Day
Night

The Road not taken

कठिन शब्दार्थ , हिन्दी अनुवाद एवं व्याख्या

• कविता के विषय में -यह प्रसिद्ध कविता चुनाव करने के विषय में है और चुनाव भी वह जो हमें बनाता है। रॉबर्ट फ्रॉस्ट एक अमेरिकन कवि हैं जो सरल भाषा में लिखते हैं लेकिन सामान्य, साधारण अनुभवों के विषय में गहन जानकारी रखते हैं।

कठिन शब्दार्थ एवं हिन्दी अनुवाद

1. Two roads……………….undergrowth.

कठिन शब्दार्थ : diverged (डाइवज्ड) = विभाजित हुई, bent (बेन्ट्) = मुड़ी, undergrowth (अन्ड(र)ग्रोथ्) = घनी झाड़ियाँ व पौधे (एक वृक्ष के नीचे)।

हिन्दी अनुवाद : पतझड़ की ऋतु में जंगल में एक स्थान पर दो सड़कें अलग-अलग दिशाओं में विभाजित हो रही थीं और अफसोस कि मैं उन दोनों पर नहीं चल सका क्योंकि मैं अकेला यात्री था, बहुत देर मैं खड़ा रहा और उनमें से एक को जहाँ तक नजर गई वहाँ तक देखता रहा जब तक कि यह (सड़क) घनी झाड़ियों व पौधों में मुड़ नहीं गई। 

भावार्थ : धैर्य रखें, दूरदृष्टि रखें। जीवन की कठिनाइयों के लिए तत्पर रहें।

2. Then took………………..the same.

कठिन शब्दार्थ : just as fair (जस्ट एज् फेअ(र)) = ठीक उतना ही अच्छा, having (हैविङ्) = रखना, perhaps (पॅहैप्स्) = शायद, better claim (बेट(र) क्लेम) = और अच्छा होने का दावा करना, grassy (ग्रासि) = घास से परिपूर्ण, wanted wear (वॉन्ड वेअ(र)) = प्रयोग में आकर घिसना चाहती थी, worn (वॉन) = घिसी थी/प्रयोग हुई थी।

हिन्दी अनुवाद : फिर मैंने दूसरी सड़क का प्रयोग करना आरम्भ कर दिया। यह भी उतनी ही अच्छी थी जितनी कि पहली सड़क (जो मैंने आरम्भ में प्रयोग की थी)। और शायद यह (दूसरी वाली) सड़क प्रयोग किये जाने का और अधिक अच्छा अधिकार (दावा) रखती थी क्योंकि यह हरी-भरी घास से परिपूर्ण थी और यह चाहती थी कि वह प्रयोग होकर घिसे। यद्यपि वहाँ से (दोनों सड़कों पर से) गुजरने (प्रयोग करने) की बात करें तो दोनों लगभग समान रूप से घिसी थीं (प्रयोग हुई थीं)।।

भावार्थ : प्रकृति के अधिकाधिक समीप रहें व दृष्टि चारों ओर रखें।

3. And both……………….come back.

कठिन शब्दार्थ : lay (ले) = फैली हुई थी, trodden (ट्रॉड्न) = पैर द्वारा कुचले होना, leads (लीड्ज) = आगे ले जाना, doubted (डाउट्ड) = सन्देह किया।

हिन्दी अनुवाद : और दोनों उस प्रात:काल को मेरे सामने समान रूप से फैली थीं। पत्तों को किसी पैर ने रौंदकर काला नहीं किया था। ओह, मैंने पहली सड़क किसी अन्य दिन चलने के लिए रख ली! फिर भी यह जानते हुए कि रास्ता कैसे आगे से आगे निकलता जाता है, मुझे सन्देह हुआ कि कभी मैं वापस आ भी पाऊँगा कि नहीं।

भावार्थ : एक निर्णय दूसरे निर्णय की ओर ले जाता है किन्तु इन पर पुनदृष्टि भी डालें। 

4. I shall………………..the difference.

कठिन शब्दार्थ : sigh (साइ) = आह भरना, hence (हेन्स्) = आगे, difference (डिफरन्स्) = अन्तर।

हिन्दी अनुवाद : मैं कभी युगों और युगों बाद एक आह भरकर यह सब बता रहा होऊँगा कि जब दो सड़कें एक जंगल में पहुँच कर विभाजित हो रही थीं तब मैंने वह सड़क प्रयोग में लेनी चाही जिस पर कम चला गया था। और उस ही ने यह सब अन्तर (मेरे जीवन में) स्थापित किया है। भावार्थ : आपके द्वारा लिये गये निर्णय ही आपके भविष्य/जीवन को अच्छा या बुरा बनाते हैं।

Explanations with Reference to the Context

(सन्दर्भ सहित व्याख्याएँ)

Stanza 1.

Two roads diverged in a yellow wood,
And sorry I could not travel ‘both 
And be one traveller, long I stood 
And looked down one as far as I could
To where it bent in the undergrowth; 

Reference : These lines have been taken from the poem ‘The Road Not Taken’, composed by Robert Frost. The poet is talking about making choices that shape us. 

Context : The poet stands confused as to which road he should take. Being one person, he could not take both the roads, that diverged from there.

Explanation : The poet is talking about an ordinary experience of making a choice as to which road he should take. He has two roads before him that separate from each other and take a different direction. Being one traveller he cannot travel both. He stands confused for a long time, looking down one of them as far as he can. The road finally gets lost in a dense. growth of plants and bushes. These lines symbolically describe a

सन्दर्भ : ये पंक्तियाँ ‘The Road Not Taken’ नामक कविता से ली गयी हैं, जिन्हें रॉबर्ट फ्रोस्ट द्वारा रचा गया है। कवि उन विकल्पों के बारे में बात कर रहा है जिनका चुनाव हमारा भावी निर्माण करता है।

प्रसंग : कवि असमंजस की स्थिति में खड़ा है और तय नहीं कर पा रहा है कि किस रास्ते पर जाए। चूंकि वह एक ही व्यक्ति है, अतः वह दोनों रास्तों पर नहीं जा सकता जो वहाँ से अलग-अलग दिशाओं में जाते हैं।

व्याख्या : कवि एक साधारण अनुभव की बात कर रहा है। यह अनुभव उस चुनाव के बारे में है जिसके द्वारा उसे अपना रास्ता चुनना है। उसके सामने दो रास्ते हैं जो एक-दूसरे से अलग होकर भिन्न-भिन्न दिशाओं में चले जाते हैं। एक ही यात्री होने के कारण वह दोनों रास्तों पर नहीं जा सकता है।

वह लम्बे समय तक असमंजस की स्थिति में खड़ा रहता है तथा उनमें से एक रास्ते को दूर तक देखता रहता है, जहाँ तक वह देख पाता है। यह रास्ता अंत में पौधों एवं झाड़ियों के घने समूह में खो जाता है। ये पंक्तियाँ प्रतीकात्मक रूप से मानसिक उलझन की स्थिति का वर्णन करती हैं जिसका सामना मनुष्य को तब करना पड़ता है जब उसे चुनाव करना पड़ता है।

Stanza 2.

Then took the other, just as fair, 
And having perhaps the better claim, 
Because it was grassy and wanted wear; 
Though as for that the passing there
Had worn them really about the same. 

Reference : These lines have been taken from the poem, “The Road Not Taken’ composed by Robert Frost. This poem is about making choices that shape us.

Context : The poet has two roads before him. He has to choose one of them. Both the roads appear to him to be equally good. However, after much confusion, he chooses one of them.

Explanation : The poet has two roads before him. After much thought, he takes the other one which he finds equally good. Perhaps, it is better than the first one, being grassy and unused. However, both the roads are equally worn out if one passes over them and observes attentively.

The poet is in a state of mental confusion as to the road he should take. He finds both the roads equally good and worn out. It is, thus, difficult for him to choose one of them. Life, in the like manner, presents such situations when a person has to make a difficult choice.

सन्दर्भ : ये पंक्तियाँ रॉबर्ट फ्रोस्ट द्वारा रचित कविता ‘The Road Not Taken’ से ली गयी हैं। यह कविता उन चुनावों के बारे में है जिनसे हमारा निर्माण होता है।

प्रसंग : कवि के समक्ष दो रास्ते हैं। उसे उनमें से एक रास्ते का चुनाव करना है। दोनों ही रास्ते उसे समान रूप से अच्छे प्रतीत होते हैं। काफी असमंजस के बाद यद्यपि वह इनमें से एक रास्ते का चुनाव कर लेता है।

व्याख्या : कवि के समक्ष दो रास्ते हैं। काफी विचार के बाद वह दूसरे रास्ते पर चल पड़ता है। जिसे वह समान रूप से अच्छा पाता है। शायद यह पहले वाले रास्ते से अधिक ठीक होता है क्योंकि यह घास से ढका है तथा अप्रयुक्त लगता है। फिर भी दोनों ही रास्ते समान रूप से घिसे हुए हैं यदि कोई उन पर से गुजरता है और ध्यान से निरीक्षण करता है।

कवि मानसिक उलझन की स्थिति में है कि वह कौनसे रास्ते पर जाए। वह दोनों ही रास्तों को समान रूप से अच्छे एवं घिसे हुए पाता है। इस प्रकार उसके लिए उनमें किसी एक को चुनना मुश्किल हो जाता है। जीवन भी इसी तरह ऐसी स्थितियाँ प्रस्तुत करता है जब एक व्यक्ति को मुश्किल मत चुनाव करना होता है।

Stanza 3.

And both that morning equally lay 
In leaves no step had trodden black. 
Oh, I kept the first for another day! 
Yet knowing how way leads on to way,
I doubted if I should ever come back.
 

Reference : These lines have been extracted from Robert Frost’s poem “The Road Not Taken’. This well-known poem is about making choices that shape us.

Context : The poet finds before him two roads that are equally good and worn out. He has to choose one. He is confused. However, he chooses the other one and keeps the first one for another day. 

Explanation : The poet finds himself in an autumn wood from where two roads diverge into different directions. He finds both the roads equally good, but he has to choose one of them. Both of them are equally covered with leaves on which no one has trodden upon.

The leaves seem to be intact. He keeps the first road for another dry and chooses the second one for his travel. He knows that it is difficult to come back once he makes his choice of the road. One road leads to another and makes returning difficult and often impossible. In life too, a man has to keep to his chosen path.

सन्दर्भ ये पंक्तियाँ रॉबर्ट फ्रोस्ट की कविता ‘The Road Not Taken’ से ली गयी हैं। यह जानीमानी कविता चुनाव करने के बारे में है जो हमारे जीवन को आकार प्रदान करता है।

प्रसंग : कवि उसके समक्ष दो रास्तों को पाता है जो समान रूप से अच्छे हैं तथा घिसे हुए हैं। उसे उनमें से एक को चुनना है । वह असमंजस में पड़ जाता है। फिर भी वह दूसरे रास्ते को चुन लेता है तथा प्रथम रास्ते को किसी अन्य दिन के लिए रख लेता है।

व्याख्या : कवि स्वयं को पतझड़ की ऋतु में एक जंगल में पाता है जहाँ से दो रास्ते अलग-अलग दिशाओं में चले जाते हैं। वह दोनों ही रास्तों को समान रूप से अच्छे पाता है लेकिन उसे उनमें से एक को चुनना है। दोनों ही रास्तों को पत्तियों ने समान रूप से ढक रखा है जिन पर से अभी तक कोई नहीं गुजरा है।

ये पत्तियाँ ज्यों-की-त्यों प्रतीत होती हैं। वह प्रथम रास्ते को किसी अन्य दिन के लिए रख लेता है तथा दूसरे रास्ते को यात्रा हेतु चुन लेता है। वह जानता है कि रास्ते का एक बार चुनाव कर लेने के बाद वापस लौटना मुश्किल होता है। एक रास्ता दूसरे रास्ते पर ले जाता है तथा वापस लौटने को मुश्किल तथा प्रायः असंभव बना देता है। जीवन में भी एक व्यक्ति को उसके द्वारा चुने हुए रास्ते पर ही चलते रहना पड़ता है।

Stanza 4.

I shall be telling this with a sigh 
Somewhere ages and ages hence;  
Two roads diverged in a wood,
and – I took the one less travelled by,
And that has made all the difference. 

Reference : These are the concluding lines from Robert Frost’s poem, ‘The Road Not Taken’. This poem is about making choices that shape our lives.

Context : The poet chooses one of the two roads that are equally good. However, the road that he chooses is less travelled by. The poet seems to be full of regret for having done so. He says he will be telling after a long, long time that he chose a less travelled road, which has made all the difference.

Explanation : The poet is full of regret for having chosen a road that he considered less travelled by. He will be expressing this regret by sadly telling after a long, long time that he made a wrong choice. Perhaps, he would have been happier if he had made a different choice. The poet conveys the message that every man has to make a difficult choice in his life. But he is never happy with his choice and is full of regret. He wishes he had made a different choice.

सन्दर्भ : प्रस्तुत पंक्तियाँ रॉबर्ट फ्रोस्ट की कविता ‘The Road Not Taken’ की अन्तिम पंक्तियाँ हैं । यह कविता हमारे चुनावों के बारे में है जो हमारे जीवन को आकार प्रदान करते हैं।

प्रसंग : कवि दो रास्तों में से एक का चुनाव करता है। ये दोनों रास्ते समान रूप से अच्छे हैं। किन्तु जिस रास्ते को कवि चुनता है उस पर लोगों द्वारा कम चला गया है। कवि ऐसा करने के लिए पश्चाताप से परिपूर्ण प्रतीत होता है। वह कहता है कि युगों, युगों के बाद वह लोगों से यह कह रहा होगा कि उसने एक कम चला हुआ रास्ता चुना जिससे उसके जीवन में सारा फर्क पड़ गया। (अर्थात् अगर उसने अन्य रास्ता चुना होता तो बात कुछ और ही रही होती)।

व्याख्या : कवि एक अच्छे रास्ते को चुनकर पश्चाताप से भरा प्रतीत हो रहा है जिस पर कम लोग चले थे। वह इस पश्चाताप को युगों, युगों के बाद यह कह कर व्यक्त कर रहा होगा कि उसका चुनाव गलत था। शायद वह अधिक सुखी होता अगर उसने भिन्न विकल्प चुना होता।कवि यह संदेश देता है कि प्रत्येक व्यक्ति को जीवन में एक मुश्किल चुनाव करना पड़ता है। लेकिन वह अपने चुनाव से कभी प्रसन्न नहीं होता और पश्चाताप से भर जाता है। वह कामना करता है कि उसको भिन्न प्रकार का चुनाव करना चाहिए था।

0:00
0:00