उपसर्ग 6

‘उपसर्ग’ शब्द ‘उप’ + ‘सर्ग’ शब्द के मेल से बना है, जिसमें ‘सर्ग’ मूल शब्द है, जिसका अर्थ होता है ग्रंथ का अध्याय जोड़ना, रचना, निर्माण करना आदि। अतः ‘सर्ग’ मूल शब्द से पूर्व उप’ शब्दांश लगने से उसका अर्थ हुआ पहले जोड़ना। इस प्रकार मूल शब्दों के पहले अथवा आगे जो शब्दांश लगाए जाते हैं। वे उपसर्ग कहलाते हैं।

जो शब्दांश शब्द से पहले लगकर उसके अर्थ को बदल देते हैं, उपसर्ग कहलाते हैं; जैसे
स्व + तंत्र = स्वतंत्र,
निः + बल = निर्बल
स + पूत = सपूत,
सु + कुमार = सुकुमार

उपसर्ग के भेद – हिंदी भाषा में चार प्रकार के उपसर्ग प्रचलित हैं।

उपसर्ग

  1. हिंदी के उपसर्ग
  2. संस्कृत के उपसर्ग
  3. उर्दू के उपसर्ग
  4. संस्कृत के अव्यय

1. हिंदी के उपसर्ग – हिंदी में जो उपसर्ग मिलते हैं, वे संस्कृत हिंदी तथा उर्दू भाषा के हैं।

उपसर्ग

अर्थ

शब्दरूप

औ/अव

हीनता, रहित

औघट, अवनति, अवगुण, अवतार

अन्

अभाव, नहीं

अनजान, अनपढ़, अनादि, अनुपस्थित, अनमोल

अध

आधा

अधपका, अधमरा, अधखिला

कु

बुरा

कुसंगति, कुपथ, कुकर्म, कुचाल, कुमति, कुरूप, कुचक्र

सु

सुंदर, अच्छा

सुगंध, सुवास, सुजान, सुघड़

पर

दूसरा, दूसरी पीढ़ी

परोपकार, परस्त्री, परपुरु ष, परलोक, परदादी, परनानी, परपिता

भर

पूरा

भरपेट, भरपूर, भरसक

अध

आधा

अधखिला, अधजला, अधकचरा

ति

तीन

तिगुना, तिपाई, तिराहा, तिपहिया

चौ

चार

चौराहा, चौगुना, चौमासा, चौतरफा, चौमुखी

नि

बिना, रहित

निछथा, निहाल, निपट, निठल्ला

2. संस्कृत के उपसर्ग

उपसर्ग

अर्थ

शब्दरूप

अभि

सामने, पास, ओर

अभिमान, अभिलाषा, अभिनेता, अभिनय, अभिव्यक्त, अभिशाप

अव

बुरा, हीन

अवनति, अवगुण, अवशेष

अनु

समान, पीछे

अनुरूप, अनुज, अनुचर, अनुकरण

अति

अधिक

अत्यधिक, अत्युत्तम, अत्यंत

अन

अभाव

अनादि, अनंत, अनेक, अनिच्छा

उद्

ऊपर, उत्कर्ष

उद्धार, उद्भव, उद्देश्य, उद्घाटन, उद्घोष

निर

निषेध, रहित, बिना

निर्बल, निर्भय, निरपराध, निर्दोष

परा

विपरीत, उलटी, पीछे

पराजय, पराधीन, पराक्रम, परस्त, परामर्श

वि

विशेष, अलग, अभाव

विहीन, विज्ञान, विमाता, विनय, विभाग, विशेष, विदेश

सम्

पूर्णता, सुंदर, साथ/अच्छा

संयोग, सम्मान, संतोष, संविधान, संचय, संशय

3. उर्दू के उपसर्ग

उपसर्ग

अर्थ

शब्दरूप

बे

बुरा, अभाव

बेवफा, बेसमझ, बेईमान

बद

बुरा

बदनाम, बदसूरत, बदबू

ना

नहीं, अभाव

नाकाम, नालायक, नापसंद

कम

थोड़ा

कम अक्ल, कमबख्त, कमज़ोर

खुश

अच्छा

खुशकिस्मत, खुशखबरी, खुशबू, खुशमिज़ाज, खुशहाल

हर

सभी, प्रत्येक

हरएक, हरतरफ, हररोज़, हरसाल, हरदिन, हरपल, हरचीज़, हरदिल

दर

में

दरमियान, दरगुज़र, दरकिनार

सर

मुखय, प्रमुख

सरहद, सरकार, सरपंथ, सरताज, सरमाया, सरदार

गैर

भिन्न

गैरजिम्मेदार, गैरसरकारी, गैरजरूरी, गैरमुल्क, गैरमर्द।

4. संस्कृत के अव्यय

उपसर्ग की तरह प्रयोग किए जाने वाले संस्कृत के अव्यय निम्नांकित हैं-

उपसर्ग

अर्थ

शब्दरूप

अधः

नीचे

अध:पतन, अधोगति, अधोमुख, अधोमार्ग

आन

मिलान, उठान, उड़ान, लगान, ढलान

अककड़

भुलक्कड़, घुमक्कड़, कुदक्कड़

सहित

सपरिवार, सचित्र, सप्रसंग, सजल

रेती, कटारी, हँसी, बोली, घाटी, डोरी

बहुविकल्पी प्रश्न

1. कौन-सा शब्द ‘अ’ उपसर्ग से नहीं बना है?
(i) अजर
(ii) अनंत
(iii) अगोचर
(iv) अमर

2. कौन-सा शब्द ‘अनु’ उपसर्ग से नहीं बना है?
(i) अनुदार
(ii) अनुपम
(iii) अगम्य
(iv) अनासक्त

3. कौन-सा शब्द ‘अव’ उपसर्ग से युक्त नहीं है?
(i) अव्यय
(ii) अवहेलना
(iii) अवगुण
(iv) अवरुद्ध

4. कौन-सा शब्द ‘उत’ उपसर्ग युक्त नहीं है?
(i) उच्चारण
(ii) उद्योग
(iii) उनमाद
(iv) उपज

5. ‘क’ उपसर्ग युक्त शब्द छाँटिए।
(i) कुपुत्र
(ii) कुबेर
(iii) कुमार
(iv) कुब्ज

6. ‘नि’ उपसर्ग युक्त शब्द छाँटिए
(i) निष्क्रिय
(ii) निष्ठ
(iii) निष्कासन
(iv) निकृष्ट

7. निः उपसर्ग युक्त शब्द छाँटिए
(i) निकष
(ii) नियम
(iii) निर्मल
(iv) निपात

8. दुः उपसर्ग युक्त शब्द छाँटिए
(i) दुधिया
(ii) दुर्दशा
(iii) दुधारू
(iv) दुपहरिया

उत्तर-
1. (ii)
2. (iii)
3. (ii)
4. (iv)
5. (i)
6. (iv)
7. (iii)
8. (ii)

उपसर्ग 6