शिरीष के फूल

Textbook Questions and Answers
पाठ के साथ –

प्रश्न 1.
लेखक ने शिरीष को कालजयी अवधूत (संन्यासी) की तरह क्यों माना है?
उत्तर :
अवधूत ऐसा संन्यासी या तन्त्र-साधक होता है, जो सांसारिक विषय-वासनाओं से ऊपर उठा हुआ, सुख-दुःख से मुक्त एवं कामनाओं से रहित होता है। वह विपरीत परिस्थितियों में भी समान रहकर फक्कड़ और मस्त बना रहता है। उसी प्रकार शिरीष वृक्ष भी तपन, लू, शीत आदि सब सहन करता है और वसन्तागम पर फूलों से लद जाता है। जब गर्मी एवं लू से सारा संसार सन्तप्त रहता है, तब भी शिरीष लहलहाता रहता है। अतः उसे कालजयी अवधूत के समान बताया गया है।

प्रश्न 2.
‘हृदय की कोमलता को बचाने के लिए व्यवहार की कठोरता भी कभी-कभी जरूरी हो जाती है’ प्रस्तुत पाठ के आधार पर स्पष्ट करें।
उत्तर :
हृदय की कोमलता को बचाने के लिए कभी-कभी व्यवहार की कठोरता जरूरी हो जाती है। शिरीष के फूल अतीव कोमल होते हैं, परन्तु वे अपने वृन्त से इतने मजबूत जुड़े रहते हैं कि नये फूलों के आ जाने पर भी अपना स्थान नहीं छोड़ते हैं। वे अपने अन्दर की कोमलता को बचाने के लिए ऐसे कठोर बन जाते हैं।

प्रश्न 3.
द्विवेदीजी ने शिरीष के माध्यम से कोलाहल व संघर्ष से भरी जीवन-स्थितियों में अविचल रह कर जिजीविषु बने रहने की सीख दी है। स्पष्ट करें।
उत्तर :
हजारी प्रसाद द्विवेदी ने शिरीष के माध्यम से यह शिक्षा दी है कि जीवन में जितना भी संघर्ष और कोलाहल हो, जितनी भी विषम और कठिन परिस्थितियाँ हों, मनुष्य को विचलित न होकर अपने अस्तित्व की रक्षा करनी चाहिए, जीने की शक्ति बनाये रखनी चाहिए। शिरीष भीषण गर्मी, लू, आँधी आदि विषम परिस्थितियों में भी सरस बना रहता है, खिला रहता है। अतः हमें भी संघर्ष के साथ जिजीविषा रखकर अजेय बने रहना चाहिए।

प्रश्न 4.
“हाय वह अवधूत आज कहाँ है!” ऐसा कह कर लेखक ने आत्मबल पर देह-बल के वर्चस्व की वर्तमान सभ्यता के संकट की ओर संकेत किया है। कैसे?
उत्तर :
अवधूत शरीर-सुख के लालच को त्यागकर आत्मबल से अपनी साधना में निरत रहते हैं। इसलिए वे शारीरिक बल की अपेक्षा आत्मबल को महत्त्व देते हैं और जीवन के सारे संकटों का सामना कर लेते हैं। परन्तु आज सभी लोग धन बल और माया बल जुटाने में लगे हुए हैं। इसी कारण आज मानव सभ्यता पर संकट आ रहा है। भौतिक सुख भोग के साधन उत्तरोत्तर बढ़ रहे हैं और मानव-मूल्यों का ह्रास हो रहा है।

प्रश्न 5.
कवि (साहित्यकार) के लिए अनासक्त योगी की स्थिरप्रज्ञता और विदग्ध प्रेमी का हृदय-एक साथ आवश्यक है। ऐसा विचार प्रस्तुत कर लेखक ने साहित्य-कर्म के लिए बहुत ऊँचा मानदंड निर्धारित किया है। विस्तारपूर्वक समझाएँ।
उत्तर :
लेखक का कथन सत्य है। वस्तुतः कवि एवं साहित्यकार से हम बहुत ऊँचे आदर्शों एवं जीवन-मूल्यों की अपेक्षा करते हैं। जब वह अनासक्त योगी रहेगा, तभी वह यथार्थ का चित्रण कर सकेगा, निष्पक्षता से अपने मनोभाव व्यक्त कर सकेगा तथा नीति-सम्मत बातें कह सकेगा। कवि का हृदय कोमल भावनाओं से भरा होना भी जरूरी है। वह विदग्धता से मण्डित होकर स्वानुभूतियों की सरस अभिव्यक्ति करता है। इसीलिए लेखक ने कवियों को वज्र से भी कठोर और कुसुम से भी कोमल हृदय वाला बताया है। महाकवि कालिदास, सूर, तुलसी आदि में यही विशेषता थी। इसी कारण वे उच्च-उदात्त मानवीय आदर्शों की प्रतिष्ठा कर सके और कालजयी काव्य-रचना करने में सफल रहे।

प्रश्न 6.
“सर्वग्रासी काल की मार से बचते हुए वही दीर्घजीवी हो सकता है, जिसने अपने व्यवहार में जड़ता छोड़कर नित बदल रही स्थितियों में निरंतर अपनी गतिशीलता बनाए रखी है।” पाठ के आधार पर स्पष्ट करें।
उत्तर :
धूप, वर्षा, आँधी, लू आदि के रूप में काल बाह्य-परिवर्तन लाता है। इससे कमजोर फूल-पत्ते सूखकर झड़ जाते हैं। लेकिन जो काल की मार से बचने का साहस दिखाता है, विपरीत परिस्थितियों में भी अडिग रहता है अथवा अपने व्यवहार में समयानुकूल परिवर्तन लाता है, वह दीर्घजीवी बन जाता है। परन्तु यदि कोई अपने व्यवहार में परिवर्तन एवं गतिशीलता नहीं लाता है, बदलती हुई स्थितियों के अनुरूप स्वयं को नहीं ढाल पाता है, वह परिस्थितियों से घिर कर नष्ट हो जाता है। शिरीष का फूल काल का सामना कर वायुमण्डल से जीवन-रस ग्रहण कर दीर्घजीवी बना रहता है। उसी प्रकार गाँधीजी ने भी अपने परिवेश से रस ग्रहण किया, तो वे विपरीत स्थितियों में भी विजयी रहे।

प्रश्न 7.
आशय स्पष्ट कीजिए –
(क) दुरंत प्राणधारा और सर्वव्यापक कालाग्नि का संघर्ष निरंतर चल रहा है। मूर्ख समझते हैं कि जहाँ बने हैं, वहीं देर तक बने रहें तो कालदेवता की आँख बचा पाएँगे। भोले हैं वे। हिलते-डुलते रहो, स्थान बदलते रहो, आगे की ओर मुँह किए रहो तो कोड़े की मार से बच भी सकते हो। जमे कि मरे।
(ख) जो कवि अनासक्त नहीं रह सका, जो फक्कड़ नहीं बन सका, जो किए-कराए का लेखा-जोखा मिलाने में उलझ गया, वह भी क्या कवि है?…… मैं कहता हूँ कि कवि बनना है मेरे दोस्तो, तो फक्कड़ बनो।
(ग) फल हो या पेड़, वह अपने-आप में समाप्त नहीं है। वह किसी अन्य वस्तु को दिखाने के लिए उठी हुई अँगुली है। वह इशारा है।
उत्तर :
(क) मनुष्य या इस समस्त जगत् में प्रखर जीवनी शक्ति और सर्वव्यापक काल रूपी अग्नि में निरन्तर संघर्ष चलता रहता है। कुछ लोग स्वयं मृत्यु से बचना चाहते हुए भी कुछ नहीं करते हैं और सोचते हैं कि वे काल की नजर से बच जायेंगे। परन्तु ऐसे लोग मूर्ख हैं। इसलिए यदि यमराज या काल की मार से बचना है तो हिलते-डुलते रहो, स्वयं को बदलते रहो, पीछे हटने की बजाय आगे लक्ष्य की ओर बढ़ो, अर्थात् संघर्षशील बनो और जीवनी शक्ति को उचित गति प्रदान करो। एक ही स्थान पर जमना या गतिशील न होना तो मौत को निमन्त्रण देना है।

(ख) लेखक बताता है कि कवि-कर्म कोई सहज-साधारण कर्म नहीं है। इसमें कवि को हानि-लाभ, राग-द्वेष, यश-अपयश आदि की चिन्ता न करके अनासक्त रहना पड़ता है। जो कवि अनासक्त नहीं रह पाता है, उन्मुक्त स्वभाव का अवधूत जैसा नहीं बन सकता है और कवि-कर्म के प्रभाव, हानि-लाभ, अर्थ-प्राप्ति आदि के चक्कर में पड़ा रहता है, वह कवि-कर्म का सही निर्वाह नहीं कर पाता है और श्रेष्ठ कवि नहीं बन सकता है। इसलिए श्रेष्ठ कवि बनने के लिए अनासक्त और फक्कड़ बनना जरूरी है, मस्त स्वभाव का होना आवश्यक है।

(ग) कोई फल या पेड़ अपने आप में सम्पूर्ण नहीं होता है, वह तो अन्य की ओर संकेत करने वाला होता है। अर्थात् वृक्ष या फल बताता है कि उसको उगाने वाला, बनाने वाला कोई और है, उसे जानो। वह अन्य ही इस सृष्टि का निर्माता एवं नियन्ता है, उसे जानने-पाने का प्रयास करो, वही चरम सत्य है।

पाठ के आसपास –

प्रश्न 1.
शिरीष के पुष्प को शीतपुष्य भी कहा जाता है। ज्येष्ठ माह की प्रचंड गर्मी में फूलने वाले फूल को शीतपुष्प संज्ञा किस आधार पर दी गई होगी?
उत्तर :
शिरीष का पुष्प ज्येष्ठ मास में भयंकर धूप, गर्मी और लू आदि की स्थिति होने पर भी फूलता रहता है। वह अत्यन्त कोमल, मुलायम होता है। भयंकर गर्मी में अन्य पुष्प-पत्र सूख जाते हैं, परन्तु शिरीष पुष्प लहलहाता रहता है तथा तपन में भी ठण्डा रहता है। इसी से इसे शीतपुष्प नाम दिया गया है।

प्रश्न 2.
कोमल और कठोर दोनों भाव किस प्रकार गाँधीजी के व्यक्तित्व की विशेषता बन गये?
उत्तर :
गाँधीजी हृदय से बड़े कोमल, करुणाशील और सहृदय थे। वे सामान्यजनों एवं पीड़ितों के प्रति दयालु बने रहते थे। लेकिन नियमों के पालन करने में, अनुशासन एवं अहिंसा आदि के सम्बन्ध में कठोर बने रहते थे। शक्तिशाली एवं अन्यायी ब्रिटिश शासन का विरोध करने में वे कठोर थे। इस प्रकार वे शिरीष पुष्प के समान कोमल और वज्र के . समान कठोर थे। ये दोनों भाव उनके व्यक्तित्व के परिचायक थे।

प्रश्न 3.
आजकल अन्तरराष्ट्रीय बाजार में भारतीय फूलों की बहुत माँग है। बहुत से किसान साग-सब्जी व अन्न उत्पादन छोड़ फूलों की खेती की ओर आकर्षित हो रहे हैं। इसी मुद्दे को विषय बनाते हुए वाद-विवाद प्रतियोगिता का
आयोजन करें।
उत्तर :
इस विषय पर वाद-विवाद प्रतियोगिता के लिए पक्ष एवं विपक्ष में ये विचार-बिन्दु या तर्क दिये जा सकते हैं पक्ष-फूलों के व्यापार से आर्थिक लाभ, समय एवं परिश्रम की बचत, किसानों का जीवन खुशहाल और मनोरम पर्यावरण में वृद्धि। विपक्ष-फूलों की अधिक खेती से सब्जी व अन्न उत्पादन पर बुरा प्रभाव, अन्न की कमी का संकट, फूलों के निर्यात की कठिनाई, खेतिहर श्रमिकों की हानि।

प्रश्न 4.
हजारी प्रसाद द्विवेदी ने इस पाठ की तरह ही वनस्पतियों के संदर्भ में कई व्यक्तित्व व्यंजक ललित निबंध और भी लिखे हैं-कुटज, आम फिर बौरा गए, अशोक के फूल, देवदारु आदि। शिक्षक की सहायता से इन्हें ढूंढ़िए और पढ़िए।
उत्तर :
छात्र पुस्तकालय में जाकर इन निबन्धों को पढ़ें।

प्रश्न 5.
द्विवेदीजी की वनस्पतियों में ऐसी रुचि का क्या कारण हो सकता है? आज साहित्यिक रचना फलक पर प्रकृति की उपस्थिति न्यून से न्यून होती जा रही है। तब ऐसी रचनाओं का महत्त्व बढ़ गया है। प्रकृति के प्रति आपका दृष्टिकोण रुचिपूर्ण है या उपेक्षामय? इसका मूल्यांकन करें।
उत्तर :
हजारीप्रसाद द्विवेदी का जन्म ग्रामीण क्षेत्र में हुआ था। इस कारण बचपन में उन्हें विविध वनस्पतियों को देखने का अवसर मिला। फिर वे शान्तिनिकेतन में घने कुंजों के मध्य काफी समय तक रहे। वहाँ पर उन्होंने पलाश, अमलतास, कनेर, मौलसिरी आदि वनस्पतियों के पत्तों-पुष्पों को विकसित होते या झड़ते हुए देखा। इन्हीं कारणों से तथा सहृदय साहित्यकार होने से प्रकृति के विविध उपादानों और वनस्पतियों के प्रति उनकी विशेष रुचि रही। आज के साहित्यकारों को न तो ऐसा परिवेश देखने को मिलता है और न उसकी ऐसी रुचि रहती है। इस कारण आज के साहित्यकार प्रकृति-पर्यवेक्षण में कमजोर हैं। परन्तु प्रकृति के प्रति मेरा दृष्टिकोण रुचिपूर्ण है और मैं प्राकृतिक सौन्दर्य को देखकर आनन्दमग्न होता हूँ।

भाषा की बात –

प्रश्न 1.
‘दस दिन फूले और फिर खंखड़ के खंखड़’। इस लोकोक्ति से मिलते-जुलते कई वाक्यांश पाठ में हैं। उन्हें छाँट कर लिखें।
उत्तर :

ऐसे दुमदारों से तो लैंडूरे भले।
जो फरा सो झरा, जो बरा सो बुताना।
न ऊधो का लेना, न माधो का देना।
जमे कि मरे।
किये-कराये का लेखा-जोखा मिलाना।

  1. खून-खच्चर का बवण्डर बहना। इन्हें भी जानें … अशोक वृक्ष-भारतीय साहित्य में बहुचर्चित एक सदाबहार वृक्ष। इसके पत्ते आम के पत्तों के समान होते हैं। वसन्त-ऋतु में इसके फूल लाल-लाल गुच्छों के रूप में आते हैं। इसे कामदेव के पाँच पुष्पबाणों में से एक माना गया है। इसके फल सेम की तरह होते हैं। इसके सांस्कृतिक महत्त्व का अच्छा चित्रण हजारी प्रसाद द्विवेदी ने निबंध अशोक के फूल में किया है।

अरिष्ठ वृक्ष-रीठा नामक वृक्ष। इसके पत्ते चमकीले हरे होते हैं। रीठा पेड़ की डालियों व तने पर जगह-जगह काँटे उभरे होते हैं। इसके फल को सुखाकर उसके छिलके का चूर्ण बनाया जाता है, जो बाल और कपड़े धोने के काम भी आता है। आरग्वध वृक्ष-लोक में इसे अमलतास कहा जाता है। भीषण गर्मी की दशा में जब इसका पेड़ पत्रहीन ढूंठ-सा हो जाता है, पर इस पर पीले-पीले पुष्प गुच्छे लटके हुए मनोहर दृश्य उपस्थित करते हैं।

इसके फल लगभग एक-डेढ़ फुट के बेलनाकार होते हैं जिसमें कठोर बीज होते हैं। शिरीष वृक्ष-लोक में सिरिस नाम से मशहूर पर एक मैदानी इलाके का वृक्ष है। आकार में विशाल होता है पर पत्ते बहुत छोटे-छोटे होते हैं। इसके फूलों में पंखुड़ियों की जगह रेशे-रेशे होते हैं।

RBSE Class 12 शिरीष के फूल Important Questions and Answers
लघूत्तरात्मक प्रश्न –

प्रश्न 1.
“हाय, वह अवधूत आज कहाँ है!”शिरीष के फूल’ निबन्ध के आधार पर बताइए कि उपर्युक्त वाक्य किसके लिए और क्यों कहा गया है?
उत्तर :
द्विवेदीजी ने यह वाक्य महात्मा गाँधी के लिए कहा है। जिस प्रकार शिरीष के फूल भयंकर लू और गर्मी में भी खिलते रहते हैं, आत्मबल से वे विपरीत स्थितियों का सामना करते हैं, इसी प्रकार गाँधीजी अनासक्त रखकर, सुख दुःख आदि से निश्चिन्त रहकर आत्मबल से सदैव संघर्ष करते रहे और अपने लक्ष्य में सफल रहे।

प्रश्न 2.
शिरीष के वृक्ष, कबीर और कालिदास में हजारीप्रसादजी ने क्या समानताएँ देखीं और क्यों?
उत्तर :
हजारीप्रसाद द्विवेदी ने शिरीष के वृक्ष, कबीर और कालिदास में मस्तमौला तथा फक्कड़ स्वभाव की विशेषताएँ देखीं। जीवन में संकटग्रस्त रहते हुए भी कबीर अपने सिद्धान्तों से विचलित नहीं हुए, कालिदास भी योगियों की भाँति मोह . मुक्त रहे और शिरीष का वृक्ष भी विपरीत मौसम, लू-गर्मी में भी मस्त होकर खिला रहता है।

प्रश्न 3.
शिरीष को एक अदभुत अवधुत क्यों कहा है? पाठ ‘शिरीष के फूल’ के आधार पर समझाइए।
उत्तर :
अवधूत सर्दी, गर्मी, सुख, दु:ख आदि सभी स्थितियों में निश्चिन्त रहता है। वह फक्कड़ और मस्त बना रहता है तथा उस पर विपरीत परिस्थितियों का प्रभाव नहीं पड़ता है। उसी प्रकार जब गर्मी तथा लू से सारा संसार सन्तप्त रहता है, तब भी शिरीष लहलहाता रहता है। इसी कारण उसे अद्भुत अवधूत कहा है।

प्रश्न 4.
‘शिरीष के फूल’ के माध्यम से लेखक ने संघर्षशीलता एवं जिजीविषा की जो व्यंजना की है, उसे स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
भयंकर गर्मी, लू एवं तपन से जब सारे पेड़-पौधे झुलसने लगते हैं, सभी पेड़ पुष्परहित हो जाते हैं, तब भी शिरीष का वृक्ष हरा-भरा और पुष्पों से लदा रहता है। यह वायुमण्डल से रस ग्रहण करता है। इस तरह यह विपरीत दशा में भी संघर्षशीलता एवं जिजीविषा रखता है।

प्रश्न 5.
शिरीष के फूलों को देखकर लेखक को किनकी और क्यों याद आती है? समझाइए।
उत्तर :
शिरीष के फूलों को देखकर लेखक को उन नेताओं की याद आती है, पुरानी पीढ़ी के उन लोगों की याद आती है, जो पद-लिप्सा और अधिकार-लिप्सा रखते हैं, जो जमाने का रुख नहीं पहचानते हैं और नयी पीढ़ी के लोग जब तक उन्हें धक्का मारकर निकाल नहीं देते तब तक जमे रहते हैं।

प्रश्न 6.
शिरीष के फूल से हमें क्या शिक्षा मिलती है? ‘शिरीष के फूल’ नामक अध्याय के आधार पर समझाइए।
उत्तर :
शिरीष के फूल के माध्यम से हमें संघर्ष एवं कोलाहल से परिपूर्ण विपरीत स्थितियों में भी अविचल रहकर जिजीविषा रखने की शिक्षा मिलती है। इससे हमें धैर्य रखकर, लोकहित का चिन्तन कर कर्त्तव्यशील बने रहने की शिक्षा
भी मिलती है।

प्रश्न 7.
‘शिरीष के फूल’ निबन्ध में लेखक ने साहित्यकारों का क्या दायित्व बताया है? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
यही कि साहित्यकार अनासक्त रहें। केवल लाभ-हानि का लेखा-जोखा मिलाने में ही नहीं उलझें। साहित्यकारों का दायित्व केवल बाह्य-सौन्दर्य का चित्रण करना नहीं है, अपितु उन्हें सौन्दर्य के बाहरी आवरण को भेदकर उसके भीतर के सौन्दर्य-तत्त्व को उद्घाटित करना है।

प्रश्न 8.
“पुराने की यह अधिकार-लिप्सा क्यों नहीं समय रहते सावधान हो जाती?” इस कथन से क्या भाव व्यक्त हुआ है?
उत्तर :
यह भाव व्यक्त हुआ है कि जब तक नया पुष्पांकुर नहीं आ जाता, तब तक शिरीष का पुष्प अपने वृन्त पर डटा रहता है। उसे नये फल-पत्तों के द्वारा धकियाकर हटाया जाता है। इसी प्रकार पुरानी पीढ़ी के लोग अधिकार-लिप्सा से ग्रस्त रहते हैं और समय रहते नयी पीढ़ी के लिए स्थान नहीं छोड़ते हैं। फलस्वरूप नयी पीढ़ी द्वारा उन्हें बलात् हटाया जाता है।

प्रश्न 9.
“दुरन्त प्राणधारा और सर्वव्यापक कालाग्नि का संघर्ष निरन्तर चल रहा है।” इससे लेखक ने क्या सन्देश दिया है?
उत्तर :
लेखक ने यह सन्देश दिया है कि संसार में प्राणियों की मृत्यु शाश्वत सत्य है, इसलिए हमें मृत्यु से नहीं डरना चाहिए। जिस प्राणी में थोड़ी भी ऊर्ध्वमुखी प्राणधारा होती है, जीवनी-शक्ति होती है, वह महाकाल के कोड़ों की मार से कुछ समय तक बचे रहता है। अतः जीवन में आगे बढ़ते रहो, संघर्ष करते रहो।

प्रश्न 10.
“अवधूतों के मुंह से ही संसार की सबसे सरस रचनाएँ निकली हैं।” इस प्रसंग में लेखक ने किन्हें अवधूत बताया है और क्यों?
उत्तर :
इस प्रसंग में लेखक ने महाकवि कालिदास और कबीरदास को अवधूत बताया है। क्योंकि कालिदास ने अनासक्त भाव एवं उन्मुक्त हृदय से ‘मेघदूत’ जैसे काव्य की रचना की, तो कबीरदास ने भी बेपरवाह और उन्मुक्त रहकर अपनी साखियों में जो कुछ कहा, वह सरस, मादक एवं यथार्थ के साथ लोकोपकारी रहा।

प्रश्न 11.
शिरीष वृक्ष को लक्ष्य कर लेखक ने किस सांस्कृतिक गरिमा की ओर संकेत किया है? . उत्तर : लेखक ने शिरीष वृक्ष को भारतीय संस्कृति का प्रतीक बताया है। प्राचीन काल में वैभव-सम्पन्न लोगों की वाटिका में शिरीष वृक्ष अवश्य रोपा जाता था। वृहत्संहिता में मांगलिक वृक्षों में शिरीष का भी अन्य छायादार वृक्षों के साथ उल्लेख हुआ है। साहित्य में इसकी सांस्कृतिक गरिमा का काफी उल्लेख हुआ है।

प्रश्न 12.
‘शिरीष के फूल’ निबन्ध में साहित्यकारों को जो सन्देश दिया गया है, उसे स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
‘शिरीष के फूल’ निबन्ध में द्विवेदीजी ने साहित्यकारों एवं रचनाधर्मियों को सन्देश दिया है कि वे लाभ हानि का लेखा-जोखा न रखकर सामाजिक जीवन को उपयोगी साहित्य प्रदान करें। प्रशंसा-प्राप्ति के मोह में कठोर न बनकर जीवन-सत्य एवं काव्यानुभूति में समन्वय रखें।

प्रश्न 13.
“शिरीष रह सका है। अपने देश का एक बूढ़ा रह सका था।” इस कथन से शिरीष से किसकी समानता बतायी गई है और क्यों?
उत्तर :
उक्त कथन से शिरीष से गाँधीजी की समानता बतायी गई है। स्वतंत्रता संग्राम के समय गाँधीजी अविचल रहकर शान्ति स्थापित करने और अहिंसा का पक्ष लेने में लगे रहे। वे शिरीष के फूल के समान वायुमण्डल से रस लेकर इतने कठोर और कोमल बन सके थे, अनासक्त और स्थिर रह सके थे।

प्रश्न 14.
संसार में अति प्रामाणिक सत्य क्या है? उस सत्य की उपेक्षा कौन और क्यों करते हैं?
उत्तर :
द्विवेदीजी बताते हैं कि संसार में जरा और मृत्यु दो अति प्रामाणिक सत्य हैं। जो जन्म लेता है, वह वृद्ध होने के बाद मृत्यु को प्राप्त होता है। परन्तु उक्त सत्य की उपेक्षा नेता लोग करते हैं तथा वृद्धजन भी करते हैं। वे अशक्त और वृद्ध होने पर भी अधिकार-लिप्सा से ग्रस्त रहते हैं और नयी पीढ़ी द्वारा धक्का मारने से ही हटते हैं।

प्रश्न 15.
काल के कोड़ों की मार से कौन बच सकता है? ‘शिरीष के फूल’ पाठ के आधार पर बताइये।
उत्तर :
काल निरन्तर कोड़े बरसाता रहता है, परन्तु जो लोग अपनी जगह पर जमे रहते हैं, वे काल की मार से नहीं बच पाते हैं। परन्तु जो सदैव गतिशील रहते हैं, स्थान बदलते रहते हैं और अपना मुँह आगे की ओर करके बढ़ते रहते हैं, वे कर्मशील एवं गतिशील व्यक्ति काल की मार से बच सकते हैं।

प्रश्न 16.
“जब-जब शिरीष की ओर देखता हूँ, तब-तब हूक उठती है।” लेखक को हूक क्यों उठती है? बताइये।
उत्तर :
आज भारत में स्वार्थपरता और भ्रष्टाचार का बोलबाला है। गरीब जनता अत्याचार और शोषण से कराह रही है। गाँधीजी की तरह कर्मयोगी की आज सर्वाधिक जरूरत है, जो शोषित-पीड़ित जनता का मार्गदर्शन कर सके, परन्तु लेखक को ऐसा व्यक्ति नहीं दिखाई दे रहा है। इसी से उसका हृदय कराह रहा है।

प्रश्न 17.
‘शिरीष निर्घात फलता रहता है’। लेखक ने ऐसा क्यों कहा है?
उत्तर :
शिरीष जेठ महीने की गर्मी में, जो कि प्रचण्ड गर्मी का महीना होता है। उसमें फलता-फूलता है। बसन्त के आगमन के साथ ही खिल उठता है और आषाढ़ के महीने तक खिला रहता है। इससे भी ज्यादा इसका मन रम जाता है तो बिना बाधा भादों में भी फला-फूला रहता है। इसलिए लेखक ने शिरीष को निर्घात फूलता है, कहा है।

प्रश्न 18.
शिरीष किन विपरीत परिस्थितियों में जीता है?
उत्तर :
जेठ की चिलचिलाती धूप हो या पृथ्वी निर्धूम अग्निकुण्ड बनी हुई हो, शिरीष ऊपर से नीचे तक फूलों से लदा रहता है। बहुत कम पुष्प ही इस तपती धूप में जीवित रह पाते हैं लेकिन वायुमण्डल से रस खींचने वाला शिरीष विषम परिस्थितियों में भी जीवन जीता है।

प्रश्न 19.
शिरीष के फूलों के सम्बन्ध में तुलसीदासजी का क्या कहना है?
उत्तर :
तुलसीदासजी ने शिरीष के फूलों के विषय में कहा है कि इस धरती पर अभी तक यही प्रमाणित हुआ है कि जो खिलता है वह अवश्य कुम्हलाकर झड़ जाता है और जो झड़ता है वह पुनः विकसित होकर खिलता है, निर्माण ध्वंस का क्रम शाश्वत चलता रहता है।

प्रश्न 20.
लेखक ने शिरीष के फूलों की तुलना किससे और क्यों की है?
उत्तर :
लेखक ने शिरीष के फूलों की तुलना कालजयी अवधूत से की है क्योंकि शिरीष अवधूत की भाँति ही हर परिस्थिति में मस्त-मौला रहकर जीवन को खुशी से जीने का सन्देश देता है। शिरीष का फूल सुख-दुःख में समान रूप से स्थिर रहकर अजेय योद्धा की भाँति कभी पराजय स्वीकार नहीं करता है

निबन्धात्मक प्रश्न –

प्रश्न 1.
‘जरा और मृत्यु दोनों ही जगत के अतिपरिचित और अतिप्रामाणिक सत्य हैं’ विचार व्यक्त कीजिए।
उत्तर :
जरा (वृद्धावस्था) और मृत्यु दोनों ही संसार के लिए प्रामाणिक और कटुसत्य हैं। भागवत गीता में भी कहा गया है कि जिसका जन्म हुआ उसकी मृत्यु निश्चित है। मृत्यु के पश्चात् आत्मा काया को त्यागकर पुनः नवीन वस्त्र (काया) धारण करती है। यह क्रम निरन्तर बिना रुके चलता ही रहता है। तुलसीदास ने कहा भी है जो फरा सो झरा, जो बुरा सो बुताना’ अर्थात् जो खिला वह अवश्य कुम्हलायेगा या झर जायेगा, जो झर गया वह फिर खिलेगा। जीवन में निर्माण के साथ ही उसका ध्वंस तय है। यह सृष्टि का नियम है। यह अलग बात है कि सबका समय अवश्य अलग अलग हो सकता है। निष्कर्षतः कहा जा सकता है कि जरा और मृत्यु दोनों ही तथ्य सत्य हैं। इसमें थोड़ा-सा भी सन्देह नहीं है।

प्रश्न 2.
लेखक ने कबीर को शिरीष के समान अवधूत क्यों बताया है?
उत्तर :
कबीर मस्तमौला व फक्कड़ स्वभाव के थे। जीवन की हर सम-विषम परिस्थिति को वे बड़े ही सहज भाव . से ग्रहण करते थे। निन्दा, अपमान, प्रशंसा का उन पर कभी कोई प्रभाव नहीं पड़ता था। उनके हृदय में जो भाता वे वही कहते थे। बिना किसी लाग-लपेट एवं स्वार्थ के उनका सादा जीवन एक अवधूत की भाँति कर्मयोग से पूर्ण था।

उसी प्रकार शिरीष का फूल भी चाहे गर्मी हो या बरसात, वसन्त हो या ग्रीष्म, लू की भयंकर आग हो या कंपकंपाती ठंडी हवाएँ, वह हर दशा, स्थिति में मस्त होकर फलता-फूलता था। मौसम की कैसी भी परिस्थिति हो उस पर असर नहीं होता था। शिरीष कबीर की भाँति ही अनासक्त-अनाविल प्रवृत्ति का था।

प्रश्न 3.
लेखक ने कालिदास को अनासक्त योगी क्यों कहा है? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
कालिदासजी को निन्दा, मान-अपमान, प्रशंसा से कोई लेना-देना नहीं था। यश-लिप्सा से वे कोसों दूर थे। किसी भी प्रकार की लालसा व कामना उनके हृदय में नहीं थी। वे सस्ता एवं अधिकार लिप्सा के घोर विरोधी थे। ऐसे व्यक्ति आने वाली पीढ़ी की उपेक्षा को भी सहन कर लेते थे। कालिदास ने अपने शृंगारिक वर्णन में अनासक्त भाव का भली-प्रकार विवेचन किया है। ‘मेघदूत’ काव्य उनके अनासक्त एवं अनाविल हृदय से निकली प्रशंसनीय कृति है।

जिसमें भाव-प्रवणता उच्च कोटि की वर्णित हई है। जो किसी अनासक्त योगी के हृदय में पायी जा सकती है। वे स्थितप्रज्ञ एवं अनासक्त योगी बनकर कवि सम्राट के आसन पर प्रतिष्ठित हुए। अन्त में कहा जा सकता है कि जिस प्रकार शिरीष का फूल हर विषम परिस्थिति में फलता-फूलता एवं मुस्कराता रहता है उसी प्रकार कालिदास भी सच्चे अनासक्त की भाँति – अविचल खड़े रहते थे।

प्रश्न 4.
शिरीष से हमें किन गुणों की प्रेरणा मिलती है? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
शिरीष जीवन में अनेक गुणों की शिक्षा देता है। जीवन में दुःख के आने पर मनुष्य दुःखी, चिंतित एवं निराश हो जाता है वैसे ही सुख आने पर गर्व से झूमने लगता है, खुशियाँ मनाता है। सुख और दुःख के क्रम चक्र की भाँति परिवर्तित होते रहते हैं। आज दुःख का रुदन है तो कल खुशी की किलकारी, इन्हीं सब बातों को स्वयं पर चरितार्थ करता शिरीष हमें हर परिस्थिति में आगे बढ़ने की प्रेरणा देता है। सत्ता एवं मोह के प्रति अधिकार भावना.से लिप्त न रहें।

जो व्यक्ति निरन्तर भौतिकता के प्रति लोलुप भावना संचित रखता है उसकी पराजय निश्चित है। धैर्य, साहस एवं तटस्थता जीवन के अपेक्षित गुण हैं, इन्हें अपने जीवन में सदैव धारण रखने चाहिए। आगे की तरफ मुँह करके निरन्तर कर्म करते रहें, स्थान परिवर्तन सृष्टि का नियम है, उससे मुँह ने मोड़ें, जड़ता को छोड़ गतिशील बनें, यही शिरीष द्वारा हमें शिक्षा और प्रेरणा मिलती है।

प्रश्न 5.
ललित निबन्ध के आधार पर ‘शिरीष के फूल’ निबन्ध की विशेषताओं पर प्रकाश डालिए।
उत्तर :
साहित्य, संस्कृति एवं दर्शन के परिप्रेक्ष्य में ललित निबंधों की रचना हुई। ‘शिरीष के फूल’ निबन्ध में मानवतावादी दृष्टिकोण तथा कवि हृदय की छाप है। इससे उनके पांडित्य, बहुज्ञता तथा विविध विषयों से सम्बन्धित ज्ञान का पता चलता है। द्विवेदीजी ने शिरीष को माध्यम बनाकर मानवीय आदर्शों को व्यंजित किया है। निबन्धकार ने भीषण गर्मी और लू में भी हरे-हरे और फूलों से लदे रहने वाले शिरीष की तुलना अवधूत से की है।

इसके माध्यम से जीवन के संघर्षों में अविचलित रहकर लोकहित में लगे रहने तथा कर्त्तव्यशील बने रहने के श्रेष्ठ मानवीय मूल्यों पर जोर दिया। शिरीष के अपने स्थान पर जमे रहने वाले कठोर फलों द्वारा भारत के सत्ता लोलुप नेताओं पर व्यंग्य किया गया है। अनासक्ति और फक्कड़ाना मस्ती को जीवन के लिए आवश्यक माना है। शिरीष के फूल में बुद्धि की अपेक्षा मन को प्रभावित किया गया है। यही ललित निबन्ध की विशेषता है। भाषा सरल और सरस है। शैली कवित्वपूर्ण एवं लालित्ययुक्त है।

प्रश्न 6.
कालिदास ने शिरीष की कोमलता और द्विवेदीजी ने शिरीष की कठोरता के विषय में क्या कहा है? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
कालिदास और संस्कृत साहित्य में शिरीष के फूलों को अत्यन्त कोमल माना गया है। कालिदास कहते हैं कि शिरीष का पुष्प केवल भंवरों के पैरों का भार ही सहन कर सकता है, पक्षियों का नहीं। द्विवेदीजी उनके इस मत से बिल्कुल भी सहमत नहीं हैं। उनका मानना है कि शिरीष के फूलों को कोमल मानना बड़ी भूल है। इसके फल इतने मजबूत होते हैं कि नए फूलों के निकल आने पर भी स्थान नहीं छोड़ते हैं।

जब तक नए फल, पत्ते, पुराने फलों को धकिया कर बाहर नहीं कर देते, तब तक वे डटे रहते हैं। वसन्त के आने पर जब सारी प्रकृति पुष्पों के पत्रों पर मधुर गुंजार करती रहती है तब भी शिरीष के पुराने फल बुरी तरह लड़खड़ाते रहते हैं। और इन्हीं मजबूत पुराने फलों को लेखक ने नेताओं के संदर्भ में प्रयोग किया है कि जब तक युवा पीढ़ी धकिया कर इन्हें सत्ता से बाहर नहीं करती ये स्वयं नहीं जाते हैं।

प्रश्न 7.
शिरीष के फूलों की तीन प्रमुख विशेषताएँ बताइये जो सिद्ध करें कि यह एक कालजयी अवधूत है।
उत्तर :
द्विवेदीजी ने शिरीष को कालजयी अवधत कहा है। इसकी निम्न विशेषताएँ इस प्रकार हैं

  1. यह अवधूत की तरह हर तरह की विषम परिस्थिति में रहता है।
  2. यह भीषण गर्मी में भी सरस फूलों से लदा रहता है तथा अपनी कोमलता व सहजता बनाए रखता है।
  3. यह प्रकृति से कोमल एवं बाह्य स्वभाव से कोमल होता है। हर परिस्थिति को अपनी कठोरता से सरल बनाता है।

रचनाकार का परिचय सम्बन्धी प्रश्न –

प्रश्न 1.
लेखक हजारी प्रसाद द्विवेदी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डालिए।
उत्तर :
हजारी प्रसाद द्विवेदी का जन्म उत्तरप्रदेश के बलिया जिले के एक गाँव छपरा में 1907 में हुआ था। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से ज्योतिषाचार्य की उपाधि प्राप्त कर शान्ति निकेतन में हिन्दी भवन के निदेशक रहे। अनेक स्थानों पर हिन्दी अध्यापन का कार्य किया। ये कई भाषाओं के ज्ञाता थे।

इनकी प्रमुख रचनाएँ अशोक के फूल, कुटज, विचार प्रवाह, आलोकपर्व (निबंध-संग्रह); बाणभट्ट की आत्मकथा, अनामदास का पोथा, पुनर्नवा (उपन्यास); हिन्दी साहित्य का आदिकाल, हिन्दी साहित्य की भूमिका (आलोचना-ग्रंथ) इत्यादि हैं। इनकी सांस्कृतिक दृष्टि प्रभावशाली एवं मूल चेतना विराट मानवतावाद है। इन्हें भारत सरकार द्वारा ‘पद्म भूषण’ प्राप्त हुआ। साहित्य रचना करते हुए इनका निधन 1979 दिल्ली में हुआ।

शिरीष के फूल Class 12 Aroh Question Answer