Day
Night

10 Kathmandu

पढ़ने से पूर्व : 

• क्या आप यात्रा पसन्द करते हैं? लेखक, विक्रम सेठ, इसका बहुत आनन्द लेते हैं। अपनी पुस्तक ‘हेवन लेक’ में, वे चीन से, तिब्बत और नेपाल होते हुए, भारत तक की एक लम्बी यात्रा का वर्णन करते हैं।

• क्या आप अजमेर शरीफ, मदुराई, सांची, वाराणसी, सारनाथ या हेलबिद जैसे स्थानों के विषय में सुन चुके हैं?

• क्या आप इन जैसे कुछ अन्य स्थानों को नामित कर सकते हैं? आपके शहर के पवित्र स्थल के आस-पास का वातावरण कैसा दिखाई देता है? इसके विषय में सोचे जैसे ही आप विक्रम सेठ के काठमांडू के विवरण को पढ़ें।

कठिन शब्दार्थ एवं हिन्दी अनुवाद 

1. I get………………..Buddhists. 

कठिन शब्दार्थ : cheap (चीप्) = सस्ता, sacred (सेक्रिड्) = पवित्र ।

हिन्दी अनुवाद : मुझे शहर के बीच में एक सस्ता कमरा मिल जाता है और घण्टों सोता हूँ। अगले सवेरे, श्रीमान् शाह के पुत्र व भतीजे के साथ, मैं काठमांडू में दो मन्दिरों की यात्रा करता हूँ जो हिन्दुओं व बौद्धों के लिए सबसे अधिक पवित्र हैं। 

2. At Pashupatinath……………….. on earth. 

कठिन शब्दार्थ : proclaims (प्रक्लेम्ज) = घोषणा करता है, febrile confusion (फीब्राइल कन्फ्यू श्न्) = अत्यधिक सक्रिय अव्यवस्था, roam (रोम्) = घूमना, elbowed aside (एल्बोड असाइड्) = कोहनी मार कर एक तरफ कर दिया, permission (पमिश्न्) = अनुमति, convinced (कन्विन्स्ट्) = विश्वास हुआ, screaming (स्क्रीम्ङ्) = चीखता हुआ, corpse (कॉप्स्) = मृतक, cremated (क्रमेट्ड) दाह-संस्कार, wilted (विल्ट्ड ) = मुरझाये, shrine (शाइन्) = पूजा-स्थल, protrudes (प्रट्रड्ज) = बाहर निकला हुआ, emerges (इमज्ज) = निकलता है, escape (इस्केप्) = निकलना, devotees (डेवोटीज) = भक्तगण।

हिन्दी अनुवाद : पशुपतिनाथ पर, (जिसके बाहर एक निर्देश घोषणा करता है ‘केवल हिन्दुओं के लिए प्रवेश’) वहाँ अत्यधिक सक्रिय अव्यवस्था का वातावरण है। पुजारी, फेरी वाले, भक्तगण, पर्यटक, गायें, बन्दर, कबूतर और कुत्ते मैदानों में घूमते-फिरते हैं। हम कुछ फूल चढ़ाते हैं। वहाँ इतने उपासक हैं कि कुछ लोग जो पुजारी के ध्यान को आकृष्ट करने की कोशिश करते हुए हैं, को दूसरे लोग धकेलते हुए रास्ता बनाकर आगे आने के लिए कोहनी मार कर एक तरफ कर देते हैं। नेपाल के राजघराने से एक राजकुमारी प्रकट होती है : प्रत्येक झुकता है और रास्ता छोड़ देता है। 

मुख्य द्वार के समीप केसरिया पहने पश्चिमी लोगों का एक दल प्रवेश की अनुमति के लिए संघर्ष करता है। सिपाही सन्तुष्ट नहीं है कि वे ‘हिन्दू’ हैं (केवल हिन्दुओं को प्रवेश की अनुमति है)। दो बन्दरों के मध्य लड़ाई छिड़ जाती है।

एक, दूसरे (बन्दर) का पीछा करता है जो शिवलिंग पर छलाँग लगा देता है, फिर चीखता हुआ मन्दिर के चारों ओर चक्कर लगाता है और नीचे, पवित्र बागमति नदी, जो कि नीचे बह रही है, की ओर चला जाता है। इसके किनारे पर एक मृतक का दाह-संस्कार किया जा रहा है; धोबिनें अपने काम पर हैं और बच्चे नहाते हैं ।

बालकॉनी से फूलों और पत्तों को एक टोकरी, जिसमें मुरझाया हुआ पुराना चढ़ावा है, से नदी में गिराया जाता है। एक छोटा पूजा-स्थल (मन्दिर) नदी किनारे बने पत्थर के प्लेटफॉर्म से आधा बाहर निकल रहा है। जब यह पूरा बाहर निकलेगा तो अन्दर से देवी निकलेगी और कलियुग का बुरा कालखण्ड पृथ्वी पर समाप्त हो जायेगा। 

3. At the Baudhnath……. around. 

कठिन शब्दार्थ : stillness (स्टिल्नस्) = शान्ति, immense white dome (इमेन्स् वाइट् डोम्) = विशाल श्वेत गुंबद, ringed (रिङ्ड) = घेरे हुए होना।

हिन्दी अनुवाद : काठमांडू के ही बुद्ध धर्म स्थल, बौद्धनाथ स्तूप पर, ठीक उल्टा, शान्ति का एक भाव है। इसके विशाल श्वेत गुंबद के चारों ओर सड़क है। इसके बाहरी किनारे पर छोटी दुकानें खड़ी हैं : इनमें से बहुत-सी तिब्बती अप्रवासियों के स्वामित्व में हैं; ऊनी थैले, तिब्बती छापे के कपड़े और चाँदी के आभूषण यहाँ खरीदे जा सकते हैं। वहाँ जन-समूह नहीं हैं। चारों ओर की व्यस्त गलियों में वह शान्ति का एक स्वर्ग

4. Kathmandu is………….. for it. 

कठिन शब्दार्थ : mercenary (मसनरि) = भाड़े के सैनिक/धन-लोलुप, religious (रिलिजस्) = धार्मिक, flower-adorned deities (फ्लाउअ(र)-अडॉन्ड डेअटिज) = फूलों से सुसज्जित देवी-देवता, indulge (इन्डल्ज्) = व्यस्त/लिप्त होना, marzipan (माजिपैन्) = कसे हुए बादाम से बनी एक मिठाई, corn-on-the-cob (कॉन् ऑन् दा कॉब) = भुट्टे पर दाने, roasted (रोस्ट्ड ) = भुने हुए, charcoal (चाकोल्) = काठ कोयला, brazier (ब्रेजिअ(र)) = अंगीठी, pavement (पेव्मन्ट) = पैदल पथ, nauseating (नॉजिरेट्ङ्) = बीमार-सा कर देने वाली/वमनकारी।

हिन्दी अनुवाद : काठमांडू सजीव है, धन-लोलुप है, तंग व व्यस्त गलियों में फूलों से सुसज्जित देवीदेवताओं के छोटे-छोटे धर्म-स्थलों के साथ धार्मिक है; फल विक्रेता, बाँसुरी विक्रेता, पोस्टकार्ड के फेरी वाले; पश्चिमी सौन्दर्य प्रसाधन विक्रेता दुकानें, फिल्म की रीलें (चलचित्र गोलक) और चॉकलेट; या ताँबा बर्तन और नेपाली पुरातन वस्तुएँ।

रेडियो से फिल्मी गाने चिल्लाते हैं (अर्थात् ऊँची कर्कश आवाज में बजते हैं), कार के हॉर्न बजते हैं, साइकिल की घण्टियाँ बजती हैं, आवारा गायें मानो कुछ पूछती हुई मोटरसाइकिलों को देखकर रंभाती हैं, विक्रेता अपने माल के लिए चीखते हैं।

मैं बुद्धिहीनता से स्वयं को लिप्त कर लेता हूँ: माजिपैन (बादाम की एक बर्फी) की एक छड़, पैदल पथ पर काठकोयला अंगीठी में भुना हुआ मकई का एक भुट्टा (नमक, मिर्च पाउडर व नींबू रगड़ा हुआ); दो प्रेम-कहानी चित्रकथाएँ और यहाँ तक कि एक ‘रीडेंज डाइजेस्ट’ खरीद लेता हूँ। ये सभी मैं कोकाकोला और वमनकारी (दुर्गन्धपूर्ण) संतरा पेय के साथ पीकर निगल जाता हूँ, और इसके लिए बेहतर महसूस करता हूँ।

5. I consider………………….. flight. 

कठिन शब्दार्थ : propelled (प्रपेल्ड) = प्रेरित किया, exhausted (इग्जॉस्टिड्) = बहुत थका हुआ, per se (प से) = स्वतः/अपने आप।

हिन्दी अनुवाद : मैं विचार करता हूँ मुझे घर वापसी के लिए क्या मार्ग लेना चाहिए (अर्थात् किस मार्ग से जाना चाहिए)। यदि मैं यात्रा के लिए उसी उत्साह से प्रेरित होता, तो मैं बस व रेल द्वारा पटना जाता, फिर गंगा नदी में नाव से बनारस से गुजरता हुआ इलाहाबाद जाता, फिर यमुना नदी में से आगरा से गुजर कर दिल्ली जाता।

मैं बहुत थका हुआ हूँ और गृहासक्त हूँ; आज अगस्त का अन्तिम दिन है। घर जाएँ, मैं अपने को बताता हूँ; सीधे घर की ओर चलें। मैं नेपाल एयरलाइन्स के कार्यालय में प्रवेश करता हूँ और कल की फ्लाइट के लिए टिकट खरीदता हूँ। 

6. I look at…… for years.

कठिन शब्दार्थ : attachment (अटैच्मन्ट्) = जुड़ी हुई वस्तु, directions (डरेक्श्न्ज ) = दिशाओं, quills (क्विल्ज) = काँटे, porcupine (पॉक्युपाइन्) = साही जन्तु/झाऊमूसा, cross-flute (क्रॉस्-फ्लूट) = मुरली (होंठों से बजती है), recorders (रिकॉड(र)ज) = बाँसुरी (मुख में लेकर बजती है), meditatively (मेडिटेट्वलि) = ध्यानमग्न होकर, occasionally (अकेशन्लि ) = कभी-कभी, off handed (ऑफ् हैन्ड्ड) = लापरवाही भरे।

हिन्दी अनुवाद : मैं, होटल के समीप चौराहे के एक कोने में खड़े हुए फ्लूट (मुरली या बंशी) विक्रेता को देखता हूँ। उसके हाथ में एक लट्ठा (पॉल) है जिसके ऊपर जुड़ी वस्तु से 50 या 60 बाँसुरियाँ सभी दिशाओं में बाहर की ओर निकलती हुई हैं, साही (झाऊमूसे) के काँटों के जैसे। वे बाँस की हैं : उनमें मुरली व बाँसुरियाँ हैं।

समय-समय पर वह पॉल को जमीन पर खड़ा करता है, एक फ्लूट को चुनता है और कुछ मिनट बजाता है। ध्वनि, फेरी वालों की चिल्लाहट व यातायात के शोर से स्पष्ट रूप से ऊपर उठती है। वह धीरे-धीरे, ध्यान-मग्न होकर, बिना अत्यधिक प्रदर्शन के बजाता है। वह अपने माल के लिए चीखता नहीं है।

कभी-कभी वह एक बेचान भी बनाता (अर्थात् करता) है, किन्तु एक विचित्र लापरवाही भरे तरीके से, जैसे किं यह उसके उद्यम का आनुषंगिक भाग है। वह फल विक्रेता से वार्ता के लिए कभी-कभी बजाते हुए एकाएक रुक जाता है। मैं कल्पना करता हूँ कि वर्षों से यह उसके जीवन का ढंग रहा है। 

7. I find……………………… go on.

कठिन शब्दार्थ : particular (पटिक्यल(र)) = विशिष्ट, fingering (फिङ्ग(र)ङ्) = उँगलियाँ टिकाने का ढंग, compass (कम्पस्) = विस्तार क्षेत्र।

हिन्दी अनुवाद : मैं इस मैदान से स्वयं को अलग करना कठिन पाता हूँ। बाँसुरी का संगीत हमेशा मुझे ऐसा कर देता है। यह एक ही समय सर्वाधिक सार्वभौम और ध्वनियों में सर्वाधिक विशिष्ट होता है। कोई भी संस्कृति ऐसी नहीं है जिसकी अपनी बाँसुरी नहीं है रीड नेह (सरकंडा बाँसुरी), बाँसुरी जैसा रिकार्डर, जापान की शाकुहाचि, हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत की गहन बाँसुरी, दक्षिणी अमेरिका की स्पष्ट या अस्पष्ट बाँसुरी, ऊँची आवाज की चाइनीज बाँसुरी।

प्रत्येक अपनी विशिष्ट अंगुली चालन शैली और विस्तार क्षेत्र रखती हैं। यह स्वयं अपनी संबद्धता बुनती है। फिर भी कोई भी बाँसुरी सुनने से मुझे ऐसा प्रतीत होता है कि सम्पूर्ण मानवता की साधारणता की ओर आकर्षित होना, संगीत के पदबंधों और वाक्यों द्वारा मानव ध्वनि के सर्वाधिक समीप ले जाया जाता है। जीवन्त श्वास इसकी प्रेरणादायक शक्ति है : इसमें भी ठहरने व श्वास लेने की आवश्यकता पड़ती है इससे पूर्व कि यह जारी रह सके। (अर्थात् इसे बजाने में ठहरकर साँस लेना होता है।) 

8. That I can…………….. now do. 

कठिन शब्दार्थ : invested (इन्वेस्ट्ड) = निवेशित, significance (सिग्निफिकन्स्) = महत्त्व।

हिन्दी अनुवाद : कि मैं बाँसुरी के कुछ परिचित वाक्यांशों से इतना प्रभावित हो सकता हूँ, ने सर्वप्रथम मुझे आश्चर्यचकित किया है क्योंकि पूर्व के अवसरों पर भी विदेश में लम्बी अवधि तक रहने पर मैं घर लौटा हूँ। मैंने ऐसे विवरणों पर मुश्किल से ही ध्यान दिया हो और निश्चित रूप से उन्हें इतने महत्त्व से निवेशित नहीं किया जितने से अब कर रहा हूँ।

0:00
0:00