Rajasthan Board RBSE Class 12 English Panorama Chapter 2 The Portrait of a Lady

RBSE Class 12 English Panorama Chapter 2 Textual Questions

Comprehension Questions
A. Choose the correct alternative:

Question 1.
The grandmother fed the dogs with…
(a) rice
(b) stale chapattis
(c) sugar
(d) bread

Question 2.
The grandmother worked on a …………….
(a) sewing machine
(b) spinning wheel
(c) gas stove
(d) sitar

Question 3.
Where did the author go for higher studies?
(a) Lucknow
(b) Delhi
(c) Abroad
(d) Calcutta
Question 4.
The author found the thought of his grandmother once having been young and pretty almost
(a) absurd
(b) evolving
(c) undignified
(d) fantastic
Answer:
1. (b)
2. (b)
3. (c)
4. (b)

B. Answer the following questions in 30-40 words each:
Question 1.
“That was the turning point in our friendship”. What was the turning point?
“वह हमारी मित्रता में निर्णायक मोड़ था।” निर्णायक मोड़ क्या था?
Answer:
Being settled in the city with the author’s parents was the turning point in their friendship. Now his grandmother could not go to school with him and help him in his studies.

अपने माता-पिता के साथ लेखक व उनकी दादी का शहर में बसना उनकी मित्रता में निर्णायक मोड़ था। अब दादी माँ उसके साथ विद्यालय नहीं जा सकती थीं और उसके अध्ययन में उसकी मदद नहीं कर सकती थीं।

Question 2.
How did the grandmother help her grandson in the morning before going to school?
विद्यालय जाने से पहले दादी माँ अपने पौत्र की सुबह विद्यालय जाने में किस प्रकार से मदद किया करती थीं?
Answer:
She woke him up in the morning and got him ready for school. She would fetch his wooden slate which she had washed and plastered with yellow chalk, tiny earthen ink-pot and a red pen, tie them in a bundle and hand it to him. She gave him breakfast before going to school.

वह उसे सुबह उठातीं और उसे विद्यालय के लिए तैयार किया करती थीं। वह उसकी लकड़ी की उस तख्ती को लेकर आती थीं जिसे वह धोकर पीले चॉक से पोत देती थीं, छोटी-सी मिट्टी की दवात और लाल कलम लातीं, इन सबको एक गठरी में बाँधतीं और इसे उसे सौंप देती थीं। विद्यालय जाने से पूर्व वह उसे नाश्ता देती थीं।

Question 3.
What were the grandmother’s views about learning music?
संगीत सीखने के बारे में दादी माँ का क्या दृष्टिकोण था?
Answer:
The grandmother thought that music had a lewd association. It was the monopoly of harlots and beggars. It was not meant for gentlefolk. She did not like it at all.

दादी माँ के विचार से संगीत का संबंध कामुकता से था। इस पर वेश्याओं एवं भिखारियों का एकाधिकार था। यह भद्र पुरुषों की चीज़ नहीं थी। वह इसे बिल्कुल पसन्द नहीं करती थीं।

Question 4.
Describe the grandmother’s association with the sparrows.
दादी माँ के गौरेयाओं से संबंध का वर्णन कीजिए।
Answer:
In the afternoon the grandmother would feed the sparrows. Sparrows used to come and perch on her legs, shoulders, and even on her head. She smiled but never shooed them away. On her death, they also mourned. They took no notice of the bread thrown to them.

दोपहर के समय दादी माँ गौरेयाओं को खिलाया करती थीं। गौरेयाएँ आकर उनकी टाँगों पर, कंधों पर तथा सिर पर भी बैठ जाया करती थीं। वह मुस्करा देती थीं लेकिन कभी भी उन्हें नहीं भगाती थीं। उनकी मृत्यु पर वे भी दु:खी हुईं। उन्होंने अपने लिए डाले गये रोटी के टुकड़ों पर कोई ध्यान नहीं दिया।

Question 5.
What did the grandmother do on the eve of the author’s return from abroad?
लेखक के विदेश से लौटने की शाम को दादी माँ ने क्या किया? (S. S. Exam 2018)
Answer:
She collected the women of the neighbourhood, got an old drum and started to sing. For several hours she thumped the sagging skins of the dilapidated drum and sang of the homecoming of warriors.

उन्होंने अपने पड़ोस की महिलाओं को एकत्रित किया, एक पुराना सा ढोल लिया और गाने लगीं। कई घण्टों तक वह लटकते हुए टूटे ढोल के चमड़े पर थाप देती रहीं और (उन्होंने) योद्धाओं के घर वापसी के गीत भी गाये।

C. Answer the following questions in 125 words each:
निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर 125 शब्दों में दें:

Question 1.
Write a character sketch of the author’s grandmother.
लेखक की दादी माँ का चरित्र चित्रण कीजिये।
Answer:
The grandmother was a typical Indian village-dwelling old lady who felt the pangs of seclusion caused by her migration to the city. She was a silent onlooker of the social changes taking place in modern India. She was very old. Her wrinkled face seemed to have remained as it was for the last twenty years. She was short, fat and slightly bent. She was a religious lady. She spent all her life in telling beads and praying. She read scriptures. She used to feed dogs in the village and sparrows in the city. Thus, she was a true lover of animals. She never shooed away the sparrows. She was a lady of strong character. She had her own convictions which she rigorously followed. She had foreseen her end. She told in advance that her end had come, though it was a mild fever. The character of the grandmother makes us sentimental.

दादी एक ठेठ भारतीय ग्रामीण वृद्ध महिला थीं जो शहर में अपने प्रवास से पैदा हुए दु:ख को महसूस करती थीं। आधुनिक भारत में जो परिर्वतन हो रहे हैं वह उनकी मूक दृष्टा थीं। वह बहुत ही वृद्ध थीं। उनका झुर्रादार चेहरा पिछले बीस वर्षों से ऐसा ही प्रतीत होता था। वह छोटी, मोटी तथा थोड़ी सी कुबड़ी थीं। वह एक धार्मिक महिला थीं। उन्होंने अपना सारा जीवन माला जपने वे प्रार्थना करने में बिताया था। वह धर्मग्रंथ पढ़ती थीं। वह गाँव में कुत्तों को व शहर में चिड़ियाँ को खिलाया करती थीं। इस प्रकार से वह जानवरों की सच्ची प्रेमी थीं। वह कभी भी चिड़ियाँ को झिड़क कर दूर नहीं किया करती थीं। वह दृढ़ चरित्र वाली महिला थीं। उनके अपने विचार थे जिनका उन्होंने दृढ़ता से पालन किया। उन्होंने अपने अंत के बारे में पहले से ही जान लिया था। उन्होंने पहले से यह बता दिया था कि उनका अंत आ गया था यद्यपि यह केवल हल्का बुखार ही था। दादी का चरित्र हमें भावुक कर देता है।

Question 2.
‘Everybody including the sparrows mourned over the grandmother’s death’. Discuss.
‘गौरेयों सहित सभी ने दादी माँ की मृत्यु पर दुःख व्यक्त किया।’ विचार-विमर्श कीजिये।
Answer:
When the grandmother went to the city, she took to feed the sparrows in the afternoon. The sparrows became so attached to her that they used to sit on her legs, shoulders and even on her head. She used to smile but never shooed them away. When the grandmother died, every family member mourned. This is natural for humans but when the family members went to make arrangements for her funeral, thousands of sparrows sat scattered on the floor all over the verandah and in her room right up to where she lay dead and stiff wrapped in the red shroud. They were not chirping. Instead, they were sitting quietly. When the author’s mother threw bread crumbs to the sparrows, they took no notice of it. All these things show that everybody including the sparrows mourned the grandmother’s death.

जब दादी माँ शहर में रहने के लिए चली गईं तो उन्होंने दोपहर में गौरेयों को खिलाना शुरू कर दिया। उन गौरेयाओं का भी दादी माँ से इतना लगाव हो गया कि वे उनकी टांगों, कंधों तथा सिर पर भी बैठ जाया करती थीं। वे मुस्करा देती थी लेकिन उन्हें दूर नहीं भगाती थीं। जब दादी माँ गुजर गईं तो परिवार का प्रत्येक सदस्य दु:खी हुआ। यह मनुष्यों के लिए स्वाभाविक है लेकिन जब परिवार के सदस्य अंतिम संस्कार की व्यवस्था करने के लिए गए तो सारे बरामदे और उनके कमरे में और वहाँ तक जहाँ तक वह मोटे लाल कपड़े में लिपटी हुई पड़ी थीं, हजारों गौरेयाँ फर्श पर बिखरी हुई बैठ गईं। वे चहचहा नहीं रही थीं। इसके बजाय वे चुपचाप बैठी हुई थीं। जब लेखक की माँ ने उनके सामने रोटी के टुकड़े डाले तो उन्होंने इस पर ध्यान नहीं दिया। इन सभी बातों से पता चलता है कि गौरेयाओं सहित सभी को दादी माँ की मृत्यु पर दु:ख था।

Question 3.
Trace the various phases of the author’s relationship with his grandmother.
लेखक का दादी माँ से संबंध की विभिन्न अवस्थाओं को पता लगाइये।
Answer:
The various phases of the author’s relationship with his grandmother were as follow:
(a) In the village:
They were always together in the village. The grandmother used to bathe him and get him ready for the school. She used to go to school with him because school was attached to the temple.
(b) In the city:
The author started going to an English school. Now the grandmother could not come to school with the author because he went to school by motor bus. She could not help him in his studies. The grandmother began to spend her time by praying and feeding the sparrows. She did not like the idea of music being taught and rarely talked to him.
(c) When the author went to university:
He was given a separate room. The last link of friendship was broken. The grandmother spent all her time in spinning, praying and feeding sparrows.

लेखक के दादी के साथ उसके सम्बन्ध की विभिन्न अवस्थाएँ निम्नलिखित रहीं:
(अ) गाँव में:
गाँव में वे सदा साथ रहते। दादी उसे नहलातीं और स्कूल के लिए तैयार करतीं। यह उसके साथ विद्यालय जाया करती थीं क्योंकि विद्यालय मंदिर के साथ लगा हुआ था।
(ब) शहर में:
लेखक ने एक अंग्रेजी स्कूल में जाना शुरू किया। अब दादी लेखक के साथ विद्यालय नहीं आ सकती थीं क्योंकि वह विद्यालय बस से जाता था। दादी लेखक की पढ़ाई में उसकी मदद नहीं कर पाती थीं। उन्होंने अपना समय प्रार्थना करने एवं चिड़ियों को दाना खिलाने में व्यतीत करना शुरू कर दिया। उन्हें संगीत सिखाये जाने का विचार पसंद नहीं आया तथा लेखक से बातें करना छोड़ दिया।
(स) जब लेखक विश्वविद्यालय गया:
लेखक को अपना अलग कमरा दे दिया गया। मित्रता का आखिरी सम्बन्ध भी टूट गया। दादी माँ अपना सारा समय चरखा कातने, प्रार्थना करने और चिडियों को दाना खिलाने में बितातीं।

Question 4.
What was the common link of friendship between the author and his grandmother? How did the grandmother behave when their friendship was snapped?
लेखक और उनकी दादी के बीच मित्रता को साझा संबंध क्या था? जब उनकी मित्रता टूट गई तो दादी ने कैसा बर्ताव किया?
Answer:
The author and his grandmother were living together. Both cared for each other. And it was the common link of friendship between them. When they were in the village, she used to help the author in every way. But when they went to the city, there came a turning point. Now she could not go to school with the author and help him with his lessons. She was disturbed to know about the teaching of music. After this, she did not complain but became silent. She rarely talked to him. When the author went to university, he was given a room of his own. The common link of friendship was snapped. The grandmother accepted her seclusion with resignation. She took spinning-wheel from sunrise to sunset and reciting prayers. In the afternoon she used to feed the sparrows.

लेखक और उसकी दादी साथ-साथ रह रहे थे। दोनों ही एक दूसरे का ध्यान रखा करते थे। और यही उनके बीच में मित्रता को साझा संबध था। जब वे गाँव में थे तो वह लेखक की प्रत्येक प्रकार से मदद किया करती थीं। लेकिन जब वे शहर चले गये तो यह एक निर्णायक क्षण था। अब वह लेखक के साथ विद्यालय नहीं जा सकती थीं और उसके पाठों में मदद नहीं कर सकती थीं। वह संगीत सिखाये जाने के बारे में जानकर परेशान हो गईं। इसके बाद उन्होंने कोई शिकायत नहीं की, लेकिन चुप हो गईं। वह बमुश्किल ही उससे बोलती थीं। जब लेखक विश्वविद्यालय गया तो उसे स्वयं का कमरा दे दिया गया। मित्रता का साझा संबंध टूट गया। दादी ने अपने एकान्त को सब्र के साथ स्वीकार कर लिया। उन्होंने सूर्योदय से सूर्यास्त तक प्रार्थनाएं करते हुए चरखा कातना शुरू कर दिया। दोपहर बाद वह गौरेयाओं को खिलाया करती थीं।

Question 5.
“She was like the winter landscape in the mountains, an expanse of pure white serenity breathing peace and contentment.” How far do you agree with the author’s description of his grandmother as stated above?
“वह पर्वतों के बीच शीत के प्राकृतिक दृश्य के समान थीं, जहाँ शुद्ध, श्वेत शान्ति का विस्तार, शांति व संतोष की साँ लेता है।” लेखक द्वारा अपनी दादी माँ के उपर्युक्त वर्णन से आप कहाँ तक सहमत हैं?
Answer:
I agree with the description. The colour white represents or signifies purity, innocence, divinity, serenity and light. Here in the portrait, the grandmother is a symbol of all these qualities. She wore spotless white clothes. She used to tell the beads of her rosary all the time and was always busy praying. In the village, she used to go to temple daily, read the scriptures and feed village dogs. She was disturbed upon knowing that English schools taught nothing about God and the scriptures. She used to spin at the spinning wheel and recite prayers from sunrise to sunset. The feeding of the sparrows was the happiest half-hour of the day for her. The sparrows even sat on her legs, shoulders and head. Such was her innocence.

मैं इस वर्णन से सहमत हूँ। सफेद रंग शुद्धता, भोलेपन, दिव्यता, गंभीरता तथा प्रकाश को प्रकट करता है। यहाँ पर उक्त शब्दचित्र में दादी इन सभी गुणों की प्रतीक हैं। वह बेदाग सफेद कपड़े पहना करती थीं। वह हर समय अपनी माला को जपा करती थीं। वह हमेशा ही प्रार्थना में व्यस्त रहती थीं। गाँव में वह प्रतिदिन मंदिर जाया करती थीं। वह धर्मग्रंथ पढ़ा करती थीं। वह गाँव के कुत्तों को खिलाया करती थीं। वह यह जानकर परेशान हो गईं कि अंग्रेजी विद्यालय में ईश्वर तथा धर्मग्रंथों के बारे में कुछ भी नहीं पढ़ाया जाता था। वह सूर्योदय से सूर्यास्त तक चरखा काता करतीं व प्रार्थना किया करती थीं। गौरेयाओं को खिलाना उनके लिए दिन का सबसे अधिक प्रसन्नता देने वाला आधा घंटा होता था। भले ही गौरेयाएं उनकी टाँगों, कंधों तथा सिर पर बैठ जाया करती थीं। यह उनका भोलापन ही था।

D. Creative Writing:
Recreate your relationship with your grandparents.
Answer:
I have a grandmother. She is a religious lady. She is old but she spends most of her time in telling beads and saying prayers. She goes to the temple every day. In the evening when I return from school, she tries to talk to me. But I don’t like her talking and asking questions about my activities. I think that she is trying to poke her nose into my matters. But now I have understood that she is a typical Indian village woman. She is an onlooker of the changes taking place in our society. I will respect her now. I will answer her questions. I suggest that everybody must respect their elders because they expect it from us and they deserve this.

RBSE Class 12 English Panorama Chapter 2 Additional Questions

A. Answer the following questions in about 30 to 40 words each:
निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर 30 से 40 शब्दों में दीजिये:

Question 1.
How did the author’s grandfather look?
लेखक के दादाजी कैसे दिखाई देते थे?
Answer:
The author’s grandfather wore a big turban and loose-fitting clothes. His long beard covered the best part of his chest and he looked at least a hundred years old.

लेखक के दादाजी एक बड़ी सी पगड़ी व ढीले कपड़े पहना करते थे। उनकी लम्बी सफेद दाढ़ी उनके सीने के अधिकांश भाग को ढकती थी और वह कम से कम सौ वर्ष की आयु के लगते थे।

Question 2.
How did the grandmother look?
दादी कैसी दिखाई देती थीं?
Answer:
The grandmother was an old woman. She was short, fat and slightly bent. Her face was a criss-cross of wrinkles running from everywhere to everywhere. But she was beautiful.

दादी एक वृद्ध महिला थीं। वह एक छोटी, मोटी तथा थोड़ी सी कुबड़ी थीं। उनके चेहरे पर चारों ओर झुर्रियों की रेखाएं थीं। लेकिन वह सुंदर थीं।

Question 3.
What did the author think about the games of the grandmother?
दादी के खेलों के बारे में लेखक का क्या विचार था?
Answer:
The author did not like the games that his grandmother used to play as a child. They seemed quite absurd and undignified on her part. He treated them like the fables of the Prophets she used to tell them.

लेखक को वे खेल पसंद नहीं थे जिन्हें दादी जब बच्ची थीं खेला करती थीं। वे उनके लिए बिल्कुल अविवेकपूर्ण तथा गरिमाहीन प्रतीत होते थे। वह उन्हें पैगम्बरों की कहानियों की भाँति लिया करते थे जो वह उन्हें सुनाया करती थीं।

Question 4.
How did the grandmother use to walk?
दादी किस प्रकार से चला करती थी?
Answer:
The grandmother used to hobble. She had to put one hand on her waist to balance her stoop. She used to tell the beads of her rosary with the other hand.

दादी लंगड़ाकर चलती थीं। अपने कूबड़ को सहारा देने के लिए वह एक हाथ कमर पर रखती थीं। वह दूसरे हाथ से माला फेरा करती थीं।

Question 5.
When and why did the grandmother use to say her prayers before the author?
लेखक के सामने दादी कब प्रार्थना किया करती थी और क्यों?
Answer:
She used to say her prayers before the author while she bathed and dressed him. She sang it in the hope that the author would listen and get to know it by heart.

जब दादी लेखक को नहलातीं व कपड़े पहनातीं उस समय वह प्रार्थनाएं किया करती थीं। वह उन्हें इस आशा के साथ गाया करती थीं कि लेखक उन्हें सुनकर कंठस्थ कर लेगा।

Question 6.
What were the things that the author carried with him to school?
वे कौन सी चीजें थीं जिन्हें लेखक विद्यालय जाते समय अपने साथ ले जाया करता था?
Answer:
The author carried a wooden slate washed and plastered with yellow chalk, a tiny earthen ink-pot and a red pen. They all were tied in a bundle.

लेखक धुली हुई एवं पीली चॉक से पुती हुई लकड़ी की स्लेट, एक छोटी सी मिट्टी की दवात तथा एक लाल पेन ले जाया करता था। वे सभी एक बण्डल में बंधे होले थे।

Question 7.
What do you know about the school of the author?
आप लेखक के विद्यालय के बारे में क्या जानते हैं?
Answer:
The school was attached to the temple. The teacher was the priest. He used to teach them the alphabet and morning prayers. The children sat in rows on either side of the verandah.

विद्यालय मंदिर से लगा हुआ था। अध्यापक पुजारी था। वह उन्हें वर्णमाला तथा सुबह की प्रार्थनाएं सिखाया करता था। बच्चे बरामदे के दोनों ओर बैठा करते थे।

Question 8.
Why did the grandmother take to feeding sparrows in the city?
दादी शहर में गौरेयाओं को क्यों खिलाने लगी थीं?
Answer:
The reason why the grandmother took to feeding sparrows in the city was that she could not come to school with the author and there were no dogs in the streets. It was a kind of favourite pastime for her.

जिस कारण से दादी ने शहर में गौरेयाओं को खिलाना शुरू किया वह यह था कि वह लेखक के साथ विद्यालय नहीं जा सकती थीं और वहाँ पर गलियों में कुत्ते नहीं थे। यह उनका मनपसंद मनबहलाव था।

Question 9.
What was taught to the author in English school?
अंग्रेजी विद्यालय में लेखक को क्या पढ़ाया जाता था?
Answer:
The author was taught English words and little things of western science and learning like the law of gravity, Archimedes’s principle, the world being round etc. He was taught music also.

लेखक को अंग्रेजी के शब्द तथा पश्चिमी ज्ञान तथा विज्ञान की चीजें जैसे गुरुत्वाकर्षण का नियम, आर्किमीडिज का सिद्धांत, दुनिया गोल है, इत्यादि चीजें पढ़ाई जाती थीं। लेखक को संगीत भी पढ़ाया जाता था।

Question 10.
How did the grandmother enjoy feeding the sparrows?
दादी गौरेयाओं को खिलाने का किस प्रकार से आनंद लिया करती थीं?
Answer:
When the grandmother threw the little bits of bread to the sparrows, hundreds of little birds collected around her creating a veritable bedlam of chirpings. Some perched on her legs, on her shoulders and head but she smiled and never shooed them away.

जब दादी गौरेयाओं के सामने रोटी के छोटे-छोटे टुकड़े डालती थीं तो सैंकड़ों छोटे-छोटे पक्षीं चहचहाकर शोर मचाते हुए उनके इर्द-गिर्द एकत्र हो जाते थे। कुछ उनकी टांगों पर, उनके कंधों पर तथा सिर पर बैठ जाते लेकिन वह मुस्करा देतीं और कभी भी उन्हें नहीं भगाती थीं।

Question 11.
How did the grandmother react when the author was going abroad?
जब लेखक विदेश जा रहा था तो दादी ने कैसा बर्ताव किया?
Answer:
When the author was going abroad, she came to see him off at the railway station. But she was not even sentimental. She did not talk or show any emotion. She went on telling the beads of her rosary and kissed the author’s forehead silently.

जब लेखक विदेश जा रहा था तो वह उसे विदा करने के लिए रेलवे स्टेशन तक आईं। लेकिन वह बिल्कुल भी भावुक नहीं हुई। उन्होंने बातचीत नहीं की या कोई भावना प्रकट नहीं की। वह अपनी माला जपती रहीं और चुपचाप लेखक के माथे को चूमा।

Question 12.
Why did the author cherish the moist imprint of his grandmother’s like the last sign of physical contact between them?
लेखक ने अपनी दादी द्वारा अपने माथे को चूमें जाने के नम निशान को उनके मध्य के शारीरिक संपर्क की अंतिम निशानी के रूप में संजोकर क्यों रखा था?
Answer:
The author was going abroad for five years. His grandmother was very old and nothing could be said about her survival. He had doubts that she would die before he returned from abroad.

लेखक पाँच वर्ष के लिये विदेश जा रहा था। उसकी दादी बहुत ही वृद्ध थीं और उनके जीवित रहने के विषय में नहीं कहा जा सकता था। उसे संदेह था कि उसके विदेश से वापस आने के पहले ही वह मर जाएँगी।

Question 13.
How did the grandmother receive the author at the station?
दादी ने लेखक का स्टेशन पर स्वागत किस प्रकार से किया?
Answer:
The grandmother came to the station to receive the author. But she had no time for words. She clasped the author in her arms and went on reciting prayers.

दादी लेखक का स्वागत करने के लिए स्टेशन पर आईं। लेकिन उनके पास बोलने के लिए समय नहीं था। उन्होंने लेखक को अपनी बाहों में मजबूती से पकड़ा और प्रार्थना करती रहीं।

Question 14.
How did the grandmother enjoy the return of the author?
दादी ने लेखक की वापसी का किस प्रकार से आनंद लिया?
Answer:
The grandmother enjoyed the return of the author differently. She fed for a longer time to the sparrows with frivolous rebukes. In the evening she collected the women of the neighbourhood, got an old drum and sang of the home-coming of warriors.

दादी ने लेखक की वापसी का आनंद भिन्न प्रकार से लिया। हल्की झिड़की के साथ उन्होंने गौरेयाओं को देर तक खिलाय। शाम को उन्होंने पड़ोस की महिलाओं को एकत्रित किया, एक पुराना ढोल लिया तथा योद्धाओं के घर तौटने का गाना गाया।

Question 15.
Why was the grandmother persuaded to stop playing the drum?
दादी को ढोल बजाने से रोकने के लिए आग्रहपूर्वक क्यों समझाना पड़ा?
Answer:
For several hours the grandmother thumped the sagging skins of the ‘dilapidated drum and sang of the home-coming of warriors. It was causing strain to her. So she was persuaded to stop.

दादी कई घण्टों तक लटकते हुए टूटे ढोल के चमड़े पर थाप देती रहीं तथा योद्धाओं के घर वापसी के गीत गाती रहीं। इससे उन्हें बहुत ही थकान हो रही थी। इसलिए उन्हें रुकने के लिए आग्रहपूर्वक समझाना पड़ा।

Question 16.
How can it be said that the grandmother knew that her end had come?
कैसे कहा जा सकता है कि दादी जानती थीं कि उनका अंत (निकट) आ गया था?
Answer:
The grandmother had a mild fever and the doctor said that it would go. But she said that she was not going to waste any more time in talking just before the close of the first chapter of her life. And she really died. So we can say so.

दादी को हल्का बुखार था तथा डॉक्टर ने कहा था कि यह सही हो जाएगा। लेकिन उन्होंने कहा कि वह अपने जीवन के प्रथम अध्याय के बंद होने से पहले और अधिक समय बातचीत में बर्बाद नहीं करना चाहती थीं। और वह वास्तव में मर गईं। इसलिए हम ऐसा कह सकते हैं।

Question 17.
How did the grandmother take her last breath?
दादी ने अपनी अंतिम सांस किस प्रकार से ली?
Answer:
The grandmother was laying peacefully in bed praying and telling her beads. Suddenly her lips stopped moving and the rosary fell from her lifeless fingers. A peaceful pallor spread on her face.

दादी प्रार्थना करते हुए व माला जपते हुए शांतिपूर्वक लेटी हुई थीं। अचानक उनके होठ रुक गए और उनकी निर्जीव अंगुलियों से माला गिर गई। एक शांत पीलापन उनके चेहरे पर फैल गया।

Question 18.
Why did the sparrows take no notice of the bits of bread?
गौरेयाओं ने रोटी के टुकड़ों पर कोई ध्यान क्यों नहीं दिया?
Answer:
The sparrows used to gather to eat the bread crumbs thrown by the grandmother. They were emotionally attached to her. When the grandmother died, they also mourned. So they took no notice of the bread.

दादी द्वारा डाले गये रोटी के टुकड़ों को खाने के लिए गौरेयाएँ एकत्रित हुआ करती थीं। वे उनसे भावनात्मक रूप से जुड़ी हुई थीं। जब दादी गुजर गईं तो वे भी दु:खी हुईं। इसलिए उन्होंने रोटी के टुकड़ों पर कोई ध्यान नहीं दिया।

Question 19.
Explain the odd way in which the author’s grandmother behaved just before she died.
मरने से ठीक पहले लेखक की दादी माँ ने जिस विचित्र ढंग से व्यवहार किया, उसका उल्लेख कीजिए।
Answer:
Just before her death, the grandmother lay peacefully in bed praying and telling her beads. She refused to talk and tried to utilize most of her remaining time in praying.

अपनी मृत्यु से ठीक पहले दादी माँ शान्तिपूर्वक बिस्तर पर लेट गईं और प्रार्थनाएँ करने लगीं और माला जपने लगीं। उन्होंने बात करने से मना कर दिया और अपने अधिकांश बचे हुए समय को प्रार्थना में उपयोग करने का प्रयास किया।

Question 20.
Explain the way in which the sparrows expressed their sorrow when the author’s grandmother died.
वह तरीका बताइये जिसके द्वारा गौरेयाओं ने लेखक की दादी की मृत्यु पर दुःख प्रकट किया।
Answer:
The sparrows gathered around the grandmother’s corpse which was lying wrapped in a red shroud. They were not chirping as if paying a silent tribute to her. When the grandmother’s corpse was removed, they flew away silently.

गौरैयाएँ दादी के शव के इर्द-गिर्द इकट्ठी हो गयीं जो लाल कफन में लिपटा हुआ पड़ा था। वे चहचहा नहीं रही थीं मानो उन्हें मूक श्रद्धाञ्जलि अर्पित कर रही थीं। जब दादी का शव हटा दिया गया, वे चुपचाप उड़ गयीं।

B. Answer the following questions in 125 words each:
निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर 125 शब्दों में दीजिये।

Question 1.
How can you say that the prayer was an inseparable part of the life of the grandmother?
आप कैसे कह सकते हैं कि प्रार्थना दादी के जीवन का अभिन्न अंग थी?
Answer:
After going through the portrait of the author’s grandmother, we come to know that the prayer was an inseparable part of her life. There are so many instances of this. She used to keep her rosary in her hand and tell the beads all the time. When the author was going abroad, she came to leave him to the station. But she did not stop telling the beads of her rosary even then. Her lips were moving in prayer, her mind was lost in prayer. Her fingers were busy telling the beads of her rosary. When the author returned from abroad and met her at the station, she still had no time for words. While she clasped the author in her arms, she was still reciting prayers. Even when she was about to die, she refused to stop praying.

लेखक की दादी के शब्दचित्र को पढ़ने के पश्चात् हमें पता चलता है कि प्रार्थना उनके जीवन का अभिन्न अंग थी। इसके कई सारे उदाहरण हैं। वह अपनी माला को अपने हाथ में रखकर हर समय माला जपती रहती थीं। जब लेखक विदेश जा रहा था तो वह उसे विदा करने स्टेशन पर आई। लेकिन उस समय भी उन्होंने अपना। माला जपना- बंद नहीं किया। उनके होठ प्रार्थना में हिलते रहे, उनका मन प्रार्थना में खोया हुआ था। उनका हाथ माला जपने में व्यस्त था। जब लेखक विदेश से लौटा तो वह उससे मिलने के लिये स्टेशन गईं उनके पास उस समय भी बातचीत करने के लिए समय नहीं था। जब उन्होंने लेखक को अपनी बाहों में कसकर पकड़ा, उस समय भी वह प्रार्थना कर रही थीं। यहाँ तक कि जब वे मरने वाली थीं उन्होंने प्रार्थना बंद करने से मना कर दिया।

Question 2.
Give three reasons why the author’s grandmother was disturbed when the author started going to a school in the city.
लेखक की दादी के परेशान हो जाने के तीन कारण बताइये जब लेखक शहर के स्कूल में जाने लगा।
Answer:
The grandmother was disturbed because of the following reasons:
(a) No religious teaching at the English school:
There was no teaching about God and scriptures in the English school. She did not like such a school where there was no education regarding God and religion.
(b) She could not help the author in his studies:
The grandmother used to help the author in his studies in the village. Now she could not help the author in his studies. It was because she did not know English and felt helpless in this matter.
(c) Music was taught at school:
She was disturbed when she knew that music lessons were given at school. She believed that music was meant only for beggars and harlots.

दादी निम्नलिखित कारणों से परेशान थीं:
(अ) अंग्रेजी स्कूल में धार्मिक अध्यापन नहीं था:
अंग्रेजी स्कूल में ईश्वर और धार्मिक ग्रन्थों के सम्बन्ध में कोई पढ़ाई नहीं होती थी। वह ऐसे स्कूल को पसन्द नहीं करती थीं जहाँ ईश्वर और धर्म से सम्बन्धित शिक्षा न हो।
(ब) वह लेखक की पढ़ाई में मदद नहीं कर पाती थीं:
दादी गाँव में लेखक की पढ़ाई में मदद किया करती थीं। अब दादी लेखक की पढ़ाई में मदद नहीं कर पाती थीं। ऐसा इसलिए था क्योंकि वह अंग्रेजी नहीं जानती थीं। और इस मामले में स्वयं को असहाय अनुभव करती थीं।
(स) स्कूल में संगीत पढ़ाया जाता था:
दादी परेशान हो गईं जब उन्हें पता चला कि स्कूल में संगीत के पाठ पढ़ाए जाते हैं। उन्हें विश्वास था कि संगीत केवल भिखारियों और वेश्याओं के लिए ही बना है।

Question 3.
Explain the ways in which the author’s grandmother spent her days after he (author) grew up.
वे तरीके बताइये जिनसे लेखक की दादी लेखक के बड़े हो जाने पर अपना समय व्यतीत करती थीं।
Answer:
The ways in which the author’s grandmother spent her days were as follow:
(a) Spinning:
The grandmother started spinning at the spinning-wheel when the author was given his own separate room. From sunrise to sunset she sat by her spinning-wheel.
(b) Praying:
Her lips always moved in inaudible prayer and her hands were always busy telling the beads of the rosary. She kept on reciting prayers even when working with the spinning-wheel.
(c) Feeding the sparrows:
Only in the afternoon, she left her spinning-wheel to feed the sparrows. She used to feed them lovingly. It used to be the happiest half-hour of the day for her. The sparrows used to come and perch on her legs and shoulders. Some even sat on her head, but she never shooed them away.

दादी अपना दिन जिन तरीकों से बिताती थीं, वे निम्नलिखित थे:
(अ) चरखा कातकर:
जब लेखक को अपना अलग कमरा दे दिया गया तो दादी ने चरखा कातना शुरू किया। सुबह से शाम तक वह चरखा कातती रहती थीं।
(ब) प्रार्थना करके:
उनके होंठ सुनाई न देने वाली प्रार्थना में हमेशा हिलते रहते थे और हाथों से वह हमेशा माला जपती रहती थीं। वह चरखे पर भी प्रार्थना बोलती रहती थीं।
(स) गौरेयाओं को भोजन कराकर:
केवल दोपहर में वह गौरेयाओं को खाना खिलाने के लिए चरखी छोड़ती थीं। वह उन्हें प्यार से खाना खिलाती थीं। यह उनके लिए दिन का सबसे ज्यादा प्रसन्नता देने वाला आधा घंटा हुआ करता था। गौरेयाएँ आकर उनकी टाँगों और कंधों पर बैठ जाया करती थीं। कुछ तो उनके सिर पर भी बैठ जाया करती थीं लेकिन वह कभी उन्हें झिड़ककर दूर नहीं किया करती थीं।

Question 4.
Narrate the values of life you learn from the lesson ‘The Portrait of a Lady’. (Board Sample Paper, 2018)
‘एक महिला का शब्दचित्र’ नामक पाठ से आप जो जीवन-मूल्य सीखते हैं उनका वर्णन कीजिए।
Answer:
We learn a number of values of life from this lesson. The grandmother of the author teaches us many lessons. First of all, there should be a great and firm belief in God. We should not forget that Godliness brings happiness in the family. Benevolence is another value we learn. We should always feed the animals and birds and love them. The grandmother’s love and care for her grandson tell us how our grandparents love us. She is disturbed to know that the English school did not teach children about God and scriptures. In her opinion, every child should be taught about them. The behaviour of the sparrows on the death of the grandmother shows us that if we love and care for animals and birds, in return, they also ‘love us and show their feelings. In all the grandmother is seen as a very religious and down-to-earth lady who believes in values of life.

हम इस पाठ से कई जीवन-मूल्य सीखते हैं। लेखक की दादी माँ हमें कई बातें सिखाती हैं। सर्वप्रथम ईश्वर में दृढ़ विश्वास होना चाहिए। हमें नहीं भूलना चाहिए कि धर्मनिष्ठा परिवार में खुशियाँ लाती है। परोपकार दूसरा जीवन मूल्य है जो हम सीखते हैं। हमें हमेशा जानवरों और पक्षियों को भोजन देना चाहिए और उनसे प्रेम करना चाहिए। दादी माँ का अपने पौत्र के प्रति प्रेम व देखभाल हमें यह बताते हैं कि हमारे दादी-दादा हमसे कितना प्यार करते हैं। वह यह जानकर विचलित हो जाती हैं कि अंग्रेजी स्कूलों में बच्चों को ईश्वर एवं धर्मग्रन्थों के बारे में नहीं पढ़ाया जाता है। उनके दृष्टिकोण में प्रत्येक बच्चे को इनकी शिक्षा दी जानी चाहिए। दादी माँ की मृत्यु पर गौरैयाओं का व्यवहार हमें यह दर्शाता है कि यदि हम जानवरों एवं पक्षियों से प्रेम करें और उनका ध्यान रखें, तो बदले में वे भी हमें प्यार करते हैं और अपनी भावनाओं को प्रदर्शित करते हैं। कुल मिलाकर दादी माँ एक बहुत ही धार्मिक एवं सरल महिला हैं जीवन-मूल्यों में विश्वास करती हैं।