Day
Night

RBSE Class 9 English

Poem-4 The Lake Isle of Innisfree’

The Lake Isle of Innisfree Summary and Translation in Hindi
 कठिन शब्दार्थ, हिन्दी अनुवाद एवं व्याख्या

• कविता के विषय में-यह प्रसिद्ध कविता कवि की, शान्त व नीरव इनिस्फ्री (झील टापू) की यात्रा करने की, इच्छा का अन्वेषण करती है, यह वह स्थान है जहाँ उसने बाल रूप में अत्यधिक समय व्यतीत किया है। यह कविता एक आत्माभिव्यंजक (निजी मनोभावों और विचारों की व्यंजक) है।

कठिन शब्दार्थ एवं हिन्दी अनुवाद | 

1. I will…………………………glade. 

कठिन शब्दार्थ : arise (अराइज्) = उठना/खड़ा होना, cabin (कैबिन्) = कुटिया, clay (क्ले) = मिट्टी (चिकनी), wattles (वटल्ज) = परस्पर गूंथी हुई टहनियाँ या छड़ियाँ, bean-rows (बीन् रोज) = सेम के पौधों की कतारें, hive (हाइव्) = छत्ता (मधुमक्खी ), honeybee (हनिबी) = मधुमक्खी , bee-loud (बी-लाउड्) = मधुमक्खियों की भिनभिनाहट से गूंजता, glade (ग्लेड्) = खुला स्थान।

हिन्दी अनुवाद : कवि कहता है कि वह खड़ा होगा और अब चल देगा। वह अब इनिस्फ्री के लिए चल देगा। वह मिट्टी (गारे) व परस्पर गूंथी टहनियों से वहाँ एक छोटी कुटिया बनायेगा। वह वहाँ सेम की नौ कतारें लगायेगा और मधुमक्खियों का एक छत्ता रखेगा और मधुमक्खियों की भिनभिनाहट से गूंजते उस खुले स्थान में अकेला रहेगा। 

2. And I…………………………wings. 

कठिन शब्दार्थ : dropping (ड्रॉप) = टपकती हुई, veils (वेल्ज) = परदे/घूघट, cricket (क्रिकिट) = झींगुर, glimmer (ग्लिम(र)) = मंद प्रकाश, glow (ग्लो) = चमक/दीप्तता, purple (पप्ल) = बैंगनी, linnet (लिनिट) = पक्षी (छोटा गाने वाला)।

हिन्दी अनुवाद : और वह वहाँ कुछ शान्ति मिल जायेगी क्योंकि शान्ति टपकती बूंदों की तरह मंद गति से आती है, यह सुबह के घूघट से बूंदों जैसे टपकती आती है वहाँ तक जहाँ झींगुर गाता रहता है, वहाँ अर्द्धरात्रि में भी सभी जगह एक मद्धिम प्रकाश रहता है, और दोपहर में एक बैंगनी चमक रहती है, और सायंकाल लिनिट पक्षियों के पंखों से भरा रहता है (अर्थात् ये पक्षी कलरव करने लगते हैं)। 

3. I will………….core. 

कठिन शब्दार्थ : lapping (लैप्ङ्) = छप-छप, shore (शॉ(र)) = तट, core (कॉ(र)) = केन्द्रीय भाग।

हिन्दी अनुवाद : कवि कहता है कि, मैं खड़ा होऊँगा और अब चलूँगा क्योंकि हमेशा रात और दिन, मैं तट पर झील के जल को धीमी आवाजों में छप-छप करते हुए सुनता हूँ। जब मैं (व्यस्त) सड़क पर खड़ा होता हूँ या स्लेटी (उबाऊ और निराशाजनक) रंग के पैदल पथ पर खड़ा होता हूँ, मैं इसे हृदय के गहरे केन्द्रीय भाग में सुनता हूँ।

Explanations with Reference to the Context
(सन्दर्भ सहित व्याख्याएँ)

Stanza 1.

I will arise and go now, and go to Innisfree, 
And a small cabin build there, of clay and wattles made : 
Nine bean-rows will I have there, a hive for the honeybee,
And live alone in the bee-loud glade

Reference : These are the opening lines of W.B. Yeats lyric, “The Lake Isle of Innisfree’. This well-known poem explores the poet’s longing for peace and tranquillity.

Context : The poet is impatient to go to the Lake Isle of Innisfree where he would be living in the midst of Nature and enjoying peace and tranquillity.

Explanation : The poet expresses his intention to get up and immediately start for Innisfree, a place where he had spent a lot of time as a boy. He intends to built a cottage there with clay and twisted sticks. He also thinks of planting there nine rows of beans. He will have a hive for the honeybees and live in an open space echoing with the murmuring sound of the bees.

The poet has a strong longing to live alone, cut off from the society of man, in the midst of Nature.

सन्दर्भ : ये पंक्तियाँ की W.B. Yeats’ की कविता ‘The Lake Isle of Innisfree’ की प्रारम्भिक पंक्तियाँ हैं । यह जानी-मानी कविता कवि की शांति एवं नीरवता की तीव्र इच्छा का अन्वेषण करती है।

प्रसंग : कवि इनिस्फ्री के झील टापू पर जाने के लिए अधीर है। वहाँ वह प्रकृति के बीच रहेगा तथा शान्ति एवं नीरवता का आनन्द उठायेगा।

व्याख्या : कवि तुरन्त उठ कर इनिस्फ्री के लिए रवाना हो जाने का उसका इरादा व्यक्त करता है। इस स्थान पर बच्चे के रूप में कवि ने काफी समय बिताया था। उसका इरादा वहाँ मिट्टी एवं मुड़ी हुई लकड़ी की टहनियों की मदद से एक झोंपड़ी बनाने का है। वह वहाँ सेम की नौ पंक्तियाँ उगाने का विचार भी रखता है। वह मधुमक्खियों के लिए एक छत्ता भी रखेगा तथा वह एक खुले स्थान में रहेगा जो मधुमक्खियों की भिनभिनाहट से गूंजता रहेगा। कवि की मानव-समाज से दूर प्रकृति के बीच अकेले रहने की उत्कट इच्छा है।

Stanza 2.

And I shall have some peace there, for peace comes dropping slow. 
Dropping from the veils of the morning to where the cricket sings, 
There midnight’s all a glimmer, and noon a purple glow,
And evenings full of the linnet’s wings.

Reference : These lines are from W.B. Yeats’ poem entitled ‘The Lake Isle of Innisfree?. The poet wants to escape into a world where he will have peace and tranquillity and happiness. He wants to escape to Innisfree.

Context : The poet describes here the beauty and atmosphere of Innisfree where he wants to go and live. He is tired of busy, unnatural life in the city and wants to escape to a place situated in the midst of Nature. Innisfree is one such place.

Explanation : The poet hopes to get some peace in Innisfree. Peace comes to Innisfree dropping from the veils of the morning. “The veils of the morning” suggests the morning time which covers all things like a veil and gives peace. The cricket and the linnet will give him company. The midnight in that place is full of glimmer. The noon has a purple glow and the evening has linnets in large numbers.

The poet has all the things that he desires to have in Innisfree. There are peace, birds and their songs, and beautiful mornings, noons and evenings.

सन्दर्भ : ये पंक्तियाँ W.B. Yeats की कविता ‘The Lake Isle of Innisfree’ से ली गयी हैं। कवि एक ऐसी दुनिया में चले जाना चाहता है जहाँ उसे शान्ति एवं नीरवता उपलब्ध हो तथा प्रसन्नता मिले। वह इनिस्फ्री नामक स्थान पर चले जाना चाहता है।

प्रसंग : कवि यहाँ इनिस्फ्री के सौन्दर्य एवं वातावरण का चित्रण कर रहा है जहाँ वह जाकर रहना चाहता है। वह शहर के व्यस्त एवं अप्राकृतिक जीवन से ऊब चुका है और एक ऐसे स्थान पर चले जाना चाहता है जो प्रकृति के मध्य स्थित हो। इनिस्फ्री भी ऐसा ही एक स्थान है।

व्याख्या : कवि इनिस्फ्री में कुछ शान्ति पाने की आशा रखता है । शान्ति इनिस्फ्री में प्रात:काल के चूंघट से टपकती हुई अवतरित होती है। “प्रातःकाल के चूंघट” से तात्पर्य है, प्रात:काल का समय जो सभी वस्तुओं को बूंघट की भाँति ढके रहता है और शान्ति प्रदान करता है। झींगुर तथा गाने वाला पक्षी कवि को संगीत प्रदान करेंगे। उस स्थान पर मध्यरात्रि हल्की रोशनी से प्रकाशित रहती है। दुपहर बैंगनी रंग की रोशनी से दमदमाती है और संध्याकाल लिनेट (गाने वाले पक्षी) पक्षियों से परिपूर्ण हो जाता है।

कवि इनिस्फ्री में उन सभी चीजों को पा लेता है जिन्हें वह पाना चाहता है । वहाँ शान्ति, पक्षी एवं उनके गीत तथा सुन्दर प्रातः, दुपहर एवं संध्याएँ हैं।

Stanza 3.

I will arise and go now, for always night and day 
I hear the lake water lapping with low sounds by the shore; 
While I stand on the roadway, or on the pavements grey,
I hear it in the deep heart’s core.

Reference : This is the concluding stanza of W.B. Yeats’ lyric, ‘The Lake Isle of Innisfree’. The poet wants to escape from the city to a place where he may have peace and tranquillity. Innisfree is one such place.

Context : The poet is impatient to go to Innisfree, a place where he will have great peace. He is tired of unnatural city-life and wants to live in the midst of Nature.

Explanation : The poet wants to get up and start immediately for Innisfree. Night and day, he hears the lake water striking against the shore with a slow lapping sound. He hears the lapping sound of the lake water only in his imagination because he is standing either on the road or on the dirty pavement of the city. He hears the sound of the lake water in the innermost recess of his heart. This shows the poet’s love and attachment for that place.

सन्दर्भ : यह W.B. Yeats की कविता ‘The Lake Isle of Innisfree’ का अन्तिम पद्यांश है। कवि शहर से निकल कर एक ऐसे स्थान पर चले जाना चाहता है जहाँ उसे शांति एवं नीरवता प्राप्त हो सके। इनिस्फ्री एक ऐसा ही स्थान है।

प्रसंग : कवि इनिस्फ्री जाने को अधीर हो गया है। इस स्थान पर उसे परम शान्ति मिलेगी। वह शहर में अप्राकृतिक जीवन से ऊब चुका है और प्रकृति के मध्य निवास करना चाहता है।

व्याख्या : कवि उठकर तुरन्त इनिस्फ्री के लिए रवाना हो जाना चाहता है। रात-दिन वह झील के पानी को किनारे से छप-छप की धीमी ध्वनि के साथ टकराते हुए सुनता है। वह झील के पानी की छपछपाहट केवल उसकी कल्पना में ही सुनता है क्योंकि वह या तो शहर की सड़क अथवा गन्दे फुटपाथ पर खड़ा है। वह झील के पानी की आवाज उसके हृदय के सबसे अन्दरूनी कोने में सुनता है। इससे उस स्थान के प्रति कवि के प्रेम एवं लगाव की पुष्टि होती है।

0:00
0:00