Kaleidoscope Short Stories Chapter 1 I Sell my Dreams

Textbook Questions and Answers
Understanding the Text :

Question 1.
Did the author believe in the prophetic ability of Frau Frieda?
क्या लेखक फ्रॉ फ्रीडा की भविष्य बताने की क्षमता में विश्वास करता था?
Answer:
In the beginning, of course, he did believe in Frau Frieda’s ability of predicting future events. When she told him that she had dreamed about him and, according to her dream, he must leave Vienna right away. The author took her words seriously and left Vienna the same night. It was her great conviction in her dream that influenced the author most. However, later on, he changed his opinion. He realised that her dreams were a trick for surviving.

प्रांरभ में, यद्यपि लेखक अवश्य फ्रॉ फ्रीडा की भावी घटनाओं के बारे में भविष्यवाणी करने की क्षमता में विश्वास करता था। जब उसने लेखक को कहा था कि उसने (फ्रॉ फ्रीडा ने) लेखक के बारे स्वप्न देखा था और उसके स्वप्न के अनुसार, लेखक को तुरंत वियना छोड़कर चले जाना चाहिए।

लेखक ने उसकी बात को गंभीरता से लिया और उसी रात को वियना से चला गया। फ्रॉ फ्रीडा की उसके स्वप्न में गहरी आस्था ने ही लेखक को सबसे अधिक प्रभावित किया था। किन्तु बाद में लेखक ने उसके दृष्टिकोण को बदल लिया। उसने महसूस किया कि उसके स्वप्न केवल गुजर-बसर करने की युक्ति मात्र थे।

Question 2.
Why did he think that Frau Frieda’s dreams were a stratagem for surviving?
वह क्यों मानता था कि फ्रॉ फ्रीडा के स्वप्न केवल संकट की स्थिति में जीवित रहने की युक्ति थे ?
Answer:
In the beginning of acquaintance, the author believed in the prophetic quality of Frau Frieda’s dreams. He took her dream about him seriously and left Vienna immediately. However, the truth dawned on him later on. During her conversation with the author in Barcelona (Spain), the latter gathered that she had taken over, dream by dream, the entire fortune of her patrons in Vienna.

Then she sold away her entire property there and got herself employed with the Portuguese ambassador, dreaming for him. Lastly, she could not avoid death by dreaming about the accident she met with at Havana Riviera Hotel. All these facts show that her dreams were only a stratagem for surviving.

परिचय के प्रारंभ में लेखक फ्रॉ फ्रीडा के स्वप्नों के भविष्य बताने के गुण में विश्वास करता था। उसने उसके बारे में फ्रॉ फ्रीडा के स्वप्न को गंभीरता से लिया था तथा तुरंत वियना को छोड़ दिया था। किन्तु सत्य लेखक को बाद में समझ आ गया। लेखक के साथ फ्रॉ फ्रीडा की बारसेलोना (स्पेन) में हुई बातचीत के दौरान लेखक ने समझ लिया कि फ्रॉ फ्रीडा ने एक-एक स्वप्न देखते हुए वियना में उसके संरक्षकों की सम्पूर्ण संपत्ति पर अधिकार कर लिया था।

फिर उसने उसकी सम्पूर्ण सम्पत्ति को बेच दिया था और पुर्तगाल के राजदूत के यहाँ नौकरी प्राप्त कर ली थी और उसके लिए स्वप्न देखती थी। अंत में, वह उस दुर्घटना के बारे में स्वप्न देखकर स्वयं को मृत्यु से नहीं बचा सकी, जो हवाना रिविअरा होटल पर हुई थी। ये सब तथ्य दिखाते हैं कि उसके स्वप्न केवल संकट की स्थिति में जीवित रहने की चाल मात्र थे।

Question 3.
Why does the author compare Neruda to a Renaissance pope?
लेखक नेरूडा की तुलना पुनर्जागरणकाल के ईसाई धर्मगुरु से क्यों करता है?
Answer:
The author compares Pablo Neruda, a Chilean poet-diplomat and politician, who won Nobel Prize for literature in 1971, to a Renaissance pope as he was very much like one.

13 He was as gluttonous and refined as a Renaissance pope. He liked to gobble up a variety of dishes at a meal and craved for strange foods. On the other hand, he was a man of letters. He was a great poet who was awarded Noble Prize for Literature in 1971. He was as hungry for books as he was for food.

At Barcelona (Spain) during a brief stop-over, he went away to second-hand bookstores to hunt some rare books. He bought an old, dried out volume for which he paid as much money as his salary for two months at the consulate in Rangoon. He had a child-like curiosity in the inner workings of each thing he saw. His hunger for knowledge was simply stupendous like that of a Renaissance pope.

लेखक पैब्लो नेरूडा की तुलना पुनर्जागरणकाल के ईसाई धर्म-गुरु पोप से करता है क्योंकि वह पोप के समान ही थे। पैब्लो नेरूडा चिली के एक कवि-कूटनीतिज्ञ एवं राजनेता थे जिन्हें 1971 में साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया था। वह उतने ही पेटू एवं सुसंस्कृत थे जितना पुनर्जागरणकाल का कोई पोप । वह भोजन के समय बहुत सारे प्रकार के व्यंजन खा डालते थे और अजीब प्रकार के भोजन की इच्छा रखते थे। दूसरी ओर वह एक विद्वान व्यक्ति थे।

वह एक महान् कवि थे जिन्हें 1971 में साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया था। स्पेन के बार्सेलोना शहर में, थोड़े समय के ठहराव के दौरान, वह सैकंड-हैंड पुस्तकों की दुकानों पर चले गए ताकि कुछ दुर्लभ पुस्तकें खोजी जा सकें । उन्होंने एक पुराना, घिसा-पिटा ग्रंथ खरीदा जिसके बदले में उन्हें इतना धन चुकाना पड़ा जितना रंगून के दूतावास में उनके दो माह का वेतन होता। वह हर उस वस्तु जिसे वह देखते थे, की आतंरिक क्रियाओं में बच्चों जैसी जिज्ञासा रखते थे। ज्ञान के लिए उनकी भूख जबरदस्त प्रकार की थी, एक पुनर्जागरणकाल के पोप के समान।

Page: 6

Question 1.
How did the author recognize the lady who was extricated from the car encrusted in the wall of Havana Riviera Hotel after the storm?
लेखक ने उस महिला को कैसे पहचाना जिसे तूफान के बाद उस कार से निकाला गया था जो हवाना रिविअरा होटल की दीवार में घुसकर बैठ गई थी?
Answer:
The author had met the woman, Frau Frieda, thirty-four years ago. She used to visit the same tavern in Vienna as the author and his Latin American companions did. The woman used to wear a gold ring shaped like a serpent, with emerald eyes. The woman, whose body was extricated from the car, was also reported to be wearing the same kind of gold ring. This gave an important clue to the author to recognize her.

लेखक उस महिला से, जिसका नाम फ्रॉ फ्रीडा था, चौंतीस वर्ष पूर्व मिला था। वह वियना के उसी शराबखाने पर आया करती थी जिस पर लेखक तथा उसके लैटिन अमेरिकी दोस्त आया करते थे। वह महिला एक सोने की अंगूठी पहना करती थी जिसका आकार सर्प के समान था और उस सर्प की आँखें एमरल्ड (पन्ना) नामक रत्न से बनी थीं। जिस महिला का शव कार से निकाला गया, उसके बारे में सूचना दी गई थी कि वह भी उसी प्रकार की सोने की अंगूठी पहने थी। इससे लेखक को उसे पहचानने के लिए महत्त्वपूर्ण सुराग मिला।

Question 2.
Why did the author leave Vienna never to return again?
लेखक ने कभी न लौटने के लिए वियना शहर को क्यों छोड़ दिया?
Answer:
Frau Frieda used to visit the same tavern as the author. One day, she came to the tavern to tell the author that she had dreamed about him the night before. She saw in her dream that the author’s life was in danger. She told the author to leave Vienna right away and not to come back for five years. Her belief in her dream was so real that the author left Vienna for Rome that same night, never to return again.

फ्रॉ फ्रीडा उसी शराबखाने पर आया करती थी जिस पर लेखक आया करता था। एक दिन वह शराबखाने पर लेखक को यह कहने के लिए आई कि उसने उसके बारे में पिछली रात एक स्वप्न देखा था। उसने स्वप्न में देखा था कि लेखक का जीवन खतरे में था। उसने लेखक को तुरंत वियना छोड़कर चले जाने और पांच वर्ष तक वापस न लौटने के लिए कहा। उसके स्वप्न में उस महिला का विश्वास इतना दृढ़ था कि लेखक वियना छोड़कर रोम के लिए उसी रात रवाना हो गया, फिर कभी लौटकर न आने के लिए।

Page 8.

Question 1.
How did Pablo Neruda know that somebody behind him was looking at him?
पैब्लो नेरूडा ने कैसे जाना कि कोई उसके पीछे बैठा व्यक्ति उसकी ओर देख रहा था?
Answer:
Pablo Neruda was gluttonous and refined. He was devouring multiple dishes with great gusto and antics. This made Frau Frieda take interest in him and she was excited. She was, therefore, constantly looking at him. Neruda might have looked around him and found the woman staring at him.

पैब्लो नेरूडा एक पेटू किन्तु सुसंस्कृत व्यक्ति थे। वह कई प्रकार के व्यंजनों को जल्दी-जल्दी खा रहे थे, बड़े आनंद एवं उछल-कूद के साथ। उनके इस प्रकार के व्यवहार से फ्रॉ फ्रीडा ने उनमें रुचि ली और उसे कौतूहल हुआ। इस कारण वह नेरूडा की ओर लगातार देख रही थी। नेरूडा ने उनके चारों ओर देखा होगा और उस महिला को उनकी ओर घूरते हुए पाया होगा।

Question 2.
How did Pablo Neruda counter Frau Frieda’s claims to clairvoyance?
पैब्लो नेरूडा ने फ्रॉ फ्रीडा के भविष्यवाणी संबंधी दावों को किस प्रकार गलत सिद्ध किया?
Answer:
Frau Frieda was a professional dreamer, who dreamed about others and told them how they could avoid mishaps by following her instructions. The author encouraged Frau Frieda to talk about her dreams in order to surprise the poet, Pablo Neruda. The poet announced in the beginning of the conversation that he did not believe in prophetic dreams. According to him, only poetry is clairvoyant.

फ्रॉ फ्रीडा एक व्यावसायिक स्वप्न-दृष्टा थी जो दूसरों के बारे में स्वप्न देखती थी तथा उन्हें बताती थी कि वे किस प्रकार उसके निर्देशों का पालन कर दुर्घटनाओं से बच सकते थे। लेखक ने फ्रॉ फ्रीडा को उसके स्वप्नों के बारे में बात करने हेतु प्रोत्साहित किया ताकि कवि पैब्लो नेरूडा को आश्चर्यचकित किया जा सके। कवि ने बातचीत के प्रारंभ में ही घोषणा कर दी कि वह भविष्य बताने वाले स्वप्नों में विश्वास नहीं करते थे। उनके अनुसार केवल काव्य ही भविष्यदृष्टा हो सकता है।

Appreciation :

Question 1.
The story hinges on a gold-ring shaped like a serpent with emerald eyes. Comment on the responses that this image evokes in the reader.
यह कहानी एक सोने की अंगूठी के इर्द-गिर्द घूमती है जो सर्प जैसे आकार की है जिसकी आंखें हरे रंग के रत्न, पन्ने, से बनी हैं। उन प्रतिक्रियाओं पर टिप्पणी कीजिए जो अंगूठी की कल्पना पाठकों में पैदा करती हैं।
Answer:
The story begins with a storm in the sea, a wave which destroyed several cars standing on the pavement or driving down the road in front of the Havana Riviera Hotel at nine in the morning. The writer was taking his lunch on the terrace of the hotel then.

A body of woman was extricated from a car that had been embedded in the side of the hotel. It was later reported that the woman wore a gold ring shaped like a serpent with emerald eyes.

This fact, a woman with a serpent-like gold ring, rouses the writer’s curiosity. He goes some thirty four years back in time and recalls a woman with a similar ring on her forefinger, visiting the same tavern as the writer and his fellow students did in Vienna (Austria). This raises supense and curiosity about the woman in the readers. The woman was only 30 years old then. She lived with a family for which she dreamed.

Gradually, she won so much trust of the faimly that she grabbed all its wealth. After selling her properties in Vienna, she shifted to Portugal. She was again recognized by the author by her serpent-like ring at a hotel in Barcelona where he was taking lunch with the poet, Pablo Neruda. Finally, the disaster at the Hawana Riviera Hotel brought her up as a dead woman with a serpent-shaped gold ring. Thus we see that the same ring opens up a new story about a woman who sold her dreams.

यह कहानी समुद्र में उठे एक तूफान से शुरू होती है। इस समुद्र से उठने वाली एक लहर ने कई कारों को नष्ट कर दिया था जो या तो फुटपाथ पर खड़ी थीं अथवा सड़क पर दौड़ रही थीं। यह घटना सुबह नौ बजे की थी जब लेखक हवाना रिविअरा होटल के चबूतरे पर सुबह का नाश्ता कर रहा था। एक कार से, जो होटल की बगल की दीवार में घुसकर बैठ गई थी, एक महिला का शव निकाला गया। बाद में सूचना मिली कि वह महिला एक सोने की अंगूठी पहने थी जिसका आकार सर्प जैसा था जिसके हरे पन्ने की आंखें थीं।

यह तथ्य लेखक की जिज्ञासा को जागृत कर देता है । वह 34 वर्ष पूर्व के अतीत में चला जाता है और एक महिला को याद करता है जो इसी प्रकार की अंगूठी पहनती थी, उसकी तर्जनी अंगुली पर। वह भी उसी शराबघर पर आया करती थी जिस पर लेखक तथा उसके मित्र छात्र जाया करते थे।

यह शराबघर ऑस्ट्रिया की राजधानी वियना में स्थित था। इस प्रकार पाठकों में उस महिला के बारे में कौतूहल एवं जिज्ञासा पैदा हो जाती है। तब वह महिला केवल 30 वर्ष की युवती थी। वह एक परिवार में रहती थी जिसके लिए वह सपने देखा करती थी। धीरे-धीरे उसने उस परिवार का इतना विश्वास जीत लिया कि उसने उस परिवार की समस्त सम्पत्ति पर कब्जा कर लिया।

वियना में उसकी सारी सम्पत्तियों को बेचकर वह पुर्तगाल आ गई। उसे पुनः लेखक के द्वारा उसकी सर्पाकार अंगूठी से पहचान लिया गया जब वह बार्सेलोना (स्पेन) की एक होटल में पैब्लो नेरूडा नामक कवि के साथ दोपहर का भोजन कर रहा था। अन्त में, हवाना रिविअरा होटल पर हुए विनाश ने इस महिला को मृत व्यक्ति के रूप में सामने ला दिया जिसने सर्पाकार अंगूठी पहन रखी थी। इस प्रकार हम देखते हैं कि वही अंगूठी उस महिला के बारे में एक नई कहानी उजागर कर देती है जो उसके सपनों को बेचा करती थी।

Question 2.
The craft of a master story-teller lies in the ability to interweave imagination and reality. Do you think this story illustrates this?.
एक निपुण कहानीकार की योग्यता कल्पना एवं वास्तविकता को परस्पर गूंथने में होती है। क्या आप ऐसा सोचते हैं कि यह कहानी इस तथ्य का उदाहरण प्रस्तुत करती है ?
Answer:
Of course, this story is an example of imagination and reality being beautifully mixed. This quality of the story captures the attention of the readers and keeps them glued till the end. Frau Frieda’s dreams are a reflection of her imagination and what she predicts through her dreams sometimes proves real and sometimes doesn’t.

Her prediction about her brother comes true and her whole family starts believing in her dreams and the custom of telling dreams before breakfast takes root in the family. During war years, she lived with a family in Vienna and dreamed for it.

She won the trust of the family, so much so, that her predictions became the sole authority in the house. Her control over the family was absolute. However, the reality was that she was taking over, dream by dream, the entire fortune of her patrons. Having sold her properties in Austria, she retired to Portugal.

There she got employed as a housekeeper to the family of the Portuguese ambassador and has wife. The ambassador described her to be an extraordinary woman” who did nothing but dream. Even the writer had to leave Vienna right away when she dreamed about him and predicted something sinister going to befall him. Similary, Pablo Neruda and she dreamed about each other, which astonished the writer. Thus, we see that dreams or imagination and reality are beautifully mixed in the narrative.

बिल्कुल, यह कहानी कल्पना एवं यथार्थ के सुंदर मिश्रण का उदाहरण है। कहानी का यह गुण पाठकों के ध्यान को पकड़ लेता है और उन्हें कहानी के अंत तक बांधे रखता है। फ्रॉ फ्रीडा के स्वप्न उसकी कल्पना के ही प्रतिबिंब हैं। और स्वप्नों के माध्यम से वह जो भी भविष्यवाणी करती है, वह कभी वास्तविक सिद्ध हो जाती है और कभी नहीं। उसके भाई के बारे में उसकी भविष्यवाणी सच सिद्ध हो जाती है और उसका सारा परिवार उसके स्वप्नों में विश्वास करने लगता है और नाश्ते से पूर्व स्वप्नों को बताना उस परिवार में प्रथा बन जाती है । युद्ध के वर्षों के दौरान वह एक परिवार के साथ वियना में रही और उस परिवार के लिए स्वप्न देखने लगी। उसने उस

परिवार का विश्वास जीत लिया, इतना कि उसकी भविष्यवाणियां उस घर में एकमात्र निर्णायक बन गई। उसका उस परिवार पर पूर्ण नियंत्रण था। किन्तु सच्चाई यह थी कि स्वप्न-दर-स्वप्न वह उसके संरक्षकों की सम्पूर्ण संपत्ति पर अधिकार कर रही थी। ऑस्ट्रिया की सम्पूर्ण सम्पत्तियों को बेचकर वह पुर्तगाल आ गई । वहां उसने पुर्तगाली राजदूत तथा उसकी पत्नी के परिवार में व्यवस्थापक का काम संभाल लिया। राजदूत ने उसका वर्णन

“एक असाधारण महिला” के रूप में किया जिसने स्वप्न देखने के अतिरिक्त कुछ भी नहीं किया। लेखक को भी वियना इसलिए तुरंत छोड़ना पड़ा था क्योंकि उसने उसके बारे में स्वप्न देखा था तथा भविष्यवाणी की थी कि उसके साथ कोई अनिष्ट घटित होने वाला था। इसी प्रकार पैब्लो नेरूडा तथा फ्रॉ फ्रीडा ने एक-दूसरे के बारे में एक साथ स्वप्न देखे, इस बात ने लेखक को आश्चर्य में डाल दिया। इस प्रकार हम देखते हैं कि स्वप्न अथवा कल्पना तथा यथार्थ इस कथा में सुंदरता से सम्मिलित हुए हैं।

Question 3.
Bring out the contradiction in the last exchange between the author and the Portuguese ambassador :
‘In concrete terms,’ I asked at last, ‘what did she do?’ ‘Nothing,’ he said, with a certain disenchantment. ‘She dreamed.’
लेखक तथा पुर्तगाली राजदूत के बीच आखिरी बातचीत में निहित विरोधाभास को समझाइए :
‘ठोस रूप में,’ मैंने अंत में पूछा, ‘वह करती क्या थी?’ ‘कुछ नहीं,’ उसने कहा, एक निश्चित मोहभंग के साथ। वह स्वप्न देखती थी।’
Answer:
When the writer heard that the woman killed in the car-accident outside the Hawana Riviera Hotel had a ring on her forefinger shaped like a serpent with emerald eyes and was working for the new Portuguese ambassador as a housekeeper, his curiosity about the woman was roused. When the writer and the ambassador met at a diplomatic reception, the latter spoke about her with great admiration.

He said that she was a greatly extraordinary woman and that the writer would have been obliged to write a story about her. However, when the writer asked him as to what she actually did, he replied without interest that she did nothing, but only dreamed. The contradiction is clear. The woman whom the ambassador admired so much, did nothing, but dreamed! For him, her dreams carried no importance!

जब लेखक ने सुना कि हवाना रिविअरा होटल के बाहर कार दुर्घटना में मारी गई महिला एक अंगूठी पहने हुए थी, जो सर्प के आकर की थी जिसकी आंखें हरे पन्ने से बनी थीं और कि वह महिला नए पुर्तगाली राजदूत के यहां गृह-व्यवस्थापक के रूप में काम कर रही थी, उसकी रुचि उस महिला के बारे में जागृत हो गई। जब लेखक एवं राजदूत एक राजनयिक स्वागत कार्यक्रम में मिले तो राजदूत उस महिला के बारे में बड़ी प्रशंसा के साथ बोला।

उसने कहा कि वह एक अत्यधिक असाधारण महिला थी और कि लेखक उसके बारे में एक कहानी लिखने को बाध्य हो गया होता। लेकिन जब लेखक ने उससे पूछा कि वह महिला क्या करती थी तो उसने बड़ी अरुचि के साथ कहा कि वह कुछ नहीं करती थी, केवल स्वप्न देखती थी। यहां विरोधाभास स्पष्ट दिखाई देता है। जिस महिला की राजदूत ने इतनी प्रशंसा की वह कुछ नहीं करती थी, केवल स्वप्न देखती थी ! उसके लिए महिला के स्वप्नों का कोई महत्व नहीं था!

Question 4.
Comment on the ironical element in the story.
इस कहानी में व्यंग्यात्मक (विडम्बनात्मक) तत्व पर टिप्पणी कीजिए।
Answer:
The story, I Sell My Dreams’, has a lot ironic element in it. Frau Frieda dreams about her brother that he was carried off by a flood. Ironically, he dies after choking on a piece of sweet. Similary, the writer left Vienna for good, when Frau Frieda dreamed about him and predicted a great danger to his life. Ironically, he never experienced any catastrophe in his life. But he considered himself a survivor of one.

Again, the Viennese family with which she lived and dreamed for its safety, was ultimately cheated by the same woman who claimed to be its well wisher. Lastly, Frau Frieda, who dreamed for others and warned or advised people on the basis of her dreams, could not dream for herself and save her own life by not venturing out that morning. The writer is right when he syas that her dreams are only a stratagem for surviving. They are only a figment of her imagination used to exploit fearful, superstitious people.

इस कहानी में बहुत सारा विडम्बनात्मक तत्व है। फ्रॉ फ्रीडा उसके भाई के बारे में स्वप्न देखती है कि उसे पानी का तेज बहाव बहा ले गया। लेकिन विडम्बना है कि वह मिठाई के टुकड़े से दम घुट जाने के कारण मर जाता है। इसी प्रकार लेखक वियना शहर को छोड़कर हमेशा के लिए चला जाता है जब फ्रॉ फ्रीडा ने उसके बारे में स्वप्न देखा और उसके जीवन के लिए बड़े खतरे की भविष्यवाणी की। विडम्बना यह रही कि उसने जीवन में किसी भी विनाश का अनुभव नहीं किया।

लेकिन वह स्वयं को किसी विनाश से बच गया व्यक्ति मानता रहा। पुनश्च, जिस वियना के परिवार के साथ वह रहती थी और उस परिवार की सुरक्षा के लिए स्वप्न देखा करती थी, उसे उसी महिला द्वारा ठग लिया गया जो इस परिवार की हितैषी होने का दावा करती थी।

अंत में, फ्रॉ फ्रीडा, जो दूसरों के लिए स्वप्न देखती थी और लोगों को उसके स्वप्नों के आधार पर चेतावनी अथवा सलाह देती थी, वह स्वयं के लिए स्वप्न नहीं देख सकी और उस सुबह घर से बाहर नहीं निकलकर उसका स्वयं का जीवन नहीं बचा सकी। लेखक यह सही कहता है कि उसके स्वप्न केवल आजीविका अर्जित करने की चाल मात्र हैं। उसके स्वप्न केवल उसकी कल्पना की उपज मात्र हैं जिनका प्रयोग डरपोक, अंधविश्वासी लोगों का शोषण करने के लिए किया जाता है।

RBSE Class 12 English I Sell my Dreams Important Questions and Answers
Short Answer Type Questions :

Question 1.
Describe, in brief, the disaster that took place at the Havana Riviera Hotel. हवाना रिविअरा होटल पर हुए विनाश का संक्षेप में वर्णन कीजिए।
Answer:
The disaster that took place at the Havana Riviera Hotel was simply terrible. A huge wave from sea leapt over the two-way street between the seawall and the hotel and shattered its window. It picked up several cars and embedded one in the side of the hotel. Tourists in the lobby were thrown in to the air and some were cut by the hailstorm of glass.

हवाना रिविअरा होटल पर होने वाला विनाश भयानक ही था। समुद्र से आई एक लहर समुद्र की दीवार तथा होटल के बीच की दोहरी सड़क को पार कर होटल तक पहुंची और इसके प्रवेश-द्वार को चूर-चूर कर दिया। इसने कई कारों को उछाल दिया और एक कार को होटल के बगल की दीवार में घुसा दिया। होटल की लॉबी में बैठे पर्यटक हवा में उछाल दिए गए और कुछ कांच की ओलों जैसी बौछार से कट गए।

Question 2.
What intrigued the writer about the woman and why?
लेखक की उस महिला के बारे में रुचि को किस बात ने बढ़ा दिया और क्यों?
Answer:
The badly mutilated body of the woman that was extricated from the car had a gold ring on her finger. The ring she wore was shaped like a snake, with emerald eyes. The writer was intrigued by the snake ring and its emerald eyes. The reason was that he had known such a woman who wore a similar ring on her right forefinger.

महिला का क्षत-विक्षत शरीर जिसे कार से बाहर निकाला गया था, वह अपनी अंगुली में एक सोने की अंगूठी पहने हुए थी। जिस अंगूठी को वह पहने थी वह सर्प जैसे आकार की थी, जिसकी आंखें हरे रंग के पन्ने से बनी थीं। लेखक इस सर्पाकार अंगूठी के द्वारा जिज्ञासा से भर दिया गया। कारण था, वह एक ऐसी महिला को जानता था जो इसी प्रकार की अंगूठी पहना करती थी, अपने दाहिने हाथ की तर्जनी अंगुली पर।

Question 3.
What infomation does the writer give about the woman with a snake ring?
सांप जैसी अंगूठी पहनने वाली महिला के बारे में लेखक क्या जानकारी देता है ?
Answer:
The woman with a snake ring was an unforgettable person. The writer had met her thirty four years before in a Vienna tavern. She had a high-pitched singing voice. She spoke elementary Spanish fluently. She was born in Colombia and come to Austria, as a child, to study music and voice. She was charming and awe-inspiring.

सांप जैसी अंगूठी पहनने वाली महिला एक अविस्मरणीय व्यक्ति थी। लेखक चौंतीस वर्ष पूर्व उससे वियना (ऑस्ट्रिया) के एक शराबखाने में मिला था। वह उच्च स्वर में गाने की आवाज रखती थी। वह सादी स्पेनिश भाषा को धारा प्रवाह बोलती थी। वह कोलंबिया में जन्मी थी और बचपन में ही ऑस्ट्रिया में संगीत एवं गायन सीखने आ गई थी। वह आकर्षक थी एवं सम्मानमिश्रित भय पैदा करती थी।

Question 4.
What custom did Frau Frieda institute in her family and how?
फ्रॉ फ्रीडा ने उसके परिवार में कौनसी प्रथा स्थापित की और कैसे?
Answer:
She was the third of eleven children born to a prosperous shopkeeper. As soon as she learned to speak, she instituted the custom of telling dreams before breakfast in her family. She started to predict, warn and advise the members of her family through her dreams. Her mother, being superstitious, encouraged her in all this.

वह अपने समृद्ध दुकानदार पिता की ग्यारह संतानों में से तीसरी संतान थी। ज्योंही उसने बोलना सीखा, त्योंही उसने अपने परिवार में नाश्ते से पूर्व स्वप्नों को बताने की प्रथा स्थापित कर दी। उसने अपने स्वप्नों के माध्यम से परिवार के सदस्यों के लिए भविष्यवाणी करना, चेतावनी एवं सलाह देना प्रारंभ कर दिया। उसकी मां अंधविश्वासी होने के कारण इस सब में उसे प्रोत्साहित करने लगी।

Question 5.
How was Frau Frieda able to earn her living with her talent to dream?
फ्रॉ फ्रीडा उसकी स्वप्न देखने की प्रतिभा से आजीविका कमाने में किस प्रकार समर्थ हुई ?
Answer:
She did not think that she could earn a living with her talent. However, she was forced by circumstances to look for work. She succeeded in finding a family which hired her to dream for them. The family were religious and therefore, inclined to out-dated superstitions. Frau Frieda’s duty was to decipher the family’s daily fate through her dreams. She come to have absolute power over each member of the family.

वह नहीं सोचती थी कि वह अपनी प्रतिभा से आजीविका कमा सकती थी। किन्तु परिस्थितियों ने उसे काम ढूंढ़ने पर बाध्य कर दिया। वह एक ऐसे परिवार को खोजने में सफल रही जिसने उसे उनके लिए स्वप्न देखने के लिए नौकरी पर रख लिया। वह परिवार धार्मिक प्रवृत्ति का था और इस कारण दकियानूसी अंधविश्वासों की ओर झुका हुआ था। फ्रॉ फ्रीडा का काम था, उस परिवार के सदस्यों के रोजाना के भाग्य को उसके सपनों के माध्यम से पढ़ना। उसने परिवार के प्रत्येक सदस्य पर पूर्ण अधिकार जमा लिया।

Question 6.
Why did the writer leave Vienna in a hurry? What does this incident reflect on his character?
लेखक वियना से हड़बड़ाहट में क्यों चला गया? इस घटना से लेखक के चरित्र की क्या विशेषता प्रकट होती है?
Answer:
One night, Frau Frieda whispered in the writer’s ear with great conviction that she had dreamed about him the previous night and that he must leave right away and not come back to Vienna for five years. He did exactly that. He was so influenced by her conviction that from then on he considered himself a survivor of some great catastrophe. This shows that he too, was a superstitious person.

एक रात्रि को फ्रॉ फ्रीडा ने लेखक के कान में फुसफुसाकर बड़े आत्मविश्वास से कहा कि उसने लेखक के बारे में पिछली रात स्वप्न देखा था और कि उसे तुरंत चले जाना चाहिए और पांच वर्ष तक वियना में लौटकर वापस नहीं आना चाहिए। उसने वही किया। वह उसके अत्मविश्वास से इतना प्रभावित हुआ कि तब से ही वह स्वयं को किसी बड़े विनाश से बचा हुआ व्यक्ति मानने लगा। यह दर्शाता है कि वह भी एक अंधविश्वासी व्यक्ति था।

Question 7.
What information about Frau Frieda did the writer gather from the Portuguese ambassador?
फ्रॉ फ्रीडा के बारे में लेखक ने पुर्तगाली राजदूत से क्या सूचना प्राप्त की?
Answer:
After hearing that the woman who was killed in the Havana Riviera disaster had a snake ring on her, the witer could not stop himself from meeting the ambassador. They met at a diplomatic reception. The ambassador spoke about Frau Frieda with enormous admiration and said that she was greatly an extraordinary woman. But he said despairingly that she did nothig, but dreamed.

यह सुनने के बाद कि हवाना रिविअरा होटल की दुर्घटना में मारे जाने वाली महिला ने एक सर्पाकार अंगूठी पहन रखी थी, लेखक स्वयं को राजदूत से मिलने से नहीं रोक सका। वे एक राजनयिक स्वागत कार्यक्रम में मिले। राजदूत ने फ्रॉ फ्रीडा के बारे में अत्यधिक प्रशंसा के साथ बात की और कहा कि वह एक अत्यधिक असाधारण महिला थी। लेकिन उसने निराशा के साथ कहा कि वह स्वप्न देखने के अतिरिक्त कुछ नहीं करती थी।

Long Answer Type Questions :

Question 1.
Frau Frieda took advantage of the superstitious belief people have in prophetic nature of dreams. Comment.
फ्रॉ फ्रीडा ने सपनों की भविष्य बताने की क्षमता में लोगों के अंधविश्वास का लाभ उठाया। टिप्पणी करें।
Answer:
People, in general, are superstitious. They want to know in advance what future has in store for them. They are afraid of evil that may befall on them and are curious to know what good may come their way. Religion also encourages superstitions. Frau Frieda was able to institute the custom of telling dreams before breakfast in her family because of her mother’s superstitious nature.

She was able to exercise control over all the members of the Viennese family. Nothing was done without her permission. Ultimately, she was able to grab all the fortune of her ineffable patrons. She could also trap the Portuguese ambassador into appointing her their housekeeper. There too, she did nothing but dreamed. Dreams became her stratagem for surviving

सामान्यतः लोग अंधविश्वासी होते हैं । वे अग्रिम रूप से जान लेना चाहते हैं कि भविष्य में उनके लिए क्या है। वे उन बुरी चीजों से डरते हैं जो उनके साथ हो सकती हैं और उन अच्छी चीजों के बारे में जानने की जिज्ञासा रखते हैं जो उन्हें मिल सकती हैं । धर्म भी ऐसे अंधविश्वासों को प्रोत्साहित करता है। फ्रॉ फ्रीडा उसके परिवार में नाश्ते से पूर्व स्वप्न बताने की प्रथा को स्थापित इस कारण कर सकी क्योंकि उसकी मां अंधविश्वासी प्रकृति की

थी। वह वियना के परिवार के सभी सदस्यों पर नियंत्रण स्थापित कर सकी। उसके आदेश के बिना कुछ भी नहीं किया जा सकता था। अन्ततोगत्वा, वह अपने अत्यंत भले संरक्षकों की सम्पूर्ण सम्पत्ति पर अधिकार करने में सफल हो गई। उसने पुर्तगाली राजदूत को भी इसी तरह उनके घर की व्यवस्थापिका के रूप में उसे नियुक्त करने की चाल खेली। वहां भी वह स्वप्न देखने के अतिरिक्त कुछ नहीं करती थी। स्वप्न उसके लिए आजीविका कमाने की युक्ति बन गए।

Question 2.
Draw a character-sketch of Frau Frieda.
फ्रॉ फ्रीडा का चरित्र-चित्रण कीजिए।
Answer:
Frau Frieda was born in Colombia to a prosperous shopkeeper as a third of eleven children. She had the talent to dream for others and, through her dreams, she claimed to know about the future events that might befall them.

She was able to influence her superstitious mother into giving her control, over her siblings. In Vienna, where she had gone to learn music and voice of an early age, she was able to get into a family over which she had come to establish her total control.

She was sympathetic towards poor Latin American students and would often feed them at her own expense. She had a charming personality. Even the Portuguese ambassador called her “extraordinary” and was all praise for her. Even the writer considered her “unforgettable”.

फ्रॉ फ्रीडा का जन्म कोलंबिया में एक समृद्ध दुकानदार के घर में ग्यारह बच्चों में से तीसरे बच्चे के रूप में हुआ था। उसमें दूसरों के लिए स्वप्न देखने की प्रतिभा थी और सपनों के माध्यम से वह उन भावी घटनाओं को जानने का दावा करती थी जो उनके साथ घटित हो सकती थीं।

वह अपनी अंधविश्वासी मां को प्रभापित करने में सफल रही और उससे भाई-बहिनों पर नियंत्रण करने का अधिकार ले लिया। वियना में, जहां वह संगीत एवं गायन सीखने के लिए छोटी उम्र में ही चली गई थी, उसने एक परिवार में प्रवेश पा लिया। उस परिवार पर उसने पूर्ण नियंत्रण स्थापित कर लिया।

वह लैटिन अमेरिकी गरीब छात्रों के लिए सहानुभूति से परिपूर्ण थी। वह प्रायः उनको स्वयं के खर्च पर भोजन खिलाती थी। उसका व्यक्तित्व आकर्षक था। पुर्तगाली राजदूत ने भी उसे ‘असाधारण’ बताया था। उसने उसकी भरपूर प्रशंसा की थी। लेखक भी उसे ‘अविस्मरणीय’ मानता था।

Question 3.
Write a short note on Pablo Neruda.
पैब्लो नेरूडा पर एक लघु टिप्पणी लिखिए।
Answer:
Pablo Neruda was a Chilean poet, diplomat and politician who won Nobel Prize for Literature in 1971. He was going to Valparaiso and stopped in Barcelona for a day. The author joined him there. Neruda was both gluttonous and refined like a Renaissance pope.

He hunted for rare books at second-hand bookstores. He bought a very costly, old, dried volume. He had a child like curiosity in the inner workings of everthing he saw. His huger for knowledge was insatiable. He was also glutton who liked to enjoy a variety of strange dishes and had a bib around his neck while gobbling up food. Thus he was both a scholar and a glutton.

पैब्लो नेरूडा एक चिली के कवि, राजनयिक तथा राजनेता था जिन्हें 1971 में साहित्य का नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया था। वह वालपराइसो जा रहे थे और दिनभर के लिए बार्सेलोना (स्पेन) में रुके थे। लेखक उनसे वहीं मिला था। नेरुडा पेटू तथा परिष्कृत दोनों ही थे, एक पुनर्जागरणकालीन पोप की भांति ।

उन्होंने पुरानी पुस्तकों की दुकानों पर दुर्लभ पुस्तकों को खोजा। उन्होंने एक बहुत महंगा, पुराना, सूखा-सा ग्रंथ खरीदा। प्रत्येक चीज, जिसे वह देखते थे, की आन्तरिक क्रिया-प्रणाली को जानने में उन्हें जिज्ञासा रहती थी। ज्ञान की उनकी भूख को संतुष्ट करना मुश्किल था। वह पेटू भी थे जिन्हें अजीब प्रकार के विविध व्यंजनों का आनंद लेना अच्छा लगता था। वह गर्दन के चारों ओर एक कपड़ा बांध लेते थे ताकि भोजन भकोसने के दौरान कपड़े गंदे न हों। इस प्रकार वह एक विद्वान एवं पेटू व्यक्ति थे।

Seen Passages

Read the following passages carefully and answer the questions that follow :

Passage-1.

Vienna was still an old imperial city, whose geographical position between the two irreconcilable worlds left behind by the Second World War had turned it into a paradise of black marketeering and international espionage. I could not have imagined a more suitable spot for my fugitive compatriot, who still ate in the students’ tavern on the corner only out of loyalty to her origins, since she had more than enough money to buy meals for all her table companions.

Sher never told her real name, and we always knew her by the Germanic tongue twister that we Latin American students in Vienna invented for her: Frau Frieda. I had just been introduced to her when I committed the happy impertinence of asking how she had come to be in a world so distant and different from the windy cliffs of Quindio, and she answered with a devastating: I sell my dreams.’

Questions :

  1. How did Frau Frieda show her loyalty to her origins?
    फ्रॉ फ्रीडा अपने मूल के प्रति वफादारी किस प्रकार प्रदर्शित करती थी?
  2. Who gave Frau Frieda her name and why?
    फ्रॉ फ्रीडा को उसका नाम किसने दिया और क्यों?
  3. What impertinence did the writer commit and what answer did he get?
    लेखक ने कौनसी धृष्टता कर दी थी और उसे क्या उत्तर मिला?
    Answers :
  4. Frau Frieda showed her loyalty to her origins by eating her meals at the same tavern where the Latin American students did. She was also a Latin American by origin.
    फ्रॉ फ्रीडा अपने मूल के प्रति वफादारी का प्रदर्शन उस शराबघर में भोजन ग्रहण करके करती थी जहां लैटिन अमेरिकी छात्र भोजन किया करते थे। वह भी लैटिन अमेरिकी मूल की थी।
  5. The writer and his Latin American companions in Vienna gave her name, Frau Frieda.
    She had never told her real name.
    लेखक तथा उसके लैटिन अमेरिकी साथियों ने वियना में उसे उसका नाम, फ्रॉ फ्रीडा, दिया था। उसने अपना असली नाम कभी नहीं बताया था।
  6. The writer committed the rudeness of asking her how she had come to such a distant and different place. He had just been introduced to her. She answered that she sold her dreams.

लेखक ने उससे यह पूछने की धृष्टता कर दी थी कि वह किस प्रकार उस दूरस्थ एवं भिन्न प्रकार के स्थान पर आ गई थी। उसका परिचय थोड़े समय पूर्व ही करवाया गया था। उसने उत्तर दिया कि वह उसके स्वप्न बेचती थी।

Passage-2.

Frau Frieda did not think she could earn a living with her talent until life caught her by the throat during the cruel Viennese winters. Then she looked for work at the first house where she would have liked to live, and when she was asked what she could do, she told only the truth: ‘I dream.’

A brief explanation to the lady of the house was all she needed, and she was hired at a salary that just covered her minor expenses, but she had a nice room and three meals a day-breakfast in particular, when the family sat down to learn the immediate future, of each of its members:

the father, a refined financier; the mother, a joyful woman passionate about Romantic chamber music; and two children, eleven and nine years old. They were all religious and therefore inclined to archaic superstitions, and they were delighted to take in Frau Frieda, whose only obligation was to decipher the family’s daily fate through her dreams.

Questions :

  1. How did Frau Frieda get work?
    फ्रॉ फ्रीडा को काम किस प्रकार मिला?
  2. Why was breakfast important among the three meals she had?
    फ्रॉ फ्रीडा को मिलने वाले तीन वक्त के भोजन में नाश्ता क्यों महत्वपूर्ण था?
  3. What work was Frau Frieda obliged to do for the employer’s family?
    मालिक के परिवार के लिए फ्रॉ फ्रीडा को क्या काम करना पड़ता था?
    Answers :
  4. She went to a house where she wished to live. By speaking the truth that she dreamed,she got herself hired at a small salary
    वह एक मकान पर गई जहां वह रहना चाहती थी। यह सच बोलकर कि वह स्वप्न देखती थी, उसने छोटे-से वेतन पर नौकरी प्राप्त कर ली।
  5. She got three meals a day. Among them breakfast was the most inportant meal because it was the time the family sat down to learn their immediate future from Frau Frieda.
    उसे प्रतिदिन तीन वक्त भोजन मिलता था। इनमें नाश्ता सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण था क्योंकि यही वह समय था जब परिवार फ्रॉ फ्रीडा से उनका तात्कालिक भविष्य जानने हेतु बैठता था।
  6. Frau Frieda’s only obligation was to predict the family’s daily fate through her dreams.
    फ्रॉ फ्रीडा का एकमात्र उत्तरदायित्व था, उस परिवार के प्रत्येक सदस्य के रोजाना के भाग्य के बारे में उसके (फ्रॉ फ्रीडा के) स्वप्नों के आधार पर भविष्यवाणी करना।

Passage-3.

I stayed in Vienna for more than a month, sharing the straitened circumstances of the other students while I waited for money that never arrived. Frau Frieda’s unexpected and generous visits to the tavern were like fiestas in our poverty-stricken regime. One night, in a beery euphoria, she whispered in my ear with a conviction that permitted no delay.

“I only came to tell you that I dreamed about you last night,’ she said. “You must leave right away and not come back to Vienna for five years.’ Her conviction was so real that I boarded the last train to Rome that same night. As for me, I was so influenced by what she said that from then on I considered myself a survivor of some catastrophe I never experienced. I still have not returned to Vienna.

Questions :

  1. How did the writer and the other students take Frau Frieda’s visits to the taverm?
    लेखक तथा अन्य छात्र शराबखाने में फ्रॉ फ्रीडा के आगमनों के बारे में कैसा महसूस करते थे?
  2. What made the writer leave Vienna in a hurry?
    लेखक को जल्दबाजी के साथ वियना छोड़कर जाने के लिए किस चीज ने बाध्य किया?
  3. What permanent impression about himself did the writer have after leaving Vienna forever?
    लेखक ने सदैव के लिए वियना छोड़कर जाने में स्वयं के बारे में क्या स्थायी प्रभाव अनुभव किया?
    Answers :
  4. The writer and the other students were poor and had to face financial problems. They, therefore, took Frau Frieda’s visits to the tavern as festive occasions. She used to feed them generously at her own cost.

लेखक तथा अन्य छात्र गरीब थे तथा उन्हें वित्तीय समस्याओं का सामना करना पड़ता था। इसलिए वे फ्रॉ फ्रीडा के शराबखाने पर आगमन को उत्सव के अवसरों के रूप में लेते थे। वह स्वयं के खर्चे पर उन्हें उदारतापूर्वक खिलाती-पिलाती थी।

  1. It was Frau Frieda’s great conviction with which she interpreted her dream for the writer that made him leave Vienna in a hurry.

जिस दृढ़ विश्वास के साथ फ्रॉ फ्रीडा ने लेखक के लिए देखे जाने वाले स्वप्न की व्याख्या की, लेखक वियना छोड़कर तुरन्त चले जाने के लिए बाध्य हो गया।

  1. After leaving Vienna as a result of Frau Frieda’s dream about him, the writer from then on considered himself a survivor of some calamity that never befall him.

फ्रॉ फ्रीडा के द्वारा उसके बारे में देखे गए स्वप्न के परिणामस्वरूप वियना शहर को छोड़ देने के बाद लेखक तब से ही स्वयं को किसी विपदा से जीवित बचे व्यक्ति के रूप में मानने लगा, ऐसी विपदा जो कभी नहीं आई।

Passage – 4.

I never saw her again or even wondered about her until I heard about the snake ring on the woman who died in the Havana Riviera disaster. And I could not resist the temptation of questioning the Portuguese ambassador when we happened to meet some months later at a diplomatic reception. The ambassador spoke about her with great enthusiasm and enormous admiration. “You cannot imagine how extraordinary she was,” he said.

“You would have been obliged to write a story about her.’ And he went on in the same tone, with surprising details, but without the clue that would have allowed me to come to a final conclusion. ‘In concrete terms,” I asked at last, ‘what did she do?’ ‘Nothing,’ he said, with a certain disenchantment. ‘She dreamed.’

Questions:

  1. Why was the writer tempted to question the Portuguese ambassador?
    लेखक पुर्तगाली राजदूत से पूछताछ करने के लिए क्यों ललचाया?
  2. What was the ambassador’s opinion of Frau Frieda?
    फ्रॉ फ्रीडा के बारे में राजदूत का क्या मत था?
  3. What contradiction do you find in the last exchange between the writer and the ambassador?
    लेखक तथा राजदूत के बीच आखिरी बातचीत में आप क्या विरोधाभास पाते हैं ?
    Answers:
  4. The writer was tempted to question the ambassador to know more about the woman who was killed in the Havana Riviera Hotel disaster. He wanted to confirm whether she was Frau Frieda or somebody else.

लेखक राजदूत से पूछताछ करने के लिए इसलिए लालायित हुआ क्योंकि वह उस महिला के बारे में और अधिक जानना चाहता था जो हवाना रिविअरा होटल वाली दुर्घटना में मारी गई थी। वह इस बात की पुष्टि करना चाहता था कि वह फ्रॉ फ्रीडा ही थी अथवा कोई अन्य।

  1. According to the portuguese ambassador, Frau Frieda was a highly praiseworthy woman. Even the writer would have been forced to write a story about her, he said.

पुर्तगाली राजदूत के अनुसार फ्रॉ फ्रीडा एक अत्यधिक प्रशंसनीय महिला थी। उसने कहा कि लेखक भी उसके बारे में एक कहानी लिखने के लिए बाध्य हो सकता था।

  1. The writer asked the ambassador, finally, what she actually did. The latter replied, without interest, that she did nothing, but only dreamed. This reply about “an extraordinary woman” was contradictory.

लेखक ने अंत में राजदूत से पूछा कि वह महिला वास्तव में काम क्या करती थी। राजदूत ने अरुचिपूर्वक कहा कि वह सपने देखने के अलावा कुछ नहीं करती थी। यह उत्तर विरोधाभासपूर्ण था, एक असाधारण महिला के बारे में।

I Sell my Dreams Summary and Translation in Hindi
About the Author-

Gabriel Garcia Marquez was brought up by his grandparents in Northern Columbia because his parents were poor and struggling. A novelist, short-story writer and journalist, he is widely considered the greatest living Latin American master of narrative. Marquez won the Nobel Prize in Literature in 1982.

RBSE Class 12 English Kaleidoscope Short Stories Chapter 1 I Sell my Dreams 1
His two Masterpieces are One Hundred Years in Solitude (1967, tr. 1970) and Love in The Time of Cholera (1985, tr. 1988). His themes are violence, solitude and the overwhelming human need for love. This story reflects, Gabriel Garcia like most of his works, a high point in Latin American magical real- Marquez ism; it is rich and lucid, mixing reality with fantasy.

लेखक के बारे में-

गेब्रिअल गार्सिया मावेज़ को उत्तरी कोलंबिया में उनके दादा-दादी ने पालापोषा क्योंकि उनके माता-पिता गरीब तथा संघर्षशील थे। एक उपन्यासकार, लघुकथा लेखक तथा पत्रकार होने के साथ ही उन्हें दर-दूर तक महानतम जीवित लैटिन अमेरिकी श्रेष्ठ कथाकर के रूप में माना जाता है। मावेज़ ने 1982 का साहित्य में नोबेल पुरस्कार जीता था। उनकी दो श्रेष्ठ कृतियां हैं-One Hundred Years in Solitude (1967) तथा Love in The Time of Cholera (1985)।

उनके विषय हैं, हिंसा, एकान्त और प्रेम की अत्यधिक तीव्र मानवीय आवश्यकता। प्रस्तुत कहानी उनकी अधिकतर कृतियों की तरह लैटिन अमेरिकी जादुई यथार्थवाद को प्रतिबिंबित करती है। यह कहानी समृद्ध एवं सरल है तथा इसमें यथार्थ तथा काल्पनिकता का सम्मिश्रण हुआ है।

About the Story :

The story “I Sell My Dreams” by Gabriel Garcia Marquez is about a woman who said that she sold her prophetic dreams. The story begins with the author having his breakfast on the terrace of the Havana Riviera Hotel. A huge wave picked up several cars that were driving down the avenue along the sea wall or parked on the pavement. One of the cars was embedded in the side of the hotel. The wave caused great devastation.

When the car was lifted out of its setting, the body of a woman was found inside it. She had all her bones broken, her face was destroyed and her clothes were shredded. She had a gold ring on her finger shaped like a serpent, with emerald eyes. Her serpent-like ring sent the author back to the past. He had met the woman thirtyfour years earlier in Vienna in a tavern. She spoke an elementary Spanish fluently.

She had come from Colombia, the country of her birth, to Austria to study music and voice. She was only a child then. The author met her when she was about thirty. The Latin American students who visited the tavern gave her the name, Frau Frieda. She had more than enough money to buy meals for her companion students. The author asked her how she had come to so distant a place.

She answered “I sell my dreams”. As a seven-year-old girl, she started the custom in her family of telling dreams before breakfast. One day, she dreamed that one of her brothers has carried off by a flood. However, her interpretation was that he shouldn’t eat sweets. Unfortunately, that boy, one day, choked on a piece of caramel and died.

Later on, in Vienna, she found work with a family. She dreamed for the family. Gradually, she gained the confidence of the family, so much so, that her predictions became an authority in the house. In due course, she came to grab the whole estate of the family. She sold away her property and got the job of a housekeeper for the new Portuguese ambassador and his wife. The story ends with a meeting of the author with the ambassador at a diplomatic reception.

कहानी के बारे में – “I Sell My Dreams” नामक कहानी जिसे गेब्रिअल गार्सिया मारक्वेज द्वारा रचा गया है, एक महिला के बारे में है जो यह कहती थी कि वह अपने भविष्य सूचक सपने बेचा करती थी। कहानी तब शरू होती है जब लेखक हवाना रिविअरा होटल के चबूतरे पर नाश्ता कर रहा था। एक विशाल लहर ने कई कारों को उछाल दिया जो समुद्री दीवार के साथ चलती हुई सड़क पर से गुजर रही थीं अथवा फुटपाथ पर खड़ी थीं। एक कार तो होटल की बगल में घुस गई थी।

इस लहर ने बड़ा विनाश पैदा कर दिया था। जब कार को उसके स्थान से उठाया गया तो उसके भीतर एक महिला का शव पाया गया। उस महिला की सारी हड्डियाँ टूट चुकी थीं, चेहरा नष्ट हो गया था और उसके कपड़े फटकर चिथड़ों में बदल गए थे। उसकी अंगुली पर एक सोने की अंगूठी थी जो सर्प जैसी दिखाई देती थी, जिसकी आँखें पन्ने जैसी हरी थीं। उसकी सर्प जैसी अंगूठी ने लेखक को अतीत में पहुँचा दिया। वह उस महिला से चौंतीस वर्ष पूर्व वियना के एक शराबखाने में मिला था।

वह धाराप्रवाह स्पेनिश भाषा बोलती थी। वह कोलम्बिया से, जो उसके जन्म स्थान का देश था, आस्ट्रिया आ गई थी, संगीत तथा गीत सीखने के लिए। तब वह एक बच्ची ही थी। जब लेखक उससे मिला था तब वह करीब 30 वर्ष की थी। लैटिन अमेरिकी छात्र जो उस मदिरालय में आते थे, ने उस महिला को फ्रॉ फ्रीडा नाम दिया था।

उसके पास काफी धन था जिससे वह साथी छात्रों के लिए भोजन खरीद सकती थी। लेखक ने उससे पूछा था कि वह इतने दूरस्थ स्थान पर कैसे आ पहुँची थी। उसने उत्तर दिया था, “मैं अपने स्वप्न बेचती हूँ।” सात वर्ष की आयु की बालिका के रूप में उसने अपने परिवार में नाश्ते से पूर्व सपने बताने की प्रथा को शुरू कर दिया था।

एक दिन उसने स्वप्न देखा कि उसके भाइयों में से एक भाई को पानी का तेज बहाव बहा ले गया था। किन्तु उसकी व्याख्या यह थी कि उस बच्चे को मिठाइयां नहीं खानी चाहिए। दुर्भाग्य से, एक दिन वह लड़का गले में चिपचिपी मिठाई उलझ जाने के कारण मर गया। बाद में, वियना में, उस महिला को एक परिवार में काम मिल गया।

वह उस परिवार के लिए स्वप्न देखा करती थी। धीरे-धीरे उसने परिवार का विश्वास प्राप्त कर लिया, इतना विश्वास कि उसकी भविष्यवाणियाँ उस घर में प्रशासक बन गई। समय के साथ-साथ उस महिला ने उस परिवार की समस्त जायदाद पर अधिकार कर लिया। उसने उस जायदाद को बेच दिया तथा नये पुर्तगाली राजदूत तथा उसकी पत्नी के घर की व्यवस्थापक बन गई। यह कहानी लेखक तथा उस राजदूत के साथ एक कूटनीतिक स्वागत-कार्यक्रम में भेंट होने के साथ समाप्त हो जाती है।

कठिन शब्दार्थ एवं हिन्दी अनुवाद

One morning at nine o’clock. ………which finger she wore it. (Pages 2-3)

कठिन शब्दार्थ-Terrace (टेरस्) = a flat area of stone next to a restaurant, रेस्तराँ के बगल में फर्शदार जगह, चबूतरा। avenue (ऐवन्यू) = a wide street, चौड़ी सड़क। embedded (इमबेड्ड्) = fixed firmly and deeply, गहराई से बैठी अथवा जड़ी हुई। explosion (इक्स्प्लोशन्) = extremely violent bursting, विस्फोट, धमाका । dynamite (डाइनमाइट) = a powerful explosive substance, एक शक्तिशाली विस्फोटक पदार्थ ।

lobby (लॉबि) = waiting area, प्रतीक्षा-कक्ष। hailstorm (हेल्स्टॉर्म) = ओलों की बौछार। volunteers (वॉलन्टिअज़) = persons offering their services without any payment, स्वयंसेवक। debris (डेब्री) = pieces from something that has been destroyed, मलबा। encrusted (इन्क्रस्टिड्) = fixed, बैठी अथवा जड़ी हुई। shreds (श्रेड्ज्) = thin pieces, तार-तार हो चुकी । emerald (एमरल्ड्) = a bright green precious stone, हरे रंग का पन्ना। intrigued (इन्ट्रीग्ड) = made very interested, रुचि जागृत कर दी।

हिन्दी अनुवाद-

एक सुबह, नौ बजे, जब हम हवाना रिविअरा होटल के चबूतरे पर चमकीली धूप में बैठे नाश्ता कर रहे थे, एक विशालकाय लहर ने कई कारों को उछाल दिया। ये कारें या तो उस सड़क से गुजर रही थीं जो समुद्र के किनारे बनी दीवार के साथ जाती थी, अथवा फुटपाथ पर खड़ी थीं। इन कारों में से एक होटल की बगल में मजबूती से बैठ गई थी। यह किसी विस्फोटक में हुए विस्फोट के समान था जिसने इमारत के सभी बीस तलों पर हड़कम्प पैदा कर दिया था तथा

प्रवेश-द्वार के बहुत बड़े काँच के दरवाजे एवं खिड़की को चूर-चूर कर दिया था। प्रतीक्षा-कक्ष में बैठे बहुत सारे पर्यटक हवा में फर्नीचर सहित उछाल दिए गए थे तो कुछ कांच के टुकड़ों की बौछार से कट गए थे। वह लहर अवश्य जबरदस्त रही होगी, क्योंकि वह चौड़ी दो-तरफा सड़क, जो समुद्रीदीवार तथा होटल के बीच थी, के ऊपर से उछलकर आई थी और उसमें फिर भी इतनी पर्याप्त ताकत थी कि उसने होटल के प्रवेश-द्वार को चूर-चूर कर दिया था।

क्यूबा के प्रसन्नचित्त स्वयंसेवकों ने, अग्निशमन विभाग की मदद से, छ: घंटे से भी कम अवधि में मलबे को उठा लिया तथा समुद्र की ओर के दरवाजे को बन्द कर दिया तथा दूसरा दरवाजा स्थापित कर दिया और सब कुछ सामान्य हो गया। सुबह के दौरान किसी ने भी उस कार की चिंता नहीं की जो होटल की दीवार में घुसकर बैठ गई थी, क्योंकि लोगों ने मान लिया था कि वह उनमें से एक होगी जो फुटपाथ पर खड़ी कर दी गई थीं।

लेकिन जब इसे क्रेन ने इसके स्थान से उठाया तो इसमें एक महिला का शव पाया गया जो सीट-बेल्ट से सुरक्षित हो स्टीयरिंग व्हील के पीछे बैठी थी। धक्का इतना भयानक एवं निर्दयी था कि उसकी एक भी हड्डी बिन टूटे नहीं बची थी। उसका चेहरा नष्ट हो गया था, उसके जूते फटकर चौड़े हो गए थे और उसके कपड़े तार-तार हो गए थे। उसने एक सोने की अंगूठी पहन रखी थी जो सर्प जैसे आकार की थी और उस सर्प की आंखें चमकीले हरे पन्ने से बनी थीं।

पुलिस ने सिद्ध किया कि वह नए पुर्तगाली राजदूत तथा उसके पत्नी के लिए घर की व्यवस्था संभालने वाली, अथवा व्यवस्थापिका थी। वह उनके साथ दो सप्ताह पूर्व ही हवाना आई थी और उस सुबह बाजार के लिए निकली थी, एक नई कार चलाते हुए। उसके नाम का मेरे लिए कोई अर्थ नहीं था, जब मैंने इसे अखबार में पढ़ा था, लेकिन सर्पाकार अंगूठी तथा इसकी हरे रंग की चमकीली आंखों में मेरी रुचि जागृत हो गई। किन्तु मैं इस कुचक्र से यह मालूम नहीं कर पाया कि उसने इस अंगूठी को कौनसी अंगुली में पहन रखा था।

This was a crucial………………sell my dreams’. (Pages 3-4)

कठिन शब्दार्थ-Crucial (क्रूश्ल) = very important, अति महत्त्वपूर्ण । sausage (सॉसिज्) = spiced meat, मसालेदार मांस। tavern (टैवन्) = a pub, मदिरालय। soprano’s bosom (सप्रानोज बुज़म्) = the highest singing voice, a woman with this voice, गाने का उच्चतम स्वर, ऐसे स्वर वाली महिला। languid (लैग्विड्) = inert, slow-moving, निष्क्रिय, आलसी। foxtails (फॉक्सटेल्ज्) = locks of hair, बालों की लटें। elementary (एलिमेन्ट्रि) = simple, सरल। metallic (मटैलिक) = sounding like struck metal, धातु की तरह गूंजती हुई।

awe-inspiring (ऑ-इन्स्पाइअरिङ्) = inspiring fear and respect, भय एवं श्रद्धा पैदा करने वाला। Imperial (इम्पिअरिअल्) = connected with an empire, राजसी, साम्राज्यिक। irreconcilable (इरेकन्साइलब्ल्) = which cannot be made to agree, परस्पर विरोधी, अनमेल। paradise (पैरडाइस्) = heaven, स्वर्ग। black marketeering (ब्लैक माकिटिअरिङ्) = काला-बाजारी। espionage

(एस्पिअनाश्) = act of finding secret information जासूसी। fugitive (फ्यूजटिव्) = a person running away, भगोड़ा। compatriot (कम्पैट्रिअट्) = हमवतन, स्वदेशवासी।tongue-twister (टट्विस्ट(र)) =difficult to say, उच्चारण में कठिन। committed (कमिटिड्) = did, कर दी। impertinence (इम्पटिनन्स) = rudeness, धृष्टता, गुस्ताखी। windy cliffs (विन्डि क्लिफ्ज) = हवादार पहाड़ियां। devastating (डेवस्टेटिङ्) = shocking, स्तब्धकारी।

हिन्दी अनुवाद-यह एक महत्त्वपूर्ण जानकारी थी क्योंकि मुझे भय था कि वह एक न भुलाए जा सकने वाली महिला थी जिसका वास्तविक नाम मैंने कभी नहीं जाना था, और जो समान प्रकार की अंगूठी उसके दाहिने हाथ की तर्जनी अंगुली पर पहना करती थी। ऐसा करना उन दिनों और भी असाधारण था, आज की तुलना में । मैं उससे 34 वर्ष पूर्व वियना में मिला था। वह उबले हुए आलुओं के साथ मसालेदार गोश्त खा रही थी और बीयर पी रही थी, एक मदिरालय में, जहां लैटिन अमेरिकी छात्र आया करते थे।

मैं उस सुबह रोम से आया था और मुझे अभी भी उसकी शानदार ऊँची आवाज में गाने की क्षमता, उसके कोट की कॉलर पर पड़ी सुस्त बालों की लटें तथा वह सांप जैसी शक्ल की इजिप्सियन अंगूठी, के प्रति मेरी प्रतिक्रिया याद है। वह सरल स्पेनिश भाषा धातु की ध्वनि के समान गूंजते हुए उच्चारण के साथ सांस लेने के लिए रुके बिना बोला करती थी। मैंने सोचा था कि वह लकड़ी के टेबल के पास बैठी एकमात्र ऑस्ट्रिया की निवासी थी। लेकिन नहीं, वह कोलंबिया में जन्मी थी और महायुद्धों के बीच के समय ऑस्ट्रिया आई थी।

तब वह एक बच्ची से अधिक नहीं थी और संगीत एवं गायन सीखने आई थी। अब वह करीब 30 वर्ष की थी, लेकिन वह अपनी आयु से अधिक दिखाई देती थी, क्योंकि वह सुंदर नहीं रही थी और समय से पूर्व वृद्ध होने लगी थी। लेकिन वह एक आकर्षक मनुष्य थी। और सर्वाधिक भय-मिश्रित सम्मान पैदा करती थी।

वियना अभी भी एक प्राचीन शाही शहर था। इसकी भौगोलिक स्थिति उन दो दुनियाओं के बीच थी जिनके बीच कोई समझौता नहीं हो सकता था। ये दुनियाएँ द्वितीय विश्व युद्ध की देन थीं। ऐसी भौगोलिक स्थिति ने वियना को कालाबाजारी एवं अन्तर्राष्ट्रीय जासूसी का स्वर्ग बना दिया था। मेरे इस भगोड़े हमवतन साथी के लिए किसी अधिक उपयुक्त स्थान की कल्पना मैं नहीं कर सकता था। वह महिला पर्याप्त से भी अधिक धन रखती थी जिससे वह टेबल पर बैठे सभी साथियों के लिए भोजन खरीद सकती थी, किन्तु वह, फिर भी, कोने पर स्थित छात्रों के मदिरालय में ही भोजन करती थी क्योंकि वह उसके मूल-निवास के देशों के प्रति निष्ठा का भाव रखती थी।

उसने अपना असली नाम कभी नहीं बताया और हम उसे हमेशा जर्मन भाषा के कठिन शब्द से जानते थे जिसे हम लैटिन अमेरिकी छात्रों ने उसके लिए रचा था : वह शब्द था, फ्रॉ फ्रीडा। मेरा उससे थोड़ी देर पहले ही परिचय कराया गया था। तभी मैंने एक सुखद धृष्टता कर दी। मैंने पूछ लिया कि वह ऐसी दूरस्थ दुनियां में कैसे आ गयी थी जो उसके हवादार पहाड़ियों वाले मूल देश, क्विन्डिओ, से इतनी दूर एवं भिन्न थी। और उसने एक स्तब्धकारी उत्तर में कहा था, ‘मैं अपने स्वप्न बेचती हूं।’

In reality, that was her. ……………..fate through her dreams. (Pages 4-5)

कठिन शब्दार्थ-Trade (ट्रेड्) = occupation, व्यवसाय। instituted (इन्स्टिट्यूट्ड) = introduced, प्रारंभ किया। oracular (आरैक्यलर) = having a hidden meaning, रहस्यमय, गूढार्थक। preserved (प्रिजव्ड) = safe or in good condition, सुरक्षित या अच्छी हालत में। sheer (शिअ(र)) = only, mere, केवल, सिर्फ। ravine (रवीन्) = a narrow, deep valley, संकरी गहरी घाटी। prophecy (प्रॉफसि) = a statment about the future, भविष्यवाणी।

infamy (इन्फमि) = an evil act, घृणित कार्य । caramel (कैरमेल्) = sticky sweet, चिपचिपी मिठाई। refined (रिफाइन्ड्) = polite, having very good manners, शिष्ट, सुसंस्कृत।financier (फाइनैन्स्अिर) = person engaged in large-scale finance, बड़ी वित्तीय व्यवस्थाएं करने वाला व्यक्ति। archaic (आकेइक्) = very old-fashioned, दकियानूसी, अप्रचलित। superstitions (सूपरिस्टिश्न्ज् ) = irrational beliefs, अंधविश्वास । decipher (डिसाइफ(र)) = कूट (गूढ़) लेखन को पढ़ लेना। fate (फेट) = future happenings, भविष्य की घटनाएं, नियति।

हिन्दी अनुवाद-वास्तव में, उसका व्यवसाय वही था। वह ग्यारह बच्चों में तीसरी संतान थी जो पुराने काल्डास में एक समृद्ध दुकानदार के यहां जन्मे थे। और ज्योंही उसने बोलना सीखा था, त्योंही उसने उसके परिवार में एक बढ़िया प्रथा की शुरुआत कर दी थी। यह प्रथा यह थी कि नाश्ते से पूर्व सपने कहे जाएं, उस समय जब इन सपनों की रहस्यमयता सुरक्षित रहती है, शुद्ध रूप में।

जब वह सात वर्ष की थी तो उसने स्वप्न देखा था कि उसके भाइयों में से एक भाई को तेज बहाव वाला पानी बहा ले गया था। उसकी माँ ने केवल धार्मिक अंधविश्वास के कारण लड़के को संकरी घाटी में तैरने से मना कर दिया, जो उसका प्रिय शौक था। लेकिन फ्रॉ फ्रीडा का अपना ही तरीका था भविष्यवाणी करने का।

‘उस स्वप्न का जो अर्थ है,’ वह बोली, ‘वह यह नहीं है कि वह डूब जाएगा, बल्कि यह है कि उसे मिठाइयां नहीं खानी चाहिए।’ उसकी यह व्याख्या उस पांच वर्ष के बच्चे को एक घृणित कार्य प्रतीत हुआ जो रविवार के दिन बनने वाले पकवानों से दूर नहीं रह सकता था। उनकी माँ, जो उसकी पुत्री की भविष्यवाणी करने की प्रतिभा के प्रति आश्वस्त थी, ने इस चेतावनी को कठोरता के साथ लागू कर दिया। लेकिन माँ की प्रथम लापरवाही के क्षण में लड़के का दम एक प्रकार चिपचिपी मिठाई को खाते समय घुट गया। वह इस मिठाई को चोरी-चोरी खा रहा था, और उसके प्राण बचाने का कोई उपाय नहीं था।

फ्रॉ फ्रीडा नहीं सोचती थी कि वह उसकी प्रतिभा से आजीविका कमा सकती थी, जब तक कि जिंदगी ने उसे अत्यन्त कष्टदायक वियना की सर्दियों के दौरान बाध्य नहीं कर दिया। फिर उसने काम की तलाश शुरू कर दी, उस प्रथम मकान पर जहां वह रहना पसंद कर सकती थी, और जब उससे पूछा गया कि वह कौनसा काम कर सकती थी, तो उसने केवल सत्य कहा : ‘मैं स्वप्न देखती हूँ।’ उस घर की मालकिन को एक संक्षिप्त स्पष्टीकरण की आवश्यकता ही थी, और उसे वेतन पर रख लिया गया, इतने वेतन पर ही जिससे उसके छोटे खर्चे पूरे हो जाते।

लेकिन उसे एक अच्छा कमरा दिया गया और दिन में तीन बार भोजन-विशेष रूप से नाश्ता, जब परिवार के सदस्य प्रत्येक सदस्य का निकट भविष्य जानने के लिए बैठ जाया करते। परिवार के पिता एक शिष्ट वित्त व्यवस्थापक थे; माँ, एक प्रसन्नचित महिला थी जिसे रोमांचक संगीत का बड़ा शौक था; और दो बच्चे थे, ग्यारह तथा नौ वर्ष की उम्र के। वे सब धार्मिक स्वभाव के थे, और इसलिए उनका झुकाव दकियानूसी.अंधविश्वासों की ओर था। और उन्हें फ्रॉ फ्रीडा को रखने में प्रसन्नता महसूस हुई, जिसकी एकमात्र जिम्मेदारी थी, उस परिवार के रोजाना के भाग्य को उसके सपनों के माध्यम से पढ़ना।

She did her job well………………….returned to Vienna. (Page-5)

कठिन शब्दार्थ-Sinister (सिनिस्ट(र)) = seeming evil or dangerous, बुरा लगने वाला, अनर्थकारी । nightmares (नाइट्मेअ(र)स्) = frightening or unpleasant dreams, डरावने अथवा बुरे सपने। predictions (प्रिडिक्श्न्ज् ) = saying what will happpen, भविष्यकथन, पूर्वानुमान । authority (ऑथॉरटि) = controller, नियंत्रक, निर्णायक। absolute (ऐब्सलूट्) = complete, total, पूर्ण, समूचा। elegance

(एलिगेन्स्) = dignified grace, शालीनतापूर्ण दयालुता ।straitened (स्ट्रेटन्ड्) = verly difficult, संकटपर्ण। fiestas (फिअस्टाज) = festivals, holidays, उत्सव, मौज-मस्ती।regime (रेशीम्) = condition, परिस्थिति | euphoria (यूफॉरिआ) = an extremely strong feeling of happiness, प्रसन्नता की अधिकता। conviction (कन्विक्श्न् ) = firm belief or opinion, दृढ़ विश्वास अथवा मत।।

हिन्दी अनुवाद-उसने उसके कार्य को अच्छी तरह किया और काफी समय तक किया, विशेषतः युद्ध के वर्षों के दौरान, जब वास्तविकता बुरे सपनों से भी अधिक अनर्थकारी दिखाई देती थी। नाश्ते के समय केवल वही तय करती थी कि प्रत्येक व्यक्ति को उस दिन क्या करना चाहिए, और कैसे करना चाहिए, जब तक कि उसकी भविष्यवाणियां ही उस घर में एकमात्र नियंत्रणकर्ता नहीं बन गईं। परिवार पर उसका पूर्ण नियंत्रण हो गया।

हल्की सी आह भी उसके आदेश से भरी जा सकती थी। उस घर का मालिक करीब तब ही मरा था जब मैं वियना में मौजूद था। उस व्यक्ति में शालीनतापूर्ण दयालुता थी क्योंकि उसने जायदाद का एक भाग फ्रॉ फ्रीडा के लिए छोड़ दिया था, इस शर्त पर कि वह उसके परिवार के लिए सपने देखना जारी रखेगी, जब तक उसके सपने समाप्त न हो जाएं।

मैं वियना में एक माह से अधिक समय तक ठहरा और अन्य छात्रों की संकटभरी परिस्थितियों में मैंने भागीदारी निभाई, जबकि मैं धन प्राप्त करने का इंतजार करता रहा, जो कभी नहीं आया। फ्रॉ फ्रीडा के शराबखाने में होने वाले अचानक एवं उदारता से भरे आगमन हमारे लिए उत्सवों के अवसरों के समान होते थे क्योंकि हम दरिद्रता की स्थिति में होते थे। एक रात बीयर के उल्लास में वह मेरे कान में ऐसे दृढ़ विश्वास के साथ फुसफुसाई कि उस पर ध्यान देने में देरी नहीं की जा सकती थी।

‘मैं केवल तुम्हें यह बताने आई थी कि मैंने पिछली रात को तुम्हारे बारे में सपना देखा था, वह बोली। ‘तुम्हें तुरंत चले जाना होगा और पांच वर्ष तक वियना में वापस नहीं आना होगा।’ उसका दृढ़ विश्वास इतना सच्चा था कि मैंने रोम जाने वाली अन्तिम ट्रेन को उसी रात पकड़ा। जहां तक मेरी बात है, मैं उसके कथन से इतना प्रभावित था कि तब के बाद से ही मैं स्वयं को किसी विनाश से बच जाने वाला व्यक्ति मानने लगा, एक ऐसा विनाश जिसका अनुभव मुझे कभी नहीं हुआ। मैं अभी तक भी वियना वापस नहीं गया हूँ।

Before the disaster …………………..stop looking at me’. (Page 6)

कठिन शब्दार्थ- Disaster (डिजास्ट(र)) = a terrible situation or event, घोर विपत्ति। fortuitous (फॉइच्यूइटस्) = happening by chance, अनायास होने वाला। game (गेम्) = wild animals or birds hunted for food, शिकार किए जाने वाले जानवर एवं पक्षी। invalid (इन्वलिड्) = a person disabled by illness, बीमारी से कमजोर हुआ व्यक्ति । curiosity (क्युअरिऑसटि) = desire to know, जिज्ञासा। wind-up (वाइन्ड्-अप) = moved by turning a key, चाबी से चलने वाले।

Renaissance (रिनेसन्स्) = the period in Europe during 14th and 16th centuries when people became interested in ideas and culture of ancient Greece & Rome, पुनर्जागरण काल। Pope (पोप्) = the head of the Roman Catholic Church, रोमन कैथोलिक चर्च का सर्वोच्च धर्मगुरु । gluttonous (ग्लट्न्स् ) = eating too much, बहुत अधिक खाने वाला, पेटू । bib (बिब्) = a piece of cloth put under a child’s chin while eating, खाते समय बच्चे की ठुड्डी के नीचे रखा जाने वाला कपड़ा, गतिया। dissecting (डिसेक्टिङ्) = चीर-फाड़ करते हुए।

devoured (डिवाउअ(र)ड) = ate hungrily, जल्दी-जल्दी खाया। contagious (कन्टेजस्) = spreading by touch, स्पर्श से फैलने वाली बीमारी। clams (क्लैम्ज) = a kind of shellfish, एक प्रकार की शंखमीन, मछली। mussels (मस्ल्ज् ) = a kind of fish, एक प्रकार की शैल मछली। prawns (प्रॉन्ज्) = a kind of fish, झींगा मछली। sea cucumbers (सी कुकुम्बर्ज) = a kind of sea animals, समुद्री जीव।

culinary (कलिनरि) = of or for cooking, खाना पकाने संबंधी। delicacies (डेलिकसिज) = choice kind of food, स्वादिष्ट व्यंजन। prehistoric (प्रीहिस्टॉरिक) = of period before written records, अति प्राचीन । tuned (ट्यून्ड) = ठीक किया। antennae (ऐन्टेनी) = long, thin parts on the heads of insects, स्पर्शक।

हिन्दी अनुवाद-हवाना में हुए विनाश से पहले मैंने फ्रॉ फ्रीडा को बार्सेलोना में ऐसे अनायास तरीके से देखा था कि मुझे यह रहस्यपूर्ण लगा। ऐसा उस दिन हुआ जिस दिन पेब्लो नेरूडा ने स्पेन की धरती पर गृह-युद्ध के बाद पहली बार कदम रखा था। वे वालपराइसों के लिए लम्बी समुद्री यात्रा के दौरान यहां रुके थे। उन्होंने हमारे साथ एक सुबह बिताई थी। वह सैकंड-हैंड. पुस्तकों की दुकानों से किसी महत्वपूर्ण पुस्तक की तलाश में लगे रहे

थे और पोर्टर नामक जगह पर उन्होंने एक पुराना, सूखा हुआ ग्रंथ खरीदा जिसका कवर फटा हुआ था। उसके बदले में उन्होंने जो धन खर्च किया वह रंगून में दूतावास से मिलने वाले उनके दो माह के वेतन के बराबर था। वह भीड़ से होकर एक कमजोर, बीमार हाथी के समान चले, किसी बच्चे जैसी जिज्ञासा लिए हुए, जो प्रत्येक वस्तु जिसे वह देखता है, की आन्तरिक क्रिया-प्रणाली को जानने की कोशिश करता है। उनको दुनियां एक चाबी से चलने वाले एक विशाल खिलौने के समान प्रतीत होती थी जिससे जीवन स्वयं का आविष्कार करता है।

मैंने कभी भी ऐसे किसी व्यक्ति को नहीं जाना है जिसे पुनर्जागरण काल के पोप की कल्पना में अधिक निकट माना जा सके (अर्थात् वह उस काल के पोप के समान दिखाई देते थे)। वह पेटू थे, और सुसंस्कृत व्यक्ति थे। उनकी इच्छा के विरुद्ध भी वह भोजन की टेबल पर मुखिया की भूमिका में रहते थे। उनकी पत्नी, माटिल्डे, उनकी गर्दन के चारों ओर एक कपड़ा (गतिया) रख देती थी, जो नाई की दुकान से संबंध रखता था, बजाय भोजन-कक्ष से, लेकिन उन्हें चटनी में स्नान करने से रोकने का यही एक तरीका था।

कार्वालेरास (एक होटल) में वह दिन विशिष्ट था। उन्होंने तीन पूरे समुद्री झींगे खाए, उन्हें शल्यचिकित्सक की भांति चीर-फाड़कर, और साथ ही प्रत्येक अन्य व्यक्ति की प्लेट को आँखों से भकोसने लगे और प्रत्येक प्लेट से थोड़ा-थोड़ा खाया और प्रसन्न हुए। इससे खाने की इच्छा छूत की बीमारी की तरह फैलने लगी। गेलिसिया की शंखमीन, केन्टाब्रिया की शैलमछली, एलीकेन्टे की झींगा मछली, कोस्टा ब्रावा के सी कुकुम्बर आदि उन्होंने खाए।

इस दौरान, फ्रान्सीसियों की भांति वह केवल व्यंजनों के खाने-पकाने की बातें ही करते रहे, विशेष रूप से चिली की शैलफिश के बारे में, जो उनके दिल में बसी थी। अचानक उन्होंने खाना बन्द कर दिया, केकड़े के स्पर्शकों को ठीक किया और मुझसे बहुत शांत स्वर में कहा, ‘मेरे पीछे कोई है जो मेरी ओर बिना रुके देख रहा है।’

I glanced over his shoulder. ………… Just in case. (Page 7)

कठिन शब्दार्थ-glanced over (ग्लान्स्ड ओवर) = looked quickly over, जल्दी से देखा। intrepid (इन्ट्रेपिड्) = fearless, निर्भीक। index finger (इन्डेक्स् फिंगर) = forefinger, तर्जनी अंगुली। astound (अस्टाउन्ड्) = surprise very much, आश्चर्यचकित कर देना। clairvoyant (क्लेअवॉइअन्ट्) = capable of seeing things in the future, भविष्यदर्शी | inevitable (इन्एविटब्ल्) = that cannot be avoided, अटल, अवश्यंभावी।

fake (फेक्) = false, मिथ्या, झूठा। ineffable (इन्एफब्ल्) = indescribable, अवर्णनीय, वर्णातीत। stratagem (स्ट्रैटजम्) = a trick or a plan, चाल, दांव-पेंच। irresistible (इरिजिस्टब्ल) = very attractive, अत्यंत मनोहारी। impudent (इम्प्य डन्ट्) = very rude, अशिष्ट, निर्लज्ज । slang (स्लैङ्) = informal language, अपभाषा।

हिन्दी अनुवाद-मैंने उसके कंधे के ऊपर से देखा, और यह बात सच थी। तीन टेबलों की दूरी पर एक निर्भीक महिला बैठी थी, एक पुराने प्रचलन का ऊन से बना टोप पहने हुए और एक बैंगनी रंग का दुपट्टा डाले हुए आराम से खाती हुई और नेरूडा की ओर घूरती हुई। मैंने उसे तुरंत पहचान लिया। वह वृद्ध एवं मोटी हो गई थी, किन्तु वह फ्रॉ फ्रीडा थी, उसकी तर्जनी अंगुली पर सर्पाकार अंगूठी पहने हुए।

वह नेपल्स (इटली) से उसी जहाज में यात्रा कर रही थी जिसमें नेरूडा तथा उनकी पत्नी थे, किन्तु उन्होंने एक-दूसरे को जहाज में नहीं देखा था। हमने उसे हमारे टेबल पर कॉफी पीने का निमंत्रण दिया, और मैंने उसे उसके सपनों के बारे में बात करने के लिए प्रोत्साहित किया ताकि कवि (नेरूडा) को आश्चर्यचकित किया जा सके । कवि ने कोई ध्यान नहीं दिया, क्योंकि शुरू से ही उन्होंने घोषणा कर दी थी वह भविष्य बताने वाले सपनों में विश्वास नहीं करते थे।

‘केवल काव्य ही भविष्यदर्शी होता है, उन्होंने कहा। दुपहर के भोजन के बाद, रैमब्लाज के पास होकर अवश्यंभावी भ्रमण के दौरान मैं फ्रॉ फ्रीडा के साथ पीछे रह गया ताकि हम अपनी स्मृतियों को पुनः ताजी कर सकते, किसी अन्य व्यक्ति के सुने जाने के बिना। उसने मुझे बताया कि उसने ऑस्ट्रिया की उसकी सम्पत्तियों को

बेच दिया था और पुर्तगाल में ओपोर्टो नामक स्थान पर रहने आ गई थी, जहां वह एक घर में रहने लगी थी जिसे उसने पहाड़ी पर एक नकली किला कहकर वर्णित किया था। इस किले से वह महासमुद्र के आर-पार दोनों अमेरिका (उत्तरी एवं दक्षिणी अमेरिका) को देख सकती थी।

यद्यपि उसने ऐसा कहा नहीं था तथापि उसकी बातचीत ने स्पष्ट कर दिया था कि सपना-दर-सपना उसने वियना के उसके विलक्षण संरक्षकों की समस्त सम्पत्ति पर अधिकार कर लिया था। इस बात ने मुझे आश्चर्यचकित नहीं किया, क्योंकि मैं हमेशा से ही मानता था कि उसके स्वप्न एक जीवनयापन की युक्ति से अधिक कुछ नहीं थे। और मैंने उससे यह बात कह भी दी थी।

उसने उसकी आकर्षक हँसी निकाली। ‘तुम हमेशा की तरह बड़े निर्लज्ज हो,’ वह बोली । और इसके आगे कुछ भी नहीं कहा, क्योंकि शेष समूह नेरूडा का इन्तजार करने के लिए ठहर गया था, ताकि नेरूडा, रैम्बला डिलोस पजारोस के साथ-साथ, चिली की अपभाषा में तोतों से उनकी बात को पूरी कर लें।

जब हमने अपनी बात को पुनः प्रारंभ किया तो फ्रॉ फ्रीडा ने विषय बदल दिया। ‘वैसे ही,’ वह बोली, ‘अब तुम वियना वापस जा सकते हो।’ केवल तब ही मैंने महसूस किया कि हमारी पहली भेंट को 13 वर्ष हो गए थे। ‘अगर आपके स्वप्न मिथ्या भी हों, तो भी मैं कभी वहां वापस नहीं जाऊंगा’ मैंने उससे कहा। अगर ऐसा हो।’

At three o’ clock we left her……………….nothing to do with real life’. (Pages 7-8)

कठिन शब्दार्थ-Siesta (सिएस्टा ) = a short sleep in the aftermoon, दोपहर की झपकी। solemn (सॉलम्) = very serious, अत्यधिक गंभीर। monogram (मॉनग्रेम्) = a design made up of two or more letters, आरंभिक अक्षरों से बना डिजाइन। isolated (आइसोलेटेड) = alone or apart from others, अलग-थलग । fluid (फ्लूइड्) = that can be changed, जिन्हें बदला जा सके। disconcerted (डिस्कॉन्सट्ड) = confused or worried, विक्षुब्ध, परेशान।

हिन्दी अनुवाद-तीन बजे हमने उसे (फ्रॉ फ्रीडा को) छोड़ दिया ताकि हम नेरूडा के साथ उनकी पवित्र दोपहर की झपकी के लिए जा सकें। उन्होंने यह झपकी हमारे घर में गंभीर प्रकार की तैयारियों के साथ की जिसने हमें किसी तरह जापानियों के चाय के उत्सव की याद दिला दी। कुछ खिड़कियों को खोलना था, अन्य को बन्द कर देना था ताकि सही तापमान (गरमाहट) को प्राप्त किया जा सके, और एक निश्चित प्रकार की रोशनी भी आवश्यक थी,

एक निश्चित दिशा से आती हुई, और साथ में पूर्ण शांति भी। नेरूडा तुरन्त सो गए, और दस मिनट बाद जग गए, जैसा बच्चे करते हैं, जबकि हमें ऐसी अपेक्षा नहीं थी। वह रहने के कमरे में तरोताजा होकर प्रकट हुए और उनके गाल पर तकिए का डिजाइन छप गया था। ‘मैंने उस महिला का स्वप्न देखा जो सपने देखा करती है,’ उन्होंने कहा।

माटिल्डे ने चाहा कि वह उनका स्वप्न उसे (माटिल्डे को) कहें। मैंने स्वप्न देखा कि वह मेरे बारे में स्वप्न देख रही थी,’ नेरूडा ने कहा। ‘यह तो बोर्जेज की कहानियों की तरह लगता है, ‘ मैंने कहा। उन्होंने निराशा के साथ मेरी ओर देखा। ‘क्या उसने (बोर्जेज ने) इसे पहले ही लिख दिया है?’

‘अगर उसने नहीं लिखा है तो वह कभी इसे लिख देंगे,’ मैंने कहा। यह उसकी भूलभुलैयाओं में से एक होगी।’ ज्योंही वे जहाज में चढ़े, उस शाम छ: बजे, नेरूडा ने हमसे विदा ली, एक अलग-थलग टेबल के पास जा बैठे, और उन्होंने कविता की पंक्तियाँ, जिन्हें आवश्यक होने पर बाद में बदला जा सकता था, हरे रंग की स्याही से लिखना शुरू कर दिया।

इस स्याही का प्रयोग वे उन पुस्तकों पर फूल, मछलियां एवं पक्षी के चित्र बनाने में करते थे जिन्हें वे समर्पित करते थे। किनारे (गंतव्य) पर पहुँचने की प्रथम उद्घोषणा पर हमने फ्रॉ फ्रीडा की तलाश की, और उसे अन्त में पर्यटकों के लिए बने जहाज के हिस्से में पाया। हम उसे बिना अलविदा कहे ही वापस जाने वाले ही थे। उसने दोपहर की छोटी नींद ली थी।

‘मैंने कवि (नेरूडा) के बारे में स्वप्न देखा,’ वह बोली। आश्चर्य में मैंने उससे निवेदन किया कि वह मुझे उसके स्वप्न के बारे में बताए। ‘मैंने स्वप्न देखा कि वह मेरे बारे में स्वप्न देख रहे थे,’ उसने कहा। मेरे आश्चर्यचकित भाव ने उसे उलझन में डाल दिया। ‘तुम क्या उम्मीद कर रहे थे? कभी-कभी मेरे सपनों में एक स्वप्न ऐसा भी चला आता है जिसका वास्तविक जीवन से कोई संबंध नहीं होता।’

I never saw her again ….. she dreamed’. (Pages 8-9)

कठिन शब्दार्थ-Resist (रिजिस्ट्) = to try to stop, प्रतिरोध करना, रोकने की कोशिश करना। temptation (टेम्प्टे श्न्) = enticement, प्रलोभन, लालच। diplomatic (डिप्लमैटिक्) = related with adiplomat, राजदूत से जुड़ा। enthusiasm (इन्थ्यूजिऐज्म्) = excitement, interest, उत्तेजना, तीव्र इच्छा। clue (क्लू) = a peace of information, सुराग, सूत्र । concrete (कॉक्रीट) = real or definite, ठोस, वास्तविक । disenchantment (डिइन्चान्टमन्ट) = loss of interest, मोहभंग।।

हिन्दी अनुवाद-मैंने उसे फिर से कभी नहीं देखा और न ही उसके बारे में कोई आश्चर्य किया जब तक कि मैंने उस सर्पाकार अंगूठी के बारे में नहीं सुन लिया जिसे उस महिला ने पहन रखा था जो हवाना रिविअरा आपदा में मर गई थी। और मैं उस प्रलोभन को नहीं रोक पाया जिसके वशीभूत हो मैंने पुर्तगाली राजदूत से पूछताछ कर ली जब हम महीनों बाद दूतावास के एक स्वागत कार्यक्रम में मिल गए। राजदूत ने उस महिला के बारे में बड़ी रुचि तथा बड़ी प्रशंसा के साथ बात की।

‘आप कल्पना नहीं कर सकते कि वह कैसी असाधारण महिला थी,’ राजदूत ने कहा। आप उसके बारे में एक कहानी लिखने के लिए बाध्य हो जाते।’ और वह इसी स्वर में बोलता गया, आश्चर्यजनक विस्तार के साथ, लेकिन बिना कोई सुराग दिए जिसकी मदद से मैं किसी अंतिम निष्कर्ष पर पहुँच सकता। ‘ठोस रूप में,’ मैंने अन्त में पूछ लिया, ‘वह करती क्या थी?’ ‘कुछ नहीं,’ उसने कहा, कुछ मोहभंग के साथ। वह सपने देखती थी।’

Kaleidoscope Short Stories Chapter 1 I Sell my Dreams