Day
Night

10. Story Writing

Story Writing 
से सम्बन्धित ध्यातव्य बिन्दु 

1. Outline का Tense-प्रश्न में story की Outline (रूपरेखा) प्रायः Present Tense (वर्तमान काल) में दी जाती है, और प्रायः articles नहीं देते हैं। आप story को Past Tense (भूतकाल) में लिखें। Tense व Articles का विशेष ध्यान रखें। सामान्यतः Story का Verb अपनी Second form में लिखा जाता है। 
2. Story का क्रम-आपके द्वारा लिखी जाने वाली story (कहानी) में घटनाओं का क्रम वही रखें जो outline में है। 
3. कल्पनाशक्ति का उपयोग-Story को रोचक बनाने के लिए यदि आवश्यक हो तो अपनी कल्पनाशक्ति का प्रयोग भी करें। 
4. विराम-चिन्हों का प्रयोग-कहानी लेखन में उचित स्थान पर उचित विराम-चिन्ह का प्रयोग करना चाहिए। 
5. Passive Voice का प्रयोग-यदि आवश्यकता हो तो Passive Voice का उपयोग अवश्य करें। 
6. Direct Narration का प्रयोग-यदि आवश्यकता पड़े तो बातचीत को Direct Narration में inverted commas में दें। यह आपके लिए सुविधाजनक रहेगा। 
7. Title आरम्भ में दें-Story का Title (शीर्षक) कहानी के ऊपर अवश्य दें। 
8. Moral अन्त में दें-कहानी का Moral कहानी के अन्त में पृथक् शीर्षक के अन्तर्गत देना चाहिए। 
9. Spelling सम्बन्धी अशुद्धियाँ-कहानी लिखने के पश्चात् उसे एक बार पुनः ध्यान से पढ़ना चाहिए। वर्तनी सम्बन्धी तथा अन्य अशद्धियाँ कोई हों तो उन्हें सुधार देना चाहिए। 
10. वाक्यांशों का प्रयोग-कहानी लेखन में निम्नलिखित वाक्यांशों में से कुछ का प्रयोग प्रायः होता रहता है, अतः इन्हें ध्यान से पढ़ें व आवश्यकतानुसार उनका प्रयोग करें, इससे पूरी कहानी लिखने में सुविधा रहती है। 

  • Once/Once upon a time. 
  • It thought of a plan. 
  • It was very clever. 
  • It did not lose heart. 
  • It tried again and again but all in vain. 
  • One day it was very hungry/thirsty. 
  • It went out in search of food/water. 
  • It saw a……….. 
  • It was very happy. 
  • It was very sad. 

Complete the following stories with the help of the given outlines : 

(1) four bulls……….. ..friends…………..powerful…………..no other animal fought…………..a lion…………..wants to eat them…………..says something to one bull ……………three bulls go away………..one bull not powerful………….. the lion eats all the bulls one by one. 
Or 
Four bulls…………..always together…………..a lion…………..the same forest…………..wants to kill them…………..thinks of a plan…………..whispers to one bull …………..other bulls envy you…………..eat fresh grass………….. leave bad.. ………….bull believes…………..goes alone…………..kills and eats…………..the same words to others…………..kills them.

Four Foolish Bulls (Union is Strength) 
Or 
A Lion And The Four Bulls

There were four bulls. They lived in a forest. They were young and very strong. They were fast friends. 
A lion also lived in the forest. He wanted to kill the bulls and eat them. The bulls always lived together. So they were very powerful. The lion could not harm them. He thought of a plan. One day he went to a bull and said, “You are a very beautiful and strong bull. The other bulls are jealous of you.

They eat fresh and green grass and leave bad grass for you. You should leave the other bulls and eat fresh grass.” The foolish bull thought that the lion was speaking the truth. Next day he went far away to eat grass. He was alone. The lion attacked the bull and killed him. He ate up the bull. After some days he went to another bull and said the same thing. He also went alone. The lion killed him also. In this way, the lion killed all the bulls one by one.  Moral : Union is strength. 

चार मूर्ख बैल/सिंह व चार बैल

चार बैल थे। वे एक जंगल में रहते थे। वे जवान और बहुत मजबूत थे। वे पक्के मित्र थे। उस जंगल में एक शेर भी रहता था। वह उनको मार कर खा जाना चाहता था। वे बैल सदैव साथ साथ रहते थे। इसलिए वे बडे शक्तिशाली थे। शेर उनको कोई नुकसान नहीं पहँचा सकता था। उसने तरकीब सोची। … 

एक दिन वह एक बैल के पास गया और कहा-“तुम बहुत ही सुन्दर और ताकतवर बैल हो। दूसरे बैल तुमसे ईर्ष्या करते हैं। वे ताजी और हरी घास खाते हैं और तुम्हारे लिए खराब घास छोड़ देते हैं । तुम्हें दूसरे बैलों का साथ छोड़ देना चाहिए और ताजी घास खानी चाहिए।” 

मूर्ख बैल ने सोचा कि शेर सच कह रहा था। अगले दिन वह घास खाने बहुत दूर चला गया। वह अकेला था। शेर ने उस बैल पर आक्रमण किया और मार डाला। वह बैल को खा गया। कुछ दिनों बाद वह दूसरे बैल के पास गया और वही बात कही। वह भी अकेले गया। शेर ने उसे भी मार डाला। इस प्रकार शेर ने सभी बैलों को एक-एक करके मार डाला। शिक्षा : संगठन में शक्ति है। 

(2) A boy gets into a bad company…………..father gives him a few good apples and a rotten apple…………..all apples put together………….the rotten apple spoils the good ones…………..boy realises…………..give up bad company. 
Or 
A good boy………..falls…………bad company……….disobeys…………father advises to shun…………all in vain…………decides to teach a lesson…………brings apples…………puts them in almirah…………notices one rotten apple…………next day all apples rotten…………teaches a lesson. 

Bad Company

A boy got into a bad company. His father was very sad. He asked his son to give up the bad company. But the boy said that his friends could not spoil him make them good boys. One day his father gave him few good apples and a rotten apple. He asked his son to put all the good apples in a basket. He then asked him to put the rotten apple in the basket.

Next morning he asked his son to bring the basket of apples. His son brought it. His son was sorry to see that all the apples were spoiled. His father showed him that one rotten apple spoiled all the good apples. The boy realised his mistake. He gave up the bad company. Moral : Bad company spoils the man. 

बुरी संगति

एक लड़का बुरी संगति में पड़ गया। उसका पिता बहुत दु:खी हुआ। उसने अपने पुत्र से बुरी संगति छोड़ने को कहा। किन्तु उसने कहा कि उसके मित्र उसको नहीं बिगाड़ सकते। वह उनको ही अच्छे लड़के बना देगा। एक दिन उसके पिता ने उसे कुछ अच्छे सेब तथा एक सड़ा हुआ सेब दिया। उसने अपने लड़के से सभी अच्छे सेबों को एक टोकरी में रखने को कहा। फिर उसने उस सड़े हुए सेब को भी उसी टोकरी में रखने को कहा। 

अगले दिन सुबह अपने पुत्र से सेबों की टोकरी लाने को कहा। उसके पुत्र को यह देखकर दुःख हुआ कि सभी सेब खराब हो गये थे। उसके पिता ने उसे दिखा दिया कि एक सड़े हुए सेब ने सभी अच्छे सेबों को सड़ाकर खराब कर दिया। लड़का अपनी गलती को समझ गया। उसने बुरी संगति छोड़ दी। उसका पिता बहुत खुश हुआ।  शिक्षा : बुरी संगति मनुष्य को बिगाड़ देती है। 

(3). Rainy season…………a monkey getting drenched wet……….. shivers hard………..no. shelter………..a sparrow observes………..advises………..build home/ shelter before rains……….. monkey irritates………..destroys the bird’s nest………..never advise fools. 

A Monkey And A Sparrow

It was rainy season. One day, the rain was falling heavily. A monkey got drenched wet because he had no home or shelter. He was shivering hard. A sparrow saw the shivering monkey from its nest. She felt pity on the monkey. She advised the monkey to build home or shelter before the setting of the rainy season. The monkey felt irritated and destroyed the sparrows nest also. 
Moral : Never advise fools….. 

एक बन्दर और एक गौरैया

यह बरसात की ऋतु थी। एक दिन, तेज वर्षा हो रही थी। एक बन्दर बिल्कुल गीला हो गया क्योंकि उसके पास कोई घर या आश्रय नहीं था। वह अत्यधिक काँप रहा था। एक चिड़िया ने अपने घोंसले से काँपते हुए बन्दर को देखा। उसे बन्दर पर दया आ गई। उसने बन्दर को परामर्श दिया कि वर्षा ऋतु के आरम्भ होने से पूर्व उसे घर या आश्रय बना लेना चाहिए । बन्दर चिढ़ गया और उसने चिड़िया के घोंसले को भी नष्ट कर दिया। 
शिक्षा : मूों को कभी भी परामर्श न दें। 

(4) A bee………..falls into a river…………life in danger…………a dove …………greatly moved…………drops a leaf…………bee rides…………saved…………later on………….a hunter aims his gun………….kill the dove………….dove unaware………….bee flies to the hunter…………. stings………..gun goes off………….aim missed………….loud sound………….dove flies off………….saved. 

A Bee and A Dove

There was a bee. One day it was thirsty. It went to a river to drink water. It fell into the water. Its life was in danger. There was a tree near the river. A dove was sitting on a branch of that tree. It saw the bee. It dropped a leaf near the bee. The bee came on the leaf and flew away.

The dove saved its life. After some days the same dove was sitting on the branch of a tree. A hunter saw the dove. He aimed at the dove. The bee saw it. It flew and stung on his hand. The hunter missed the aim. The gun went off. There was a loud sound. The dove flew off. The bee saved the life of the dove. 
Moral : Do good and have good. 
[नोट-dove का उच्चारण — ‘डॅव’ है, डोव नहीं है।] 

एक मधुमक्खी और एक फ़ाख्ता

एक मधुमक्खी थी। एक दिन वह प्यासी थी। वह नदी पर पानी पीने गई। वह पानी में गिर गई। इसका जीवन खतरे में था। नदी के पास एक पेड़ था। एक फ़ाख्ता उस पेड़ की एक शाखा पर बैठी हुई थी। उसने मधुमक्खी को देखा। उसने मधुमक्खी के पास एक पत्ती गिराई। मधुमक्खी उस पत्ती पर आ उड़ गई। फाख्ता ने उसके जीवन को बचाया। 

कुछ दिनों के बाद वही फाख्ता एक पेड़ की शाखा पर बैठी हुई थी। एक शिकारी ने उस फाख्ता को देखा। उसने फाख्ता की ओर निशाना लगाया। मधुमक्खी ने यह देखा। वह उड़ी और शिकारी के हाथ पर डंक मार दिया। शिकारी का निशाना चूक गया। बन्दूक चल गई। जोर की आवाज हुई। फ़ाख्ता उड़ गई। मधुमक्खी ने फाख्ता के जीवन को बचाया। 
शिक्षा : कर भला तो हो भला। 

(5) A cap-seller…………bundle of caps……….. sleeps under a tree……….. monkeys………..take away caps………..cap-seller wakes………..no caps……….looks up……….. Some monkeys………..wearing caps………..thinks of a plan………..put on his cap……….. monkeys copy him………he throws his cap………..the monkeys also throw………..gathers the caps. 

A Clever Cap-seller and the Monkeys

There was a cap-seller. He went from village to village to sell his caps. He passed through a forest. He was tired. He put down his bundle (bag) of caps and slept under a tree. There were many monkeys. They came down. They took away the caps from the bag. 

After sometime the cap-seller woke up. He saw that there was no cap in the bag. He looked up. He saw the monkeys with his caps. He thought of a plan. He put on his cap. The monkeys imitated. They put on the caps. Now he took off his cap. The monkeys did the same. He threw his cap to the ground. The monkeys also did the same. He collected his caps. He went away. Moral : Never lose heart. 

एक चतुर टोपी-विक्रेता और बन्दर

एक टोपी बेचने वाला था। वह अपनी टोपियाँ बेचने एक गाँव से दूसरे गाँव में जाता था। वह एक जंगल में होकर गुजरा। वह थक गया था। उसने अपनी टोपियों के थैले को रखा और एक पेड़ के नीचे सो गया। वहाँ अनेक बन्दर थे। वे नीचे आये। वे थैले में से टोपियाँ ले गये। कुछ समय पश्चात् टोपी बेचने वाला जागा। उसने देखा कि थैले में एक भी टोपी नहीं थी। उसने ऊपर देखा। उसने बन्दरों के पास टोपियाँ देखीं। उसने एक योजना सोची। उसने अपनी टोपी पहनी। बन्दरों ने उसकी नकल की। अब उसने अपनी टोपी उतारी। बन्दरों ने भी ऐसा ही किया। उसने अपनी टोपी जमीन पर फेंकी। बन्दरों ने भी ऐसा ही किया। उसने अपनी टोपियाँ एकत्रित कीं। वह चला गया।  शिक्षा : कभी हिम्मत मत हारो। 

(6) A king………..distressed………..his people lazy………..to teach them a lesson………..put a big stone in the middle of the road……….. merchant pass………..an officer does the same………..a young soldier………..all pass………..cursed………..blames the government for not removing………..at last the king removes……….. under it an iron box………..for the man who moves away the stone………..inside a bag full of money………..the people felt ashamed. 

The Stone on the Road

Once upon a time there was a king. He was distressed to see that his people were lazy and always unwilling to work. To teach them a lesson, he got a large stone put in the middle of the road. Next day some merchants passed that way and faced inconvenience. Then an officer broke his arm through his carriage being overturned by the stone. A young soldier also fell from his horse and fractured his leg. People stumbled over it many times in the dark but none took the trouble of moving it away to the road side. 

All cursed the stone and blamed the government for not removing it. Then the king himself had the stone removed. Underneath was found an iron box marked. “For the man who moves away the stone.” Inside the box was a bag full of money. The people felt much ashamed of themselves. 
Moral : Hard work is always rewarded. 

सड़क पर पड़ा पत्थर

एक बार एक राजा था। वह यह देखकर बहुत व्यथित था कि उसकी प्रजा आलसी थी तथा हमेशा काम करने की अनिच्छुक थी। उन्हें सबक सिखाने को उसने सड़क के बीच एक बड़ा पत्थर रखवाया। अगले दिन कुछ व्यापारी उस रास्ते से गुजरे और उन्हें दिक्कत हुई। फिर एक अफसर ने, पत्थर से उसका सामान उलट जाने के कारण, अपनी बाँह तुड़वा ली। एक युवा सिपाही भी अपने घोड़े से गिर गया और उसके पैर की हड्डी टूट गई।

लोगों ने अन्धेरे में अनेक बार इससे ठोकर खाई लेकिन किसी ने भी इसे सड़क से एक तरफ हटाने की दिक्कत नहीं उठाई। सबने पत्थर को कोसा और इसे नहीं हटाने के लिए सरकार पर दोष लगाया। फिर राजा ने स्वयं पत्थर को । हटाया। इसके नीचे एक लोहे का बक्सा निकला, जिस पर लिखा था “उस व्यक्ति के लिए जो इस पत्थर को हटाता है।” बक्से के अन्दर रुपयों से पूरा भरा एक थैला था। लोग स्वयं पर अत्यधिक शर्मिन्दा हुए। शिक्षा : कठिन परिश्रम को हमेशा पुरस्कार मिलता है। 

(7) A hare………..proud of his speed………..laughs at a tortoise………..challenges for race………..race begins………..hare runs fast………..leaves the tortoise behind………..sleeps under a tree………..loses the race………..tortoise wins the race. 

A Hare and A Tortoise

A hare and a tortoise were fast friends. The hare was proud of his speed. It laughed at the tortoise for his slow speed. One day the tortoise asked the hare to run a race. The hare laughed and accepted the challenge. They were to reach a bush near the river. 

On the fixed day the race began. The hare ran very fast but the tortoise went on slowly. The tortoise was left far behind. It was a hot day. The hare wanted to take rest. It went under a tree and fell asleep. The tortoise did not stop. He went on. At about sunset the hare woke up and ran very fast. When it reached the bush, it saw the tortoise waiting for the hare. The tortoise , won the race. The hare was very sad. Moral : Slow but steady wins the race. 

एक खरगोश और एक कछुआ

एक खरगोश और एक कछुआ घनिष्ठ मित्र थे। खरगोश को अपनी चाल पर घमण्ड था। वह कछुए की धीमी चाल पर हँसता था। एक दिन कछुए ने खरगोश से एक दौड़ करने के लिए कहा। खरगोश हँसा और उसने चनौती स्वीकार कर ली। उन्हें नदी के किनारे एक झाडी पर पहँचना था।

निश्चित दिन दौड़ शुरू हुई। खरगोश बहुत तेज दौड़ा किन्तु कछुआ धीरे-धीरे चला। कछुआ बहुत पीछे रह गया। वह गर्म दिन था। खरगोश आराम करना चाहता था। वह एक पेड़ के नीचे गया और सो गया। कछुआ नहीं रुका। वह चलता रहा। सूर्यास्त के समय खरगोश जागा और बहुत तेजी से भामा। जब वह झाड़ी के पास पहुँचा, तो उसने देखा कि कछुआ खरगोश की प्रतीक्षा कर रहा है। कछुए ने दौड़ जीत ली। खरगोश बहुत दु:खी था। शिक्षा : धीरे किन्तु निरन्तर कार्य करने वाला अन्त में सफलता प्राप्त करता है। 

(8) Tiger kills a lady travelling through the jungle………..as he eats her body………. notices her gold bangle………..keeps it as he thinks it may be useful………..hides himself by a pool………..a traveller comes to pool, dusty and tired………..bathes in cool water………..sees tiger in the bushes………..terrified………..tiger greets him with the gold bangle………..traveller ‘s greed overcomes his fear………..crosses the pool to .. take bangle………..springs on him and kills him.

A Tiger and A Greedy Traveller

Orice there was a tiger. He killed a lady travelling through the jungle. When he was eating her body, he noticed her gold bangle. He kept it as he thought it might be useful. He hid himself by a pool. Later a traveller came to the. pool. He was dusty and tired. He bathed in its cool water. There he saw a tiger in the bushes. He was terrified. The tiger came out and greeted the traveller with gold bangle. The traveller’s greed overcame his fear. He crossed the pool to take bangle. Then the tiger sprang on him and killed him. Moral : Avoid your greedy desires. 

एक बाघ और एक लालची यात्री (राहगीर)

एक बार एक बाघ था। उसने जंगल में होकर यात्रा करती हुई एक महिला को जान से मार दिया। जब वह उसके शरीर को खा रहा था, तो उसको उसकी सोने की चडी दिखाई दी। उसने उसको रख लिया क्योंकि उसने सोचा कि वह किसी उपयोग की हो सकती थी। उसने स्वयं को एक तालाब की बगल में छिपा लिया। बाद में एक यात्री उस तालाब पर आया। वह धूल में हो रहा था तथा थका हुआ था।

उसने उसके ठण्डे पानी में स्नान किया। वहाँ झाड़ियों में उसने एक बाघ देखा । वह आतंकित हो गया। बाघ बाहर निकल आया और सोने की चूड़ी दिखाकर उसका स्वागत किया। यात्री के लालच ने उसके डर पर विजय प्राप्त कर ली, उसके डर को भगा दिया। उसने चूड़ी लेने के लिये तालाब को पार किया। फिर बाघ उस पर उछलकर झपट पड़ा और उसको मार दिया। शिक्षा : अपनी लालची, लोलुप इच्छाओं से बच कर रहो। 

(9) Boy set to guard sheep………..watches the sheep for several days…………gets tired of monotonous work…………one day shouts wolf as a joke…………all the villagers hasten to his help…………find no wolf…………laughs at them…………villagers angry…………plays the same joke…………a few days later………… some villagers take no notice………..some come running…………finding nothing…………at last wolf really comes…………shouts ‘Wolf! Wolf’………..villagers take no. notice…………wolf kills several sheep. 

The Shepherd Boy and The Wolf

There was a shepherd boy. He was set to guard sheep. He watched the sheep for several days. He got tired of that monotonous work. One day he shouted ‘wof’ as a joke. All the villagers hasten to his help. But they found no wolf. The boy laughed at them. The villagers got angry. The boy played the same joke again a few days later.

Some villagers came running but some other villagers took no notice. They found nothing. At last wolf really came. He shouted Wolf! Wolf!’ But the villagers took no notice. The wolf killed several sheep. 
Moral : Nobody trusts a liar Or Once a liar, always a liar. 

गड़रिया बालक और भेड़िया

एक लड़का था। उसको भेड़ों की देखभाल करने के लिए रखा गया। उसने कई दिनों तक भेड़ों की देखभाल की। वह इस नीरस काम को करते-करते उकता गया। एक दिन वह मजाक-हँसी में ‘भेड़िया’ पुकार कर चिल्लाया। सभी ग्रामवासी उसकी मदद के लिये शीघ्रता से दौड़ पड़े।

लेकिन उनको वहाँ कोई भेड़िया नहीं मिला। लड़के ने उनकी हँसी उड़ाई। ग्रामवासी नाराज हो गये। कुछ दिनों बाद उस लड़के ने फिर वही मजाक किया। कुछ ग्रामवासी तो दौड़कर आ गये लेकिन कुछ ग्रामवासियों ने उस पर कोई ध्यान नहीं दिया। उनको वहाँ कुछ भी नहीं मिला। आखिरकार वास्तव में भेड़िया आ गया। वह ‘भेड़िया! भेड़िया!’ चिल्लाया। लेकिन ग्रामवासियों ने उसके चिल्लाने पर कोई ध्यान नहीं दिया। भेड़िये ने कई भेड़ों को मार डाला। शिक्षा : झूठे का कोई विश्वास नहीं करता। अथवा झूठ एक बार का, झूठा बार-बार का। 

(10) Two friends ………….. tavel to earn money ………….. through forest ………….. wild animals ………….. they promise to help each other ………….. one climbs up a tree ………….. the other does not know how to climb ………….. danger ………….. lies on the ground ………….. bear smells ………….. thinks dead ………….. leaves ………. never rely on false friends. 

Two Friends and A Bear

There were two friends. They travelled to earn money. They were travelling through a thick forest. There were many wild animals. They had promised to help each other in danger. After sometime they saw a big wild bear coming towards them. They were afraid to see it. One of the friends ran and climbed up a tree.

The other friend did not know how to climb up a tree. His life was in danger. He lay down on the ground as a dead man. He held his breath. The bear smelled him. It thought him dead and went away. Now the other friend came down. He asked his friend, “What did the bear say in your ear ?” The friend replied, “Never rely on false friends.” The other friend was ashamed. Moral : Never trust false friends. 

दो मित्र और एक भालू

दो मित्र थे। उन्होंने धन कमाने को यात्रा की। वे एक घने जंगल से होकर यात्रा कर रहे थे। वहाँ अनेक जंगली जानवर थे। उन्होंने संकट में एक-दूसरे की सहायता करने का वचन दिया। थोड़ी देर पश्चात् उन्होंने एक बड़े जंगली भालू को अपनी ओर आते हुए देखा। वे इसे देखकर डर गये। इनमें से एक मित्र दौड़ा और एक पेड़ पर चढ़ गया।

दूसरा मित्र पेड़ पर चढ़ना नहीं जानता था। उसका जीवन खतरे में था। वह जमीन पर मृत व्यक्ति की तरह लेट गया। उसने अपनी साँस रोक ली। भालू ने उसे सूंघा। उसने उसे मरा हुआ समझा और चला गया। अब दूसरा मित्र नीचे आया। उसने अपने मित्र से पूछा-“भालू ने तुम्हारे कान में क्या कहा?” मित्र ने उत्तर दिया-“झूठे मित्रों पर भरोसा मत करो।” दूसरा मित्र शर्मिन्दा हुआ। शिक्षा : झूठे मित्रों का कभी विश्वास मत करो। 

(11) Fox …………..invites a crane to dine with him …………..places flat dish containing soup ………. … the fox laps it up ………….. crane goes back hungry ………….. next day crane invites the fox ………….. places boiled rice in jar ……… crane eats all and fox remains hungry. 

A Fox and A Crane

A fox-and a crane were friends. The fox invited the crane to dine with him. The crane went to the fox. He welcomed the crane. He puts flat dish containing soup. The fox lapped up the soup. The crane had a pointed beak, so it could not make the soup. The crane went back hungry. It thought of a plan. 
Next day the crane invited the fox to dine. The fox went there. He put boiled rice in a.jar. Its neck was narrow. The crane ate rice and the fox remained hungry. Moral : Tit for tat.

एक लोमड़ और सारस

एक लोमड़ और एक सारस मित्र थे। लोमड़ ने सारस को अपने साथ भोजन के लिए निमंत्रित किया। सारस, लोमड़ के यहाँ गया। उसने सारस का स्वागत किया। उसने एक चौरस प्लेट रखी जिसमें शोरबा (तरल पदार्थ) था। लोमड़ शोरबे को चाट गया। सारस की नुकीली चोंच थी इसलिए वह शोरबा नहीं ले सका। सारस भूखा चला गया। उसने एक योजना सोची। अगले दिन सारस ने लोमड़ को भोजन के लिए निमंत्रित किया। लोमड़ वहाँ गया। सारस ने उबले हुए चावल एक जार में रखे, जिसकी गर्दन संकरी थी। सारस समस्त चावल खा गया और लोमड़ भूखा रह गया।  शिक्षा : जैसे को तैसा। 

(12) A large number of mice ………….. a cat lives in that house ………….. kills and eats rats ………….. holds a meeting ………….. plan to tie bell round her neck ………….. all happy ………….. one rat asks ………….. who will bell the cat …….. all mum ………….. cat comes ………….. rats run away …………

Belling the Cat

There was a big house. A large number of mice lived there. A cat also lived on that house. The cat killed some rats everyday and ate them up. The rats were afraid of the he was no unified opinion. Then they thought of tying a bell round the cats neck.

All the rats were happy at this suggestion. There was an old rat. It asked the rats as to who will bell the cat. All the rats became silent. No rat was willing to do that work. At that time the cat came. Then all the rats ran into their holes. Moral : It is easy to say, but difficult to do.

बिल्ली के घण्टी बाँधना

एक बार एक बड़ा मकान था। वहाँ बड़ी संख्या में चूहे रहते थे। एक बिल्ली भी उस मकान में रहती थी। बिल्ली प्रतिदिन कुछ चूहे मारती थी और उसको खा जाती थी। चूहे बिल्ली से डरे थे। एक दिन उन्होंने एक सभा की। चूहों ने बिल्ली से छुटकारा पाने के तरह-तरह के सुझाव दिये। लेकिन कोई एकमत की राय नहीं बनी।

फिर उन्होंने बिल्ली के गले के चारों ओर एक घण्टी बाँधने की बात सोची। इस सझाव पर सभी चूहे खुश थे। वहाँ एक वृद्ध चूहा भी था। उसने चूहों से पूछा कि बिल्ली के गले में घण्टी कौन बाँधेगा। हो गये। कोई भी चहा उस काम को करने के लिए तैयार नहीं था। उसी समय बिल्ली वहाँ आ गई। फिर तो सभी चूहे अपने बिलों में दौड़ गये। शिक्षा : कहना सरल है, करना कठिन है। 

(13) An old farmer ………….. four sons ………….. always quarrel ………….. very sad ………….. thinks of a plan ………….. calls ………….. brings a bundle of sticks ………….. try one by one ………….. fail ………….. untie the bundle ………….. break the sticks one by. one ………….. gives them a lesson ………….. live united like sticks …………. strong ………….. del ………….. learn lesson ………….. never quarrel again. 
An Old Farmer and His Quarrelling Sons 
Or 
Union is Strength An old farmer had four sons. They always quarrelled with one another. He is very sad. He thought of a plan. He brought a bundle of sticks. He asked his sons to break it. Each boy tried to break it. but they could not break it. Now, his father untied the bundle. He asked them to break the sticks one by one. Every son broke it very easily. Now the father said, “If you live united like the sticks, you will be strong. Nobody can harm you. ‘ The sons learnt a lesson. They decided to live together. They never quarrelled. The old farmer and his sons were very happy. Moral : Union is strength 

वृद्ध किसान और उसके झगड़ालू लड़के 
अथवा 
संगठन में शक्ति है एक बूढ़े किसान के चार लड़के थे। वे एक-दूसरे से प्रायः झगड़ते रहते थे। वह बहुत दुःखी था। उसने एक तरकीब सोची।। वह लकड़ियों का एक बण्डल लाया। उसने अपने पुत्रों से इसे तोड़ने को कहा। प्रत्येक लड़के ने इसे तोड़ने की कोशिश की। लेकिन वे इसे नहीं तोड़ सके। अब पिता ने बण्डल को खोला। उसने लड़कों से उस गट्टे की लकड़ियों को एक-एक करके तोड़ने को कहा। प्रत्येक लड़के ने इसे सरलता से तोड़ दिया। अब पिता ने कहा- “यदि तुम बंडल की लकड़ियों की तरह साथ-साथ रहोगे, तो तुम शक्तिशाली रहोगे। तुम्हें कोई भी नुकसान नहीं पहुँचा सकता।” उसके पुत्रों ने एक शिक्षा ली। उन्होंने साथ-साथ रहने का निश्चय किया। फिर वे कभी नहीं लड़े। वृद्ध किसान और उसके लड़के बहुत प्रसन्न थे।
शिक्षा : संगठन में ही शक्ति है। 

(14) A lion ………….. asleep ………….. a mouse ………….. jumps upon him ………….. the lion angry ………….. catches it ………….. ready to kill ………….. begs for mercy …………. lets go off ………….. lion caught in a net ………….. roars ………….. the mouse cuts the net ………… kindness ………….. thanks. 

A Lion and A Mouse A lion was sleeping under a tree. A mouse came there. It jumped upon the body of the lion. The lion woke up. He was very angry. He caught the mouse and was ready to kill it. The mouse begged for mercy. The lion was kind. He left the mouse. 

After some days, the lion was caught in a net. He tried to break the net. But the net was very strong. So he could not come out. He roared again and again. The mouse heard the roars. It ran to the lion. It cut the net with its sharp teeth. The lion came out of the net. He was now free. He thanked the mouse. 
Moral : Do good and get good. 

एक शेर और एक चूहा एक शेर एक पेड़ के नीचे सो रहा था। एक चूहा वहाँ आया। वह शेर के शरीर पर उछल-कूद करने लगा। शेर जागं गया। उसे बहुत गुस्सा आया। उसने चूहे को पकड़ लिया और उसे मारने को उद्यत हुआ। चूहे ने दया की भीख माँगी। शेर दयालु था। उसने चूहे को छोड़ दिया। कुछ दिनों के पश्चात् वह शेर जाल में फँस गया। उसने जाल को काटने की कोशिश की। किन्तु जाल बहुत मजबूत था। इसलिए वह बाहर नहीं आ सका। वह बार-बार दहाड़ा। चूहे ने शेर की दहाड़ें सुनीं। वह शेर के पास दौड़ा। उसने अपने तेज दाँतों से जाल को काट दिया। शेर बाहर आ गया। अब वह आजाद था। उसने चूहे को धन्यवाद दिया। शिक्षा : भलाई करो, भला होगा। 

(15) A farmer ………….. returning home ………….. cold evening ………….. sees a snake ………….. unconscious ………….. farmer takes pity ………….. puts it in basket ………….. takes it home ………….. puts near the fire place ………….. snake recovers  ……….. gives milk ………….. starts moving ………….. farmer’s son playing ……… snake attacks ………….. farmer angry ………….. drive it away. 

A Farmer and a Snake

There was a farmer. He was returning home from his field. It was a very cold evening. He saw a snake on the road. It was unconscious. He took pity on it. He put it into a basket. He took it home. He put it near the fire-place. The snake was warm. It recovered. The farmer gave milk to the snake. It started moving. The farmer’s son was playing there. The snake tried to bite the child. The farmer saw it. The farmer became very angry. He drove it away. Moral : The wicked never changes. 

एक किसान और एक साँप

एक किसान था । वह अपने खेत से घर लौट रहा था। बहुत ठंडी शाम थी। उसने सड़क पर एक साँप देखा। वह बेहोश हो गया था। उसने साँप पर दया की। उसने साँप को टोकरी में रखा। वह उसे घर ले आया। उसने इसे आग के पास रखा। वह गर्म हो गया। वह ठीक हो गया। किसान ने साँप को दूध दिया। वह रेंगने लग गया। किसान का पुत्र वहाँ खेल रहा था। साँप ने बच्चे को काटने की कोशिश की। किसान ने इसे देखा। किसान को बहुत गुस्सा आया। उसने इसे दूर भगा दिया। शिक्षा : दुष्ट अपना स्वभाव कभी नहीं बदलता। 

(16) A tiger caught in a trap ………….. a Brahmin takes pity on him ………….. sets him free ………….. the tiger wants to eat him up ………….. the brahmin begs for his life ………….. the tiger not moved ………….. a jackal comes up……….cleverly puts the tiger in the case. 

A Clever Jackal

A tiger was caught in a trap. A Brahmin passed that way. The tiger requested the Brahmin to set him free. The Brahmin took pity on the tiger. He set the tiger free. Now the tiger wanted to eat him up. The Brahmin begged for his life. But the tiger was not moved. By chance a jackal came there. The Brahmin asked the jackal to do justice in the matter.

The jackal understood that the life of the Brahmin was in danger. The jackal was clever. He pretended that he did not understand the matter. He asked the tiger to be in the former position. The tiger went into the cage. The jackal shut the door quickly. Thus, the life of the Brahmin was saved. Moral : Think of self before you stand for help. 

एक चतुर गीदड़

एक बाघ जाल में फँस गया। एक ब्राह्मण उधर से गुजरा । बाघ ने ब्राह्मण से प्रार्थना की कि वह उसे स्वतंत्र कर दे। ब्राह्मण को बाघ पर दया आई। उसने बाघ को स्वतंत्र कर दिया। अब बाघ, उस ब्राह्मण को खाना चाहता था। ब्राह्मण ने अपने जीवन की भिक्षा माँगी, किन्तु बाघ को दया नहीं आई। एक गीदड़ उधर आया। ब्राह्मण ने गीदड़ से कहा कि वह इस मामले में न्याय करे। गीदड़ समझ गया कि ब्राह्मण का जीवन खतरे में था। गीदड़ चतुर था।

उसने बहाना बनाया कि वह मामले को नहीं समझा। उसने बाघ से कहा कि वह पूर्व-स्थिति में आ जाये। बाघ पिंजरे के अन्दर चला गया। गीदड़ ने फुर्ती से दरवाजा बंद कर दिया। इस प्रकार ब्राह्मण की जान बच गई। शिक्षा : दूसरों की मदद करने के लिये खड़े होने से पहले अपने स्वयं की सोचो। 

(17) Three friends ………….. travel through a forest …………. find a big bag of money …………. agree to divide …………. all of them hungry …………. one goes to buy food …………. thinks to keep all the money …………. poison food …………. the other two plan to murder him …………. as soon as he comes back …………. attacked and murdered …………. eat poisoned food …………. die. 

Greedy Friends 
There were three friends. They were travelling through a forest. They found a big bag full of money. They took it and agreed to divide the money equally. But all of them were hungry. So one friend went out to buy food. He thought to keep all the money for himself.

He ate food there. Then he poisoned the food. The other two friends in the forest also planned to murder the friend when he came with food. As soon as the friend came back with food, the other two friends attacked and murdered him. They were happy. The were very hungry. So they ate the poisoned food. After some time they also died there. It was their sad end. Moral : Do bad and get bad. 

लालची मित्रगण 

तीन मित्र थे वे एक जंगल से होकर जा रहे थे। उन्हें धन से भरा हुआ एक बड़ा थैला मिला। उन्होंने उसे ले लिया और धन को बराबर-बराबर बांटना स्वीकार कर लिया। किन्तु वे सभी भूखे थे। इसलिए एक मित्र भोजन खरीदने के लिए चला गया। उसने सभी धन को स्वयं लेना चाहा। उसने वहाँ भोजन किया। फिर उसने भोजन में विष मिला दिया।

जंगल में दोनों मित्रों ने भी अपने मित्र की हत्या करने की योजना बनाई, जब वह भोजन लेकर लौटे। ज्योंही वह मित्र भोजन लेकर वापस आया, दोनों मित्रों ने उस पर आक्रमण कर दिया और उसकी हत्या कर दी। वे बहुत प्रसन्न हुए। वे बहुत भूखे थे। इसलिए उन्होंने विषयुक्त भोजन कर लिया। थोड़े समय के पश्चात् वे भी वहीं मर गये। यह उनका दुःखद अन्त था। 
शिक्षा : बुरा करोगे तो बुरा फल मिलेगा। 

(18) Two cats ………….. a piece of bread …………. divide………….. one piece bigger ………….. quarrel ………….. a monkey ………….. offers to act as a judge ……….. cuts the bigger piece ………….. more than necessary ………….. piece smaller ………….. cut the other piece ………….. pieces become smaller and smaller ………….. the cats request to return what was left ………….. refuses ………….. says …. reward of his labour. 

Two Cats and A Monkey 
Or 
Monkey’s Judgement There were two cats. They found a piece of bread. They went to a monkey to divide the piece of bread in two equal parts. The monkey cut the piece of bread into two. But one was bigger than the other. The monkey bit from the bigger piece making it smaller than the other.

The monkey ate up that bit of bread. He continued to do so till the most part of the piece was eaten up by the monkey. Then the cats requested the monkey to return them the little piece that was left. The monkey refused to return what was left. He said that it was the reward of his labour. So he also ate it up. 
Moral : Don’t invite the third to settle disputes between yourselves. 

दो बिल्लिया आर राटा का टुकड़ा 
अथवा 
बंदर का न्याय दो बिल्लियाँ थीं। उनको एक रोटी का टुकड़ा मिल गया। इस रोटी के टुकड़े को दो बराबर के हिस्सों में बाँटने के लिये वे एक बन्दर के पास पहुँच गईं। बन्दर ने रोटी के टुकड़े को दो हिस्सों में बाँट दिया। लेकिन एक टुकड़ा उस दूसरे टुकड़े से बड़ा था। बन्दर ने उस रोटी के बड़े टुकड़े में से दोनों को बराबर करने के लिये काटकर खा लिया। फिर उस बड़े टुकड़े को दूसरे टुकड़े से छोटा कर दिया। बन्दर उस बढ़े हुए टुकड़े में से काटे गये टुकड़े को खा गया।

ऐसा वह तब तक करता रहा जब तक कि उस रोटी के टुकड़े के अधिकांश हिस्से को उस बन्दर द्वारा खा नहीं लिया गया। फिर बिल्लियों ने बन्दर से प्रार्थना की कि वह रोटी के उस बचे हुए टुकड़े को उनको वापस कर दे। जो कुछ बाकी टुकड़ा बचा था, बन्दर ने उसको उनको देने से मना कर दिया। उसने कह दिया कि यह तो उसके परिश्रम का पुरस्कार है। शिक्षा : तुम्हारे बीच के विवादों को खत्म करने के लिए तीसरे को आमंत्रित मत करो। 

 (19) A wood-cutter ………….. honest ………….. goes to woods ………….. are falls into the river ………….. cries ………….. god mercury appears ………….. brings axe of gold ………….. no ………….. jumps. back ………….. axe of silver ………….. no ………….. repeats ………….. axe of iron ………….. yes ………….. pleased ………….. gives all the axes. 

An Honest Wood-cutter 

A wood-cutter daily went to the forest to cut wood. There was a dry tree near the bank of a river. He was cutting wood. Suddenly his axe slipped away and fell into the water. He cried for help. The god mercury appeared and brought an axe of gold. The wood-cutter said, “It is not my axe, so I will not take it.” The god jumped back into water. He brought an axe of silver.

The wood-cutter again refused to take it. The god (water-god) again jumped into the water. He brought the wood-cutter’s iron axe. He took it happily. The god was pleased at the honesty of the poor wood-cutter. He gave all the three axes to the wood-cutter. The wood cutter was very happy and thanked the god. Moral : Honesty is the best policy. 

एक ईमानदार लकड़हारा 

एक लकड़हारा रोजाना जंगल में लकड़ी काटने जाता था। नदी के किनारे एक सूखा वृक्ष था। वह लकड़ी काट रहा था। अचानक उसकी कुल्हाड़ी पानी में गिर गई। वह सहायता के लिए चिल्लाया। जल देवता प्रकट हुएँ और सोने की एक कुल्हाड़ी लाये। लकड़हारे ने कहा-“यह मेरी कुल्हाड़ी नहीं है, इसलिए मैं इसे नहीं लँगा।” देवता वापस पानी में कूदा। वह चाँदी की एक कुल्हाड़ी ले आये। लकड़हारे ने इसे लेने से फिर इनकार कर दिया। 

जल-देवता फिर पानी में कूदा। इस बार वह लकड़हारे की लोहे की कुलड़ी ले आये। गरीब लकड़हारे ने इसे खुशी से ले ली। देवता गरीब लकड़हारे की ईमानदारी से खुश हुए। उन्होंने तीनों कुल्हाड़ियाँ लकड़हारे को दे दी। लकड़हारा बहुत खुश हुआ और जल-देवता को धन्यवाद दिया। शिक्षा-ईमानदारी सबसे अच्छी नीति है। 

(20) King ………….. conquers ………….. city ………….. message ………….. before soldiers enter ………….. women go out ………….. take most valuable property ………….. each carries ………….. her husband ………….. pleased ………….. alow to stay in the city. 

The King and The Women

Once a king conquered a city. He sent a message into the town, “Before my soldiers enter the city, the women shall go out. Each woman can carry with her, het most valuable property.” Next morning, each woman was seen carrying her husband with her. The king was pleased to see this. He praised the women for their love for their husbands. He allowed them to stay in the city. Moral : Wisdom pays. 

राजा एवं महिलाएँ एक बार

एक राजा ने एक शहर पर विजय प्राप्त की। उसने नगर में एक सन्देश भेजा, “मेरे सैनिकों के शहर में प्रवेश करने से पहले महिलायें बाहर चली जायें। प्रत्येक महिला अपने साथ, अपनी सबसे मूल्यवान सम्पत्ति ले जा सकती है।” अगली सुबह, प्रत्येक महिला को अपने साथ उनके पति को ले जाते हुए देखा गया। यह देखकर राजा खुश हुआ। उसने महिलाओं की, उनके पतियों के प्रति उनके प्यार के लिए प्रशंसा की। उसने उन्हें नगर में रहने की अनुमति प्रदान कर दी। शिक्षा : बुद्धिमानी का फल मिलता है। 

(21) English sailor ………….. prisoner of war ………….. war ends ………….. comes. home ………….. London ………….. bird-seller ………….. boys ………….. cage of birds ……. sets birds free ………….. why ? 

English Sailor and the Caged Birds

Once there was an English sailor. He was fighting in a war. During the war, he was made a prisoner. After sometime the war ended. He was released. He came home in London. There he saw a bird-seller. Many boys were surrounding the bird-seller. The birds were in the cage.

The sailor bought all the birds of the cage. Then he opened the window of the cage. He let all the birds fly away. Thus, he set the birds free. He did so because he understood the pains of caged birds. He himself had experienced the pains during his bondage as a prisoner of war. Moral: A life in bondage is always painful. 

अंग्रेज नाविक और पिंजरे की चिड़ियाएँ

एक बार एक अंग्रेज नाविक था। वह एक युद्ध में लड़ रहा था। युद्ध के दौरान उसको कैदी बना लिया गया। कछ समय बाद यद्ध समाप्त हो गया। उसको मुक्त कर दिया गया। वह लन्दन में अपने घर आ गया। वहाँ उसने एक चिड़िया बेचने वाला देखा। उस चिड़िया बेचने वाले को बहुत से लड़के घेरे हुए थे। चिड़िया एक पिंजरे में थी।

नाविक ने उन सभी चिड़ियों को खरीद लिया। फिर उसने उस पिंजरे की खिड़की को खोल दिया। उसने सभी चिड़ियों को उड़ जाने दिया। इस प्रकार उसने सभी चिड़ियों को स्वतंत्र कर दिया। उसने ऐसा इसलिये किया क्योंकि वह पिंजरे मे बन्द चिड़ियों के दर्द को समझता था। उसने अपने (बन्दी सैनिक) दासता की अवस्था के दौरान बहुत दर्द अनुभव किये थे। शिक्षा : दासता का जीवन सदैव ही दर्दपूर्ण होता है। 

(22) A donkey ………….. carries salt …………. stream …………. by chance …………. falls down …………. salt washed away …………. half bag remains …………. light …………. feels happy ………….master angry …………. next time …………. carries cotton …………. stream …………. falls down …………. heavy …………. sad. 

A Donkey And The Load of Salt 

There was a salt-merchant. He carried salt on a donkey from village to village. One day they were crossing a stream. All of a sudden the donkey slipped and fell down. About half of the salt washed away. The donkey got up. It found the bag light It was very happy. Now the donkey knew the trick. It sat down in the stream every time it crossed it.

The merchant was angry. He wanted to teach it a lesson. Nest day he put a bag of cotton on its back. It was very light. While the donkey was crossing the stream, it sat down. The cotton was wet with water. The donkey got up. It found the load very heavy. It could not walk easily. It was very sad. Moral : Tit for tat. 

एक गधा और नमक का बोझ

एक नमक का व्यापारी था। वह गधे पर एक गाँव से दूसरे गांव को नमक ले जाता था। एक दिन वे एक नाला पार कर रहे थे। अचानक गधा फिसल गया और गिर गया। लगभग आधा नमक घुल गया। गधा उठा। उसे बोझ हल्का लगा वह बहुत खुश हुआ। अब गधे को तरकीब मालूम हो गई। यह जब भी नाले को पार करता था, बैठ जाता था। व्यापारी को क्रोध आता था। वह इसे एक सबक सिखाना चाहता था। अगले दिन उसने कपास का एक बोरा उसकी पीठ पर रखा। यह बहुत हल्का था। जब गधा नाले को पार कर रहा था, वह बैठ गया। कपास, पानी में भीग गई। गधा खड़ा हो गया। उसे बोझ बहुत भारी लगा। वह सरलता से चल नहीं सकता था। वह बहुत दुःखी हुआ। शिक्षा : जैसे को तैसा। 

(23) A goat …………..fond of a for ………….. play together ………….. a well for falls in ………….. cannot come out ………….. persuades goat to come in …. climbs its back ………….. comes out ………….. goat remains there. 

A Clever Fox and A Foolish Goat

Once upon a time there was a goat. It was very fond of a fox. They were friends. They played together. There was a dry well. She tried again and again to come out but she could not. She thought of a plan. She persuaded the goat to come into the well and play there. The goat jumped into the well. The fox climbed on the back of the goat and came out. She was happy and went away. The goat remained there and could not come out. Moral : Keep away from false friends.
 
एक चतुर लोमड़ और मूर्ख बकरी

एक बार एक बकरी थी। यह एक लोमड़ की बहुत प्रिय थी। वे मित्र थे। वे साथ-साथ खेलते थे। वहाँ एक सुखा कुआं था। एक दिन लोमड़ और बकरी खेल रहे थे। लोमड़ कुएं में गिर गयी। उसने बाहर आने की बार-बार कोशिश की लेकिन वह नहीं आ सका। उसने एक योजना सोची। उसने बकरी को कुएं के अन्दर आने और वहाँ खेलने के लिए राजी कर लिया। बकरी कुएं में कूद गईं। लोमड़, बकरी की पीठ पर चढ़ा और बाहर आ गया। वह खुश हुआ और चला गया। बकरी वहीं रह गई और बाहर नहीं आ सकी। शिक्षा : झूठे मित्रों से दूर रहो। 

(24) King Solomon ………….. noted for his wisdom ………….. Queen of Sheba comes to know of his fame ………….. visits. him ………….. wants to test his wisdom . shows two garlands of flowers ………….. one real, the other artificial ………….. asks. “Which is which ?” King orders windows to be opened ….. ……… bees come in ………… settle on real flowers. 

King Solomon and Queen of Sheba

King Solomon was noted for his wisdom. Queen of Sheba wanted to test his wisdom. She showed him two garlands of flowers. Both the garlands looked alike. One garland was in her right hand and the other garland was in her left hand. One garland was real.

The other garland was artificial. She asked Solomon, “which garland is real and which garland is artificial?”. He thought for a moment. He ordered to open all the windows. Now some bees flew in from the garden. They settled on the garland in her right hand. Solomon said the garland in her right hand was real. The queen was impressed with his wisdom. Moral : The Witty is praised. 

राजा सॉलॅमॅन और शेबा की महारानी 

राजा सॉलमैन अपनी बुद्धिमानी के लिए प्रसिद्ध था। शेबा की महारानी उसकी बुद्धिमानी का परीक्षण करना चाहती थी। उसने उसे फूलों की दो मालाएँ दिखलाईं। दोनों मालाएँ समान दिखाई पड़ती थीं। एक माला उसके दाहिने हाथ में थी और दूसरी माला उसके बाएँ हाथ में थी। एक माला असली थी और दूसरी कृत्रिम।

उसने सॉलमॅन से पूछा-“कौनसी माला असली फूलों की है और कौनसी माला कृत्रिम फूलों की है?” उसने एक क्षण सोचा। उसने तमाम खिड़कियाँ खोलने का आदेश दिया। अब कुछ मधुमक्खियाँ बाग में से उड़कर अन्दर आईं। उसकी दाहिनी हाथ की माला पर मधुमक्खियाँ बैठीं। सॉलॅमॅन ने कहा कि उसके दाहिने हाथ की माला असली फूलों की थी। रानी उसकी बुद्धिमानी से प्रभावित हुई। शिक्षा : चतुराई की प्रशंसा की जाती है। 

(25) A crow with piece of bread ………….. on a tree ………….. a fox passing sees ……. wants to get the piece of bread ………….. plans ………….. praises the crow for sweet voice and good looks ………….. the crow glad ………….. opens his beak ………….. sings ………….. the piece falls ………….. the fox picks up ………….. runs away ………….. the foolish crow ………….. sad. 

A Foolish Crow 

There was a crow. It got a piece of bread. It flew to a forest. It sat on the branch of a tree. A fox was passing through the forest. She saw a crow with a piece of bread in its mouth. She wanted to get the piece of bread. She thought of a plan. She praised the shape of the crow’s beak. She asked it to sing. The crow was puffed up to hear its praise. It opened its mouth to sing. The piece of bread fell down. The fox took it and ran away. The crow was very sad. Moral : Keep away from false praises. 

एक मूर्ख कौआ 

एक कौआ था। उसे रोटी का एक टुकड़ा मिला। वह जंगल की ओर उड़ गया। वह एक वृक्ष की शाखा पर बैठ गया। एक लोमड़ उस जंगल में होकर गुजर रहा था। उसने एक कौवे को अपनी चोंच में एक रोटी का टुकड़ा लिये देखा। वह लोमड़ उस रोटी के टुकड़े को प्राप्त करना चाहता था। उसने एक तरकीब सोची।

उसने कौवे की चोंच के रूप की प्रशंसा की। उसने उससे गाने को कहा। कौवा अपनी प्रशंसा सुनकर फूल कर कुप्पा हो गया। उसने गाने के लिये अपना मुँह खोला। रोटी का टुकड़ा नीचे गिर गया। लोमड़ ने उसको लिया और दौड़कर चला गया। कौवा बहुत उदास हो गया। शिक्षा : झूठी प्रशंसाओं से दूर रहो। 

(26) A stag looks at its own reflection in a pool ………….. admires his horns …………. dislikes legs ………….. hunters arrive with their dogs ………….. stag runs fast ………….. horns caught in bushes ………….. repents ………….. dogs kill him ………… sad end. 

A Vain Stag

There was a stag. It was very thirsty. It came to a pool. It was drinking water. It saw its reflection in the water. It saw its beautiful horns. It was very happy and proud. Then it looked at its legs. They were thin and ugly. It disliked them. It was sad to see them. At this time some hunters arrived with their dogs. It ran very fast to save its life. The dogs were running after it.

They could not catch it: But its horns were caught in bushes. It tried to free them, but all in vain. The ugly legs saved it, but the beautiful horms put its life in danger. In the meantime the dogs reached there. They killed it. So the stag was killed due to its beautiful horns. This was its sad end. Moral : All that glitters is not gold. 

एक घमण्डी बारहसिंगा

एक बारहसिंगा था। वह बहुत प्यासा था। वह एक पोखर पर आया। वह पानी पी रहा था। उसने पानी में अपनी परछाई देखी। उसने अपने सुन्दर सींग देखे । उसे बहुत प्रसन्नता एवं गर्व हुआ। फिर उसने अपने पाँवों की ओर देखा। वे पतले एवं भद्दे थे। उसने उन्हें पसन्द नहीं किया। उन्हें देखकर उसे दुःख हुआ। इसी समय कुछ शिकारी अपने कुत्तों के साथ आये। वह अपना जीवन बचाने के लिए बहुत तेज भागा।

कुत्ते इसके पीछे भाग रहे थे। वे इसे नहीं पकड़ सके। लेकिन इसके सींग झाड़ियों में फँस गये। इसने उन्हें छुड़ाने की कोशिश की, किन्तु सब व्यर्थ । इन भद्दी टांगों ने उसको बचाया, लेकिन सुन्दर सींगों ने उसके जीवन को खतरे में डाल दिया। इसी बीच में कुत्ते वहाँ पहुँच गये। उन्होंने उसे मार डाला। इस प्रकार वह अपने सुन्दर सींगों के कारण मारा गया। यह इसका दु:खपूर्ण अन्त था।  शिक्षा : हर चमकने वाली वस्तु सोना नहीं होता। 

(27) A king had a clever jester ………….. one day he gives nasty joke to the king ………….. the king sentences to death ………….. begs the king for mercy allows to choose his mode of dying ………….. he chooses to die of old age …. the king pleased ………….. pardons him. 

The Clever jester

There was a king. He had a jester at his court. The jester was very clever. The king liked him very much. One day the jester played a nasty joke on the king. The king became angry. The king sentenced him to death. He begged the king for mercy. The king did not pardon him. But he allowed him to choose his mode of dying. The jester chose to die of old age. The king was pleased at his cleverness. He pardoned the jester. Moral : Cleverness pays. 

चतुर विदूषक एक राजा था।

उसके दरबार में एक विदूषक था। विदूषक बहुत होशियार था। राजा उसे बहुत पसन्द करता था। एक दिन विदूषक ने राजा के साथ एक भद्दी मजाक की। राजा को क्रोध आया। राजा ने उसे मृत्युदंड दिया। उसने राजा से दया की भीख माँगी। राजा ने उसको माफ तो नहीं किया परन्तु उसने उसे मरने का तरीका चुनने की अनुमति दे दी। विदूषक ने वृद्धावस्था में मरने को चुना। राजा उसकी चतुराई से प्रसन्न हुआ। उसने विदूषक को क्षमा कर दिया।  शिक्षा : चतुराई का फल मिलता है। 

(28) A milkmaid ………….. pet mongoose ………….. goes out to bring water…………. child sleeping ………….. snake comes ………….. mongoose kills … milkmaid returns ………….. sees blood ………….. thinks mongoose killed the child drops pail of water ………….. mongoose dies ………….. finds child safe ………. repents. 

A Milkmaid and Her Pet Mongoose

There was a milkmaid. She had a pet mongoose. One day she went out to bring water. Her child was sleeping in the room. A snake came. The mongoose saw it and killed the snake. The milkmaid returned. She saw blood on the mouth of the mongoose.

She thought that the mongoose had killed her child. She was much angry. She dropped the pail of water on the mongoose. It died. She went into the room and found that her child was safe and sleeping. She saw a dead snake with blood near the child. She understood the matter. She repented very much. 
Moral : Haste makes waste. 

एक दूध बेचने वाली और उसका पालतू नेवला

एक दूध बेचने वाली थी। उसके पास एक पालतू नेवला था। एक दिन वह पानी लाने के लिए बाहर गई। उसका बच्चा कमरे में सो रहा था। एक साँप आया। नेवले ने इसे देखा और साँप को मार डाला । दूध बेचने वाली लौट कर आई। उसने नेवले के मुँह पर खून देखा। उसने सोचा कि नेवले ने उसके बच्चे को मार डाला है। उसे बहुत क्रोध आया। उसने पानी की बाल्टी नेवले पर गिरा दी। वह मर गया। वह कमरे में गई और देखा कि उसका बच्चा सुरक्षित था और सो रहा था। उसने बच्चे के पास खून और मरा हुआ साँप देखा। वह मामला.समझ गई। उसने बहुत पश्चात्ताप किया। शिक्षा : जल्दी करना बरबादी होना। 

(29) A thief caught ………….. brought before the king the king orders him to be hanged ………….. thief says ………….. a secret ………….. can grow ………….. tree with golden fruit ………….. king interested ………….. thief prepares small pellets of gold ………….. tells the king ………….. sown by one ………….. never stolen anything. 

A Wise Thief

A thief was caught. He was brought before the king. The king ordered him to be hanged. The thief said to the king that he knew a secret. He could grow a tree with golden fruits. The king became interested in the thief. He asked the thief to grow such a tree.

The thief prepared some small pellets of gold. He told the king that these should be sown by a person who had never stolen anything. No person came forward. The king thought that everyone had stolen something in his life. So he ordered to set the thief free. Moral : Wisdom saved life. 

एक चतुर चोर

एक चोर पकड़ा गया। उसको राजा के सामने लाया गया। राजा ने आदेश दिया कि उसे फांसी दे दी जाये। चोर ने राजा से कहा कि वह एक रहस्य जानता है । वह सोने के फल देने वाला वृक्ष उगा सकता है। राजा की चोर में रुचि जागृत हो गई। उसने चोर से ऐसा वृक्ष उगाने के लिए कहा। चोर ने सोने की कुछ छोटी गोलियाँ बनाई। उसने राजा से कहा इनको ऐसा व्यक्ति बोए जिसने कभी कोई चीज नहीं चुराई हो। कोई भी व्यक्ति आगे नहीं आया। राजा ने सोचा कि प्रत्येक व्यक्ति ने अपने जीवन में कुछ न कुछ चुराया है। इसलिए उसने चोर को छोड़ देने का आदेश दिया। शिक्षा : बुद्धिमानी ने जीवन बचाया। 

(30) ………….. hungry ………….. searches ………….. food ………….. wanders here and there ………….. finds ………….. bone ………….. wants ………….. quiet place ………….. while crossing bridge ………….. sees reflection ………….. water ………….. thinks ………….. another dog .. ………… wants ………… other bone ………….. opens mouth ………….. barks ………….. bone falls ………….. water ……… sad. 

A Greedy Dog

Once there was a dog. It was very hungry. It wandered here and there in search of food. By chance, it found a piece of bone at a place. It wanted to enjoy it at a quiet place. It had to pass over a bridge. When it was crossing the bridge, it saw its reflection in the water.

The dog thought it to be another dog with a piece of bone. It wanted to take the other piece of bone, too. It opened its mouth to bark. As soon as it opened its mouth, the piece of bone fell into the water. Now the dog was very sad. Moral : Greed is a curse. 

एक लालची कुत्ता

एक बार एक कुत्ता था। वह बहुत भूखा था। वह भोजन की तलाश में इधर-उधर घूमता रहा। संयोग से, उसे एक स्थान पर एक हड्डी मिल गई। वह किसी निर्जन स्थान पर उसका आनन्द लेना चाहता था। उसे एक पुल पर से होकर गुजरना पड़ा। जब वह पुल पार कर रहा था, उसने पानी में अपनी परछाई देखी।

कुत्ते ने इसे हड्डी. लिये हुए एक दूसरा कुत्ता समझ लिया। वह दूसरी हड्डी भी लेना चाहता था। उसने भौंकने के लिए अपना मुँह खोला। जैसे ही उसने अपना मुँह खोला, उसके मुँह की हड्डी पानी में गिर गई। अब कुत्ता बहुत दुःखी हुआ। शिक्षा : लालच बुरी बला है। 

(31) A farmer ………….. wonderful hen ………….. a golden egg daily …. thinks to get all eggs ………….. cuts ………….. no egg ………….. very sad. 

The Hen That Laid Golden Eggs

There was a farmer. He had a wonderful hen. It laid a golden egg daily. The farmer became rich. He was happy. He was a greedy man. He thought to get all the eggs at a time. He brought a sharp knife. He caught the hen and cut it open. But there was no egg. He was very sad. Moral : Greed is a curse. 

एक मुर्गी जो सोने का अंडा देती थी

एक किसान था। उसके पास एक आश्चर्यजनक मुर्गी थी। यह रोज सोने का एक अंडा देती थी। किसान धनी हो गया। वह खुश था। वह लालची आदमी था। उसने एक बार में ही सब अंडे प्राप्त करने का सोचा। वह एक तेज चाकू लाया। उसने मुर्गी का पेट काट डाला। लेकिन वहाँ कोई भी अंडा नहीं था। वह बहुत दुःखी हुआ। शिक्षा : लालच बुरी बला है। 

(32) A woman ………….. has no child ………….. steals ………….. real mother quarrel ………….. both claim the same child ………….. brought to the king …………..no witness ………….. difficult to judge ………….. the king ………….. wise orders to cut in two halves ………….. real mother falls at the king’s feet agrees to give the baby ………….. the second woman ………….. quiet ………. judgement. 

A Wise King and True Mother

There was a woman. She had no child, She stole a child. The real mother asked her to return the child. But she did not. Both began to quarrel. They were brought to the king. There was no witness. The king was very wise. Both the women claimed the same child. The king ordered to cut the child in two halves and give one half to each woman.

The real mother wept and requested the king to give the child to the other woman. She wanted that her child should live. But the other woman agreed to cut the child in two halves. The king understood who the real mother was. A real mother would not allow to cut her child. The king gave the child to its real mother. Moral : Only a real mother loves her child. 

एक बुद्धिमान राजा तथा असली माँ

एक स्त्री थी। उसके कोई बच्चा नहीं था। उसने एक बच्चे को चरा लिया। असली माता ने उसे बच्चा लौटाने के लिए कहा। लेकिन उसने नहीं लौटाया। दोनों झगड़ने लगीं। उन्हें राजा के पास लाया गया। कोई सबूत नहीं था। राजा बहुत बुद्धिमान् था दोनों स्त्रियों ने उस बच्चे पर अपना बच्चा होने का दावा किया।

राजा ने बच्चे को दो बराबर टुकड़ों में काटने और प्रत्येक स्त्री को एक-एक टुकड़ा देने को कहा। असली माता रोई और राजा से प्रार्थना की कि वह दूसरी स्त्री को बच्चा दे दे। वह चाहती थी कि बच्चा जीवित रहे । किन्तु दूसरी स्त्री सहमत हो गई कि बच्चे को दो बराबर टुकड़ों में काट दिया जाये। राजा समझ गया कि असली माता कौन थी। एक असली माता अपने बच्चे को मारने की अनुमति नहीं देगी। उसने असली माता को बच्चा दे दिया। शिक्षा : केवल वास्तविक माँ ही अपने बच्चे को प्यार करती है।
 
(33) A king Robert Bruce ………….. driven out ………….. by the enemies ………….. to regain kingdom ………….. tries and tries again ………….. fails ………….. .disappointed ………….. leaves home ………….. hides in a cave ………….. spider ………….. wants to reach the ceiling ………….. falls everytime ………….. succeeds at last. 

Robert Bruce and The Spider There was a king. His name was Robert Bruce. The enemies attacked his kingdom and drove him out. He tried again and again to drive out the enemies but all in vain. He left the kingdom. He ran away and hid himself in a cave. He was disappointed. There he saw a spider. It was trying to reach the ceiling of the cave. It fell down.

It again tried. It again fell down. It tried again and again. At last it succeeded. The king learnt a lesson. Once more he fought against his enemy. The king won the battle. He got back his kingdom. Moral : Try and try again boys, you will succeed at last. 

रॉबर्ट ब्रूस और मकड़ी एक राजा था। उसका नाम रॉबर्ट ब्रूस था। दुश्मनों ने उसके राज्य पर आक्रमण किया और उसे भगा दिया। उसने दुश्मनों को भगाने के लिए बार-बार कोशिश की किन्तु सब व्यर्थ । उसने अपना राज्य छोड़ दिया। वह भाग गया और एक गुफा में छिप गया। वह निराश हो गया।

वहाँ उसने एक मकड़ी को देखा। वह गुफा की छत पर पहुँचने की कोशिश कर रही थी। वह गिर गई। उसने फिर कोशिश की। वह फिर गिर गई। उसने बार-बार कोशिश की और अंत में वह सफल हो गई। राजा ने एक शिक्षा ली। एक बार राजा ने फिर दुश्मनों से लड़ाई लड़ी। राजा लड़ाई जीत गया। उसे अपना राज्य प्राप्त हो गया। शिक्षा : बच्चों बार-बार कोशिश करो, अन्त में तुम सफल होंगे। 

(34) A merchant ………….. on horseback ………….. returning from fair ………….. carries ………….. a bag full of money ………….. thick forest ………….. passes alone weather cloudy ………….. begins to rain ………….. takes shelter ………….. a tree ………….. rains heavily ………….. becomes wet ………….. blames God 
………. a shout ………….. “hands up” ………….. a robber ………….. appears ………… merchant terrified ………….. tries to shoot with a gun ………….. fails ………….. gun-powder wet ………….. merchant ………….. runs on ………….. horseback escapes …………… reaches ………….. village ………….. thanks God for rain. 
Merchant, Rain and Robber 
Or 
God Always Does Good Once a merchant was returning from a fair on a horse. He had a bag full of money. He was passing through a thick forest. It began to rain. He took shelter under a tree. He became wet. He blamed God for the rain at that time. Suddenly he heard a shout “Hands úp”.

A robber appeared there. The robber tried to shoot the merchant with his gun. But he failed because the gun-powder was wet with the rain-water. The merchant ran very fast on the horse-back. The robber was on foot. So he could not catch the merchant. He reached his village quite safe. He thanked God for the rain. Moral : God always does good. 

व्यापारी, वर्षा तथा लुटेरा एक बार एक व्यापारी एक मेले में से घोड़े पर वापस आ रहा था। उसके पास रुपयों से भरा हुआ एक थैला था। वह एक घने जंगल में से होकर गुजर रहा था। वर्षा होना आरम्भ हो गई। उसने एक वृक्ष के नीचे शरण ली। वह भीग गया। उस समय की वर्षा के लिए उसने ईश्वर पर दोष लगाया।

अचानक उसने चिल्लाने की आवाज सुनी-“हाथ ऊपर करो।””वहाँ एक लुटेरा दिखाई दिया। लुटेरे ने अपनी बंदूक से व्यापारी पर गोली चलाने की कोशिश की। लेकिन वह असफल रहा क्योंकि वर्षा के पानी से बारूद गीला हो गया था। व्यापारी घोड़े पर सवार होकर बहुत तेजी से भागा। लुटेरा पैदल था इसलिए वह व्यापारी को नहीं पकड़ सका। वह अपने गाँव पूर्ण सुरक्षित पहुँच गया। वर्षा के लिए उसने भगवान को धन्यवाद दिया।” शिक्षा : भगवान् सदैव अच्छा करता है। 

(35) A lion ………….. very old ………….. unable to hunt ………….. thinks of a plan to get food ………….. lies in the cave ………….. says he is ill ………….. animals come to ask about health ………….. kills and eats ………….. for comes ………….. sees footprints of animals ………….. all going towards the cave ………….. not coming back ………….. does not go near the cave ………….. the lion invites ………….. the fox refuses ………….. runs away. 

An Old Lion and A Clever Fox 

There was an old lion. He was very weak. He could not hunt for food. He thought of a plan to get food. He laid in a cave. He said that he was ill. Animals went into the cave to ask about his health. When an animal reached near him, he caught it and ate it up. In this way he had killed many animals one by one. One day a clever fox went near the cave. She saw the footprints of the animals carefully. She saw that all the footprints were going inside but were not coming out. She understood the matter. She did not go near the cave. The lion invited her to come in. The fox refused to go in. She ran away. 
Moral : Wisdom is power. 

एक वृद्ध शेर और एक चतुर लोमड़  

एक बार एक बूढ़ा शेर था। वह बहुत कमजोर था। वह भोजन के लिए शिकार नहीं कर सकता था। उसने भोजन प्राप्त करने के लिए एक योजना सोची। वह एक गुफा में लेट गया। उसने कहा कि वह बीमार है। जानवर उसके स्वास्थ्य के बारे में पूछने के लिए गुफा में जाते थे। जब कोई पशु उसके निकट पहुँचता था, वह उसे पकड़ लेता था और खा जाता था।

इस प्रकार उसने एक-एक करके अनेक पशु मार डाले। एक दिन एक चालाक लोमड़ उस गुफा के निकट गया। उसने जानवरों के पद-चिह्नों को सावधानी से देखा। उसने देखा कि सभी पद-चिह्न अन्दर की ओर जा रहे थे, किन्तु वापस नहीं आ रहे थे। वह इसका मामला समझ गया। वह गुफा के निकट नहीं गया शेर ने लोमड़ को अन्दर आने को आमन्त्रित किया। लोमड़ ने अन्दर आने से इनकार कर दिया वह भाग गया। शिक्षा : बुद्धि ही शक्ति है। 

(36) A fisherman ………….. catches a big fish ………….. brings it home ……. cuts it open ………….. finds a gold-ring inside ………….. king’s name on it ………….. informs king’s man ………….. take him a thief ………….. arrest him for stealing ………….. produce before king ………….. tells the truth ………….. king rewards him …………… happy. 

An Honest Fisherman

A fisherman caught a big fish. He brought it home. He cut it open. He found a gold ring inside the fish. He took it out and saw it carefully. He saw the king’s name on it. He went to the king’s men and informed them about it. They took him a thief. They thought that the fisherman had stolen the king’s ring. They arrested him. They produced the fisherman before the king. The fisherman told the truth about the ring. The king thought man  that the fisherman was very honest. He rewaded the fisherman. The fisherman was very happy.  Moral : Honesty gets its reward. 

एक ईमानदार मछुआरा 

एक मछुआरे ने एक बड़ी मछली पकड़ी। वह इसे घर लाया। उसने उसको काटा। उसे मछली के अन्दर एक अंगूठी मिली। उसने अंगूठी को बाहर निकाल लिया और इसे ध्यान से देखा। उसने इस पर राजा का नाम देखा। वह राजा के आदमियों के पास गया और उन्हें इस विषय में बताया। उन्होंने इसे चोर समझा। उन्होंने सोचा कि मछुआरे ने राजा की अंगूठी चुराई थी। उन्होंने उसे गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने मछुआरे को राजा के सामने प्रस्तुत किया। मछुआरे ने अंगूठी के विषय में सच बतला दिया। राजा ने सोचा कि मछुआरा बहुत ईमानदार था। उसने मछुआरे को इनाम दिया। मछुआरा बहुत प्रसन्न हुआ। 
शिक्षा : ईमानदारी का फल मिलता है। 

(37) A hungry fox ………….. in search of food ………….. a vine ………….. grapes ………….. high ………….. jumps ………….. grapes are sour ………….. goes away. 

A Fox and the Grapes

There was a fox. One day she was very hungry. She could not get food. At last she saw a vine in a farmer’s field. There was no one. She went there. She saw there many ripe bunches of grapes. Her mouth watered. But the grapes were very high.

She jumped at them but she could not get them. she did not lose heart. She jumped again and again but all in vain. She was tired. She lost hope to get the grapes. She looked at them with greedy eyes. But she was helpless. She said that the grapes were sour. So she should not get them. She went away. She was very sad. The grapes were sour. Moral : Grapes out of reach are said to be sour 

एक लोमड़ और अंगूर एक लोमड़ 

एक लोमड़ और अंगूर एक लोमड़ था। एक दिन वह बहुत भूखा था। उसे भोजन नहीं मिल सका। अन्त में एक किसान के खेत में उसने अंगूर की एक बेल देखी। वहाँ कोई नहीं था। वह वहाँ गया। वहाँ उसने पके हुए अंगूरों के कई गुच्छे देखे। उसके मुँह में पानी आ गया। किन्तु अंगूर बहुत ऊँचे थे। वह उनकी तरफ कूदा किन्तु वह उन्हें नहीं प्राप्त कर सका।

उसने हिम्मत नहीं हारी। वह बार-बार कूदा लेकिन सब व्यर्थ । वह थक गया। उसने अँगूरों को प्राप्त करने की आशा छोड़ दी। उसने उनकी ओर ललचाई आँखों से देखा। किन्तु वह असहाय था। वह चला गया। वह बहुत उदास था। अंगूर खट्टे थे।  शिक्षा : हाथ न आने वाले अंगूर खट्टे बताये जाते हैं। 

(38) Lion, king of forest ………….. kills many animals ………….. other animals hold meeting ………….. fox offers to save them ………….. tells him, another animal in forest ………….. lion wants to see and kill him ………….. fox takes lion to a well …………… lion sees reflection ………….. jumps in ………….. dies ………….. for and animals happy. 

A Foolish Lion and A Clever Fox 

A lion lived in a forest. He killed many animals daily. The animals were afraid of him. They did not know what to do. They held a meeting. All the animals came. There was a clever fox. She told them that she would save their lives. She thought of a plan. She went to the lion she told him that he was the king of the forest. But there was another lion also. He did not care for him. The lion became very angry. He wanted to kill that lion.

The fox took the lion to a deep well and said the other lved in that well. The lion looked into the well. He saw his own reflection there. He thought that there was another lion in the well. He was very angry. He jumped into the well and died. The fox came back and told the animals about the death of the lion. They were very happy. They thanked the fox. Moral : Wisdom is power. 

एक मूर्ख शेर और एक चतुर लोमड़ 

एक शेर एक जंगल में रहता था। वह रोजाना अनेक पशुओं को मार डालता था। पशु उससे बहुत डरे हुए थे। वे नहीं जानते थे कि वे क्या करें। उन्होंने एक सभा की। सभी जानवर आये। वहाँ एक चतुर लोमड़ था। उसने उनको बताया कि वह उनके जीवन की सुरक्षा कर देगा। उसने एक योजना सोची। वह शेर के पास गया। उसने शेर से कहा कि वह जंगल का राजा था। किन्तु यहाँ दूसरा शेर भी था। वह उसकी परवाह नहीं करता था।

शेर बहुत क्रोधित हुआ। वह उस शेर को मार डालना चाहता था। लोमड़ शेर को एक गहरे कुएँ के पास ले गया और कहा कि दूसरा शेर उस कुएँ में रहता था। शेर ने कुएँ के अन्दर देखा। उसने वहाँ स्वयं की परछाई देखी। उसने सोचा कि कुएँ में दूसरा शेर है । उसे बहुत क्रोध आया। वह कुएँ में कूद गया और मर गया। लोमड़ वापस आया और शेर की मृत्यु के बारे में जानवरों को बतलाया। वे बहुत खुश हुए। उन्होंने लोमड़ को धन्यवाद दिया। शिक्षा : बुद्धि ही शक्ति है। 

(39) Lamb ………….. river ………….. drinks water ………….. wolf sees ………….. wants to eat the lamb ………….. gets angry with the lamb ………….. accuses …….. makes water dirty ………….. must not ………….. lamb ………….. How can I ? water flows towards me ………….. wolf accuses ………….. rude ………….. lamb replies ………….. not born ………….. the wolf said ………….. it may be his mother kills ………….. eats. 

A Wolf and A Lamb 

There was a wolf. One day he was very hungry and thirsty. he went to a river. A fat lamb was drinking water there. He saw the lamb. He wanted to eat it. He thought of a plan. He got angry with the lamb he accused the lamb for making water dirty. The lamb was afraid.

It replied that it could not make the water dirty. The water was flowing from his side to its side. Then the wolf told him that he had abused him last year. The lamb politely replied that it was not born last year. Then the wolf said that it must be its mother. He would kill it. The wolf killed the lamb and ate it. 
Moral : Might is right. 

एक भेड़िया और एक मेमना 

एक भेड़िया था। एक दिन वह बहुत भूखा व प्यासा था। वह एक नदी के पास गया। वहाँ एक मोटा मेमना पानी पी रहा था। उसने मेमने को देखा। वह उसे खाना चाहता था। उसने एक योजना सोची। वह मेमने पर क्रोधित हुआ। उसने मेमने पर पानी को गन्दा करने का आरोप लगाया। मेमना डर गया कि वह तो पानी को गन्दा नहीं कर सकता था।

पानी उसकी (भेड़िये) तरफ से उसकी (मेमने) तरफ बह रहा था। फिर भेड़िये ने उसे कहा कि उसने पिछले साल उसको गाली दी थी। मेमने ने विनम्रता से उत्तर दिया कि पिछले साल तो वह पैदा ही नहीं हुआ था। फिर भेड़िये ने कहा कि वह उसकी माँ होगी। वह तो उसको जान से मार देगा। भेड़िये ने मेमने को जान से मार दिया और उसको खा गया।  शिक्षा : जिसकी लाठी उसकी भैंस। 

(40) A farmer ………….. four sons ………….. do not work ………….. falls ill ………….. calls his sons ………….. a treasure buried in the field ………….. dies ………….. sons dig field ………….. no treasure ………….. friends advise ………….. sow seed ……….. rich crop ………….. understand meaning ………….. work hard . ……….. become rich. 

The Hidden Treasure 

There was an old farmer. He had four sons. They did not like to work. One day the farmer fell ill. He called his sons. He told his sons that a treasure was 1 field. They could dig it out and could take it. The farmer died. His sons dug the field. but there was no treasure. They were very sad. The farmer’s friends advised them to sow wheat. The field was well dug. So they got a very rich crop. Now they understood the meaning of the burried treasure. They worked hard. Soon they were very rich. 
Moral : Work is worship 

छिपा हुआ खजाना 

एक वृद्ध कृषक था। उसके चार पुत्र थे। वे काम करना बिल्कुल पसन्द नहीं करते थे। एक दिन कृषक बीमार पड़ा। उसने अपने बेटों को बुलाया। उसने अपने पुत्रों से कहा कि उसके अपने खेत में एक खजाना छिपा हुआ था। वे उसको खोदकर निकाल सकते थे और उसको प्राप्त कर सकते थे। कृषक मर गया। उसके पुत्रों ने खेत को खोदा।

परन्तु कोई खजाना नहीं मिला। वे बहुत दु:खी हुए। कृषक के मित्रों ने गेहूँ बोने की सलाह दी। खेत की अच्छी खुदाई हुई थी। इसलिये बहुत अच्छी फसल हुई। अब वे गड़े हुए खजाने का अर्थ समझ गये। उन्होंने कठोर परिश्रम किया और शीघ्र ही धनी हो गये। शिक्षा : श्रम ही पूजा है। 

0:00
0:00