Chapter 8 The Tale of Melon City

Textbook Questions and Answers

Reading with Insight 

Question 1. 
Narrate ‘The Tale of Melon City’ in your own words.
‘The Tale of Melon City’ का अपने शब्दों में वर्णन कीजिए। 
Answer: 
This poem is about a whimsical king. He orders an arch to be constructed. But it is very low. The king’s crown is lost under it. He feels humiliated and orders to hang the culprit. But nobody is found guilty. He says that the nation wants hanging someone must be hanged soon.

A noose is setup somewhat high in which no one else but the king is fitted. So he is hanged. According to the state custom, the first person who visits the country will choose their king. It is a foolish who chooses their king a melon. Thus, the selfish people of his kingdom get a non-interfering king for themselves. 

यह कबिता एक सनकी राजा के बारे में है। वह एक मेहराब बनाने का आदेश देता है। लेकिन यह (मेहराब) बहुत नीचा (बनाया गया) है। जब राजा इसके नीचे आता है तो उसका ताज गिर जाता है। वह अपमानित महसूस करता है तथा अपराधी को शीघ्र फाँसी लगाने का आदेश देता है। लेकिन किसी को भी अपराधी नहीं पाया जाता।

वह कहता है कि राष्ट्र चाहता है कि किसी को फाँसी लगाई जाए। कुछ ऊँचाई पर एक फाँसी का फन्दा लटकाया जाता है जिसमें कोई और नहीं बल्कि स्वयं राजा फिट बैठता है। इसलिए उसको फाँसी लगा दी जाती है। राज्य की प्रथा के अनुसार, वह पहला व्यक्ति जो शहर में आएगा राजा को चुनेगा। एक मूर्ख एक तरबूज को उनका राज्य चुनता है। इस प्रकार, स्वार्थी लोगों ने अपने लिए एक हस्तक्षेप न करने वाले राजा को चुना। 

Question 2. 
What impression would you form of a state where the King was ‘just and placid’ ?
आप उस राज्य की क्या छवि अपने मस्तिष्क में बनायेंगे जहाँ का राजा ‘न्यायप्रिय तथा शान्त’ था ? 
Answer: 
This poem satirises the fickle-mindedness of a ‘just and placid king’. He lives in a fool’s paradise. He is not good in taking decisions. He can be easily carried away. In such a state nobody is safe. The king’s decision leads him to his own destruction. The ministers and people thank God that they got someone to be hanged. It does not matter for them whether their king is a man or a melon.

यह कविता ‘एक न्यायप्रिय तथा शान्त’ राजा की मानसिक-अस्थिरता पर व्यंग्य करती है। वह मूर्तों के स्वर्ग में रहता है। वह निर्णय लेने में सक्षम नहीं है (अर्थात वह निर्णय नहीं ले सकता)। उसको आसानी से बहकाया जा सकता है। इस प्रकार के राज्य में कोई भी सुरक्षित नहीं है। राजा के निर्णय उसे स्वयं के विनाश की ओर ले जाते हैं। मंत्री तथा जनता ईश्वर को धन्यवाद देते हैं कि उन्हें फाँसी पर चढ़ाने के लिए कोई तो मिला। उनको इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि उनका राजा एक व्यक्ति है अथवा एक तरबूज है। 

Question 3. 
How, according to you, can peace and liberty be maintained in a state ?
आपके अनुसार, एक राज्य में शान्ति तथा स्वतन्त्रता कैसे कायम की जा सकती है ? 
Answer: 
Peace and liberty are needed for the growth and prosperity of a nation. A mighty, just and honest ruler can maintain peace and liberty. The citizens have to be peace-loving, lawabiding and patriotic. They should follow the policy of “Live and let live”. 

एक राष्ट्र की उन्नति तथा समृद्धि के लिए शान्ति तथा स्वतन्त्रता आवश्यक हैं। एक साहसी, न्यायप्रिय तथा ईमानदार शासक ही शान्ति तथा स्वतंत्रता कायम कर सकता है। नागरिकों को भी शान्ति-प्रिय, कानून का पालन करने वाला तथा देशभक्त बनना होगा। उन्हें ‘जियो और जीने दो’ की नीति अपनानी चाहिए। 

Question 4. 
Suggest a few instances in the poem which highlight humour and irony.
कविता से कुछेक उदाहरण दीजिए जो हास्य तथा व्यंग्य पर प्रकाश डालते हों। 
Answer: 
The opening line of the poem is ironical “There was a just and placid king’. It is humorous that though the king is placid, still he gets agitated on a small issue. He is easily befooled by others. The hanging of the king, by his own decree is also humorous. The wise old man’s advice is also not wise as he chooses a melon. It’s ironic that only the king himself fits the noose.

कविता की पहली पंक्ति ‘वहाँ पर एक न्यायप्रिय तथा शान्त राजा राज्य करता था’ व्यंग्यात्मक है। यह बात हास्यास्पद है कि यद्यपि राजा शान्त प्रकृति का है फिर भी वह छोटी-सी बात पर उत्तेजित हो उठता है। उसे दूसरों के द्वारा आसानी से मूर्ख बना दिया जाता है। राजा के आदेश के द्वारा उसे स्वयं को फांसी लगाया जाना भी हास्यास्पद है। बुद्धिमान बूढ़े व्यक्ति की सलाह भी बुद्धिमत्तापूर्ण नहीं है क्योंकि वह तरबूज चुनता है। यह भी विडम्बना है कि फन्दा राजा के गले में ही सही बैठता है।

Question 5. 
‘The Tale of Melon City’ has been narrated in a verse form. This is a unique style which lends extra charm to an ancient tale. Find similar examples in your language: Share them in the class. 
Answer: 
Try it yourself with the help of your teacher.

Important Questions and Answers

Short Answer Type Questions 

Question 1. 
What do you know about the king ? 
आप राजा के बारे में क्या जानते हैं ? (Content, Episode) 
Answer: 
The king is very eccentric and can be easily influenced by others. He has no logical sense of justice. He is a good for nothing fellow. He is dependent on his courtiers. 

राजा बहुत ही सनकी है तथा उसे दूसरों के द्वारा आसानी से प्रभावित किया जा सकता है। उसमें न्याय करने की तार्किक समझ नहीं है। वह किसी भी कार्य के लिए उपयुक्त व्यक्ति नहीं है। वह अपने दरबारियों पर निर्भर रहता है। 

Question 2. 
Why does he want an arch to be constructed ? (Content)
वह एक मेहराब का निर्माण कराना क्यों चाहता है ? 
Answer: 
He proclaims an arch to be constructed a mark of his glory. He wants it to be constructed across the major thoroughfare of the state. From it he wants to edify and instruct the spectators. 

वह अपने गौरव की निशानी के रूप में एक मेहराब बनवाने की घोषणा करता है। वह चाहता है कि मेहराब को राज्य की मुख्य सड़क के आर-पार बनवाया जाए। (इसके ऊपर खड़ा होकर) वहाँ से वह दर्शकों को सन्तुष्ट करना तथा उन्हें निर्देशित करना चाहता है। 

Question 3. 
What happened when the king came under the arch ? (Event)
जब राजा मेहराब के नीचे आया तो क्या घटित हुआ ? 
Answer: 
The arch was built very low. When the king came under the arch, the arch banged his crown off to the ground. This incident upset him. He became angry and considered it to be a disgraceful act. 

मेहराब को बहुत नीचा बनाया गया था। जब राजा मेहराब के नीचे आया तो मेहराब से टकराने के कारण उसका ताज नीचे जमीन पर गिर पड़ा। इस घटना ने उसको विचलित कर दिया। वह नाराज हो गया तथा इसे एक अपमानजनक कृत्य माना। 

Question 4. 
The king summoned certain persons to be hanged. Who were they ? (Content)
राजा ने कुछ लोगों को फाँसी देने के लिए बुलाया। वे लोग कौन थे ? 
Answer:
The persons who were summoned by the king were the chief of the builders, workmen, masons and the architect. But no one was found to be the guitly. 

वे लोग जिनको राजा के द्वारा बुलवाया गया था वे मुख्य निर्माता, कारीगर, राजमिस्त्री तथा वास्तुकार थे। लेकिन किसी को भी दोषी नहीं पाया गया। 

Question 5. 
What counsel does ‘the wisest man’ give ? (Content)
सबसे ‘बुद्धिमान व्यक्ति’ ने क्या सलाह दी ? 
Answer: 
When it became quite tricky to find out the real culprit, the wisest man of the city was summoned. He held the arch guilty. He said in a trembling voice that the arch banged the crown off, so it must be hanged. 

जब सही अपराधी को ढूँढना बहुत ज्यादा जटिल हो गया तो राज्य के सर्वाधिक बुद्धिमान व्यक्ति को बुलवाया गया। उसने मेहराब को दोषी ठहराया। उसने काँपती हुई सी आवाज में कहा कि मेहराब ने राजा के ताज को नीचे गिराया था, अतः उसे फाँसी लगा देनी चाहिए। 

Question 6. 
What made the crowd restless ? (Event)
किस बात ने भीड़ को बेचैन बना दिया ? 
Answer: 
The crowd was waiting for a long time. But none was found to be the culprit. So no one was hanged. This made the crowd restless and unruly. They demanded that someone must be hanged immediately for a quick justice.

भीड़ बहुत ज्यादा समय से इन्तजार कर रही थी। लेकिन किसी को भी दोषी नहीं पाया गया। इसलिए किसी को भी फाँसी नहीं लगाई गई। इस बात ने भीड़ को बेचैन तथा बेकाबू कर दिया। उन्होंने मांग की कि शीघ्र ही किसी को फाँसी लगाई जाए। 

Question 7. 
Why was the king hanged ? (Content)
राजा को फाँसी क्यों लगाई गई ? 
Answer: 
The noose was set up somewhat high. In it nobody but the king was fitted because he was very tall. Therefore, the king himself was hanged by the Royal Decree. 

फाँसी का फन्दा कुछ ऊँचाई पर स्थापित किया गया। इसमें कोई अन्य व्यक्ति नहीं बल्कि राजा ही फिट बैठा क्योंकि वह बहुत लम्बा था। इसलिए शाही आदेश के द्वारा स्वयं राजा को ही फाँसी लगा दी गई। 

Question 8. 
Why did the ministers thank God when the king was hanged ? (Content)
जब राजा को फाँसी लगा दी गई तो मंत्रियों ने भगवान को धन्यवाद क्यों दिया ? 
Answer: 
The ministers thanked God because they found someone to be hanged. They were ignorant fools. They were selfish. If the king had not offered himself to be hanged, the country might have turned against him. 

मंत्रियों ने ईश्वर को धन्यवाद दिया क्योंकि उन्होंने किसी व्यक्ति को फाँसी पर चढ़ाने के लिए प्राप्त कर लिया। वे नादान मूर्ख थे। वे स्वार्थी थे। यदि राजा ने स्वयं को फाँसी पर चढ़ाए जाने के लिए आगे नहीं किया होता, तो राज्य उसके विरुद्ध हो जाता। 

Question 9. 
How was the next king chosen ? (Event) 
अगला राजा कैसे चुना गया ? 
Answer: 
According to the state custom, anyone who first passed the city gate would choose the next king. An idiot passed through the gate. He liked melons. When he was asked to choose the next king, he said ‘a melon’ (would be the next king). 

राज्य के रिवाज के अनुसार, राज्य के द्वार से सबसे पहले गुजरने वाला व्यक्ति अगले राजा को चुन सकेगा। एक मूर्ख व्यक्ति सबसे पहले द्वार से होकर गुजरा। उसे तरबूज पसंद थे। जब उससे अगले राजा को चुनने के लिए कहा गया तो उसने कहा कि ‘एक तरबूज’ (अगला राजा होगा)। 

Long Answer Type Question 

Question 1.
Give a character-sketch of the king. (Evaluation of Character)
राजा का चरित्र-चित्रण कीजिए। 
Answer: 
The poet calls the king just and placid to make a fun of him. He often loses his temper. He has no sense of justice and is unable to decide who should be punished for offence. He was swayed by the mood of the people as he lacked thinking power. People avail his weakness. He was not fit to be a king. His stupidity became the cause of his death. 

कवि मजाक बनाने के लिए राजा को न्यायी व शांत स्वभाव का बताता है। वह अक्सर अपना संयम खो देता है। राजा को न्याय करने की समझ नहीं है तथा अपराध के लिए किसे दण्डित किया जाये, इस बात का निर्णय नहीं कर पाता है। वह लोगों की मन:स्थिति से डगमगा गया क्योंकि उसमें सोचने की शक्ति का अभाव था। लोग उसकी कमजोरी का लाभ उठाते हैं। वह राजा बनने योग्य नहीं था। उसकी मूर्खता उसकी मृत्यु का कारण बनी।

Chapter 8 The Tale of Melon City