Day
Night

Chapter 3 Iswaran the Storyteller

Textbook Questions and Answers

Think About It :

Question 1.
In what way is Iswaran an asset to Mahendra? ईश्वरन किस प्रकार से महेन्द्र के लिए उपयोगी व्यक्ति है?
Answer:
Iswaran is an asset to Mahendra in the following way. He was Mahendra’s devoted servant. He accompanied Mahindra wherever he was transferred. He could prepare tasty food from fresh vegetables which he could procure even from a desolate place. He was a very good story-teller. Mahendra didn’t feel the need to buy a T.V. set. He washed Mahendra’s clothes and cleaned his tent.

ईश्वरन निम्न तरीके से महेन्द्र के लिए उपयोगी है। वह महेन्द्र का समर्पित नौकर था। जहाँ भी महेन्द्र का स्थानान्तरण हुआ वह वहाँ गया। वह ताजी सब्जियों, जो वह एक निर्जन स्थान से भी प्राप्त कर सकता था, से स्वादिष्ट व्यंजन बना सकता था। वह एक बहुत अच्छा कहानी सुनाने वाला था। महेन्द्र को टी.वी. सेट खरीदने की आवश्यकता महसूस नहीं हुई। वह महेन्द्र के वस्त्र धोता था और टेंट साफ करता था।

Question 2. 
How does Iswaran describe the uprooted tree on the highway? What effect does he want to create in his listeners?
ईश्वरन सड़क पर पड़े एक उखड़े वृक्ष का कैसे वर्णन करता है? वह अपने सुनने वालों पर क्या प्रभाव उत्पन्न करना चाहता है?
Answer:
Once Iswaran saw an uprooted tree on the highway. With arched eyebrows and stretched hands he said, “The road was deserted and I was all alone. Suddenly I spotted something that looked like an enormous bushy beast lying sprawled across the road.

I was half inclined to turn and go back but I came closer. I saw that it was a fallen tree with its dry branches spread out.” Iswaran described even a simple incident in such an interesting dramatic way with gestures that it created suspense and surprise in his listeners.

एक बार ईश्वरन ने एक उखड़ा वृक्ष हाइवे पर देखा। भौंहें चापनुमा बनाकर और हाथ फैलाकर उसने कहा, “सड़क निर्जन थी और मैं अकेला था। मैंने कोई चीज देखी जो एक विशाल झाड़ीदार पशु, जो सड़क पर फैले हुए पड़ा हो, जैसे लगी। मैं घूमने तथा वापस जाने का कम इच्छुक था लेकिन मैं नजदीक आया। मैंने देखा कि यह तो एक गिरा हुआ वृक्ष था जिसकी शाखाएँ फैली हुई थीं।” ईश्वरन ने एक सामान्य घटना को भी इतने रुचिपूर्ण नाटकीय तरीके से हाव-भाव से बताया कि इससे श्रोताओं में भी रहस्य और विस्मय उत्पन्न हो गया।

Question 3. 
How does he narrate the story of the tusker ? Does it appear to be plausible?
वह हाथी की कहानी कैसे सुनाता है? क्या यह सम्भव लगता है?
Answer:
He narrates the story of the tusker in a curious way. He says that one day a tusker escapes from the timber yard and begins to roam about, stamping on bushes, tearing up wild creatures and breaking branches at will.

At the outskirts of his town, the mad elephant breaks down the fences, smashes all the fruit stalls, mud pots and clothes. People run helter-skelter in panic. The elephant then enters a school ground by breaking the brick wall. Boys run into the classrooms. The beast pulls out the football goal post, tears down the volleyball net, kicks and flattens the drum kept for water, and uproots the shrubs. Teachers climb up the terrace.

Iswaran grabs a cane from a teacher and comes downstairs. The beast swings a branch, stamps its feet, kicks up a lot of mud and dust. Iswaran musters courage and whacks its third toe-nail and then only it collapses. The story is implausible. Iswaran was a junior class student only. How could he go near this mad elephant.

वह उत्सुक तरीके से हाथी की कहानी को वर्णित करता है। वह कहता है कि एक दिन एक हाथी टिम्बर यार्ड से निकल भागता है और विचरण करने लगता है, झाड़ियों को कुचलते हुए, जंगली लताओं को चीरते हुए और चाहे जिन शाखाओं को तोड़ते हुए। उसके कस्बे की सीमा पर, पागल हाथी, बाड़ों को तोड़ता है, सभी फल-स्टालों, मिट्टी के बर्तनों और कपड़ों को फाड़-तोड़ कर नष्ट कर देता है। लोग भय से इधर-उधर दौड़ते हैं। हाथी फिर दीवार तोड़कर विद्यालय के मैदान में घुसता है। बच्चे कक्षा-कक्षों में भाग जाते हैं। 

यह जानवर फुटबाल के गोल पोस्ट को उखाड़ देता है, वॉलीबॉल नेट को फाड़ देता है, पानी के लिए रखे ड्रमों को ठोकर मारकर समतल कर देता है और झाड़ियों को उखाड़ देता है। अध्यापकगण छत पर चढ़ जाते हैं। … ईश्वरन एक अध्यापक से एक डण्डा लेता है और नीचे आता है। यह जानवर एक शाखा को घुमाता है, पैर मारता है, बहुत-सा गारा व धूल फेंकता है। ईश्वरन साहस बटोरता है और इसके पैर की तीसरी अंगुली के नाखून पर कसकर चोट मारता है और तब जाकर यह गिरता है। कहानी असम्भाव्य लगती है। ईश्वरन एक जूनियर क्लास विद्यार्थी है। वह इस मदमस्त/पागल हाथी के पास कैसे जा सकता था।

Question 4. 
Why does the author say that Iswaran seemed to more than make up for the absence of a TV in Mahendra’s living quarters?
लेखक क्यों कहता है कि महेन्द्र के घर में ईश्वरन टी.वी. की कमी की पूर्ति बहुत अच्छी तरह से करता था?
Answer:
The author says that Iswaran seemed to more than make up for the absence of a TV in Mahendra’s living quarters because every night, after dinner he used to narrate an interesting event/story to Mahendra. His style of narrating is very interesting, full of suspense and dramatic. His gestures and hand movements add colour to his narration. So, Iswaran is himself a living T.V. set.

लेखक कहता है कि महेन्द्र के घर में ईश्वरन टी.वी. की कमी की पूर्ति बहुत अच्छी तरह से करता दिखाई देता था क्योंकि प्रत्येक रात को डिनर के उपरान्त वह महेन्द्र को एक रुचिकर घटना/कहानी सुनाता था। उसके कहानी वर्णन की शैली बहुत रुचिकर है, सस्पेन्स से भरी है और नाटकीय है। उसके हाव-भाव व हाथों . की क्रियाएँ वर्णन को अधिक रंगीन बनाते हैं। अतः ईश्वरन स्वयं एक जिंदा टेलीविजन है।

Question 5. 
Mahendra calls ghosts or spirits a figment of the imagination. What happens to him on a full-moon night 
महेन्द्र भूत व प्रेतात्माओं को काल्पनिक/मनगढन्त मानता है। उसे पूर्णिमा की रात क्या होता है?
Answer:
Mahendra calls ghosts or spirits a figment of imagination because there are no such things. Iswaran is crazy. He should get his digestive system examined and may be his head as well. He is talking nonsense. 
On a full-moon night, he wakes up from his sleep. He hears a low moan to his window. With curiosity, he looks out. There, not too far, was a dark cloudy form clutching a bundle. Mahendra breaks into a cold sweat and falls back on the pillow, panting.

महेन्द्र भूतों या प्रेतात्माओं को कल्पना की गढन्त कहता है क्योंकि ऐसी कोई चीज नहीं होती है। ईश्वरन पागल है। उसे अपने पाचन तन्त्र की जाँच करवानी चाहिए और शायद अपने दिमाग की भी। वह निरर्थक बातें करता है।
एक पूर्ण चन्द्रमा की रात को, वह अपनी नींद से जागता है। वह खिड़की के पास धीमी-धीमी कराहट सुनता है। उत्सुकता के साथ, वह बाहर झाँकता है। वहाँ, अधिक दूर नहीं, एक काली, गंदली-सी आकृति जिसने एक बण्डल पकड़ रखा था, दिखाई दी। महेन्द्र पसीना-पसीना हो जाता है और अपने तकिये पर पुनः गिर जाता है, हाँफने लगता है।

Question 6. 
Can you think of some other ending for the story? 
क्या आप कहानी का कोई दूसरा अन्त सोच सकते हो?
Answer:
Yes, I can think of another ending for the story. It should end in this manner. Iswaran in disguise makes low moan near the window. Mahendra sees a dark cloudy form. Though he breaks into a cold sweat, he musters courage and embraces the form. To his surprise, it is Iswaran in disguise.

हाँ, मैं कहानी के लिए दूसरा अन्त विचार सकता हूँ। इसे इस तरह से अन्त होना चाहिए। ईश्वरन खिड़की के नजदीक भेष बदलकर कराहट निकालता है। महेन्द्र एक काली गंदली-सी आकृति देखता है। यद्यपि वह पसीना-पसीना हो जाता है, वह साहस बटोरता है और उस आकृति को बाँहों में भर लेता है। उसे विस्मय होता है कि यह ईश्वरन है जिसने भेष बदल रखा है। 

Talk About It :

Q. Is Iswaran a fascinating storyteller ? Discuss with your friends the qualities of a good storyteller. Try to use these qualities and tell a story.
क्या ईश्वरन एक आकर्षक कहानी कहने वाला है? अपने मित्रों के साथ एक अच्छे कहानी कहने वाले की विशेषताओं के बारे में चर्चा कीजिये। इन विशेषताओं का प्रयोग करने की कोशिश कीजिए तथा एक कहानी सुनाइये।
Answer:
Iswaran is a fascinating storyteller. He has many qualities of a good storyteller
(1) First, he makes use of gestures to make the narration impressive. 
(2) Second, he modulates his tone as per the scene. 
(3) Third, he leaves the story incomplete to keep the listener in suspense. 
(4) Fourth, he presents proofs to make the description believable. 
(5) Finally, he does acting also in disguise to substantiate his statements. Thus, he is a good storyteller.

ईश्वरन एक आकर्षक कहानी सुनाने वाला है। उसमें एक अच्छे कहानी सुनाने वाले के काफी गुण विद्यमान हैं।
(1) प्रथम, वह कहानी को प्रभावी बनाने के लिए हाव-भाव का उपयोग करता है। 
(2) दूसरे, वह दृश्यानुसार अपनी आवाज में बदलाव कर लेता है। 
(3) तृतीय, वह श्रोता को रहस्य में रखने के लिए कहानी को अधूरी छोड़ देता है। 
(4) चतुर्थ, वह वर्णन को विश्वसनीय बनाने के लिए प्रमाण प्रस्तुत करता है। 
(5) अंत में, अपनी बात को सिद्ध करने के लिए वह भेष बदल कर अभिनय भी कर लेता है। इस प्रकार, वह एक अच्छा कहानी सुनाने वाला है।

A Story ‘Labhu’, Rama saya, ‘is a fascinating story teller. Once he told me a story. ‘Once, I went to the Himalaya for shooting. Thakur Pratap Singh was with me. We saw a terrible creature like a ghost. Seeing this horrific creature, Thakur Pratap Singh ran away.’ Then he stopped. I requested to tell what happened next. Making his face horrendous, he yelled, ‘I chanted Mantras and jumped from the Himalaya to the roof of my house. That’s why, you see, my one leg is injured.’ And then he laughed.

एक कहानी ‘लाभू’, रमा कहती है, ‘एक आकर्षक कहानी कहने वाला है।’ एक बार उसने मुझे एक कहानी सुनाई। ‘एक बार, मैं शिकार के लिए हिमालय गया। ठाकुर प्रताप सिंह भी मेरे साथ था। हमने, भूत जैसा एक डरावना प्राणी देखा। इस डरावने प्राणी को देखते ही ठाकुर प्रताप सिंह तो भाग खड़े हुए।’ फिर वह रुक गया। मैंने निवेदन किया कि वह बताए कि आगे क्या घटित हुआ। अपने चेहरे को डरावना बनाकर वह चिल्लाया, ‘मैंने मंत्रोच्चारण किया और हिमालय से अपने घर की छत पर छलांग लगा दी। इसीलिए, आप स्वयं देख लीजिए, मेरी एक टांग घायल है।’ और फिर वह हँसने लगा।

Important Questions and Answers

I. Short Answer Type Questions :

Question 1. 
How does Iswaran make his stories look real? ईश्वरन अपनी कहानियों को सच्ची दिखने वाली कैसे बनाता है?
Answer:
Iswaran makes his stories look real by creating a background, and giving vivid descriptions of the scenes. In tusker’s story, he tells he belongs to the place where elephants are used to haul the logs on to lorries.

ईश्वरन अपनी कहानियों को सच्ची दिखने वाली बनाता है उनकी पृष्ठभूमि देकर और दृश्यों का विविध वर्णन देकर। हाथी की कहानी में वह बताता है कि वह उस स्थान से सम्बन्धित है जहाँ हाथियों को लॉरी में लढे पकड़ कर रखने के लिए प्रयोग किया जाता है।

Question 2. 
What does Mahendra think when he sees a cloudy form? 
महेन्द्र क्या सोचता है जब वह एक धुंधली-सी आकृति देखता है?
Answer:
When Mahendra sees the cloudy form, he thinks that it is a ghost. But as he gradually recovers, he begins to reason that it must have been some sort of auto suggestion, some trick that his subconscious mind had played on him.

जब महेन्द्र धुंधली-सी आकृति देखता है, तो वह सोचता है कि यह एक भूत है। लेकिन जैसे ही वह सामान्य होता है तो वह तर्क देना आरम्भ करता है कि यह स्वतः परामर्श प्रकार का था, कुछ ट्रिक थी जो उसके अर्द्ध-चेतन मस्तिष्क ने उसके साथ खेली थी।

Question 3. 
How does Iswaran pass his time after Mahendra’s departure for work? 
महेन्द्र के कार्य के प्रस्थान उपरान्त ईश्वरन अपना समय कैसे गुजारता है?
Answer:
After Mahendra’s departure for work, Iswaran cleans and tidies up the room, tent or house. Then, he washes the clothes and has a leisurely bath. After lunch, he reads popular Tamil thriller and dozes off.

महेन्द्र के कार्य के लिए प्रस्थान उपरान्त, ईश्वरन कक्ष, टेंट या घर को साफ करता है व व्यवस्थित करता है। फिर वह वस्त्र साफ करता है और शांतिपूर्वक स्नान करता है। लंच के उपरान्त, वह लोकप्रिय तमिल पुस्तक पढ़ता है और झपकी लेता है।

Question 4. 
How does Iswaran describe the uprooted tree? 
ईश्वरन उखड़े वृक्ष का कैसे वर्णन करता है?
Answer:
Iswaran describes the uprooted tree as an enormous bushy beast sprawled on the road which was deserted and he was all alone. When he came closer, he found, it was a fallen tree:

ईश्वरन ने उखड़े वृक्ष को सड़क पर पड़े एक विशाल झाड़ीदार जानवर जैसा पाया। रोड वीरान था और वह बिल्कुल अकेला था। जब वह समीप आया तो उसने पाया कि यह तो एक गिरा वृक्ष था।

Question 5.
Compare and contrast Mahendra and Iswaran. 
महेन्द्र व ईश्वरन की तुलना कीजिए।
Answer:
Mahendra is a bachelor junior supervisor. He adjusts himself in all kinds of conditions. He doesn’t believe in ghosts. Iswaran is the multi-purpose cook of Mahendra. He is a good story-teller. He believes in ghosts.

महेन्द्र एक कुंवारा कनिष्ठ सुपरवाइजर है। वह सभी प्रकार की परिस्थितियों में अपने को समायोजित कर लेता है। वह भूतों में विश्वास नहीं करता है। ईश्वरन, महेन्द्र का बहुउद्देश्यीय रसोइया है। वह एक अच्छा कहानी सुनाने वाला है। वह भूतों में विश्वास करता है।

Question 6. 
How does the tusker frighten Iswaran, the student?
वह हाथी विद्यार्थी ईश्वरन को कैसे भयभीत करता है? 
Answer:
The tusker grunted. It menacingly swung a branch held in its trunk. It stamped its feet. It kicked up a lot of mud and dust. It looked at him red-eyed. It lifted its trunk and trumpted loudly 

वह हाथी घुरघुराया। अपनी सूंड में पकड़ी हुई एक शाखा को धमकी देने के अंदाज से घुमाया। अपना पैर जमीन पर देकर मारा। बहुत-सी गंदगी (गारे) व धूल को ठोकर मारी। इसने उसकी (विद्यार्थी ईश्वरन की) ओर लाल-आँखों (अर्थात् क्रोध) से देखा। इसने संड ऊपर उठाई और ऊँची आवाज में चिंघाड़ा।

Question 7. 
How did student Iswaran bring down the beast?
विद्यार्थी ईश्वर ने उस पशु (अर्थात् हाथी) को प्रहार कर कैसे गिराया?
Answer:
Student Iswaran mustered all his force. He moved forward. He whacked on the tusker’s third toenail. The beast looked stunned for a moment. Then, it shivered from head to foot and collapsed.

विद्यार्थी ईश्वरन ने अपनी सारी ताकत जुटाई। वह आगे बढ़ा। उसने हाथी के पैर की तीसरी उँगली के नाखून पर प्रहार किया। एक पल के लिए तो वह पशु (हाथी) भौचक्का रह गया। फिर यह सिर से पैर तक काँपने लगा और वहीं गिर पड़ा।

Question 8.
How did Iswaran’s story of the female ghost influence Mahendra’s scientific outlook?
ईश्वरन की महिला-भूत वाली कहानी ने महेन्द्र के वैज्ञानिक दृष्टिकोण को कैसे प्रभावित किया? 
Answer:
From the day on Mahendra heard Iswaran’s story of the female ghost, he felt uneasy at nights. Every night, he would try to ensure that there was no movement of dark shapes in the vicinity.

जिस दिन से महेन्द्र ने ईश्वरन की महिला-भूत की कहानी सुनी थी उस ही दिन से वह रातों को बेचैनी महसूस करता था। प्रत्येक रात्रि वह यह सुनिश्चित करने का प्रयास करता था कि आस-पास में काली आकृति (भूत) की कोई हलचल नहीं थी।

Question 9. 
How does the story ‘Iswaran The Storyteller’ conclude? 
कहानी ‘ईश्वरन, कहानी सुनाने वाला’ कैसे समाप्त होती है?
Answer:
The story concludes on a pathetic note. Having been reminded about the female ghost, Mahendra hurried away to his office. He handed in his papers. He leaves the haunted place the very next day.

कहानी एक दुःखद सूचना के साथ समाप्त होती है। महिला भूत के बारे में स्मरण दिलाये जाने के कारण, महेन्द्र जल्दबाजी में अपने कार्यालय जाता है। वह अपने कागजात सौंपता है। वह भूतों वाले उस स्थान को अगले ही दिन छोड़ देता है। 

II. Long Answer Type Questions :

Question 1. 
Discuss Iswaran’s qualities as a good story-teller. 
एक अच्छे कहानी सुनाने वाले के रूप में ईश्वरन के गुणों पर चर्चा करें।
Answer:
Iswaran has all the qualities of a good story-teller. First, he generates interest by the art of narration. Second, he creates suspense and surprise by adding dramatic gestures. Third, he introduces the story by giving a background. Fourth, he presents vivid descriptions of the scenes. And fifth, he is the store-house of the stories.

ईश्वरन में एक अच्छे कहानी सुनाने वाले के सभी गुण हैं। प्रथम, वह वर्णन-कला द्वारा रुचि पैदा करता है। द्वितीय, नाटकीय हाव-भाव के द्वारा वह रहस्य व विस्मय उत्पन्न करता है। तृतीय, वह पृष्ठभूमि देकर कहानी प्रस्तुत करता है। चतुर्थ, वह दृश्यों का वैविध्यपूर्ण प्रस्तुतीकरण करता है। पंचम, वह कहानियों का भण्डार-गृह है।

Question 2. 
Analyse and discuss ghosts as a figment of imagination. 
भूत कल्पना की उपज है, पर विश्लेषण करें व चर्चा करें।
Answer:
It is right that ghosts are a figment of imagination. Mahendra says that there are no such things as ghosts or spirits. Iswaran is crazy. He should get his digestive system examined and his head as well. He always talks nonsense. They may be some sort of auto suggestion, some trick that his subconscious have played on him.

यह ठीक है कि भूत कल्पना की उपज है। महेन्द्र कहता है कि भूत या प्रेतात्मा जैसी कोई चीजें नहीं हैं। ईश्वरन पागल है। उसे अपने पाचन तन्त्र की जाँच करवानी चाहिए और अपने मस्तिष्क की भी। वह हमेशा अर्थहीन बातें करता है। वे कुछ प्रकार के स्वतः सुझाव हो सकते हैं, कुछ ट्रिक हो सकती है जो अर्द्ध-चेतन मस्तिष्क ने हम पर खेली हो।

Question 3. 
Draw a word picture of Mahendra. 
महेन्द्र का शब्द-चित्र खींचें।
Answer:
Mahendra was a junior supervisor in a firm. His job was to keep an eye on the activities at the work-site. He was a bachelor. His needs were simple. He was able to adjust himself to all kinds of odd situations. He had scientific temper. He didn’t believe in ghosts or spirits. But, in the end, he left the place in fear of ghosts.

महेन्द्र एक संस्था (फर्म) में कनिष्ठ निरीक्षक था। उसका काम कार्य-स्थल पर गतिविधियों पर नजर रखने का था। वह कुँवारा था। उसकी आवश्यकताएँ साधारण थीं। वह सभी विषम परिस्थितियों में अपने को समायोजित कर लेता था। वह वैज्ञानिक दृष्टिकोण रखता था। वह भूत या प्रेतात्माओं में विश्वास नहीं रखता था। किन्तु, अन्त में, उसने भूतों के भय से ही अपना स्थान दिया है।

Question 4. 
Other than story telling, Iswaran had an amazing capacity. Explore and explain.
कहानी सुनाने के अतिरिक्त, ईश्वरन में एक आश्चर्यजनक क्षमता थी। खोजें व स्पष्ट करें।
or
Explain and examine Iswaran’s culinary skills.
ईश्वरन की पाक-कलाओं की व्याख्या एवं परीक्षण करें।
Answer:
Iswaran also had an amazing capacity to produce vegetables and cooking ingredients, seemingly out of nowhere, in the middle of a desolate landscape with no shops visible for miles around. He would miraculously conjure up the most delicious dishes made with fresh vegetables within an hour of arriving at the zink-sheet shelter at the new workplace.

ईश्वरन में एक आश्चर्यजनक क्षमता यह थी कि उन निर्जन स्थानों पर भी जहाँ कोई दुकान दिखाई न देती थी, वह वहाँ, सब्जियाँ व पकाने की अन्य वस्तुएँ न जाने कहाँ से पैदा कर देता था। वह जिंक-शीट के छप्पर के नीचे नये कार्यस्थल पर आने के एक घण्टे के भीतर ही ताजी सब्जियों से बना स्वादिष्ट भोजन जादू की भाँति तैयार कर देता था।

Question 5.
Narrate Iswaran’s accounts which involves supernatural. 
ईश्वरन की उन कहानियों का वर्णन करें जिनमें भूत-प्रेत सम्मिलित है।
Answer:
The first account was that the entire factory area they were occupying had once been a burial ground. And he had seen a number of skulls and bones on the path there. Then he told the story of one horrible ghost of a woman which appeared off and on at midnight during the full-moon. These accounts of Iswaran involve supernatural.

प्रथम कहानी यह थी कि वह सम्पूर्ण कारखाना क्षेत्र जिस पर वे कार्य कर रहे थे वह कभी एक कब्रगाह रहा था। और उसने वहाँ रास्ते में बहुत-सी खोपड़ियाँ व हड्डियाँ देखी थीं। फिर उसने एक भयानक महिला भूत की कहानी सुनाई जो पूर्ण चन्द्रमा के दौरान कभी-कभी अर्द्धरात्रि को दिखाई देती थी। ईश्वरन की ये कहानियाँ भूत-प्रेत को समाहित किये हुए हैं।

0:00
0:00