Day
Night

Chapter 10 The Beggar

Textbook Questions and Answers

Think About It :

Question 1.
Has Lushkoff become a beggar by circumstances or by choice? 
क्या लशकॉफ परिस्थितिवश भिखारी बना है अथवा अपनी इच्छा से?
Answer: 
Lushkoff became a beggar by choice and not by circumstances. He never asked for work. He always asked for alms. He would say that he was hungry for many days and had nothing to eat. He never looked for work.

लशकॉफ अपनी इच्छा से भिखारी बना था न कि परिस्थितियोंवश । वह कभी काम की माँग नहीं करता था। वह सदा भीख की माँग करता था। वह कहता था कि वह अनेक दिनों से भूखा था और उसके पास खाने को कुछ नहीं था। वह कभी काम की तलाश नहीं करता था।

Question 2. 
What reasons does he give to Sergei for his telling lies ? 
वह सर्गेई को अपने झूठ बोलने के लिए क्या कारण बताता है?
Answer: 
The beggar justifies telling lies because he can not get along without this tact. He will that nobody will give him anything if he tells the truth.

भिखारी झूठ बोलने को उचित ठहराता है, क्योंकि झूठ बोले बिना इसका काम नहीं चल सकता है। उसने कहा कि यदि वह सच बोलेगा तो उसे कोई कुछ नहीं देगा।

Question 3. 
Is Lushkoff a willing worker? Why, then, does he agree to chop wood for Sergei ?
क्या लशकॉफ इच्छा से काम करता है? तब क्यों वह सर्गेई की लकड़ी काटना स्वीकार करता है?
Answer: 
No, Lushkoff was not a willing worker. He agreed because he had been trapped by his own words. He had said that he would not refuse to chop wood if he could get such a work.

नहीं, लशकॉफ स्वेच्छा से काम करने वाला आदमी नहीं था। वह सहमत इसलिए हुआ क्योंकि वह अपने ही शब्दों के जाल में फंस चुका था। उसने कहा था कि वह लकड़ियाँ काटने के काम से इनकार नहीं करेगा अगर उसे ऐसा काम मिल जाए।

Question 4. 
Sergei says, “I am happy that my words have taken effect.” Why does he say so ? Is he right in saying so?
सर्गेई कहता है, “मैं प्रसन्न हूँ कि मेरे शब्दों का असर हुआ है।” वह ऐसा क्यों कहता है? क्या उसका . ऐसा कहना सही है?
Answer: 
When Sergei moved into another house, he hired Lushkoff to help him in packing and hauling the furniture. Sergei thought that Lushkoff had been doing the work very well and had rather stopped begging for his work. After the moving was over Sergei sent for him and said, ‘Tam happy that my words have taken effect.” He had asked him not to beg but work and earn his bread. So he thought that his words had the right effect on him. In my opinion, he was not right in saying so. He was still a work shirker.

जब सर्गेई दूसरे मकान में चला गया तो उसने लशकॉफ को पैकिंग करने तथा फर्नीचर सरकाने के काम में सहायता के लिए लगाया। सर्गेई ने सोचा कि लशकॉफ काम बहुत अच्छी तरह कर रहा था और उसने काम के लिए (काम की वजह से) भीख माँगना बन्द कर दिया था। स्थानान्तरण पूरा होने के बाद सर्गेई ने उसे बुलाया और कहा, “मैं खुश हूँ कि मेरे शब्दों का असर हो रहा है।” उसने उसे भीख नहीं माँगने तथा काम करने एवं आजीविका कमाने को कहा था। अतः उसने सोचा कि उसके शब्दों का उस पर सही असर हुआ था। मेरे विचार में, ऐसा कहने में वह सही नहीं था। वह अभी भी एक कामचोर था।

Question 5. 
Lushkoff is earning thirty-five roubles a month. How is he obliged to Sergei for this?
लशकॉफ प्रति महीना 35 रूबल्स कमा रहा है। वह इसके लिए सर्गेई का किस प्रकार आभारी है? 
Answer: 
Sergei sent Lushkoff to his friend with a letter to work as a copying clerk. Lushkoff was obliged to Sergei for recommending him for the job to his friend. With his hard work and sincerity he had become a notary officer and started earning thirty-five roubles per month. Thus, Sergei dragged Lushkoff out of a pit and helped him stand on his own feet. So Lushkoff was very grateful to Sergei.

सर्गेई ने लशकॉफ को एक नकल करने वाले क्लर्क के रूप में कार्य करने के पत्र के साथ अपने मित्र के पास भेजा। अपने मित्र को उसे कार्य पर लगाने की सिफारिश के लिए लशकॉफ सर्गेई का आभारी था। कठिन परिश्रम तथा वफादारी से वह एक लेखप्रमाणक (नोटेरि) बन गया तथा प्रति महीना पैंतीस रूबल कमाने लगा। इस प्रकार सर्गेई ने लशकॉफ को गड्ढे से बाहर निकाला और उसे अपने पैरों पर खड़े होने में मदद की। . अतः लशकॉफ सर्गेई का बहुत आभारी था।

Question 6. 
During their conversation Lushkoff reveals that Sergei’s cook, Olga, is responsible for the positive change in him. How has Olga saved Lushkoff ?
वार्ता के मध्य लशकॉफ खुलासा करता (बताता) है कि उसमें सकारात्मक परिवर्तन की जिम्मेदार सर्गेई की रसोइया, ओल्गा है। ओल्गा ने लशकॉफ का जीवन कैसे बचाया?
Answer: 
Sergei’s cook, Olga helped in changing the life of Lushkoff. She admonished and scolded him for his drinking habit. She always called him a miserable man. She always sat opposite to him and grew sad by looking into his face. She wept for him for his misery. She suffered great misery for his sake. She used to chop wood for him. Owing to her words and noble deeds, a change took place in his heart. He stopped drinking at the sight of her. So she changed his life.

सर्गेई की रसोइया, ओल्गा ने लशकॉफ के जीवन को बदलने में सहायता की। वह उसे सदैव उसकी शराबखोरी की आदत के लिए फटकारती थी तथा प्रताड़ित करती थी। वह उसे दुःखी प्राणी कहकर पुकारती थी। वह हमेशा उसके सामने बैठ जाती तथा उसके चेहरे को देखकर दुःखी होती थी। वह उसके कष्ट के लिए रोती थी। उसने उसके लिए बहुत कष्ट सहे। वह उसके लिए लकड़ी काटा करती थी। उसके शब्दों तथा अच्छे कार्यों से उसके हृदय में परिवर्तन हुआ। उसने  उसे देखकर ही शराब पीना छोड़ दिया। इस प्रकार उसने उसका जीवन बदल दिया। 

Talk About It :

Q. How can we help beggars/abolish begging ?
हम किस प्रकार भिखारियों की सहायता अथवा भीख माँगने का उन्मूलन कर सकते हैं? 
Answer:
Help Beggars/Abolish Begging
Beggars and begging are a curse. A plan should be made to help beggars and thus abolish begging. Govt. and Corporate people should provide jobs to the beggars. A strict law should be enacted to ban begging. Offenders should be sent to reformation centres and not to prisons. Motivation should be given to the beggars. In this manner, we can help beggars.

भिखारी सहायता/भिक्षा उन्मूलन भिखारी व भिक्षा एक शाप है। भिखारियों की सहायता के लिए व भिक्षा उन्मूलन के लिए एक योजना बनानी चाहिए। सरकार व उद्योगपतियों को भिखारियों को काम देना चाहिए। भिक्षा पर प्रतिबन्ध के लिए एक सख्त कानून बनाना चाहिए। उल्लंघनकर्ताओं को सुधार केन्द्र भेजना चाहिए न कि जेल में। भिखारियों को अभिप्रेरित किया जाना चाहिए। इस प्रकार, हम भिखारियों की सहायता कर सकते हैं।

Important Questions and Answers

I. Short Answer Type Questions : 

Question 1. 
What did the beggar look like? 
भिखारी कैसा लगता था?
Answer: 
The beggar wore a ragged fawn-coloured overcoat. His eyes were dull and drunken. He had red spot on either cheek.

भिखारी ने पीले रंग का ओवरकोट पहन रखा था। उसकी आँखें लाल और नशीली थीं। उसके दोनों गालों पर लाल निशान थे।

Question 2. 
What various jobs did the beggar do for the advocate? 
भिखारी ने वकील के भिन्न-भिन्न प्रकार के क्या कार्य किए?
Answer: 
The beggar chopped wood for the advocate. At times he would shovel the snow and beat the dust of rugs and mattresses.

भिखारी वकील के लिए लकड़ी काटता था। यदाकदा वह बेलचे से बर्फ हटाता और कालीन तथा गद्दों की धूल झाड़ता था।

Question 3. 
From the dining room window what did Sergei see Olga doing ? 
अपने भोजन कक्ष की खिड़की से सर्गेई ने ओल्गा को क्या करते हुए देखा?
Answer: 
Sergei saw Olga glare wrathfully at her companion. She shoved him aside with her elbow, unlocked the shed and angrily banged the door.

सर्गेई ने ओल्गा को क्रोध से अपने सहयोगी की ओर घूरते हुए देखा। उसने उसे अपनी कुहनी से एक तरफ हटाया। भण्डार का ताला खोला तथा गुस्से से धड़ाम से दरवाजा बन्द कर दिया।

Question 4. 
How did the advocate know that he had seen the beggar before? 
वकील ने किस प्रकार जाना कि वह पहले उस भिखारी से मिल चुका था?
Answer: 
The advocate saw the beggar’s gumboots one was high and the other was low. He can me to know that he had seen the beggar somewhere before.

वकील ने भिखारी के जूते देखे – एक जूता ऊँचा था और दूसरा जूता नीचा था। वह जान गया कि वह भिखारी से पहले कहीं मिल चुका है।

Question 5. 
Which two lies did the beggar tell the advocate to get alms from him? 
भिखारी ने वकील से भीख माँगने के लिए कौनसे दो झूठ बोले थे?
Answer: 
First; he told the advocate that he had been a village school teacher for eight years and that he lost his job because of intrigues. Secondly, he told him that he had an offer of a job in the province of Kaluga but had no money to get there.

पहले, वह वकील से कहता है कि वह आठ वर्ष तक एक स्कूल मास्टर रहा है और झूठे आरोपों के कारण उसकी नौकरी चली गई। दूसरे, वह उसे कहता है कि उसे कालुगा प्रान्त में नौकरी का प्रस्ताव है किन्तु उसके पास वहाँ जाने के पैसे नहीं हैं।

Question 6. 
What role did the cook play in changing the beggar’s life? 
भिखारी के जीवन में परिवर्तन लाने में भोजन पकाने वाली की क्या भूमिका थी?
Answer: 
When the beggar went to chop wood, the cook would rebuke and condemn him. She would sit opposite him grow sad and wept. She shed tears. She used to chop the wood for him. She set him right.

जब भिखारी लकड़ी काटने जाता था तो भोजन पकाने वाली उसे फटकारती थी और उसकी भर्त्सना करती थी। वह उसके सामने बैठ जाती थी और उदास हो जाती थी और रोती थी। वह आँसू बहाती थी। वह उसके लिए लकड़ी काटती थी। वह उसे (भिखारी को) सही रास्ते पर ले आई।

II. Long Answer Type Questions :

Question 1. 
What did the beggar tell when the advocate got angry on being him a liar?
भिखारी के झूठा होने पर जब वकील नाराज हुआ तो भिखारी ने उसे क्या बताया?
Answer: 
The advocate lost his temper and began to shout at him for telling lies. On this the beggar grew silent and hung his head in confusion. He admitted that he was lying. He was neither a student nor a school teacher. Formerly he sang in Russian choir and was dismissed for drunkness. He told that no one would give him anything if he did not tell lies. If he spoke the truth he would starve to death or die of cold for lack of lodging.

वकील ने भिखारी के झूठ बोलने पर अपना आपा खो दिया। इस पर भिखारी मौन हो गया और उसने अपना सिर असमंजस अवस्था में झुका लिया। उसने स्वीकार किया कि वह झूठ बोल रहा था। न तो वह विद्यार्थी था और न स्कूल शिक्षक। पहले वह रूसी गायन मण्डली में था और शराब की आदत के कारण उसे निकाल दिया गया। उसने बताया कि यदि वह झूठ नहीं बोलेगा तो उसे कोई भी कुछ नहीं देगा। यदि वह सच बोलेगा तो वह भूख से मर जायेगा अथवा ठहरने के स्थान के अभाव में ठण्ड से मर जायेगा।

Question 2. 
How did the beggar earn money while he worked for the advocate? 
जब भिखारी वकील के लिए काम करता था तो धन कैसे अर्जित करता था?
Answer: 
When Olga gave a report that the work of chopping wood was finished, the advocate asked her to give him half a rouble. Then the advocate asked him to come if he wanted to work for him. He used to come on the first day of the month and earned half a rouble. He worked in the yard. Sometimes he would shovel snow or put the wood shed in order. Sometimes he would beat the dust out of rugs and mattresses. Everytime he received from twenty to forty copecks.

जब ओल्गा ने यह रिपोर्ट दी कि लकड़ी काटने का काम पूरा हो गया है तो वकील ने उससे भिखारी को आधा रूबल देने को कहा। फिर वकील ने उससे कहा कि यदि वह उसके लिए काम करना चाहे तो आ सकता है। वह प्रत्येक महीने के प्रथम दिन आता था और आधा रूबल कमाता था। वह आँगन में काम करता था। कभी-कभी वह बर्फ हटाता अथवा लकड़ी वाले आँगन को व्यवस्थित करता। कभी वह कालीनों या गद्दों की मिट्टी झाड़ दिया करता था। हर बार वह बीस से चालीस कॉपेक्स प्राप्त करता था।

Question 3. 
Describe the mental and physical state of Lushkoff when the advocate was shifting to another place?
लशकॉफ की उस समय की शारीरिक एवं मानसिक दशा का वर्णन करो जबकि वकील दूसरी जगह बदल रहा था।
Answer: 
When the advocate was shifting to another place, he hired Lushkoff to help in the packing and hauling the furniture. This time he was gloomy, sober and silent. He did not touch the furniture. He walked behind the wagons hanging his head. He also did not show that he was busy doing the work. When the carters made fun of him for his idleness, feebleness and for his fancy overcoat, he only shivered in the cold and became restless.

जब वकील दूसरी जगह बदल रहा था, उसने फर्नीचर खिसकवाने तथा पैकिंग में सहायता के लिए लशकॉफ को काम पर लगाया। इस बार वह दु:खी, गम्भीर और शान्त था। उसने फर्नीचर को हाथ तक नहीं लगाया। वह मालवाहकों के पीछे अपना सिर लटकाए चला गया। उसने व्यस्त होने का भी दिखावा नहीं किया। जब माल ढोने वाले उसकी कमजोरी, निकम्मेपन तथा रंग-बिरंगे कोट का मजाक बनाते थे तो वह ठंड से कांपता था और बेचैन हो जाता था।

0:00
0:00