6 Expert Detectives

आपके पाठ पढ़ने – से पहले-निषाद नामक एक सात साल का बच्चा है (इसे Seven कह कर भी बुलाया जाता है क्योंकि उसके नाम का तात्पर्य संगीत के सरों का सातवां स्वर होता है) और उसकी दस साल की बहिन माया श्रीमान नाथ के बारे में बहुत ही उत्सुक है। एक दिन उन बच्चों का कंचा लुढ़ककर श्रीमान नाथ के कक्ष में चला जाता है, और निषाद को उनको देखने का एक अवसर मिल जाता है। क्या वह दुष्ट लगता है? उसका चेहरा ब तरह से दागदार, डरावना क्यों है? उसके कोई दोस्त क्यों नहीं है? निषाद की माताजी एक चिकित्सक है, श्रीमान नाथ को एक रोगी के रूप में जानती है जो कि बहुत विनम्र है। 

कठिन शब्दार्थ एवं हिन्दी अनुवाद 

As we walked back towards …………….. “Lost another marble?” (Pages 85-87) 

कठिन शब्दार्थ-monster (मॉन्स्ट(र)) = राक्षस, दैत्य। afford (अ फॉड्) = आर्थिक रूप से पहुंच के बाहर। crook (क्रुक्) = बेईमान व्यक्ति, अपराधी । probably (प्रॉबब्लि) = संभवतः, लगभग निश्चित रूप से। stashed away (स्टेश्ट अवे) = सुरक्षित और गुप्त रूप से छिपाकर रखना। criminal (क्रिमिन्ल) = अपराधी। exactly (इग्’जैट्लि ) = एकदम, बिल्कुल। exclaim (इक्स्क्ले म) = भावावेश में अचानक चिल्लाकर कुछ कहना ।

rubbish (रबिश्) = बेकार की चीजें, रद्दी माल।interrupt (इन्टरप्ट्) = हस्तक्षेप.करना, टोकाटोकी करना। stupid (स्ट्यूपिड्) = मूर्ख, नासमझ । scar (स्का(र)) = दाग, त्वचा पर चोट का निशान । firmly (फम् लि) = दृढ़तापूर्वक, perhaps (पहैप्स) = शायद, कदाचित् । annoy (अ’नॉइ) = परेशान. या तंग करना, गुस्सा करना। gaunt (गॉन्ट्) = भूख, रोग आदि के कारण बहुत दुबला| appearance (अपिअरन्स) = रूप रंग। knock (नॉक्)= खटखटाना। 

हिन्दी अनवाद-जैसे ही हम वापस क्लिनिक की ओर चले सेवन बोला. “माया. वह एक राक्षस के जैसे नहीं लगता है। मगर आपने देखा कि वह कितना पतला है? वह शायद बहुत गरीब हो और भोजन के पैसे खर्च करना उसकी पहुँच के बाहर हो।”  “वह गरीब नहीं हो सकता है यदि वह बेईमान है तो,” मैंने उसे कहा। “उसने उस कमरे में लाखों करोड़ों रुपए गुप्त रूप से छिपा कर रख रखे हैं।” “माया, क्या तुम वास्तव में यह सोचती हो कि वह अपराधी है? वह एक अपराधी जैसे नहीं लगता है।” निषाद सन्देह करता लगा। 

“सेवन, वास्तव में वह वैसा ही लगता है”, मैंने कहा, “और वह वास्तव में भूखों भी नहीं मर रहा है। श्रीमान मेहता ने हमें यह बताया था कि रमेश नीचे के रेस्टोरेन्ट से उसका भोजन लेकर आता है।” “मगर माया, श्रीमान मेहता ने हमें बताया था कि वह कहीं पर भी काम नहीं करता है, इस तरह से वह संभवतः भोजन के लिए पैसे कैसे चुका सकता है?” निषाद ने कहा। “बिल्कुल!” मैंने आश्चर्य से कहा।”उसके पास कहीं पर बहुत सारा धन छिपा हुआ है, शायद उसके उस बक्से में जो उसके कमरे में है। यह संभवतः सोने, चांदी या हीरों से भरा हो….”  “क्या बेकार की बात कर रहे हो” निषाद ने कहा। 

“मैं जानती हूँ, मैं सही हूँ, मूर्ख”, मैंने उसे कहा, “सेवन, संयोग से क्या आपने उसके दागों को देखा? मैं नहीं देख सकी, वहाँ बहुत अंधेरा था, मगर मैं यह शर्त लगा सकती हूँ कि उसे यह पुलिस के साथ गोलीबारी करने या कुछ इसी तरह के काम के दौरान हुए है।” “मम्मी ने हमें एकदम स्पष्टतः कहा कि वे जलने के निशान थे”, निषाद ने दृढ़ता से कहा।  “संभवतः उसको घर से जबरदस्ती निकालने के लिए पुलिस ने उसके घर के आग लगाई हो” मैंने सुझाव दिया। सेवन अविश्वसनीय लग रहा था। 

आने वाले सोमवार को मम्मी के जन्मदिन पर, सेवन अकेला उसके साथ गिरगाम के क्लिनिक तक गया था क्योंकि मैं उस शाम अपने विद्यालय में एक दोस्त के साथ थी। जब वे वापस आए तो निषाद ने उनको बताया कि वे श्रीमान नाथ से मिलने के लिए गए थे और मुझे इतनी परेशानी हुई इस बात की कि मैं वहाँ पर नहीं जा सकी थी।

सेवन श्रीमान नाथ के बाहरी पतले-दुबले स्वरूप से काफी व्यथित था और उसे इस बात पर यकीन था कि वह भूखों मर रहा था। उसने मुझे बताया कि उस शाम उसने श्रीमान नाथ के दरवाजे पर जोर से दस्तक दी थी और कहा, “श्रीमान नाथ जल्दी से दरवाजा खोलिए।”  उस व्यक्ति ने खोला और पूछा, “दूसरा कंचा खो दिया?” 

He had obviously recognised ……………………. of paper before me. (Pages 87-88) 

कठिन शब्दार्थ-obviously (ऑविअलि) = स्पष्ट रूप से। recognise (रेकग्नाइज) = किसी को पहचानना, जानना। thrust (थ्रस्ट्) = किसी को अचानक या झटके से देना। bar (बा(र)) = टिक्की, ठोस पदार्थ की छड़। peek (पीक्) = झांकना, जल्दी से और चुपके से देखना । disappoint (डिसपॉइन्टिड्) = हताश । even (ईव्न्) = भी। Detective (डिटेक्टिव्) = जासूस, गुप्तचर । pat (पैट) = थपथपाना । properly (प्रॉपलि) = सही तरीके से, उचित रीति से । tip (टिप्) = वेटर आदि को बख्शीश देना । stout (स्टाउट) = मजबूत और मोटा। spectacle (स्पेक्टक्ल) = चश्मा। 

visitor (विजिट(र)) = आगन्तुक, मिलने आने वाला। inquiries (इन्क्वारिज) = (किसी विषय में) पूछताछ। sort out (सॉट आउट) = किसी समस्या का हल ढूंढना. किसी को व्यवस्थित करना। trap (ट्रैप) = जाल में फांसना। crook (क्रुक्) = अपराधी। sigh (साइ) = आह भरना। imagine (इमैजिन्) = कल्पना करना । smart (स्माट्) = साफ-सुथरा, आकर्षक, चतुर। retort (रिटॉट) = त्वरित, खीझ भरा या विनोदपूर्ण उत्तर। flash (फ्लैश्) = कौंधना, चमकदार रोशनी करवाना। roll (रोल्) = गोलगोल, घुमावदार । thunder (थन्ड(र)) = गर्जना। fury (फ्युअरि) = क्रोध। downpour (डाउन्पॉ(र्) = मूसलाधार वर्षा, एकाएक भारी वर्षा । flooded (फ्लडिड) = पानी से भरी, बाढ़ वाली। 

हिन्दी अनुवाद-उसने स्पष्टतः मेरे भाई को पहचान लिया था। “नहीं”, निषाद ने कहा। उसने उस आदमी का हाथ अपने हाथ में लिया और चाकलेट की एक टिकिया झटके से पकड़ा दी। मैंने पूछा, “सेवन, क्या तुमको, उस बक्से में झांक कर देखने का कोई मौका मिला था?” निषाद हताश नजर आया, “उसने मुझसे अन्दर आने के लिए कहा भी नहीं।”, उसने कहा। तब वह मुस्कराया “मगर माया मैंने कुछ खोज लिया था। मैं उस रेस्टोरेन्ट में गया वहाँ पर रमेश काम करता है और उससे बातचीत की थी।” “श्रीमान जासूस, आपके लिए अच्छा है।

“मैंने उसकी पीठ को थपथपाते हुए कहा, “मैं उम्मीद करती हूँ कि आपने उससे उचित तरीके से प्रश्न पूछे होंगे।” सेवन प्रसन्न नजर आया।”रमेश ने मुझसे कहा कि वह श्रीमान नाथ के लिए दो खाने प्रत्येक सुबह और शाम के ले जाता है, और चाय के दो कप, एक कप सुबह और एक कप दोपहर के बाद ले जाता हूँ। रमेश ने बताया कि वह खाने के बारे में कोई खास नहीं है। वह हमेशा एक-सा भोजन करता है दो चपातियाँ, थोड़ी सी दाल और एक सब्जी। श्रीमान नाथ उसको नगद पैसा देते हैं और सेवा करने पर बख्शीश भी अच्छी देते हैं।” 

रविवार को वह श्रीमान नाथ के कक्ष में दो भोजन की थालियां लेकर जाता है और वही आदमी हर बार उसके साथ होता है। वह मोटा और मजबूत, सुन्दर और लम्बा व्यक्ति है आँखों पर चश्मा लगाता है। रमेश कहता है कि उससे मिलने आने वाला बहुत बातें करता है, श्रीमान नाथ से एकदम अलग जो कि कम बोलते हैं।

” मैंने उसको कहा, “निषाद बहुत अच्छा, अब हमने अपनी पूछताछ के साथ कुछ प्रगति की है, हमें एक योग्य जासूस की तरह से तथ्यों को व्यवस्थित करना होगा। जिससे कि हम उस बदमाश को पकड़ सकें।” सेवन ने एक आह भर कर कहा, “माया, आप कैसे आगे बढ़ोगे।””आप संभवतः यह कैसे कल्पना कर सकती हो कि वह बदमाश है? वह बहुत साधारण दिखता है!” 

“चतुर बालक, अपराधी साधारण लग सकते हैं।” मैंने त्वरित उत्तर दिया, “क्या आपने उस हैदराबादी सेंधमार की तस्वीर देखी थी. जो कल के अखबार में थी? वह गली के किसी साधारण आदमी की तरह दिख संदेह से कहा। अगले दिन मानसून आ गया था। काले बादल क्रोध करने वाली बिजली की चमक के साथ अपनी

गर्जना के साथ पूर्ण क्रोध में भरकर लुढ़ककर आ रहे थे, पूरी गली तेज बारिश के पानी से भर गई। गर्मी की छुट्टियों के बाद विद्यालयों को वापस खुलना था, मगर पानी से भरी सड़क पर कोई भी वाहन नहीं चल सकता था और वहाँ बिना उम्मीद की छुट्टी हो गई थी। मैंने सोचा कि मैं यह समय उपयोगिता से व्यतीत करूंगी। मैं मेरे शयन कक्ष के डेस्क पर बैठ गई और अपने सामने कागज का एक टुकड़ा रखा था। 

II. I wrote in large …………… have any friends.” (Pages 89-91) 

कठिन शब्दार्थ- block (ब्लॉक्) = बड़ा, भारी। appointment (अपॉइन्टमेन्ट) = नियुक्ति । tummy (टमि) = पेट। nod (नॉड्) = स्वीकृति में सर हिलाना। discover (डिस्कव(र)) = खोजना| alias (एलिअस्) = किसी को उपनाम देने के लिए प्रयुक्त, उफ, वैकल्पिक नाम। tenant (टेनन्ट्) = किराएदार। mannerless (मैन(र)लस) = बिना सलीके वाला।

kid (किड्) = बच्चे। हिन्दी अनुवाद-मैंने बड़े अक्षरों में लिखा था : एक अपराधी को पकड़ना निपुण जासूस : निषाद और माया पंडित सम्पूर्ण संसार की नियुक्ति के द्वारा। तब मैंने लिखना प्रारम्भ किया। करीब आधा घण्टे बाद, मैं सेवन की ओर मुड़ी जो अपने पेट के बल लेटा हुआ | था, उसने अपनी हथेलियों को कप के आकार में बनाकर ठुड्डी उसमें लगा रखी थी और वह कॉमिक्स पढ़ रहा था, “क्या मैंने जो लिखा है उसे सुनना चाहोगे”? मैंने पूछा। 

उसने प्रश्नवाचक होकर मेरी ओर देखा। “मैंने श्रीमान नाथ के उन सभी तथ्यों की सूची बना ली है जो हम उसके बारे में जानते हैं जो हमें उसको फंसाने में सहायता कर सकते हैं।” मैंने कहा। “सुनना चाहोगे?” सेवन ने स्वीकृति में सिर हिलाया। मैंने पढ़ा, “तथ्य नं. एक, उसका नाम श्रीमान नाथ है। हमें उसका प्रथम नाम खोजना है।” “माया, क्या आप यह सोचती हैं कि यह उसका वास्तविक नाम है?” निषाद ने पूछा। मैंने कहा, “शायद नहीं, अधिकांश अपराधी वैकल्पिक नाम रखते हैं।” मैंने नाथ के पीछे एक बड़ा प्रश्नवाचक चिन्ह लगा दिया। 

“तथ्य नं. 2”, मैंने पढ़ा, “शंकर हाउस में रहने वाले किराएदार कहते हैं कि वह पागल है, अजनबी और दोस्ती करने वाला नहीं है।’ “नम्बर 3, वह किसी अन्य से बात नहीं करता है और उसमें तौर-तरीके नहीं हैं।” 
“मगर माया, वह हमसे बात करता था और मम्मी कहती है कि वह बहुत विनम्र है।” निषाद ने टोका-टोकी की। 
“उसने केवल हमसे इसलिए बात की क्योंकि उसे बात करना जरूरी था।”मैंने कहा, 
“और यह कि हमारी माँ उसका इलाज कर रही है इसलिए उसे विनम्र बनना पड़ता है।” 

“तथ्य नं.4, उसके पास कोई भी पत्र नहीं आता है।” सेवन ने सर हिलाया। 
“नम्बर 5, वह शंकर हाउस के कमरा नम्बर 10 में एक साल से भी अधिक समय से रह रहा है,” मैंने लगातार कहा। 
“नम्बर 6, वह सारा दिन अपने कमरे में बैठा रहता है और कोई कार्य नहीं करता है।”
“नम्बर 7, शंकर हाउस के बच्चे और कुछ बड़े भी उससे डरते हैं।” 
“नम्बर 8, उससे मिलने वाला और कोई नहीं सिर्फ एक चश्मे वाला, सुन्दर, मोटा आदमी आता है, जो उससे | रविवार को दोपहर के भोजन पर मिलता है।” 

“नम्बर 9, रमेश के द्वारा उसके कक्ष में भोजन और चाय नीचे रेस्टोरेन्ट से ले जाई जाती है। वह जो खाता है उसकी परवाह नहीं करता है, वह अपने बिल का तुरन्त भुगतान करता है और अच्छी बख्शीश भी देता है।मेरी सूची इसके साथ समाप्त होती है। सेवन, क्या मैं कुछ भूल रही हूँ?” निषाद स्पष्ट रूप से मेरी सूची की ओर पूरा ध्यान नहीं दे रहा था जो कि मैंने उसके तथ्यों के बारे में बनाई थी। जो कुछ उसने कहा था, “माया बेचारा, वह अवश्य ही बहुत अकेला है यदि उसके कोई दोस्त नहीं हैं तो।” 

“How can a crook have ……………………………….on him at all. (Pages 91-92) 

कठिन शब्दार्थ – idiot (इडिअट) = मूर्ख। brilliant (ब्रिलिअन्ट्) = अति चतुर । occur (अक(र)) = कुछ घटित होना| accomplice (अकम्प्लिस्) = अपराध में सहायक व्यक्ति। expense (इक्स्पेन्स्) = खर्चा । insist (इन्सिस्ट्) = किसी बात पर आग्रह करना। bribe (ब्राइब) = रिश्वत देना। glare (ग्लेअ()) = क्रोध से देखना, आंखें तरेरना। investigation (इन्वेस्टिगेशन) = खोजबीन! attitude (ऐटिट्यूड्) = तरीका, रुख। cooperate (कोऑपरेट) = सहयोग।

give up (गिव् अप्) = त्यागना, छोड़ना। escape (इस्केप्) = किसी संकटपूर्ण स्थिति या अप्रिय स्थिति से बचकर निकलना। oaf (ओफ्) = मूर्ख, उल्लू, जड़बुद्धि बच्चा। bother (बाँद(र)) = परेशान होना । find out (फाइन्ड् आउट) = पता लगाना। cop (कॉप्) = पुलिस का सिपाही। protest (प्रटेस्ट) = विरोध करना । nasty (नास्टि) = गन्दा, खराब । stubborn (स्टबन्) = हठीला, जिद्दी। crazy (क्रेजि) = सनकी, पागल। 

हिन्दी अनुवाद-“एक अपराधी के दोस्त कैसे हो सकते हैं, मूर्ख?” मैं लगभग चिल्लाई। “कम से कम उसका एक दोस्त है, वह जो उससे रविवार को मिलने आता है।” निषाद ने कहा। एक चतुर विचार उसी समय मुझे आया।”वह आदमी अवश्य ही अपराध में श्रीमान नाथ का सहायक होगा।” मैंने कहा, “हो सकता है लूट का सारा माल उसके पास हो और वह अब या तब आकर अपने साथी को इसका भाग उसके खर्चों के लिए देता हो। यही बात है ! मुझे पक्का विश्वास है मैं सही हूँ।” 

“अगर आप उसको एक अपराधी कहने पर जोर दे रही हो, मैं यह नहीं मानता माया कि मैं तुम्हारे साथ इस पर कुछ और चर्चा करूं।” निषाद ने गुस्से से कहा। “वह इतना बुरा आदमी नहीं हो सकता अगर वह रमेश को इतनी उदार बख्शीश देता है।” “शायद रमेश उसके भूतकाल के बारे में कुछ जानता हो, इसलिए श्रीमान नाथ उसे चुप रहने के लिए रिश्वत दे रहे हों।” मैंने कहा। 

निषाद ने मेरी ओर आंखें तरेर कर देखा उसकी भुजाएं सख्ती से उसके सीने को पार कर रही थीं। मैं भी उससे ऊबने लगी थी। “हम अपनी खोजबीन में प्रगति किस प्रकार से कर पायेंगे अगर तुम्हारा रुख इस तरह का रहा, सेवन?” मैंने पूछा। “मैं आपका सहयोग केवल तभी करूँगा अगर आप यह विचार त्याग दें कि वह एक बचकर भागा हुआ अपराधी है।” सेवन ने कहा। “आप मुझे वास्तव में गुस्सा दिला रही हैं।” 

मैंने लगभग उसे मारा। “मैं आपको गुस्सा दिला रही हूँ, आप एक मूर्ख, जिद्दी बच्चे हैं।” मैं चीखी।”आपने मुझे पागल कर दिया! इन सभी पूछताछ का क्या मतलब है, अगर वह अपराधी नहीं है? अगर आप यह सोचते हैं कि वह कुछ भी नहीं है तो कृपया आप मुझे बताइए कि उसके बारे में परेशान किस बिन्दु से है?” निषाद विचारमग्न नजर आया।

“मैं यह पता लगाना चाहती हूँ कि वह इतना पतला क्यों है और अकेला क्यों है? मैं यह जानना चाहती हूँ कि उसके कोई दोस्त क्यों नहीं है और वह अकेला क्यों रहता है।” “सेवन, समझने का प्रयास करो”, मैंने उससे कहा।”अगर वह शंकर हाउस में एक साल से रह रहा है और उसका एक भी दोस्त नहीं है, इसमें कुछ गलत तो है । वह स्पष्टतः डरा हुआ है कि कोई उसे पहचान लेगा और उसे पुलिस के सुपुर्द कर देगा।” 

“हो सकता है कि कोई भी उससे दोस्ती करने का प्रयास नहीं करता हो।” निषाद ने विरोध किया। “क्यों कोई और परेशान हो? आपने देखा है कि वह कितना डरावना भालू है?” मैंने कहा। “मैं परवाह नहीं करता हूँ।” निषाद ने हठ से कहा। “मैं उसे पसन्द करता हूँ और मैं उससे दोस्ती करने की कोशिश करने जा रहा हूँ।” “दोस्ती एक अपराधी के साथ! हा! तुम पागल हो, सेवन” मैंने कहा, “सिपाही तुमको भी उसके साथ जेल में ले जायेंगे। क्या तुम यह होने द निषाद ने मेरी ओर केवल आँखें तरेरकर देखा और चुपचाप कमरे से बाहर चला गया। मेरे सिद्धान्तों का उस पर कोई भी असर नहीं हो पा रहा था। 

6 Expert Detectives