Day
Night

Poem 7 The Duck and the Kangaroo

Important Questions and Answers

Question 1. 
How does the poem open? 
कविता का आरम्भ कैसे होता है?
Answer:
The poem opens with a dialogue between the Duck and the Kangaroo. She expresses wonder on the Kangaroo’s hopping. Then, she mentions her pitiable conditions. Finally, she reveals her wish for a world tour.

कविता बतख व कंगारू के मध्य संवाद से आरम्भ होती है। वह कंगारू की फुदकन पर प्रशंसापूर्ण आश्चर्य प्रकट करती है। फिर वह, अपनी दयनीय स्थिति का जिक्र करती है। अन्त में, वह विश्व भ्रमण की अपनी अभिलाषा प्रकट करती है।

Question 2. 
How does the Duck request for a ride for divergent places? 
विभिन्न स्थानों की सवारी के लिए बतख कैसे प्रार्थना करती है? ।
Answer:
The Duck requests the Kangaroo to let her ride on his back. For this, she is ready to sit quite still and says nothing but quacks. They will tour the Dee, the Jelly Bo Lee, over the land and sea.

बतख, कंगारू से निवेदन करती है कि वह उसे उसकी पीठ पर सवारी करने की आज्ञा दे। इसके लिए, वह शांत बैठने व काँ-काँ के सिवाय कुछ नहीं बोलने को तैयार है । वे ‘डी’, ‘जेली बॉ ली’ व पृथ्वी तथा समुद्र की सैर करेंगे।

Question 3. 
Describe Kangaroo’s reflection on the Duck’s request. बतख के निवेदन पर कंगारू के चिन्तन का वर्णन करें।
Answer:
The Kangaroo reflects that perhaps on the whole it might bring him luck. But he has one objection that her feet are wet and cold and it may give him rheumatism.

कंगारू विचार करता है कि शायद कुल मिलाकर यह उसके लिए सौभाग्य ले आये। लेकिन उसे एक आपत्ति है कि उसके पैर गीले व ठंडे हैं और इससे संभवतः उसे गठिया रोग हो सकता है।

Question 4. 
How does the Duck remove Kangaroo’s objection? 
बतख, कंगारू की आपत्ति का निवारण कैसे करती है?
Answer:
The Duck removes the Kangaroo’s objection by saying that she has bought four pairs of worsted socks which fit her web-feet neatly. And to keep out the cold she has bought a cloak. And everyday she will smoke a cigar to follow her own dear true love of a Kangaroo. 

बतख यह कहते हुए कंगारू की आपत्ति दूर करती है कि उसने चार जोड़े गर्म जुराब खरीद लिये हैं जो उसके जालीदार पैर में एकदम फिट हैं । और सर्दी को दूर रखने के लिए उसने एक लबादा खरीद लिया है। और प्रत्येक दिन वह एक सिगार पीयेगी ताकि कंगारू के प्रति अपने प्रिय प्रेम का अनुसरण कर सके।

Question 5. 
How does the poem conclude? 
कविता पूर्ण कैसे होती है?
Answer:
The poem concludes on a happy note. The Duck sits steady at the end of the Kangaroo’s tail. They go away with a hop and a bound in the pale moonlight. They hop the world three times round.

कविता एक प्रसन्नता की सूचना के साथ पूर्ण होती है। बतख, कंगारू की पूँछ के अंत में बिना हिलेडुले बैठ जाती है। वे फुदकते व कूदते हुए हल्की चाँदनी में सैर करते हैं। वे विश्व की तीन बार सैर करते हैं।

Question 6. 
Write the central theme of the poem. 
कविता का सार लिखें।
Answer:
We can get our desires and tasks done in case we are selfless and polite in our dealings. We should pay due attention and give due respect towards the feelings of others. Our clear heartedness like the Duck can grant us desired results. It also specifies. “Where there is a will, there is a way.” 

यदि हम अपने व्यवहार में निःस्वार्थ और विनम्र हैं तो हम अपनी इच्छाएँ एवं अपने कार्य करवा सकते हैं। हमें दूसरों का उचित ध्यान रखना चाहिए व उनकी भावनाओं का आदर करना चाहिए। बतख की तरह हमारा स्वच्छ हृदय हमें इच्छित परिणाम दे सकता है। यह सन्देश भी है – जहाँ चाह, वहाँ राह। 

Explanations with Reference to the Context
(सन्दर्भ सहित व्याख्याएँ)

Stanza 1.

Said the Duck to the Kangaroo,
“Good gracious! how you hop! 
Over the fields and the water too,
As if you never would stop! 
My life is a bore in this nasty pond, 
And I long to go out in the world beyond!
I wish I could hop like you!”
Said the Duck to the Kangaroo. 

Reference : These lines have been taken from the poem “The Duck and the Kangaroo’ composed by Edward Lear.

Context : A Duck meets Kangaroo and she praises the Kangaroo for his art of hopping.

Explanation : The Duck meets the Kangaroo and praises him that he hops wonderfully over the water and in the fields. She seems that he (Kangaroo) will never stop. The Duck complains that she (Duck) always lives in a small pond. Her life is boring. She also desires to go far from the pond and to jump like the Kangaroo. The Duck praises the Kangaroo and expresses her wish to go away from the pond.

सन्दर्भ : उक्त पंक्तियाँ ‘The Duck and the Kangaroo’ कविता से ली गई हैं। इसके रचयिता कवि एडवर्ड लीयर हैं।

प्रसंग : एक बतख कंगारू से मिलती है और उसकी कूदने की कला के लिए प्रशंसा करती है।

व्याख्या : बतख कंगारू से मिलती है और उसकी प्रशंसा करती है कि वह आश्चर्यजनक रूप से पानी के ऊपर से और खेतों में कूदता है। ऐसा प्रतीत होता है मानो कि वह कभी भी नहीं रुकेगा अर्थात् इस प्रकार कूदता रहेगा। बतख शिकायत करती है कि वह हमेशा एक छोटे से पोखर में रहती है। उसका जीवन नीरस  है। वह इच्छा प्रकट करती है कि वह भी पोखर से दूर जाये और कंगारू की तरह कूदे। बतख कंगारू की प्रशंसा करती है और स्वयं भी पोखर से दूर जाने की इच्छा रखती है।

Stanza 2. 

“Please give me a ride on your back!”
Said the Duck to the Kangaroo. 
“I would sit quite still, and say nothing but “Quack’,
The whole of the long day through! 
And we’d go to the Dee, and the Jelly Bo Lee,
Over the land, and over the sea;
Please take me a ride! O do!”
Said the Duck to the Kangaroo. 

Reference : These lines have been taken from the poem “The Duck and the Kangaroo’ written by Edward Lear. 

Context : A Duck praises a Kangaroo for his wonderful hopping and expresses her wish to hop like him.

Explanation : In these lines the Duck requests the Kangaroo to get sit on his back. She tells that he would sit still on his back will not utter a word except “quack’ and – they will travel the whole of the day. They will go for an imaginary place “The Dee, and the Jelly Bo Lee.” The Duck and the Kangaroo will travel over the land and the sea. Thus, the Duck requests the Kangaroo to get sit her on his back to side. The Duck wants to go on a world tour.

सन्दर्भ : ये पंक्तियाँ ‘The Duck and the Kangaroo’ कविता से ली गई हैं। इनके रचयिता एडवर्ड लीयर हैं।

प्रसंग : बतख, कंगारू की आश्चर्यजनक रूप से कूदने की प्रशंसा करती है, उसकी तरह कूदने की स्वयं की इच्छा को प्रकट करती है।

व्याख्या : इन पंक्तियों में बतख, कंगारू से उसे पीठ पर बिठाने की प्रार्थना करती है । वह कहती है कि वह (बतख) उसकी (कंगारू की) पीठ पर शांति से बिना हिले-डुले बैठ जायेगी और ‘काँव-काँव’ के अलावा अन्य कुछ भी नहीं बोलेगी और वे पूरे दिन घूमेंगे। वे दोनों काल्पनिक स्थान ‘Dee और Jelly Bo Lee’ पर जायेंगे। बतख और कंगारू समुद्र और पृथ्वी पर यात्रा करेंगे। इस प्रकार बतख कंगारू से उसकी पीठ पर बिठाने और सवारी कराने के लिए प्रार्थना करती है। बतख पूरी दुनिया की सैर पर जाना चाहती है।

Stanza 3.

Said the Kangaroo to the Duck,
“This requires some little reflection; 
Perhaps on the whole it might bring me luck,
And there seems but one objection. 
Which is, if you’ll let me speak so bold, 
Your feet are unpleasantly wet and cold, 
And would probably give me the roo
Matiz!” said the Kangaroo. 

Reference : These lines have been extracted from the poem “The Duck and the Kangaroo’ composed by Edward Lear.

Context : The Duck requests the Kangaroo to ride on her back and wants to go on world tour with the Kangaroo.

Explanation : In these lines Kangaroo says to the Duck before getting sit her (Duck) on his (Kangaroo’s) back he will think over the matter. He thinks that it may bring him a good luck but there is a question in his mind. He says to Duck that her feet are wet and cold. It may create a problem to him and he may victim of rheumatism.

सन्दर्भ : ये पंक्तियाँ ‘The Duck and the Kangaroo’ नामक कविता से उद्धृत की गई हैं। यह कविता एडवर्ड लियर द्वारा रचित है।

प्रसंग : बतख कंगारू से उसे, उसकी पीठ पर सवार होने का निवेदन करती है और उसके साथ दुनिया की सैर पर जाना चाहती है।

व्याख्या : इन पंक्तियों में कंगारू बतख से कहता है कि उसे (बतख को) अपनी पीठ पर बैठाने से पहले वह इस मामले पर विचार करेगा। वह (कंगारू) सोचता है कि इससे उसका अच्छा समय आ सकता है लेकिन मस्तिष्क में एक प्रश्न है। वह बतख से कहता है कि उसके (बतख के) पैर गीले और ठण्डे हैं। यह उसके (कंगारू के) लिए समस्या उत्पन्न कर सकते हैं और वह गठिया का शिकार हो सकता है।

Stanza 4.

Said the Duck, “As I sat on the rocks,
I have thought over that completely, 
And I bought four pairs of worsted socks
Which fit my web-feet neatly. 
And to keep out the cold i’ve bought a cloak,
And every day a cigar I’ll smoke, 
All to follow my own dear true
Love of a Kangaroo!” 

Reference : These lines have been taken from the poem “The Duck and the Kangaroo’ composed by Edward Lear.

Context : Before getting ride the duck on his back the Kangaroo tells the Duck that he may get cold and become ill due to the cold and wet legs of the Duck.

Explanation : The Duck says to the Kangaroo that she sat on the rock to get dry herself and has bought four pair of woolen socks (which) that are fit on her feet. The Duck will cover herself with a cloak (gown) and will smoke a cigar everyday to keep itself warm. The Duck says to the kangaroo that she will do everything to keep her dear Kangaroo away from the cold. It reflects in these lines that where is a will, there is way.

सन्दर्भ : ये पंक्तियाँ ‘The Duck and the Kangaroo’ कविता से ली गई हैं। इस कविता के रचनाकार कवि एडवर्ड लीयर हैं।

प्रसंग : बतख को अपनी पीठ पर बिठाने से पहले कंगारू उससे कहता है कि वह (कंगारू) उसके (बतख के) ठंडे एवं गीले पैरों की वजह से बीमार हो सकता है और उसे ठंड जकड़ सकती है।

व्याख्या : बतख कंगारू से कहती है कि वह स्वयं को सुखाने के लिए चट्टान पर बैठी थी। उसने चार जोड़ी गर्म जुर्राबें (मोजे) खरीद लिए हैं जो उसके पैरों के उपयुक्त नाप के हैं। वह (बतख) स्वयं को एक गर्म चोगे (गाऊन) से ढक लेगी और स्वयं को गर्म रखने के लिए प्रतिदिन एक सिगार पियेगी। बतख कंगारू से कहती है कि वह अपने प्रिय (कंगारू) को सर्दी से बचाने के लिए सब कुछ करेगी। (बतख की) इन पंक्तियों से प्रतिबिम्बित होता है कि जहाँ चाह वहाँ राह।

Stanza 5.

Said the Kangaroo, “I’m ready!
All in the moonlight pale; ……. 
But to balance me well, dear Duck, sit steady!
And quite at the end of my táil!”. 
So away they went with a hop and a bound, 
And they hopped the whole world three times round;
And who so happy–O who,
As the Duck and the Kangaroo? 

Reference : These lines have been extracted from the poem “The Duck and the Kangaroo composed by Edward Lear.

Context : The Duck tells the Kangaroo that it will do its best to save him from cold. The Duck is very eager to go on a visit of the world with the Kangaroo riding on his back.

Explanation : Al last the kangaroo becomes ready to go on world visit with the Duck. He tells the Duck to sit steady and quite on the end of his tail. He will take it out in the moonlit night. They will hop (jump) and take three round the whole world happily. The poet tells that who is more happy in the world than the Duck and the Kangaroo. Thus travel gives us happiness.

सन्दर्भ : ये पंक्तियाँ ‘The Duck and the Kangaroo’ कविता से उद्धत हैं। इस कविता के रचयिता कवि एडवर्ड लीयर हैं।
प्रसंग : बतख कंगारू से कहती है कि वह उसे (कंगारू को) सर्दी से बचाने के लिए उसका सर्वोत्तम प्रयास करेगी। बतख कंगारू की पीठ पर सवार होकर संसार भ्रमण के लिए बहुत उत्सुक है।

व्याख्या : अंततः कंगारू बतख के साथ विश्व-भ्रमण के लिए तैयार हो जाता है । वह बतख से उसकी पीठ के पिछले हिस्से पर स्थिर एवं शान्त होकर बैठने को कहता है । वह (कंगारू) उसे चाँदनी रात में बाहर लेकर जायेगा। वे कूदेंगे और प्रसन्नतापूर्वक संसार के तीन चक्कर लायेंगे। कवि कहता है कि इस दुनिया में बतख और कंगारू से ज्यादा प्रसन्न कौन हैं । इस प्रकार भ्रमण हमें प्रसन्नता प्रदान करता है।

0:00
0:00