियाँ धारण की। शिवाजी के अन्तिम दिन चिन्ता में बीते। एक तरफ तो वे अपने पुत्र शम्भाजी के मुगलों की शरण में जाने से दु:खी थे, दूसरी तरफ उनकी पत्नी सायराबाई अपने पुत्र राजाराम को उत्तराधिकारी बनाने के लिए षड्यन्त्र रच रही थी। इन परिस्थितियों में अप्रैल, 1680 ई. में शिवाजी भी मृत्यु हो गई।

6. शिवाजी का मूल्यांकन:
शिवाजी ने देश के लोगों में नवजीवन का संचार करने तथा स्वतन्त्र हिन्दू राज्य की स्थापना के उद्देश्य से आजीवन संघर्षरत रहे। एक बड़ी सीमा तक वे अपने उद्देश्य में सफल रहे। सर यदुनाथ सकार के अनुसार शिवाजी हिन्दू प्रजाति का अन्तिम प्रतिभा सम्पन्न व्यक्ति और राष्ट्र-निर्माता शासक थी। जिस समय वह महाराष्ट्र के रंगमंच पर आये, उस समय मराठे विदेशी शासकों के अधीन दक्षिण में सर्वभ बिखरे हुए थे। शिवाजी ने उन्हें संगठित कर सिद्ध कर दिया कि वे एक राज्य की स्थापना की ही नहीं अपितु एक राष्ट्र का निर्माण कर सकते हैं। मुगलों का कड़ा प्रतिरोध कर उन्होंने मराठा स्वराज्य की स्थापना की।

प्रश्न 6.
शिवाजी के उपरान्त पेशवाओं का इतिहास लिखिए।
उत्तर:
शिवाजी के कमजोर उत्तराअधिकारियों के समय मराठा साम्राज्य की बागडोर उनके पेशवा (प्रधानमन्त्री) के हाथों में आ गई। पेशवाओं के शासन का प्रारम्भ बालाजी विश्वनाथ के समय हुआ।

1. बालाजी विश्वनाथ (1713 – 20 ई.)
बालाजी विश्वनाथ प्रथम पेशवा थे जिसे इस पद पर मराठा शासक शाहू द्वारा 1713 ई. में नियुक्त किया गया था। इसके समय में सैयद बन्धु अब्दुल्ला और हुसैन अली दिल्ली के शासक निर्माता थे। सैयद बन्धुओं ने बहादुर शाह प्रथम को हटाकर फर्रुखासियर को गुगल सिंहासन पर बैठाया था किन्तु वह शीघ्र ही इन दोनों भाइयों के खिलाफ षड्यन्त्र करने लगा। दक्खन में मौजूद मीरबख्शी हुसैनअली को जब इस षड्यन्त्र की जानकारी हुई तो उसने फर्रुखासियर पर प्रहार करने के लिए मराठा शासक शाहू के साथ 1719 ई. में एक सन्धि की। इस सन्धि के अनुसार

  1. मुगलों द्वारा शाहू को वे सब प्रदेश लौटा दिए जाएँगे जो शिवाजी के ‘स्वराज’ नाम से प्रसिद्ध थे।
  2. खानदेश, बरार, गोण्डवाना, हैदराबाद और कर्नाटक में मराठों द्वारा हाल ही में जीते गए प्रदेशों पर उनका अधिकार स्वीकार कर लिया जाएगा।
  3. मराठों को दक्खन के छः प्रान्तों में चौथ और सरदेश मुखी नामक कर वसूल करने की अनुमति दे दी जायेगी। चौथ के बदले पन्द्रह हजार मराठा सैनिक मुगल सम्राट की सेवा में रहेंगे।
  4. दिल्ली में नजरबन्द शाहू की माता यसूबाई व पत्नी सहित मराठा राजपरिवार के सदस्यों को मुक्त कर वापिस भेज दिया जाएगा।

हुसैन अली के दिल्ली की तरफ प्रस्थान करने पर सन्धि के अनुसार बानाजी विश्वनाथ व खण्डेरा व धनादे के नेतृत्व में पन्द्रह हजार मराठ्य सैनिकों ने उसका साथ दिया। सैय्यद बन्धुओं ने फर्रुखसियर को अपदस्त कर ‘रफी-उल-दरजात’ को मुगल बादशाह बना दिया जिसने उपरोक्त सन्धि को स्वीकृत प्रदान कर दी। दक्खन में चौथ और सरदेशमुखी भी वसूली के अधिकार प्राप्त करना बालाजी विश्वनाथ की बहुत बड़ी सफलता थी। उसे मराठा साम्राज्य का द्वितीय संस्थापक (संस्थापक शिवाजी) कहा जाता है।

2. पेशवा बाजीराव (1720 – 40 ई.):
पेशवा बालाजी विश्वनाथ की मृत्यु के बाद उसके बड़े पुत्र बाजीराव (1720 – 40 ई.) को पेशवा पद पर नियुकत किया गया। इस समय उसकी आयु मात्र बीस वर्ष थी मुगल साम्राज्य की शोचनीय दशा का लाभ उठाकर वह उसके अधिक से अधिक प्रदेशों को छीन लेना चाहता था। उसने अपनी तर्कपूर्ण व्याख्या द्वारा यह कहते हुए शाहू का समर्थन हासिल कर लिया। कि हमारे लिए यही समय है। कि हम विदेशियों को देश से निकालकर कीर्ति प्राप्त कर लें।

हमें सूखे वृक्ष की जड़ों पर प्रहार करना चाहिये शाखाएँ तो अपने आप गिर जायेंगी। पेशवा की योजना से प्रभावित होकर शाहू ने कहा, “तुम मराठा पताका को हिमालय की चोटी पर फहरा देंगे। तुम वास्तव में योग्य पिता के योग्य पुत्र हो।”अपनी नीति के अनुसार बाजीराव ने नर्मदा पार का 1724 ई. में मालवा जीत लिया। शाही सेवा में मौजूद जयपुर का शासक सवाई जयसिंह मराठ से सहानुभति रखने के कारण शीघ्र ही पेशवा का मित्र बन गया। इस कारण पेशवा को बहुत कम विरोध का सामना पड़ा।

पेशवा को सबसे जटिल समस्या का सामना के सबसे शक्तिशाली सरदार ‘नजाम-उल’ सम्बन्धों को व्यवस्थित करने में काना पड़ा। निजाम स्वयं को दक्खन या न्यायोचित शासक मानता था। इस क्षेत्र में मराठा अभियानों के कारण वह उन्हें अपना सबसे बड़ा शत्रु समझने लगा। इस कारण उसने 1917 ई. में सन्धि का उल्लंघन करना प्रारम्भ कर दिया और शाहू के स्थान पर उसके विरोधी शम्भाजी को मराठा साम्राज्य के मुखियों के रूप में मान्यता प्रदान कर दी मार्च 1728 ई. को औरंगाबाद के पास पात्नखेड़ नामक स्थान पर पेशवा ने निजाम की सेनाओं को पराजित कर उसे मुंगी शिवगाँव की सन्धि पर हस्ताक्षर के लिए बाध्य कर दिया।

3. सन्धि की शर्ते – इसे सन्धि के अनुसार:

  1. निजाम ने शम्भा जी की सुरक्षा की जिम्मेदारी छोड़कर उसे पन्हाला भेजना स्वीकार कर लिया।
  2. छीने गए मराठा प्रदेश तथा मराठा कैदियों को छोड़ देने का निर्णय लिया गया।
  3. 1719 ई. की सन्धि के अनुसार शाहू के चौथ तथा सरदेशमुखी कर भी वसूली के अधिकार को मान लिया।

कुछ समय बाद चौथ और सरदेशमुखी के बदले पेशवा ने प्रतिज्ञा कर ली कि वह निजाम के प्रदेशों पर आक्रमण नहीं करेगा और निजाम ने मराठों के उत्तरी भारत पर आक्रमण में तटस्थ रहना स्वीकार कर लिया। अब पेशवा ने उत्तर भारत पर अपना ध्यान केन्द्रित करते हुए 1728 ई. में मालवा और बुन्देलखण्ड के मुगल प्रदेशों पर अधिकार कर लिया। मार्च 1737 ई. में अवध के सूबेदार शाइस्ताखाँ ने मराठा सेनापति मल्लहारराव होल्करको पराजित किया और इस विजय की डींग मारते हुए दिल्ली में सूचना भेजी कि उसने मराठों को चम्बल के पार खदेड़ दिया। बाजीराव इस विजय का खण्डन करने के लिए चौदह दिन का सफर मात्र दो दिन में तय कर दिल्ली पर टूट पड़ा। इस आक्रमण से भयभीत मुगल सम्राट को बाजीराव ने सन्देश भेजा कि उसके अभियान का उद्देश्य कुछ प्राप्त करना नहीं अपितु सिर्फ यह दिखाना है कि वह अभी जिन्दा है।

दिल्ली से लौटने के बाद पेशवा ने निजाम को पराजित कर 17 जनवरी, 1738 को सराय की सन्धि करने के लिए बाध्य किया। इस सन्धि के अनुसार उसने सम्पूर्ण मालवा तथा नर्मदा से लेकर चम्बल तक में प्रवेश को बाजीराव के अधिपत्य में छोड़ दिया। 1740 ई. में बाजीराव बने ‘निजाम-उल-मुल्क’ के द्वितीय पुन नासिरजंग को परस्त का मुंगी शिवगाँव की सन्धि पर हस्ताक्षर करने के लिए बाध्य किया। इसके अनुसार नासिरजंग ने हॉडिया और खरगाँव के जिले मराठों को सौंप दिए। 8 मई, 1740 ई. को नर्मदा नदी के किनारे रावर नामक स्थान पर अचानक बाजीराव की मृत्यु हो गई।