Day
Night

Chapter 8 मौसम यंत्र, मानचित्र तथा चार्ट

Textbook Questions and Answer

1. नीचे दिए गए चार विकल्पों में से सही उत्तर चुनें

(i) प्रत्येक दिन के लिए भारत के मौसम मानचित्र का निर्माण कौन-सा विभाग करता है ? 
(क) विश्व मौसम संगठन
(ख) भारतीय मौसम विभाग 
(ग) भारतीय सर्वेक्षण विभाग
(घ) इनमें से कोई नहीं। 
उत्तर:
(ख) भारतीय मौसम विभाग 

(ii) उच्च एवं निम्न तापमापी में कौन-से दो द्रवों का प्रयोग किया जाता है ? 
(क) पारा एवं जल
(ख) जल एवं अल्कोहल 
(ग) पारा एवं अल्कोहल.
(घ) इनमें से कोई नहीं। 
उत्तर:
(ग) पारा एवं अल्कोहल.

(iii) समान दाब वाले स्थानों को जोड़ने वाली रेखाओं को क्या कहा जाता है ?
(क) समदाब रेखाएँ 
(ख) समवर्षा रेखाएँ 
(ग) समताप रेखाएँ 
(घ) आइसोहेल रेखाएँ। 
उत्तर:
(क) समदाब रेखाएँ 

(iv) मौसम पूर्वानुमान का प्राथमिक यंत्र है
(क) तापमापी
(ख) दाबमापी
(ग) मानचित्र
(घ) मौसम चार्ट।
उत्तर:
(घ) मौसम चार्ट।

(v) अगर वायु में आर्द्रता अधिक है, तब आई एवं शुष्क बल के बीच पाठ्यांक का अंतर होगा
(क) कम 
(ख) अधिक 
(ग) समान
(घ) इनमें से कोई नहीं। 
उत्तर:
(क) कम 

2. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 30 शब्दों में दीजिए।

(i) मौसम के मूल तत्त्व क्या हैं ?
उत्तर:
मौसम के मूल तत्वों के अन्तर्गत तापमान, वायुदाब, पवन, आर्द्रता तथा मेघ को प्रमुख रूप से सम्मिलित किया जाता है।

(ii) मौसम चार्ट क्या है ?
उत्तर:
विभिन्न मौसम वेधशालाओं से प्राप्त आँकड़ों को जब एक चार्ट पर कोडिंग के द्वारा दिखाया जाता है तो उन्हें मौसम चार्ट कहा जाता है। कोडिंग के द्वारा कम स्थान में अधिक सूचनाएँ देकर मौसम चार्ट की उपयोगिता बढ़ जाती है।

(iii) वर्ग 1 की वेधशालाओं में सामान्यतया कौन-सा यन्त्र मौसम परिघटनाओं के मापने के लिए होता है ?
उत्तर:
वर्ग-1 की वेधशालाओं में सामान्यता मौसम परिघटनाओं के मापने के लिए निम्नलिखित 5 यन्त्रों का उपयोग किया जाता है

  1. अधिकतम एवं न्यूनतम तापमापी, 
  2. पवनवेगमापी तथा वात-दिग्दर्शी, 
  3. शुष्क एवं आर्द्र बल्ब तापमापी, 
  4. वर्षामापी, 
  5. वायुदाबमापी। 

(iv) समताप रेखाएँ क्या हैं? 
उत्तर:
समान तापमान वाले स्थानों को मिलाने वाली रेखाओं को समताप रेखा कहा जाता है।

(v) निम्नलिखित को मौसम मानचित्र पर चिह्नित करने के लिए किस प्रकार के मौसम प्रतीकों का प्रयोग किया जाता है ?
(क) धुंध, 
(ख) सूर्य का प्रकाश,
(ग) तड़ित, 
(घ) मेघों से ढका आकाश। 
उत्तर:
मौसमीय दशा
(क) धुंध
(ख) सूर्य का प्रकाश 
(ग) तड़ित
(घ) मेघों से ढका आकाश 

3. निम्न प्रश्नों के उत्तर लगभग 125 शब्दों में दीजिए। 

(i) मौसम मानचित्रों एवं चार्टी को किस प्रकार तैयार किया जाता है तथा ये हमारे लिए कैसे उपयोगी हैं ?
उत्तर:
मौसम मानचित्र-पृथ्वी के किसी भाग की मौसमीय दशाओं का समतल धरातल पर प्रदर्शन करने वाला मानचित्र मौसम मानचित्र कहलाता है।
मौसम सम्बन्धी मापन यन्त्रों की सहायता से किसी स्थान की मौसम की दशाओं की एक निश्चित अवधि या एक दिन के लिए जानकारी संग्रहीत की जाती है जिन्हें उस क्षेत्र के मानचित्र पर मान्य मौसमीय चिह्नों की सहायता से प्रदर्शित किया जाता है। मौसम मानचित्र पर प्रमुख रूप से समवायुदाब रेखा, मेघों के प्रकार, वायु दिशा एवं वेग, वर्षा की मात्रा एवं प्रकार, तापमान का सामान्य से विचलन या समुद्र की दशाएँ प्रदर्शित की जाती हैं। निश्चित घण्टों पर लिये गये मौसमीय प्रेक्षणों को कोड के द्वारा पूर्वानुमान केन्द्रों पर भेजा जाता है। केन्द्रीय मौसम कार्यालय इन सूचनाओं का अभिलेखन करता है तथा इसी आधार पर मौसम मानचित्र तैयार किये जाते हैं। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (दिल्ली) की स्थापना के बाद से ही मौसम मानचित्र व मौसम चार्ट नियमित रूप से तैयार किये जाते हैं। 

भारत के विभिन्न स्थानों पर स्थापित मौसम वेधशालाएँ मौसमीय आँकड़ों को पुणे स्थित केन्द्रीय मौसम वेधशाला को दिन में दो बार प्रेषित करती हैं। भारतीय समुद्रों में संचालित कुछ विशिष्ट जलयानों पर भी मौसम सम्बन्धी आँकड़ों का संग्रहण किया जाता है। इसके अलावा भारत सरकार द्वारा अंटार्कटिका में मौसम वेधशाला की स्थापना, भारतीय महासागरीय अभियान एवं संचालन करने तथा रॉकेट व मौसम उपग्रहों के अंतरिक्ष में छोड़े जाने से मौसम पूर्वानुमान एवं प्रेक्षण के क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रगति हुई है। मौसम चार्ट-विभिन्न मौसम वेधशालाओं से प्राप्त आँकड़े पर्याप्त एवं विस्तृत होते हैं। अतः इनको एक चार्ट पर बिना कोडिंग के प्रदर्शित नहीं किया जा सकता। कोडिंग के द्वारा कम स्थान में सूचनाएँ देकर चार्ट की उपयोगिता बढ़ . जाती है। इन्हें सिनाप्टिक मौसम चार्ट कहते हैं तथा इन चार्टी में जो कोड प्रयोग में लाए जाते हैं, उसे मौसम विज्ञान प्रतीक कहते हैं। मौसम पूर्वानुमान के लिए मौसम चार्ट प्राथमिक यंत्र होते हैं। उपयोग-मौसम मानचित्र एवं चार्ट हमारे लिए उपयोगी हैं क्योंकि इनसे हमें आने वाले मौसम की पूर्व जानकारी मिलती है। ये हवाई जहाज चालक, नाविक एवं किसानों के लिए बहुत लाभदायक है।

मानचित्र पठन-चित्र 8.12 एवं 8.13 को पढ़ें व निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दें-

(i) इन मानचित्रों में किन ऋतुओं को दिखाया गया है ? 
उत्तर:
मानचित्र (A)8.12 में भारत में शीतऋतु एवं मानचित्र 
(B)8.13 में ग्रीष्मऋतु को दर्शाया गया है।

(ii) चित्र (A) 8.12 में अधिकतम समदाब रेखा का मान क्या है तथा यह देश के किस भाग से गुजर रही है ?
उत्तर:
चित्र (A)8.12 में अधिकतम समदाब रेखा का मान 1020 मिलीबार है तथा यह रेखा उत्तरी भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य से होकर गुजर रही है।

(iii) चित्र (B)8.13 में सबसे अधिक एवं सबसे न्यून समदाब रेखाओं का मान क्या है तथा ये कहाँ स्थित हैं ?
उत्तर;
चित्र (B)8.13 में सबसे अधिक समदाब रेखा का मान 1010 मिलीबार है तथा यह लक्षद्वीप, केरल व तटीय भाग के पश्चिमी भाग पर स्थित है। इस चित्र में सबसे न्यून समदाब रेखा 996 मिलीबार की है तथा यह पाकिस्तान देश में स्थित है।

(iv) दोनों मानचित्रों में तापमान वितरण का प्रतिरूप क्या है ? 
उत्तर:
चित्र (A)8.12 में तापमान सामान्यतया उत्तर से दक्षिण दिशा की ओर क्रमशः बढ़ते जाते हैं जबकि चित्र (B)8.13 में तापमान उत्तर में स्थित हिमालय क्षेत्र में कम है तथा यह उत्तरी भारत के मैदानी भागों तथा पश्चिमी राजस्थान की ओर बढ़ते जाते हैं। चित्र (B)8.13 से स्पष्ट है कि भारत के दक्षिणी-पूर्वी तटीय भागों में तापमान अधिक मिलते हैं , जबकि यहाँ से उत्तर-पूर्व दिशा की ओर तापमानों में गिरावट देखी जा सकती है।

(v) चित्र (A)8.12 में किस भाग का अधिकतम औसत तापमान तथा न्यूनतम औसत तापमान आप देखते हैं ?
उत्तर:
चित्र (A)8.12 में प्रायद्वीपीय भारत के पश्चिमी तटीय भाग (पुणे से दक्षिण की ओर) तथा दक्षिणी तमिलनाडु में अधिकतम औसत तापमान (25° सेग्रे.) मिलते हैं, जबकि भारत के न्यूनतम औसत तापमान भारत के जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश तथा उत्तराखण्ड राज्यों में (10° सेग्रे. से कम) मिलते हैं।

(vi) दोनों मानचित्रों में आप तापमान वितरण एवं वायुदाब के बीच क्या सम्बन्ध देखते हैं ?
उत्तर:
दोनों मानचित्रों में यह देखा जा सकता है कि भारत के जिन भागों में तापमान कम मिलते हैं। वहाँ वायुदाब उच्च मिलता है जबकि उच्च तापमान रखने वाले भाग निम्न वायु दाब वाले क्षेत्र हैं।

0:00
0:00