Rajasthan Board RBSE Class 12 English Panorama Chapter 9 The Last Lesson

RBSE Class 12 English Panorama Chapter 9 Textual Questions

Comprehension Questions
A. Choose the correct alternative:

Question 1.
Who was reading the bulletin?
(a) Mr Hamel
(b) Blacksmith
(c) Commanding officer
(d) Little Franz

Question 2.
“What a thunderclap these words were to me”. The words were
(a) loud and clear
(b) startling and unexpected.
(c) pleasant and welcome
(d) heavy and inaudible

Question 3.
What made him forget all about Mr Hamel’s ruler and cranky behaviour?
(a) seeking bird’s eggs
(b) going sliding on the Saar
(c) the idea that he was going away
(d) Mr.Hamel allowed him in the class

Question 4.
Which language according to M. Hamel was the most beautiful and the most logical
(a) German
(b) French
(c) Spanish
(d) English

Answers:
1. (b
2. (b
3. (C)
4. (b)

B. Answer the following questions in 30-40 words each:
निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर 30-40 शब्दों में दीजिये।

Question 1.
Why was the narrator scared of going to school that morning?
उस सुबह लेखक विद्यालय जाने से क्यों डरा हुआ था?
Answer:
Franz’s teacher had asked the students to prepare a lesson on participles but he knew nothing about them. Moreover, he was late for school, so he thought that he would be scolded. This is why the narrator was scared of going to school that morning.

फ्रेन्ज के अध्यापक ने छात्रों को Participles पर पाठ तैयार करने के लिए कहा था परन्तु वह इसके बारे में कुछ नहीं जानता था। इसके अलावा, उसे स्कूल के लिए देर हो गई थी, इसलिए उसने सोचा कि उसे डाँट पड़ेगी! इसलिए उस सुबह लेखक विद्यालय जाने से डरा हुआ था।

Question 2.
What did Franz see as he passed the town hall?
जब फ्रेंज टाउन हॉल (सभागार) के पास से गुजरा तो उसने क्या देखा?
Answer:
There was a bulletin board at the town hall. It gave people news of the lost battles or the orders of commanding officers etc. Franz saw a large crowd in front of the bulletin board to read the latest news.

टाउन हॉल पर एक बुलेटिन बोर्ड था। इससे हारे युद्धों और अफसरों के आदेशों के समाचार मिलते थे। फ्रेंज ने बुलेटिन बोर्ड के सामने भीड़ को नवीनतम समाचार पढ़ते हुए देखा।

Question 3.
Who were the village people? How did they look?
गाँव वाले कौन थे? वे कैसे दिखाई देते थे?
Answer:
The village people sitting quietly on the back benches were old Hauser, the former mayor, the former postmaster and several others. They were looking very sad upon knowing about the German order.

पिछली बेंचों पर शांतिपूर्वक बैठे हुए गाँव के लोग थे बूढ़ा हौजर, भूतपूर्व मेयर, भूतपूर्व पोस्टमास्टर तथा दूसरे अन्य। वे जर्मन आदेश के बारे में जानने के बाद बहुत दुखी दिखाई दे रहे थे।

Question 4.
Why did Mr Hamel say that it was his last lesson?
श्रीमान हेमल ने क्यों कहा कि यह उनका अंतिम पाठ था?
Answer:
Mr Hamel said that it was his last lesson because the order had come from Berlin to teach only German in the schools of Alsace and Lorraine and that it was their last lesson in French. The new master came the next day.

श्रीमान हेमल ने बताया कि यह उनका अंतिम पाठ था क्योंकि बर्लिन से आदेश आ गया था कि अल्सास और लॉरेन के स्कूलों में केवल German पढ़ाई जाएगी और यह French भाषा का उनका अन्तिम पांठ था। नया अध्यापक अगले दिन आ जाएगा।

Question 5.
How did Franz’s attitude towards his books and Mr Hamel change?
फ्रेन्ज की श्रीमान् हैमल और अपनी पुस्तकों के बारे में भावनाएँ किस तरह बदल गईं?
Answer;
Formerly, Franz did not listen to his teacher carefully, but now he listened to him quite attentively. His respect for his teacher increased. He began to love his books. The books that seemed to him too heavy and nuisance a while ago, were his fast friends now.

पहले फ्रेन्ज अपने अध्यापक की बातें ध्यानपूर्वक नहीं सुनता था परन्तु अब उसने उनकी बातें ध्यानपूर्वक सुनीं। उसका अपने गुरु के प्रति आदर बढ़ गया। वह अपनी पुस्तकों को प्यार करने लगा। वे पुस्तकें जो उसे थोड़ी देर पहले बड़ी भारी और मुसीबत लग रही थीं, अब उसकी प्रगाढ़ मित्र थीं।

Question 6.
Why had Franz not been able to learn much at school?
फ्रेन्ज विद्यालय में बहुत कुछ क्यों नहीं सीख पाया था?
Answer:
Franz had not been able to learn much at school because he used to go for seeking birds eggs or going sliding on the Saar instead of studying. The books seemed to him a nuisance and heavy to carry.

फेन्ज विद्यालय में बहुत कुछ इसलिए नहीं सीख पाया था क्योंकि अध्ययन करने की बजाय वह चिड़ियों के अण्डे ढूँढ़ने जाया करता था या सार पर फिसलने जाया करता था। पुस्तकें उसे बकवास व ले जाने में भारी लगती थीं।

Question 7.
What did Mr Hamel say about the French language?
श्रीमान् हैमल ने फ्रेंच भाषा के बारे में क्या कहा?
Answer:
Mr Hamel is a great lover of his language. His praise for his mother tongue shows his great love for French. He says that French is the most beautiful language in the world. It is the clearest and the most logical language.

श्रीमान् हैमल अपनी भाषा से अत्यधिक प्रेम करते हैं। अपनी मातृभाषा की प्रशंसा करना फ्रेन्च भाषा के प्रति उनके अत्यधिक प्यार को दर्शाता है। वह कहते हैं कि फ्रेन्च संसार की सबसे सुन्दर भाषा है। यह सर्वाधिक स्पष्ट और सर्वाधिक तर्कसंगत भाषा है।

Question 8.
How did Mr Hamel bid farewell to his school?
श्रीमान् हैमल ने अपने विद्यालय से अलविदा किस प्रकार कहा।
Answer:
At the time of dismissing the class, Mr Hamel did not say anything to the students because he got emotional. He just leaned his head against the wall and without a word made a gesture with his hand “school is dismissed-you may go.”

कक्षा को समाप्त करते समय श्रीमान् हैमल ने विद्यार्थियों से कुछ भी नहीं कहा क्योंकि वह भावुक हो गये थे। उन्होंने बस अपना सिर दीवार के सहारे झुका दिया और बिना कोई शब्द बोले अपने हाथ से एक इशारा किया “विद्यालय समाप्त हुआ आप जा सकते हैं।”

C. Answer the following questions in 125 words each:
निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर 125 शब्दों में दीजिये:

Question 1.
‘It was the day of surprises for Franz’. What surprises did he notice at school that day?
‘यह फ्रेन्ज के लिए आश्चर्यचकित होने का दिन था’। उसने विद्यालय में उस दिन किन आश्चर्यजनक घटनाओं को देखा?
Answer:
It was the day of surprises for Franz because he noticed many, uncommon things at school. When he reached there, it was all so still. He had to count on the commotion to get to his desk without being seen, but that day everything was as quiet as Sunday morning. His classmates were already in their places and M. Hamel was walking up and down with his terrible iron ruler under his arm. Instead of scolding him, M. Hamel asked Franz very quietly to go to his place quickly. On the back benches of the class, the village people were sitting quietly. Everybody was looking sad. M. Hamel was wearing his beautiful green coat, his frilled shirt, and the little black silk cap, all embroidered. He wore them on inspection and prize days.

यह फ्रेंज़ के लिए चकित होने का दिन था क्योंकि उसने विद्यालय में कई सारी अस्वाभाविक चीजें देखीं। जब वह विद्यालय पहुँचा तो सब कुछ बहुत ही शांत था। उसे नजर बचाकर अपनी डेस्क पर पहुँचने के लिए हो हल्ले का इंतजार था लेकिन उस दिन रविवार की सुबह जैसी खामोशी थी। उसके सहपाठी पहले से ही अपने-अपने स्थानों पर बैठे हुए थे और एम. हेमल अपनी बाँहों में अपना लोहे का भयंकर (भारी) डण्डा लेकर इधरउधर घूम रहे थे। फटकारने की बजाय एम. हैमल ने फ्रेन्ज़ को जल्दी से अपने स्थान पर जाने के लिए बहुत ही शांतिपूर्वक कहा। कक्षा की पिछली बैंचों पर गाँव के लोग शांतिपूर्वक बैठे हुए थे। वे सभी दुःखी दिखाई दे रहे थे। श्रीमान् हैमल अपना सुन्दर हरा कोट, अपनी झालरदार शर्ट तथा अपनी छोटी काली रेशमी टोपी पहने हुए थे जिन पर कशीदाकारी की हुई थी। इन्हें वह निरीक्षण के दिन तथा पुरस्कार वितरण के दिन पहनते थे।

Question 2.
Franz hated school at first, but he suddenly began to like it. Comment.
फ्रेन्ज़ पहले स्कूल से नफरत करता था, लेकिन वह अचानक ही इसे पसंद करने लगा। टिप्पणी कीजिये।
Answer:
Franz had always been careless about his studies. He hated his school as he found it a tough task to prepare his lessons. One day his teacher, M. Hamel told the class that it was their last lesson in their mother tongue, French. From the next day, they were going to be taught German in place of French. His teacher was also going to leave the school. This made Franz very emotional. He felt sorry for having neglected his studies. He listened to his teacher very attentively that day. He seemed eager to know all in that last lesson. The thought of losing lessons in his language made him grow fond of his language as well as of his school. Now he began to like the school that he had hated earlier.

फ्रेन्ज हमेशा अपनी पढ़ाई के प्रति लापरवाह रहा था। उसे अपने स्कूल से घृणा थी क्योंकि उसे अपने पाठ तैयार करना बहुत कठिन लगता था। एक दिन उसके अध्यापक एम. हैमल ने कक्षा को बताया कि वह उनका उनकी मातृभाषा फ्रेंच में आखिरी सबक था। अगले दिन से उन्हें फ्रेंच के स्थान पर जर्मन भाषा पढाई जानी थी। उसके अध्यापक भी स्कूल से जाने वाले थे। इससे फ्रेंज बहुत भावुक हो उठा। उसे दुःख हुआ कि वह अपनी पढ़ाई की उपेक्षा करता रहा था। उसने उस दिन बहुत ध्यान से अपने अध्यापक के द्वारा पढ़ाये जा रहे पाठ को सुना। ऐसा लगा कि उस अन्तिम पाठ में वह सब कुछ सीख लेना चाहता था। अपनी भाषा में पढ़ाया जाना छूटने के विचार से उसे अपनी भाषा व अपने स्कूल से प्यार हो गया। अब वही स्कूल उसे अच्छा लगने लगा जिससे वह पहले घृणा करता था।

Question 3.
What ideas of Mr Hamel’s character do you form after reading “The Last Lesson’?
‘अंतिम पाठ’ को पढ़ने के बाद आपके दिमाग में श्रीमान् हेमल की कैसी छवि निर्मित होती है?
Answer:
Mr Hamel is a teacher in Alsace. He teaches French. We can observe the following traits of his character.

A True Devoted Teacher of French:
On the last day, he praises the French language. He says that it is the most beautiful and logical language in the world.

faithful to Duty:
Even on the last day of his leaving the place, he teaches the students sincerely. He reaches up to the last moment.

Strict Disciplinarian:
He likes discipline and believes in corporal punishment. He keeps an iron ruler with him.

Sentimental:
On the last day when it is time to close the school he stands up to say something but he can speak nothing. He becomes emotional.

Patriot:
He is a true patriot. He praises the French language. He scolds the students for not learning French. He says that the Germans will make fun of them because they don’t know French. He writes “Viva La France !”

Lover of Nature:
He loves nature. He has grown a garden in the campus of the school. In this way he is a man of excellent character.

श्रीमान् हैमल अल्सॉस में एक अध्यापक है। वह फ्रेंच पढ़ाते हैं। हम उनके चरित्र के निम्नलिखित गुणों को देख सकते हैं।

फ्रेंच भाषा का सच्चा समर्पित अध्यापक:
अंतिम दिन वह फ्रेंच भाषा की प्रशंसा करते हैं। वह कहते हैं कि यह दुनिया की सबसे सुंदर व तार्किक भाषा है।

कर्तव्य के प्रति समर्पित:
स्थान को छोड़ने के अंतिम दिन भी वह विद्यार्थियों को गंभीरतापूर्वक पढ़ाते हैं। वह अंतिम क्षण तक पढ़ाते हैं।

कठोर अनुशासन वाले:
वह अनुशासन पसंद करते हैं तथा शारीरिक दण्ड देने में विश्वास रखते हैं। वह अपने साथ लोहे का डण्डा रखते हैं।

भावुक:
अंतिम दिन जब विद्यालय के बंद होने का समय आता है तो वह कुछ कहने के लिए खड़े होते हैं लेकिन वह कुछ भी नहीं बोल पाते हैं। वह भावुक हो जाते हैं।

देशभक्त:
वह देशभक्त हैं। वह फ्रेंच भाषा की प्रशंसा करते हैं। फ्रेंच नहीं सीखने के लिए वह विद्यार्थियों को फटकारते हैं। वह कहते हैं कि जर्मन लोग उनका इसलिए मजाक बनायेंगे क्योंकि वे फ्रेंच नहीं जानते हैं। उन्होंने लिखा “फ्राँस जिन्दाबाद!”

प्रकृतिप्रेमी:
वह प्रकृति से प्यार करते हैं। उन्होंने विद्यालय के प्रांगण में बगीचा उगाया है। इस प्रकार से वह एक उत्तम चरित्र वाले व्यक्ति हैं।

Question 4.
Draw a character sketch of M. Hamel.
M. Hamel का चरित्र-चित्रण कीजिये।
Answer:
In the beginning, M. Hamel emerges as a very strict teacher who always keeps a ruler in his hand. Apparently, it appears that M. Hamel does not understand the tender feelings of his students. He seems to be a typically hard task-master. But when he teaches his last lesson, the sensitive and thought-provoking teacher within him comes out. He is a great patriot and wants his students and countrymen to be proud of their nation and language. He exhorts them to come forward and to keep their language and culture intact and alive. M. Hamel is a very patient fellow. He teaches even his last lesson with great patience. To sum up, M. Hamel is a perfect teacher.

शुरू में, M. Hamel एक ऐसे कठोर अध्यापक के रूप में उभरकर आते हैं जो हमेशा अपने हाथ में एक डण्डा रखता है। सतही तौर पर ऐसा लगता है कि M. Hamel अपने छात्रों की सुकोमल भावनाओं को नहीं समझते हैं। वह विशिष्ट सख्त मिजाज व्यक्ति प्रतीत होते हैं। किन्तु जब वह अपना अन्तिम पाठ पढ़ाते हैं, तो उनके अन्दर का संवेदनशील और विचारोत्तेजक अध्यापक बाहर आ जाता है। वह एक महान देशभक्त हैं और चाहते हैं कि उनके विद्यार्थी तथा देशवासी अपने देश और अपनी भाषा के प्रति गौरव का अनुभव करें। वह उनका आह्वान करते हैं कि वे आगे आएं और अपनी भाषा तथा संस्कृति को सुरक्षित व जीवित रखें। M. Hamel एक बहुत ही धैर्यशाली व्यक्ति हैं। वह अपने अन्तिम पाठ को बहुत धैर्य के साथ पढ़ाते हैं। संक्षेप में, M. Hamel एक सम्पूर्ण शिक्षक हैं।

D. State True or False:

Question 1.
The Prussian soldiers were running.

Question 2.
That day everything had to be as quiet as Sunday morning.

Question 3.
His sister was packing their trunks.

Question 4.
Mr Hamel had no cap on his head.

Question 5.
Franz was happy to hear school is dismissed.

Answers
1. False
2. True
3. True
4. False
5. False

E. Creative Writing:

Question 1.
Imagine that you are little Franz and you see the crowd near the bulletin board. What ideas would come in your mind at that time?
ऐसी कल्पना करो कि आप एक छोटे फ्रज हो और आप सूचना पट्ट के समीप भीड़ देखते हो। उस समय आपके मन में क्या विचार आएंगे?
Answer:
If I were little Franz, I would stop at the bulletin board. I would read what was written on it. I would feel sorry for not learning my own mother tongue-French. I would be angry with the ruler who issued such an order. I would feel sorry for the teacher also.

Question 2.
Have you ever changed your opinion about someone or something that you had earlier liked or disliked? Narrate what led you to change your mind.
क्या आपने कभी किसी व्यक्ति या वस्तु के बारे में अपने विचार बदले हैं जिसे आप पहले पसंद या नापसंद करते थे? वर्णन कीजिये, किस चीज ने आपके मन को बदल दिया।
Answer:
My father is a teacher and a kind man. We have a maternal uncle. He was a rich man. We respected him very much. He used to visit our house time and again. We felt very happy when he visited our house. He used to bring sweets and fruits for us. My father used to lend him money. We didn’t know this but mother knew it. One day my father fell seriously ill and we needed money for his treatment. My mother sent me to him for the money. My maternal uncle turned out to be quite ungrateful. He rebuked me harshly and refused to return our money. I felt very bad. Since then I have no respect for him.

RBSE Class 12 English Panorama Chapter 9 Additional Questions

A. Answer the questions in 30-40 words each:
निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर 30-40 शब्दों में दीजिये।

Question 1.
What was Franz expected to be prepared with for school that day?
उस दिन फ्रेन्ज को स्कूल के लिए क्या तैयारी करनी थी?
Answer:
Franz was expected to be prepared with the use of ‘Participles’ that day. His teacher M. Hamel had said that he would question the children on participles.

उस दिन फ्रेन्ज से Participles के प्रयोग पर तैयार होने की अपेक्षा थी। उसके अध्यापक एम. हैमल ने कहा था कि वह बच्चों से Participles पर प्रश्न पूछेगे।

Question 2
Who was Wachter? Why did he call out to Franz?
वॉक्टर कौन था? उसने फ्रेन्ज को क्यों पुकारा?
Answer:
Wachter was a blacksmith. He was reading the news at the bulletin board. As Franz was hurrying to school, he called out him not to run so fast as he had plenty of time to get to school.

वॉक्टर एक लुहार था। वह सूचना-पट्ट पर समाचार पढ़ रहा था। जब फ्रेन्ज़ जल्दी-जल्दी स्कूल की ओर जा रहा था, उसने फ्रेन्ज को यह कहने के लिए पुकारा कि वह इतना तेज न दौड़े, वह समय पर अपने स्कूल पहुँच जाएगा।

Question 3.
What did Franz notice that was unusual about the school that day?
उस दिन फ्रेन्ज़ ने स्कूल में क्या कुछ असामान्य देखा?
OR
How was the scene in the school in the morning of the last lesson different from that on other days?
अन्तिम दिन की सुबह के स्कूल का दृश्य अन्य दिनों की अपेक्षा किस प्रकार भिन्न था?
Answer:
There used to be great hustle and bustle in the school on normal days but that day there was silence all about the school. No noise of the opening and closing of desks and of lessons being repeated loudly in unison could be heard.

सामान्य दिनों में स्कूल में बहुत अधिक चहल-पहल रहती थी परन्तु उस दिन पूरे स्कूल में शान्ति थी। मेजों के बन्द करने और खोलने तथा समवेत स्वर में पाठों के दुहराने की कोई आवाज सुनाई नहीं पड़ रही थी।

Question 4.
What was M. Hamel doing when Franz looked through the window of his classroom?
जब फ्रेन्ज ने अपनी कक्षा की खिड़की से अन्दर झाँका तब एम. हैमल क्या कर रहे थे?
Answer:
When Franz looked through the window of his classroom, M. Hamel was walking up and down with his terrible iron ruler under his arm. He was wearing his ceremonial dress and looked calm and gentle.

जब फ्रेन्ज ने अपनी कक्षा की खिड़की से अन्दर झाँका तब एम. हैमल अपनी बाजू के नीचे अपने लोहे के भयानक डण्डे के साथ इधर-उधर टहल रहे थे। वह अपनी विशेष अवसरों पर पहनी जाने वाली पोशाक पहने हुए थे और शान्त व विनम्र दिख रहे थे।

Question 5.
What changes did the order from Berlin cause in school that day?
उस दिन बर्लिन से प्राप्त आदेश से स्कूल में कौन-कौन से बदलाव आए?
Answer:
The order caused several changes in the school. Firstly, there was no hustle and bustle in the school. Secondly, even the villagers were sitting in the class and thirdly, all learnt very attentively.

आदेश ने स्कूल में कई परिवर्तन ला दिए। सर्वप्रथम, विद्यालय में कोई चहल-पहल नहीं थी। दूसरा, कक्षा में गाँव वाले भी बैठे थे और तीसरा परिवर्तन यह था कि सभी ने बहुत ध्यानपूर्वक पढ़ाई की।

Question 6.
What did M. Hamel ask Franz to do when he entered the class?
जब Franz ने कक्षा में प्रवेश किया तब एम. हैमल ने उससे क्या करने को कहा?
Answer:
When Franz entered the class, M. Hamel asked him gently to go to his place quickly. He also said that he was going to begin to teach his lesson without him.

जब फ्रेन्ज ने कक्षा में प्रवेश किया तब एम. हैमल ने उससे दयालुतापूर्वक कहा कि वह शीघ्र ही अपनी सीट पर बैठ जाये। उन्होंने यह भी कहा कि वे उसके बिना ही पाठ प्रारंभ कर करने वाले थे।

Question 7.
Why were the villagers sitting on the back benches of the class that day?
कक्षा की पीछे की सीटों पर उस दिन ग्रामीण क्यों बैठे थे?
Answer:
The villagers were sitting on the back benches of the class that day as they were sorry that they had not gone to school. They were feeling a pining for their language. They also wanted to thank M. Hamel for his long and faithful service.

गाँव के लोग उस दिन पीछे की बेन्चों पर बैठे थे क्योंकि उन्हें दु:ख था कि वे स्कूल नहीं गये थे। वे अपनी भाषा के लिए चाह महसूस कर रहे थे। वे एम. हैमल को उनकी लम्बी और वफादारीपूर्ण सेवा के लिए धन्यवाद भी देना चाहते थे।

Question 8.
What was the condition of Franz when his name was called in the class?
जब फ्रेन्ज का नाम कक्षा में पुकारा गया तब उसकी कैसी दशा थी?
Answer:
When Franz’s name was called in the class, his heart was beating wildly and he did not dare look up as he did not know anything about the rules of participles. He was in utter confusion.

जब फ्रेन्ज का नाम पुकारा गया तब उसका हृदय अनियंत्रित रूप से धक्-धक् कर रहा था और उसे ऊपर देखने का साहस भी नहीं हो रहा था क्योंकि वह Participles के नियमों के बारे में कुछ भी नहीं जानता था। वह पूरी तरह भ्रमित था।

Question 9.
Why was M. Hamel constantly looking at various things in the room?
एम. हैमल कमरे की विभिन्न चीजों को लगातार क्यों देख रहे थे?
Answer:
He was constantly looking at various things in the room because he wanted to fix in his mind just how everything looked in that little school-room. He wanted to keep them in his memory.

वे कमरे की विभिन्न वस्तुओं को लगातार देख रहे थे क्योंकि वे अपने दिमाग में उस छोटे स्कूल कक्ष की प्रत्येक वस्तु को ठीक उसी तरह स्थिर कर लेना चाहते थे जैसी वे दिख रही थीं। वह उन्हें अपनी स्मृति में रखना चाहते थे।

Question 10.
How will the Germans reproach the French?
जर्मन लोग फ्राँसीसियों की किस तरह आलोचना करेंगे?
Answer:
If the French doesn’t have any knowledge of their language, the Germans will reproach the French saying that they pretend to be Frenchmen and yet they can neither speak nor write their own language.

यदि फ्रांस के लोगों को अपनी भाषा का ज्ञान नहीं होगा तो जर्मनी के लोग यह कहते हुए उनकी आलोचना करेंगे कि वे बनते तो फ्राँसीसी हैं तथापि वे न तो अपनी भाषा बोल सकते हैं और न लिख सकते हैं।

Question 11.
“What a thunderclap these words were to me !” – Which were the words that shocked and surprised Franz?
”ये शब्द मेरे लिए बिजली की कड़कड़ाहट के समान थे।” वे कौन से शब्द थे। जिन्होंने फ्रेन्ज को स्तब्ध व आश्चर्यचकित कर दिया था?
Answer:
The words of M. Hamel which shocked and surprised Franz were – “My children, this is the last lesson I shall give you. The order has come from Berlin to teach only German in the schools of Alsace and Lorraine. This is your last French lesson”.

एम. हैमल के वे शब्द जिन्होंने फ्रेन्ज को स्तब्ध और आश्चर्यचकित कर दिया था वे थे “मेरे बच्चो! यह अन्तिम पाठ होगा जो मैं आपको पढ़ाऊँगा। बर्लिन से आदेश आया है कि अल्सास और लॉरेन के विद्यालयों में केवल जर्मन भाषा पढाई जाएगी। यह आपको फ्रेन्च भाषा का अन्तिम पाठ है।”

Question 12.
How did the people in Alsace put off learning?
अल्सास के लोग पढ़ाई को पीछे के लिए किस प्रकार टालते थे?
Answer:
The people in Alsace did not pay proper attention to the study of their language. They thought that they had plenty of time and that they would learn it some other day. That is how they put off their learning.

अल्सास के लोग अपनी भाषा के अध्ययन पर ठीक से ध्यान नहीं देते थे। वे सोचते थे कि उनके पास बहुत समय है और यह कि वे इसे किसी और दिन सीख लेंगे। इसी तरह वे अपनी शिक्षा को पीछे के लिए टालते थे।

Question 13.
How did M. Hamel blame himself for Franz’s not learning French?
एम. हैमल ने फ्रेन्ज के फ्रान्सीसी भाषा न सीखने के लिए अपने आपको दोषी किस प्रकार माना?
Answer:
M. Hamel blamed himself for Franz’s not learning French as he often sent him to water his flowers instead of learning his lesson. M. Hamel also gave the children a holiday when he (M. Hamel) wanted to go fishing.

एम. हैमल ने फ्रेन्ज के फ्रांसीसी भाषा न सीखने के लिए अपने आपको दोषी बताया क्योंकि वह अक्सर उसे पाठ याद करने के स्थान पर अपने फूलों में पानी देने के लिए भेज देते थे। एम. हैमल जब मछली के शिकार पर जाना चाहते थे तब वे बच्चों को छुट्टी भी दे देते थे।

Question 14.
Why did Franz praise the courage of M. Hamel?
फ्रेन्ज ने एम. हैमल के साहस की प्रशंसा क्यों की?
Answer:
Franz praised the courage of M. Hamel because he and his family had to leave the country the next day. Though his heart might have been broken to leave it, he was teaching everything according to the time-table with great patience.

फ्रेन्ज ने एम. हैमल के साहस की इसलिए प्रशंसा की क्योंकि उनको और उनके परिवार को अगले दिन देश के बाहर जाना था। यद्यपि देश छोड़ने में उनका हृदय विदीर्ण हो गया होगा फिर भी वे धैर्यपूर्वक प्रत्येक बात को टाइम-टेबिल के अनुसार पढ़ा रहे थे।

Question 15.
How did M. Hamel wish his country before the close of the school that day?
उस दिन स्कूल समाप्ति से पहले एम. हैमल ने अपने देश के प्रति अभिलाषा किस प्रकार प्रकट की?
Answer:
M. Hamel appealed to his class to always hold on to their language. He turned to the blackboard, took a piece of chalk, and bearing on with all his might, he wrote as large as he could: “Viva La France!”

एम. हैमल ने अपनी कक्षा से सदा अपनी भाषा से जुड़े रहने का आग्रह किया। वह श्यामपट्ट की तरफ़ मुडे, चॉक का एक टुकड़ा लिया, और अपनी पूरी शक्ति बटोरकर, उन्होंने इतना बड़ा जितना बड़ा वह लिख सकते थे, लिखा: “फ्रान्स जिन्दाबाद।”

Question 16.
What looked like little flags floating everywhere in the school room?
क्या चीज़ स्कूल के कमरे में सब जगह छोटे झण्डों की भाँति लहराती हुई लग रही थी?
Answer:
For a lesson in writing, M. Hamel had new copies for the students, written in a beautiful round hand-France, Alsace, France, Alsace. They looked like little flags floating everywhere in the schoolroom, hung from the rod at the top of their desks.

लेखन के पाठ के लिए एम. हैमल के पास विद्यार्थियों के लिए नई कापियाँ थीं जिन पर सुन्दर वक्राकार शैली के हस्तलेख में लिखा गया था- फ्रान्स, अल्सास, फ्रान्स, अल्सास। वे (कापियाँ) स्कूल कक्ष में उनकी मेजों के ऊपर छड़ी से लटकी हुई लहराती हुई झंडियों जैसी लग रही थीं।

Question 17.
How can you say that the students exhibited complete attention on the day the last lesson was taught?
आप कैसे कह सकते हो कि अन्तिम पाठ पढ़ाये जाने के दिन छात्रों ने पूर्ण एकाग्रता का प्रदर्शन किया?
Answer;
On the day the last lesson was taught, all the students set to work very quietly. There was pin-drop silence in the classroom. The only sound audible was the sound of scratching of pens on paper. Even the little students worked very attentively. All this shows complete full attention.

जिस दिन अन्तिम पाठ पढ़ाया गया, सभी विद्यार्थी चुपचाप काम में जुट गये। कक्षा-कक्ष में पूरी शान्ति थी। केवल कागज पर पेनों की रगड़ की आवाज ही सुनाई पड़ रही थी। छोटे बच्चे भी बहुत ध्यानपूर्वक काम कर रहे थे। ये सब बातें उनकी अत्यधिक एकाग्रता दर्शाती हैं।

Question 18.
When did M. Hamel finish his last lesson?
एम. हैमल ने अपना अन्तिम पाठ कब समाप्त किया?
Answer:
Although M. Hamel wanted to give as much as possible in just one day, yet he finished his last lesson when the Church-clock struck twelve and the trumpets of the Prussians sounded under the windows.

यद्यपि M. Hamel सिर्फ एक दिन में अधिकाधिक देना चाहते थे तथापि उन्होंने अपना अन्तिम पाठ उस समय समाप्त कर दिया जब चर्च की घड़ी ने 12 बजाये और खिड़कियों के नीचे प्रशियन सैनिकों की तुरहियाँ बजती सुनाई दीं।

B. Answer the following questions in 125 words each:
निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर 125 शब्दों में दीजिये:

Question 1.
The people in this story suddenly realise how precious their language is to them. What shows you this? Why does this happen?
इस कहानी में लोग अचानक महसूस करते हैं कि उनकी अपनी भाषा उनके लिए कितनी मूल्यवान है। यह बात तुम्हें क्या दर्शाती है? ऐसा क्यों होता है?
Answer:
People take things for granted when they have plenty of them. But their absence makes the heart grow fonder of those very things. The teacher’s putting on his ceremonial dress to deliver his last lesson and the presence of the villagers in his class shows that the people suddenly realise that their language is extremely precious to them. Franz regrets not having taken his lessons seriously. Even his teacher regrets not having taken his teaching seriously. All these facts show that they suddenly realise the importance of their language. When people come to know that their own language, French, will no longer be taught in their schools and they will be forced to read German instead, the importance of their own language suddenly dawns upon them.

जब लोगों के पास किसी चीज की कमी नहीं होती तो वे उन चीजों के प्रति अधिक ध्यान नहीं देते हैं। परन्तु उन चीजों की कमी हमें उन्हीं चीजों के प्रति आकर्षित करती है। अध्यापक को अपने अन्तिम पाठ के लिए उत्सव पर पहने जाने वाले कपड़े पहनना और गाँव वालों की भी कक्षा में उपस्थिति दर्शाती है कि लोग अचानक महसूस करते हैं कि उनकी भाषा उनके लिए अत्यन्त मूल्यवान है। अपने पाठों को गम्भीरता से न लेने पर फ्रेन्ज पश्चाताप करता है। यहाँ तक कि उसका अध्यापक अपने अध्यापन को गम्भीरता से न लेने पर पश्चाताप करता है। ये सभी तथ्य दर्शाते हैं कि उन्हें अचानक अपनी भाषा का महत्व समझ में आ गया। जब लोगों को पता चलता है कि उनकी अपनी भाषा French स्कूलों में अब नहीं पढ़ाई जाएगी और यह कि इसके स्थान पर उन्हें German पढ़ने के लिए मजबूर किया जाएगा तो वे भावुक हो उठते हैं। उन्हें अचानक अपनी भाषा का महत्व समझ आ जाता है।

Question 2.
Franz thinks, “Will they make them sing in German, even the pigeons?” What could this mean?
फ्रेन्ज सोचता है – “क्या वे कबूतरों से भी जर्मन भाषा में गीत गवायेंगे?’ इसका क्या अर्थ हो सकता है?
Answer:
A few pigeons were cooing on the roof. When Franz heard them cooing, it occurred to him whether the German soldiers would force even pigeons to speak German. It was as if they were trying to achieve the impossible. Franz was of the opinion that nobody is powerful enough to replace a language which people of a particular place speak, simply by imposing another language in schools. Just as birds speak the language of their own, people speak their mother tongue. A language is something that comes naturally to people. Nobody should be allowed to force anyone to change his or her mother tongue. Such an attempt would always be futile. Just as pigeons can’t be made to change their language, nobody can be forced to change their language.

कुछ कबूतर छत पर गुटरगूं कर रहे थे। जब फ्रेन्ज ने उन्हें गुटरगूं करते हुए सुना तो उसके दिमाग में आया कि क्या जर्मन सैनिक कबूतरों से भी जर्मन भाषा बुलवायेंगे। यह असम्भव को प्राप्त करने जैसी बात थी। फ्रेन्ज का विचार था कि कोई भी इतना शक्तिशाली नहीं हो सकता कि लोगों द्वारा बोली जाने वाली भाषा को विद्यालयों में अन्य भाषा लगाकर प्रतिस्थापित कर दे। जिस तरह पक्षी अपनी भाषा में बोलते हैं, लोग उसी तरह अपनी मातृभाषा में बोलते हैं। एक भाषा वह होती है। जिसे लोग स्वाभाविक रूप से बोलते हैं। किसी को भी किसी की मातृभाषा बदलवाने के लिए दबाव नहीं डालना चाहिए। ऐसी कोई भी कोशिश सदैव व्यर्थ जाएगी। जिस तरह कबूतरों की भाषा नहीं बदलवाई जा सकती है, उसी प्रकार किसी को भी उसकी भाषा बदलने को मजबूर नहीं किया जा सकता है।

Question 3.
What is your opinion about the title of the lesson “The Last Lesson’?
पाठ के शीर्षक ‘The Last Lesson’ के विषय में आपका क्या विचार है?
Answer;
In my opinion the title of the lesson ‘The Last Lesson’ is quite appropriate. In the lesson, M. Hamel is a very dedicated French teacher in one of the schools of Alsace. The lesson presents a very vivid description of M. Hamel’s last lesson in the class on the last day. A very emotional scene of M. Hamel’s departure is presented in the lesson. There came an order from Berlin banning the teaching of French. According to the order, only German was to be taught in the schools of Alsace and Lorraine. Addressing the students he said, “My children, this is my last lesson in French”. On his last day, he taught so well that every student was attentive to him, and everybody enjoyed his class. At the end of the story the phrase ‘The Last Lesson’ touches our heart. Herein lies the suitability of the title.

मेरे विचार में पाठ का शीर्षक ‘The Last Lesson’ एकदम सटीक है। पाठ में Alsace के एक विद्यालय में एम. हैमल, जो कि फ्रेन्च भाषा के अध्यापक हैं, काफी समर्पित हैं। यह पाठ एम. हैमल द्वारा कक्षा में पढ़ाये जाने वाले के अन्तिम दिन के अन्तिम पाठ (फ्रेन्च भाषा का) का बहुत ही सजीव वर्णन प्रस्तुत करता है। पाठ में एम. हैमल के प्रस्थान (स्कूल छोड़ने) का बहुत ही भावुक दृश्य प्रस्तुत किया गया है। बर्लिन से फ्रेन्च भाषा पढाने पर रोक सम्बन्धी आदेश आया था। इस आदेश के अनुसार Alsace और Lorraine के विद्यालयों में अब सिर्फ जर्मन भाषा पढाई जानी थी। एम. हैमल ने कक्षा को सम्बोधित करते हुए कहा, ‘मेरे बच्चो, यह फ्रेन्च भाषा में मेरा अन्तिम पाठ है।” उन्होंने अपने अन्तिम दिन इसे इतनी अच्छी तरह से पढायो कि कक्षा में प्रत्येक विद्यार्थी का ध्यान उनकी ओर था, और प्रत्येक ने उनकी कक्षा का आनन्द उठाया। कहानी के अन्त में शब्द समूह ‘The Last Lesson’ हमारे दिल को छूता है। इसी में शीर्षक की उपयुक्तता निहित है।

Question 4.
Why does the teacher feel that they all have a great deal to reproach themselves with?
अध्यापक को ऐसा क्यों महसूस होता है कि वे सभी दोषी हैं?
Answer:
The teacher is teaching his last lesson. He loves his own language, French, very much. In his opinion, nobody was serious enough to study French. Children did not take their lesson seriously. Their parents were not anxious enough to make them learn. They preferred to put them to work on a farm or at the mills, so as to get a little more money. The teacher feels that he was equally guilty. He had often sent the students to water his flowers instead of learning their lessons. He also often gave them holidays when he wanted to go fishing. He wants the entire nation to take care of their education. He further says that it is a very bad habit of ours to put off learning until tomorrow. Hence we all are guilty.

अध्यापक अपना अन्तिम पाठ पढ़ा रहा है। वह अपनी भाषा फ्रेन्च को बहुत प्यार करता है। उसके विचार में कोई भी फ्रेन्च भाषा के अध्ययन के प्रति पर्याप्त गम्भीर नहीं था। बच्चे अपने पाठों को गम्भीरता से नहीं पढ़ते थे। उनके माता-पिता को उनकी पढ़ाई की पर्याप्त चिन्ता नहीं थी। वे उनसे खेतों में या मिलों में काम करवाना ज्यादा पसन्द करते थे ताकि उन्हें थोड़ा और धन मिल जाए। अध्यापक महसूस करता है कि वह भी उतना ही दोषी था। उसने पाठ याद करने की बजाय अपने छात्रों को अक्सर अपने फूलों में पानी देने भेजा था। इसके अलावा उसने अक्सर उनकी छुट्टी की थी जब वह मछली पकड़ने जाता था। वह चाहता है कि उनका पूरा देश शिक्षा की चिन्ता करे। वह पुनः कहता है कि कुछ सीखने को कल के लिये स्थगित करने की हमारी आदत बहुत बुरी है। अतः हम सभी दोषी हैं।

Question 5.
What message does the teacher want to convey in his last lesson?
अपने अन्तिम पाठ में अध्यापक क्या सन्देश देना चाहता है?
Answer:
Prussia has taken over the Alsace and Lorraine region of France in the war. They have sent an order that French will no longer be taught in the schools of Alsace and Lorraine. They will learn only German now. The teacher M. Hamel is teaching his last lesson in French. He wants to make the most of his last lesson. He wants all of them to take their education seriously and to learn their own language, i.e. French properly. He says when people are enslaved, as long as they hold fast to their language it is as if they had the key to their prison. He intends to make them proud of their country and language. And if they want to liberate themselves, they should hold on to their mother tongue.

प्रशिया ने युद्ध में फ्रान्स के दो शहरों अल्सास और लॉरेन पर अधिकार कर लिया है। उन्होंने एक आदेश भेजा है कि Alsace तथा Lorraine के स्कूलों में अब फ्रेन्च नहीं पढ़ाई जाएगी। वे अब सिर्फ जर्मन पढ़ेंगे। अध्यापक M. Hamel फ्रेन्च में अपना अन्तिम पाठ पढ़ा रहे हैं। वह अपने अन्तिम पाठ से पूरा-पूरा फायदा उठाना चाहते हैं। वह चाहते हैं कि वे सब अपनी शिक्षा को गम्भीरता से लें और अपनी भाषा फ्रेन्च को भली भाँति सीखें। वह कहते हैं कि जब किसी देश के लोग गुलाम होते हैं, तो जब तक वे अपनी भाषा से मजबूती से जुड़े रहते हैं। वह ऐसा ही है मानो उनकी जेल की चाबी उनके पास है। उनका इरादा उन्हें उनकी भाषा और देश के प्रति गर्व महसूस करवाने का है। और यदि वे स्वतंत्रता चाहते हैं तो उन्हें अपनी मातृभाषा से चिपके रहना चाहिए।