Day
Night

Poem 5 The Ball Poem

Textbook Questions and Answers

Thinking about the Poem
 
In pairs, attempt the following questions. 
जोड़े बनाकर, निम्न प्रश्नों को करें। 

Question 1. 
Why does the poet say, “I would not intrude on him”? Why doesn’t he offer him money to buy another ball? 
कवि क्यों कहता है, “मैं उस पर घुसपैठ नहीं करूँगा?” वह उसे दूसरी गेंद खरीदने का प्रस्ताव भी क्यों नहीं रखता है? 
Answer: 
The poet would not intrude on the boy because he (the boy) is busy in understanding how to tolerate the loss of the ball. 
The poet doesn’t offer the boy money to buy another ball because it is worthless. The boy has “attachment’ with the lost ball. So the “attachment’ is important, not the ball. 

कवि उस लड़के पर घुसपैठ नहीं करेगा क्योंकि वह गेंद के खोने को सहन करने की समझ विकसित करने में व्यस्त है। 
कवि, उस लड़के को दूसरी गेंद खरीदने का प्रस्ताव नहीं रखता है क्योंकि यह व्यर्थ है। उस लड़के को खोई हुई गेंद से ‘मोह’ है। अतः ‘मोह’ महत्वपूर्ण है, न कि गेंद । 

Question 2. 
“……….staring down/All his young days into the harbour where/His ball went…….” 
Do you think the boy has had the ball for a long time? Is it linked to the memories of days when he played with it ? 
…नीचे जहाँ उसकी गेंद गिरी थी वहाँ लड़कपन के उन सब दिनों को जो उसने बंदरगाह पर बिताये थे, घूरते हुए…..” 
क्या आप सोचते हैं कि उस लड़के के पास वह गेंद एक लम्बे समय से थी? क्या वह उसकी उन दिनों की यादों से संबंधित है जो उसने इस गेंद के साथ खेलते हए व्यतीत किये थे? 
Answer: 
Yes, I think the boy has had the ball for a long time. The line”all his young days into the harbour suggests this. 
Yes, it is linked to the memories of days when he played with it. The above cited line substantiate it. 

हाँ, मैं सोचता हूँ कि उस लड़के के पास वह गेंद एक लम्बे समय से है। यह पंक्ति-‘लड़कपन के सभी दिन जो बंदरगाह पर व्यतीत किये’ इसका संकेत देती है। 
हाँ, यह उसकी उन दिनों की यादों से संबंधित है जो उसने उस गेंद के साथ खेलते हुए व्यतीत किये थे। उपर्युक्त पंक्ति इसे सिद्ध करती है। 

Question 3. 
What does ‘in the world of possessions’ mean?
‘आधिपत्य के इस संसार में’ का क्या अर्थ निकलता है? 
Answer: 
It means that in this world every human has unending desires for owning worldly objects. This is the materialistic world. Here people value possession of more and more wealth, power and things. 

इसका अर्थ है कि इस संसार में प्रत्येक मानव सांसारिक पदार्थों का स्वामी/मालिक बनने की अंतहीन तृष्णा लिये हुए है। यह भौतिक संसार है। यहाँ लोग अधिक से अधिक धन, शक्ति व वस्तु संग्रह को तरजीह देते हैं। 

Question 4. 
Do you think the boy has lost anything earlier? Pick out the words that suggest the answer. 
क्या आप सोचते हैं कि वह लड़का पूर्व में कुछ खो चुका है? उन शब्दों को चुनिये जो उत्तर सुझाते हैं। 
Answer: 
No, I don’t think the boy has lost anything earlier. This was the first occasion when he feels the first responsibility of owning things. The line – ‘He senses first responsibility’ suggests this. 

नहीं, मैं नहीं सोचता कि वह लड़का पूर्व में कुछ खो चुका है। यह प्रथम अवसर था जब उसने वस्तु के स्वामी होने के दायित्व की प्रथम बार अनुभूति की थी। यह पंक्ति – ‘वह प्रथम उत्तरदायित्व को महसूस करता है’ इसका संकेत देती है। 

Question 5. 
What does the poet say the boy is learning from the loss of the ball? Try to explain this in your own words. 
कवि यह क्यों कहता है कि वह लड़का गेंद के खोने से कुछ सीख रहा है? इसकी अपने शब्दों में व्याख्या देने का प्रयास करें। 
Answer: 
The poet says the boy is learning from the loss of the ball because loss in life is inevitable and without learning the art of bearing the loss, the life becomes hellish. 

कवि कहता है कि वह लड़का गेंद के खोने से कुछ सीख रहा है क्योंकि जीवन में नुकसान तो अवश्यंभावी है और नुकसान को सहने की कला को सीखे बिना जीवन नारकीय (नरक के समान) हो जायेगा। 

Question 6. 
Have you ever lost something you liked very much? Write a paragraph describing how you felt then, and saying whether – and how – you got over your loss. 
क्या आपने कभी कुछ ऐसा खोया जिसे आप बहुत पसन्द करते थे? एक पैराग्राफ के रूप में लिखिए कि तब आपने कैसा महसूस किया, और यह बताते हुए कि क्या और कैसे आप अपने को उस खोने से उबार पाये। 
Answer: 
How I Got Over My Loss Once I bought a pair of rainbow coloured shoes. It was an eye-catching pair. From sole to lace it had violet, indigo, blue, green, yellow, orange and red colours. The outer designs were glamorous. Its interiors were soft and comfy. Its lightness was indescribable. I felt as if I were walking in the sky.

But one day, when I went to the temple, I took off them in a corner and went inside. I was wonder-struck when I found them missing on my return. I was awfully grieved. But then, I thought that every object in this world has an age. In life, we humans possess and lose things. I consoled myself. Thus, I got over my loss. 

मैं अपने को हानि से कैसे उबार पाया एक बार मैंने इन्द्रधनुषीय रंग का एक जोड़ा जूता खरीदा। यह ध्यान आकर्षित करने वाला जोड़ा था। यह तली से लेकर फीते तक नीलाभ-बैंगनी, गहरे नीले, नीले, हरे, पीले, नारंगी व लाल रंगों में था। बाह्य डिजाइन बहुत लुभावने थे। इसके आंतरिक भाग मुलायम व आरामदायक थे। इसका हल्कापन तो अवर्णनीय था। मैं ऐसे महसूस करता था जैसे कि आसमान में चल रहा था।

किन्तु एक दिन, जब मैं मंदिर गया, मैंने उनको एक कोने में खोल दिया और अन्दर चला गया। मेरी वापसी पर जब मैंने उन्हें खोया हुआ पाया तो मैं विस्मित था। मैं . अत्यधिक दु:खी था। किन्तु फिर, मैंने सोचा कि इस संसार में प्रत्येक चीज की एक उम्र है। हम मानव जीवन में वस्तुएँ पाते हैं व खोते हैं। मैंने स्वयं को सांत्वना दी। इस प्रकार, मैं अपने को उस हानि से उबार पाया। 

Important Questions and Answers

Answer the following questions in about 20 words only. 

Question 1. 
What has happened to the boy in the poet’s opinion?.. 
कवि की राय में बच्चे के साथ क्या हुआ था? 
Answer: 
The poet said that a boy has lost his ball when he was playing. Poet also tells us that what will the boy do. 

कवि ने कहा कि एक बच्चा जब खेल रहा था तो उसने अपनी गेंद को खो दिया। कवि यह भी कहता है कि अब वह बच्चा क्या करेगा। 

Question 2. 
What has the boy said about his ball? 
बच्चे ने अपनी गेंद के बारे में क्या कहा? 
Answer: 
The boy said that he lost his ball. It was bouncing in a very happy manner. It went down into the street into the water. 

बच्चे ने कहा कि उसने अपनी गेंद को खो दिया है। यह बहुत ही प्रसन्नता से उछल रही थी। यह गली में नीचे जाकर पानी में चली गई थी। 

Question 3. 
What does the poet suggest the boy about the ball?
कवि बालक को गेंद के बारे में क्या सुझाव देता है? 
Answer: 
The poet suggests the boy about the ball that he should feel sad as there are many other balls in this world. 

कवि बच्चे को सलाह देता है कि उसे गेंद के बारे में दुःख महसूस नहीं करना चाहिए क्योंकि इस संसार में दूसरी अन्य गेंदें भी हैं। 

Question 4. 
What was the condition of boy after he lost his ball? बच्चे की दशा कैसी थी जब उसने गेंद को खो दिया था? 
Answer: 
The boy was fixed with grief. He stood rigid and trembling and staring at the water of harbour where his ball went. 

बच्चा दुःख से स्थिर हो गया था। वह जड़वत खड़ा था और कांप रहा था और वह बन्दरगाह के पानी की ओर देख रहा था जहाँ पर उसकी गेंद चली गई थी।
 
Question 5. 
What message does the poet want to convey through the boy? 
कवि बच्चे के माध्यम से क्या संदेश देना चाहता है? 
Answer: 
The poet wants to convey through the boy that we should not feel sorry over the loss of worldly things.

कवि बच्चे के माध्यम से यह सन्देश देना चाहता है कि हमें सांसारिक वस्तुओं के खोने पर दुःख प्रकट नहीं करना चाहिए। 

Question 6. 
What is the meaning of the line, “Balls, balls will be lost always…”? 
इस पंक्ति का क्या अर्थ है, “गेंदें, गेंदें तो हमेशा खोती रहेंगी…?” 
Answer: 
The poet wants to tell that we can buy a new ball when we lose the old one. But the love with the old thing will be there.
 
कवि यह कहना चाहता है कि हम जब पुरानी गेंद को खो देंगे तो हम नई बाल खरीद सकते हैं। मगर पुरानी वस्तु के प्रति प्रेम हमेशा रहेगा। 

Question 7. 
What was the boy learning, according to the poem? कविता के अनुसार बच्चा क्या सीख रहा था? 
Answer: 
The boy was learning how to bear the loss. Everyone has to lose one and the other thing someday. It is the nature. 

बच्चा यह सीख रहा था कि नुकसान को कैसे सहन किया जाता है। प्रत्येक को किसी न किसी दिन किसी को खोना है। यही प्रकृति है। 

Question 8. 
According to the last two lines of poem what one has to learn in life? 
कविता की अन्तिम दो पंक्तियों के अनुसार प्रत्येक को जीवन में क्या सीखना पड़ता है? 
Answer: 
According to the last two lines of the poem, everyone has to learn the loss ultimataly in his life. This will make the life happy and satisfied. 

कविता की अन्तिम दो पंक्तियों के अनुसार प्रत्येक को अपने जीवन में अन्ततः नुकसान को सीखना ही पड़ेगा। इससे जीवन प्रसन्न और सन्तुष्ट होगा। 

Question 9.
“Money is external”. What does the poet mean? ”
धन बाह्य है।” कवि का क्या आशय है? 
Answer: 
Money does not have any value for emotions. One can buy new things with money. One cannot buy memories because money is external. 

धन के पास भावनाओं के लिए कोई स्थान नहीं है। धन से नई वस्तुएँ खरीद सकते हैं । स्मृतियों को नहीं खरीदा जा सकता है क्योंकि धन बाह्य है। 

Question 10. 
How does the boy sense his first responsibility?
लड़का अपना प्रथम उत्तरदायित्व किस तरह समझता है? 
Answer: 
Boy senses his responbility by learning that one will buy a ball and the ball will be lost. So he should stand up the loss. 

लड़का अपनी जिम्मेदारी समझता है कि गेंद खरीदेंगे और गेंद खोएगी भी। इसलिए उसे नुकसान सहन करना सीखना चाहिए। 

Question 11. 
Why does the poet not want to intrude on the boy?
कवि को उस लड़के के मामले में अनुचित हस्तक्षेप क्यों नहीं करना चाहिए? 
Answer: 
The poet does not want to intrude on the boy because the boy is learning how to bear the loss on his own. He allows him to think. 

कवि उस बच्चे को अनुचित हस्तक्षेप नहीं करना चाहता है क्योंकि वह बच्चे को स्वयं के स्तर पर नुकसान वहन करना सीख रहा है। वह उसे सोचने देना चाहता है। 

Question 12. 
What is the message of the poem, “The Ball Poem”?
“The Ball Poem” नामक कविता का सन्देश क्या है? 
Answer: 
Loss of external things happen in life repeatedly. If we learn the art of bearning the loss, we can line peacefully.
 
बाह्य वस्तुओं का खोना जीवन में बार-बार होता है। अगर हमने नुकसान को सहन करना सीख लिया तो हम शान्ति से रह सकते हैं। 

Question 13. 
What lesson the boy learn in this poem?
इस कविता में बच्चा क्या सबक सीखता है? 
Answer: 
The boy learns to bear the loss. Loss is compulsory in life. We have to keep ourselves happy and satisfy. 

बच्चा नुकसान सहन करना सीखता है। जीवन में नुकसान उठाया जाना अनिवार्य है। हमें अपने आपको प्रसन्न और सन्तुष्ट रहना सीखना होगा। 

Question 14. 
According to the poet what was the grief of the boy?
कविता के अनुसार लड़के का क्या दुःख था? 
Answer: 
According to the poet the boy was grief stricken due to loss of his ball. Boy was emotionally attached with the ball. 

कवि के अनुसार लड़का गहरे दुःख से उसकी गेंद के खो जाने के कारण आहत था। बच्चा गेंद से भावनात्मक रूप.से जुड़ा हुआ है। 

Extracts for Comprehension and Appreciation 

Read the extracts given below and answer the questions that follow 

Extract – 1 

What is the boy now, who has lost his ball, 
What, what is he to do? I saw it go
Merrily bouncing, down the street, and then 
Merrily over – there it is in the water! 

Question 1. 
What information does the poet give about boy? 
कवि बच्चे के बारे में क्या सूचना देता है? 
Answer:
Poet tells us that a boy was playing with his ball near the harbour and he lost the ball. What will the boy do now? 

कवि हमें यह कहता है कि बच्चा बन्दरगाह के निकट अपनी गेंद से खेल रहा था और उसकी गेंद खो गई थी। वह बच्चा अब क्या करेगा? 

Question 2. 
What did the boy say about his ball? 
बच्चा अपनी गेंद के बारे में क्या कहता है? 
Answer:
The child told about his ball that it was bouncing. The ball went down the street then it went into the water. 

बच्चा गेंद के बारे में यह कहता है कि यह उछल रही थी। गेंद नीचे गली में चली गई और तब वह लुढ़कती हुई पानी में जाकर गिर गई। 

Extract – 2. 

No use to say ‘O there are other balls’:
An ultimate shaking grief fixes the boy
As he stands rigid, trembling, staring down
All his young days into the harbour where 
His ball went. 

Question 1. 
Why does the poet say that there is no use to tell the boy about other balls? 
कवि ऐसा क्यों कहता है कि दूसरी गेंदें और भी हैं यह बताना अब बच्चे के लिए उपयोगी नहीं है? 
Answer:
The boy was sad and grief stricken. He was emotionally attached with the ball. So there is no use to tell him about the other balls. 

बच्चा दु:खी और आहत था। वह उस गेंद से भावनात्मक रूप से जुड़ा हुआ था। इसलिए उसको दूसरी गेंदों के बारे में बताने का कोई औचित्य नहीं था। 

Question 2.
What is the condition of the boy according to the above lines? 
उपरोक्त पंक्तियों के अनुसार बच्चे की दशा क्या है? 
Answer
The boy was sad, trembling and grief stricken. He was standing still and staring at the harbour water where the ball went. 

बच्चा दु:खी, आहत और कांप रहा था। वह शान्त खड़ा था और बन्दरगाह के पानी की ओर देख रहा था। 

Extract – 3 

I would not intrude on him; 
A dime, another ball, is worthless. 
Now He senses first responsibility 
In a world of possessions. 
Poeple will take Balls, balls will be lost always, little boy. 
And no one buys a ball back. 
Money is external. 

Question 1. 
What does the child sense as responsibility? 
उत्तरदायित्व के रूप में बालक की क्या समझ है? 
Answer:
The boy senses his responsibility that loss is an integral part of one’s.life. Worldly things come and go. He learns to lose.

बच्चे को उत्तरदायित्व की समझ इसलिए आती है क्योंकि नुकसान इस जीवन का अन्तरंग भाग है। सांसारिक वस्तुएं आती और जाती हैं। वह खोना सीखता है। 

Question 2.
Why money is external and the ball is internal? 
धन बाह्य और गेंद आन्तरिक क्यों है? 
Answer:
The boy has played with the ball and develops an attachment with it. So ball is internal and with money new ball can be bought not attachment. 

बच्चे ने गेंद से खेला था और उससे लगाव हो गया। अतः गेंद आन्तरिक है और धन से गेंद खरीद सकते हैं लगाव, प्रेम नहीं। 

Extract – 4 

He is learning, well behind his desperate eyes, 
The epistemology of loss, how to stand up 
Knowing what every man must one day know 
And most know many days, how to stand up.

Question 1. 
What is the boy learning in these lines? 
इन पंक्तियों में बच्चा क्या सीख रहा है? 
Answer:
In these lines the boy is learning a new experience. He has seen the loss with his own eyes which he learns now. 

इन पंक्तियों में बच्चा एक नया अनुभव सीख रहा है। उसने अपनी स्वयं की आँखों से नुकसान कों देखा है जो उसने अब सीख लिया है। 

Question 2. 
What must be known by everyman? 
प्रत्येक व्यक्ति के द्वारा क्या जाना जाएगा? 
Answer: 
Everyman must know that one day that loss is inevitable. Many people have learnt it already and others are learning it. 

प्रत्येक व्यक्ति को एक दिन यह अवश्य जानना है कि नुकसान अनिवार्य होता है। बहुत सारे लोगों ने सीख लिया है और दूसरे अन्य इसे सीख रहे हैं। 

0:00
0:00