Chapter 4 In the Kingdom of Fools

Textbook Questions and Answers

Think About It :

Question 1. 
What are the two strange things the guru and his disciple find in the Kingdom of Fools? 
मूखों के राज्य में गुरु तथा उसके चेले को कौनसी दो अजीब बातें मिलती हैं?
Answer: 
The first is that it was broad daylight but there was no one about. Everyone was asleep. Even, the cattle were asleep too. The second is that the whole town woke up . in the evening and in the market everything cost the same, a single duddu – whether it is rice or banana or other grocery.

प्रथम यह है कि यह दिन का समय था फिर भी एक भी व्यक्ति दिखाई नहीं दे रहा था। प्रत्येक सोया हुआ था। यहाँ तक कि पशु भी सोए हुए थे। दूसरा यह कि पूरा कस्बा शाम को जागा और बाजार में भी प्रत्येक वस्तु का दाम समान था, एक डूडू-चाहे यह चावल है या केला है या अन्य खाद्य-सामग्री है।

Question 2. 
Why does the disciple decide to stay in the Kingdom of Fools? Is it a good idea?
शिष्य मूखों के राज्य में ठहरने का निश्चय क्यों करता है? क्या यह अच्छा विचार है?
Answer: 
The disciple decides to stay in the Kingdom of Fools because of his love for cheap and good food there. It is not a good idea. It is dangerous to live with fools. You never know what they will do to you next.

शिष्य मूों के राज्य में रहने का निश्चय सस्ते व अच्छे भोजन की उपलब्धता के अपने प्रेम के कारण करता है। यह सुविचार नहीं है। मूखों के साथ रहना खतरनाक है। आप नहीं जान पायेंगे कि आगे वे आपके साथ क्या करेंगे।

Question 3. 
Name all the people who are tried in the King’s court, and give the reasons for their trial.
उन सब व्यक्तियों के नाम बताओ जिन्हें दरबार में मुकदमे के लिए बुलाया जाता है और उन पर मुकदमे का कारण भी बताओ। 
Answer:
First of all the merchant whose wall collapsed causing thief’s death was called for getting such a weak wall constructed. He put the blame on the mason who built the wall. The mason was called. He told that his attention was diverted by a dancing girl who kept on going up and down the street. So the fault was of the dancing girl.

The dancing girl when called, put the blame on the goldsmith who made her walk up and down the street several times making false promises. The goldsmith passed on the blame to the rich merchant who had ordered to make jewellery for him urgently. This merchant happened to be the original owner of the house whose wall had collapsed and killed the thief. But he had died so his son was called again and sentenced to be hanged.

सर्वप्रथम, उस व्यापारी/सौदागर को बुलाया गया जिसने इतनी कमजोर दीवार बनवाई थी कि वह गिर गई थी। उसने, दीवार बनाने वाले कारीगर पर दोषारोपण कर दिया। कारीगर को बुलाया गया। उसने बताया कि उसका ध्यान एक नर्तकी ने बाँट दिया था। जो बार-बार गली से ऊपर-नीचे जाती थी।

नर्तकी को जब बुलाया गया तो उसने सुनार पर आरोप लगाया जो झूठे वादों से आभूषणों के लिए बार-बार गली से ऊपर-नीचे जाने को बाध्य करता था। सुनार ने उस समृद्ध व्यवसायी पर आरोप लगाया जिसने अर्जेन्ट आभूषण तैयार करवाने का आदेश दिया हुआ था। संयोग से यह व्यापारी उस ही घर का वास्तविक मालिक था जिसकी दीवार गिरी थी और चोर को मार दिया था। किन्तु वह मर चुका था इसलिए उसके पुत्र को पुनः बुलाया गया और फाँसी की सजा सुनाई गई।

Question 4. 
Who is the real culprit according to the king? Why does he escape punishment?
राजा के अनुसार असली अपराधी कौन है? वह राजा से कैसे बच जाता है?
Answer: 
The rich merchant whose wall collapses and kills the burglar is the real culprit. He escapes punishment because he is too thin to fit in the newly made stake.

समृद्ध व्यवसायी, जिसकी दीवार गिरती है और सेंधमार को मार देती है, वास्तविक दोषी है। वह सजा से बच जाता है क्योंकि वह इतना पतला था कि नये बनाये फाँसी के तख्ते में नहीं आ सकता था।

Question 5. 
What are the Guru’s words of wisdom? When does the disciple remember them?
गुरु की बुद्धिमत्ता के शब्द क्या थे? शिष्य ने यह कब महसूस किया?
Answer: 
Guru’s word of wisdom are; “this is no place for us; let’s go; they are all fools; this won’t last very long; you can’t tell what they’ll do to you next. The disciple remembers them when the king’s men found him fit for the stake without his fault.

गुरु के बुद्धिमानी के शब्द हैं; “यह स्थान हमारे लिए नहीं है; चलो चलते हैं; वे सभी मूर्ख हैं; यह बात लम्बे समय चलने वाली नहीं; आप नहीं बता सकते कि आगे वे आपके साथ क्या करेंगे।” शिष्य तब याद करता है जब बिना उसकी गलती के राजा के आदमी उसे सूली पर चढ़ाने को फिट पाते हैं। 

Question 6. 
How does the guru manage to save his disciple’s life? 
गुरु अपने शिष्य की जिन्दगी कैसे बचाता है?
Answer: 
The guru sees everything in a vision. He arrives at once to save his disciple. He tells something in a whisper to him. Then he requests the king to put him (the guru) to death first because he is greater. The disciple says that he wants death first. Thus, they get into a fight.

The king is puzzled. He asks the guru to solve this mystery. The guru says that whoever dies first will be reborn as the king of this country and whoever dies second will be reborn as the minister of this country. The next day, the king and the minister, owing to greed, put themselves on the stake. Thus, the guru manages to save his disciple.

गुरु मानसिक दृष्टि से प्रत्येक चीज देख लेता है। वह अपने शिष्य को बचाने तुरन्त आता है। वह, शिष्य को कुछ कानाफूसी करता है। फिर वह, राजा से कहता है कि बड़ा होने के कारण गुरु को पहले मृत्यु-दण्ड दिया जाए। शिष्य कहता है कि वह पहले मरना चाहता है। इस प्रकार वे झगड़ने लगते हैं। राजा घबरा जाता है।

वह गुरु से इस रहस्य को बताने को कहता है। गुरु बताता है कि जो पहले मरेगा वह इस देश के राजा के रूप में पुनर्जन्म लेगा और जो दूसरे नम्बर पर मरेगा वह इस देश के मन्त्री के रूप में पुनर्जन्म लेगा। अगले दिन, राजा व मन्त्री, लालच के कारण, अपने आपको सूली पर टॅगवा लेते हैं। इस प्रकार, गुरु अपने शिष्य को बचाने में सफल होता है। 

Talk About It :

Q. In Shakespeare’s plays the fool is not really foolish. If you have read or seen Shakespeare’s plays such as King Lear, As you Like It, Twelfth Night, you may talk about the role of the fool.
Do you know any stories in your language about wise fools, such as Tenali Rama or Gopal Bhar ? You can also read about them in Ramanujan’s collection of folk tales.

शेक्सपीयर के नाटकों में मूर्ख वास्तव में मूर्ख नहीं हैं। यदि आपने शेक्सपीयर के कुछ नाटक पढ़े या देखें हैं, जैसे – King Lear, As you Like It, Twelfth Night, तो आप इनमें मूर्ख की भूमिका के बारे में चर्चा करें। क्या आप अपनी भाषा में चतुर मूरों की कोई कहानियाँ जानते हैं, जैसे तेनालीराम या गोपाल भार? आप उन्हें रामानुजन के लोक कहानियों के संग्रह में भी पढ़ सकते हैं। 
Answer: 
In Shakespeare’s plays the fools are not really foolish. They are wise and understanding. Some of their activities do appear to be foolish but we can interpret deeper meaning implicit in them.

Take the example of Orlando in the play “As You Like It’. He seems to be a fool to compete a champion in a wrestling match. But his winning the match reflects his hidden strength and confidence of knowing the art of wrestling.

Again, though he seems to be mad carving Rosalind, the name of his beloved and the poems in her praise on the trees in the forest, yet it reflects his deep love for Rosalind.

In ‘King Lear’ the fool makes fun of those who stick to a great man in his prosperity and forsake him in his adversity.

शेक्सपीयर के नाटकों में मूर्ख वास्तव में मूर्ख नहीं हैं। वे बुद्धिमान और समझदार हैं। उनके कुछ क्रिया-कलाप अवश्य मूर्खतापूर्ण प्रतीत होते हैं, किन्तु हम उनके गम्भीर निहितार्थों की व्याख्या कर सकते हैं।

‘As You Like It’ नाटक में ऑरलेन्डो का उदाहरण लीजिए। जब वह कुश्ती के लिए एक चैम्पियन से प्रतियोगिता करता है, तो वह मूर्ख प्रतीत होता है। लेकिन उसका कुश्ती जीतना उसकी छिपी हुई शक्ति को तथा मल्ल-कला के ज्ञान के आत्मविश्वास को प्रतिबिम्बित करता है।

पुनः यद्यपि वह जंगल में पेड़ों पर अपनी प्रेमिका के नाम ‘रोजलिन्ड’ तथा उसकी प्रशंसा में लिखी गयी कविताओं की पच्चीकारी करता हुआ पागल नजर आता है, तथापि यह ‘रोजलिन्ड’ के प्रति उसके गहन प्रेम को प्रतिबिम्बित करता है। ‘किंग लिअर’ में मूर्ख उन लोगों की हँसी उड़ाता है जो समृद्धि में तो एक महान व्यक्ति का साथ देते हैं किन्तु बुरे दिनों में उसका साथ छोड़ देते हैं।

Story Once, Tenali Rama sold one small bundle of jute string in five lac rupees. The king had given Tenali Rama this jute bundle to sell out in two lac rupees. Tenali Rama went into a colony and started measuring the big houses of the rich. They asked about the measurement.

Tenali Rama told them that the road would be widened so their houses would be pulled down. They offered money in lacs to leave the houses safe. Tenali Rama collected the money. He gave it to the king who was very happy.

एक बार, तेनाली राम ने जेवड़ी के एक छोटे से बण्डल को पाँच लाख रुपये में बेचा। राजा ने तेनालीराम को यह बण्डल दो लाख में बेचने को दिया था। तेनाली राम एक कालोनी में गया और धनवान लोगों के घरों को इस जेवड़ी से नापना शुरू कर दिया। वे नाप के बारे में पूछने लगे। तेनाली राम ने उनको बताया कि सड़क चौड़ी होगी अतः उनके घर तोड़े जायेंगे। उन्होंने घर को सुरक्षित छोड़ने के लिए लाखों में धन का प्रस्ताव दिया। तेनाली राम ने धन एकत्रित किया। उसने यह (धन) राजा को दिया जो बहुत प्रसन्न हुआ।

Important Questions and Answers

I. Short Answer Type Questions :

Question 1. 
Why is it decided to execute the disciple? 
शिष्य को सूली पर चढ़ाने का निश्चय क्यों किया जाता है?
Answer: 
It is decided to execute the disciple because he is found to be fat enough to fit the new stake. As the convicted merchant is somehow too thin to be properly executed on the new stake.

यह निश्चय किया जाता है कि शिष्य को सूली दी जाए क्योंकि वह फाँसी के नये तख्त के लिए पर्याप्त रूप से मोटा व फिट पाया जाता है। क्योंकि दण्डित व्यवसायी कुछ इतना कमजोर है कि उसे ठीक से इस नये तख्त पर फाँसी नहीं दी जा सकती।

Question 2. 
Who was finally blamed for the crime and why?
किसे अपराध के लिए अन्तिम रूप से दोषी ठहराया गया और क्यों?
Answer: 
The merchant whose wall collapsed and killed the burglar was finally blamed for the crime because according to the king, a son inherits a criminal father’s riches and sins.

व्यवसायी जिसकी दीवार गिरी थी और सेंधमार को मारा था, को अन्तिम रूप से दोषी ठहराया जाता है क्योंकि राजा के अनुसार एक अपराधी पिता के पुत्र को ही उसकी (पिता की) सम्पदा व पाप विरासत में मिलते हैं।

Question 3. 
Count the changes in the disciple ‘In The Kingdom of Fools’. 
मूों के राज्य में शिष्य में आये परिवर्तनों की गिनती करें।
Answer: 
The changes in the disciple were the following: He grows fat. He looks like a street side sacred bull. He eats his fill everyday-bananas and ghee and rice and wheat.

शिष्य में निम्न परिवर्तन आये : वह मोटा हो जाता है। वह गली के पवित्र सांड के जैसे दिखता है। वह जी-भर कर प्रत्येक दिन खाता है – केले और घी और चावल और गेहूँ।

Question 4. 
What do the people do after the death of the king and the minister? 
राजा व मन्त्री की मृत्योपरान्त लोग क्या करते हैं? ।
Answer: 
After the death of the king and the minister, the people request the guru and the disciple, who are preparing to leave town unnoticed, to become their king and minister.

राजा व मन्त्री की मृत्योपरान्त लोग गुरु व शिष्य, जो कस्बे को चुपचाप छोड़ने की तैयारी कर रहे हैं, को राजा व मन्त्री बनने का निवेदन करते हैं।

Question 5.
Make an account of the teachings of this folk tale. 
इस लोक-कथा की शिक्षाओं का एक लेखा-जोखा बनायें।
Answer: 
The guru says that it is imprudent to live in the Kingdom of Fools. It may be dangerous anytime. The disciple realises that he is being executed because he disobeys his guru and surrenders to tongue-taste.

गुरु कहते हैं कि मूरों के राज्य में रहना अविवेकशीलता है। यह कभी भी खतरनाक हो सकता है। शिष्य महसूस करता है कि उसने गुरु की अवज्ञा की है और जीभ के स्वाद के आगे नतमस्तक हुआ है, इनके कारण उसे फाँसी हो रही है।

Question 6. 
How did the king and the minister want to run the Kingdom of Fools? 
राजा व मन्त्री, ‘मूरों के राज्य’ को कैसे चलाना चाहते थे?
Answer: 
They wanted to run the Kingdom of Fools not like other kings. They ordered to use night as day and day as night. Anyone who disobeyed would be punished with death.

वे ‘मूखों के राज्य’ को अन्य राजाओं के जैसे नहीं चलाना चाहते थे। उन्होंने रात्रि को दिन के जैसे व दिन को रात्रि के जैसे प्रयोग करने का आदेश दिया। जो कोई भी इसका उल्लंघन करेगा उसे मृत्यु की सजा दी जाएगी।

Question 7. 
What complain did the burglar’s brother make to the king? 
सेंधमार के भाई ने राजा से क्या शिकायत की थी?
Answer: 
The burglar’s brother complained the king that his brother was pursuing his ancient trade. The weak wall of the house of the merchant fell on him and killed him. The king must punish the merchant and compensate the family.

सेंधमार के भाई ने राजा से शिकायत की कि उसका भाई अपने पुराने धंधे पर था। व्यापारी के घर की कमजोर दीवार उस पर गिर गई और उसे मार डाला। राजा इस व्यापारी को दण्ड दे और परिवार को मुआवजा दिलवाए।

Question 8. 
How did the merchant plead his case before the king? 
व्यापारी ने राजा के समक्ष अपने केस की वकालत कैसे की?
Answer: 
The merchant pleaded before the king that the wall was built in his father’s time. The fault is of the bricklayer who built the weak wall. He lived nearby. So, the king should punish the bricklayer.

व्यापारी ने राजा को दलील दी कि वह दीवार उसके पिता के समय बनाई गई थी। यह गलती तो उस राजमिस्त्री की है जिसने कमजोर दीवार बनाई। वह समीप ही रहता था। अतः, राजा को राजमिस्त्री को दण्ड देना चाहिए।

Question 9. 
How could bricklayer save himself from the punishment? 
राजमिस्त्री स्वयं को दण्ड से कैसे बचा सका?
Answer: 
The bricklayer could save himself from the punishment by pleading that a young dancing girl distracted his attention. She went up and down that street all day with her jingling anklets. So, a bad wall got erected.

राजमिस्त्री स्वयं को सजा से यह दलील देकर बचा सका कि एक युवा नर्तकी ने उसका ध्यान भंग कर दिया था, वह दिन भर पायल की झंकार करते हुए उस गली से आती-जाती रहती थी। अतः, एक खराब दीवार का निर्माण हो गया।

Question 10. 
How did the dancing girl shift the fault on to the goldsmith? 
नर्तकी ने उस गलती को सुनार पर स्थानान्तरित कैसे कर दिया?
Answer: 
The dancing girl explained that she gave some gold to the goldsmith to make some jewellery. His false promises made her walk up and down that street all day. So, it is goldsmith’s fault.

नर्तकी ने स्पष्ट किया कि उसने सुनार को कुछ सोना, आभूषण बनाने को दिया था। उसके झूठे वादों ने दिन-भर उस गली में उसके चक्कर कटवा दिए। अतः यह सुनार की गलती है।

Question 11. 
How did the goldsmith save himself from the punishment? 
सुनार ने स्वयं को दण्ड से कैसे बचाया?
Answer: 
The goldsmith pleaded that he was to complete the rich merchant’s order first. The merchant had a wedding coming and he couldn’t wait. So he had to make false promises with the dancing girl. Thus, the fault was of the merchant.

सुनार ने दलील दी कि उसे उस धनी व्यापारी के आर्डर को पहले पूरा करना था। इस व्यापारी के यहाँ एक विवाह होने वाला था और वह प्रतीक्षा नहीं कर सकता था। अतः उसे नर्तकी से झूठे वादे करने पड़े थे। इस प्रकार, गलती उस व्यापारी की थी।

Question 12. 
Why couldn’t the son of the merchant be hanged? 
उस व्यापारी के पुत्र को फांसी क्यों नहीं दी जा सकी?
Answer: 
The son of the merchant couldn’t be hanged because it occurred to the minister that the rich merchant was too thin to be properly executed on the new stake.

उस व्यापारी के पुत्र को फांसी इसलिए नहीं दी जा सकी क्योंकि मन्त्री को ऐसा लगा कि वह धनी व्यापारी इतना पतला था कि उसे फांसी के नये तख्ते पर ठीक से फांसी नहीं दी जा सकती थी।

Question 13. 
How could the Kingdom of Fools become a normal kingdom? 
मूखों का राज्य एक सामान्य राज्य कैसे बन सका?
Answer: 
After the execution of the foolish king and the silly minister, the people persuaded the guru and his disciple to be the new king and the new minister respectively. Then, they re-established the normal order.

मूर्ख राजा व नासमझ मन्त्री की फांसी के बाद, लोगों ने गुरु व उसके शिष्य से क्रमशः नया राजा व नया मन्त्री बन जाने का आग्रह किया। उन्होंने, तब, सामान्य स्थिति पुनः बहाल कर दी। 

II. Long Answer Type Questions :

Question 1. 
You can’t tell what fools will do to you next. Substantiate.
आप नहीं कह सकते कि मूर्ख आगे आपके साथ क्या करेंगे। प्रमाणित करें।
Answer: 
It is evident from the case filed by the burglar’s brother and the failed attempt of the disciple’s execution. Burglar’s brother blames the merchant who blames the bricklayer who blames the dancing girl who blames the goldsmith who blames the rich merchant. The disciple is found fit for the new stake. Thus, fools are inpredictable.

यह सैंधमार के भाई द्वारा दायर किये गये केस व शिष्य को फाँसी देने के विफल प्रयास द्वारा प्रमाणित है। सैंधमार का भाई, व्यवसायी को आरोपित करता है, जो कारीगर को आरोपित करता है, जो नर्तकी को आरोपित करता है, जो सुनार को आरोपित करती है, जो समृद्ध व्यवसायी को आरोपित करता है। शिष्य को भी सूली के नये तख्त के लिए उपयुक्त पाया जाता है। अतः, मूखों के बारे में भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है।

Question 2. 
How is ‘In The Kingdom of Fools’ a folk tale? 
यह कहानी एक लोक-कथा कैसे है?
Answer: 
A folk tale is a popular old story told from generation to generation. It deals with everyday problem and the common people relate themselves with its characters. These tales are entertaining and instructive. This tale is being told from generations. This is entertaining. It creates suspense and surprise. This is instructive. We shouldn’t be greedy and be away from fools.

लोक-कथा एक लोकप्रिय प्राचीन कहानी है जिसे पीढ़ी-दर-पीढ़ी सुनाया गया है। यह नित्यप्रति की समस्याओं का समाधान देती है और आम आदमी इनके चरित्रों से अपने को सम्बन्धित करते हैं। ये कथाएँ मनोरंजक व शिक्षाप्रद होती हैं। यह कथा भी पीढ़ियों से सुनाई जा रही है। यह मनोरंजक है। यह रहस्य व विस्मय उत्पन्न करती है। यह शिक्षाप्रद है। हमें लालची नहीं होना चाहिए और मूखों से दूर रहना चाहिए।

Question 3. 
How is the life distinct ‘In The Kingdom of Fools’? 
इस कहानी में जीवन अलग कैसे है?
Answer: 
Life in this tale is distinct in this manner-Here, night has been changed into day and day into night. Everyone awakes at night, tills his fields, runs his business only after dark and goes to bed as soon as the sun comes up. Everything costs a duddu whether a measure of rice or a bunch of bananas.

जीवन इस कथा में इस तरह से भिन्न है…यहाँ रात को दिन में व दिन को रात में बदल दिया गया है। प्रत्येक व्यक्ति रात में जागता है, अपने खेत जोतता है, अँधेरे के बाद ही अपना व्यवसाय चलाता है और सोने तब जाता है जब सूर्य निकलता है। प्रत्येक चीज की कीमत एक डूडू है चाहे चावल की कोई मात्रा हो या केलों का एक गुच्छा हो।

Question 4. 
How does the kingdom become normal again? 
राज्य पुनः सामान्य कैसे बनता है?
Answer: 
The kingdom becomes normal again when the guru and the disciple finally agrees to rule the kingdom on the condition that they will change all the old laws. From then on, night becomes again a night and day becomes again a day. Now, one cannot get everything for a duddu. It becomes like any other place.

राज्य तब सामान्य बन जाता है जब गुरु व शिष्य आखिरकार उस राज्य का शासन करने को इस शर्त पर सहमत हो जाते हैं कि वे सभी पुराने नियमों को परिवर्तित करेंगे। और तब से ही, रात, रात बन जाती है और दिन, दिन बन जाता है । अब, एक डूडू में आप सभी चीज नहीं खरीद सकते हैं। यह भी दूसरे स्थानों जैसा बन जाता है।

Chapter 4 In the Kingdom of Fools