The Portrait of A Lady [एक महिला का रूप-चित्र]

Khushwant Singh

TEXTBOOK QUESTIONS

Understanding the Text

Q. 1. Mention the three phases of the author’s relationship with his grandmother before he left the country to study abroad.

दादी माँ के साथ लेखक के सम्बन्ध की तीन अवस्थाओं का उल्लेख कीजिए जो उसके अध्ययन हेतु विदेश जाने के पूर्व रहीं।

Ans. (1) As a child, the author enjoyed his grandmother’s friendship. She woke him up in the morning and helped him ready for school. She bathed and dressed him, gave him a breakfast and accompanied him to school.

(2) The second phase in their relationship came when they went to live in a city. There, the author went to an English school in a motor bus. She was unhappy with the things they taught at the school. Nothing was taught there about God and the scriptures. She rarely talked to him when she learned that the author was being given music lessons.

(3) The third phase found them cut off from each other. He joined University and was given a room of his own. The grandmother isolated herself completely and busied herself in spinning, reciting prayers and feeding sparrows.

(1)बच्चे के रूप में लेखक दादी माँ से मित्रता का आनन्द उठाता था। वह उसे सबह जगाया करती थीं और स्कूल के लिए तैयार करती थीं। वह उसे नहलाती तथा वस्त्र पहनाती, नाश्ता देती तथा उर

था वस्त्र पहनातीं, नाश्ता देतीं तथा उसके साथ स्कूल जाया करती थीं।

(2) उनके सम्बन्ध की दूसरी अवस्था तब आती है जब वे एक शहर में जाकर रहने लगे। वहाँ लेखक मोटर बस में बैठकर अंग्रेजी स्कूल जाया करता था। स्कूल में पढ़ाये जाने वाली चीजों से दादी माँ अप्रसन्न थीं। वहाँ ईश्वर एवं धर्म-ग्रन्थों के बारे में कुछ भी नहीं पढ़ाया जाता था। जब उन्होंने यह जाना कि लेखक को संगीत की शिक्षा दी जाती थी तो वह लेखक से मुश्किल से ही कभी बात करती थीं। _

(3) तीसरी अवस्था ने उन्हें पूरी तरह एक-दूसरे से विमुख पाया। लेखक विश्वविद्यालय में भर्ती हो गया तथा उसे अलग से एक कमरा दे दिया गया। दादी माँ ने पूरी तरह स्वयं को अलग-थलग कर लिया और स्वयं को चरखा चलाने, प्रार्थनाएँ गुनगुनाने तथा चिड़ियों को भोजन खिलाने में व्यस्त रखने लगीं।

Q. 2. Mention three reasons why the author’s grandmother was disturbed when he started going to the city school.

लेखक की दादी माँ के परेशान हो जाने के तीन कारण बताइए जब वह (लेखक) शहर के स्कूल में जाने लगा।

Ans. Author’s grandmother was disturbed, first, because she could no longer accompany him to his school. He went to school in a bus now. Secondly, she could not help the author in his studies now and also did not like the things he was taught there. Nothing was taught there about God and scriptures. Finally, music lessons given at the school gave her the biggest shock. Music, to her, was meant for harlots and beggars.

, लेखक की दादी माँ परेशान हुईं, क्योंकि प्रथमतः, वह लेखक के साथ स्कूल नहीं जा सकती थीं। अब वह स्कूल बस से जाने लगा था। द्वितीय, अब वह अध्ययन में लेखक की मदद नहीं कर पाती थीं तथा उन्हें स्कूल में पढ़ाये जाने वाली बातें भी पसन्द नहीं थीं। वहाँ ईश्वर एवं धर्म-ग्रन्थों के बारे में कुछ भी नहीं पढ़ाया जाता था। अन्तिम कारण था, स्कूल में संगीत की कक्षाएँ उन्हें सबसे बड़ा सदमा पहुँचाती थीं। उनके अनुसार संगीत वेश्याओं तथा भिखारियों के मतलब की चीज थी।

Q.3. Mention three ways in which the author’s grandmother spent her days after he grew up.

वे तीन तरीके बताइए जिनसे लेखक की दादी माँ लेखक के बड़े हो जाने पर अपना समय गुजारती थी।

Ans. She accepted her seclusion with resignation. Most of the time, she sat at her spinning-wheel and did not talk to anyone. She recited prayers at the same time. In the afternoon, she relaxed for some time and fed the sparrows.

तो उसने (दादी माँ) अपने एकान्त को समर्पण भाव के साथ स्वीकार कर लिया था। अधिकतर समय वह अपने चरखे के पास बैठ कर बिताया करतीं और किसी से भी बात नहीं करती थीं। साथ-ही-साथ वह प्रार्थनाएँ बोलती रहती थीं। दोपहर में वह कुछ देर आराम करती थीं तथा चिड़ियों को भोजन खिलाया करती थीं।

Q. 4. Mention the odd way in which the author’s grandmother behaved just before she died.

मरने से ठीक पहले लेखक की दादी माँ ने जिस विचित्र तरीके से व्यवहार किया, उसका उल्लेख कीजिए।

Ans. In the evening before she died, a change came over her. She started behaving in an odd manner. She did not even pray. She collected the women of the neighbourhood, got an old drum and started singing. She thumped the drum for hours and sang songs of the home-coming of warriors. We had to persuade her to stop to avoid overstraining. That was the first time she did not pray.

The next morning she was fallen ill. She told the author and his family that her end was near. She said that she would not waste her time talking to them as she had omitted her prayers for the first time. She lay peacefully in bed praying and telling her beads. Then her lips stopped moving suddenly and the rosary fell from her lifeless fingers. There was peace on her face. She was dead.

मरने से पहले दिन शाम को दादी में एक परिवर्तन आया। उनका व्यवहार विचित्र हो गया। उन्होंने प्रार्थना भी नहीं की। उन्होंने पड़ोस की औरतों को इकट्ठा किया, एक पुराना ढोल लिया और गाने लगीं। उन्होंने घण्टों तक ढोल को पीटा तथा योद्धाओं की घर-वापसी के गीत गाये। हमें उन्हें रुकने के लिए मनाना पड़ा जिससे उन्हें थकान न हो जाये। यह पहली बार था जब उन्होंने प्रार्थना नहीं की थी। b. अगले दिन सुबह वे बीमार हो गईं। उन्होंने लेखक तथा परिवार के सदस्यों को बताया कि उनका अन्त निकट आ गया था। उन्होंने कहा कि वह अब अपना समय बात करने में बर्बाद नहीं करेंगी जैसा कि उन्होंने पहली बार अपनी प्रार्थनाएँ छोड़ दी थी। वे चुपचाप बिस्तर पर लेटी रहीं, प्रार्थना करती हुईं तथा माला फेरती हुईं। फिर अचानक उनके होंठ हिलना बन्द हो गये और माला उनकी निर्जीव अंगुलियों से गिर पड़ी। उनके चेहरे पर शान्ति थी। वे मर चुकी थीं।

Q. 5. Mention the way in which the sparrows expressed their sorrow when the author’s grandmother died.

उस स्थिति का वर्णन कीजिये जब गौरैयाओं ने लेखक की दादी माँ की मृत्यु पर अपना दु:ख जताया।

Ans. When the author’s grandmother died, thousands of sparrows came and sat scattered all over the verandah and in her room. There was no chirruping. His mother brought some breads for them. She broke these into little crumbs and threw these to them. The sparrows did not even look at the crumbs. When the author’s dead grandmother was carried off, the sparrows flew away quietly. Thus, the sparrows paid their silent tribute to the author’s grandmother.

जब लेखक की दादी माँ मरीं तो हजारों गौरैयाएँ आयीं और पूरे बरामदे में तथा उनके कमरे के भीतर तक बिखर कर बैठ गयीं। वे चहचहा नहीं रही थीं। लेखक की माँ उनके लिए कुछ रोटी लेकर आयी। उन्होंने इन्हें टुकड़ों में तोड़ कर पक्षियों की ओर डाल दिया। गौरैयाओं ने रोटी के टुकड़ों की ओर देखा भी नहीं। जब लेखक की मृत दादी को ले जाया गया तो ये गौरैयाएँ चुपचाप वहाँ से उड़कर चली गयीं। इस प्रकार गौरैयाओं ने लेखक की दादी को अपनी मौन श्रद्धांजलि प्रदान की।

Talking about the Text :

Talk to your partner about the following:

Q. 1. The author’s grandmother was a religious person. What are the different ways in which we came to know this?

– लेखक की दादी माँ एक धार्मिक प्रवृत्ति की महिला थीं। हम ऐसा किन तरीकों से जान पाते हैं?

Ans. The author’s grandmother was a religious lady in the true sense. She was kind to the dogs and sparrows and liked to feed them. She always prayed and told the beads of her rosary. She also read scriptures and felt that children must be taught about God and scriptures in schools. Like a true religious soul, she came to know that her end was near and that she should not waste her last moments in talking to anyone. She died while praying and telling her beads.

लेखक की दादी माँ सच्चे अर्थ में एक धार्मिक महिला थीं। वह कुत्तों एवं चिड़ियों के प्रति दयालु थीं और उन्हें भोजन देना उसे अच्छा लगता था। वह हमेशा प्रार्थना करती रहती थीं तथा माला-फेरा करती थीं। वह धर्म-ग्रन्थों का अध्ययन करती थीं तथा यह महसूस करती गईं कि बच्चों को स्कूल में ईश्वर एवं धर्म-ग्रन्थों के बारे में शिक्षा दी जानी चाहिए। एक सच्ची धार्मिक आत्मा के समान वह जान गईं कि उनका अन्त निकट आ गया था तथा उन्हें अपने अन्तिम क्षण किसी से बातचीत करके नहीं गँवाने चाहिए। वह प्रार्थना करते हुए तथा माला फेरते हुए ही चल बसीं।

Q. 2. Describe the changing relationship between the author and his grandmother. Did their feelings for each other change?

एवं उसकी दादी माँ के बीच बदलते हए सम्बन्ध का वर्णन कीजिए। क्या एक-दसरे के प्रति उनकी भावनाओं में परिवर्तन हुआ?

Ans. As a child, the author lived with his grandmother in a village. She was a companion to him. She woke him up in the morning and helped him ready for school. She accompanied him to school where she spent her time inside the temple till the school closed

This relationship suddenly underwent a change. The author started going to an English school in the city. He used to go there in a bus. The grandmother did not like the things they taught at that school. Now they rarely talked.

When the author joined University, he was given a room of his own. Thus, the link of friendship was snapped. The grandmother isolated herself completely. She busied herself in spinning and reciting prayers and feeding sparrows.

But this did not make any change in their love for each other. When the author left for abroad for further studies, she went to the station to see him off. She kissed his forehead. When he returned after five years, she embraced him while reciting her prayers. She celebrated his arrival by feeding the sparrows longer.

Thus, we saw that their feelings for each other did not change.

बच्चे के रूप में लेखक अपनी दादी के साथ गाँव में रहता था। वह उसके लिए एक मित्र के समान थीं। वह उसको सुबह जगातीं तथा उसे स्कूल के लिए तैयार करती थीं। वह उसके साथ स्कूल जाती थीं जहाँ अपना समय मन्दिर में बिताया करती थीं जब तक कि स्कूल बन्द नहीं हो जाता था।

उनका यह रिश्ता अचानक बदल गया। लेखक ने शहर के एक अंग्रेजी स्कूल में पढ़ना शुरू कर दिया। वह वहाँ बस में जाता था। दादी माँ को स्कूल में पढ़ाये जाने वाली बातें पसन्द नहीं आती थीं। अब वे मुश्किल से ही आपस में बात करते थे।

जब लेखक ने विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया तो उसे एक अलग कमरा दे दिया गया। इस प्रकार मित्रता का सूत्र टूट गया। दादी ने स्वयं को पूरी तरह अकेला बना लिया। वह स्वयं को चरखा चलाने, प्रार्थनाएँ करने तथा गौरैयाओं को दाना खिलाने में व्यस्त कर लेती थीं। बारि लेकिन इससे उनके परस्पर स्नेह में कोई अन्तर नहीं आया। जब लेखक आगे के अध्ययन के लिए विदेश रवाना हुआ तो दादी माँ उसे विदा करने स्टेशन गयीं। उन्होंने लेखक के ललाट को चूमा। जब वह पाँच वर्ष बाद वापस आया तो उन्होंने लेखक का आलिंगन किया और प्रार्थनाएँ गुनगुनाती रहीं। उन्होंने इस अवसर को गौरैयाओं को अधिक समय तक दाना खिलाकर मनाया।

इस प्रकार हमने देखा कि एक-दूसरे के प्रति उनकी भावनाएँ अपरिवर्तित रहीं।

Q. 3. Would you agree that the author’s grandmother was a person strong in characater? If yes, give instances to show this.

क्या आप सहमत होंगे कि लेखक की दादी माँ दृढ़ चरित्र वाली महिला थीं? अगर हाँ, तो उदाहरण देकर दर्शाइए।

Ans. Yes, the author’s grandmother was a person of strong character. She firmly believed in God and read the scriptures regularly. To her, education without any reference to God and the scriptures was useless. She always prayed and told the beads of her rosary. Her routine did not change even in the city. She kept on feeding animals even there. She could control her emotions when the author was leaving for abroad for five years. It might be her last meeting. Thus, we saw that the author’s grandmother was really a woman of strong character.

हाँ, लेखक की दादी माँ एक मजबूत चरित्र वाली महिला थीं। वह ईश्वर में दृढ़ता से विश्वास करती थीं तथा नियमित रूप से धर्म-ग्रन्थों का वाचन करती थीं। उनके अनुसार ईश्वर एवं धर्म-ग्रन्थों के उल्लेख के बिना शिक्षा बेकार थी। वह हमेशा प्रार्थना किया करती थीं और माला फेरा करती थीं। शहर में भी उनकी दिनचर्या नहीं बदली। वह वहाँ भी जीवधारियों को भोजन खिलाती रहीं। वह अपनी भावना को दबा सकती थीं जब लेखक पाँच वर्ष के लिए विदेश जा रहा था। यह उनकी अन्तिम भेंट भी सिद्ध हो सकती थी। इस प्रकार हमने देखा कि लेखक की दादी माँ एक सशक्त चरित्र वाली महिला थीं।

Q.4. Have you known someone like the author’s grandmother? Do you feel the same sense of loss with regard to someone whom you have loved and lost?

क्या आपने लेखक की दादी माँ जैसे किसी व्यक्ति को जाना है? क्या आप वैसा ही दु:ख उस व्यक्ति के लिए महसूस करते हैं, जिसको आप प्रेम करते थे और जिसे आपने खो दिया?

Ans. When I read this lesson, I am immediately reminded of my own grandmother. Today, she is not among us, but we all miss her very much. Towards my brothers and sisters she was very possessive and protective. She would not let us play if she were not there to supervise us. When beggars came to our house for alms, she would hide us behind herself so that their evil glances might not fall on us. She would even go to scold a teacher at our school if he punished us too much. She used to tell us stories each of which took many evenings to complete.

Today, we feel that, had she not been there, our childhoods would have been colourless and tasteless.

जब मैं इस पाठ को पढ़ता हूँ तो मुझे तुरन्त मेरी अपनी दादी माँ का स्मरण हो आता है। आज वह हमारे मध्य नहीं है किन्तु हम सब उन्हें बहुत याद करते हैं। मेरे भाइयों एवं बहिनों के प्रति वह पूर्ण अधिकार एवं रक्षात्मकता का भाव रखती थीं। वह हमें खेलने नहीं देती थीं, अगर वह स्वयं वहाँ हमारी देख-रेख करने हेतु उपस्थित नहीं होती थीं। जब भिखारी हमारे घर पर भीख माँगने आते थे तो दादी माँ हमें स्वयं के पीछे छिपा लिया करती थीं ताकि उनकी अशुभ दृष्टि हम पर न पड़ जाये। वह हमारे स्कूल में किसी अध्यापक को फटकराने भी पहुँच जाती थीं, अगर वह हमें अधिक दण्डित कर देते थे। वह हमें कहानियाँ सुनाया करती थीं जिनमें से प्रत्येक को पूरा होने में कई संध्याएँ लग जाया करती थीं।

– आज हम महसूस करते हैं कि अगर दादी माँ नहीं होतीं, तो हमारे बचपन रंगहीन एवं स्वादहीन रहे होते।

ADDITIONAL QUESTIONS

Short Answer Type Questions (Word Limit: 10-15 Words)

Q. 1. Why was it hard for the writer to believe that his grandmother had once been young and pretty?

लेखक के लिए यह विश्वास करना मुश्किल क्यों था कि उसकी दादी माँ कभी युवा एवं सुन्दर हुआ करती थीं?

Ans. It was hard for him to believe because he had seen her to be old and wrinkled since he had known her.

उसके लिए यह मानना मुश्किल इसलिए था क्योंकि उसने दादी माँ को जब से जाना था तब से वृद्ध एवं झुर्रियों से भरा ही पाया था।

Q. 2. How did the writer’s grandfather look?

लेखक के दादा कैसे दिखाई पड़ते थे?

Ans. He wore a big turban and loose-fitting clothes. He had a long, white beard that covered much of his chest. He looked a hundred years old.

वह एक बड़ी पगड़ी तथा ढीले-ढाले कपड़े पहनते थे। उनके लम्बी, सफेद दाढ़ी थी जो उनकी छाती को काफी अधिक ढके थी। वे करीब 100 वर्ष की उम्र के दिखते थे।

Q. 3. What impression did the writer have about his grandfather?

दादा के बारे में लेखक क्या सोचता था?

Ans. His grandfather did not look the kind of person who could have a wife or children. He looked as if he could only have a lot of grand-children.

उसके दादा ऐसे व्यक्ति नहीं दिखाई देते थे जिसके कोई पत्नी अथवा बच्चे हों। ऐसा लगता था जैसे उनके बहुत सारे पोते-पोती ही हो सकते थे।

Q. 4. Why was the thought that his grandmother was once young and pretty revolting for the author?

यह विचार लेखक के लिए हलचल मचा देने वाला क्यों था कि उसकी दादी कभी युवा एवं सुन्दर थीं?

Ans. She was so old and wrinkled that the writer would not even imagine that she could ever be young or pretty.

वह इतनी वृद्ध एवं झुर्रियों से भरी हुई थीं कि लेखक यह कल्पना भी नहीं कर सकता था कि वह कभी युवा या सुन्दर भी हो सकती थीं।

Q. 5. What did the writer treat like the fables of the prophets?

लेखक किस चीज को पैगम्बरों की कथाओं के समान मानता था?

Ans. His grandmother often told him about the games she used to play as child. For the writer that was as good as the fables of the prophets.

दादी प्रायः लेखक को उन खेलों के बारे में बताया करती थीं जिन्हें वह बच्चे के रूप में खेला करती थीं। लेखक के लिए यह पैगम्बरों की कथाओं जैसी ही बात थी।

Q.6. How did the grandmother spend her time while living in village?

गाँव में रहते हुए दादी अपना समय किस प्रकार व्यतीत करती थीं?

Ans. She prepared the writer for school. She walked to school with him and read scriptures in a temple. She recited her prayers and told her beads all the time.

वह लेखक को स्कूल के लिए तैयार करती थीं। वह स्कूल तक लेखक के साथ जाती थीं और एक मन्दिर में ग्रन्थ पढ़ा करती थीं। पूरे समय वह प्रार्थनाएँ बोलती रहतीं तथा माला फेरती रहती थीं।।

Q. 7. Which act of kindness did the wirter’s grandmother do while living in the village?

गाँव में रहते हुए लेखक की दादी माँ कौनसा दयापूर्ण कार्य करती थीं?

Ans. She took stale chapattis with her while going to school with the writer. She threw them to the village dogs.

लेखक के साथ स्कूल जाते समय वह अपने साथ बासी रोटियाँ ले जाती थीं तथा उन्हें गाँव के कुत्तों को खिलाती थीं।

Q.8. What was the turning point in the relationship between the writer and his grandmother?

लेखक तथा उसकी दादी के बीच रिश्ते में क्या महत्त्वपूर्ण मोड़ आया?

Ans. The writer started going to an English school in the city in a motor bus without his grandmother accompanying him. It was a turning point.

शहर में लेखक एक अंग्रेजी स्कूल में बस द्वारा जाने लगा जहाँ उसकी दादी साथ नहीं होती थीं। यह उनके रिश्ते में एक मोड़ सिद्ध हुआ।

Q.9. What did the grandmother think about the education at the English school?

अंग्रेजी स्कूल की शिक्षा के बारे में दादी माँ का क्या मत था?

Ans. She did not like the things taught at the English school. She felt unhappy to learn that nothing was taught there about God and the scriptures.

अंग्रेजी स्कूल में पढ़ाई जाने वाली चीजें उन्हें पसन्द नहीं थीं। उन्हें यह जानकर दु:ख हुआ कि वहाँ ईश्वर एवं धर्म-ग्रन्थों के बारे में कुछ भी नहीं पढ़ाया जाता था।

Q. 10. Why did the grandmother hate music?

दादी माँ को संगीत से नफरत क्यों थी?

Ans. She hated music as she thought it was not for gentle folk. To her it was meant for harlots and beggars.

वह संगीत से नफरत करती थीं क्योंकि वह सोचती थीं कि संगीत सम्भ्रान्त लोगों की चीज नहीं थी। उनके अनुसार संगीत वेश्याओं तथा भिखारियों के लिए ही होता था।

Q. 11. How did the grandmother spend her time in the city?

शहर में दादी किस प्रकार अपना समय व्यतीत करती थीं?

Ans. She lived a life of seclusion. She sat at her spinning wheel without talking to anyone. In the afternoon, she relaxed feeding the sparrows.

वह एकान्त का जीवन जीने लगीं। वह बिना किसी से बात किए अपना चरखा चलाती रहती थीं। दोपहर में वह गौरैयाओं को भोजन देते हुए आराम किया करती थीं।

Q. 12. ‘I would be away for five years, and at her age one could never tell.’ Tell what?

‘मैं पाँच वर्ष तक घर से दूर रहूँगा और उनकी उम्र को देखते हुए कुछ भी कहना मुश्किल था।’ क्या कहना मुश्किल था?

Ans. Being so old, the writer’s grandmother might or might not live till he returned from abroad. It was difficult to say anything about it.

इतनी वृद्ध होने के कारण लेखक की दादी माँ उसके विदेश से लौटने तक जीवित रह भी सकती थीं और नहीं भी। इस बारे में कुछ भी कहना मुश्किल था।

Q. 13. In what way did the grandmother feed the birds?

दादी माँ पक्षियों को किस प्रकार भोजन खिलाया करती थीं?

Ans. The grandmother threw crumbs of bread to the birds which gathered in hundreds around her and chirruped loudly. She smiled all the while.

दादी माँ रोटी के टुकड़े पक्षियों को डालती थीं। ये पक्षी सैकड़ों की संख्या में उनके चारों ओर इकट्ठा हो जाते थे तथा जोर-जोर से चहचहाते थे। वह इस दौरान मुस्कराती रहती थीं।

Q. 14. In what way did the grandmother receive the author when he returned from abroad?

विदेश से वापस आने पर दादी माँ ने लेखक का स्वागत किस प्रकार किया?

Ans. She went to the station to receive him. She clasped him in her arms while reciting her prayers.

वह उसका स्वागत करने हेतु स्टेशन गईं। उसने लेखक को बांहों में जकड़ लिया और प्रार्थनाएँ बोलती रहीं।

Q. 15. How did she behave just before her death?

मृत्यु से ठीक पहले उनका व्यवहार कैसा था?

Ans. She refused to talk to anyone. She lay peacefully in bed praying and telling her beads. Death came over her.

उन्होंने किसी से भी बात करने से मना कर दिया। वह शान्ति से बिस्तर पर लेटी रहीं, प्रार्थना बोलते हुए तथा माला फेरते हुए। फिर मृत्यु आ पहुंची।

Q. 16. How did the sparrows behave when the writer’s grandmother had died?

लेखक की दादी माँ के मर जाने पर गौरैयाओं ने कैसा व्यवहार प्रदर्शित किया?

Ans. The sparrows came in large numbers and sat all over the verandah and in her room. They did not make any noise. They did not even notice the crumbs thrown to them.

गौरैयाएँ बड़ी संख्या में आयीं तथा पूरे बरामदे में दादी के कमरे के भीतर तक आकर बैठ गयीं। उन्होंने कोई शोर नहीं किया। उन्होंने रोटी के उन टुकड़ों की ओर देखा भी नहीं जिन्हें उनकी ओर डाला गया था।

Q. 17. Why did the sparrows not pick bread crumbs on the last day?

अन्तिम दिन गौरैयाओं ने रोटी के टुकड़ों को क्यों नहीं उठाया?

Ans. Even the sparrows knew about the grandmother’s death and felt grieved over it. After all, she was the one who loved them, fed them and played with them.

की दादी माँ की मत्य के बारे में जान गयी थीं और इस बारे में वे द:खी थीं। आखिर वही तो एक ऐसी व्यक्ति थी जो उन्हें प्रेम करती, खिलाती तथा उनके साथ खेला करती थीं।

Q. 18. Why did the author and the members of his family feel sorry for the sparrows?

लेखक तथा उसके परिवार के सदस्यों ने गौरैयाओं के लिए दुःख क्यों महसूस किया?

Ans. The sparrows came in thousands. They did not chirrup. They also did not look at the crumbs thrown to them. This made the author and others feel sorry for them.

गौरेयाएँ हजारों की संख्या में आयीं। उन्होंने चहचहाहट भी नहीं की। उन्होंने रोटी के उन टुकड़ों की ओर भी नहीं देखा जिन्हें उनके लिए डाले गये थे। इस कारण लेखक तथा अन्य लोगों ने दुःख महसूस किया।

(Thinking about Language:)

Q. 1. Which language do you think the author and his grandmother used while talking to each other?

आपके विचार में लेखक व उसकी दादी माँ एक-दूसरे से बात करते समय कौनसी भाषा प्रयोग करते थे?

Ans. The author and his grandmother lived in a village of Punjab. So they used Punjabi language while talking to each other.

लेखक एवं उसकी दादी माँ पंजाब के एक गाँव में रहते थे। इसलिए वे एक-दूसरे से बातें करते समय पंजाबी भाषा का प्रयोग करते थे।

Q.2. Which language do you use to talk to elderly relatives in your family?

आप अपने परिवार में बड़े रिश्तेदारों के साथ बात करते समय कौनसी भाषा काम में लेते हो?

Ans. I live in Rajasthan. It is a Hindi speaking region. Many local languages are also spoken here. I use Hindi and local language of our area while talking to elderly relatives in my family.

-मैं राजस्थान में रहता हूँ। यह एक हिन्दी भाषी क्षेत्र है। यहाँ अनेक स्थानीय भाषाएँ भी बोली जाती हैं। मैं अपने परिवार के बड़े रिश्तेदारों से बात करते समय हिन्दी तथा हमारे क्षेत्र की स्थानीय भाषा का प्रयोग करता

Q.3. How would you say ‘a dilapidated drum’ in your language?

‘a dilapidated drum’ को आप अपनी भाषा में कैसे कहेंगे?

Ans. In my language ‘a dilapidated drum’ means ‘एक टूटा-फूटा ढोल’. मेरी भाषा में ‘a dilapidated drum’ का मतलब है ‘एक टूटा-फूटा ढोल’।

Q. 4. Can you think of a song or a poem in your language that talks of home coming?

क्या आप अपनी भाषा में कोई गीत या कविता बता सकते हैं जिसमें गृह-वापसी का वर्णन हो।

The Portrait of A Lady question